Class 6

HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 16 कचरा: संग्रहण एवं निपटान

Haryana State Board HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 16 कचरा: संग्रहण एवं निपटान Textbook Exercise Questions and Answers.

Haryana Board 6th Class Science Solutions Chapter 16 कचरा: संग्रहण एवं निपटान

HBSE 6th Class Science कचरा: संग्रहण एवं निपटान InText Questions and Answers

बूझो/पहेली

प्रश्न 1.
पहेली यह जानने को उत्सुक है कि कचरा उपयोगी कैसे हो सकता है? फिर इसे फेंका ही क्यों गया? क्या इस कूड़े-कचरे में कुछ ऐसा भी है जो वास्तव में कचरा है ही नहीं?
उत्तर:
कचरे में अनेक उपयोगी चीजें भी हो सकती हैं। उपयोगी कचरे को फेंकना नहीं चाहिए। कचरे से प्लास्टिक, लोहे, कागज आदि की वस्तुओं को निकाल लेना चाहिए। इनका पुनः चक्रण करके प्रयोग में लाया जा सकता है। फलों के छिलके, सब्जियाँ आदि से कम्पोस्ट बनाया जा सकता है। अनुपयोगी कचरे का प्रयोग भराव क्षेत्र में किया जा सकता है।

प्रश्न 2.
पहेली ने अपनी नोटबुक में लिखा-सरकार ने पत्तियों को जलाना चोरी क्यों नहीं माना?
उत्तर:
पहेली ने सुझाव दिया है कि सरकार को पत्तियों को जलाना एक जुर्म मानना चाहिए और इसके खिलाफ कानून बनाना चाहिए।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 15 प्रकाश

HBSE 6th Class Science कचरा: संग्रहण एवं निपटान Textbook Questions and Answers

प्रश्न 1.
निम्नलिखित के उत्तर दीजिए-
(क) लाल केंचुए किस प्रकार के कचरे को कम्पोस्ट में परिवर्तित नहीं करते?
(ख) क्या आपने अपने कम्पोस्ट-गड्ढे में लाल केंचुओं के अतिरिक्त किसी अन्य जीव को भी देखा है? यदि हाँ, तो उनका नाम जानने का प्रयास कीजिए।
उत्तर:
(क) काँच, प्लास्टिक की थैली, चूड़ियाँ, काँच के गिलास।
(ख) कभी-कभी हमें कीट, कीटाणु, मकड़ी आदि दिखाई पड़ते हैं। यहाँ अन्य सूक्ष्म जीव भी होते हैं।

प्रश्न 2.
चर्चा कीजिए-
(क) क्या कचरे का निपटान केवल सरकार का ही उत्तरदायित्व है?
(ख) क्या कचरे के निपटान से सम्बन्धित समस्याओं को कम करना सम्भव है?
उत्तर:
(क) नहीं, यह हमारा भी उत्तरदायित्व है कि हमें कचरा कम-से-कम उत्पन्न करना चाहिए। फेंकने से पहले हमें चीजों का उपयोग और पुन: उपयोग करना चाहिए।
(ख) हाँ, कचरे के निपटान से सम्बन्धित समस्याओं को कम करना सम्भव है। पुनः चक्रण योग्य सामग्री का उपयोग करके हम ऐसा कर सकते है।

प्रश्न 3.
(क) घर में बचे हुए भोजन का आप क्या करते है?
(ख) यदि आपको एवं आपके मित्रों को किसी पार्टी में प्लास्टिक की प्लेट अथवा केले के पत्ते में खाने का विकल्प दिया जाए, तो आप किसे चुनेंगे और क्यों ?
उत्तर:
(क) घर में बचे हुए भोजन को अन्य खाद्य के साथ तैयार करके इसका उपयोग करते हैं।
(ख) हम केले के पत्ते का चुनाव करेंगे क्योंकि इसमें कचरे के निपटान की कोई समस्या नहीं है।

प्रश्न 4.
(क) विभिन्न प्रकार के कागज के टुकड़े एकत्र कीजिए। पता कीजिए कि इनमें से किसका पुनःचक्रण किया जा सकता है?
(ख) लेंस की सहायता से कागजों के उन सभी टुकड़ों का प्रेक्षण कीजिए जिन्हें आपने उपरोक्त प्रश्न के लिए एकत्र किया था। क्या आप कागज की नई शीट एवं पुनः चक्रित कागज की सामग्री में कोई अन्तर देखते हैं ?
उत्तर:
(क) प्लास्टिक के कागज के अतिरिक्त अन्य सभी कागजों का पुनः चक्रण किया जा सकता है।
(ख) पुनः चक्रित कागज, कागज की नई शीट की तुलना में अधिक मोटा और भद्दा होता है।

प्रश्न 5.
(क) पैकिंग में उपयोग होने वाली विभिन्न प्रकार की वस्तुएँ एकत्र कीजिए। इनमें से प्रत्येक का किस उद्देश्य के लिए उपयोग किया था ? समूहों में चर्चा कीजिए।
(ख) एक ऐसा उदाहरण दीजिए जिसमें पैकेजिंग की मात्रा कम की जा सकती थी।
(ग) पैकेजिंग से कचरे की मात्रा किस प्रकार बढ़ जाती है, इस विषय पर एक कहानी लिखिए।
उत्तर:
(क)

  • गत्ते का बोर्ड क्रॉकरी, मिठाइयाँ।
  • काँच का कवर सजावटी सामान।
  • लकड़ी की पट्टियाँ मशीनी उपकरण।
  • धर्मोकोल शीटें-काँच का सामान।
  • प्लास्टिक बैग वस्त्र, बिस्किट, नमकीन।

(ख) वस्त्र और पोशाकें।

(ग) एक दिन गौरव को अपने मित्र अभिषेक को उसके जन्मदिन पर उपहार देना था। गौरव ने एक कमीज खरीदी जो पहले प्लास्टिक और फिर गत्ते के डिब्बे में बन्द थी। गौरव ने दुकानदार से कहकर उसे एक चमकदार कागज में लिपटवाया। वह इस पैकेट को लेकर अभिषेक के पास पहुंचा और उसे कमीज गिफ्ट की। अभिषेक ने गौरव द्वारा लाये गये पैकेट को खोला और गौरव को धन्यवाद दिया। अभिषेक ने गौरव को समझाया कि वह कमीज को बिना पैक किये भी ला सकता था क्योंकि पॉलीथिन, गत्ता एवं रंगीन कागज व्यर्थ है। यदि गौरव चाहता तो इन व्यर्थ की चीजों से बच सकता था। इससे कचरे की मात्रा में कमी आती। अभिषेक की बातों से गौरव बहुत प्रभावित हुआ।

प्रश्न 6.
क्या आपके विचार में रासायनिक उर्वरक के स्थान पर अपेक्षाकृत कम्पोस्ट का उपयोग उत्तम होता है ?
उत्तर:

  • हाँ, रासायनिक उर्वरक के स्थान पर कम्पोस्ट का प्रयोग अपेक्षाकृत उत्तम होता है।
  • कम्पोस्ट बनाने में घरेलू अपशिष्ट का भी प्रयोग हो जाता है।
  • कम्पोस्ट के उपयोग से हम धन की बचत कर सकते हैं।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 15 प्रकाश

HBSE 6th Class Science कचरा: संग्रहण एवं निपटान Important Questions and Answers

वस्तुनिष्ठ प्रश्न

I. बहुविकल्पी प्रश्न : निम्नलिखित प्रश्नों में सही विकल्प का चयन कीजिए

1. वह स्थान जहाँ व्यर्थ जमीन के गड्ढ़ों में कचरा फेंका जाता है, कहलाता है-
(क) भराव क्षेत्र
(ख) उर्वर क्षेत्र
(ग) बंजर क्षेत्र
(घ) कूड़ा घर
उत्तर:
(क) भराव क्षेत्र

2. कुछ पदार्थों के विगलित और खाद में परिवर्तित होने की प्रक्रिया कहलाती है-
(क) सड़ांध
(ख) कम्पोस्टिंग
(ग) निक्षालन
(घ) इनमें से कोई नहीं।
उत्तर:
(ख) कम्पोस्टिंग

3. वर्मी कम्पोस्टिंग में प्रयुक्त होते हैं-
(क) कॉकरोच
(ख) चूहे
(ग) केचुआ
(घ) परजीवी
उत्तर:
(ग) केचुआ

4. पुनः चक्रण योग्य है-
(क) कागज
(ख) काँच की बोतल
(ग) प्लास्टिक के खिलौने
(घ) ये सभी
उत्तर:
(घ) ये सभी

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 15 प्रकाश

II. रिक्त स्थान : निम्नलिखित वाक्यों में रिक्त स्थान भरिए

1. ……………….. रंग के कूड़ेदान में पुन: उपयोग किए जा सकने वाले पदार्थ डालने चाहिए।
2. ……………….. रंग के कूड़ेदान में रसोई तथा अन्य पादप तथा जन्तु अपशिष्टों को डालना चाहिए।
3. लाल केंचुओं के दांत नहीं होते। इनमें एक विशेष प्रकार की संरचना ……………….. होती है।
4. कुछ प्रकार के ……………….. का पुनः चक्रण किया जा सकता है।
उत्तर:
1. नीले
2. हरे
3. गिजर्ड
4. प्लास्टिकों।

III. सुमेलन : कॉलम ‘A’ के शब्दों का मिलान कॉलम ‘B’ के शब्दों से कीजिए-

कॉलम ‘A’ कॉलम ‘B’
1. कागज, प्लास्टिक (i) विगलन योग्य
2. फलों के छिलके (ii) पुन: चक्रण योग्य
3. वर्मी कम्पोस्ट (iii) भराव योग्य
4. कचरा (iv) केचुआ

उत्तर:

कॉलम ‘A’ कॉलम ‘B’
1. कागज, प्लास्टिक (ii) पुन: चक्रण योग्य
2. फलों के छिलके (i) विगलन योग्य
3. वर्मी कम्पोस्ट (iv) केचुआ
4. कचरा (iii) भराव योग्य

IV. सत्य/असत्य : निम्नलिखित वाक्यों में सत्य एवं असत्य कथन छाँटिए

(i) वर्मी कम्पोस्ट बनाने में लाल केंचुओं का उपयोग किया जाता है।
(ii) केचुआ सड़ी-गली पत्तियाँ मिट्टी सहित खाते हैं।
(iii) नीले कूड़ेदान में सूखा कचरा तथा हरे कूड़ेदान में गीला कचरा डाला जाता है।
(iv) प्लास्टिक जलाने पर लाभदायक गैसें उत्पन्न करती हैं।
उत्तर:
1. सत्य
2. सत्य
3. सत्य
4. असत्य।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 15 प्रकाश

अति लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
कूड़ा जिसे हम फेंक देते हैं, क्या कहलाता है?
उत्तर:
कचरा।

प्रश्न 2.
भराव क्षेत्र किसे कहते हैं?
उत्तर:
भूमि के व्यर्थ तथा निचले क्षेत्र जहाँ कूड़ा डाला जाता है, भराव क्षेत्र कहलाते हैं।

प्रश्न 3.
यदि हमारे घरों के आस-पास से कूड़ा न उठाया जाये तो क्या होगा?
उत्तर:
घर के आस-पास कूड़े के ढेर लग जायेंगे तथा वातावरण दुर्गन्धयुक्त हो जायेगा।

प्रश्न 4.
दो पुनः चक्रण योग्य व्यर्थ वस्तुओं के नाम लिखिए।
उत्तर:

  1. गत्ते के बड़े डिब्बे
  2. प्लास्टिक की बोतलें।

प्रश्न 5.
कम्पोस्टिंग किसे कहते हैं ?
उत्तर:
कुछ पदार्थों के विगलित और खाद में परिवर्तित होने की प्रक्रिया को कम्पोस्टिंग कहते हैं।

प्रश्न 6.
कूड़े एवं पत्तियों को जलाना क्यों हानिकारक होता है ?
उत्तर:
इनके जलने से हानिकारक गैसें उत्पन्न होती हैं।

प्रश्न 7.
केंचुआ भोजन को कैसे पीसता है ?
उत्तर:
केंचुआ में गिजर्ड नामक संरचना होती है जिससे यह भोजन पीसता है।

प्रश्न 8.
वर्मी कम्पोस्ट का क्या प्रयोग है ?
उत्तर;
वर्मी कम्पोस्ट को पौधों के लिए खाद के रूप में प्रयोग किया जाता है।

प्रश्न 9.
पॉलीथिन से दो हानियाँ बताइए।
उत्तर:

  1. ये नालों को रोक देती हैं।
  2. पशुओं द्वारा निगलने पर उन्हें हानि पहुँचाती हैं।

प्रश्न 10.
हमें प्लास्टिक की थैली के विकल्प के रूप में क्या चुनना चाहिए?
उत्तर:
जूट या कपड़े के बने थैले या कागज/अखबार के थैले।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 15 प्रकाश

लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
पुरानी तथा फेंकी जाने वाली काँच की बोतलें, प्लास्टिक की बोतलें, नारियल की भूसी, ऊन, चादरें, बधाई कार्ड तथा अन्य अनुपयोगी वस्तुएँ एकत्र कीजिए। क्या आप फेंकने के स्थान पर इनसे कुछ उपयोगी चीजें बना सकते हैं? प्रयास कीजिए। (क्रियाकलाप)
उत्तर:

  • प्लास्टिक के बड़े डिब्बे या बोतलें काटकर पौधे उगाने के लिए।
  • प्लास्टिक एवं काँच की बोतलें पेन स्टैण्ड बनाने के लिए।
  • ऊन का प्रयोग गुड़िया बनाने के लिए।
  • रंगीन कागज का प्रयोग गुलदस्ते बनाने के लिए।

प्रश्न 2.
रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए।
(क) ………….. कड़ा एकत्र करके ट्रकों द्वारा निचले खुले क्षेत्रों में जहाँ गहरे गड्ढे होते हैं, ले जाते हैं।
(ख) ………….. बहुत गर्म अथवा ठण्डे वातावरण में जीवित नहीं रह पाते हैं।
(ग) कचरे में ………….. और ………….. दोनों अवयव होते हैं।
(घ) व्यर्थ प्लास्टिक का ………….. किया जा सकता है।
उत्तर:
(क) सफाई कर्मचारी
(ख) लाल केंचुए
(ग) उपयोगी, अनुपयोगी
(घ) पुनः चक्रण।

प्रश्न 3.
सत्य तथा असत्य कथन छाँटिए
(क) हमें कम से कम कचरा निष्कासित करना चाहिए।
(ख) काँच की वस्तुओं का पुनः चक्रण नहीं किया जा सकता।
(ग) लाल केंचुए गिजर्ड द्वारा भोजन पीसते हैं।
(घ) कागज का पुनः और पुनः प्रयोग किया जा सकता है।
उत्तर:
(क) सत्य
(ख) असत्य
(ग) सत्य
(घ) सत्य।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 15 प्रकाश

प्रश्न 4.
कम्पोस्ट क्या है ? यह कैसे तैयार किया जाता है? इसका एक उपयोग लिखिए।
उत्तर:
कम्पोस्ट:
रसोईघर से निकला अपशिष्ट पदार्थ, छिलके, सब्जियों, पशुओं के अपशिष्ट आदि पदार्थों को सड़ाकर तैयार किया गया पदार्थ कम्पोस्ट कहलाता है। उपरोक्त पदार्थों को जमीन में कुछ बड़े-बड़े गड्ढे खोदकर उसमें कूड़े को डालकर मिट्टी से दबा दिया जाता है। कुछ दिनों बाद कम्पोस्ट तैयार हो जाता है। कम्पोस्ट का प्रयोग खाद के रूप में पौधों के पोषण के लिए किया जाता है।

प्रश्न 5.
प्लास्टिक का प्रयोग हमारे लिए क्या समस्याएँ उत्पन्न कर रहा है ?
उत्तर:
हम अपने दैनिक जीवन में प्लास्टिक का अत्यधिक प्रयोग करते हैं। अनेक खाद्य सामग्रियाँ प्लास्टिक के बैगों में आती हैं। इसके अतिरिक्त वस्त्र, इलैक्ट्रॉनिक्स आदि सामग्री की पैकिंग, बाल्टी, बोतल, ब्रश, कंधे आदि अनेक वस्तुओं का प्रयोग करने के पश्चात् हम कचरे के रूप में फेंक देते हैं। यह कचरा नालों को बन्द कर देता है, पशु इनको खा जाते हैं। जब इन्हें खेतों में डाल दिया जाता है तो ये मृदा प्रदूषण करते हैं। इनके जलने से जहरीली गैस निकलती है।

दीर्घ उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
विभिन्न प्रकार की अपशिष्ट वस्तुओं/कचरे को A, B, C तथा D चार ढेरियों में बाँटकर इन्हें भूमि में दबा दिया गया। 4 दिन से 4 सप्ताह के पश्चात् इनमें क्रमिक परिवर्तनों को बताइए।
ढेरी A – फल एवं सब्जी के छिलके, चाय की पत्तियाँ, अपशिष्ट भोजन
ढेरी B – समाचार पत्र, सूखी पत्तियाँ, कागज की थैलियाँ
ढेरी C – काँच की बोतल, प्लास्टिक की बोतल, चमड़े का सामान
ढेरी D – पुराने खिलौने, एल्युमिनियम रेपर, गुटखा पाउच, शैम्पू पाउच (क्रियाकलाप)
उत्तर:
सारणी कचरे की वेरियों में क्या परिवर्तन आये।

कचरे की ढेरा 4 दिन बाद 6 दिन बाद 2 सप्ताह बाद 4 सप्ताह बाद
A काला रंग, दुर्गन्ध नहीं, पूर्णतः विगलित थोड़ा बाकी थोड़ा बाकी पूरी तरह समाप्त
B लगभग पूर्णतः विगलित, अभी भी दुर्गन्धयुक्त काला रंग, कोई दुर्गन्ध नहीं, पूर्णतः विगलित पूर्णतः विगलित पूर्णतः विगलित
C कोई परिवर्तन नहीं कोई परिर्वतन नहीं कोई परिवर्तन नहीं कोई परिवर्तन नहीं
D कोई परिवर्तन नहीं कोई परिवर्तन नहीं कोई परिवर्तन नहीं कोई परिवर्तन नहीं

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 15 प्रकाश

प्रश्न 2.
केंचुओं से वर्मी कम्पोस्ट बनाने के लिए एक क्रियाकलाप कीजिए।
उत्तर:
क्रियाकलाप मैदान में एक गड्ढा (लगभग 30 सेमी गहरा) खोदें अथवा कोई लकड़ी का बॉक्स किसी ऐसे स्थान पर रखें जो न तो बहुत गर्म हो और न बहुत ठण्डा ।
गहरे गड्ढे अथवा बॉक्स की तली में एक जाल अथवा मुर्गा जाली बिछा दीजिए। इसकी जगह आप रेत की 1-2 सेमी मोटी परत भी बिछा सकते हैं। अब रेत के ऊपर सब्जियों अथवा फलों के अपशिष्ट बिछा दीजिए।
आप हरी पत्तियाँ, पौधों की सूखी डंडियों के टुकड़े, भूसा अथवा समाचार पत्र की 1 इंच चौड़ी पट्टियाँ काटकर उन्हें रेत अथवा जाली के ऊपर बिछा सकते हैं। कुछ जल छिड़ककर इस परत को नम बनाइए। अब इस परत पर कुछ लाल केंचुए छोड़ दीजिए। अब इन्हें जूट की बोरी, पुरानी चादर अथवा घास से हल्के से टैंक दीजिए।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 16 कचरा संग्रहण एवं निपटान -1
केंचुए उपरोक्त अपशिष्ट पदार्थों को खाते हैं तथा मल उत्पन्न करते हैं। इनके मल में लाभदायक कार्बनिक पदार्थ होते हैं। 3-4 सप्ताह बाद गड्ढों का निरीक्षण करते हैं। इसमें हमें गहरे रंग की मिट्टी मिलती है। यही वर्मी कम्पोस्ट है।

प्रश्न 3.
कागज का पुन: चक्रण कैसे किया जाता है ?
उत्तर:
इसके लिए हमें पुराने समाचार-पत्रों, लिफाफे, मैगजीन, रद्दी कॉपी व किताबें एवं अन्य बेकार कागजों की आवश्यकता होती है। कागजों को छोटे-छोटे टुकड़ों में काट लिया जाता है। इन्हें एक बाल्टी या टब में रखकर जल डालिए। कागज के टुकड़ों को जल में एक दिन के लिए डूबा रहने दीजिए। अब इस भीगे कागज को काटकर गाढ़ी लुग्दी बनाइये।

अब फ्रेम पर जड़ी जाली पर गीली लुग्दी को फैलाइये। लुग्दी की परत को यथासम्भव एकसमान बनाने के लिए फ्रेम को धीरे ठोकिए। जल के बहकर निकल जाने तक प्रतीक्षा कीजिए। यदि आवश्यक हो तो फ्रेम पर पुराना कपड़ा अथवा समाचार-पत्र फैला दीजिए जिससे लुग्दी का अधिक से अधिक जल सोख लिया जाय। अब लुग्दी की इस परत को सावधानी से फ्रेम से अलग कर किसी पुराने समाचार-पत्र पर रखें समाचार-पत्र के किनारों पर कुछ भारी वस्तु रखें जिससे वे मुड़ न सकें। इसके सूखने पर हमें कागज का गत्ता प्राप्त होगा।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 15 प्रकाश

प्रश्न 4.
प्लास्टिक के अति उपयोग को निम्नतम करने के लिए हम क्या कर सकते हैं तथा इसके कचरे के निपटान के लिए हमें क्या करना चाहिए ?
उत्तर;

  1. हम प्लास्टिक की थैलियों का कम से कम उपयोग करें। जहाँ तक सम्भव हो हम इनके उपयोग से बचें।
  2. दुकानदारों से कागज के थैले उपयोग करने का आग्रह करें। खरीददारी के लिए बाजार जाते समय हम घर से कपड़े अथवा जूट का थैला लेकर जायें।
  3. हम खाद्य पदार्थों के संग्रहण के लिए प्लास्टिक की थैलियों का उपयोग न करें।
  4. हम उपयोग के पश्चात् प्लास्टिक की थैलियों को इधर-उधर न फेंकें।
  5. हम प्लास्टिक की थैलियों और अन्य प्लास्टिक की वस्तुओं को कभी न जलायें।
  6. हम प्लास्टिक एवं कागज को पुनः चक्रण के लिए भेजें।
  7. घरेलू कूड़े-करकट को प्लास्टिक बैगों में भरकर न फेंकें।
  8. अपने मित्रों एवं अन्य लोगों को प्लास्टिक सम्बन्धी हानियों से अवगत करायें।

कचरा: संग्रहण एवं निपटान Class 6  HBSE Notes in Hindi

→ हम अपने घरों, विद्यालयों, दुकानों एवं कार्यालयों से प्रतिदिन अत्यधिक मात्रा में कूड़ा-कचरा बाहर फेंकते हैं।
→ हम अपने दैनिक जीवन के क्रियाकलापों में अत्यधिक कचरा उत्पन्न करते रहते हैं।
→ सफाई कर्मचारी कूड़ा एकत्र करके ट्रकों द्वारा निचले खुले क्षेत्रों में, जहाँ गहरे गड्ढे होते हैं, ले जाकर फेंकते हैं। इन निचले खुले क्षेत्रों को भराव क्षेत्र कहते हैं।
→ कचरे में उपयोगी तथा अनुपयोगी दोनों प्रकार के अवयव होते हैं। अनुपयोगी अवयव को पृथक् कर लेते हैं और फिर इसे भराव क्षेत्र में फैलाकर मिट्टी की परत से टैंक देते हैं।
→ जब यह भराव क्षेत्र पूरी तरह से भर जाता है तब प्रायः इस पर पार्क अथवा खेल का मैदान बना देते हैं। लगभग अगले 20 वर्षों तक इस पर कोई भवन निर्माण नहीं किया जाता है।
→ रसोई घर के अपशिष्ट सहित पौधों एवं जन्तु अपशिष्टों को खाद में परिवर्तित करना कम्पोस्टिंग कहलाता है।
→ रसोईघर के कचरे को कृमि अथवा लाल केंचुओं द्वारा कंपोस्ट में परिवर्तित करना वर्मी कम्पोस्टिंग कहलाता है।
→ कागज का पुनः चक्रण किया जा सकता है तथा पुनः चक्रण द्वारा बने कागज से उपयोगी वस्तुएँ बनायी जा सकती हैं। कुछ प्रकार के प्लास्टिकों का पुनः चक्रण किया जा सकता है परन्तु सभी प्रकार के प्लास्टिकों का पुनः चक्रण नहीं किया जा सकता है।
→ सभी प्रकार के प्लास्टिक गर्म करने या जलाने पर हानिकारक गैसें मुक्त करते हैं। ये गैसें अनेक स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याएं उत्पन्न करती हैं जिनमें फेफड़े की बीमारियाँ एवं कैंसर भी सम्मिलित हैं।
→ जब प्लास्टिक की थैलियों को पशु निगल जाते हैं तो उनकी मृत्यु भी हो सकती है। प्लास्टिक की थैलियाँ बहुधा बहकर नालों अथवा सीवर प्रणाली में पहुँच जाती हैं जिससे नाले अवरुद्ध हो जाते हैं और गन्दा पानी सड़कों पर फैलने लगता है।
→ हमें कम से कम अपशिष्ट उत्पन्न करने की आवश्यकता है। हमें अपने चारों ओर बढ़ते कचरे से निपटने के उपाय खोजने चाहिए।
→ कचरा – कुछ अपशिष्ट वस्तुएँ जिनकी हमें आवश्यकता नहीं होती और हम उन्हें फेंक देते हैं; जैसे-खाली थैली, छिलके, गत्ते, पुराने खिलौने आदि।
→ भराव क्षेत्र – जमीन का निचला क्षेत्र जिसमें कूड़े-कचरे को फेंका जाता है।
→ अपशिष्ट – ये वे वस्तुएँ है, जिन्हें हम उपयोग के बाद फेंक देते हैं।
→ कम्पोस्ट – कचरे से बनायी गई खाद जिसका उपयोग पौधों के पोषण के लिए किया जाता है।
→ वर्मी कम्पोस्टिंग – रसोईघर के कचरे से लाल केंचुओं द्वारा खाद बनाने की प्रक्रिया।
→ पुनः चक्रण – वह प्रक्रम जिसके द्वारा उपयोग की गई वस्तुओं या चीजों का पुनर्प्रयोग हेतु परिवर्तन किया जाता है।

HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 15 हमारे चारों ओर वायु

Haryana State Board HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 15 हमारे चारों ओर वायु Textbook Exercise Questions and Answers.

Haryana Board 6th Class Science Solutions Chapter 15 हमारे चारों ओर वायु

HBSE 6th Class Science हमारे चारों ओर वायु InText Questions and Answers

बूझो/पहेली

प्रश्न 1.
बूझो आपसे यह पूछ रहा है कि चौराहे पर पलिसकर्मी अक्सर मुखौटा क्यों पहन लेते हैं?
उत्तर:
भीड़ भरे चौराहे पर पुलिसकर्मी मुखौटा पहनकर यातायात नियन्त्रित करता है, जिससे ईधन जलने के कारण उत्पन्न धुआँ और धूल के कण उसकी साँस में न जायें।।

प्रश्न 2.
पहेली जानना चाहती है कि अगर पारदर्शी शीशे की खिड़कियों को नियमित रूप से साफ न किया जाये तो वह धुंधली क्यों हो जाती हैं?
उत्तर:
वायु में जो धूल के कण उपस्थित होते हैं वे खिड़कियों के पारदर्शी शीशे पर जाकर चिपक जाते हैं और उन्हें धुंधला बना देते हैं।

प्रश्न 3.
बूझो जानना चाहता है कि आग लगने की घटना के समय जलती हुई वस्तु के ऊपर कम्बल लपेटने की सलाह क्यों दी जाती है?
उत्तर:
जब जलती हुई वस्तु के ऊपर कम्बल लपेटा जाता है तो वायु में उपस्थित ऑक्सीजन वस्तु तक कम्बल की वजह से नहीं पहुँच पाती है क्योंकि ऑक्सीजन वायु जलने में सहायता करती है और वायु के अभाव में वस्तु में लगी आग बुझ जाती है।

प्रश्न 4.
पहेली जानना चाहती है कि क्या ये छोटे-छोटे वायु के बुलबुले तब भी दिखाई देंगे, यदि हम वायुरोधी बोतल में रखे ठंडे किये हुये उबले हुये पानी को पुनः गर्म करके इस क्रियाकलाप को करते हैं। अगर आप इसका उत्तर नहीं जानते तो ऐसा कीजिए और देखिए।
उत्तर:
ये बुलबुले पानी में घुली हुई वायु के कारण बनते हैं। जब आप पानी गर्म करते हैं तो घुली हुई वायु बुलबुलों के रूप में बदल जाती है और बाहर आती है। यदि आप पानी को गर्म करते हैं तो पानी वाष्प में परिवर्तित हो जाता है और अन्ततः उबलने लगता है।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 15 हमारे चारों ओर वायु

HBSE 6th Class Science हमारे चारों ओर वायु Textbook Questions and Answers

प्रश्न 1.
वायु के संघटक क्या हैं?
उत्तर:
वायु अनेक गैसों का मिश्रण है। वायु में मुख्यत: नाइट्रोजन, ऑक्सीजन, कार्बन डाइऑक्साइड, जल वाष्प तथा कुछ अन्य गैसें होती हैं। वायु में नाइट्रोजन तथा ऑक्सीजन की मात्रा अधिक होती है। ये गैसें वायु का 99 प्रतिशत भाग बनाती हैं। शेष 1 प्रतिशत में अन्य गैसें तथा धूलकण होते हैं।

प्रश्न 2.
वायुमण्डल की कौन-सी गैस श्वसन के लिए आवश्यक होती है?
उत्तर:
ऑक्सीजन श्वसन के लिए आवश्यक होती है।

प्रश्न 3.
आप यह कैसे सिद्ध करेंगे कि वायु ज्वलन में सहायक होती है?
उत्तर:
क्रियाकलाप यह सिद्ध करने के लिए कि वायु ज्वलन में सहायक है, दो मोमबत्ती लेते हैं। एक मोमबत्ती को एक उथले पात्र के बीच में लगाकर जला देते है और इस पात्र में थोड़ा पानी डालते हैं। अब जलती मोमबत्ती को कांच के ‘गिलास से ढंक देते हैं। हम देखते हैं कि कुछ देर बाद मोमबत्ती बुझ जाती है और कांच के गिलास के अन्दर पानी का तल बढ़ गया है। दूसरी मोमबत्ती को भी इसी प्रकार पात्र में रखकर जलाते हैं किन्तु उसे बैंकते नहीं हैं। हम देखते हैं कि मोमबत्ती लगातार जलती रहती है। इससे सिद्ध होता है कि गिलास के अन्दर वाली मोमबत्ती को कम वायु मिली और वह बुझ गई जबकि दूसरी मोमबत्ती को काफी वायु मिली और वह जलती रही।

प्रश्न 4.
आप कैसे दिखाएँगे कि वायु जल में घुली होती
उत्तर:
जब किसी बर्तन या काँच के बीकर में जल उबालने से पहले हम सावधानीपूर्वक इन पात्रों के अन्दर की तली को देखते हैं तो इस पर हमें कुछ बुलबुले दिखाई देते हैं। ये बुलबुले पानी में घुली वायु से उत्पन्न होते हैं।

प्रश्न 5.
रुई का ढेर जल में क्यों सिकुड़ जाता है?
उत्तर:
रुई का ढेर जल में सिकुड़ जाता है क्योंकि जल में इसकी सारी हवा निकल जाती है। इसकी परतें आपस में चिपक जाती हैं और ढेर सिकुड़ जाता है।

प्रश्न 6.
पृथ्वी के चारों ओर की वायु की परत ……………. कहलाती है।
उत्तर:
वायुमण्डल।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 15 हमारे चारों ओर वायु

प्रश्न 7.
हरे पौधों को भोजन बनाने के लिए वायु के अवयव ………… की आवश्यकता होती है।
उत्तर:
कार्बन डाईऑक्साइड।

प्रश्न 8.
पाँच क्रियाकलापों की सूची बनाइए जो वायु की उपस्थिति के कारण सम्भव हैं।
उत्तर;
वायु की उपस्थिति के कारण निम्नलिखित क्रियाकलाप सम्भव हैं-

  • पौधों में श्वसन व प्रकाश संश्लेषण।
  • पवनचक्की का चलना।
  • पतंग का उड़ना।
  • जल चक्र।
  • वाष्पोत्सर्जन।।

प्रश्न 9.
वायुमण्डल में गैसों के आदान-प्रदान में पौधे तथा जन्तु एक-दूसरे की किस प्रकार सहायता करते हैं?
उत्तर:
सभी हरे पौधे प्रकाश संश्लेषण की क्रिया में वायुमण्डल से कार्बन डाईऑक्साइड ग्रहण करते हैं तथा ऑक्सीजन वायुमण्डल में मुक्त करते रहते हैं। पौधे एवं सभी जीव-जन्तु श्वसन क्रिया में ऑक्सीजन ग्रहण करते हैं तथा कार्बन डाईऑक्साइड निकालते हैं। ईंधन एवं अन्य पदार्थों के जलने पर भी कार्बन डाईऑक्साइड वायुमण्डल में मुक्त होती है।
इस प्रकार वायुमण्डल में गैसों का सन्तुलन बना रहता है। जन्तु व पौधे गैसों के आदान-प्रदान में एक-दूसरे की सहायता करते है।

