Class 12

HBSE 12th Class Maths Solutions Haryana Board

Haryana Board HBSE 12th Class Maths Solutions

HBSE 12th Class Maths Solutions in English Medium

HBSE 12th Class Maths Chapter 1 Relations and Functions

HBSE 12th Class Maths Chapter 2 Inverse Trigonometric Functions

HBSE 12th Class Maths Chapter 3 Matrices

HBSE 12th Class Maths Chapter 4 Determinants

HBSE 12th Class Maths Chapter 5 Continuity and Differentiability

HBSE 12th Class Maths Chapter 6 Application of Derivatives

HBSE 12th Class Maths Chapter 7 Integrals

HBSE 12th Class Maths Chapter 8 Application of Integrals

HBSE 12th Class Maths Chapter 9 Differential Equations

HBSE 12th Class Maths Chapter 10 Vector Algebra

HBSE 12th Class Maths Chapter 11 Three Dimensional Geometry

HBSE 12th Class Maths Chapter 12 Linear Programming

HBSE 12th Class Maths Chapter 13 Probability

HBSE 12th Class Maths Solutions in Hindi Medium

HBSE 12th Class Maths Chapter 1 संबंध एवं फलन

HBSE 12th Class Maths Chapter 2 प्रतिलोम त्रिकोणमितीय फलन

HBSE 12th Class Maths Chapter 3 आव्यूह

HBSE 12th Class Maths Chapter 4 सारणिक

HBSE 12th Class Maths Chapter 5 सांतत्य तथा अवकलनीयता

HBSE 12th Class Maths Chapter 6 अवकलज के अनुप्रयोग

HBSE 12th Class Maths Chapter 7 समाकलन

HBSE 12th Class Maths Chapter 8 समाकलनों के अनुप्रयोग

HBSE 12th Class Maths Chapter 9 अवकल समीकरण

HBSE 12th Class Maths Chapter 10 सदिश बीजगणित

HBSE 12th Class Maths Chapter 11 त्रि-विमीय ज्यामिति

HBSE 12th Class Maths Chapter 12 रैखिक प्रोग्रामन

HBSE 12th Class Maths Chapter 13 प्रायिकता

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 8 Memories of Childhood

Haryana State Board HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 8 Memories of Childhood Textbook Exercise Questions and Answers.

Haryana Board 12th Class English Solutions Vistas Chapter 8 Memories of Childhood

HBSE 12th Class English Memories of Childhood Textbook Questions and Answers

Question 1.
The two accounts that you read above are based on two distant cultures. What is the commonality of the theme found in both of them?
(जो दो वर्णन आपने पढ़े हैं वे दो दूर की संस्कृतियों पर आधारित हैं। इन दोनों में विषय की क्या समानता है?)
Answer:
These two accounts are the childhood memories of two different writers. They belong to different cultures. Zitkala-Sa is a native American woman. She is a famous writer. The other is Bama, a Dalit woman from Tamil Nadu. Though these two women belong to distant lands and different cultures, there are many similarities in their life stories. Both of them belong to the lower castes of society. Both of them are ignored and ill-treated by the people of the upper caste who are in majority. They suffer at the hands of the rich and the powerful. The white people of America dominate the Native Americans. They subject them to insults. Zitkala-Sa’s long hair was cut against her will. This was against the values of her culture. Bama belonged to a low-caste society in Tamil Nadu. In her childhood, she saw that the people of the upper caste ill-treated the Dalit people. It was unfair and unjust. It hurt the mind of Bama deeply.