HBSE 6th Class Science हमारे चारों ओर वायु Important Questions and Answers

I. बहुविकल्पी प्रश्न : निम्नलिखित प्रश्नों में सही विकल्प का चयन कीजिए

1. वायु बहने की दिशा बताने वाली युक्ति है-
(क) वात सूचक
(ख) दिक्सू चक
(ग) फिरकी
(घ) वायुमापी
उत्तर:
(क) वात सूचक

2. वायु में उपस्थित होती है-
(क) ऑक्सीजन
(ख) कार्बन डाईऑक्साइड
(ग) नाइट्रोजन
(घ) ये सभी
उत्तर:
(घ) ये सभी

3. कौन-कौन सी गैस वायुमण्डल का 99% भाग बनाती-
(क) ऑक्सीजन एवं कार्बन डाईऑक्साइड
(ख) ऑक्सीजन एवं नाइट्रोजन
(ग) जलवाष्प एवं ऑक्सीजन
(घ) नाइट्रोजन एवं कार्बन डाईऑक्साइड
उत्तर:
(ख) ऑक्सीजन एवं नाइट्रोजन

4. वायु प्रदूषित होती है
(क) धूल से
(ख) धुएँ से
(ग) निलम्बित कों से
(घ) इन सभी से
उत्तर:
(घ) इन सभी से

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 15 हमारे चारों ओर वायु

II. रिक्त स्थान : निम्नलिखित वाक्यों में रिक्त स्थान भरिए

1. हमारी पृथ्वी की सतह से कुछ किलोमीटर तक की वायु की परत ……….. कहलाती है।
2. प्रकृति में जलचक्र के लिए वायु में ………. का उपस्थित होना अनिवार्य है।
3. वायु का वह घटक जो जलने में सहायक है वह …….. कहलाता है।
4. वायु का एक बड़ा भाग ……… कहलाता है।
उत्तर:
1. वायुमण्डल
2. जलवाष्प
3. ऑक्सीजन
4. नाइट्रोजन।

III. सुमेलन : कॉलम ‘A’ के शब्दों का मिलान कॉलम ‘B’ के शब्दों से कीजिए-

कॉलम ‘A’ कॉलम ‘B’
1. जलने में सहायक (क) कार्बन डाई ऑक्साइड
2. ईंधन जलने पर उत्पन्न (ख) नाइट्रोजन
3. वायु में सर्वाधिक मात्रा (ग) जलवाष्प
4. उबलते पानी से उत्पन्न (घ) ऑक्सीजन

उत्तर:

कॉलम ‘A’ कॉलम ‘B’
1. जलने में सहायक (घ) ऑक्सीजन
2. ईंधन जलने पर उत्पन्न (क) कार्बन डाई ऑक्साइड
3. वायु में सर्वाधिक मात्रा (ख) नाइट्रोजन
4. उबलते पानी से उत्पन्न (ग) जलवाष्प

IV. सत्य/असत्य : निम्नलिखित वाक्यों में सत्य एवं असत्य कथन छाँटिए

(i) हमारे चारों ओर की वायु का एक छोटा अवयव कार्बन डाईऑक्साइड होता है।
(ii) धूल एवं धुआँ हमारे स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होते हैं।
(iii) जलीय जीव जल में घुली हुई ऑक्सीजन को साँस लेने में उपयोग करते हैं।
(iv) पवन चक्की वायु की तेज गति के कारण चलती है।
उत्तर:
1. सत्य
2. असत्य
3. सत्य
4. सत्य।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 15 हमारे चारों ओर वायु

अति लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
गतिशील वायु क्या कहलाती है?
उत्तर:
गतिशील वायु पवन कहलाती है।

प्रश्न 2.
फिरकी को वायु में आगे पीछे करने पर क्या होता है? (क्रियाकलाप)
उत्तर:
फिरकी घूमती है।

प्रश्न 3.
फिरकी को कौन घुमाता है? (क्रियाकलाप)
उत्तर:
फिरकी को वायु घुमाती है।।

प्रश्न 4.
खाली बोतल को उल्टा करके पानी में डुबाने पर पानी इसके अन्दर क्यों नहीं जाता? (क्रियाकलाप)
उत्तर:
क्योंकि बोतल के अन्दर हवा है जो पानी को अन्दर नहीं जाने देती।

प्रश्न 5.
बोतल को टेड़ा करके पानी में डुबाने पर क्या होता है?
उत्तर:
पानी बोतल के अन्दर जाने लगता है और वायु के बुलबुले बाहर निकलने लगते हैं।

प्रश्न 6.
वायुमण्डल क्या है?
उत्तर:
पृथ्वी की सतह के ऊपर विभिन्न गैरों का घेरा जो कई किलोमीटर तक पाया जाता है, वायुमण्डल कहलाता है।

प्रश्न 7.
पर्वतारोही जब ऊँचे पहाड़ों पर चढ़ते हैं तो एक गैस सिलेण्डर साथ ले जाते हैं। इस सिलेण्डर में कौन-सी गैस होती है? (क्रियाकलाप)
उत्तर:
ऑक्सीजन गैस होती है।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 15 हमारे चारों ओर वायु

प्रश्न 8.
वायु के उस अवयव का नाम बताइए जो जलने में सहायता करता है? (क्रियाकलाप)
उत्तर:
ऑक्सीजन।

प्रश्न 9.
पौधों के लिए वायु के दो उपयोग बताइए।
उत्तर:
(i) बीजों का अंकुरण
(ii) श्वसन।

प्रश्न 10.
वायु में सर्वाधिक गैस कौन-सी होती है ?
उत्तर:
नाइट्रोजन (78%)। वायु का लगभग 4/5वाँ भाग।

प्रश्न 11.
बंद कमरे में किसी छेद से आते हुए प्रकाश में आप क्या देखते हैं? (क्रियाकलाप)
उत्तर:
धूल के कण तेजी से घूमते हुए चमकते दिखाई देते हैं।

प्रश्न 12.
पानी गर्म करने पर सबसे पहले बर्तन की तली से कुछ बुलबुले ऊपर की ओर उठते दिखाई देते हैं। ये क्या होते हैं? (क्रियाकलाप)
उत्तर:
जल में घुली हुई वायु के बुलबुले।

प्रश्न 13.
पानी को तेज गर्म किया जाए तो क्या होता है?
उत्तर:
पानी जलवाष्प में बदलने लगता है।

प्रश्न 14.
वायु के दो गुण लिखिए।
उत्तर:
(i) इसका कोई रंग नहीं होता है।
(ii) यह स्थान घेरती है।

प्रश्न 15.
कार्बन डाईऑक्साइड आग बुझाने का काम करती है, कैसे सिद्ध करेंगे?
उत्तर:
गिलास के अन्दर मोमबत्ती जलाकर।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 15 हमारे चारों ओर वायु

प्रश्न 16.
हमें मुँह से साँस क्यों नहीं लेनी चाहिए ?
उत्तर:
धूल युक्त वायु हमारे फेफड़ों को नुकसान पहुँचा सकती है। नाक से साँस लेने पर धूल नासागुहा के श्लेष्म में चिपक जाती है तथा स्वच्छ वायु फेफड़ों में पहुँचती है।

प्रश्न 17.
जो जीव गहरी मिट्टी के अन्दर रहते हैं उन्हें साँस के लिए ऑक्सीजन कहाँ से प्राप्त होती है ?
उत्तर:
ऑक्सीजन मिट्टी के बीच के रन्धों से प्राप्त होती है।

प्रश्न 18.
एक साफ शीशे की खिड़की पर, जो एक खुले क्षेत्र की ओर खुलती हो, कागज की एक आयताकार पट्टी लगा दें। कुछ दिन बाद इस पट्टी को हटाएँ। क्या आप खिड़की के ढंके हुए आयताकार स्थान तथा बाकी खिड़की में कुछ अन्तर पाते हैं? (क्रियाकलाप)
उत्तर:
हाँ, कागज की आयताकार पट्टी से ढके स्थान से पट्टी हटाने पर अन्य स्थान से साफ दिखाई देता है।

लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
‘वायु में ऑक्सीजन है’ सिद्ध करने के लिए एक क्रियाकलाप कीजिए।
उत्तर:
अपने शिक्षक की उपस्थिति में दो उथले पात्रों में दो समान आकार की मोमबत्तियों को बीचों-बीच लगाइये। अब पात्रों में कुछ पानी डाल दें। अब मोमबत्तियाँ जलायें तथा चित्र के अनुसार प्रत्येक मोमबत्ती के ऊपर एक-एक गिलास उलट कर रख दें (एक गिलास दूसरे से बड़ा हो)।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 15 हमारे चारों ओर वायु -1
छोटे गिलास के नीचे रखी मोमबत्ती पहले बुझती है और इसके नीचे पानी का स्तर गिलास में बढ़ जाता है। दूसरे गिलास की मोमबत्ती थोड़ी देर में बुझती है और इसके गिलास में भी पानी का स्तर बढ़ जाता है। चूंकि मोमबत्ती जलने पर ऑक्सीजन की मात्रा में कमी आती है। इससे सिद्ध होता है कि वायु में ऑक्सीजन है जो कि मोमबत्ती को जलाने में सहायक है।

प्रश्न 2.
पर्वतारोही ऊँचे पहाड़ों पर चढ़ते समय ऑक्सीजन का सिलेण्डर साथ क्यों ले जाते हैं?
उत्तर:
अधिक ऊँचाई पर जाने पर वायुमण्डल में गैसों की कमी होने लगती है। अधिक ऊँचाई पर ऑक्सीजन की उपलब्धता कम होती जाती है। ऑक्सीजन की कमी होने पर पर्वतारोही को सौंस लेने में कठिनाई होगी और ऑक्सीजन के अभाव में उसकी मौत भी हो सकती है। इसीलिए वे ऑक्सीजन के सिलेण्डर साथ ले जाते हैं ताकि वह श्वसन के लिए ऑक्सीजन प्राप्त कर सकें।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 15 हमारे चारों ओर वायु

प्रश्न 3.
वायु की संरचना बताइए।
उत्तर:
वायु गैसों का मिश्रण है। इसमें नाइट्रोजन तथा ऑक्सीजन की कुल मात्रा 99% होती है। शेष 1% में कार्बन डाईऑक्साइड, कुछ अन्य गैसें, जलवाष्प तथा धूल के कण होते हैं।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 15 हमारे चारों ओर वायु -2

प्रश्न 4.
वायु जल चक्र में किस प्रकार सहायता करती है?
उत्तर:
वायु के कारण ही जलवाष्प बनती है। वाष्पोत्सर्जन एवं वाष्पन के फलस्वरूप बनी जलवाष्प वायु में उड़कर ऊपर पहुँचती है जहाँ यह बादल बनाती है। बादल वायु द्वारा एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाये जाते हैं और भिन्न-भिन्न स्थानों पर बरसते हैं। इससे जल चक्र चलता रहता है।

प्रश्न 5.
कारखानों में लम्बी चिमनियाँ क्यों लगायी जाती हैं?
उत्तर:
कारखानों में ऊर्जा प्राप्ति के लिए विभिन्न प्रकार के ईंधन जलाये जाते हैं। इन पदार्थों से तरह-तरह की हानिकारक गैसें उत्पन्न होती हैं। ये गैसें यदि हमारे शरीर में साँस के द्वारा प्रवेश कर जायेंगी तो शरीर को नुकसान हो सकता है। इसीलिए इन गैसों को अधिक ऊँचाई पर छोड़ने के लिए चिमनियाँ लम्बी बनाई जाती हैं।

दीर्घ उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
यह सिद्ध करने के लिए कि मिट्टी में भी वायु होती है, एक क्रियाकलाप कीजिए। यह वायु क्यों उपयोगी है ? (क्रियाकलाप)
उत्तर:
क्रियाकलाप : एक बीकर या काँच के गिलास में सूखी मिट्टी का एक ढेला लेते हैं। इसमें पानी डालते हैं और अवलोकन करते हैं कि जैसे-जैसे मिट्टी में पानी डाला जाता है इसमें से बुलबुले निकलने लगते हैं। ये बुलबुले वायु के होते
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 15 हमारे चारों ओर वायु -3
जब मिट्टी के ढेले पर पानी डाला जाता है तो उसमें विद्यमान वायु विस्थापित हो जाती है जो बुलबुलों के रूप में दिखाई देती है। मिट्टी के अन्दर पाये जाने वाले जीव एवं पौध गों की जड़ें श्वसन के लिए इसी वायु का उपयोग करते हैं। मिट्टी के जीव गहरी मिट्टी में बहुत-सी माँद तथा छिद्र बना लेते हैं। इन छिद्रों के द्वारा वायु को अन्दर व बाहर जाने के लिए जगह उपलब्ध हो जाती है।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 15 हमारे चारों ओर वायु

प्रश्न 2.
पवनचक्की कैसे कार्य करती है ?
उत्तर:
पवनचक्की एक ऐसी युक्ति है जो वायु द्वारा चलती है तथा विभिन्न कार्यों को करने में सहायता करती है। पवनचक्की में बहुत ऊँचाई पर बड़े-बड़े पंखे लगाये जाते हैं। इसमें यह व्यवस्था की जाती है कि जिधर से हवा बहती है इसके पंखे उसी ओर घूम जाते हैं। जब वायु का दबाव पंखों पर पड़ता है तो ये घूमने लगते हैं। पंखों के घूमने के साथ ही इसकी पुलियाँ भी घूमती हैं। इन पुलियों के घूमने से आटा चक्की, ट्यूबवैल, बिजली बनाने का डायनमो आदि चलाये जा सकते हैं।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 15 हमारे चारों ओर वायु -4

हमारे चारों ओर वायु Class 6  HBSE Notes in Hindi

→ वायु प्रत्येक स्थान पर मिलती है। हम वायु को देख नहीं सकते, केवल अनुभव कर सकते हैं।
→ वायु स्थान घेरती है, इसका कोई रंग नहीं होता तथा यह पारदर्शी होती है।
→ वायु की वह परत जो पृथ्वी को घेरे हुए है, उसे वायुमण्डल कहते हैं।
→ गतिशील वायु पवन कहलाती है।
→ जल तथा मिट्टी में भी वायु उपस्थित होती है।
→ वायु नाइट्रोजन, ऑक्सीजन, कार्बन डाईऑक्साइड,
→ जलवाष्प तथा कुछ अन्य गैसों का मिश्रण है। इसमें कुछ धूल कण भी हो सकते हैं। प्रकृति में जल चक्र के लिए वायु में जलवाष्प का उपस्थित होना अनिवार्य है। ऑक्सीजन ज्वलन में सहायक तथा श्वसन के लिए आवश्यक गैस है।
→ जलीय प्राणी श्वसन के लिए जल में घुली वायु का उपयोग करते हैं। .वायु का लगभग 4/5वाँ भाग नाइटोजन घेरती है।
→ हमारे चारों ओर की वायु का एक छोटा अवयव कार्बन डाईऑक्साइड होती है। पादप एवं जन्तु श्वसन प्रक्रिया में ऑक्सीजन का उपयोग करते हैं और कार्बन डाईऑक्साइड बनाते हैं।
→ जब हम नाक द्वारा साँस लेते हैं तो हम वायु अन्दर खींचते हैं। इस वायु में धूल के कण भी हो सकते हैं। धूल के कणों को श्वसन तन्त्र में जाने से रोकने के लिए हमारी नाक में छोटे-छोटे बाल तथा श्लेष्मा उपस्थित होते है।
→ ईधन तथा पदार्थों के जलने से धुऔं भी उत्पन्न होता है।
→ धुएँ में कुछ गैसें एवं सूक्ष्म धूल कण होते हैं जो प्रायः हानिकारक होते हैं।
→ वायु से ऑक्सीजन तथा कार्बन डाईऑक्साइड के आदान प्रदान के लिए पौधे तथा जन्तु एक-दूसरे पर निर्भर रहते हैं।
→ वायु पवनचक्की को घुमाती है। पवनचक्की का उपयोग ट्यूबवैल से पानी निकालने तथा आटा-चक्की को चलाने में होता है।
→ वायु बहुत – से पौधों के बीजों तथा फूलों के परागकणों को इधर-उधर फैलाने में सहायक होती है।
→ वायुमण्डल – वायु की वह परत जो पृथ्वी को घेरे हुए है, उसे वायुमण्डल कहते हैं।
→ वायु की संरचना – वायु अनेक गैसों का मिश्रण है जिसमें नाइट्रोजन, कार्बन डाईऑक्साइड, ऑक्सीजन, जलवाष्प तथा अल्प मात्रा में अन्य गैसें होती हैं।
→ ऑक्सीजन – यह वायु का एक अवयव है। पौधे प्रकाश संश्लेषण की क्रिया में कार्बन डाईऑक्साइड ग्रहण करते हैं तथा ऑक्सीजन मुक्त करते हैं।
→ नाइट्रोजन – यह वायु का एक अवयव है। यह वायुमण्डल में सर्वाधिक मात्रा में पायी जाती है।
→ कार्बन डाईऑक्साइड – यह वायु का एक छोटा अवयव है। जन्तु श्वसन क्रिया में ऑक्सीजन ग्रहण करते हैं तथा कार्बन डाईऑक्साइड निकालते हैं।
→ धुआँ – ईधन तथा अन्य पदार्थों के जलने से विभिन्न गैसों का मिश्रण उत्पन्न होता है, इसे धुआँ कहते हैं। यह विभिन्न रंगों का हो सकता है।
→ पवन चक्की – पवनचक्की एक युक्ति है जिसमें बड़े-बड़े पंखे लगे होते हैं। वायु के प्रवाह से पंखे घूमते हैं। पवनचक्की का उपयोग कुओं से पानी निकालने, आटा चक्की को चलाने, बिजली बनाने आदि कार्यों में किया जाता है।

HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 14 जल

Haryana State Board HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 14 जल Textbook Exercise Questions and Answers.

Haryana Board 6th Class Science Solutions Chapter 14 जल

HBSE 6th Class Science जल InText Questions and Answers

बूझो/पहेली

प्रश्न 1.
बूझो जिज्ञासु है कि क्या हमारे देश के विभिन्न क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को समान मात्रा में जल उपलब्ध होता है। क्या ऐसे भी क्षेत्र हैं जहाँ के लोगों को उचित मात्रा में जल नहीं मिलता है? वे अपना काम कैसे चलाते हैं?
उत्तर:
हमारे देश के विभिन्न क्षेत्रों में रहने वाले सभी लोगों को समान मात्रा में जल उपलब्ध नहीं होता है। राजस्थान जैसे क्षेत्रों में लोगों को पर्याप्त मात्रा में जल उपलब्ध नहीं होता है। वे अपना काम जल का उचित संग्रहण (भण्डारण) करक चलाते हैं।

प्रश्न 2.
बूझो चाहता है कि आप अपने जीवन में किसी ऐसे दिन की कल्पना करें जिस दिन जल की आपूर्ति टोटियों द्वारा नहीं हो रही हो। अतः आपको स्वयं बहुत दूर से जल लाना पड़ता है। तब क्या आप जल की उतनी ही मात्रा का उपयोग करेंगे जितनी अन्य दिनों में करते है?
उत्तर:
निश्चित रूप से हम ऐसे दिनों में जल की उतनी मात्रा का उपयोग नहीं करेंगे जितनी हम अन्य दिनों में करते हैं।

प्रश्न 3.
बूझो वाष्पोत्सर्जन के विषय में पढ़ता रहा है। उसने स्वयं से पूछा-एक किलोग्राम गेहूँ देने वाले, गेहूँ के पौधों से वाष्पोत्सर्जन द्वारा कितने जल की क्षति होती है? उसने पता लगाया कि यह क्षति लगभग 500 लीटर है जो कि अनुमानतः बड़े आकार की 25 बाल्टियों में भरे जल के बराबर है। क्या अब आप यह कल्पना कर सकते हैं कि वनों, फसलों तथा घास के मैदानों द्वारा कुल मिलाकर जल की कितनी मात्रा की क्षति होती है ?
उत्तर:
घास के मैदानों, फसलों एवं वनों से हजारों टन पानी की क्षति होती है।

प्रश्न 4.
पहेली ने सर्दियों में प्रातःकाल घास की पत्तियों पर ओस की बूंदें देखी हैं। क्या आपने भी कभी शीत ऋतु में प्रातःकाल पत्तियों या धातु के पृष्ठों जैसे लोहे की ग्रिल तथा दरवाजों पर इसी प्रकार की ओस की बूंदें देखी हैं ? क्या यह भी संघनन के कारण है? क्या आपने गर्मियों में भी प्रातः काल ऐसा होते देखा है?
उत्तर:

  1. हाँ, संघनन के कारण ऐसा होता है।
  2. गर्मियों में भी कभी-कभी प्रात:काल ऐसा होता है।

प्रश्न 5.
सर्दियों में प्रातःकाल धरती के पास बूझो ने कोहरा देखा है। वह विचार कर रहा है कि क्या यह भी ठंडी धरती के पास जलवाष्प का संघनन है। आप क्या सोचते हैं ?
उत्तर;
हाँ, यह भी ठण्डी धरती के पास का जलवाष्प का संघनन है।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 14 जल

HBSE 6th Class Science जल Textbook Questions and Answers

प्रश्न 1.
नीचे दिये गये स्थानों की पूर्ति कीजिए
(क) जल को वाष्प में परिवर्तित करने के प्रक्रम को ………………. कहते हैं।
(ख) जलवाष्य को जल में परिवर्तित करने के प्रक्रम को ………………. कहते है।
(ग) एक वर्ष या इससे अधिक समय तक वर्षा न होना उस क्षेत्र में ………………. लाता है।
(घ) अत्यधिक वर्षा से ………………. आती है।
उत्तर:
(क) वाष्पन
(ख) संघनन
(ग) सूखा
(घ) बाढ़।

प्रश्न 2.
नीचे लिखे में से प्रत्येक का क्या यह वाष्यन अथवा संघनन के कारण से है-
(क) ठंडे जल से भरे गिलास की बाहरी सतह पर जल की बूंदों का दिखना।
(ख) गीले कपड़ों पर इस्वी करने पर भाप का ऊपर उठना।
(ग) सर्दियों में प्रातःकाल कोहरे का दिखना।
(घ) गीले कपड़े से पोंछने के बाद श्यामपट्ट कुछ समय बाद सूख जाता है।
(ङ) गर्म छड़ के ऊपर जल छिड़कने से भाप का ऊपर उठना।
उत्तर:
(क) संघनन
(ख) वाष्पन
(ग) संघनन
(घ) वाष्पन
(ङ) वाष्पन।

प्रश्न 3.
निम्नलिखित में से कौन-सा कथन सत्य हैं ?
(क) वायु में जलवाष्य केवल मानसून के समय में उपस्थित रहती हैं।
(ख) जल महासागरों, नदियों तथा झीलों से वाष्पित होकर वायु में मिलता है परन्तु भूमि से वाष्पित नहीं होता।
(ग) जल के जलवाष्प में परिवर्तन की प्रक्रिया वाष्यन कहलाती है।
(घ) जल का वाष्पन केवल सूर्य के प्रकाश में ही होता
(ङ) वायु की ऊपरी परतों में, जहाँ यह और अधिक ठण्डी होती है, जलवाष्य संघनित होकर छोटी-छोटी जलकणिकाएँ बनाती है।
उत्तर:
(क) असत्य
(खा) असत्य
(ग) सत्य
(घ) असत्य
(ङ) सत्य।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 14 जल

प्रश्न 4.
मान लीजिए कि आप अपनी स्कूल यूनिफार्म को वर्षा वाले दिन शीघ्र सुखाना चाहते हैं। क्या इसे किसी अँगीठी या हीटर के पास फैलाने पर इस कार्य में सहायता मिलेगी? यदि हाँ, तो कैसे ?
उत्तर:
हाँ, गीले कपड़े को अँगीठी या हीटर के पास ले जाकर सुखाने में सहायता मिलेगी क्योंकि अंगीठी या हीटर के आस-पास अधिक गर्मी (ऊष्मा) से कपड़े से वाष्पन अधिक होगा और वह शीघ्र सूखेगा।

प्रश्न 5.
एक जल की ठंडी बोतल रेफ्रिजरेटर से निकालिए और इसें मेज पर रखिए। कुछ समय पश्चात् आप इसके चारों ओर जल की छोटी-छोटी बूंदें देखेंगे। करण बताओ?
उत्तर:
ठंडी बोतल की बाहरी सतह भी ठंडी होती है जिससे बाहरी सतह के आस-पास की वायु – ठंडी हो जाती है। ऐसा होने से वायु में उपस्थित जलवाष्प का संघनन हो जाता है और इसकी छोटी-छोटी बूंदें बोतल पर जम जाती हैं।

प्रश्न 6.
चश्मों के लेंस साफ करने के लिए लोग उस पर हूँक मारते हैं तो लेंस भीग जाते हैं। लेंस क्यों भीग जाते है? समझाइए।
उत्तर:
मुँह से निकलने वाली वायु नम होती है जो लेंसों पर संघनित हो जाती है जिससे लेंस भीग जाते हैं।

प्रश्न 7.
बादल कैसे बनते हैं ?
उत्तर:
महासागरों, नदियों एवं तालाबों से जल का लगातार वाष्पन होता रहता है। इसके अतिरिक्त पौधे भी जल का वाष्प के रूप में उत्सर्जन (वाष्पोत्सर्जन) करते हैं। यह जल वायु में मिश्रित होता रहता है। जब जलवाष्प पृथ्वी से अधिक ऊँचाई पर पहुँचती है तो यह ठंडी होने लगती है क्योंकि पृथ्वी से ऊपर की ओर जाने पर ताप कम होता जाता है। अधिक ऊँचाई पर जलवाष्प संघनित होकर धुंभा जैसा रूप बना लेती हैं जिन्हें बादल कहते हैं। जब ये बादल अधिक ठण्डे होने लगते हैं तो जल की बूंदें बनने लगती हैं और वर्षा के रूप में पृथ्वी पर पुनः आ जाती है।

प्रश्न 8.
सूखा कब पड़ता है ?
उत्तर:
यदि किसी क्षेत्र में एक वर्ष या उससे भी अधिक समय तक वर्षा न हो तो वाष्पन एवं वाष्पोत्सर्जन द्वारा मृदा से लगातार जल की हानि होती रहती है क्योंकि यह वर्षा द्वारा वापस नहीं लाया जा रहा है। इसलिए मृदा जलविहीन होने लगती है। उस क्षेत्र के तालाबों और कुओं में जल का स्तर गिर जाता है। उनमें से कुछ सूख भी जाते हैं। भौम जल की भी कमी हो जाती है। इससे सूखा पड़ सकता है।

HBSE 6th Class Science जल Important Questions and Answers

वस्तुनिष्ठ प्रश्न

I. बहुविकल्पी प्रश्न : निम्नलिखित प्रश्नों में सही विकल्प का चयन कीजिए

1. कौन सा जल पीने योग्य नहीं होता है?
(क) नदियों का
(ख) कुएँ का
(ग) झील का
(घ) समुद्र का
उत्तर:
(घ) समुद्र का

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 14 जल

2. पृथ्वी का कितना भाग जल से घिरा हुआ है?
(क) \(\frac{1}{3}\) भाग
(ख) \(\frac{2}{3}\) भाग
(ग) \(\frac{1}{2}\) भाग
(घ) \(\frac{5}{2}\) भाग
उत्तर:
(ख) \(\frac{2}{3}\) भाग

3. जल को धूप में रखने पर वह वाष्य के रूप में उड़ने लगता है, यह प्रक्रम कहलाता है
(क) वाष्पन
(ख) वाष्पोत्सर्जन
(ग) संघनन
(घ) निष्कासन
उत्तर:
(क) वाष्पन

4. भूमि के अन्दर पाया जाने वाला जल कहलाता है
(क) सतह जल
(ख) बंधित जल
(ग) भौम जल
(घ) इनमें से कोई नहीं
उत्तर:
(ग) भौम जल

II. रिक्त स्थान : निम्नलिखित वाक्यों में रिक्त स्थान भरिए

1. ……………….. और ……………….. के जल में बहुत से लवण घुले होते हैं जिससे जल खारा होता है।
2. ……………….. अपने साथ लवणों का बहन नहीं करती है।
3. जलवाष्य के ……………….. के कारण बादलों से जल की बूंदों का निर्माण होता है।
4. वर्षा का जल एकत्र करने को ……………….. कहते हैं।
उत्तर:
1. समुद्र, महासागरों
2. जलवाष्प
3. संघनन
4. वर्षा जल संग्रहण।

III. सुमेलन : कॉलम ‘A’ के शब्दों का मिलान कॉलम ‘B’ के शब्दों से कीजिए-

कॉलम ‘A’ कॉलम ‘B’
1. वाष्पन (i) वर्षा न होना
2. अतिवृष्टि (ii) जल का जमना
3. ओला (iii) जल का गैस में बदलना
4. सूखा (iv) बाढ़ आना

उत्तर:

कॉलम ‘A’ कॉलम ‘B’
1. वाष्पन (ii) जल का जमना
2. अतिवृष्टि (iv) बाढ़ आना
3. ओला (iii) जल का गैस में बदलना
4. सूखा (i) वर्षा न होना

IV. सत्य/असत्य : निम्नलिखित वाक्यों में सत्य एवं असत्य कथन छाँटिए

(i) वर्षा होना, जल चक्र के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण कारक
(ii) वाष्पन एवं वाष्पोत्सर्जन का जल चक्र में कोई महत्व नहीं है।
(iii) जलवाष्प के संघनन के फलस्वरूप वर्षा होती है।
(iv) लम्बे समय तक वर्षा न होने के कारण सूखा पड़ने का खतरा बढ़ जाता है।
उत्तर:
1. सत्य
2. असत्य
3. सत्य
4. सत्य।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 14 जल

अति लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
जल किन-किन रूपों में पाया जाता है ?
उत्तर:
तीन रूपों में बर्फ, जल तथा जलवाष्प।

प्रश्न 2.
पृथ्वी का कितना भाग जल से घिरा हुआ है ?
उत्तर:
पृथ्वी का 2/3 भाग जल से घिरा हुआ है।

प्रश्न 3.
आपको पीने के लिए जल कहाँ से प्राप्त होता है?
उत्तर:
कुंओं, नदियों एवं नलकूपों से।

प्रश्न 4.
दो प्लेटों में जल लेकर एक को धूप में तथा दूसरी को छाया में रखा जाता है। कौन सी प्लेट का जल पहले गायब होगा? (क्रियाकलाप)
उत्तर:
धूप में रखी गई प्लेट का जल पहले गायब होगा।

प्रश्न 5.
प्लेट का जल क्यों गायब हुआ? (क्रियाकलाप)
उत्तर:
सूर्य के प्रकाश से जल गर्म होकर वाष्पीकृत होता है जिससे वह गायब हो जाता है।

प्रश्न 6.
जल के वाष्पीकरण और वाष्पोत्सर्जन के लिए ऊर्जा का मुख्य स्रोत क्या होता है? (क्रियाकलाप)
उत्तर:
सूर्य का प्रकाश।

प्रश्न 7.
समुद्र एवं सागरों का पानी पीने योग्य क्यों नहीं होता है?
उत्तर:
समुद्र एवं महासागरों के पानी में अत्यधिक लवण घुले होने के कारण यह खारा होता है।

प्रश्न 8.
पौधों द्वारा जल की क्षति को क्या कहते हैं ?
उत्तर:
बाष्पोत्सर्जन।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 14 जल

प्रश्न 9.
गीले कपड़ों को धूप में सुखाने पर इनका जल कहाँ गायब हो जाता है?
उत्तर:
गर्मी के कारण जल वाष्प बनकर उड़ जाता है।

प्रश्न 10.
जल कणिका किसे कहते हैं ?
उत्तर:
जलवाष्प संघनित होकर छोटी-छोटी बूंदें बना लेती हैं, इन्हें जल कणिका कहते हैं।

प्रश्न 11.
पृथ्वी पर सर्वाधिक जल कहाँ उपस्थित है ?
उत्तर:
महासागरों में।

प्रश्न 12.
यदि भारी वर्षा हो तो क्या होगा?
उत्तर:
बाढ़ आने की सम्भावना बढ़ जाएगी।

प्रश्न 13.
क्या हम जल का संरक्षण कर सकते हैं ? किसी एक विधि का नाम लिखिए।
उत्तर:
हाँ, तालाब बनाकर।

प्रश्न 14.
‘जल की बचत’ विषय पर अपने स्वयं के कुछ नारे लिखिए। (क्रियाकलाप)
उत्तर:

  1. जल ही जीवन है।
  2. जल अनमोल है।
  3. जल बचाओ, जीवन बचाओ।

लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
वर्षा जल संग्रहण की दो विधियाँ लिखिए।
उत्तर:
गौ जल संग्रहण की दो विधियाँ निम्न प्रकार हैं-
(1) छत के ऊपर वर्षा जल संग्रहण-इस विधि में भवनों की छत पर एकत्रित वर्षा के जल को भण्डारण टैंकों में पाइपों द्वारा पहुँचाया जाता है।
(2) जलाशय बनाना व्यर्थ बहते पानी को नालियों द्वारा तालाबों में एकत्र किया जा सकता है।

प्रश्न 2.
संघनन की क्रिया को दर्शाने के लिए एक क्रियाकलाप लिखिए।
उत्तर:
क्रियाकलाप-जल से आधा भरा गिलास लीजिए। गिलास को बाहर से सूखे कपड़े से पॉछिए। जल में कुछ बर्फ डालिए। एक या दो मिनट तक प्रतीक्षा कीजिए। गिलास के बाहरी पृष्ठ में होने वाले परिवर्तनों का प्रेक्षण कीजिए।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 14 जल -1
चित्र : बर्फ व जल से भरे गिलास के बाहरी पृष्ठ पर प्रकट जल की बूंदें
हम देखते हैं कि गिलास की बाहरी सतह पर कुछ बूंदें एकत्र हो जाती हैं। ऐसा संघनन की क्रिया के फलस्वरूप हुआ है। बर्फ युक्त जल से गिलास के बाहर की हवा ठण्डी होकर संघनित होकर गिलास की सतह पर जम जाती है।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 14 जल

प्रश्न 3.
जल के चार प्रमुख उपयोग लिखिए।
उत्तर:
जल के उपयोग-

  1. जल पीने में उपयोग होता है।
  2. जल का उपयोग, नहाने, कपड़े धोने में होता है।
  3. जल फसलों एवं पौधों की सिंचाई के लिए उपयोग होता है।
  4. बहुत से जीव जन्तु-जल के अन्दर रहते हैं।

प्रश्न 4.
धूप में फैलाने पर गीले कपड़े कैसे सूख जाते हैं?
उत्तर:
गीले कपड़ों को धूप में फैलाकर डालने से उनसे वाष्पन होने लगता है। कपड़ों में उपस्थित जल गर्मी पाकर वाष्प में बदलकर उड़ जाता है और कपड़े सूख जाते हैं।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 14 जल -1HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 14 जल -2

प्रश्न 5.
तीन क्रियाकलापों की सूची बनाइए, जिससे आप जल बचा सकते हैं। प्रत्येक क्रियाकलाप को कैसे करेंगे, इसका उल्लेख कीजिए। (क्रियाकलाप)
उत्तर:

  1. बुश करते समय हमें नल बन्द कर देना चाहिए।
  2. हमें नहाने के लिए टब के स्थान पर बाल्टी का प्रयोग करना चाहिए।
  3. नलों की टोटियों को खुला नहीं छोड़ना चाहिए।

दीर्घ उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
किसी परिवार द्वारा एक दिन में उपयोग होने वाले जल की मात्रा का अनुमान लगाकर सारणी में लिखिए। (क्रियाकलाप)
उत्तर:
किसी परिवार द्वारा एक दिन में उपयोग होने वाले जल की मात्रा का अनुमान

क्रियाकलाप उपयोग हुए जल की मात्रा
1. पीने में 1/2 बाल्टी
2. ब्रुश करने में 1/2 बाल्टी
3. नहाने में 4 बाल्टी
4, बर्तन साफ करने में 2 बाल्टी
5. कपड़े धोने में 6 बाल्टी
6. शौचालय में 4 बाल्टी
7. फर्श साफ करने में 5 बाल्टी
8. कोई अन्य 2 बाल्टी
परिवार में एक दिन में उपयोग जल की कुल मात्रा 24 बाल्टी

प्रश्न 2.
जल चक्र किसे कहते हैं? आरेख बनाकर वर्णन कीजिए।
उत्तर-
जल चक्र:
जल का विभिन्न रूपों में बदलते हुए एक स्थान से अन्य स्थान पर पहुँचना तथा पुन: उसी स्थान पर लौटना जल चक्र कहलाता है। महासागर, समुद्र, नदियाँ, झीलें, तालाब आदि जल के प्रमुख स्रोत हैं। इसके अतिरिक्त जल की कुछ मात्रा मृदा में भी उपस्थित होती है। सूर्य की गर्मी से जल सतह से जलवाष्प के रूप में उड़ता है तथा पौधों द्वारा वाष्पोत्सर्जन द्वारा भी जल उड़ता है। यह जल बादलों का निर्माण करता है। बादल हवा द्वारा उड़ाकर एक स्थान से दूसरे स्थानों पर ले जाये जाते हैं। बादलों के बरसने पर जल पुन: पृथ्वी पर आ जाता है। कुछ जलवाष्प पहाड़ों पर बर्फ के रूप में गिरती है, जो पिघलकर जल बनाती है। जो नदियों में बहकर पुनः समुद्रों में पहुँच जाता है। वर्षा का कुछ जल पुनः जमीन में चला जाता है। इस प्रकार जल का चक्रण होता रहता है।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 14 जल

प्रश्न 3.
जल संग्रहण क्या है ? यह क्यों आवश्यक है? जल संग्रहण की एक विधि लिखिए।
उत्तर:
जल संग्रहण : आज के समय में जल का अत्यधिक दोहन हो रहा है, जिससे पेयजल की दिन-प्रतिदिन कमी होती जा रही है, अत: जल को भविष्य के लिए बचाना अति आवश्यक है। वर्षा के जल को एकत्र करना और उसका भण्डारण करना ही वर्षा जल संग्रहण कहलाता है।

जल संग्रहण की आवश्यकता : हमारे देश में मुख्यतः मानसूनी वर्षा होती है अर्थात् वर्षभर वर्षा समान नहीं होती। वर्षा का अधिकांश जल नदियों से बहकर सागरों में चला जाता है, जो पीने योग्य नहीं रहता है। इस वर्षा जल को एकत्र करके वर्षभर सूखे की समस्या से बचा जा सकता है। जल संग्रहण करके सिंचाई की जा सकती है तथा वर्षभर पीने के पानी की व्यवस्था की जा सकती है। जल संग्रहण की विधि

छत के ऊपर वर्षा जल संग्रहण : इस विधि में भवनों की छत पर एकत्रित वर्षा के जल को भण्डारण टैंक में पाइपों द्वारा पहुँचाया जाता है। इस जल में छत पर उपस्थित मिट्टी के कण हो सकते हैं जिन्हें उपयोग करने से पहले निस्पंदित करना आवश्यक होता है।

जल Class 6 HBSE Notes in Hindi

→ जल जीवन के लिए अति आवश्यक है। जल का उपयोग केवल दैनिक कार्यों के लिए ही नहीं वरन् बहुत-सी वस्तुओं के उत्पादन के लिए भी होता है।
→ तालाब, नदी, कुएँ, झरने आदि जल के स्रोत हैं।
→ पृथ्वी का 2/3 भाग जल से घिरा हुआ है। इस जल का अधिकांश भाग समुद्रों और महासागरों में है।
→ गर्म करने पर या सूर्य की गर्मी से जल वाष्प में परिवर्तित होकर वायु में मिलता रहता है। इस प्रकार बनी जलवाष्प वायु का एक भाग बन जाती है।
→ वायु में वाष्पन और वाष्पोत्सर्जन से जलवाष्प मिलती रहती है।
→ जलवाष्प वायु में संघनित होकर छोटी-छोटी जल की बूंदें बनाती है जो बादल जैसे दिखाई देते हैं। बहुत-सी छोटी जल की बूंदें परस्पर मिलकर वर्षा, हिम अथवा ओले के रूप में गिरती हैं।
→ वर्षा का जल या बर्फ के पिघलने से बहता हुआ जल झीलों, तालाबों तथा नदियों को भर देता है। इस जल का कुछ भाग वाष्पन तथा वाष्पोत्सर्जन द्वारा वापस वायु में चला जाता है। शेष जल धीरे-धीरे भूमि के नीचे रिसता रहता है। इस जल का अधिकांश भाग हमें भूमिगत जल के रूप में उपलब्ध रहता है।
→ महासागरों तथा जलीय भागों के बीच जल के चक्रण को जल चक्र कहते हैं।
→ अत्यधिक वर्षा होने से बाढ़ आ जाती है जबकि लम्बे समय तक वर्षा न होने से सूखा पड़ सकता है।
→ पृथ्वी पर उपयोग करने योग्य जल की मात्रा सीमित है इसलिए जल के विवेकपूर्ण उपयोग की आवश्यकता है।
→ वर्षा के जल को एकत्र करना और उसका भण्डारण करके बाद में प्रयोग करना, वर्षा जल संग्रहण कहलाता है। वर्षा जल संग्रहण का मूलमंत्र यह है कि जल जहाँ गिरे वहीं एकत्र कीजिए।
→ जल वाष्प – जल का गैसीय रूप जल वाष्य कहलाता है। वाष्यन-जल का वाष्प में परिवर्तित होना वाष्पन कहलाता है।
→ संघनन – जल वाष्प के द्रव की बूंदों में बदलने की क्रिया को संघनन कहते हैं।
→ बादल – जल वाष्प वायु में संघनित होकर छोटी-छोटी जल बूंदें बनाती है जो बादल जैसी दिखाई देती है।
→ सूखा – किसी क्षेत्र में लम्बे समय तक वर्षा न होने पर सूखा पड़ सकता है।
→ वर्षा जल संग्रहण – वर्षा के जल को एकत्र करना और उसका भण्डारण करके बाद में प्रयोग करने को वर्षा जल संग्रहण कहते हैं।
→ जल चक्र – महासागरों तथा जलीय भागों के बीच जल के चक्रण को जल चक्र कहते हैं।
→ ओला – जल वाष्प का संघनन होकर पानी की बूंदें बन जाती हैं, जब ये बूंदें जमकर बर्फ की गोलियाँ बनकर जमीन पर गिरती हैं तो इन्हें ओला कहते हैं।
→ बाढ़ – अत्यधिक वर्षा से नदियों, झीलों तथा तालाबों का जल स्तर बढ़ जाता है और बाढ़ आ जाती है।
→ महासागर – जल का प्रमुख स्रोत जिसके जल में बहुत से लवण घुले होते हैं।

HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 13 चुंबकों द्वारा मनोरंजन

Haryana State Board HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 13 चुंबकों द्वारा मनोरंजन Textbook Exercise Questions and Answers.

Haryana Board 6th Class Science Solutions Chapter 13 चुंबकों द्वारा मनोरंजन

HBSE 6th Class Science चुंबकों द्वारा मनोरंजन InText Questions and Answers

बूझो/पहेली

प्रश्न 1.
बूझो आपसे यह प्रश्न पूछना चाहता है। एक दर्जी कमीज में बटन टाँक रहा था। उसके हाथ से सुई फिसल कर फर्श पर गिर गई। क्या आप सुई ढूँढने में दर्जी की सहायता कर सकते हैं?
उत्तर:
हाँ, हम चुम्बक की सहायता से सुई को ढूंढ सकते हैं क्योंकि लोहे की बनी सुई चुम्बक पर चिपक जाएगी।

प्रश्न 2.
पहेली के पास आपके लिए एक समस्या है। आपको दो समान छड़ें दी गई हैं, जिन्हें देखने से प्रतीत होता है कि वे लोहे की बनी हुई हैं। उनमें से एक चुम्बक है जबकि दूसरी लोहे की साधारण छड़ है। आप कैसे ज्ञात करेंगे कि इनमें से कौन-सी छड़ चुम्बक है?
उत्तर:
लोहे की छड़ में धूव नहीं होते, अत: सभी जगह समान आकर्षण होगा। चुम्बक के दो ध्रुव होते हैं जहाँ सबसे अधिक आकर्षण होता है। इस प्रकार हम ज्ञात कर सकते है कि कौन-सी छड़ चुम्बक है।

प्रश्न 3.
आपके विद्यालय का मुख्य द्वार आपकी कक्षा से किस दिशा में स्थित है?
उत्तर:
विद्यार्थी अपने विद्यालय की स्थिति के अनुसार उत्तर लिखें।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 13 चुंबकों द्वारा मनोरंजन

HBSE 6th Class Science चुंबकों द्वारा मनोरंजन Textbook Questions and Answers

प्रश्न 1.
रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए
(क) कृत्रिम चुम्बक विभिन्न आकार के बनाए जाते हैं, जैसे …………………. तथा ………….।
(ख) जो पदार्थ चुम्बक की ओर आकर्षित होते हैं, वे ………… कहलाते हैं।
(ग) कागज एक …………… पदार्थ नहीं है।
(घ) प्राचीन काल में लोग दिशा ज्ञात करने के लिए …………… का टुकड़ा लटकाते थे।
(ङ) चुम्बक के सदैव ………….. ध्रुव होते हैं।
उत्तर:
(क) नाल चुम्बक, बेलनाकार चुम्बक,छड़चुम्बक।
(ख) चुम्बकीय
(ग) चुम्बकीय
(घ) चुम्बक
(ङ) दो।

प्रश्न 2.
बताइए निम्न कथन सही है अथवा गलत
(क) बेलनाकार चुम्बक में केवल एक ध्रुव होता है।
(ख) कृत्रिम चुम्बक का आविष्कार यूनान में हुआ था।
(ग) चुम्बक के समान ध्रुव एक-दूसरे को प्रतिकर्षित करते हैं।
(घ) लोहे का बुरादा छड़ चुम्बक के समीप लाने पर इसके मध्य में अधिक चिपकता है।
(ङ) छड़ चुम्बक सदैव उत्तर-दक्षिण दिशा को दर्शाता है।
(च) किसी स्थान पर पूर्व-पश्चिम दिशा ज्ञात करने के लिए कम्पास का उपयोग किया जा सकता है।
(छ) रबड़ एक चुम्बकीय पदार्थ है।
उत्तर:
(क) गलत
(खा) गलत
(ग) सही
(घ) गलत
(ङ) सही
(च) सही
(छ) गलत।

प्रश्न 3.
यह देखा गया है कि पेंसिल छीलक (शार्पनर) यद्यपि प्लास्टिक का बना होता है, फिर भी यह चुम्बक के दोनों ध्रुवों से चिपकता है। उस पदार्थ का नाम बताइए जिसका उपयोग इसके किसी भाग के बनाने में किया गया है।
उत्तर:
पेंसिल छीलक में ब्लेड लोहे का बना होता है और जब वह चुम्बक के सम्पर्क में आता है तो लोहा चुम्बक से चिपक जाता है।

प्रश्न 4.
एक चुम्बक के एक ध्रुव को दूसरे चुम्बक के ध्रुव के समीप लाने की विभिन्न स्थितियाँ कॉलम 1 में दर्शाई गई हैं। कॉलम 2 में प्रत्येक स्थिति के परिणाम को दर्शाया गया है। रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए-

कॉलम – 1 कॉलम – 2
N – N _
N – _ आकर्षण
S – N _
_ – S प्रतिकर्षण

उत्तर:

कॉलम-1 कॉलम-2
N – N प्रतिकर्षण
N – S आकर्षण
S – N आकर्षण
S – S प्रतिकर्षण

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 13 चुंबकों द्वारा मनोरंजन

प्रश्न 5.
चुम्बक के कोई दो गुण लिखिए।
उत्तर:
चम्बक के गुण:
1. चुम्बक लोहा, निकिल, कोबाल्ट जैसे कुछ पदार्थों को आकर्षित करता है।
2. चुम्बक को स्वतंत्रतापूर्वक लटकाने पर यह सदैव उत्तर-दक्षिण दिशा में रुकता है।

प्रश्न 6.
छड़ चुम्बक के ध्रुव कहाँ स्थित होते हैं?
उत्तर:
छड़ चुम्बक के ध्रुव उसके दोनों सिरों के नजदीक

प्रश्न 7.
छड़ चुम्बक पर धुवों की पहचान का कोई चिह्न नहीं है। आप कैसे ज्ञात करोगे कि किस सिरे के समीप उत्तरी ध्रुव स्थित है?
उत्तर:
छड़ चुम्बक के बीचों-बीच एक धागा बांधकर इसे लटकाने पर यह उत्तर-दक्षिण दिशा में ठहरता है। जो सिरा उत्तर में ठहरता है वह उत्तरी ध्रुव तथा जो सिरा दक्षिण की ओर होता है वह दक्षिणी ध्रुव कहलाता है।

प्रश्न 8.
आपको एक लोहे की पत्ती दी गई है। आप इसे चुम्बक कैसे बनाएँगे?
उत्तर:
सबसे पहले लोहे की पत्ती को मेज पर रखते हैं। अब एक छड़ चुम्बक का कोई एक ध्रुव लोहे की पत्ती के एक सिरे पर रखिए। चुम्बक को बिना हटाए इसे पत्ती के दूसरे सिरे तक ले जाइए। इस प्रक्रिया को लगभग 30-40 बार दोहराइए। इस प्रकार लोहे की पत्ती को चुम्बक बनाया जा सकता है।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 13 चुंबकों द्वारा मनोरंजन -1

प्रश्न 9.
दिशा निर्धारण में कम्पास का किस प्रकार प्रयोग होता है?
उत्तर:
कम्पास की सुई सदैव उत्तर-दक्षिण दिशा में ठहरती है। सुई नोंक वाला सिरा उत्तर की ओर तथा इसके पीछे का सिरा दक्षिण दिशा बताता है। उत्तर-दक्षिण दिशाओं को जानकर पूर्व-पश्चिम दिशाओं का ज्ञान किया जा सकता है।

प्रश्न 10.
पानी के टब में तैरती एक खिलौना नाव के समीप विभिन्न दिशाओं से एक चुम्बक लाया गया। प्रत्येक स्थिति में प्रेक्षित प्रभाव कॉलम 1 में तथा सम्भावित कारण कॉलम 2 में दिये गये हैं। कॉलम 1 में दिये गये कथनों का मिलान कॉलम 2 में दिये गये कथनों से कीजिए।

कॉलम – 1 कॉलम – 2
1. नाव चुम्बक की ओर आकर्षित हो जाती है। (क) नाव में चुम्बक लगा है जिसका उत्तरी धूव, नाव के अग्र भाग की ओर है।
2. नाव चुम्बक से प्रभावित नहीं होती। (ख) नाव में चुम्बक लगा है जिसका दक्षिणी ध्रुव, नाव के अग्र भाग की ओर है।
3. यदि चुम्बक का उत्तरी ध्रुव नाव के अग्र भाग के समीप लाया जाता है तो नाव चुम्बक के समीप आती है। (ग) नाव की लम्बाई के अनुदिश एक छोटा चुम्बक लगाया गया है।
4. जब उत्तरी ध्रुव नाव के अन भाग के समीप लाया जाता है तो नाव चुम्बक से दूर चली जाती है। (घ) नाव चुम्बकीय पदार्थ से निर्मित है।
5. नाव बिना दिशा बदले तैरती है। (ङ) नाव अचुम्बकीय पदार्थ से निर्मित है।

उत्तर:

कॉलम – 1 कॉलम – 2
1. नाव चुम्बक की ओर आकर्षित हो जाती है। (घ) नाव चुम्बकीय पदार्थ से निर्मित है।
2. नाव चुम्बक से प्रभावित नहीं होती। (ङ) नाव अचुम्बकीय पदार्थ से निर्मित है।
3. यदि चुम्बक का उत्तरी ध्रुव नाव के अग्र भाग के समीप लाया जाता है तो नाव चुम्बक के समीप आती है। (ख) नाव में चुम्बक लगा है जिसका दक्षिणी ध्रुव, नाव के अग्र भाग की ओर है।
4. जब उत्तरी ध्रुव नाव के अन भाग के समीप लाया जाता है तो नाव चुम्बक से दूर चली जाती है। (क) नाव में चुम्बक लगा है जिसका उत्तरी धूव, नाव के अग्र भाग की ओर है।
5. नाव बिना दिशा बदले तैरती है। (ग) नाव की लम्बाई के अनुदिश एक छोटा चुम्बक लगाया गया है।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 13 चुंबकों द्वारा मनोरंजन

HBSE 6th Class Science चुंबकों द्वारा मनोरंजन Important Questions and Answers

वस्तुनिष्ठ प्रश्न

I. बहुविकल्पी प्रश्न : निम्नलिखित प्रश्नों में सही विकल्प का चयन कीजिए

1. लोहे की वस्तुओं को अपनी ओर खींचने वाले पत्थर को क्या नाम दिया गया?
(क) मेग्नस
(ख) मेग्नेटाइट
(ग) हेमेटाइट
(घ) पाइराइट
(घ) पादार
उत्तर:
(ख) मेग्नेटाइट

2. वे पदार्थ जो चुम्बक की ओर आकर्षित होते हैं, कहलाते हैं-
(क) चुम्बकीय पदार्थ
(ख) अचुम्बकीय पदार्थ
(ग) प्रतिकर्षी पदार्थ
(घ) आकर्षी पदार्थ
उत्तर:
(क) चुम्बकीय पदार्थ

3. चुम्बक के ध्रुव होते हैं-
(क) एक
(ख) दो
(ग) तीन
(घ) चार
उत्तर:
(ख) दो

4. चुम्बक अपना गुण खो देता है-
(क) गर्म करने पर
(ख) पीटने पर
(ग) ऊँचाई से गिराने पर
(घ) ये सभी
उत्तर:
(घ) ये सभी

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 13 चुंबकों द्वारा मनोरंजन

II. रिक्त स्थान : निम्नलिखित वाक्यों में रिक्त स्थान भरिए

1. लोहे के टुकड़े से चुम्बक बनाने की विधि का अविष्कार हुआ, इन्हें …………….. कहते हैं।
2. जो पदार्थ चुम्बक की ओर आकर्षित नहीं होते, वे …………….. कहलाते हैं।
3. चुम्बक के …………….. इसके सिरों के नजदीक होते हैं।
4. …………….. सामान्यतः काँच के ढक्कन वाली एक छोटी डिब्बी होती है।
उत्तर:
1. कृत्रिक चुम्बक
2. अचुम्बकीय
3. ध्रुव
4. कंपास।

III. सुमेलन : कॉलम ‘A’ के शब्दों का मिलान कॉलम ‘B’ के शब्दों से कीजिए

कॉलम ‘A’ कॉलम ‘B’
1. मैग्नस (i) पत्थर का नाम
2. मेग्नीशिया (ii) एक स्थान का नाम
3. मेग्नेटाइट (iii) गड़रिया का नाम
4. दिक्सूची (iv) कंपास का नाम

उत्तर:

कॉलम ‘A’ कॉलम ‘B’
1. मैग्नस (iii) गड़रिया का नाम
2. मेग्नीशिया (ii) एक स्थान का नाम
3. मेग्नेटाइट (i) पत्थर का नाम
4. दिक्सूची (iv) कंपास का नाम

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 13 चुंबकों द्वारा मनोरंजन

IV. सत्य/असत्य : निम्नलिखित वाक्यों में सत्य एवं असत्य कधन छोटिए

(i) निकिल, कोबाल्ट एवं लोहा चुम्बकीय पदार्थ हैं।
(ii) छड़ चुम्बक को बीच से धागे द्वारा स्वतंत्र लटकाने पर इसके सिरे पूर्व-परिचम की ओर ठहरते हैं।
(iii) चुम्बक के दो ध्रुव तथा दक्षिणी ध्रुव होते हैं।
(iv) दो चुम्बकों के विपरीत ध्रुवों में आकर्षण होता है।
उत्तर:
1. सत्य
2. असत्य
3, सत्य
4. सत्य।

अति लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
कबाड़ के ढेर से लोहे के टुकड़ों का चयन किसके द्वारा किया जा सकता है।
उत्तर:
चुम्बक द्वारा।

प्रश्न 2.
चुम्बक किस प्रकार की वस्तुओं को अपनी ओर खीचती हैं? (क्रियाकलाप)
उत्तर:
लोहा, निकिल और कोबाल्ट से बनी वस्तुओं को।

प्रश्न 3.
चुम्बक के प्रभाव वाले किसी सेल का नाम बताइए। (क्रियाकलाप)
उत्तर:
पेपर क्लिप को हवा में लटकाना।

प्रश्न 4.
एक प्राकृतिक चुम्बक का नाम लिखिए।
उत्तर:
मैग्नेटाइट एक प्राकृतिक चुम्बक है।

प्रश्न 5.
मेग्नस छड़ी के सिरे पर क्या लगा होता है? (क्रियाकलाप)
उत्तर:
चुम्बक।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 13 चुंबकों द्वारा मनोरंजन

प्रश्न 6.
छड़ चुम्बक का वह सिरा जो लटकाने पर उत्तर की ओर ठहरता है, क्या कहलाता है?
उत्तर:
उत्तरी धूव।

प्रश्न 7.
ऐसे पदार्थ जो चुम्बक से आकर्षित नहीं होते हैं, क्या कहलाते हैं?
उत्तर:
अनुचुम्बकीय पदार्थ ।

प्रश्न 8.
ऐसे पदार्थ जो चुम्बक की ओर आकर्षित होते हैं, क्या कहलाते हैं?
उत्तर:
चुम्बकीय पदार्थ।

प्रश्न 9.
चुम्बक की खोज किसने की?
उत्तर:
मैग्नस ने।

प्रश्न 10.
क्या होता है जब छड़ चुम्बक को लोहे के बुरादे से होकर निकाला जाता है? (क्रियाकलाप)
उत्तर:
छड़ चुम्बक के दोनों सिरों पर लोहे का बुरादा समान रूप से चिपक जाता है।

प्रश्न 11.
दो ऐसे उपकरणों का नाम लिखिए जिनमें ‘चुम्बक पाया जाता है?
उत्तर:
(i) विद्युत घंटी
(ii) क्रेन।

प्रश्न 12.
पिन धारक में चुम्बक का क्या कार्य है?
उत्तर:
पिने पिन धारक के मुंह पर आ जाती हैं जिससे इन्हें उठाने में सरलता होती है।

प्रश्न 13.
कृत्रिम चुम्बक किस पदार्थ से बनाए जाते हैं?
उत्तर:
लोहे से।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 13 चुंबकों द्वारा मनोरंजन

प्रश्न 14.
मिट्टी चुम्बकीय पदार्थ है या अनुचुम्बकीय ?
उत्तर:
अनुचुम्बकीय।

प्रश्न 15.
क्या होता है यदि चुम्बक को गर्म किया जाए या हथौड़े से पीटा जाए?
उत्तर:
चुम्बक अपना गुण खो देता है।

लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
रेखांकित शब्दों को वाक्य के अनुसार शुद्ध कीजिए
(क) कागज एक चुम्बकीय पदार्थ है।
(ख) एनास्टिक एक चुम्बकीय पदार्थ है।
(ग) कृत्रिम चुम्बक का आविष्कार इंग्लैण्ड में हुआ।
(घ) चुम्बक का एक धुव होता है।
उत्तर:
(क) अनुचुम्बकीय
(ख) लोहा
(ग) यूनान
(घ) दो।

प्रश्न 2.
एक सरल कम्पास बनाने के लिए एक क्रियाकलाप लिखिए। (क्रियाकलाप)
उत्तर:
क्रियाकलाप:
छड़ चुम्बक के उपयोग से लोहे की सुई को चुम्बकित कीजिए। अब इसे किसी छोटी कॉर्क अथवा फोम के टुकड़े में निविष्ट कीजिए। इसे पानी से भरे प्याले अथवा टब में तैराइए। यह सुनिश्चित कीजिए कि सुई पानी को न छुए। अब आपकी कम्पास कार्य करने के लिए तैयार है। तैरती कॉर्क पर लगी सुई की दिशा नोट कीजिए। सुई लगी कॉर्क को विभिन्न दिशाओं में घुमाइए। जब बिना घुमाए कॉर्क तैरने लगे तो सुई की दिशा पुनः नोट कीजिए। कॉर्क का घूमना बंद होने पर सुई सदैव एक ही दिशा दर्शाती
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 13 चुंबकों द्वारा मनोरंजन -2

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 13 चुंबकों द्वारा मनोरंजन

प्रश्न 3.
(a) आप रेत से लोहे के बुरादे को किस प्रकार अलग करेंगे।
(b) कुछ स्थानों का भ्रमण कर चुम्बक की सहायता से विभिन्न स्थानों की मिट्टी में लोहे की वस्तुओं (पिन, नट-बोल्ट, कील, लोहे का बुरादा) की संख्या की तुलना कीजिए। (क्रियाकलाप)
उत्तर:
(a) मिश्रण से होकर बार-बार चुम्बक गुजार ने पर लोहे का बुरादा चुम्बक से चिपक जाता है।
(b)

स्थान लोहे की वस्तुओं की संख्या
1. अपने घर के सामने की थोड़ी सी वस्तुएं, पिन, नट, कील
2. कार मैकेनिक की दुकान के सामने की मिट्टी बहुत सी वस्तुएं, लोहे का बुरादा, कील, नट, बोल्ट आदि।
3. खेत की मिट्टी बिल्कुल नहीं

प्रश्न 4.
एक कागज की शीट पर लोहे का बुरादा फैलाइए। इस शीट के ऊपर एक छड़ चुम्बक रखिए। आप क्या देखते है? क्या लोहे का बुरादा चुम्बक के सभी स्थानों पर एक समान रूप से चिपकता है? क्या आप चुम्बक के किसी भाग में किसी अन्य भाग से अधिक लोहे का बुरादा चिपका हुआ देखते हैं ?
उत्तर:
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 13 चुंबकों द्वारा मनोरंजन -3
1. चुम्बक लोहे के बुरादे को अपनी ओर खींचती है।
2. बुरादा चुम्बक पर समान रूप से नहीं चिपकता।
3. चुम्बक के सिरों पर बुरादा अधिक चिपकता है।

प्रश्न 5.
चुम्बकों का रख-रखाव कैसे किया जाता है?
उत्तर:
चुम्बकों को कभी भी पीटना या गर्म नहीं करना चाहिए। इससे चुम्बक अपना चुम्बकत्व खो देती है।
छड़ चुम्बकों को सुरक्षित रखने के लिए उनके जोड़ों के असमान ध्रुवों को पास-पास रखा जाना चाहिए। इन चुम्बकों को लकड़ी के टुकड़ों HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 13 चुंबकों द्वारा मनोरंजन -4

प्रश्न 6.
कम्पास क्या होता है? इसका चित्र बनाइए।
उत्तर:
कम्पास (दिक्सूचक) काँच के ढक्कन वाली एक छोटी डिब्बी होती है जिसमें एक चुम्बकीय सुई अपनी धुरी पर स्वतंत्रतापूर्वक घूमती है। यह सुई सदैव उत्तर-दक्षिण दिशा में ठहरती है। इसकी नोंक उत्तर दिशा को तथा पीछे की ओर का भाग दक्षिण दिशा को दर्शाता है। इसका प्रयोग दिशा का ज्ञान करने के लिए किया जाता है।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 13 चुंबकों द्वारा मनोरंजन -5

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 13 चुंबकों द्वारा मनोरंजन

प्रश्न 7.
चुम्बक का प्रभाव दाने के लिए एक क्रियाकलाप कीजिए। (क्रियाकलाप)
उत्तर:
क्रियाकलाप:
प्लास्टिक अथवा कागज का एक प्याला लीजिए। इसे एक स्टैंड पर शिकंजे (क्लैम्प) की सहायता से कस दीजिए। जैसा कि चित्र में दर्शाया गया है। प्याले के अंदर एक चुम्बक रखिए तथा इसे कागज से ढंक दीजिए, जिससे कि चुम्बक दिखाई न दे। लोहे के बने एक क्लिप को एक धागे से बाँधिए। धागे के दूसरे सिरे को स्टैण्ड के आधार के साथ बाँध दीजिए। (ध्यान रखें, धागे की लम्बाई को पर्याप्त छोटा रखना यहाँ एक युक्ति है।) क्लिप को प्याले के आधार के समीप लाइए। क्लिप बिना किसी सहारे के एक पतंग की भाँति हवा में रुका रहता है।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 13 चुंबकों द्वारा मनोरंजन -6

प्रश्न 8.
एक कम्पास का उपयोग करके, अपने कमरे की खिड़की तथा अपने घर या अपनी कक्षा के प्रवेश द्वार के खुलने की दिशा ज्ञात कीजिए। (क्रियाकलाप)
उत्तर:
कम्पास का उपयोग करके हमने ज्ञात किया कि हमारे कमरे की खिड़की और हमारे घर का प्रवेश द्वार उत्तर दिशा की ओर खुलते हैं जबकि हमारी कक्षा का प्रवेश द्वार दक्षिण दिशा में खलता है।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 13 चुंबकों द्वारा मनोरंजन

प्रश्न 9.
समान माप के दो एक जैसे छड़ चुम्बकों को एक-दसरे के ऊपर इस प्रकार रखने का प्रयत्न कीजिए कि एक चुम्बक का उत्तरी ध्रुव दूसरे के उत्तरी ध्रुव पर हो। अवलोकन कीजिए क्या होता है और अपने प्रेक्षणों को अपनी नोटबुक में लिखिए। (क्रियाकलाप)
उत्तर:
जब हम समान माप के दो एक जैसे छड़ चुम्बकों को एक-दूसरे के ऊपर इस प्रकार रखते हैं कि एक चुम्बक का उत्तरी ध्रुव दुसरे चुम्बक के उत्तरी ध्रुव पर हो तो दोनों चम्बक एक-दूसरे से प्रतिकर्षित होते हैं। दो असमान धूव प्रतिकर्षित होते हैं तथा दो समान ध्रुव आकर्षित होते हैं। यह चुम्बक का गुण है।