(ये दो वर्णन दो विभिन्न लेखिकाओं के बचपन की यादें हैं। ये अलग-अलग संस्कृतियों से सम्बन्ध रखती हैं। जित्कला-सा एक अमेरिकी महिला है। वह एक प्रसिद्ध लेखिका है। दूसरी बामा है तमिलनाडु की एक दलित महिला, यद्यपि ये दो महिलाएँ अलग देशों और संस्कृतियों से सम्बन्ध रखती हैं, फिर भी उनकी जीवन कथाओं में बहुत समानताएँ हैं। वे दोनों ही समाज के निम्न वर्गों से सम्बन्ध रखती हैं। उन दोनों का ही ऊँची जाति वाले, जो बहुमत में हैं, अपमान और उपेक्षा करते हैं। वे अमीर और शक्तिशाली लोगों के हाथों पीड़ित होती हैं। अमेरिका के गोरे लोग वहाँ के मूल निवासियों पर शासन करते हैं। वे उन्हें अपमानित करते हैं। जित्कला के बाल उसकी मर्जी के खिलाफ काट दिए गए। यह बात उसकी संस्कृति की मान्यताओं के विरुद्ध थी। बामा तमिलनाडु के एक निम्न वर्ग से सम्बन्ध रखती थी। अपने बचपन में उसने देखा कि ऊँची जाति के लोग दलित लोगों से बुरा व्यवहार करते थे। यह गलत और अन्यायपूर्ण था। इस बात ने बामा के दिमाग को आहत किया।)

Question 2.
It may take a long time for oppression to be resisted, but the seeds of rebellion are sowed early in life. Do you agree that injustice in any form cannot escape being noticed even by children?
(अत्याचार का विरोध करने में लम्बा समय लग सकता है, परन्तु विद्रोह के बीज जीवन के आरम्भ में ही बोए जाते हैं? क्या आप इस बात से सहमत हैं कि किसी भी प्रकार का अन्याय बच्चों की दृष्टि से बचा नहीं रह सकता?) [2018 (Set-A)]
Answer:
It is true that human mind revolts against injustice of any kind. Even children notice injustice. But at that time they are too weak to fight against it. However, it remains in their mind and they rebel against it when time comes. Zitkala-Sa belongs to the native American society. She rebels against the injustice done to her. She resists the cutting of her hair. But she cannot do anything. They forcibly cut her hair. Bama is a Dalit woman. In her childhood she observes that injustice is done to her community by the people of the upper caste. This made her sad and angry.

(यह सच है कि मानवीय दिमाग किसी प्रकार के अन्याय का विरोध करता है। बच्चे भी अन्याय को देखते हैं। मगर उस समय वे इतने कमजोर होते हैं कि इसके विरुद्ध लड़ नहीं सकते। मगर, यह बात उनके दिमाग में रहती है और समय आने पर वे इसके खिलाफ विद्रोह करते हैं। जित्कला-सा अमेरिका के मूल समाज से सम्बन्ध रखती है। वह अपने साथ किए गए अन्याय का विरोध करती है। वह अपने बाल काटे जाने पर विरोध करती है। मगर वह कुछ नहीं कर सकती। वे जबरदस्ती उसके बाल काट देते हैं। बामा एक दलित महिला है। अपने बचपन में वह देखती है कि उसके समुदाय के लोगों के साथ ऊँची जाति वालों द्वारा अन्याय किया जा रहा है। यह उसे उदास और नाराज बना देता है।)

Question 3.
Bama’s experience is that of a victim of the caste system. What kind of discrimination does Zitkala-Sa’s experience depict? What are their responses to their respective situations? (बामा का अनुभव जाति प्रथा से पीड़ित का है। जित्कला-सा का अनुभव किस प्रकार के भेदभाव को दर्शाता है ? उनकी अपनी-अपनी परिस्थितियों के प्रति क्या प्रतिक्रिया है?)
Or
What oppression and discrimination did Zitkala-Sa and Bama experience during their childhood? How did they respond to their respective Situations? (बामा ने अपने बचपन में किस दमन और भेदभाव को महसूस किया? उन्होंने अपनी स्थिति के अनुसार कैसे प्रतिक्रिया व्यक्त की?)
Answer:
Zitkala belonged to a Native American community. She revolted against the imposition of white man’s will on the native Americans. She did not like her hair to be cut. She decided to protest against it. She hid under the bed. But she was dragged out and tied to a chair. Then her hair was cut. She cried a lot but she was powerless. Bama belonged to a low caste society. She noticed the unjust and unfair behaviour of the upper caste men to them. But her brother told her that she could get honour and dignity only when she worked hard and made progress in life. She worked hard and stood first in her class. She got the respect of other classmates.

(जित्कला एक मूल अमेरिकी समुदाय से सम्बन्ध रखती थी। उसने गोरे लोगों द्वारा मूल अमेरिकी वासियों पर अपनी मर्जी थोपने के विरुद्ध विद्रोह किया। वह नहीं चाहती थी कि उसके बाल काटे जाएँ। उसने इसका विरोध करने का फैसला किया। वह पलंग के नीचे छुप गई। मगर उसे घसीटकर निकाला गया और एक कुर्सी के साथ बाँध दिया गया। तब उसके बाल काट दिए गए। वह बहुत चिल्लाई मगर वह कमजोर थी। बामा एक निम्न वर्ग समाज से सम्बन्ध रखती थी। उसने देखा कि ऊँची जाति के लोग उन लोगों के साथ अन्यायपूर्ण और गलत व्यवहार करते हैं। मगर उसके भाई ने उसे बताया कि वह सम्मान और इज़्ज़त तभी पा सकती है जब वह कठिन परिश्रम करेगी और जीवन में प्रगति करेगी। उसने बहुत मेहनत की और अपनी कक्षा में प्रथम आई। उसे कक्षा की अन्य छात्राओं का सम्मान मिला।)

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 8 Memories of Childhood

HBSE Class 12 English Memories of Childhood Important Questions and Answers

Multiple Choice Questions
Select the correct option for each of the following questions :
1. Who are the writers of the lesson ‘Memories of Childhood’?
(A) Sama and Shakila
(B) Zitkala-Sa and Bama
(C) Bitkala-Sa and Zama
(D) Sitkala-B and Maza
Answer:
(B) Zitkala-Sa and Bama

2. What incident from her childhood, does Zitkala-Sa describe in the first part of ‘Memories of Childhood’?
(A) breaking of a window pane
(B) playing of football
(C) cutting of her long hair
(D) beating by her teacher
Answer:
(C) cutting of her long hair

3. What were the feelings of Zitkala-Sa on her first day at school?
(A) fear and expectation
(B) fear and joy
(C) sadness and fear
(D) anger and fear
Answer:
(A) fear and expectation

4. What for were the children taken to a hall?
(A) for a dance
(B) for breakfast
(C) for a party
(D) for a magic show
Answer:
(B) for breakfast

5. Who was staring at the writer during the breakfast?
(A) a horrible man
(B) a friend
(C) a dog
(D) a pale-faced woman
Answer:
(D) a pale-faced woman

6. Why did she start crying?
(A) she wanted more bread
(B) she felt odd among other students
(C) she wanted chocolate
(D) she wanted to go home
Answer:
(B) she felt odd among other students

7. What did the author’s friend Judewin tell her?
(A) her long hair would be cut short
(B) she would be given a prize
(C) she would be expelled from the school
(D) she would be promoted to the next class
Answer:
(A) her long hair would be cut short

8. In the society from where the author had come, what was people’s attitude towards cutting of hair?
(A) it was considered good
(B) it was a sign of cowardice
(C) it was a sign of wealth
(D) it was a sign of bravery
Answer:
(B) it was a sign of cowardice

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 8 Memories of Childhood

9. In the author’s society whose hair was cut?
(A) girl’s hair
(B) old women’s hair
(C) a widow’s hair
(D) hair of the captured soldiers
Answer:
(D) hair of the captured soldiers

10. Why was the author fastened to a chair?
(A) her hair were cut
(B) she was given punishment
(C) she was given a prize
(D) the chair belonged to her
Answer:
(A) her hair were cut

11. In the second part of the lesson ‘Memories of Childhood’ the writer describes her childhood experiences. In which class was she reading at that a time?
(A) sixth
(B) fifth
(C) fourth
(D) third
Answer:
(D) third