प्रश्न 10.
बढ़ई के काम करते समय फर्श पर बहुत-सा लकड़ी का छीलन फैल जाता है तथा कुछ लोहे की कीलें एवं पेंच भी इनके साथ मिल जाते हैं। हाथों से ढूंढने में उसका बहुमूल्य समय नष्ट किये बिना आप कीलों तथा पेंचों को बुरादे तथा छीलन से पृथक् करने में उसकी सहायता कैसे करेंगे? (क्रियाकलाप)
उत्तर:
यदि बढ़ई चुम्बक का उपयोग करेगा तो लोहे के बने कील एवं पेंच चुम्बक से चिपक जायेंगे।

प्रश्न 11.
आप एक बुद्धिमान गुड़िया बना सकते हैं, जो अपनी पसंद का वस्तुएं चुनती है। एक गुड़िया लाजिए तथा इसके हाथ में एक छोटा चुम्बक बांध दीजिए। इस हाथ को दस्ताने से छुपा दीजिए, जिससे कि चुम्बक दिखाई न दे। अब आपकी बुद्धिमान गुड़िया तैयार है। अपने मित्रों से विभिन्न प्रकार की वस्तुएँ गुड़िया के हाथ के पास लाने को कहिए। वस्तु के पदार्थ की जानकारी से आप पहले ही यह बता सकते हो कि गुड़िया इस वस्तु को पकड़ेगी या नहीं। (क्रियाकलाप)
उत्तर:
जब हम एक छोटा चुम्बक गुड़िया के दस्ताने में छिपा देते हैं तो वह स्वाभाविक रूप से लोहे, कोबाल्ट या निकिल से बनी वस्तुओं को अपनी ओर खींचती है। वास्तव में यह मजेदार खेल है।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 13 चुंबकों द्वारा मनोरंजन

दीर्घ उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
मान लीजिए आप मेग्नस की भाँति मेग्नस छड़ी बनाकर भ्रमण पर निकले हैं। चुम्बक द्वारा आकर्षित होने वाली वस्तुओं की सूची बनाइए। (क्रियाकलाप)
उत्तर:
सारणी : चुम्बक द्वारा आकर्षित होने वाली वस्तुओं का पता लगाना

वस्तु का नाम पदार्थ जिसकी वस्तु बनी है (कपड़ा/प्लास्टिक/एल्युमिनियम/ लकड़ी/काँच/लोहा/ अन्य कोई) मैग्नस छड़ी/चुम्बक द्वारा आकर्षित (हाँ/नही)
1. लोहे की गेंद लोहा हाँ
2. स्केल प्लास्टिक नहीं
3. जूता चमड़ा नहीं
4. कील लोहा हाँ
5. चाकू लोहा हाँ
6. कुर्सी लकड़ी नहीं
7. चॉक चॉक नहीं
8. डस्टर लकड़ी नहीं
9. केंची लोहा हाँ
10. मृर्ति निकिल हाँ

प्रश्न 2.
“स्वतन्त्रतापूर्वक लटका चुम्बक सदैव एक ही दिशा में आकर रुकता है।” एक क्रियाकलाप द्वारा समझाइए।
उत्तर:
क्रियाकलाप:
एक छड़ चुम्बक लेते हैं। इसके एक सिरे पर पहचान के लिए एक चिन्ह बना देते हैं। अब एक धागे को चुम्बक के मध्य बिन्दु से बाँधते हैं जिससे कि इसे एक लकड़ी के स्टैण्ड पर चित्रानुसार लटकाया जा सके। यह सुनिश्चित कर लेना चाहिए कि चुम्बक प्रत्येक दिशा में स्वतन्त्रतापूर्वक घूम सके। इसे विराम अवस्था में आने देते हैं।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 13 चुंबकों द्वारा मनोरंजन -7
चुम्बक की विराम अवस्था में इसके दोनों सिरों की स्थिति दर्शाने के लिए धरती पर दो बिन्दु चिन्हित कीजिए। इन बिन्दुओं को एक रेखा से मिलाइए। यह रेखा उस दिशा को दर्शाती है, जिस दिशा में चुम्बक अपनी विरामावस्था की स्थिति में आकर रुकता है। अब चुम्बक के एक सिरे को आराम से धक्का देकर घुमाइए तथा इसे विरामावस्था में आने दीजिए। विरामावस्था में इसके सिरों की स्थिति को दोबारा चिन्हित कीजिए। हम देखते हैं कि चुम्बक पुन: अपनी पहली स्थिति में आकर ही रुकता है। चुम्बक को एक दूसरी दिशा में घुमाइए तथा इसके विराम में आने की दिशा नोट कीजिए।

चुम्बक पुनः अपनी पुरानी स्थिति में आकर रुकता है। इससे स्पष्ट है कि स्वतंत्रतापूर्वक लटका चुम्बक सदैव एक ही दिशा में आकर रुकता है।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 13 चुंबकों द्वारा मनोरंजन

प्रश्न 3.
क्या चुम्बक के असमान धुव आकर्षित होते हैं और समान धुव प्रतिकर्षित होते हैं। इसे समझाने के लिए एक खेल-खेल में क्रियाकलाप कीजिए।
उत्तर:
क्रियाकलाप दो छोटी खिलौना कारें लीजिए तथा उन पर A एवं B अंकित कीजिए। प्रत्येक कार के ऊपर लम्बाई के अनुदिश रबड़ बैण्ड से एक चुम्बक लगाइए। कार A में चुम्बक का उत्तरी ध्रुव अग्रभाग की ओर रखिए। कार B में चुम्बक विपरीत दिशा में रखिए। अब दोनों कारों को एक-दूसरे के समीप रखिए। आकर्षण एवं प्रतिकर्षण के प्रेक्षण निम्न तालिका में प्रस्तुत हैं।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 13 चुंबकों द्वारा मनोरंजन -8

तालिका

कारों की स्थिति कारें कैसे चलती हैं? एक-दूसरे की ओर/एक-दूसरे से दूर/बिल्कुल नहीं
1. कार A का अग्र भाग कार B के अग्र भाग की ओर एक-दूसरे से दूर
2. कार A क पश्च भाग कार B के अग्र भाग की ओर एक-दूसरे की ओर
3. कार A को कार B के पीछे रखने पर एक-दूसरे की ओर
4 कार B का पश्च भाग कार A के पश्च भाग की ओर एक-दूसरे से दूर

चुंबकों द्वारा मनोरंजन Class 6 HBSE Notes in Hindi

→ प्राकृतिक चुम्बक प्राचीन यूनान में मेग्नस नामक एक गड़रिये द्वारा खोजा गया।
→ मैग्नेटाइट एक प्राकृतिक चुम्बक है।
→ ऐसे पदार्थ जो लोहे से बनी वस्तुओं को अपनी ओर आकर्षित करते हैं, चुम्बक कहलाते हैं।
→ ऐसे पदार्थ जो चुम्बक की ओर आकर्षित होते हैं, चुम्बकीय पदार्थ कहलाते हैं। जैसे-लोहा, निकिल एवं कोबाल्ट।
→ ऐसे पदार्थ जो चुम्बक की ओर आकर्षित नहीं होते हैं, अनुचुम्बकीय पदार्थ कहलाते हैं।
→ चुम्बक के दो ध्रुव होते हैं-उत्तरी ध्रुव तथा दक्षिणी ध्रुव। स्वतंत्रतापूर्वक लटकाने पर चुम्बक सदैव उत्तर-दक्षिण दिशा में आकर रुकता है।
→ चुम्बक का उपयोग दिशा-निर्धारण के लिए होता है। चुम्बक के उत्तर-दक्षिण में ठहरने के कारण एक युक्ति का विकास किया गया। यह युक्ति कम्पास कहलाती है।
→ कम्पास सामान्यतः कांच के ढक्कन वाली एक छोटी डिब्बी होती है जिसमें एक चुम्बकीय सुई डिब्बी के अन्दर लगी होती है। यह अपने अक्ष पर स्वतंत्रतापूर्वक घूम सकती है। विरामावस्था में सुई का तीर वाला सिरा उत्तर की ओर तथा पिछला भाग दक्षिण की ओर ठहरता है।
→ दो चुम्बकों के असमान ध्रुव एक-दूसरे को आकर्षित करते हैं जबकि समान ध्रुवों में परस्पर प्रतिकर्षण होता है।
→ यदि चुम्बक को गर्म किया जाए व हथौड़े से पीटा जाए या ऊँचाई से गिराया जाए तो वह अपने गुण खो देता है।
→ चुम्बक – जिन पदार्थों में लोहे से बनी वस्तुओं को आकर्षित करने का गुण पाया जाता है, चुम्बक कहलाते हैं।
→ मैग्नेटाइट – एक प्राकृतिक चुम्बक जिसमें लोहा होता है।
→ उत्तरी ध्रुव – चुम्बक का उत्तर दिशा की ओर निर्देशित होने वाला सिरा उत्तरी ध्रुव कहलाता है।
→ दक्षिणी धूव – चुम्बक का दक्षिण दिशा की ओर निर्देशित होने वाला सिरा दक्षिणी ध्रुव कहलाता है।
→ कम्पास (द्विक्सूचक) – यह एक उपकरण है जो दिशा का निर्धारण करता है। इसमें लगी सुई सदैव उत्तर-दक्षिण दिशा में ठहरती है।

HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 12 विद्युत तथा परिपथ

Haryana State Board HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 12 विद्युत तथा परिपथ Textbook Exercise Questions and Answers.

Haryana Board 6th Class Science Solutions Chapter 12 विद्युत तथा परिपथ

HBSE 6th Class Science विद्युत तथा परिपथ InText Questions and Answers

बूझो/पहेली

प्रश्न 1.
पहेली के पास बल्ब तथा सेल जोड़ने की दूसरी व्यवस्था है। क्या इस व्यवस्था में बल्ब जलेगा?
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 12 विद्युत तथा परिपथ -1
उत्तर:
नहीं, बल्ब फ्यूज होगा तो नहीं जलेगा क्योंकि फ्यूज बल्ब के तन्तु से विद्युत धारा प्रवाहित नहीं होगी।

प्रश्न 2.
बूझो ने चित्र (A) के अनुसार टॉर्च के आन्तरिक आरेख को चित्रित किया है। जब हम स्विच को ऑन करते हैं तो परिपथ पूरा होता है तथा बल्ब दीप्तमान होता है। क्या आप चित्र में बिन्दुकित विद्युत् गेला रेखा खींचकर पूरे परिपथ को इंगित कर सकते हैं?
उत्तर:
बिंदु कित रेखा से परिपथ इंगित है।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 12 विद्युत तथा परिपथ -2
चित्र (A): टॉर्च का आन्तरिक आरेख

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 12 विद्युत तथा परिपथ

HBSE 6th Class Science विद्युत तथा परिपथ Textbook Questions and Answers

प्रश्न 1.
रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए
(क) एक युक्ति जो परिपथ को तोड़ने के लिए उपयोग की जाती है, …………. कहलाती है।
(ख) एक विद्युत-सेल में ………… टर्मिनल होते हैं।
उत्तर:
(क) स्विच
(ख) दो।

प्रश्न 2.
निम्नलिखित कथनों पर ‘सही’ या ‘गलत’ का चिन्ह लगाइए
(क) विद्युत-धारा धातुओं से होकर प्रवाहित हो सकती
(ख) विद्युत-परिपथ बनाने के लिए धातु के तारों के स्थान पर जूट की डोरी प्रयुक्त की जा सकती है।
(ग) विद्युत-धारा थर्मोकोल की शीट से होकर प्रवाहित हो सकती है।
उत्तर:
(क) सही
(ख) गलत
(ग) गलत।

प्रश्न 3.
व्याख्या कीजिए कि निम्न चित्र में दर्शाई गई व्यवस्था में बल्ब क्यों नहीं दीप्तिमान होता है?
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 12 विद्युत तथा परिपथ -3
उत्तर:
बल्ब इसलिए दीप्तिमान नहीं होता क्योंकि बीच में एक विद्युत रोधक उपस्थित है। (पेंचकस का प्लास्टिक का बना हत्था) जिससे परिपथ पूरा नहीं होता।

प्रश्न 4.
निम्न चित्र (A) में दर्शाए गये आरेख को पूरा कीजिए और बताइए कि बल्ब को दीप्तिमान करने के लिए तारों के स्वतन्त्र सिरों को किस प्रकार जोड़ना चाहिए?
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 12 विद्युत तथा परिपथ -4
उत्तर:
स्विच के एक स्वतन्त्र तार को बल्ब की नोंक से तथा एक स्वतंत्र तार को सेल की टोपी से जोड़ना चाहिए।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 12 विद्युत तथा परिपथ -5

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 12 विद्युत तथा परिपथ

प्रश्न 5.
विद्युत-स्विच को उपयोग करने का क्या प्रयोजन है? कुछ विद्युत-साधित्रों के नाम बताइए जिनमें स्विच उनके अन्दर ही निर्मित होते हैं।
उत्तर:

  1. विद्युत स्विच एक सरल युक्ति है जो विद्युत धारा के प्रवाह को रोकने या प्रारम्भ करने के लिए परिपथ को तोड़ता अथवा पूरा करता है।
  2. कुछ विद्युत साधित्र जिनके स्विच उनके अन्दर ही निर्मित होते हैं-माइक्रोवेव ऑवेन, स्वचालित लौह इस्तरी, पेटीज मेकर, टोस्टर, फ्रिज आदि।

प्रश्न 6.
चित्र (A) में सुरक्षा पिन की जगह यदि रबड़ लगा दें तो क्या बल्ब दीप्तिमान होगा?
उत्तर:
नहीं, क्योंकि रबड़ एक विद्युत रोधक वस्तु है।

प्रश्न 7.
क्या चित्र (B) में दिखाए गये परिपथ में बल्ब दीप्तिमान होगा?
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 12 विद्युत तथा परिपथ -6
चित्र (B)
उत्तर:
नहीं क्योंकि परिपथ पूरा नहीं है।

प्रश्न 8.
किसी वस्तु के साथ ‘चालक-परीक्षित्र’ का उपयोग करके यह देखा गया कि बल्ब दीप्तिमान होता है। क्या इस वस्तु का पदार्थ विद्युत-चालक है या विद्युतरोधक? व्याख्या कीजिए।
उत्तर:
वस्तु का पदार्थ विद्यत चालक है क्योंकि विद्युत रा केवल विद्युत-चालक में से प्रवाहित हो सकती है न कि विद्युत रोधक पदार्थ से। बल्ब तभी दीप्तमान होगा जब वह पदार्थ विद्युत चालक हो।

प्रश्न 9.
आपके घर में स्विच की मरम्मत करते समय विद्युत मिस्त्री रबड़ के दस्ताने क्यों पहनता है?
उत्तर:
विद्युत मिस्त्री रबड़ के दस्ताने इसलिए पहनते हैं क्योंकि रबड़ विद्युत रोधक होता है। ये मिस्त्री को विद्युत को छूने पर लगने वाले झटके से बचाते हैं।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 12 विद्युत तथा परिपथ

प्रश्न 10.
विद्युत मिस्त्री द्वारा उपयोग किये जाने वाले औजार, जैसे-पेचकस और प्लायर्स के हत्थों पर प्रायः प्लास्टिक या रबड़ के आवरण चढ़े होते हैं। क्या आप इसका कारण समझा सकते हैं ?
उत्तर:
रबड़ तथा प्लास्टिक दोनों ही विद्युत रोधक पदार्थ हैं। ये विद्युत झटकों से पकड़ने वाले को बचाते हैं। इसलिए पेचकस और प्लायर्स के हत्थों पर प्रायः प्लास्टिक या रबड़ के आवरण चढ़े होते हैं।

HBSE 6th Class Science जल Important Questions and Answers

वस्तुनिष्ठ प्रश्न

I. बहुविकल्पी प्रश्न : निम्नलिखित प्रश्नों में सही विकल्प का चयन कीजिए

1. विद्युत सेल का उपयोग किया जा सकता है-
(क) टार्च में
(ख) अलार्म घड़ी में
(ग) रेडियो में
(घ) इन सभी से
उत्तर:
(घ) इन सभी से

2. विद्युत सेल में संचित किए जाते हैं
(क) रासायनिक पदार्थ
(ख) जैविक पदार्थ
(ग) धातुएँ
(घ) सक्रियक
उत्तर:
(क) रासायनिक पदार्थ

3. विद्युत बल्ब में चमकने वाली महीन स्प्रिंग जैसी रचना कहलाती है
(क) तंतु
(ख) टर्मिनल
(ग) टोपी
(घ) धातु
उत्तर:
(क) तंतु

4. विद्युत परिपथ में धारा की दिशा होती है
(क) ऋण टर्मिनल से धन टर्मिनल की ओर
(ख) धन टर्मिनल से ऋण टर्मिनल की ओर
(ग) कभी धन टर्मिनल की ओर कभी ऋण टर्मिनल की ओर
(घ) इनमें से कोई नहीं
उत्तर:
(ख) धन टर्मिनल से ऋण टर्मिनल की ओर

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 12 विद्युत तथा परिपथ

II. रिक्त स्थान : निम्नलिखित वाक्यों में रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए

1. …………………. विद्युत का स्रोत है।
2. …………………. प्रवाहित होने पर विद्युत बल्ब दीप्त होने लगता
3. हम …………………. का उपयोग कुँए से प्राप्त द्वारा जल को बाहर निकालने में करते हैं।
4. थर्मोकोल एक …………………. है।
उत्तर:
1. विद्युत सेल
2. विद्युत धारा
3. विद्युत
4. विद्युत रोधक

III. सुमेलन : कॉलम ‘A’ के शब्दों का मिलान कॉलम ‘B’ के शब्दों से कीजिए-

कॉलम ‘A’ कॉलम ‘B’
1. विद्युत चालक (a) रासायनिक पदार्थों से विद्युत उत्पन्न करता है।
2. विद्युत रोधक (b) यह सेल के अन्दर ‘उत्पन्न होती है।
3. विद्युत सेल (c) थर्मोकोल और वायु
4. बल्ब (d) हमारा शरीर
5. विद्युत धारा (e) विद्युत प्रवाहित करने पर यह प्रकाश उत्पन्न करता है।

उत्तर:

कॉलम ‘A’ कॉलम ‘B’
1. विद्युत चालक (d) हमारा शरीर
2. विद्युत रोधक (c) थर्मोकोल और वायु
3. विद्युत सेल (a) रासायनिक पदार्थों से विद्युत उत्पन्न करता है।
4. बल्ब (e) विद्युत प्रवाहित करने पर यह प्रकाश उत्पन्न करता है।
5. विद्युत धारा (b) यह सेल के अन्दर ‘उत्पन्न होती है।

IV. सत्य/असत्य : निम्नलिखित वाक्यों में सत्य एवं असत्य कथन छटिए

(i) विद्युत सेल में धातु की टोपी (+) सिरा तथा धातु की डिस्क (-) सिरा कहलाती हैं।
(ii) विद्युत बल्ब में भी दो टर्मिनल होते हैं।
(iii) कोई बल्ब तभी दीप्त होता है जब परिपथ में विद्युत धारा प्रवाहित होती हैं।
(iv)बल्ब में तंतु का खंडित होना बल्ब का फ्यूज होना कहलाता
उत्तर:
1. सत्य
2. सत्य,
3. सत्य
4. सत्य।

अति लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
विद्युत सेल में कितने टर्मिनल होते हैं?
उत्तर:
दो टर्मिनल धन (+) तथा ऋण (-) होते हैं।

प्रश्न 2.
विद्युत सेल के दोनों टर्मिनलों के तारों को आपस में क्यों नहीं मिलाना चाहिए?
उत्तर:
दोनों टर्मिनलों के तारों को मिलाने से उसके रासायनिक पदार्थ खत्म हो जाते हैं।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 12 विद्युत तथा परिपथ

प्रश्न 3.
विद्युत सेल के दो उपयोग लिखिए।
उत्तर:

  1. टॉर्च में प्रकाश उत्पन्न करने के लिए।
  2. सेल घड़ी को चलाने के लिए।

प्रश्न 4.
विद्युत बल्ब का चमकने वाला भाग क्या कहलाता है?
उत्तर:
तन्तु या फिलामेंट।

प्रश्न 5.
विद्युत तार पर रबड़ या प्लास्टिक का आवरण क्यों चढ़ा रहता हैं? (क्रियाकलाप)
उत्तर:
अनावरित दोनों तारों के सम्पर्क में आने पर परिपथ भंग हो जाने से बचाने के लिए। इसके अतिरिक्त अधिक वोल्टेज वाले नग्न तार को छू जाने पर विद्युत आघात लगता है।

प्रश्न 6.
विद्युत बल्ब के दो टर्मिनलों को विद्युत सेल के दोनों टर्मिनलों से किस प्रकार जोड़ा जाता है? (क्रियाकलाप)
उत्तर:
विद्युत बल्ब का धन टर्मिनल सेल के धन टर्मिनल सेल से तथा बल्ब का ऋण टर्मिनल सेल के ऋण टर्मिनल से।

प्रश्न 7.
परिपथ में धारा किस प्रकार प्रवाहित होने लगती है? (क्रियाकलाप)
उत्तर:
जब विद्युत बल्ब के दोनों टर्मिनलों को विद्युत सेल के दोनों टर्मिनलों से सही क्रम में और भली प्रकार जोड़ा जाता है।

प्रश्न 8.
विद्युत चालक क्या है?
उत्तर:
वह पदार्थ जिससे विद्युत धारा प्रवाहित हो जाती है, विद्युत चालक कहलाता है।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 12 विद्युत तथा परिपथ

प्रश्न 9.
विद्युत सेल में विद्युत कहाँ से आती है?
उत्तर:
विद्युत सेल में उपस्थित रासायनिक पदार्थ से विद्युत बनती है।

प्रश्न 10.
हमारा शरीर विद्युत का सुचालक है अथवा कुचालक ?
उत्तर:
सुचालक है।

प्रश्न 11.
निम्नलिखित में से विद्युत चालक पदार्थ छाँटिए. प्लास्टिक का पेन, स्टीलकी चम्मच, कागज, लकड़ी, लोहे का चिमटा।
उत्तर:
विद्युत चालक- स्टील की चम्मच, लोहे का चिमटा।

लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
टार्च के बल्ब का आरेख बनाइए। इसमें दो टर्मिनल क्यों होते हैं? (क्रियाकलाप)
उत्तर:
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 12 विद्युत तथा परिपथ -7
क्रियाशील परिपथ तैयार करने के लिए बल्ब के दोनों टर्मिनलों को सेल के दोनों टर्मिनलों से जोड़ा जाता है।

प्रश्न 2.
निम्न चित्रों में विद्युत सेल तथा विद्युत बल्ब को जोड़ने की विभिन्न व्यवस्थाएँ दर्शायी गई हैं। कौन-सी व्यवस्थाओं में बल्य दीप्त हैं और क्यों? (क्रियाकलाप)
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 12 विद्युत तथा परिपथ -8
उत्तर:
उपरोक्त व्यवस्था में बल्ब a तथा f दीप्त है। अन्य बल्ब दीप्त नहीं होते हैं। दीप्त बल्बों के टर्मिनल सेल के टर्मिनलों से सही ढंग से जोड़े गये हैं।
व्यवस्था b तथा c में परिपथ पूर्ण नहीं है। व्यवस्था व तथा C में बल्ब के दोनों टर्मिनलों को सेल के एक ही टर्मिनल से जोड़ा गया है। इसलिए ये बल्ब दीप्त नहीं होते हैं।

प्रश्न 3.
घर में आप एक विद्युत बल्ब, एक तार एवं एक सेल से टॉर्च किस प्रकार तैयार करेंगे?(क्रियाकलाप)
उत्तर:
एक टॉर्च बल्ब तथा तार का एक टुकड़ा लीजिए। पहले की तरह तार के दोनों सिरों से प्लास्टिक आवरण हटाइए। चित्र में दर्शाए अनुसार तार के एक सिरे को बल्ब के धातु के ढाँचे के चारों ओर लपेटिए। तार के दूसरे सिरे को रबड़ बैंड की सहायता से विद्युत सेल के ऋणात्मक टर्मिनल से जोड़िए। अब बल्ब के आधार की नोंक अर्थात इसके टर्मिनल को विद्युत सेल के धनात्मक टर्मिनल पर रखिए।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 12 विद्युत तथा परिपथ -9

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 12 विद्युत तथा परिपथ

प्रश्न 4.
आपके द्वारा तैयार किये गये एक स्विच का चित्र बनाकर उसके दो कार्य लिखिए।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 12 विद्युत तथा परिपथ -10
उत्तर:

  • यह विद्युत धारा को परिपथ में प्रवाहित होने देता है।
  • यह परिपथ में विद्युत धारा के प्रवाह को रोकता है।

प्रश्न 5.
स्विच सहित विद्युत परिपथ का चित्र बनाइए (क्रियाकलाप)
उत्तर:
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 12 विद्युत तथा परिपथ -11

प्रश्न 6.
निम्नलिखित के दो-दो उदाहरण लिखिए
(i) विद्युत-सुचालक
(ii) विद्युत रोधक।
उत्तर:
(i) विद्युत-सुचालक ताँबा, एल्युमिनियम।
(ii) विद्युत रोधक-प्लास्टिक, रबड़।

प्रश्न 7.
विद्युत धारा का प्रयोग करते समय क्या सावधानियाँ रखनी चाहिए ?
उत्तर:

  1. विद्युत परिपथ के खुले तारों को कदापि नहीं छूना चाहिए।
  2. विद्युत परिपथ की मरम्मत सदैव प्लास्टिक के हत्थे लगे औजारों से ही करनी चाहिए।
  3. सदैव रबड़ के दस्ताने पहनने चाहिए।
  4. सुरक्षा टेप का प्रयोग करना चाहिए।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 12 विद्युत तथा परिपथ

दीर्घ उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
विद्युत सेल का चित्र बनाकर वर्णन कीजिए।
उत्तर:
विद्युत सेल: विद्युत सेल एक ऐसी युक्ति है जो – इसमें संचित रासायनिक ऊर्जा को विद्युत कर्जा में बदलती है। यह धातु की बनी बेलनाकार रचना है। इसमें ऊपर की ओर ६ पातु की टोपी तथा दूसरी ओर धातु की डिस्क (चक्रिका) होती है। धातु की टोपी को सेल का धन (+) टर्मिनल तथा चक्रिका को सेल का ऋण (-) टर्मिनल कहते हैं।

विद्युत सेल के अन्दर रासायनिक पदार्थ भरे होते हैं। इन्हीं पदार्थों से विद्युत ऊर्जा उत्पन्न होती है।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 12 विद्युत तथा परिपथ -12
विद्युत सेल का उपयोग टॉर्च, अलार्म घड़ी, रेडियो, कैमरा, खिलौनों आदि में किया जाता है।

प्रश्न 2.
विद्युत सेल तथा विद्युत बल्ब में टर्मिनलों को कैसे जोड़ा जाता है? चित्र सहित समझाइए। (क्रियाकलाप)
उत्तर:
विभिन्न रंगों के प्लास्टिक का आवरण चढ़े विद्युत तार के चार टुकड़े लीजिए। प्रत्येक तार के टुकड़ों के दोनों सिरों से प्लास्टिक आवरण को हटा दीजिए। इस प्रकार दोनों सिरों पर धातु का तार अनावरित हो जाता। दोनों तारों के अनावरित भागों को विद्युत-सेल तथा दूसरे दो तारों को बल्ब से (चित्रानुसार) जोड़ दीजिए।
बल्ब के साथ तारों को जोड़ने के लिए आप विद्युत रोधी टेप (बिजली मिस्त्रियों द्वारा उपयोग की जाने वाली) और सेल के लिए रबड़ बैंड या टेप का उपयोग कर सकते हैं।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 12 विद्युत तथा परिपथ -13

प्रश्न 3.
किसी परिपथ में विद्युत धारा के प्रवाह को प्रदर्शित कीजिए।
उत्तर-किसी विद्युत परिपथ में चित्रानुसार, विद्युत धारा की दिशा विद्युत सेल के धन (+) टर्मिनल से ऋण (-) टर्मिनल की ओर होती है। जब बल्ब के टर्मिनलों को तार के द्वारा विद्युत सेल के टॉमनलो से जोड़ा जाता ह तो बल्बक वन्तु स होकर विद्युत धारा प्रवाहित होती है। यह बल्ब को दीप्तमान करती है।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 12 विद्युत तथा परिपथ -14

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 12 विद्युत तथा परिपथ

प्रश्न 4. आपको विभिन्न वस्तुएँ जैसे चाबी, माचिस की तीली, लोहे की कील इत्यादि दी गई है। साथ ही टॉर्च का एक बल्ब, एक सेल और तार दिया गया है। आप किस प्रकार इन वस्तुओं की चालकता ज्ञात करेंगे। विद्युत चालक एवं विद्युत रोधक वस्तुओं को छाँटिए। (क्रियाकलाप)
उत्तर:
चित्रानुसार परिपथ में उस वस्तु को चाबी के स्थान पर बारी-बारी से लगाने पर उनकी चालकता की जाँच कर सकते हैं।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 12 विद्युत तथा परिपथ -15
जाँच करने के लिए विभिन्न प्रकार के पदार्थों जैसे- सिक्के, कार्क, रबड़, काँच, चाबियाँ, पिन, प्लास्टिक का स्केल, लकड़ी का गुटका, एल्युमिनियम की पत्ती, मोमबत्ती, सिलाई मशीन की सुई, थर्मोकोल, कागज तथा पेंसिल की लीड आदि एकत्रित कीजिए। चालक-परीक्षित्र के तारों के स्वतन्त्र छोरों को प्रत्येक नमूने से बारी-बारी से स्पर्श करें। ध्यान रखिए कि दोनों तार एक-दूसरे को स्पर्श न करें।

सारणी : विद्युत चालक एवं विद्युत रोधक

स्विच के स्थान पर उपयोग की गई वस्तु पद्रर्थ जिसका घह बना है अलुज्ज जलता है या नहीं, हाँ/नहीं
1. चाबी धातु हाँ
2. रबड (इरेजर) रबड़ नहीं
3. स्केल प्लास्टिक नहीं
4. माचिस की तीली लकड़ी नहीं
5. काँच की चूड़ी काँच नहीं
6. लोहे की कील लोहा हाँ

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 12 विद्युत तथा परिपथ

विद्युत तथा परिपथ Class 6 HBSE Notes in Hindi

→ हम विद्युत का प्रयोग अपने अनेक कार्यों को आसान करने के लिए करते है।
→ विद्युत से अनेक घरेलू यंत्रों को चलाया जाता है। विद्युत का प्रयोग प्रकाश तथा गर्मी उत्पन्न करने के लिए किया जाता है।
→ विद्युत सेल विद्युत का स्रोत है। विद्युत सेल का उपयोग रेडियो, टॉर्च, कैमरा, घड़ी, अलार्म, खिलौनों आदि में किया जाता है।
→ विद्युत सेल में दो टर्मिनल होते हैं- एक धन टर्मिनल (+) तथा एक ऋण टर्मिनल (-)।
→ विद्युत सेल में भरे गए रासायनिक पदार्थों से सेल विद्युत उत्पन्न करता है।
→ विद्युत बल्ब सेल की रासायनिक ऊर्जा को प्रकाश ऊर्जा में बदलता है।
→ विद्युत बल्ब में एक फिलामेंट होता है जो इसके टर्मिनलों से जुड़ा होता है।
→ बल्य केवल तभी दीप्त होता है जब परिपथ में विद्युत धारा प्रवाहित होती है।
→ स्विच एक सरल युक्ति है जो परिपथ को जोड़ या काट सकती है। घरों में स्विच का उपयोग बल्ब को दीप्तमान करने तथा अन्य युक्तियों को चलाने के लिए किया जाता है।
→ ऐसे पदार्थ जो विद्युत धारा का प्रवाह होने देते हैं, विद्युत के सुचालक कहलाते हैं।
→ ऐसे पदार्थ जो विद्युत धारा का प्रवाह नहीं होने देते हैं, विद्युत अवरोधक या कुचालक कहलाते हैं।
→ विद्युत चालक तथा विद्युत रोधक हमारे लिए समान रूप से महत्वपूर्ण है। स्विच, विद्युत प्लग, सॉकेट सुचालक पदाथों से बनाए जाते हैं तथा इनके कवर कुचालक पदार्थों से बनाए जाते हैं।
→ बल्य – एक गोलाकार काँच का बना खोखला गोला “जिसमें फिलामेण्ट लगा होता है और इसमें विद्युत प्रवाहित करने पर प्रकाश उत्पन्न करता है।
→ विद्युत – सेल यह एक युक्ति है जिससे रासायनिक पदार्थ से विद्युत प्राप्त होती है।
→ टर्मिनल – सेल या किसी अन्य विद्युत युक्ति के दो स्वतंत्र छोर टर्मिनल कहलाते हैं। इन्हें धन (+) तथा ऋण (-) टर्मिनल कहते हैं।
→ तन्तु – विद्युत बल्ब के अन्दर लगी तार की पतली स्प्रिंग जो विद्युत प्रवाहित करने पर चमकती है, तन्तु या फिलामेंट कहलाती है।
→ विद्युत-परिपथ – विद्युत परिपथ, विद्युत सेल के दोनों टर्मिनलों से लेकर विद्युत ऊर्जा खपत युक्ति तक के सम्पर्क को बताने वाला पथ है।
→ स्विच – यह एक सरल युक्ति है जो विद्युत धारा के प्रवाह को रोकने या प्रारम्भ करने के लिए परिपथ को जोड़ता है अथवा काटता है।
→ विद्युत-चालक – ऐसे पदार्थ जिनसे होकर विद्युत धारा प्रवाहित हो जाती है, विद्युत चालक कहलाते हैं।
→ विद्युत-रोधक – ऐसे पदार्थ जिनसे होकर विद्युत धारा प्रवाहित नहीं हो सकती, विद्युत रोधक कहलाते हैं।

HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 11 प्रकाश: छायाएँ एवं परावर्तन

Haryana State Board HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 11 प्रकाश: छायाएँ एवं परावर्तन Textbook Exercise Questions and Answers.