12. How long did it take the writer to reach at home from school?
(A) about ten minutes
(B) twenty minutes
(C) thirty minutes
(D) one hour
Answer:
(A) about ten minutes

13. What was the hawker selling?
(A) caps
(B) necklaces
(C) clay beads and instruments for cleaning out the ears
(D) earrings
Answer:
(C) clay beads and instruments for cleaning out the ears

14. Which tree was on the way to the author’s school?
(A) an apple tree
(B) a Sheesham tree
(C) an almond tree
(D) a banana tree
Answer:
(C) an almond tree

15. What was being done at the threshing floor?
(A) a man was being beaten
(B) grain was being threshed
(C) a fair was held
(D) a match was going on
Answer:
(B) grain was being threshed

16. Why did the big man hold the packet by the strings?
(A) he liked the strings
(B) he liked the packet
(C) the strings were good
(D) the Dalit was not allowed to touch the packet
Answer:
(D) the Dalit was not allowed to touch the packet

17. What was there in the packet?
(A) samosa
(B) vadai
(C) groundnut
(D) toffees
Answer:
(B) vadai

18. Where did the author’s elder brother study?
(A) at a university
(B) in a school
(C) in a college
(D) in an institute
Answer:
(A) at a university

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 8 Memories of Childhood

19. When would people respect her, according to the author’s brother?
(A) if she becomes an actress
(B) if she misses her classes
(C) if she eats chocolate
(D) if she forges ahead in
Answer:
(D) if she forges ahead in

Short Answer Type Questions
Question 1.
How was Zitkala-Sa constantly irritated by the noises around her? (जित्कला-सा किस प्रकार अपने आस-पास के शोर से लगातार परेशान हो रही थी?)
Answer:
Zitkala-Sa remembers her first day at school. She was full of fear as well as expectation. She loved peace and tranquility. But there were noises around her. The breakfast bell produced a jarring sound. There was constant clatter of shoes on the bare floor.

(जित्कला-सा स्कूल के अपने पहले दिन को याद करती है। वह भय और आशा से भरी हुई थी। उसे शांति और खामोशी पसंद थे, मगर उसके चारों ओर शोर था। नाश्ते की घन्टी ने कर्णकटु आवाज की। नंगे फर्श पर जूतों के शोर की लगातार आवाज थी।)

Question 2.
How did Zitkala-Sa behave in the breakfast hall? (नाश्ते के कमरे में जित्कला-सा ने कैसे व्यवहार किया?)
Answer:
The children gathered round a table. A bell rang and they took out chairs. Zitkala-Sa also took out the chair and sat on it. But everyone was still standing. So she got up. Then the bell rang and all of them sat on the chairs. Now she also sat down. Then the third bell rang. Now everyone picked up his knife and fork and began eating. She found a paleface woman was staring at her. She started weeping.

(बच्चे एक गोल मेज के आस-पास इकट्ठे हो गए। एक घन्टी बजी और उन्होंने कुर्सियाँ निकाली। जित्कला-सा ने भी एक कुर्सी निकाली और उस पर बैठ गई। मगर हर बच्चा अभी भी खड़ा था। इसलिए वह भी खड़ी हो गई। तब घन्टी बजी और सब कुर्सियों पर बैठ गए। अब लेखिका भी बैठ गई। तब तीसरी घन्टी बजी। अब हर एक ने अपना-अपना छुरी और कांटा उठाया और खाना आरम्भ कर दिया। उसने एक पीले चेहरे वाली औरत को उसे घूरते हुए पाया। उसने स्वयं को उनके बीच अलग-सा महसूस किया। उसने रोना शुरू कर दिया।)