Haryana Board 6th Class Science Solutions Chapter 11 प्रकाश: छायाएँ एवं परावर्तन

HBSE 6th Class Science प्रकाश: छायाएँ एवं परावर्तन Textbook Questions and Answers

प्रश्न 1.
नीचे दिये गये बॉक्सों के अक्षरों को पुनर्व्यवस्थित करके एक ऐसा वाक्य बनाइए जिससे हमें अपारदर्शी वस्तुओं के बारे में जानकारी मिलने में सहायता हो सके।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 11 प्रकाश छायाएँ एवं परावर्तन -1
उत्तर:
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 11 प्रकाश छायाएँ एवं परावर्तन -2

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 11 प्रकाश: छायाएँ एवं परावर्तन

प्रश्न 2.
दी गई वस्तुओं अथवा पदार्थों को अपारदर्शी, पारदर्शी अथवा पारभासी तथा दीप्त अथवा अदीप्त में वर्गीकृत कीजिए-
वायु, जल, चट्टान का टुकड़ा, एल्युमिनियम शीट, दर्पण, लकड़ी का तख्ता, पॉलिथीन शीट, CD, भुआँ, समतल कांच की शीट, कुहरा, लाल तप्त लोहे का टुकड़ा, छाता, प्रकाशमान प्रतिदीप्त नलिका, दीवार, कार्बन पेपर की शीट, गैस बर्नर की ज्वाला, गत्ते की शीट, प्रकाशमान टॉर्च, सेलोफेन शीट, तार की जाली, मिट्टी के तेल का स्टोव, सूर्य, जुगनू, चन्द्रमा।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 11 प्रकाश छायाएँ एवं परावर्तन -3

प्रश्न 3.
क्या आप ऐसी आकृति बनाने के बारे में सोच सकते हैं जो एक ढंग से रखे जाने पर वृत्ताकार छाया बनाए तथा दूसरे ढंग से रखे जाने पर आयताकार छाया बनाए ?
उत्तर:
हाँ, यह बॉल में या ग्लोब में हो सकता है।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 11 प्रकाश: छायाएँ एवं परावर्तन

प्रश्न 4.
किसी अंधेरे कमरे में यदि आप अपने चेहरे के सामने कोई दर्पण रखें तो क्या आप दर्पण में अपना परावर्तन देख सकेंगे?
उत्तर:
अंधेरे कमरे में दर्पण में कोई चित्र दिखाई नहीं देता क्योंकि बिना प्रकाश के दर्पण कोई चित्र परावर्तित नहीं कर सकता।

अतिरिक्त प्रश्नोत्तर

वस्तुनिष्ठ प्रश्न

I. बहुविकल्पी प्रश्न : निम्नलिखित प्रश्नों में सही विकल्प

1. जो वस्तुएँ स्वयं के प्रकाश का उत्सर्जन करती हैं, कहलाती हैं
(क) दीप्त
(ख) जलता बल्ब
(ग) अदीप्त
(घ) स्फूदीप्त
उत्तर:
(क) दीप्त

2. निम्न में से दीप्त नहीं है
(क) सूर्य
(ख) जलता बल्ब
(ग) चन्द्रमा
(घ) तारा
उत्तर:
(ग) चन्द्रमा

3. प्रकाश गमन करता है-
(क) टेढ़ी-मेढ़ी रेखा में
(ख) सीधी रेखा में
(ग) वक्राकार पथ पर
(घ) वर्तुल पथ पर
उत्तर:
(ख) सीधी रेखा में

4. किसकी छाया नहीं बनेगी?
(क) पौधे की
(ख) उड़ते पक्षी की
(ग) काँच के पारदर्शी पिण्ड की
(घ) पंख की
उत्तर:
(ग) काँच के पारदर्शी पिण्ड की

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 11 प्रकाश: छायाएँ एवं परावर्तन

II. रिक्त स्थान : निम्नलिखित वाक्यों में रिक्त स्थान की पूर्ति कीजिए

1. ……………..सरल रेखा में गति करता है।
2. ……….वस्तुओं को देखने में हमारी सहायता करता है।
3. जब प्रकाश के पथ में कोई ……….वस्तु आ जाती है तो छाया बनती है।
4. सूर्य, बल्ब तथा जुगनू ……………. वस्तुएँ हैं।
उत्तर:
1. प्रकाश
2. प्रकाश
3. अपारदर्शी
4. दीप्त।

III. सुमेलन : कॉलम ‘A’ के शब्दों का मिलान कॉलम ‘B’ के शब्दों से कीजिए-

कॉलम ‘A’ कॉलम ‘B’
1. दीप्त (i) कागज की पतली शीट
2. अदीप्त (ii) काँच की प्लेट
3. पारदर्शी (iii) सूर्य
4. पारभासी (iv) पृथ्वी

उत्तर:

कॉलम ‘A’ कॉलम ‘B’
1. दीप्त (iii) सूर्य
2. अदीप्त (iv) पृथ्वी
3. पारदर्शी (ii) काँच की प्लेट
4. पारभासी (i) कागज की पतली शीट

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 11 प्रकाश: छायाएँ एवं परावर्तन

IV. सत्य/असत्य : निम्नलिखित वाक्यों में से सत्य एवं असत्य कथन छोटिए

(i) पॉलिथिन शीट एक पारभासी वस्तु है।
(ii) एक रंगीन पुस्तक की छाया रंगीन होगी।
(iii) हम काले काँच की शीट से आर-पार देख सकते हैं।
(iv) दर्पण से प्रकाश का परावर्तन होता है।
उत्तर:
1. सत्य
2. असत्य
3. असत्य
4. सत्य।

अति लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
कुछ वस्तुओं को एक-एक करके जमीन से कुछ ऊँचाई र रखने पर आप जमीन पर क्या देखते हैं? (क्रियाकलाप)
उत्तर:
जमीन पर वस्तु की छाया।

प्रश्न 2.
क्या कुर्सी की छाया बनती है? और कैसी? (क्रियाकलाप)
उत्तर:
हाँ, कुर्सी की छाया बनती है और आधी अधूरी।

प्रश्न 3.
किसी वस्तु की छाया क्यों बनती है?
उत्तर:
अपारदर्शी वस्तु पर प्रकाश पड़ता है तो उसका परावर्तन हो जाता है जिससे प्रकाश उसके पीछे नहीं आता और उसकी छाया बन जाती है।

प्रश्न 4.
दर्शिता के आधार पर वस्तुएँ कितने प्रकार की होती हैं?
उत्तर:
तीन प्रकार की- अपारदर्शी, पारदर्शी, पारभासी।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 11 प्रकाश: छायाएँ एवं परावर्तन

प्रश्न 5.
पारभासी वस्तुएँ किसे कहते हैं?
उत्तर;
कुछ वस्तुओं से आर-पार तो देख सकते हैं परन्तु स्पष्ट नहीं, ऐसी वस्तुएँ पारभासी वस्तुएँ कहलाती हैं।

प्रश्न 6.
पारदशी वस्तुओं के दो उदाहरण लिखिए।
उत्तर:
(i) रंगहीन काँच
(ii) स्वच्छ पानी।

प्रश्न 7.
टॉर्च का बल्ब जो स्वयं प्रकाश उत्पन्न करता है, इसे किस प्रकार की वस्तु मानेंगे?
उत्तर:
दीप्त वस्तु।

प्रश्न 8.
हमें कोई वस्तु कैसे दिखाई देती है?
उत्तर:
जब किसी वस्तु पर प्रकाश पड़ता है, तो उससे प्रकाश परावर्तित होकर हमारी आँखों तक आता है। जिससे वस्तुएँ दिखाई देती हैं।

प्रश्न 9.
आप सीधे पाइप से जलती मोमबत्ती को देखिए, क्या मोमबत्ती दिखाई देती है? (क्रियाकलाप)
उत्तर:
हाँ, मोमबत्ती दिखाई देती है।

प्रश्न 10.
जब आप मोमबत्ती को देख रहे हों तब पाइप को थोड़ा-सा मोड़िए। क्या अब मोमबत्ती दिखाई देती है? (क्रियाकलाप)
उत्तर:
अब मोमबत्ती दिखाई नहीं देती है।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 11 प्रकाश: छायाएँ एवं परावर्तन

प्रश्न 11.
पाइप को अपने दाई या बाई ओर घुमाइए। क्या अब आपको मोमबत्ती दिखाई देती है? आप इससे क्या निष्कर्ष निकालते हैं? (क्रियाकलाप)
उत्तर:
पाइप को घुमाने पर भी मोमबत्ती दिखाई नहीं देती है। इससे निष्कर्ष निकलता है कि प्रकाश सीधी रेखा में चलता है।

प्रश्न 12.
प्रकाश पथ कैसा होता है?
उत्तर:
प्रकाश पथ सरल रेखीय होता है।

प्रश्न 13.
चन्द्रमा रात को चमकता है। यह दीप्त है या अदीप्त, क्यों?
उत्तर:
चन्द्रमा सूर्य के प्रकाश के कारण चमकता है अत: यह अदीप्त है।

लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
पारदर्शी, पारभासी तथा अपारदर्शी वस्तुओं के दो-दो उदाहरण लिखिए। (क्रियाकलाप)
उत्तर:
पारदशी-स्वच्छ जल, रंगहीन पॉलीथीन पारभाषी-लिखने वाली पेपर शीट, दानेदार सीसा। अपारदशी-प्लाई बोर्ड, गत्ता।

प्रश्न 2.
निम्नलिखित के नाम लिखिए
(क) वे वस्तुएँ जिनके आर-पार देखा जा सकता है।
(ख) वे वस्तुएँ जो अपना प्रकाश उत्पन्न करती हैं।
(ग) वे वस्तुएँ जो किसी दूसरे के प्रकाश में चमकती हैं।
(घ) दीप्त पिण्डों को देखने वाला यंत्र।
उत्तर;
(क) पारदर्शी
(ख) दीप्त
(ग) अदीप्त
(घ) सूची छिद्र कैमरा।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 11 प्रकाश: छायाएँ एवं परावर्तन

प्रश्न 3.
निम्नलिखित का एक-एक उदाहरण लिखिए
(क) दीप्त वस्तु
(ख) अदीप्त वस्तु
(ग) पारदर्शी वस्तु
(घ) अपारदर्शी वस्तु
उत्तर:
(क) तारा
(ख) पत्थर
(ग) काँच
(घ) ईट।

प्रश्न 4.
अपारदर्शी वस्तुएँ छायाएँ बनाती है, क्या ऐसा नहीं है? अब यदि हम कोई पारदशी वस्तु धूप में लेकर खड़े हो जाएं तो क्या हमें धरती पर उसकी छाया दिखाई देगी, जिससे हमें यह संकेत मिले कि हम हाथ में कुछ पकड़े हुए हैं? (क्रियाकलाप)
उत्तर:
अपारदर्शी वस्तुओं से प्रकाश आर-पार नहीं हो सकता जिस कारण उनकी छाया बनती है। पारदर्शी वस्तुओं से प्रकाश आर-पार हो जाता है जिससे इनकी छाया नहीं बनती है।

प्रश्न 5.
हमने देखा कि अपारदर्शी वस्तुओं के रंगों को बदलने से उनकी छायाओं के रंग में कोई परिवर्तन नहीं होता है। जब हम विभिन्न रंगों के प्रकाश को अपारदशी वस्तुओं पर डालते हैं तब क्या होता है? आप ऐसा टॉर्च के पृष्ठ को पारदशी रंगीन कागज से बैंककर कर सकते हैं। (क्या आपने कभी सूर्यास्त के समय सायंकालीन छायाओं के रंग देखे हैं?) (क्रियाकलाप)
उत्तर:
अपारदर्शी वस्तुओं की छाया पर विभिन्न रंगों के प्रकाश का कोई प्रभाव नहीं पड़ता है। पारदर्शी रंगीन कागज पर प्रकाश डालने पर प्रकाश रंगीन हो जाता है। सूर्यास्त के समय सायंकालीन छायाएँ लाल दिखाई देती हैं।

प्रश्न 6.
प्रकाश के पथ तथा दर्पण से परावर्तन को दर्शाने के लिए एक क्रियाकलाप लिखिए। (क्रियाकलाप)
उत्तर;
क्रियाकलाप एक बड़ी थर्मोकोल की शीट । के एक किनारे पर एक कंघी तथा इसके दूसरे किनारे पर चित्रानुसार एक दर्पण लगाइए। दर्पण तथा कंघी के बीच कागज की गहरी रंगीन शीट बिछाइए। इसे सूर्य के प्रकाश में रखिए अथवा कंघी के सामने टॉर्च से प्रकाश किरणें डालिए।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 11 प्रकाश छायाएँ एवं परावर्तन -4
चित्र : सरल रेखा में चलता हुआ तथा दर्पण से
परावर्तित होता प्रकाश इस क्रियाकलाप से हमें ज्ञात होता है कि प्रकाश सीधी रेखा में गमन करता है तथा दर्पण से इसका परावर्तन भी होता है।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 11 प्रकाश: छायाएँ एवं परावर्तन

दीर्घ उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
अपने चारों ओर देखिए और दैनिक जीवन की जितनी अधिक से अधिक वस्तुएँ एकत्र कर सकते हैं, कीजिए जैसे-बड़, प्लास्टिक स्केल, पेन, पेन्सिल, नोटबुक, कागज की शीट, अनुरेखण कागज अथवा कपड़े का टुकड़ा। इन सभी वस्तुओं के आर-पार किसी दूर रखी ई वस्तु को देखने का प्रयास कीजिए। क्या दूर रखी वस्तु से आने वाला प्रकाश इन वस्तुओं के आर-पार चलकर आपकी आँखों तक पहुँच पाता है? (क्रियाकलाप)
उत्तर:
सारणी:

वस्तु पदार्थ वस्तु के पार देखना सम्भव, पूर्णतः/आंशिक/बिल्कुल नहीं अपारदर्शी/पारदर्शी/पारभासी वस्तु
1. पंसिल बिल्कुल नहीं अपारदशी
2. रबड़ की गैद बिल्कुल नहीं अपारदर्शी
3. लिखने के कागज की शीट पूर्ण साफ नहीं पारभासी
4. कपड़ा आंशिक पारभासी
5. कौँच का टुकड़ा पूर्णत: पारदर्शी
6. पॉलीथीन की शीट आंशिक पारभासी
7. लोटे की चादर बिल्कुल नहीं अपारदर्शी
8. काँच की बोतल पूर्णतः पारदर्शी

प्रश्न 2.
सूची छिद्र कैमरा कैसे बनाया जाता है? इसके उपयोग लिखिए।
उत्तर:
सूची छिद्र कैमरा:
दो ऐसे बॉक्स लीजिए जिनमें से एक बॉक्स दूसरे के भीतर बिना अन्तराल के खिसक सके। दोनों बॉक्सों का एक-एक छोटा फलक काट दीजिए। बड़ा बॉक्स लेकर इसके दूसरे छोटे फलक के बीचों-बीच एक छोटा छिद्र बनाइए। इसी प्रकार छोटे बॉक्स के दूसरे छोटे फलक पर एक वर्गाकार आकृति (जिसकी भुजा लगभग 5 सेमी से 6 सेमी हो) काटिए। इसे कटे भाग पर ट्रेसिंग पेपर (पारभासी परदा) चिपकाकर ढक दीजिए। छोटे बॉक्स को बड़े बॉक्स में इस प्रकार खिसकाइए कि छोटे बॉक्स का पारभासी ट्रेसिंग पेपर वाला परदा बड़े बॉक्स के भीतर हो। आपका सूची छिद्र कैमरा तैयार है।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 11 प्रकाश छायाएँ एवं परावर्तन -5
उपयोग: सूची छिद्र कैमरे की सहायता से सूर्य के प्रकाश में रखी विभिन्न वस्तुओं को देख सकते हैं। इससे सूर्य ग्रहण के समय सूर्य को देखा जा सकता है।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 11 प्रकाश: छायाएँ एवं परावर्तन

प्रश्न 3.
क्रियाकलाप द्वारा बताइए कि दर्पण प्रकाश के किरण पुंज का परावर्तन करता है।
उत्तर:
क्रियाकलाप:
यह क्रियाकलाप रात्रि के समय अथवा एक अंधेरे कमरे में किया जाना चाहिए। अपने किसी मित्र से कहिए कि वह एक हाथ में दर्पण लेकर कमरे के एक कोने में खड़ा हो जाए। एक हाथ में टॉर्च लेकर आप कमरे के दूसरे कोने में खड़े हो जाएँ। टॉर्च के काँच को अपनी अंगुलियों से ढक लीजिए तथा टॉर्च को जलाएँ। किरण पुंज प्राप्त करने के लिए अपनी अंगुलियों के बीच कुछ जगह छोड़ें। प्रकाश पुंज को आपके मित्र के द्वारा पकड़े हुए दर्पण पर डालिए। आपको दूसरी और प्रकाश का एक धब्बा दिखाई देता है। अब टॉर्च की दिशा इस प्रकार समायोजित कीजिए कि प्रकाश का धब्बा कमरे में खड़े किसी दूसरे मित्र के ऊपर पड़े यह क्रियाकलाप दर्पण द्वारा परावर्तन को समझाता है।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 11 प्रकाश छायाएँ एवं परावर्तन -6

प्रकाश: छायाएँ एवं परावर्तन Class 6 HBSE Notes in Hindi

→ हम बिना प्रकाश के वस्तुंओं को नहीं देख सकते क्योंकि प्रकाश ही वस्तुओं को देखने में हमारी सहायता करता है।
→ ऐसी वस्तुएँ जो सूर्य की तरह स्वयं प्रकाश का उत्सर्जन करती हैं, दीप्त पिण्ड कहलाती हैं।
→ ऐसी वस्तुएँ जो प्रकाश को अपने आर-पार जाने देती हैं तथा हम इनके दूसरी ओर रखी वस्तु को इसमें से होकर स्पष्ट देख सकते हैं, पारदर्शी कहलाती हैं।
→ यदि हम किसी वस्तु के आर-पार नहीं देख सकते तो वह वस्तु अपारदर्शी वस्तु कहलाती हैं।
→ ऐसी वस्तुएँ जो प्रकाश के कुछ भाग को ही आर-पार जाने देती हैं पारभासी वस्तुएँ कहलाती हैं।
→ प्रकाश सदैव एक सरल रेखा में गति करता है।
→ जब कोई अपारदशी वस्तु प्रकाश के मार्ग में आती है तो उसकी छाया बनती है।
→ सूची छिद्र कैमरे का उपयोग सूर्य तथा अति दीप्त वस्तुओं के प्रतिबिम्ब को देखने के लिए किया जाता है।
→ दर्पण-परावर्तन से हमें स्पष्ट प्रतिविम्ब प्राप्त होते हैं।
→ प्रतिबिम्ब छायाओं से अत्यधिक भिन्न होते हैं।
→ दीप्त – जो वस्तुएँ अपना स्वयं का प्रकाश उत्पन्न करती है दीप्त कहलाती हैं।
→ अपारदर्शी – वे वस्तुएँ जिनके आर-पार नहीं देखा जा
→ पारभासी – वे वस्तुएँ जिनके आर-पार देख तो सकते हैं किन्तु स्पष्ट नहीं; पारभासी कहलाती हैं।
→ छाया – जब प्रकाश के पथ में कोई अपारदर्शी वस्तु आ जाती है तो वस्तु की परछाई बनती है जिसे छाया कहते हैं।
→ सूची छिद्र कैमरा – वह उपकरण जिसका उपयोग सूर्य तथा अति दीप्त वस्तुओं के प्रतिबिम्ब को देखने में किया जा सकता है।
→ दर्पण – काँच की प्लेट जिस पर एक ओर से पॉलिश की गई हो और जिसका प्रयोग प्रतिबिम्ब देखने में किया जाता है, दर्पण कहलाता है।
→ परावर्तन – जब प्रकाश को किसी चिकने तल पर डाला परावर्तन कहते हैं।

HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 10 गति एवं दूरियों का मापन

Haryana State Board HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 10 गति एवं दूरियों का मापन Textbook Exercise Questions and Answers.

Haryana Board 6th Class Science Solutions Chapter 10 गति एवं दूरियों का मापन

HBSE 6th Class Science गति एवं दूरियों का मापन InText Questions and Answers

बूझो

प्रश्न 1.
बूझो यह निश्चित नहीं कर पा रहा है कि जब हम पत्थर को तेजी से घुमाते हैं तब यह क्यों कहते हैं कि पत्थर की हाथ से दूरी समान रहती है। क्या आप बूझो को यह समझने में सहायता कर सकते हैं? याद रखिए पत्थर डोरी से बाँधा हुआ है।
उत्तर:
पत्थर की हाथ से दूरी समान रहती है क्योंकि जब हम पत्थर को तेजी से घुमाते हैं तो यह गोलीय गति करता है।

HBSE 6th Class Science गति एवं दूरियों का मापन Textbook Questions and Answers

प्रश्न 1.
वायु, जल तथा थर पर उपयोग किए जाने वाले परिवहन के साधनों में से प्रत्येक के दो उदाहरण लिखिए।
उत्तर:
थल पर-बस, कार परिवहन के साधन हैं। जल में नाव, जहाज परिवहन के साधन हैं।

वायु में-हवाईजहाज, हैलिकॉप्टर परिवहन वे साधन हैं।

प्रश्न 2.
रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए
(क) एक मीटर में ……….. सेंटीमीटर होते हैं।
(ख) पाँच किलोमीटर में ………. मीटर होते हैं।
(ग) झूले पर किसी बच्चे की गति ………. होती है।
(घ) किसी सिलाई मशीन की सुई की गति …. होती है।
(ङ) किसी साइकिल के पहिए की गति होती है।
उत्तर:
(क) 100
(खा) 5000
(ग) वर्तुल
(घ) आवर्ती गति
(ङ) चक्राकार गति।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 10 गति एवं दूरियों का मापन

प्रश्न 3.
पग अथवा कदम का उपयोग लम्बाई के मानक मात्रक के रूप में क्यों नहीं किया जाता?
उत्तर:
पग अथवा कदम का उपयोग हम लम्बाई के मानक मात्रक के रूप में नहीं कर सकते क्योंकि सभी व्यक्तियों की लम्बाई एकसमान नहीं होती और उनके पग या कदमों की लम्बाई भी समान नहीं होती है।

प्रश्न 4.
निम्नलिखित को लम्बाई के बढ़ते परिमाणों में व्यवस्थित कीजिए-
1 मीटर, 1 सेंटीमीटर, 1 किलोमीटर, 1 मिलीमीटर।
उत्तर:
1 मिलीमीटर, 1 सेंटीमीटर, 1 मीटर, 1 किलोमीटर।

प्रश्न 5.
किसी व्यक्ति की लम्बाई 1.65 मीटर है। इसे सेंटीमीटर तथा मिलीमीटर में व्यक्त कीजिए।
उत्तर;
सेंटीमीटर में-
1.65 × 100 = 165 सेंटीमीटर
मिलीमीटर में- 1.65 × 1000 = 1650 मिलीमीटर

प्रश्न 6.
राधा के घर तथा उसके स्कूल के बीच की दूरी 3250 मीटर है। इस दूरी को किलोमीटर में व्यक्त कीजिए।
उत्तर:
\(\frac{3250}{1000}\) = 3.25 किमी।

प्रश्न 7.
किसी स्वेटर बनने की सलाई की लम्बाई मापते समय स्केल पर यदि इसके एक सिरे का पाठ्यांक 3.0 सेंटीमीटर तथा दूसरे सिरे का पाठ्यांक 33-1 सेंटीमीटर है तो सलाई की लम्बाई कितनी है?
उत्तर:
सलाई की लम्बाई 33.1 सेमी-3.0 सेमी = 30.1 सेमी।

प्रश्न 8.
किसी चलती हुई साइकिल के पहिए तथा चलते हुए छत के पंखे की गतियों में समानताएँ तथा असमानताएँ लिखिए।
उत्तर:
समानताएँ-साइकिल का पहिया तथा छत पर लटका पंखा अपनी अक्ष (धुरी) के सापेक्ष इस प्रकार गति करते हैं कि नियत बिन्दु पर दूरी समान रहती है। इस प्रकार दोनों की गतियाँ वर्तुल हैं।
असमानताएँ:

  1. साइकिल का पहिया वर्तुल गति के कारण सरल रेखीय गति में चलता है जबकि छत का पंखा सदैव वर्तुल गति करता है।
  2. छत का पंखा एक स्थान से दूसरे स्थान तक गति नहीं करता जबकि साइकिल के पहिए की गति एक स्थान से दूसरे स्थान को होती है।

प्रश्न 9.
आप दूरी मापने के लिए किसी लचीले फीते का उपयोग क्यों नहीं करते? यदि आप किसी दूरी को लचीले फीते से मापें तो अपनी माप को किसी अन्य को बताने में आपको जो समस्याएँ आएँगी। उनमें से कुछ समस्याएँ लिखिए।
उत्तर:
लचीले फीते का प्रयोग दूरी मापने के लिए नहीं किया जा सकता क्योंकि खींचने पर यह लम्बा हो जाता है और छोड़ देने पर सिकुड़ जाता है। इस प्रकार के फीते से किसी वस्तु या दूरी की शुद्ध माप नहीं की जा सकती है।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 10 गति एवं दूरियों का मापन

प्रश्न 10.
आवर्ती गति के दो उदाहरण लिखिए।
उत्तर:
आवर्ती गति के दो उदाहरण-

  1. सिलाई मशीन की सुई की गति।
  2. सितार की डोरियों की गति।

HBSE 6th Class Science गति एवं दूरियों का मापन Important Questions and Answers

वस्तुनिष्ठ प्रश्न

I. बहुविकल्पी प्रश्न : निम्नलिखित प्रश्नों में सही विकल्प का चयन कीजिए

1. यातायात का साधन है
(क) बस
(ख) जहाज
(ग) रेलगाडी
(घ) ये सभी
उत्तर:
(घ) ये सभी

2. बालिश्त मापन की प्राचीन पद्धति है
(क) द्रव्यमान की
(ख) लम्बाई की
(ग) समय की
(घ) ताप की
उत्तर:
(ख) लम्बाई की

3. मापन की मानक प्रणाली मीटरी’ पद्धति कीरचना की थी
(क) जापानियों ने
(ख) भारतीयों ने
(ग) यूनानियों ने
(घ) फांसीसियों न
उत्तर:
(घ) फांसीसियों न

4. 5 किमी में मीटर होते हैं
(क) 50
(ख) 500
(ग) 5000
(घ) \(\frac{1}{500}\)
उत्तर:
(घ) \(\frac{1}{500}\)

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 10 गति एवं दूरियों का मापन

II. रिक्त स्थान : निम्नलिखित वाक्यों में रिक्त स्थान भरिए

1. हम अपने दैनिक जीवन में विविध प्रकार की …………….. युक्तियों का उपयोग करते हैं।
2. सीधी सड़क पर कार की गति एक ………………… गति है।
3. पंखे की गति ………गति का उदाहरण है।
4. SI मात्रकों में लम्बाई का मानक मात्रक ……….. है।
उत्तर:
1. मापक
2. सरल रेखीय
3. वर्तुल
4. मीटर।

III. सुमेलन : कॉलम ‘A’ के शब्दों का मिलान कॉलम ‘B’ के शब्दों से कीजिए-

कॉलम ‘A’ कॉलम ‘B’
1. प्राचीन यातायात साधन (i) मीटर
2. आधुनिक यातायात साधन (ii) बालिस्त
3. प्राचीन लम्बाई का मापन (iii) बैलगाड़ी
4. लम्बाई का आधुनिक मात्रक (iv) रेलगाड़ी

उत्तर:

कॉलम ‘A’ कॉलम ‘B’
1. प्राचीन यातायात साधन (iii) बैलगाड़ी
2. आधुनिक यातायात साधन (iv) रेलगाड़ी
3. प्राचीन लम्बाई का मापन (ii) बालिस्त
4. लम्बाई का आधुनिक मात्रक (i) मीटर

IV. सत्य/असत्य : निम्नलिखित वाक्यों में सत्य एवं असत्य कथन छोटिए-

(i) संसार के विभिन्न भागों में लोग लंबाई के मात्रक के रूप में ‘फुट’ का उपयोग करते हैं।
(ii) मीटर लम्बाई का सबसे बड़ा मात्रक है।
(iii) धागे की सहायता से किसी वक्र-रेखा की लम्बाई मापी जा सकती है।
(iv) घड़ी की सुइयाँ वर्तुल गति दर्शाती हैं।
उत्तर:
1. सत्य
2. असत्य
3. सत्य
4. सत्य।

अति लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
अपनी बालिश्त और साथियों की बालिश्त मापिए तत्पश्चात स्केल पैमाने से उसी लम्बाई को मापिए। क्या आपकों दोनों मापनों में अन्तर दिखाई देता है। यदि तो क्यों? (क्रियाकलाप)
उत्तर:
हाँ। क्योंकि साथियों की बालिश्त में अन्तर होता है।

प्रश्न 2.
गति को परिभाषित कीजिए।
उत्तर;
समय के साथ स्थिति में परिवर्तन को गति कहते हैं।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 10 गति एवं दूरियों का मापन

प्रश्न 3.
दूरी मापने के लिए किस SI मात्रक का प्रयोग किया जाता है?
उत्तर;
मीटर।

प्रश्न 4.
आवर्ती गति के दो उदाहरण लिखिए।
उत्तर:
1. किसी लोलक की गति,
2. घड़ी के पेण्डुलम की गति।

प्रश्न 5.
सरल रेखीय गति के दो उदाहरण दीजिए।
उत्तर:
1. सड़क पर दौड़ती कार
2. साइकिल सवार का सीधी रेखा में जाना।

प्रश्न 6.
एक बालक पत्थर के टुकड़े को धागे से बाँधकर चारों ओर गोल-गोल घुमाता है? पत्थर का टुकड़ा किस प्रकार की गति दर्शाता है? (क्रियाकलाप)
उत्तर:
वर्तुल गति।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 10 गति एवं दूरियों का मापन

प्रश्न 7.
वर्तुल गति के दो उदाहरण लिखिए।
उत्तर:

  1. साइकिल का घूमता हुआ पहिया।
  2. चलता हुआ छत का पंखा।

प्रश्न 8.
परिवहन के साधनों में शक्ति स्रोत का समावेश कब हुआ?
उत्तर:
वाष्प-इंजन का आविष्कार होने पर।

प्रश्न 9.
एक मीटर में कितने सेण्टीमीटर तथा कितने मिलीमीटर होते हैं?
उत्तर:
एक मीटर = 100 सेण्टीमीटर।
एक मीटर = 1000 मिलीमीटर।

प्रश्न 10.
किसी लम्बाई की परिशुद्ध माप के लिए बालिश्त का प्रयोग क्यों नहीं करना चाहिए ?
उत्तर:
सभी व्यक्तियों की बालिश्त की लम्बाई समान नहीं होती है।

प्रश्न 11.
मीटरी पद्धति की रचना किसने तथा कब की?
उत्तर:
फ्रांसीसियों ने सन् 1970 में।

प्रश्न 12.
फुट क्या है?
उत्तर:
यह लम्बाई मापने की मीटर से छोटी इकाई है। एक मीटर में 3.33 फुट होते हैं।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 10 गति एवं दूरियों का मापन

लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
अपने पैर की लम्बाई को मात्रक मानकर कक्षा के कमरे को मापने पर आप किस तरह के परिणाम प्राप्त करेंगे, सूची बनाइए। (क्रियाकलाप)
उत्तर:
सारणी कक्षा की लम्बाई और चौड़ाई मापना

विद्यार्थी का नाम कक्षा के कमरे की लम्बाई कक्षा के कमरे की चौड़ाई
रवि 10 फुट 8 फुट
मोहन 11 फुट 9 फुट
शशि 12 फुट 10 फुट
सौरभ 9 फुट 7 फुट