Question 3.
What was the metaphor Zitkala-Sa uses for herself? (जित्कला-सा अपने लिए किस रूपक का प्रयोग करती है?)
Answer:
Zitkala-Sa used for herself a metaphor of simile. She says that when her hair was cut she was only one of many animals driven by a herder. (जित्कला-सा अपने लिए उपमा अलंकार का प्रयोग करती है। वह कहती है कि जब उसके बाल काटे गए थे तो वह गडरिए द्वारा हाँकी गई बहुत-सी भेड़ों में से एक बन गई थी।)

Question 4.
Why did Zitkala-Sa not like her hair to be cut? (जित्कला-सा अपने बाल कटवाना क्यों नहीं चाहती थी ?)
Answer:
In the society from where the author has come, it was taboo to cut hair. Only the hair of the captured soldiers were cut. The cutting of hair was considered a sign of cowardice. So she did not like her hair to be cut.
(जिस समाज से लेखिका आई थी, उसमें बाल काटना निषेध था। केवल कैद किए गए सैनिकों के बाल ही काटे जाते थे। बाल काटना कायरता की निशानी माना जाता था। इसलिए वह अपने बाल कटवाना नहीं चाहती थी।)

Question 5.
How did Zitkala-Sa try to escape from having her hair cut? [H.B.S.E. 2018 (Set-D), 2019 (Set-C)] (जित्कला-सा ने बाल कटवाए जाने से बचने का प्रयत्न कैसे किया?)
Answer:
Zitkala-Sa did not like that her hair should be cut. She decided to protest against it. She tried to save her hair. So she went into a room. There she hid under a bed. But she was found out and her hair were cut.
(जित्कला-सा नहीं चाहती थी कि उसके बाल काटे जाएँ। उसने इसके खिलाफ विद्रोह करने का फैसला किया। उसने अपने बाल बचाने का प्रयत्न किया। इसलिए वह एक कमरे में गई। वहाँ वह एक बिस्तर के नीचे छुप गई, मगर उसे खोज लिया गया और उसके बाल काट दिए गए।)

Question 6.
How were Zitkala-Sa’s hair cut? [H.B.S.E. March, 2017 (Set-C), 2019 (Set-D), 2020 (Set-C)] (जित्कला-सा के बाल किस प्रकार काट दिए गए?)
OR
Why was the girl tied to a chair in Memories of Childhood? [H.B.S.E. March, 2019 (Set-B)] (‘बचपन की याद’ में लड़की को कुर्सी के साथ क्यों बाँधा गया?)
Answer:
Zitkala-Sa hid under a bed. She heard voices calling her name. But she did not come out. Then she heard the footsteps in the room. She was found out. They dragged her out and fastened to a chair. She started crying. But nobody cared for her weeping and her hair were cut down.

(जित्कला-सा एक बिस्तर के नीचे छुप गई। उसने अपने नाम को पुकारती हुई आवाजें सुनीं। मगर वह बाहर नहीं आई। तब उसने कमरे में कदमों की आवाज सुनी। उसे ढूँढ लिया गया। उन्होंने उसे बाहर खींच लिया और एक कुर्सी के साथ बाँध दिया। उसने रोना आरम्भ कर दिया। मगर किसी ने उसके रोने की परवाह नहीं की और उसके बाल काट दिए गए।)

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 8 Memories of Childhood

Question 7.
Why did Bama take about thirty minutes to reach home from school? (बामा को स्कूल से घर आने में आधा घंटा क्यों लगा?)
Answer:
Bama, a Tamil Dalit writer, narrates her childhood experiences. At that time she was studying in the third class. It was possible for her to reach home from school in ten minutes. But she often enjoyed the scenes on the way and it took her about thirty minutes to reach home.
(बामा, एक तमिल दलित लेखिका अपने बचपन के अनुभवों का वर्णन करती है। उस समय वह तीसरी कक्षा में पढ़ती थी। उसके लिए स्कूल से घर दस मिनट में जाना सम्भव था। मगर वह रास्ते में दृश्यों का आनन्द उठाती थी और घर पहुंचने में लगभग आधा घन्टा लगाती थी।)

Question 8.
What scenes did Bama see one day while coming home from school? (एक दिन स्कूल से घर आते समय बामा ने क्या दृश्य देखे?)
Answer:
One day, she saw a performing monkey. She also saw a snake charmer with a snake. There was a cyclist who had been performing the cycling feat for three days. She saw the Maariyaata temple. There was sweet stall by statue of Gandhi. There was a hawker selling clay beads and instruments for cleaning out the ears.

(एक दिन, उसने एक करतब दिखाने वाला बन्दर देखा। उसने एक सपेरे को साँप के साथ भी देखा। वहाँ एक साइकिल चलाने वाला था जो तीन दिन से साइकिल चला रहा था। उसने मारियाता मन्दिर देखा। वहाँ पर गाँधी जी की मूर्ति के साथ मिठाइयों की दुकान थी। वहाँ पर एक फेरी वाला था जो मिट्टी के मनके और कान साफ करने के उपकरण बेच रहा था।)

Question 9.
How does Bama describe the coffee clubs and other sites on the way from school to her home? (बामा स्कूल से घर के रास्ते के कॉफी क्लब एवं अन्य स्थानों का वर्णन कैसे करती है?)
Answer:
There were coffee clubs in the bazaar. The waiter cooled the coffee in an interesting way. He lifted a tumbler high and poured its contents into another tumbler which he held in the other hand. There was an almond tree also on the way. There were a number of fruit stalls which sold different fruits available according to the season.

(बाज़ार में कॉफी के क्लब होते थे। नौकर कॉफी को एक रोचक तरीके से ठण्डा करता था। वह एक गिलास को बहुत ऊँचा उठाता था और उसकी कॉफी को दूसरे गिलास में डालता था जो उसने दूसरे हाथ में पकड़ा होता था। रास्ते में बादाम का पेड़ भी होता था। वहाँ पर बहुत-से ऐसे फलों की दुकानें भी होती थीं जो मौसम के अनुसार उपलब्ध होते थे।)

Question 10.
How does she describe the scene of threshing ? [H.B.S.E. 2017 (Set-B)] (वह अनाज निकालने के दृश्य का वर्णन कैसे करती है?)
Answer:
One day, when Bama came to her street from the school. She saw that a threshing floor had been set up. The landlord sat in one corner and watched the proceedings. The people of the writers coming were hard at work. They were driving cattle in pairs round and round and the grain was being threshed.

(एक दिन, जब बामा स्कूल से अपनी गली में आई। उसने देखा कि भूसे से अनाज निकालने वाला फर्श बनाया गया था। ज़मींदार एक कोने में बैठा था और काम को देख रहा था। लेखिका के समुदाय के लोग मेहनत कर रहे थे। वे मवेशियों के जोड़ों को चारों तरफ घुमा रहे थे और अनाज निकला जा रहा था।)

Question 11.
What did Bama have to say about untouchability ? (छुआछूत के बारे में बामा को क्या कहना पड़ा?)
Answer:
Bama saw a big man holding a paper bag by the strings and carrying it high. There was vadai or bhajji in it. The man seemed funny. Then he came to the landlord, bowed low, and extended the packet to him. He folded the hands while still holding the strings. The landlord opened the packet and started eating the vadais.

(बामा ने एक बड़े आदमी को कागज के एक लिफाफे को डोरी से पकड़े और उसे ऊँचा उठाए हुए देखा। इसके अन्दर वडाई या भज्जी थी। आदमी हास्यपद लगता था। तब वह जमींदार के पास आया, नीचे तक झुका और वह लिफाफा उसे दिया। उसने डोरी पकड़े-पकड़े ही हाथ जोड़े। ज़मींदार ने लिफाफा खोला और वडाई खाना शुरू कर दिया।)

Question 12.
What did Bama’s brother tell her about her caste? (बामा का भाई उसे अपनी जाति के बारे में क्या बताता है?)
Answer:
Her brother told her that the elder man was untouchable. The upper caste men did not allow the Dalits to touch the packet. So he held it by the strings. When the author heard it she felt very sad. An important elder of her community had to bring snacks for the landlord and bow before him.