प्रश्न 2.
समूह में कार्य कीजिए। आप में से प्रत्येक अपने बालिश्त को मानक मात्रक मानकर अपनी कक्षा के कमरे में रखी मेज अथवा डेस्क की चौड़ाई माप सकते हैं। (क्रियाकलाप)
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 10 गति एवं दूरियों का मापन -1
सारणी – मेज की चौड़ाई मापना

मेज की चौड़ाई किसने मापी बालिश्तों की संख्या
(i) सौरभ 7
(ii) गौरव 7
(iii) किशोर 8
(iv) आशी 8
(v) पूजा 9

प्रश्न 3.
अपने सहपाठी को दीवार के साथ पीठ लगाकर खड़ा होने के लिए कहिए। उसके सिर से ठीक ऊपर दीवार पर चिन्ह अंकित कीजिए। अब फर्श से दीवार पर बने इस चिन्ह तक की दूरी पहले अपने बालिश्त से और फिर मीटर पैमाने से मापिए। (क्रियाकलाप)
सारणी-ऊंचाई का मापन

ऊंचाई किसने मापी ऊंचाई बालिश्त से ऊंचाई सेण्टीमीटर
(i) हरी 12 60
(ii) अनुराग 13 60
(iii) सार्थक 12 60
(iv) नेहा 13 60
(v) अनुष्का 14 60

प्रश्न 4.
वस्तुओं के बारे में सोचिए जो आपने हाल ही में देखी है। इनमें कौन सी वस्तुएँ विराम में हैं और कौन सी गतिशील है? इनकी सूची सारणी में बनाइए। (क्रियाकलाप)
सारणी-विराम और गतिशील वस्तुएँ

विराम में वस्तु गतिशील वस्तु
(i) मेज (i) चलती रेलगाड़ी
(ii) घड़ी (i) उड़ती चिड़िया
(iii) घर (ii) कुत्ता
(iv) कुर्सी (iv) मच्छर
(v) पत्थर (v) जल में मछली
(vi) बस्ता (vi) तितलियाँ

प्रश्न 5.
अपनी कक्षा के कमरे का मानचित्र खींचिए। उसके फर्श पर गेंद लड़काइए। अपने मानचित्र में जहाँ से गेंद लुढ़काना आरम्भ किया था और जहाँ वह रुकी थी, वे बिन्दु दर्शाइए। जिस पथ के अनुदिश उसने गति की उसे भी दर्शाइए। क्या गेंद किसी सरल रेखा के अनुदिश चली थी? (क्रियाकलाप)
उत्तर:
जब हम गेंद को कक्षा के फर्श पर लुढ़काएँगे तो वह फर्श की ढलान की तरफ लुढ़क जाएगी। कभी वह सरल रेखा और कभी वह तिरछी रेखा पर चलेगी।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 10 गति एवं दूरियों का मापन

प्रश्न 6.
वर्तुल गति को दर्शाने के लिये एक संक्षिप्त क्रिया कलाप उदाहरण सहित कीजिए।
उत्तर:
क्रियाकलाप : एक पत्थर लीजिए। इससे एक धागा बाँधिए तथा अपने हाथ से इसे तेजी से घुमाइए। पत्थर की गति को ध्यान से देखिए। हम देखते हैं कि पत्थर वृत्तीय पथ के अनुदिश गति कर रहा है।
इस गति में पत्थर की आपके हाथ से दूरी समान रहती है। इस प्रकार की गति को वर्तुल गति कहते हैं।
बिजली के पंखे की पंखुड़ियाँ, घड़ी की सुई इसी प्रकार की गति के उदाहरण हैं।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 10 गति एवं दूरियों का मापन -2

प्रश्न 7.
आवती गतियाँ किसे कहते हैं? दो उदाहरण लिखिए।
उत्तर:
जब कोई वस्तु किसी एक ही पथ पर अपनी गति को बार-बार दोहराती है तो इसे वस्तु की आवर्ती गति कहते हैं।
आवर्ती गति के उदाहरण-
1. बच्चों का झूला,
2. घड़ी का पेण्डुलम
3. सितार के तार
4. घंटी
5. तबले का ऊपरी भाग।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 10 गति एवं दूरियों का मापन -3

प्रश्न 8.
निम्नलिखित वाक्यों को पूरा कीजिए
(क) ज्ञात निश्चित राशि को ……….. कहते हैं।
(ख) बालिश्त से मापना……..पद्धति का मात्रक था।
(ग) सरल रेखा के अनुदिश गति को …………. गति कहते हैं।
(घ) सिलाई मशीन की सुई की गति……… गति है।
उत्तर:
(क) मात्रक
(ख) पुरानी
(ग) सरल रेखीय
(घ) आवर्ती।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 10 गति एवं दूरियों का मापन

प्रश्न 9.
निम्नलिखित को मीटर में बदलिए
(क) 10 किमी.
(ख) 50 सेमी.।
उत्तर:
(क) 1 किमी. = 1000 मी.
10 किमी. = 1000 मीटर × 10
= 10000 मीटर

(ख) 1 मीटर = 100 सेमी.
50 सेमी = \(\frac{50}{100}\) = 0.5 मीटर

दीर्घ उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
लम्बाई मापते समय हमें क्या सावधानियां बरतने की आवश्यकता है?
उत्तर:
लम्बाई मापते समय हमें निम्नलिखित सावधानियाँ बरतने की आवश्यकता है
1.चित्र 10.4 (a) के अनुसार पैमाने को वस्तु के सम्पर्क में इसकी लम्बाई के अनुदिश रखिए।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 10 गति एवं दूरियों का मापन -4
2. कुछ पैमानों के सिरे टूटे हो सकते हैं। आप इन पैमानों में शून्यांक स्पष्ट नहीं देख सकते। ऐसे प्रकरणों में पैमाने के शून्यांक से माप लेने से बचिए। आप पैमाने का कोई अन्य पूर्णाक जैसे 1.0 सेमी. काम में ला सकते हैं। तब आपको दूसरे सिरे के पाठ्यांक से इस पूर्णांक के पाठ्यांक को घटाना चाहिए। उदाहरण के लिए एक सिरे का पाठ्यांक 1.0 सेमी तथा दूसरे सिरे का पाठ्यांक 14.3 सेमी है। अत: वस्तु की लम्बाई (14.3 सेमी – 1.0 सेमी) = 13.3 सेमी है।

3. माप लेने के लिए आँख की सही स्थिति भी महत्वपूर्ण होती है। चित्र में दर्शाए अनुसार आपकी आँख, जिस बिन्दु की माप ली जानी है उसके ठीक सामने होनी चाहिए। स्थिति (B) आँख की सही स्थिति है। ध्यान दीजिए B से देखने पर पाठ्यांकन 7.5 सेमी है। स्थितियों A तथा C से पाठ्यांक भिन्न हो सकते
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 10 गति एवं दूरियों का मापन -5

प्रश्न 2.
िम्नलिखित के तीन-तीन उदाहरण दीजिए
(क) विराम स्थिति की वस्तुएँ
(ख) गतिशील वस्तुएँ
(ग) वर्तुल गति
(घ) सरल रेखीय गति।
उत्तर:
(क) विराम स्थिति की वस्तुएँ-

  • मेज पर रखी पुस्तक
  • जमीन में लगा लट्ठा
  • घर।

(ख) गतिशील वस्तुएँ-

  • दीवार पर चढ़ती चींटी
  • उड़ती हुई तितली
  • सड़क पर दौड़ती कार।

(ग) वर्तुल गति-

  • चलता हुआ पहिया अपनी धुरी के परितः
  • घड़ी की सुई
  • छत पर लटका चलता हुआ पंखा।

(घ) सरल रेखीय गति

  • सीधी सड़क पर जाती कार
  • घोड़े का किसी सीधे पथ पर दौड़ना
  • रॉकेट यान का सीधी रेखा में चलना।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 10 गति एवं दूरियों का मापन

गति एवं दूरियों का मापन Class 6 HBSE Notes in Hindi

→ प्राचीन काल में लोगों के पास यातायात के कोई साधन नहीं थे। वे पैदल चलते शे तथा अपना सामान या तो अपनी पीठ पर अथवा पशुओं की पीठ पर लादकर ले जाते थे।
→ प्राचीन काल में जल-मार्गों से आने-जाने के लिए नावों का उपयोग किया जाता था।
→ पहिए का आविष्कार हो जाने पर यातायात प्रणाली में महत्वपूर्ण परिवर्तन हुए।
→ लोग बैलगाड़ी एवं हाथ से खींचने वाली गाड़ी का प्रयोग करने लगे।
→ उन्नीसर्वीं शताब्दी में वाष्प इंजन के आविष्कार से एक नए शक्ति स्रोत का समावेश हुआ।
→ विद्धुत रेलगाड़ी, एकल रेल, पराध्वनिक वायुयान तथा अंतरिक्ष यान बीसर्वी शताब्दी के कुछ प्रमुख योगदान हैं।
→ आजकल एक स्थान से दूसरे स्थान तक जाने के लिए परिवहन के विभिन्न साधनों का उपयोग किया जाता है।
→ किसी अज्ञात राशि की उसी प्रकार की किसी ज्ञात राशि से तुलना करना मापन कहलाता है।
→ प्राचीन काल में लोग पैर की लम्बाई, अंगुली की चौड़ाई, एक कदम की दूरी आदि का उपयोग मापन में मात्रक के रूप में करते थे। इससे उलझनें होती थीं। इसलिए किसी एक समान मापन प्रणाली को विकसित करने की आवश्यकता उत्पन्न हुई।
→ ज्ञात निश्चित राशि को मात्रक कहते हैं।
→ मापन के लिए आजकल जिस मात्रक-प्रणाली का उपयोग हो रहा है, उसे अन्तर्राष्ट्रीय मात्रक प्रणाली कहते हैं। लम्बाई को मीटर में मापा जाता है, मीटर लम्बाई का SI मात्रक है।
→ सरल रेखा के अनुदिश गति को सरल रेखीय गति कहते हैं।
→ वर्तुल गति में कोई वस्तु इस प्रकार गति करती है कि वस्तु की किसी नियत बिन्दु से दूरी समान रहती है।
→ ऐसी गति जो एक निश्चित समय अन्तराल के पश्चात् दोहराई जाती है, उसे आवर्ती गति कहते हैं।
→ मापन – किसी अज्ञात राशि की उसी प्रकार की किसी ज्ञात राशि से तुलना करना मापन कहलाता है।
→ दूरी – दो स्थानों के बीच की लम्बाई, दूरी कहलाती है।
→ SI मात्रक – वह पद्धति जिसे संसार में समान रूप से उपयोग किया जाता है।
→ गति – किसी वस्तु की स्थिति में परिवर्तन उसकी गति कहलाती है।
→ सरल रेखीय गति – सरल रेखा के अनुदिश गति को सरल रेखीय गति कहते हैं।
→ वर्तुल गति – वह गति जिसमें कोई वस्तु इस प्रकार गति करती है कि उस वस्तु की किसी नियत बिन्दु से दूरी समान रहती है।
→ आवती गति – ऐसी गति जो एक निश्चित समय अन्तराल के पश्चात दोहराई जाती है, उसे आवर्ती गति कहते हैं।

HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 9 सजीव: विशेषताएँ एवं आवास

Haryana State Board HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 9 सजीव: विशेषताएँ एवं आवास Textbook Exercise Questions and Answers.

Haryana Board 6th Class Science Solutions Chapter 9 सजीव: विशेषताएँ एवं आवास

HBSE 6th Class Science सजीव: विशेषताएँ एवं आवास Textbook Questions and Answers
प्रश्न 1.
आवास किसे कहते हैं?
उत्तर:
किसी स्थल का परिवेश जिसमें पौधे, जन्तु एवं अन्य जीव रहते हैं, उनका आवास कहलाता है।

प्रश्न 2.
कैक्टस मरुस्थल में जीवन-यापन के लिए किस प्रकार अनुकूलित है?
उत्तर:
कैक्टस मरुस्थल में जीवन-यापन के लिए निम्न प्रकार अनुकूलित हैं-

  1. इनकी जड़ें जल अवशोषण के लिए काफी गहराई तक चली जाती हैं।
  2. पत्तियाँ प्रायः कार्य में बदल जाती हैं।
  3. तने पर एक मोमीय परत बन जाती है जो पानी को उड़ने नहीं देती।
  4. ये जल का संग्रहण अच्छी तरह कर लेते हैं।

प्रश्न 3.
रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए
(क) पौधों एवं जन्तुओं में पाए जाने वाले विशिष्ट लक्षण जो उन्हें आवास विशेष में रहने योग्य बनाते हैं, ……………….. कहलाते हैं।
(ख) स्थल पर पाए जाने वाले पौधों एवं जन्तुओं के आवास को ……………….. आवास कहते हैं।
(ग) वे आवास जिनमें जल में रहने वाले पौधे एवं जन्तु रहते हैं, ……………….. आवास कहलाते हैं।
(घ) मृदा, जल एवं वायु किसी आवास के ……………….. घटक हैं।
(ङ) हमारे परिवेश में होने वाले परिवर्तन जिनके प्रति हम अनुक्रिया करते हैं, ……………….. कहलाते हैं।
उत्तर:
(क) अनुकूलन
(ख) स्थलीय
(ग) जलीय
(घ) अजैव
(ङ) उद्दीपन।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 9 सजीव: विशेषताएँ एवं आवास

प्रश्न 4.
निम्नलिखित सूची में कौन-सी वस्तुएँ निर्जीव
हल, छत्रक, सिलाई मशीन, रेडियो, नाव, जलकुंभी, केंचुआ।
उत्तर:
निर्जीव वस्तुएँ हैं- हल, सिलाई मशीन, रेडियो, नाव।

प्रश्न 5.
किसी ऐसी निर्जीव वस्तु का उदाहरण दीजिए जिसमें सजीवों के दो लक्षण दिखाई देते हैं।
उत्तर:
1. बादल जो हमारी आँखों के सामने बड़े होते
2. बादलों को हम एक स्थान से दूसरे स्थान पर भी जाते हुए देखते हैं।

प्रश्न 6.
निम्न में से कौन सी निर्जीव वस्तुएँ किसी समय सजीव का अंश र्थी
मक्खन, चमड़ा, मृदा, ऊन, बिजली का बल्ब, खाद्य तेल, नमक,सेब, रबड़।
उत्तर:
मक्खन, चमड़ा, ऊन, खाद्य तेल, सेब, रबड़।

प्रश्न 7.
सजीवों के विशिष्ट लक्षण सूचीबद्ध कीजिए।
उत्तर:
सजीवों के विशिष्ट लक्षण-

  1. सजीव भोजन ग्रहण करते हैं;
  2. सजीव वृद्धि करते हैं;
  3. सजीव गति करते हैं;
  4. सजीव प्रजनन, उत्सर्जन, प्रचलन आदि क्रियाएँ करते हैं।
  5. सजीव वातावरण के प्रति अनुक्रिया करते हैं।

प्रश्न 8.
घास के मैदानी क्षेत्रों में रहने वाले जन्तुओं को अपना अस्तित्व बनाए रखने के लिए तीव्र गति क्यों आवश्यक है? (संकेत-घास स्थल आवासों में छिपने के लिए वृक्षों की संख्या बहुत कम होती है।)
उत्तर:
मैदानी क्षेत्रों के घास स्थलों में वृक्ष कम होने के कारण जीवों को अपनी जान बचाने के लिए छिपने में कठिनाई होती है। शिकारियों से बचने के लिए इन्हें तीव्रता से भागना पड़ता है। उदाहरण के लिए, शेर एवं चीता हिरों को खाते हैं। हिरन तेज दौड़कर ही अपनी जान बचाते हैं।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 9 सजीव: विशेषताएँ एवं आवास

HBSE 6th Class Science सजीव: विशेषताएँ एवं आवास Important Questions and Answers

वस्तुनिष्ठ प्रश्न

I. बहुविकल्पी प्रश्न : निम्नलिखित प्रश्नों में सही विकल्प का चयन कीजिए

1. कोई जीव आवास पर निर्भर करता है-
(क) भोजन के लिए
(ख) शरण स्थल के लिए
(ग) सुरक्षा के लिए
(घ) ये सभी।
उत्तर:
(घ) ये सभी।

2. स्थलीय आवास में सम्मिलित है
(क) वन
(ख) घास स्थल
(ग) मरूस्थल
(घ) ये सभी
उत्तर:
(घ) ये सभी

3. निम्न में से अजैव घटक है
(क) मिट्टी
(ख) केंचुआ
(ग) घास
(घ) जीवाणु
उत्तर:
(क) मिट्टी

4. ऊँट अनुकूलित होता है-
(क) मरूस्थलीय आवास में रहने के लिए
(ख) जलीय आवास में रहने के लिए
(ग) पर्वतीय आवास में रहने के लिए
(घ) इन सभी आवासों में रहने के लिए
उत्तर:
(क) मरूस्थलीय आवास में रहने के लिए

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 9 सजीव: विशेषताएँ एवं आवास

II. रिक्त स्थान : निम्नलिखित वाक्यों में रिक्त स्थान भरिए

1. ……………. आवास बहुत ठंडे होते हैं और इनमें तेज हवा चलती है।
2. शेर वन में अथवा ……….. में रहता है।
3. जल में श्वास लेने के लिए मछलियों में …………….. पाये जाते है।
4. जलीय पौधों का तना लंबा, …….. एवं ……… होता है।
उत्तर:
1. पर्वतीय
2. घासस्थल
3. गिल
4. खोखला, हल्का।

III. सुमेलन : कॉलम ‘A’ के शब्दों का मिलान कॉलम ‘B’ के शब्दों से कीजिए-

कॉलम ‘A’ कॉलम ‘B’
1. नागफनी (i) जलीय आवास
2. मछली (ii) मरुस्थलीय आवास
3. हवेल (iii) पर्वतीय आवास
4. पेंग्विन (iv) समुद्री आवास

उत्तर:

कॉलम ‘A’ कॉलम ‘B’
1. नागफनी (ii) मरुस्थलीय आवास
2. मछली (i) जलीय आवास
3. हवेल (iv) समुद्री आवास
4. पेंग्विन (iii) पर्वतीय आवास

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 9 सजीव: विशेषताएँ एवं आवास

IV. सत्य/असत्य : निम्नलिखित वाक्यों में सत्य एवं असत्य कथन छाँटिए

(i) स्थल (जमीन) पर पाये जाने वाले पौधों एवं जन्तुओं के आवास को स्थलीय आवास कहते हैं।
(ii) सभी जीव-जन्तु, मिट्टी, जल एवं वायु अजैव घटक होते है।
(iii) नागफनी, कीकर, आक आदि पौधे मरूस्थलीय आवास के अनुसार अनुकूलित होते हैं।
(iv) सजीवों में उत्तेतनशीलता का गुण पाया जाता है।
उत्तर:
1. सत्य
2. असत्य
3. सत्य
4. सत्य।

अति लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
सूक्ष्म जीव कहाँ पाए जाते हैं।
उत्तर:
सूक्ष्म जीव सर्वत्र पाए जाते हैं; जैसे-मृदा, जल वायु, जन्तुओं व पौधों के अन्दर एवं बाहर।

प्रश्न 2.
किसी वन में रहने वाले दो वन्य जन्तुओं के नाम लिखिए। (क्रियाकलाप)
उत्तर:
(i) खरगोश
(ii) लोमड़ी

प्रश्न 3.
आवास से आप क्या समझते है?
उत्तर:
वह स्थान जहाँ कोई जीव रहता है तथा विभिन्न क्रियाओं को करने के लिए अनुकूल होता है, उसका आवास कहलाता है।

प्रश्न 4.
समुद्री आवास किस प्रकार का आवास है?
उत्तर:
लवणजलीय आवास।

प्रश्न 5.
अनुकूलन किसे कहते हैं?
उत्तर:
किसी जीवधारी का अपने परिवेश के अनुसार स्वयं को रहने योग्य बनाना अनुकूलन कहलाता है।

प्रश्न 6.
दो प्रकार के मुख्य आवासों के नाम लिखिए।
उत्तर:

  • स्थलीय आवास
  • जलीय आवास।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 9 सजीव: विशेषताएँ एवं आवास

प्रश्न 7.
दो जैविक घटकों के नाम लिखिए।
उत्तर:
जन्तु एवं पौधे।

प्रश्न 8.
दो अजैविक घटकों के नाम लिखिए।
उत्तर:

  • प्रकाश
  • जल

प्रश्न 9.
बीजों के अंकुरण के लिए आवश्यक दशाएँ बताइए। (क्रियाकलाप)
उत्तर:
नमी एवं वायु की उपस्थिति, प्रकाश की अनुपस्थिति एवं गर्म वातावरण।

प्रश्न 10.
मरूस्थलीय आवास में पाए जाने वाले दो पौधों के नाम लिखिए।
उत्तर:
1. नागफनी
2. कीकर।।

प्रश्न 11.
मरूस्थलीय आवास में पाए जाने वाले दो जन्तुओं के नाम लिखिए।
उत्तर:
1. ऊँट
2. मरूस्थलीय चूहा।

प्रश्न 12.
पर्वतीय क्षेत्र के दो पौधों के नाम लिखिए।
उत्तर:
1. सिल्वर फर
2. चीड़।

प्रश्न 13.
पर्वतीय क्षेत्र के दो जन्तुओं के नाम लिखिए।
उत्तर:
1. पहाड़ी बकरी
2. याक।

प्रश्न 14.
घास-बन स्थल के दो प्राणियों के नाम लिखो।
उत्तर:
1. चीता
2. हिरन।

प्रश्न 15.
हाथी एवं शेर का आवास क्या हैं?
उत्तर:
जंगल।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 9 सजीव: विशेषताएँ एवं आवास

प्रश्न 16.
दो जलीय पौधों के नाम लिखिए।
उत्तर:

  • हाइडिला
  • सिंघाड़ा।

प्रश्न 17.
मछली तथा मगरमच्छ के आवास का नाम बताइए।
उत्तर:
जलाशय एवं नदियाँ।

प्रश्न 18.
मेंहदी अथवा गुलाब को आप कैसे उगा सकते हैं? (क्रियाकलाप)
उत्तर:
मेंहदी अथवा गुलाब की कलम को जमीन में रोपकर।

प्रश्न 19.
उद्दीपन से आप क्या समझते हैं?
उत्तर:
वातावरण में होने वाले परिवर्तन, जो उनके प्रति अनुक्रिया को प्रेरित करते हैं, उद्दीपन कहलाते हैं।

प्रश्न 20.
अण्डे देने वाले दो जन्तुओं के नाम लिखिए।
उत्तर:
कछुआ, कबूतर।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 9 सजीव: विशेषताएँ एवं आवास

प्रश्न 20.
शिशु देने वाले दो जन्तुओं के नाम लिखिए।
उत्तर:

  • चूहा
  • गाय।

प्रश्न 21.
जीवों को भोजन की आवश्यकता क्यों होती
उत्तर:
शारीरिक क्रियाओं हेतु ऊर्जा प्राप्ति के लिए।

प्रश्न 22.
खिड़की के पास कमरे में रखा पौधा खिड़की की ओर क्यों मुड़ जाता है?
उत्तर:
प्रकाश उद्दीपन के कारण।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 9 सजीव: विशेषताएँ एवं आवास

लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
निम्नलिखित के आवासों के नाम लिखिए
नागफनी, गेहूँ, बरगद, मछली, ऑक्टोपस, चींटी, दीमक, हाइडिला।
उत्तर:
नागफनी – मरुस्थल
ऑक्टोपस – समुद्र गेहूँ खेत
चींटी – मिट्टी में बिल
बरगद – वन
दीमक – लकड़ी में सुरंग
मछली – तालाब
हाइडिला – जल

प्रश्न 2.
ऊँट के मरुस्थल के प्रति अनुकूलन लिखिए।
उत्तर:

  1. ऊँट एक बार पानी पीकर कई दिनों तक बिना पानी पिए रह सकता है।
  2. ऊँट की खाल के नीचे चर्बी की परत उसे गर्मी से बचाती है।
  3. ऊँट कटीली झाड़ियों को खा लेता है।
  4. यह रेत में आसानी से चल सकता है।

प्रश्न 3.
मछलियों में जलीय अनुकूलन लिखिए।
उत्तर:

  1. मछलियों का शरीर धारारेखीय होता है, जिससे ये जल में आसानी से तैर लेती है।
  2. इनमें गिल्स होते हैं जिससे ये जल में घुली ऑक्सीजन को श्वसन में प्रयोग कर लेती है।
  3. पंख की सहायता से ये आगे बढ़ती है।
  4. इनकी जल में संवेदन क्षमता अच्छी होती है।

प्रश्न 4.
जैविक तथा अजैविक घटकों का संक्षिप्त विवरण दीजिए।
उत्तर:
जैविक घटक-सभी पेड़-पौधे एवं जीव-जन्तु जैविक घटक कहलाते हैं। ये निम्न प्रकार के होते हैं-

  1. उत्पादक सभी हरे पौधे।
  2. उपभोक्ता-शाकाहारी एवं माँसाहारी जन्तु।
  3. अपघटक-सभी सूक्ष्म जीव।
  4. अजैविक घटक – ताप, पानी, प्रकाश, वर्षा, मिट्टी, वायु आदि।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 9 सजीव: विशेषताएँ एवं आवास

प्रश्न 5.
सजीवों के चार लक्षण लिखिए।
उत्तर:
1. वृद्धि – सभी सजीवों में वृद्धि होती है। यह वृद्धि आन्तरिक एवं बाह्य दोनों प्रकार की होती है।
2. श्वसन – सभी जीवधारी श्वसन क्रिया करते हैं, जिससे ऊर्जा उत्पन्न होती है।
3. पोषण – सभी जीवधारी विभिन्न क्रियाओं को संचालित करने के लिए पोषण करते हैं।
4. प्रचलनसभी – जीवों में विभिन्न प्रकार की गतियाँ होती हैं।

प्रश्न 6.
श्वसन क्रिया को समझाइए।
उत्तर:
सभी जीव-जन्तुओं में भोजन के ऑक्सीकरण से ऊर्जा उत्पन्न होती है, इस प्रक्रिया को श्वसन कहते हैं। जन्तु श्वासोच्छवास करते है जबकि पौधे सीधे ही वातावरण से गैसों का आदान-प्रदान करते हैं।

श्वसन क्रिया में वातावरण से ऑक्सीजन ली जाती है तथा CO2 बाहर निकाली जाती है। ली गई O2 का प्रयोग भोज्य पदार्थों के विखण्डन में किया जाता है जिससे ऊर्जा प्राप्त होती है। यह ऊर्जा शरीर की विभिन्न क्रियाओं के संचालन में काम आती है।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 9 सजीव: विशेषताएँ एवं आवास

प्रश्न 7.
उत्सर्जन से आप क्या समझते हैं? पौधों में उत्सर्जन किस प्रकार होता है?
उत्तर:
उत्सर्जन विभिन्न जैव-प्रक्रर्मों के फलस्वरूप हमारे शरीर में कुछ अपशिष्ट पदार्थ उत्पन्न होते हैं; सजीवों द्वारा इन अपशिष्ट पदार्थों के निष्कासन को उत्सर्जन कहते हैं।

पौधों में उत्सर्जन के लिए विशेष अंग तंत्र नहीं होते हैं। यद्यपि इनमें भी अपशिष्ट पदार्थों का निर्माण होता है। ये अपशिष्ट पदार्थ पत्तियों एवं छाल में एकत्र होते रहते हैं। जब छाल एवं पत्तियाँ पौधों से गिरते हैं तो इन पदार्थों से भी छुटकारा मिल जाता है।

प्रश्न 8.
उद्दीपन से आप क्या समझते हैं? एक उदाहरण दीजिए।
उत्तर:
वह प्रक्रम जिसके प्रति कोई अनुक्रिया की जाती है, उद्दीपन कहलाता है। उदाहरण के लिए यदि हमारे पैर में काँटा चुभ जाता है तो हम झटके से अपना पैर ऊपर खींचते हैं। काँटे का पैर में चुभना उद्दीपन है तथा पैर का ऊपर खींचना अनुक्रिया है। इसी प्रकार यदि छुईमुई के पौधे को छुआ जाता है तो वह मुरझा जाता है। यहाँ छूना उद्दीपन है तथा पौधे का मुरझाना अनुक्रिया है।

प्रश्न 9.
पता लगाइए कि घुवीय भालू एवं पेंग्विन के आवास कहाँ है? प्रत्येक जन्तु के दो अनुकूलन बताइए जिससे पता चले कि वह अपने आवास के प्रति भली-भांति अनुकूलित है। (क्रियाकलाप)
उत्तर:
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 9 सजीव विशेषताएँ एवं आवास -1
दो अनुकूलन जिससे यह ज्ञात होता है कि ये अपने आवास के प्रति भली-भाँति अनूकूलित हैं-

  • उनकी त्वचा मोटी तथा फरों से की होती है।
  • ये गर्म मौसम में अत्यधिक चर्बी एकत्र कर लेते हैं | जो सर्दियों में इनके काम आती है।

प्रश्न 10.
पता लगाइए कि हिमालय के गिरिपाद में कौन-से जन्तु पाए जाते हैं? पता लगाइए कि हिमालय के पर्वतीय क्षेत्रों में जाने पर पर्वत की ऊँचाई बढ़ने के साथ जन्तुओं और पादपों की प्रजातियों में क्या परिवर्तन होते हैं?
उत्तर:
(i) हिमालय के गिरिपाद में निम्न जन्तु पाए जाते हैं- पहाड़ी तेंदुए, पहाड़ी बकरी, याक, एण्टीलोप, लोमड़ी आदि। जैसे-जैसे पर्वतों की ऊंचाई बढ़ती है, तापमान में कमी होती जाती है। जिससे जन्तुओं की त्वचा, फरों एवं कर्ण पल्लवों में परिवर्तन देखने को मिलते हैं।
(ii) ऊँचाई में परिवर्तन के साथ पेड़-पौधों की जातियों में भी बहुत- से परिवर्तन दिखाई देते हैं।

दीर्घ उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
विभिन्न प्रकार के आवासों में पाए जाने वाले जीवों का विवरण दीजिए।
उत्तर:
आवास मुख्यत: दो प्रकार के होते हैं जलीय आवास तथा स्थलीय आवास।
जलीय आवास- जलीय जन्तु जल में निवास करते हैं, इसे जलीय आवास कहते हैं। जलीय आवास भी कई प्रकार के होते हैं जिनके उदाहरण निम्नलिखित हैं

  1. नदी का जलीय आवास-विभिन्न प्रकार के शैवाल, मछलियाँ, घड़ियाल।
  2. तालाब का जलीय आवास-मछलियाँ, जलीय पौधे, मेंढक, कीट।
  3. झील का जलीय आवास-मछलियाँ, जलीय पौधे, मेंढक, अनेक कीट।
  4. समुद्र जलीय आवास-बड़ी मछलियाँ, मुंगा, ऑक्टोपस, स्किवड आदि।

स्थलीय आवास स्थल पर जीवधारियों के रहने का स्थान स्थलीय आवास कहलाता है। ये भी अनेक प्रकार के होते हैं

  1. मरुस्थलीय आवास – ऊँट, कैक्टस, कीकर, मरुस्थलीय चूहा, सौंप आदि।
  2. पर्वतीय आवास – चीड़ के वृक्ष, सागौन के वृक्ष, भालू आदि।
  3. बर्फीले आवास – रेनडियर, पेंग्विन, भालू, पांडा आदि।
  4. साधारण वन्य – आवास-मोर, शेर, बन्दर, चीता, गैंडा, हाथी आदि।

प्रश्न 3.
(i) आप कैसे सिद्ध करोगे कि मरूस्थली पादप वाष्पोत्सर्जन द्वारा जल की बहुत कम मात्रा निष्कासित करते हैं? (क्रियाकलाप)
(ii) मरूस्थलीय पौधों के दो लक्षण उदाहरण सहित लिखिए।
उत्तर:
(i) गमले में लगा एक कैक्टस पौधा (मरूस्थली) तथा सामान्य आवास का पत्तीवाला पौधा लेकर दोनों पौों के प्ररोह भाग को पॉलिथीन से ढक कर बाँध देते हैं। दोनों पौधों को धूप में रख देते हैं।

प्रेक्षण: कुछ समय पश्चात् हम देखते हैं कि दोनों पौधों में लगी पॉलीथीन की भीतरी सतह पर पानी की कुछ बूंदै बन गई हैं। तुलना करने पर हम पाते हैं कि सामान्य आवासीय पौधे की पॉलीथीन में पानी की बूंदें अधिक संख्या में उपस्थित हैं। जबकि कैक्टस पौधे वाली पॉलीथीन में पानी की बूँदै अत्यंत सूक्ष्म और बहुत कम संख्या में हैं।

(ii) मरूस्थलीय पौधे – नागफनी, आक।
(a) इन पौधों की जड़ें अत्यधिक विकसित होती हैं।
(b) पत्तियाँ मोटी चमड़े जैसी होती हैं।

प्रश्न 4.
घास स्थल के आवास के दो जन्तुओं का विवरण दीजिए। जो किसी न किसी प्रकार से आपस में सम्बन्धित हों।
उत्तर:
शेर एवं हिरण दोनों जन्तु घास स्थल में रहते हैं। शेर हिरण का शिकार करता है अर्थात् हिरण को मारकर उसको खाता है। हिरण घास स्थल की घास एवं झाड़ियों को खाते हैं। इस प्रकार हिरण शिकार है तथा शेर शिकारी। शेर एवं हिरण दोनों ही घास स्थल के अनुकूलित होते हैं। शेर घास में आसानी से छिपकर शिकार करता है जबकि हिरण तेज दौड़ सकता है।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 9 सजीव विशेषताएँ एवं आवास -2

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 9 सजीव: विशेषताएँ एवं आवास

प्रश्न 5.
जलीय पौधों में क्या-क्या अनुकूलन पाए जाते हैं?
उत्तर:
जलीय पौधों में अनुकूलन-

  1. अनेक जलीय पौधों में छोटी-छोटी जड़ें होती हैं, जो पौधों को कीचड़ में साधे रखती हैं।
  2. अनेक पौधे जल की सतह पर स्वतंत्र तैर सकते हैं। इनमें अवशोषी जड़ें पायी जाती हैं।
  3. अनेक जलीय पौधों का तना खोखला होता है, जिसमें हवा भरी रहती है जो पौधे को तैरने में सहायता करती है।
  4. कुछ पौधों की पत्तियाँ सँकरी एवं लम्बी होती हैं. जो पानी की तेज लहरों से पौधे की रक्षा करती रहती हैं। अनेक पौधों की पत्तियाँ कटी-फटी होती हैं जिससे इन पर पानी की तेज धारा का प्रभाव नहीं पड़ता है।
  5. पौधों के तने मुलायम होते हैं जो पानी के बहाव से टूटते नहीं हैं।
    HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 9 सजीव विशेषताएँ एवं आवास -3

कुछ जलीय पौधे जल सतह पर प्लवन करते हैं, आंशिक रूप से जलमग्न पौधे जिनकी जड़ें मिट्टी में . स्थिर हैं। कुछ पौधे पूर्णतः जलमग्न हैं।

प्रश्न 6.
प्रजनन से आप क्या समझते हैं? इसके कुछ उदाहरण चित्र सहित दीजिए।
उत्तर:
प्रजनन:
किसी जीवधारी द्वारा अपनें जैसे प्रतिरूप उत्पन्न करना प्रजनन कहलाता है। उदाहरण के लिए ; किसी महिला द्वारा शिशु को जन्म देना, मुर्गी द्वारा अण्डे देना तथा अण्डों से चूजे निकलना आदि प्रजनन के उदाहरण हैं।

जन्तु प्रजनन द्वारा अपने समान संतान उत्पन्न करते हैं। भिन्न जन्तुओं में प्रजनन का ढंग अलग-अलग होता है। कबूतर, चिड़िया, मोर, साँप, मगरमच्छ, कछुआ आदि जन्तु अण्डे देते हैं तथा अण्डों से बच्चे निकलते हैं। मादा कुत्ते, बिल्ली, गाय शिशुओं को जन्म देती हैं।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 9 सजीव विशेषताएँ एवं आवास -4
पेड़-पौधों में भी प्रजनन होता है। भिन्न-भिन्न पौधों में प्रजनन भिन्न-भिन्न प्रकार का होता है। अनेक पौधों से बीज उत्पन्न होते हैं जो अंकुरण करके नए पौधों को जन्म देते हैं। जैसे–चना, मटर, गेहूँ, सेम आदि । अनेक पौधे इनके कायिक भागों द्वारा भी उत्पन्न हो जाते हैं। जैसे आलू, गन्ना, गुलाब।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 9 सजीव विशेषताएँ एवं आवास -5
एक पौधे का बीज अंकुरित होकर नया पौधा बनता है
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 9 सजीव विशेषताएँ एवं आवास -6
आलू की सुप्त कलिका से उगता एक पौधा

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 9 सजीव: विशेषताएँ एवं आवास

सजीव: विशेषताएँ एवं आवास Class 6 HBSE Notes in Hindi

→ किसी जीवधारी के रहने का स्थान उसका परिवेश या आवास कहलाता है।
→ विभिन्न प्रकार के पौधे एवं जन्तु एक ही आवास में एक साथ रह सकते हैं।
→ पौधों और जीवों के विशिष्ट लभ्षण एवं स्वभाव जो उन्हें एक आवास विशेष में रहने के अनुकूल बनाते हैं, अनुकूलन कहलाता है।
→ आवास अनेक प्रकार के होते हैं परन्तु सामान्यतः इन्हें स्थलीय एवं जलीय आवासों में वर्गीकृत किया जाता है।
→ स्थल पर पाए जाने वाले पौ| और जन्तुओं के आवास को स्थलीय आवास कहते हैं।
→ जलाशय, तालाबों, दलदल, झील, नदियों एवं समुद्र, जहाँ पौधे एवं जन्तु पाए जाते हैं, जलीय आवास कहलाता है।
→ विभिन्न आवासों में सजीवों की विविध प्रजातियाँ पायी जाती है।
→ पौधे, जन्तु एवं सूक्ष्म जीव संयुक्त रूप से जैव घटक बनाते हैं।
→ चट्टान, मिट्टी, वायु, जल, प्रकाश एवं ताप, हमारे परिवेश के कुछ अजैव घटक हैं।
→ सजीव वस्तुओं के कुछ सामान्य लक्षण हैं उन्हें भोजन की आवश्यकता होती है, वे श्वसन, उत्सर्जन, पर्यावरण के प्रति अनुक्रिया, प्रचलन, प्रजनन, वृद्धि एवं गति करते हैं।
→ सजीव – वे वस्तुएँ जिनमें प्रचलन, वृद्धि, जनन, उत्सर्जन, वातावरण के प्रति अनुक्रिया आदि लक्षण होते हैं, सजीव कहलाती हैं।
→ अनुकूलन – पौधों और जीवों के विशिष्ट लक्षण और स्वभाव जो उन्हें एक आवास विशेष में रहने के अनुकूल बनाते हैं, अनुकूलन कहलाता है।
→ आवास – किसी स्थान का ऐसा परिवेश जिसमें पौधे, जन्तु एवं अन्य जीव रहते हैं, उनका आवास कहलाता है।
→ जलीय आवास – वह आवास, जिसमें जीव जल में रहते
→ जैव घटक – पौधे, जन्तु एवं सूक्ष्म जीव संयुक्त रूप से जैव घटक कहलाते हैं।
→ अजैव घटक – चटटान, मिटटी, वायु, जल, प्रकाश आदि।
→ वृद्धि – सजीवों के आकार एवं भार में होने वाला धनात्मक परिवर्तन वृद्धि कहलाता है।
→ श्वसन – भोजन से ऊर्जा प्राप्त करने के लिए ऑक्सीजन को ग्रहण करना तथा कार्बन डाईऑक्साइड को बाहर निकालना श्वसन कहलाता है।
→ उत्सर्जन – सजीवों द्वारा उनके अपशिष्ट पदार्थों का शरीर से बाहर निकाला जाना उत्सर्जन कहलाता है।
→ प्रजनन – जीवों द्वारा उनके समान ही सजीव संरचनाएँ उत्पन्न करना प्रजनन कहलाता है।
→ उद्दीपन – वातावरण में होने वाले परिवर्तनों के प्रति अनुक्रिया करना उद्दीपन कहलाता है।

HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 8 शरीर में गति

Haryana State Board HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 8 शरीर में गति Textbook Exercise Questions and Answers.

Haryana Board 6th Class Science Solutions Chapter 8 शरीर में गति

HBSE 6th Class Science शरीर में गति InText Questions and Answers

बूझो/पहेली

प्रश्न 1.
बुझो पौधों की गति को लेकर आश्चर्यचकित है। वह जानता है कि पौधे एक स्थान से दूसरे स्थान तक गति नहीं करते, परन्तु क्या वे किसी दूसरे प्रकार की गति प्रदर्शित करते हैं?
उत्तर:
हाँ, पौधे रोशनी की ओर झुकते हैं।

प्रश्न 2.
जन्तु एक स्थान से दूसरे स्थान तक कैसे गमन करते हैं?
उत्तर:
सारणी-एक स्थान से दूसरे स्थान तक जन्तुओं का गमन-

जन्तु गमन में प्रयुक्त होने वाला भाग/अंग जन्तु कैसे गमन करते हैं?
(i) गाय पैर पैर चलकर
(ii) मनुष्य सम्पूर्ण शरीर चलकर
(iii) साँप पंख रेंगकर
(iv) पक्षी पंख उड़कर
(v) कीट पंख/चप्रू उड़कर
(vi) मछली पाद तैरकर
(vii) घोंघा शूक रेंगकर
(viii) केंचुआ गमन में प्रयुक्त होने वाला भाग/अंग रेंगकर

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 8 शरीर में गति

HBSE 6th Class Science शरीर में गति Textbook Questions and Answers

प्रश्न 1.
रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए
(क) अस्थियों की संधियाँ शरीर को …………… में सहायता करती हैं।
(ख) अस्थियाँ एवं उपास्थि संयुक्त रूप से शरीर का …………… बनाते हैं।
(ग) कोहनी की अस्थियाँ …………… संधि द्वारा जुड़ी होती हैं।
(घ) गति करते समय …………… के संकुचन से अस्थियाँ खिंचती हैं।
उत्तर:
(क) गति करने
(ख) कंकाल
(ग) हिंज
(घ) पेशियों।

प्रश्न 2.
निम्न कथनों के आगे सत्य (T) तथा असत्य (F) को इंगित कीजिए
(क) सभी जन्तुओं की गति एवं चलन बिल्कुल एक समान होता है। ( )
(ख) उपास्थि अस्थि की अपेक्षा कठोर होती है।। ( )
(ग) अंगुलियों की अस्थियों में संधि नहीं होती। ( )
(घ) अग्रभुजा में दो अस्थियाँ होती हैं। (ङ) तिलचट्टों में बाह्य कंकाल पाया जाता है। ( )
उत्तर:
(क) असत्य
(ख) असत्य
(ग) असत्य
(घ) सत्य
(ङ) सत्य।

प्रश्न 3.
कॉलम 1 में दिए गए शब्दों का संबंध कालम 2 के एक अथवा अधिक कथन से जोड़िए

कॉलम – 1 कॉलम – 2
ऊपरी जबड़ा शरीर पर पंख होते हैं।
मछली बाह्य-कंकाल होता है।
पसलियाँ हवा में उड़ सकता है।
घोघा एक अचल संधि है।
तिलचट्टा हृदय की सुरक्षा करती है।
बहुत धीमी गति से चलता है।
का शरीर धारा रेखीय होता है।

उत्तर:
ऊपरी जबड़ा – एक अचल संधि है।
मछली – शरीर पर पंख होते हैं। इस का शरीर धारा रेखीय होता है।
पसलियाँ – हृदय की सुरक्षा करती हैं।
घोंघा – बहुत धीमी गति से चलता है।
तिलचट्टा – बाह्य कंकाल होता है, हवा में उड़ सकता है।

प्रश्न 4.
निम्न प्रश्नों के उत्तर दीजिए
(क) कंदुक-खल्लिका संधि क्या है?
(ख) कपाल की कौन-सी अस्थि गति करती है?
(ग) हमारी कोहनी पीछे की ओर क्यों नहीं मुड़ सकती?
उत्तर:
(क) एक अस्थि का गेंद वाला हिस्सा दूसरी अस्थि की कटोरी रूपी गुहिका में घुसा हुआ होता है। इस प्रकार की संधि सभी दिशाओं में गति प्रदान करती है।
(ख) निचला जबड़ा।
(ग) कोहनी पीछे की ओर नहीं मुड़ सकती क्योंकि इसमें हिन्ज संधि होती है जिसमें केवल आगे और पीछे एक ही दिशा में गति हो सकती है।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 8 शरीर में गति

HBSE 6th Class Science शरीर में गति Important Questions and Answers

वस्तुनिष्ठ प्रश्न

I. बहुविकल्पी प्रश्न : निम्नलिखित प्रश्नों में सही विकल्प का चयन कीजिए

1. संधियाँ जोड़ती हैं-
(क) हड्डियों को हड्डियों से
(ख) त्वचा को हड्डी से
(ग) पेशियों को
(घ) त्वचा से बालों को
उत्तर:
(क) हड्डियों को हड्डियों से

2. दरवाजे के कब्जे की भाँति कार्य करती है-
(क) कन्दुक खल्लिका संधि
(ख) धुराग्र संधि
(ग) हिन्ज संधि
(घ) अचल संधि
उत्तर:
(ग) हिन्ज संधि

3. ऊपरी जबड़े एवं कपाल के बीच संधि होती है-
(क) सचल संधि
(ख) अचल संधि
(ग) हिन्ज संधि
(घ) ये सभी
उत्तर:
(ख) अचल संधि

4. पसली पिंजर पाया जाता है, हमारे
(क) कपाल भाग में
(ख) वक्ष भाग में
(ग) उदर भाग में
(घ) श्रोणि भाग में
उत्तर:
(ख) वक्ष भाग में

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 8 शरीर में गति

II. रिक्त स्थान : निम्नलिखित वाक्यों में रिक्त स्थान भरिए

1. गर्दन तथा सिर को जोड़ने वाली संधि ………. है।
2. धुराग्र संधि में …………. एक छल्ले में घूमती है।
3. शरीर की समस्त अस्थियाँ मिलकर हमारा आंतरिक …………… बनाती है।
4. हमारे वक्ष भाग में लम्बी अस्थियों का शंकुरूपी बक्सा ……………कहलाता है।
उत्तर:
1. धुराग्र संधि,
2. बेलनाकार अस्थि
3. कंकाल
4. पसली पिंजर।

III. सुमेलन : कॉलम ‘A’ के शब्दों का मिलान कॉलम ‘B’ के शब्दों से कीजिए-

कॉलम ‘A कॉलम ‘B’
1. मेरूदण्ड (क) वक्षीय भाग में अस्थियों का बना बॉक्स
2. पसली पिंजर (ख) अस्थि जैसे नर्म अंग
3. उपास्थि (ग) संकुचन एवं शिथिलन करने वाली रचना
4. पेशी (घ) छोटी-छोटी अस्थियों से बनी संरचना

उत्तर:

कॉलम ‘A कॉलम ‘B’
1. मेरूदण्ड (घ) छोटी-छोटी अस्थियों से बनी संरचना
2. पसली पिंजर (क) वक्षीय भाग में अस्थियों का बना बॉक्स
3. उपास्थि (ख) अस्थि जैसे नर्म अंग
4. पेशी (ग) संकुचन एवं शिथिलन करने वाली रचना

IV. सत्य/असत्य : निम्नलिखित वाक्यों में सत्य एवं असत्य कथन छाँटिए

1. जांघ की अस्थि हमारे शरीर की सबसे लम्बी अस्थि होती
2. हमारी कोहनी में हिन्ज संधि होती है।
3. एक शिशु में मेरुदण्ड 33 कशेरुकाओं का बना होता है।
4. कपाल अस्थियों का बना होता है।
उत्तर:
1. सत्य
2. सत्य
3. सत्य
4. सत्य।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 8 शरीर में गति

अति लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
जब आप अपनी नोटबुक पर लिखते हैं, तब आपके शरीर के कौन से भाग गति करते हैं?
उत्तर:
अंगुलियां, अंगूठा, कलाई, आँखें।

प्रश्न 2.
अपनी कोहनी के जोड़ पर पैमाना बाँधकर क्या आपकी कोहनी गति कर सकती है? (क्रियाकलाप)
उत्तर;
नहीं, हम कोहनी को नहीं मोड़ पाते हैं।

प्रश्न 3.
संधि किसे कहते हैं?
उत्तर:
शरीर के विभिन्न भागों को उसी स्थान से मोड़ अथवा घुमा सकते हैं, जहाँ पर दो हिस्से एक-दूसरे से जुड़े हो, उन स्थानों को सन्धि कहते हैं।

प्रश्न 4.
संधियाँ कितने प्रकार की होती है?
उत्तर:
संधियाँ दो प्रकार की होती हैं- चल संधि तथा अचल संधि।

प्रश्न 5.
कंधे और भुजा के बीच कौन-सी संधि पायी जाती है?
उत्तर:
कंदुक-खल्लिका संधि।

प्रश्न 6.
गर्दन तथा सिर को जोड़ने वाली संधि का नाम लिखिए।
उत्तर:
धुरान संधि।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 8 शरीर में गति

प्रश्न 7.
कोहनी में हिंज जोड़ होता है। क्या आप ऐसे जोड़ों के अन्य दो उदाहरण दे सकते हैं?
उत्तर:
घुटने की संधि, उँगलियों की संधि।

प्रश्न 8.
हिंज संधि की गति कन्दुक-खल्लिका संधि से किस प्रकार भिन्न है? (क्रियाकलाप)
उत्तर;
हिंज संधि में केवल दो दिशाओं में गति होती है, जबकि कन्दुक खल्लिका संधि में विभिन्न दिशाओं में गति होती है।

प्रश्न 9.
अचल संधि किसे कहते हैं? ये कहाँ पायी जाती हैं?
उत्तर:
जब संधि वाली अस्थियाँ हिल नहीं सकती तो ऐसी संधि अचल संधि कहलाती है। जैसे-खोपड़ी की संधियाँ।

प्रश्न 10.
अचल संधि का उदाहरण दीजिए।
उत्तर:
ऊपरी जबड़े तथा कपाल की संधि।

प्रश्न 11.
ऊपरी जबड़े एवं कपाल के बीच कौन-सी संधि होती?
उत्तर:
अचल संधि होती है।

प्रश्न 12.
हमें शरीर की अस्थियों का कैसे पता चलता है?
उत्तर:
एक्स-रे द्वारा हमें शरीर की अस्थियों का पता चलता है।

प्रश्न 13.
गहरी सांस भरकर इसे कुछ समय तक रोकिए, अपने वक्ष और पीठ को हल्के से दबाकर अपनी अस्थियों का अनुभव करके बताइए कि आपकी पसलियों की संख्या कितनी है? (क्रियाकलाप)
उत्तर:
12 जोड़ी।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 8 शरीर में गति

प्रश्न 14.
घोंघा के चलन अंग का नाम लिखिए।
उत्तर:
पेशीय पाद घोंघा के चलन अंग होते हैं।

प्रश्न 15.
केंचुए के चलन अंग क्या हैं?
उत्तर:
शूक केंचुए के चलन अंग होते हैं।

प्रश्न 16.
अस्थि को कौन गति प्रदान करता है?
उत्तर:
पेशियाँ अस्थि को गति प्रदान करती हैं।

प्रश्न 17.
केंचुआ चिकनी सतह पर गति क्यों नहीं कर (क्रियाकलाप)
उत्तर;
चिकनी सतह पर केंचुआ के शूक बैस नहीं पाते, जिससे वह गति करने में असमर्थ होता है।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 8 शरीर में गति

लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
विभिन्न प्रकार की संधियों के नाम तथा उदाहरण दीजिए।
उत्तर:
संधियाँ दो प्रकार की होती हैं-
1. अचल संधि-जैसे-खोपड़ी की संधियाँ।

2. चल संधि-ये निम्न प्रकार की होती हैं

  • कंदुक खल्लिका संधि – बाँह के साथ कंधे की संधि।
  • हिन्ज संधि – कोहनी का जोड़।
  • धुराग्र संधि – गर्दन तथा सिर की संधि।

प्रश्न 2.
कंकाल किसे कहते हैं? इसमें कौन-कौन सी अस्थियाँ होती हैं? कंकाल के कार्य लिखिए।
उत्तर:
शरीर के अन्दर अनेक अस्थियों से मिलकर बना एक ढाँचा जो शरीर को एक आकार देता है, कंकाल कहलाता है। कंकाल में खोपड़ी, पसलियाँ, उरोस्थि, मेरुदण्ड, भुजाओं की अस्थियाँ तथा पैरों की अस्थियाँ सम्मिलित हैं।
कार्य-कंकाल शरीर को एक निश्चित आकृति प्रदान करता है तथा अन्दरूनी अंगों की रक्षा करता है।

प्रश्न 3.
कंदुक खल्लिका संधि क्या है ? चित्र बनाकर उदाहरण लिखिए।
उत्तर:
जब किसी अस्थि का गेंद वाला भाग दूसरी अस्थि की/ कटोरी जैसी आकृति में फंसा होता है तो ऐसी संधि को कंदुक खल्लिका संधि कहते हैं। श्रोणिमेखला में जाँघ की अस्थि इसी प्रकार जुड़ी होती है।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 8 शरीर में गति -1

प्रश्न 4.
धुराग्र सन्धि किसे कहते हैं? यह संधि कहाँ पायी जाती है?
उत्तर:
गर्दन तथा सिर को जोड़ने वाली संधि धुराग्र संधि होती है। इस प्रकार की संधि में एक अस्थि स्थिर होती है तथा इस पर दूसरी अस्थि इधर-उधर या आगे-पीछे गति कर सकती है। इसी संधि के कारण हम अपना सिर इधरउधर घुमा सकते हैं।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 8 शरीर में गति

प्रश्न 5.
हिन्ज संधि क्या है? इसका चित्र बनाकर उदाहरण दीजिए।
उत्तर:
हिन्ज संधि एक कब्जे की तरह कार्य करती हैं। इस सन्धि में अस्थियाँ केवल एक ही दिशा में गति कर सकती हैं। कोहनी तथा घुटने में इसी प्रकार की संधियाँ होती हैं।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 8 शरीर में गति -2

प्रश्न 6.
मानव कंकाल का चित्र बनाइए।
उत्तर:
मानव का कंकाल
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 8 शरीर में गति -3
चित्र: मानव कंकाल

प्रश्न 7.
उपास्थि किसे कहते हैं? कुछ ऐसे अंगों के नाम लिखिए जिनमें उपास्थि पायी जाती है।
उत्तर:
उपास्थि कंकाल के अतिरिक्त कुछ अन्य अंग भी हैं, जो हड्डियों जितने कठोर नहीं होते और जिन्हें मोड़ा जा सकता है, उन्हें उपास्थि कहा जाता है।
बाह्य कर्ण, नासा गुहा, पसलियों के किनारे आदि अंगों में उपास्थि पायी जाती है।

प्रश्न 8.
पेशी किसे कहते हैं? पेशियाँ कैसे कार्य करती हैं? चित्र बनाकर लिखिए।
उत्तर:
पेशी विशेष प्रकार के मांस तन्तु होते हैं, जो विभिन्न अंगों के बीच गति को आसान बनाते हैं। उदाहरण के लिए जब हमें अपना हाथ मोड़ना होता है तो हाथ की पेशियाँ सिकुड़ती हैं और जब हाथ को फैलाना होता है तो पेशियाँ फैलती हैं जैसा कि चित्र में दिखाया गया है।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 8 शरीर में गति -4
चित्र : अस्थि को गति प्रदान करने में दो पेशियाँ संयुक्त रूप से कार्य करती हैं।

प्रश्न 9.
पक्षियों के कंकाल की विशेषताएँ लिखिए।
उत्तर:
पक्षियों का शरीर उड़ने, चलने एवं जल पर तैरने के अनुकूल होता है। उनकी अस्थियों में वायु प्रकोष्ठ होते हैं, जिनके कारण उनकी अस्थियाँ हल्की परन्तु मजबूत होती हैं। पश्चपाद की अस्थियाँ चलने व बैठने के लिए अनुकूलित होती हैं। अग्रपाद की अस्थियाँ रूपान्तरित होकर पक्षी के पंख बनाती हैं। कंधे की अस्थियाँ मजबूत होती हैं। वक्ष की अस्थियाँ उड़ने वाली पेशियों को जकड़े रखने के लिए विशेष रूप से रूपान्तरित होती हैं तथा पंखों को ऊपर-नीचे करने में सहायक होती हैं।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 8 शरीर में गति

प्रश्न 10.
मछलियों में गति किस प्रकार होती है ? चित्र द्वारा दर्शाइए।
उत्तर:
मछलियों का शरीर धारा-रेखीय होता है अर्थात् मछली का सिर व पूँछ उसके मध्य भाग की अपेक्षा पतला एवं नुकीला होता है।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 8 शरीर में गति -4.1
चित्र : मछली में गति

इस विशेष आकृति के कारण जल इधर-उधर निकल जाता है और मछली जल में सरलता से तैर सकती है। तैरने की प्रक्रिया में शरीर का अग्न भाग एक ओर मुड़ जाता है तथा पूँछ विपरीत दिशा में जाती है। यह क्रिया मछली में बार-बार होती है जिससे वह आगे बढ़ती है।

दीर्घ उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
हमारे शरीर के विभिन्न भागों की गतियों का विवरण सारणीबद्ध कीजिए। (क्रियाकलाप)
उत्तर:
तालिका – हमारे शरीर में गतियाँ
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 8 शरीर में गति -5

प्रश्न 2.
आप कागज और प्लास्टिक की गेंद से कन्दुक खल्लिका संधि कैसे बना सकते हैं? समझाइए। (क्रियाकलाप)
उत्तर:
कागज़ की एक पट्टी को एक बेलन (सिलिंडर) के रूप में मोड़िए। रबड़ अथवा प्लास्टिक की एक पुरानी गेंद में एक छेद करके (किसी के निरीक्षण में) उसमें मोड़े हुए कागज के बेलन को डालिए, जैसा कि चित्र में दशोया गया है। आप कागज के बेलन को गेंद पर भी चिपका सकते हैं। गेंद को एक छोटी कटोरी में रखकर चारों ओर घुमाने का प्रयास कीजिए। क्या गेंद कटोरी में स्वतंत्र रूप से घूमती है। यह कन्दुक-खल्लिका संधि की भांति ही कार्य करती है।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 8 शरीर में गति -6

प्रश्न 3.
मनुष्य का पसली-पिजर तथा मेरुदण्ड का चित्र बनाकर संक्षिप्त विवरण दीजिए।
उत्तर:
मनुष्य का पसली-पिंजर-
मनुष्य के वक्ष भाग में पसलियों का बना हुआ बक्से जैसा भाग पसली-पिंजर कहलाता है। इसमें हृदय, फेफड़े, यकृत आदि अंग सुरक्षित रहते हैं।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 8 शरीर में गति -7
मनुष्य का मेरुदण्ड-
यह गर्दन से प्रारम्भ होकर पीठ के नीचे तक फैली एक दण्ड समान संरचना होती है। यह छोटी-छोटी अनेक हड्डियों की बनी होती है। पसली-पिंजर भी वक्ष क्षेत्र में इन अस्थियों से जुड़ा रहता है। मेरुदण्ड शरीर को सीधा खड़ा रखने तथा शरीर को मोड़ने में सहायता करता है।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 8 शरीर में गति -8
चित्र : मेरुदण्ड

प्रश्न 4.
निम्नलिखित के चित्र बनाकर इनका कार्य लिखिए
(क) कंधे की अस्थियाँ
(ख) श्रोणि अस्थियाँ
(ग) मानव खोपड़ी।
उत्तर;
(क) कंधे की अस्थियाँ : ये हाथ की अस्थियों को जोड़ती हैं तथा अनेक अंगों की रक्षा करती हैं।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 8 शरीर में गति -9
कंधे की अस्थियाँ

(ख) श्रोणि अस्थियाँ : ये पादों की अस्थियों को जोड़ती हैं तथा उदर के अंगों की रक्षा करती हैं।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 8 शरीर में गति -10
श्रोणि अस्थियाँ

(ग) मानव खोपड़ी : यह मस्तिष्क की रक्षा करती है तथा अनेक मुखीय अंग इसमें स्थित होते हैं।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 8 शरीर में गति -11
चित्र : मानव खोपड़ी

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 8 शरीर में गति

प्रश्न 3.
सर्प कैसे गति करते हैं? चित्र द्वारा दर्शाइए।
उत्तर:
सर्प का मेरुदण्ड लम्बा होता है। शरीर की पेशियाँ क्षीण एवं असंख्य होती हैं। वे परस्पर जुड़ी होती हैं
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 8 शरीर में गति -12
चाहे वे दूर क्यों न हों। पेशियों मेरुदण्ड, पसलियों एवं त्वचा को भी जोड़ती हैं। सर्प का शरीर अनेक वलय में मुड़ा होता है। इसी प्रकार सर्प का प्रत्येक वलय उसे आगे की ओर धकेलता है। इसका शरीर अनेक वलय बनाता है और प्रत्येक वलय आगे को धक्का देता है। इस कारण सर्प बहुत तेज गति से आगे की ओर चलता है परन्तु सरल रेखा में नहीं चलता।

→ हमारे शरीर में स्वतः ही अनेक गतियाँ निरन्तर होती रहती हैं। चलना, टहलना, दौड़ना, उड़ना, रेंगना, तैरना, कूदना इत्यादि जन्तुओं के एक स्थान से दूसरे स्थान तक जाने के कुछ तरीके हैं।
→ हमारे शरीर की ये गतियाँ कंकाल एवं पेशियों द्वारा सम्पन्न होती हैं।
→ अस्थि एवं उपास्थि मानव का कंकाल बनाते हैं। कंकाल शरीर का पिंजर बनाता है और एक आकृति भी देता है। कंकाल चलने में सहायक है और आंतरिक अंगों की सुरक्षा करता है।
→ मानव कंकाल खोपड़ी, मेरुदण्ड, पसलियों, वक्ष की अस्थि, कंधे एवं श्रोणि मेखला तथा हाथ एवं पैर की अस्थियों से बनता है।
→ पेशियों के जोड़े के एकान्तर क्रम में सिकुड़ने एवं फैलने से अस्थियाँ गति करती हैं।
→ अस्थियाँ एक-दूसरे से विभिन्न प्रकार की संधियों द्वारा जुड़ती हैं।
→ अस्थियों की संधियाँ अनेक प्रकार की होती हैं। यह संधियाँ अस्थि की प्रकृति एवं गति की दिशा पर निर्भर करती हैं।
→ पक्षियों की दृढ़ पेशियाँ तथा हल्की अस्थियाँ मिलकर उन्हें उड़ने में सहायता करती हैं। पक्षी पंखों को फड़फड़ा कर उड़ते हैं।
→ मछली शरीर के दोनों ओर एकान्तर क्रम में वलय बनाकर जल में तैरती है।
→ सर्प अपने शरीर के दोनों ओर एकान्तर क्रम में वलय बनाते हुए भूमि पर वलयाकार गति करता हुआ आगे की ओर फिसलता है। बहुत सारी अस्थियाँ एवं उसमें जुड़ी पेशियाँ शरीर को आगे की ओर धक्का देती हैं।
→ तिलचट्टे का शरीर एवं पैर कठोर आवरण से ढंके होते हैं जो बाह्य कंकाल बनाता है। वक्ष की पेशियाँ तीन जोड़ी पैरों एवं दो जोड़ी पंखों से जुड़ी होती हैं जो तिलचट्टे को चलने एवं उड़ने में सहायता करती हैं।
→ केंचुए में गति शरीर की पेशियों के बारी-बारी से विस्तारण एवं संकुचन से होती है। शरीर की अधः सतह पर शूक केंचुए को भूमि पर पकड़ बनाने में सहायक है।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 8 शरीर में गति

शरीर में गति Class 6 HBSE Notes in Hindi

→ घोंघा पेशीय पाद की सहायता से चलता है।
→ संधि – दो हड्डियों के जुड़ने के स्थान को संधि कहते हैं।
→ कंदुक खल्लिका संधि – एक अस्थि का गेंद वाला गोल हिस्सा दूसरी अस्थि की कटोरी रूपी गुहिका में फँसा हुआ हो तो वह कंदुक खल्लिका संधि कहलाती है। इस प्रकार की संधि – सभी दिशाओं में गति कर सकती है।
→ धरान संधि – गर्दन तथा सिर को जोड़ने वाली संधि।
→ हिन्ज संधि – अस्थियों का ऐसा जोड़ जो केवल एक दिशा में गति होने देता है जैसे-कोहनी की संधि।
→ अचल संधि – अस्थियों का जोड़ जो गति नहीं कर सकता
→ कंकाल – हमारे शरीर की सभी अस्थियाँ शरीर को एक निश्चित ढाँचा प्रदान करती हैं। इस ढाँचे को कंकाल कहते हैं।
→ पसली पिंजर – पसलियाँ, वक्ष की अस्थि एवं मेरुदण्ड से जुड़कर एक बक्से की रचना करती हैं। इस शंकुरूपी बक्से को पसली पिंजर कहते हैं।
→ मेरुदण्ड – गर्दन से लेकर पीठ से नीचे की ओर जाने वाली छोटी-छोटी अस्थियों से मिलकर बनी एक लम्बी दण्ड रूपी संरचना मेरुदण्ड कहलाती है।
→ कंधे की अस्थियाँ – कंधों के समीप दो उभरी हुई अस्थियाँ कंधे की अस्थियाँ कहलाती हैं।
→ श्रोणि अस्थियाँ – यह बॉक्स के समान एक ऐसी संरचना होती है जो उदर के नीचे के अंगों की रक्षा करती है।
→ उपास्थि – अस्थि के समान किन्तु मुलायम कंकाल।
→ पेशी – अस्थियों को गति प्रदान करने में सहायक संरचनाएँ।
→ जन्तुओं की चाल – जन्तुओं का चलने का तरीका।
→ शूक – बाल जैसी सख्त संरचना।
→ बाह्य कंकाल – मनुष्य के नाखून, तिलचट्टे का कठोर आवरण, गाय के सींग बाह्य कंकाल होते हैं।
→ धारारेखीय – शरीर की ऐसी आकृति जिसमें सिर एवं पूँछ मध्य भाग की अपेक्षा पतला एवं नुकीला होता है।

HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 7 पौधों को जानिए

Haryana State Board HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 7 पौधों को जानिए Textbook Exercise Questions and Answers.