(उसके भाई ने उसे बताया कि बुजुर्ग आदमी एक अछूत था। ऊँची जाति वाले लोग दलितों को लिफाफों को हाथ लगाने नहीं देते थे। इसलिए उसने उसे डोरी से पकड़ा हुआ था। जब लेखिका ने यह बात सुनी तो वह उदास हो गई। अपने समुदाय के एक बुजुर्ग व्यक्ति को ज़मींदार के लिए खाने का सामान लाना पड़ता था और उसके सामने झुकना भी पड़ता था।)

Question 13.
Where had the author’s brother been studying? Why did hego to the neighbouring village? (लेखिका का भाई कहाँ पढ़ रहा था? वह पड़ोस के गाँव में क्यों गया ?)
Answer:
The author’s elder brother, Annan, had been studying at the university. He had come home for the holidays. He had often to go to the library in neighboring village to borrow books.

(लेखिका का बड़ा भाई, अन्नान विश्वविद्यालय में पढ़ रहा था। वह छुट्टियों में घर आया हुआ था। उसे पुस्तकें उधार लेने के लिए अक्सर पास के गाँव के पुस्तकालय में जाना पड़ता था।)

Question 14.
Why did the villager ask Annan in which street he lived? (ग्रामीण ने अन्नान से यह क्यों पूछा कि वह कहाँ रहता है ?)
Answer:
One day, when Annan was on the way, he came across one of the landlord’s men. When her brother told him his name, he asked him in which street he lived. By knowing the name of the street, he would know to which caste he belonged.

(एक दिन, जब अन्नान रास्ते में था, तो उसे जमींदार का एक आदमी मिला। जब उसके भाई ने उसे अपना नाम बताया तो, उसने पूछा कि वह किस गली में रहता है। गली का नाम पता लगने पर, वह जान जाता कि वह किसी जाति से सम्बन्ध रखता है।)

Question 15.
How were the Indian girls dressed ? [H.B.S.E. 2020 (Set-B)] (भारतीय लड़कियाँ कैसे कपड़े पहने हुए थीं?)
Answer:
The Indian girls were in stiff shoes and closely clinging dresses. The small girls wore sleeved aprons and shingled hair.

(भारतीय लड़कियाँ कड़े (टाइट) जूते और बदन से चिपके हुए कपड़े पहने हुए थीं। छोटी लड़कियों ने स्लीव वाले एप्रन पहने हुए थे और बालों को संवारा हुआ था।)

Long Answer Type Questions
Question 1.
Describe Zitkala-Sa’s first experience at her school. (जित्कला-सा के स्कूल में उसके पहले अनुभव का वर्णन करो।)
Answer:
Zitkala-Sa remembers her first day at school. She was full of fear as well as expectation. The children were taken to a hall for breakfast. She was new and did not know to behave at such assemblies. The children gathered round a table. A bell rang and they took out chairs. The author took out the chair and sat on it. But everyone was still standing. So she got up. Then the bell rang and all of them sat on the chair. Now the author also sat down. She looked at other children. But all the other hung down their heads over their plates. But she found that the others were not eating. Then the third bell rang. Now everyone picked up his knife and fork and began eating. She found a paleface woman was staring at her. She felt herself odd among them. So she started weeping.

(जित्कला-सा स्कूल के अपने पहले दिन को याद करती है। वह भय और आशा से भरी हुई थी। बच्चों को नाश्ते के लिए एक हॉल में ले जाया गया। वह नई थी और उसे मालूम नहीं था कि ऐसी सभाओं में कैसे व्यवहार किया जाता है। बच्चे एक गोल मेज के आस-पास इकट्ठे हो गए। एक घन्टी बजी और उन्होंने कुर्सियाँ निकालीं। लेखिका ने एक कुर्सी निकाली और उस पर बैठ गई। मगर हर बच्चा अभी भी खड़ा था, इसलिए वह भी खड़ी हो गई। तब घन्टी बजी और सब कुर्सियों पर बैठ गए।