Haryana Board 6th Class Science Solutions Chapter 7 पौधों को जानिए

HBSE 6th Class Science पौधों को जानिए InText Questions and Answers

पहेली/बूझो

प्रश्न 1.
पहेली जानना चाहती है कि मनीप्लांट, सेम, लौकी तथा अंगूर के तने किस प्रकार के हैं? इनमें से कुछ पौधों को देखिए। ये शाक, झाड़ी और पेड़ से किस प्रकार भिन्न हैं। आपके विचार से इनमें से कुछ को ऊपर चढ़ने के लिए सहारे की आवश्कयता क्यों होती है?
उत्तर:
ये पौधे, शाक, झाड़ी तथा पेड़ों से विभिन्न होते हैं क्योंकि इनका तना कोमल एवं कमजोर होता है। ये पौधे सीधे खड़े नहीं हो सकते हैं और भूमि पर फैल जाते हैं। इसलिए इन्हें विसपी लताएँ कहते हैं। जबकि कुछ पौधे आस-पास में ढाँचे की सहायता से ऊपर चढ़ जाते हैं। ऐसे पौधे आरोही पौधे कहलाते हैं।

प्रश्न 2.
बूझो के मस्तिष्क में अजब विचार आया। यदि वह जानना चाहता है कि पौधे की जड़ किस प्रकार की होगी, तो उसे पौधे को उखाड़ने की आवश्यकता नहीं है। वह पौधे की पत्तियों को देखकर इसका उत्तर दे सकता है।
उत्तर:
पौधे की पत्ती के शिराविन्यास को देखकर पौधे की जड़ का पता लगाया जा सकता है। समान्तर शिरा विन्यास पत्ती वाले पौधे की जड़ रेशेदार होती है। जबकि जालिकावत् शिराविन्यास वाले पौ? की जड़ें मूसला होती है।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 7 पौधों को जानिए

HBSE 6th Class Science पौधों को जानिए Textbook Questions and Answers

प्रश्न 1.
निम्न कश्चनों को ठीक करके लिखिए
(क) मा मिट्टी सेजल एवं खनिज अवशोषित करता है।
(ख) पत्तियाँ पौधे को सीधा खड़ा रखती हैं।
(ग) जड़ें जल को पत्तियों तक पहुँचाती हैं।
(घ) पुष्य में पुंकेसरों एवं पंखुड़ियों की संख्या सदा समान होती है।
(ङ) यदि किसी पुष्प के बाह्य दल परस्पर जुड़े हो तो उसकी पंखुड़ियाँ भी आपस में जुड़ी होंगी।
(च) यदि किसी पुष्प की पंखुड़ियाँ परस्पर जुड़ी हो तो स्त्रीकेसर पंखुड़ियों से जुड़ा होगा।
उत्तर:
(क) जड़ें मिट्टी से जल एवं खनिज अवशोषित करती हैं।
(ख) तना पौधे को सीधा खड़ा रखता है।
(ग) तना जल को पत्तियों तक पहुँचाता है।
(घ) पुष्प में पुंकेसरों एवं पंखुड़ियों की संख्या सदा समान नहीं होती है।
(ङ) यदि किसी पुष्प के बाह्यदल परस्पर जुड़े हों तो उसका पखुड़िया पृथक् होगा, परस्पर जुड़ा नहीं होगा।
(च) यदि किसी पुष्प की पंखुड़ियाँ परस्पर जुड़ी हों तो स्त्रीकेसर आवश्यक रूप से पंखुड़ियों से जुड़ा नहीं होगा।

प्रश्न 2.
निम्न के चित्र बनाइए
(क) पत्ती
(ख) मूसला जड़
(ग) एक पुष्प जिसका उपरोक्त सारणी में अध्ययन किया हो।
उत्तर:
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 7 पौधों को जानिए -1

प्रश्न 3.
क्या आप अपने घर के आस-पास ऐसे पौधे को जानते हैं जिसका तना लम्बा परन्तु दुर्बल हो? इसका नाम लिखिए। आप इसे किस वर्ग में रखेंगे?
उत्तर:
हाँ, काशीफल का पौधा, इसे सहारे की आवश्यकता होती है। यह विसी लता है।

प्रश्न 4.
पौधे में तने का क्या कार्य है?
उत्तर:
1. तना पौधे को सहारा देता है।
2. तने द्वारा जड़ों से पत्तियों को जल और पत्तियों से जड़ों को व अन्य भागों को भोजन पहुँचाया जाता है।

प्रश्न 5.
निम्न में से किन पत्तियों में जालिका रूपी शिरा विन्यास पाया जाता है
गेहूँ, तुलसी, मक्का, घास, धनिया, गुड़हल।
उत्तर:
तुलसी, धनिया, गुड़हल।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 7 पौधों को जानिए

प्रश्न 6.
यदि किसी पौधे की जड़ रेशेदार हो तो उसकी पत्ती का शिरा विन्यास किस प्रकार का होगा?
उत्तर:
समान्तर शिराविन्यास।

प्रश्न 7.
यदि किसी पौधे की पत्ती में जालिका रूपी शिरा विन्यास हो तो उसकी जड़ें किस प्रकार की होगी?
उत्तर:
मूसला जड़।

प्रश्न 8.
क्या आप पत्तियों को देखे बिना उनकी पहचान कर सकते हैं?
उत्तर;
1. हाँ, पत्ती की छाप लेकर।
2. पत्ती के ऊपर एक कागज रखिये। पेंसिल को तिरछा पकड़िए तथा इसकी नौक से कागज के उस भाग को जिसके नीचे पत्ती है, धीरे-धीरे रगड़िए। आपको कुछ रेखाओं के साथ छाप दिखाई देगी।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 7 पौधों को जानिए -2
चित्र : पत्ती की छाप लेना

प्रश्न 9.
किसी पुष्प के विभिन्न भागों के नाम लिखिए।
उत्तर:
पुष्य के विभिन्न भागों के नाम

  1. पुष्प वृन्त,
  2. बाह्य दल,
  3. पंखुड़ियाँ,
  4. पुंकेसर,
  5. परागकोष,
  6. स्त्रीकेसर,
  7. वर्तिका,
  8. वर्तिकान।

प्रश्न 10.
निम्न में से किन पौधों के फूल आपने देखे हैं
घास, मक्का , गेहूँ, टमाटर, तुलसी, पीपल, शीशम,
बरगद, आम, जामुन, अमरूद, अनार, पपीता, केला, नीबू, गन्ना, आलू, मूंगफली।
उत्तर:
हमने सभी पौधों को देखा है। इनमें से फूलों वाले पौधे हैं।
जामुन टमाटर अनार अमरूद
तुलसी केला पपीता नीबू
आम मिर्च

प्रश्न 11.
पौधों के उस भाग का नाम लिखिए जो अपना भोजन बनाता है। इस प्रक्रम को क्या कहते हैं?
उत्तर:
पत्तियाँ भोजन बनाती हैं। इस प्रक्रम को प्रकाश संश्लेषण कहते हैं।

प्रश्न 12.
पुष्प के किस भाग में अंडाशय मिलता है?
उत्तर:
अंडाशय स्त्रीकेसर का सबसे निचला एवं फूला हुआ भाग है।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 7 पौधों को जानिए

प्रश्न 13.
ऐसे दो पुष्यों के नाम लिखिए जिनमें से प्रत्येक में संयुक्त और अलग-अलग पंखुड़ियाँ हों।
उत्तर:
1. संयुक्त पंखुड़ियाँ – धतूरा, कनेर।
2. अलग-अलग पंखुड़ियाँ – कमल, सरसों।

HBSE 6th Class Science पौधों को जानिए Important Questions and Answers

वस्तुनिष्ठ प्रश्न

I. बहुविकल्पी प्रश्न : निम्नलिखित प्रश्नों में सही विकल्प का चयन कीजिए

1. निम्नलिखित में से कौन-सा पौधा झाड़ी है?
(क) गेहूँ
(ख) मेंहदी
(ग) पालक
(घ) पीपल
उत्तर:
(ख) मेंहदी

2. फलक भाग होता है
(क) जड़ का
(ख) तने का
(ग) पत्ती का
(घ) फल का
उत्तर:
(ग) पत्ती का

3. शिरा विन्यास पाया जाता है
(क) पत्तियों में
(ख) तने में
(ग) जड़ों में
(घ) पुष्यों में
उत्तर:
(क) पत्तियों में

4. पौधों द्वारा जल को वाष्प के रूप में उड़ाना कहलाता है
(क) प्रकाश संश्लेषण
(ख) संवहन
(ग) प्रकीर्णन
(घ) वाष्पोत्सर्जन
उत्तर:
(घ) वाष्पोत्सर्जन

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 7 पौधों को जानिए

II. रिक्त स्थान : निम्नलिखित वाक्यों में रिक्त स्थान भरिए

1. हरे एवं कोमल तने वाले पौधे …………….. कहलाते हैं।
2. पत्ती के चपटे हरे भाग को …………….. कहते हैं।
3. पत्तियों पर शिराओं द्वारा बनाए गए डिजाइन को …………….. कहते हैं।
4. पुष्प के केन्द्र में स्थित भाग को …………….. कहते हैं।
उत्तर:
1. शाक
2. फलक
3. शिराविन्यास
4. स्त्रीकेसर

III. सुमेलन : कॉलम ‘A’ के शब्दों का मिलान कॉलम ‘B’ के शब्दों से कीजिए-

कॉलम ‘A’ कॉलम ‘B’
(क) प्रकाश संश्लेषण (i) तना
(ख) जल संवहन (ii) जड़
(ग) पौधे का स्थिरक (iii) पुंकेसर व स्त्रीकेसर
(घ) पुष्प के जननांग (iv) पत्ती

उत्तर:

कॉलम ‘A’ कॉलम ‘B’
(क) प्रकाश संश्लेषण (iv) पत्ती
(ख) जल संवहन (i) तना
(ग) पौधे का स्थिरक (ii) जड़
(घ) पुष्प के जननांग (iii) पुंकेसर व स्त्रीकेसर

IV. सत्य/असत्य : निम्नलिखित वाक्यों में सत्य एवं असत्य कथन छोटिए

(i) पीपल की पत्ती में जालिकावत् शिरा विन्यास पाया जाता
(ii) हम पौधे के उन भागों को खाते हैं जिनमें भोजन संचित होता है।
(iii) पुष्प पौधे का निरर्थक एवं अनाकर्षक भाग है।
(iv) अण्डाशय में छेटी-छेटी गोल संरचनाएं बीजाण्ड कहलाती है।
उत्तर:
1. सत्य
2. सत्य
3. असत्य
4. सत्य।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 7 पौधों को जानिए

अति लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
पौधों को कितने वर्गों में बाँटा जा सकता है? नाम लिखिए।
उत्तर:
तीन वर्गों में शाक, झारा था वृक्ष।

प्रश्न 2.
पौधे के दो मुख्य भाग कौन-कौन से हैं?
उत्तर:

जड़
तना।

प्रश्न 3.
खरपतवार क्या होता है?
उत्तर:
खेतों में बिना बोए उगने वाले (अनचाहे) पौधे खरपतवार कहलाते हैं।

प्रश्न 4.
आरोही पौधे किन्हें कहते हैं?
उत्तर:
कमजोर तने वाले पौधे जो आगे बढ़ने के लिए किसी का सहारा लेते हैं, आरोही पौधे कहलाते हैं।

प्रश्न 5.
विसपी लताएं किन्हें कहते हैं?
उत्तर:
ऐसे पौधे जो भूमि पर रेंगकर आगे बढ़ते हैं, विसी लताएँ कहलाते हैं।

प्रश्न 6.
किसी शाक के पत्तियोंयुक्त तने को लाल स्याही से रंगीन जल के गिलास में थोड़ी देर तक रखने पर आप क्या देखते हैं? (क्रियाकलाप)
उत्तर:
तने का कुछ भाग, पत्तियाँ तथा पत्तियों की शिराएँ लाल दिखाई देती हैं।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 7 पौधों को जानिए

प्रश्न 7.
पत्तियों और शिराओं में लाल रंग कैसे पहुँचता (क्रियाकलाप)
उत्तर:
तने में उपस्थित महीन नलिकारूपी संरचनाओं द्वारा।

प्रश्न 8.
तने का मुख्य कार्य क्या है?
उत्तर:
जल तथा इसमें घुले खनिजों को पत्तियों तक पहुँचाना तथा पत्तियों में बने भोजन को जड़ों तक पहुँचाना।

प्रश्न 9.
पत्ती क्या होती है?
उत्तर:
पौधे के तने पर लगा चपटा, चौड़ा एवं हरा भाग पत्ती कहलाता है।

प्रश्न 10.
पत्ती के मुख्य भागों के नाम लिखिए।
उत्तर:
1. पर्णवृन्त तथा
2. पटल।

प्रश्न 11.
पत्ती तने से कैसे जुड़ी होती है।
उत्तर:
पत्ती तने से पर्णवृन्त द्वारा जुड़ी होती है।

प्रश्न 12.
किसी जल सिंचित पौधे को दिन के समय पॉलीथीन से ढक देने पर आप पॉलीथीन में क्या देखते हैं और क्यों? (क्रियाकलाप)
उत्तर:
पॉलीथीन की भीतरी सतह पर जल की बूंदें एकत्र हो जाती हैं। ये जल की बूंदें पत्तियों द्वारा वाष्प के रूप में जल के निष्कासन द्वारा बनी हैं।

प्रश्न 13.
वाष्पोत्सर्जन किसे कहते हैं?
उत्तर:
पौधों के हरे भागों से जल का वाष्य के रूप में उड़ना वाष्पोत्सर्जन कहलाता है।

प्रश्न 14.
एक जड़युक्त पौधे तथा एक जड़ कटे पौधे को अलग-अलग गमलों में लगाकर नियमित रूप से पानी दिया गया गया। कौन सा पौधा स्वस्थ रहेगा और क्यों? (क्रियाकलाप)
उत्तर:
जड़युक्त पौधा स्वस्थ रहेगा। क्योंकि जड़विहीन पौधा जल ग्रहण नहीं कर पाया और वह सूख गया।

प्रश्न 15.
दो ऐसे पौधों के नाम बताइए जिनमें मूसला जड़ें मिलती हैं।
उत्तर:

  • सरसों
  • चना।

प्रश्न 16.
दो ऐसे पौधों के नाम बताइए जिनमें रेशेदार जड़ें मिलती हैं।
उत्तर:

  • मक्का
  • गेहूँ।

प्रश्न 17.
दो ऐसी जड़ों के नाम लिखिए जिन्हें हम खाते हैं।
उत्तर:

  • गाजर
  • मूली।

प्रश्न 18.
बिना खिले पुष्प में पंखुड़ियाँ कहाँ बन्द रहती हैं? (क्रिया कलाप)
उत्तर:
बाह्य दलों के अन्दर।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 7 पौधों को जानिए

प्रश्न 19.
अण्डाशय की काट पर जल की बूँद क्यों जाती है? (क्रियाकलाप)
उत्तर:
अण्डाशय की काट को सूखने से बचाने के लिए।

प्रश्न 20,
अण्डाशय की काट को आवर्धक लेंस द्वारा देखने पर आपको क्या दिखाई देता है। (क्रियाकलाप)
उत्तर:
छोटी-छोटी गोल संरचनाएँ जिन्हें बीजाण्ड कहते हैं।

लघु उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
शाक, झाड़ी तथा वृक्ष के दो-दो उदाहरण लिखिए।
उत्तर:
शाक-गेहूँ, धनिया। झाड़ी-मेंहदी, गुड़हल।
वृक्ष-आम, बरगद।

प्रश्न 2.
निम्नलिखित के दो-दो उदाहरण दीजिए-
(क) दो विसपी लताओं के नाम
(ख) दो जड़ों के नाम जिन्हें हम खाते हैं।
उत्तर:
(क)
(i) लौकी
(ii) कद्दू ।

(ख)
(i) गाजर
(ii) शकरकन्द।

प्रश्न 3.
जड़ तथा तने के दो-दो कार्य लिखिए।
उत्तर:
(क) जड़ के कार्य-

  • पौधे को भूमि में साधे रखना।
  • भूमि से जल एवं खनिज लवण अवशोषित करना।

(ख) तने के कार्य-

  • पत्नियों, पुष्पों व फलों को धारण करना।
  • जल एवं भोज्य पदार्थों का स्थानान्तरण करना।

प्रश्न 4.
एक सामान्य पत्ती का चित्र बनाकर उसके दो भागों के नाम व कार्य लिखिए।
उत्तर:
1. पर्ण वृन्त- यह पटल पत्ती को तने से जोड़ता है।
2. फलक- यह भोजन निर्माण करता है।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 7 पौधों को जानिए -3

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 7 पौधों को जानिए

प्रश्न 5.
आपके द्वारा अध्ययन किये गये कुछ खरपतवारों के नाम, इनमें जड़ों एवं शिरा विन्यास के प्रकार को दर्शाने के लिए एक तालिका बनाइए।
उत्तर:
जड़ के प्रकार एवं पत्तियों में शिरा-विन्यास के प्रकार

पौधों के नाम शिरा विन्यास का प्रकार जड़ का प्रकार
1. बथुआ जालिकावत् मूसला
2. जई समान्तर रेशेदार
3. सहूँ समान्तर रेशेदार
4. चौलाई जालिकावत् मूसला

प्रश्न 6.
वाष्योत्सर्जन क्या होता है? हम यह कैसे पता करेंगे कि पौधे वाष्योत्सर्जन क्रिया में जलवाष्य निष्कासित करते हैं? (क्रियाकलाप)
उत्तर:
पौधे की पत्तियों द्वारा अतिरिक्त जल को जल वाष्प के रूप में निष्कासित करना वाष्पोत्सर्जन कहलाता है। एक स्वस्थ पौधे को गमले में लेकर इसमें पर्याप्त पानी देकर इसे पॉलीथीन से पूर्णत: ढक देते हैं। अब इसे धूप में रख देते हैं। कुछ देर पश्चात हम पॉलीथीन की भीतरी सतह पर पानी की छोटी-छोटी बूंदें देखते हैं। ये जल की बूंदें पत्तियों द्वारा वाष्पोत्सर्जन के फलस्वरूप बनती हैं।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 7 पौधों को जानिए

प्रश्न 7.
प्रकाश संश्लेषण क्या होता है?
उत्तर:
यह पौधों के हरे भागों (विशेषकर पत्तियों) में होने वाली एक प्रक्रिया है। इसमें हरे पौधे सूर्य के प्रकाश की उपस्थिति में हरे रंग के पदार्थ द्वारा, कार्बन डाइऑक्साइड व जल ग्रहण करके अपना भोजन बनाते हैं। इस क्रिया में ऑक्सीजन मुक्त होती है।

प्रश्न 8.
मक्का और चने के बीजों को नम रुई पर उगाया गया। कुछ दिनों बाद दोनों नवोद्भिदों की जड़ों का निरीक्षण किया गया।
(i) चित्र में पहचानिए कौन-सी जड़ चना की है तथा कौन-सी मक्का की।
(i) दोनों जड़ों में एक समानता तथा अन्तर बताइए। (क्रिया कलाप)
उत्तर:
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 7 पौधों को जानिए -4
(i) (a) मक्का की जड़
(b) चने की जड़

(ii) समानता : दोनों नीचे की ओर निकलती हैं।
अन्तर : मक्का की जड़ अशाखित है, जबकि चने की जड़ शाखित हैं।

प्रश्न 9.
मूसला जड़ एवं रेशेदार जड़ें किन्हें कहते हैं?
उत्तर:
मूसला जड़-वे जड़ें जिनमें एक मुख्य जड़ होती है तथा इससे अनेक पार्श्व जड़ें निकलती हैं, मूसला जड़ कहलाती हैं।
रेशेदार जड़-ऐसी जड़ें जिनमें एक ही स्थान से धागे के समान अनेक जड़े निकलती हैं, रेशेदार जड़ें कहलाती हैं।

दीर्घ उत्तरीय प्रश्न

प्रश्न 1.
किसी पौधे के विभिन्न भागों को दर्शाता हुआ आरेख चित्र बनाइए।
उत्तर:
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 7 पौधों को जानिए -5

प्रश्न 2.
पौधों को उनकी लम्बाई, कोमल एवं कठोर गुण तथा शाखाओं के आधार पर कितने भागों में बाँटा गया है? सचित्र वर्णन कीजिए।
उत्तर:
उपरोक्त आधार पर पौधों को तीन वर्गों में बाँटा जा सकता है-
1. शाक : ये कम लम्बाई वाले पौधे होते हैं। इनके तने कोमल तथा शाखाएँ छोटी होती हैं।
जैसे- गेहूँ, बथुआ, चना, मटर।

2. झाड़ी : ये पौधे मध्यम ऊँचाई के होते हैं। इन पौधों में कोई एक मुख्य तना नहीं होता है। अनेक तने एक ही स्थान से निकलते दिखाई देते हैं।
जैसे- मेंहदी, गुड़हल, बाँस आदि।

3. वृक्ष : ये अधिक ऊँचाई वाले पौधे होते हैं। इनमें एक मुख्य स्तम्भ होता है जो ऊपर जाकर काफी शाखित हो जाता है। इनका तना कठोर होता है।
जैसे- बरगद, आम, पीपल।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 7 पौधों को जानिए -6
चित्र : (a) शाक, (b) झाड़ी, () वृक्ष

प्रश्न 3.
आपके द्वारा देखे गए कुछ पौधों को शाक, झाड़ी अथवा वृक्ष संवर्ग में निम्नानुसार सारणी में वर्गीकृत कीजिए।
(i) ऊँचाई (स्वयं की लम्बाई से तुलना करके)
(ii) तना (हरा, कोमल, मोटा, कठोर)
(iii) शाखाएँ कहाँ से निकलती हैं (तने के आधार से या तने के ऊपर से)
(iv) पौधे का संवर्ग (शाक, झाड़ी या वृक्ष) (क्रियाकलाप)
उत्तर:
सारणी : पौधों के संवर्ग
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 7 पौधों को जानिए -7

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 7 पौधों को जानिए

प्रश्न 4.
किसी क्रिया कलाप द्वारा स्पष्ट कीजिए कि पत्तियों में मण्ड का निर्माण होता है। (क्रियाकलाप)
उत्तर:
आवश्यक सामग्री : पत्ती, स्प्रिट, बीकर, परखनली, बर्नर, जल, प्लेट एवं आयोडीन विलयन।
परखनली में एक पत्ती रखिए तथा उसमें पर्याप्त मात्रा में स्प्रिट डालें, जिससे पत्ती उसमें पूर्णत: डूबी रहे। अब इस परखनली को जल से आधे भरे बीकर में रखिए। बीकर को उस समय तक गर्म करते रहें जब तक पत्ती से हरा रंग पूर्णत: बाहर नहीं निकल जाता। अब पत्ती को परखनली से सावधानीपूर्वक बाहर निकालकर जल से भली-भाँति धोएँ। इसे प्लेट में रखकर आयोडीन विलयन की कुछ बूंदें डालिए।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 7 पौधों को जानिए -8
पत्ती से हरा रंग बाहर निकल कर स्प्रिट में घुल जाता है और पत्ती रंगहीन दिखाई देती है। इस पत्ती पर आयोडीन की बूंदें डालने पर इसका रंग नीला-काला हो जाता है। इससे स्पष्ट होता है कि पत्ती में मण्ड उपस्थित है।

प्रश्न 5.
किसी बगीचे या खेत में जाकर विभिन्न प्रकार के पौधों (खरपतवारों) को उखाड़कर देखिए तथा उनके नामांकित चित्र बनाइए। चित्र में जड़ों के प्रकार भी बताइए। (क्रियाकलाप)
उत्तर:
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 7 पौधों को जानिए -9

प्रश्न 6.
किसी पुष्प का नामांकित चित्र बनाकर उसके भागों के नाम अंकित कीजिए। स्त्रीकेसर तथा पुंकेसर के चित्र बनाकर उनका कार्य लिखिए।
उत्तर:
पुष्प के विभिन्न भागों को दर्शाता हुआ चित्र-
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 7 पौधों को जानिए -10
स्त्रीकेसर: यह पुष्प का मादा भाग है। इसका फूला हुआ नीचे का भाग अण्डाशय कहलाता है। इसके ऊपर का सँकरा भाग वर्तिका तथा वर्तिका के ऊपर धुंडी जैसा भाग वर्तिकान कहलाता है।
कार्य: अण्डाशय के अन्दर बीज का निर्माण होता है तथा यह फूलकर फल बनाता है।

पुंकेसर: यह पुष्प का नर अंग है। इसका लम्बा पतला भाग तंतु तथा ऊपर का फूला भाग परागकोष कहलाता है।
कार्य: परागकोष के अन्दर परागकण बनते हैं।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 7 पौधों को जानिए -11

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 7 पौधों को जानिए

प्रश्न 7.
पुष्प के अण्डाशय की आन्तरिक संरचना का अध्ययन कैसे किया जाता है? अण्डाशय की आन्तरिक संरचना का चित्र बनाइए।
उत्तर:
अण्डाशय स्त्रीकेसर का सबसे निचला फूला हुआ भाग है। इसकी आन्तरिक संरचना के अध्ययन के लिए इसे काटना पड़ता है। अण्डाशय को दो प्रकार से काटा जा सकता है जैसा कि नीचे दिये गये चित्रों में दर्शाया गया है।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 7 पौधों को जानिए -12
अलग-अलग पुष्पों से दो अण्डाशय लेते हैं। दोनों अण्डाशयों को प्लेट पर रखकर चित्र के अनुसार काट सकते हैं। अण्डाशय की काट को सूखने से बचाने के लिए प्रत्येक काट पर जल की एक बूंद रखिए।
आवर्धक लैंस की सहायता से अण्डाशय की आन्तरिक रचना का अध्ययन कीजिए। आपको अण्डाशय के अन्दर छोटी-छोटी गोल रचनाएँ दिखाई देती हैं, जिन्हें बीजाण्ड कहते हैं।

प्रश्न 8.
विभिन्न पौधों के पुष्पों का अवलोकन करके निम्न प्रश्नों के उत्तर सारणीबद्ध कीजिए
उत्तर:
बाह्य दल एवं पंखुड़ियों का भली-भाँति अवलोकन कीजिए तथा निम्न प्रश्नों के उत्तर दीजिए
1. इसमें कितने बाह्य दल है?
2. क्या ये आपस में जुड़े हैं?
3. बाह्य दल एवं पंखुड़ियाँ किन रंगों की हैं?
4. आपके फूल में पंखुड़ियों की संख्या कितनी है?
5. क्या वे एक-दूसरे से जुड़ी हैं अथवा स्वतन्त्र हैं?
6. क्या जुड़े हुए बाह्य दल वाले पुष्प की पंखुड़ियाँ अलग-अलग है या संयुक्त ? अपनी कक्षा के सभी विद्यार्थियों द्वारा विभिन्न पुष्पों के अध्ययन सम्बन्धी प्रेक्षण सारणी में लिखिए।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 7 पौधों को जानिए -14

प्रश्न 9.
निम्न ग्रिड में पौधे के विभिन्न भागों के नाम छिपे हुए हैं। ऊपर, नीचे, दाएँ, बाएँ और तिर्यक दिशा में जाकर उन नामों को ढ़ँढिए। नाम का घेरा लगाइए।
HBSE 6th Class Science Solutions Chapter 7 पौधों को जानिए -15
उत्तर:
(i) Ovule
(ii) Filament
(iii) Flower
(iv) Stem
(v) Stamen
(vi) Sepal
(vii) Midrib
(viii) Fruit
(ix) Vein
(x) Herb
(xi) Ovary
(xii) Petal

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 7 पौधों को जानिए

पौधों को जानिए Class 6 HBSE Notes in Hindi

→ सामान्यतः पौधों का वर्गीकरण उनकी ऊँचाई, तने एवं शाखाओं के आधार पर शाक, झाड़ी तथा वृक्ष में किया जाता है।
→ पौधे का जमीन के अन्दर का भाग जड़ तंत्र तथा जमीन के बाहर का भाग प्ररोह तंत्र कहलाता है। प्ररोह तंत्र में तना, शाखाएँ एवं पत्तियाँ होती हैं।
→ तने पर पत्तियाँ, पुष्प तथा फल बनते हैं।
→ सामान्यत: पत्ती में पर्णवृन्त तथा फलक होते हैं।
→ पत्ती में शिराओं का प्रतिरूप शिराविन्यास कहलाता है।
→ यह दो प्रकार का होता है- जालिका रूपी तथा समान्तर।
→ पत्तियाँ वाष्पोत्सर्जन क्रिया द्वारा जलवाष्प को वायु में निष्कासित करती हैं।
→ हरी पत्तियों सूर्य के प्रकाश की उपस्थिति में वायु एवं जल से प्रकाश संश्लेषण की क्रिया द्वारा भोजन बनाती है।
→ जड़ें मिट्टी से जल एवं खनिज पदार्थों का अवशोषण करती है तथा पौधों को मिट्टी में दृढ़ता से जमाए रखती हैं।
→ जड़ें मुख्यतः दो प्रकार की होती हैं मूसला जड़ एवं रेशेदार जड़ा।
→ जालिका रूपी शिराविन्यास युक्त पत्तियों वाले पौधों की जड़ें मूसला जड़ होती हैं, जबकि समान्तर शिराविन्यास युक्त पत्तियों वाले पौधों की जड़ें रेशेदार होती हैं।
→ तने द्वारा जड़ों से पत्तियों और अन्य भागों को जल और पत्तियों से भोजन पौधे के अन्य भागों तक पहुँचता है।
→ पुष्प के विभिन्न भाग हैं बाह्य दल, पंखुड़ी, पुंकेसर तथा स्त्रीकेसर।
→ शाक – हरे एवं कोमल तने वाले पौधे शाक कहलाते हैं।
→ झाड़ी – ऐसे मध्यम ऊँचाई के पौधे जिनमें एक समान कई तने जमीन से निकल कर झाड़ बनाते हैं।
→ वृक्ष – ऐसे बड़े पौधे जिनमें एक मुख्य तना होता है।
→ विसपी लताएँ – कमजोर तने वाले पौधे सीधे खड़े नहीं हो सकते और ये भूमि पर फैल जाते हैं। इन्हें विसी लता कहते हैं।
→ आरोही – ऐसे कमजोर पौधे जो किसी सहारे के द्वारा ऊपर बढ़ते हैं, आरोही कहलाते हैं।
→ पर्ण वृन्त – पत्ती का वह भाग जिसके द्वारा पत्ती तने से जुड़ी रहती है।
→ फलक – पत्ती का चौड़ा हरा भाग। शिरा-पत्ती में उपस्थित नाड़ियाँ।
→ मध्य शिरा – पत्ती के मध्य में एक मोटी शिरा होती है।
→ शिराविन्यास – पत्ती में शिराओं की व्यवस्था।
→ जालिकावत् शिराविन्यास – पत्ती में जब सभी शिराएँ मिलकर एक जाल-सा बनाती हैं तो इसे जालिकावत् शिरा विन्यास कहते हैं।
→ समान्तर शिराविन्यास – पत्ती में जब सभी शिराएँ एक-दूसरी के समान्तर फैली होती हैं तो इसे समान्तर शिरा विन्यास कहते हैं।

HBSE 7th Class Science Solutions Chapter 7 पौधों को जानिए

→ वाष्पोत्सर्जन – पत्तियों द्वारा जल को वाष्प के रूप में निकालने की प्रक्रिया।
→ प्रकाश संश्लेषण – पौधों द्वारा सूर्य के प्रकाश में भोजन बनाने की प्रक्रिया।
→ मूसला जड़ – मुख्य जड़ जिससे पार्श्व जड़ें निकलती है।
→ रेशेदार जड़ – जिन पौधों में कोई एक मुख्य जड़ नहीं होती और सभी जड़ें एक समान दिखाई देती हैं तथा एक ही स्थान से निकलती हैं, इन्हें झकड़ा जड़ें या रेशेदार जड़ें कहते हैं।
→ पार्श्व जड़ – मुख्य मूसला जड़ से निकली जड़ें पार्श्व जड़ें कहलाती हैं।
→ संवहन – तने द्वारा जल एवं खनिजों का स्थानान्तरण संवहन कहलाता है।
→ बाह्यदल – फूल की कलिका छटी-छोटी हरी पत्तियों जैसी रचना से ढकी होती है जिन्हें बाह्यदल कहते हैं।
→ पंखुड़ियाँ – फूलों के बाह्यदल से घिरा आकर्षक प्रमुख रंगीन भाग।
→ पुंकेसर – पुष्प के नर भाग जो परागकण उत्पन्न करते हैं।
→ स्त्री-केसर – पुष्प के मादा भाग जो बीजाण्ड उत्पन्न करते हैं।
→ बीजाण्ड – अण्डाशय में छोटी-छोटी गोल संरचनाएँ जो बीज बनाती हैं।