अब लेखिका भी बैठ गई। उसने अन्य बच्चों को देखा, मगर सब अपनी प्लेटों पर झुके हुए थे, मगर उसने देखा कि वे लोग खा नहीं रहे थे। तब तीसरी घन्टी बजी। अब हर एक ने अपना-अपना छुरी और कांटा उठाया और खाना आरम्भ कर दिया। उसने एक पीले चेहरे वाली औरत को उसे घूरते हुए पाया। उसने स्वयं को उनके बीच अलग-सा महसूस किया, इसलिए उसने रोना शुरू कर दिया।)

Question 2.
Describe the scene where Zitkala-Sa’s hair was cut? (उस दृश्य का वर्णन करो जहाँ जित्कला-सा के बाल काटे जाते हैं ?)
Answer:
Zitkala-Sa’s first day at the school was horrifying. At first she felt miserable at the breakfast table. Later in the day, one of her friends, Judewin told her that their long hair would be cut short. In the society from where the author has come, it was taboo to cut hair. Only the hair of the captured soldiers were cut. So the cutting of hair was considered a sign of cowardice.

She decided that she would not let them cut her hair. She would rebel against that rule. She went into a room. There she hid under a bed. She heard voices calling her name. But she did not come out. Then she heard the footsteps in the room. She was found out. They dragged her out and fastened to a chair. She started crying. But nobody care for her weeping and her hair was cut down. She cried but no one came to her help.

(जित्कला-सा का स्कूल में पहला दिन भयावह था। पहले तो सुबह के नाश्ते की मेज पर वह दुःखी हुई। उस दिन के बाद में, उसकी एक सहेली, जुडविन ने उसे बताया कि उनके लम्बे बाल काट दिए जाएंगे। जिस समाज से लेखिका आई थी, उस में बाल काटना निषेध था। केवल कैद किए गए सैनिकों के बाल ही काटे जाते थे। इसलिए बाल काटना कायरता की निशानी माना जाता था। उसने फैसला किया कि वह उन्हें अपने बाल नहीं काटने देगी।

वह इस नियम के खिलाफ विद्रोह कर देगी। वह एक कमरे में गई। वहाँ वह एक बिस्तर के नीचे छुप गई। उसने अपने नाम को पुकारती हुई आवाजें सुनी, मगर वह बाहर नहीं आई। तब उसने कमरे में कदमों की आवाज सुनी। उसे ढूँढ लिया गया। उन्होंने उसे बाहर खींच लिया और एक कुर्सी के साथ बाँध दिया। उसने रोना आरम्भ कर दिया। मगर किसी ने उसके रोने की परवाह नहीं की और उसके बाल काट दिए गए। वह रोई मगर कोई भी उसकी सहायता के लिए नहीं आया।)

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 8 Memories of Childhood

Question 3.
Describe the different things which Bama saw while coming home from school. (स्कूल से घर आते समय जो विभिन्न वस्तुएँ बामा ने देखी उनका वर्णन करो।)
Answer:
Bama, a Tamil Dalit writer, narrates her childhood experiences. At that time she was studying in the third class. It was possible for her to reach home from school in ten minutes. But she often enjoyed the scenes on the way and it took her about one hour to reach home. One day, she saw a performing monkey.

She also saw a snake charmer with a snake. There was a cyclist who had been performing the cycling feat for three days. She saw the Maariyaata temple. There was sweet stalls by statue of Gandhi. There was a hawker selling clay beads and instruments for cleaning out the ears. Often the people from various political parties gathered there and gave speeches when the time for elections came near. There were street plays or puppet shows or a ‘no magic no miracle stunt performance.

There were coffee clubs in the bazaar. The waiter cooled the coffee in an interesting way. He lifted a tumbler high and poured its contents into another tumbler which he held in the other hand. On the way some people sat in front of shops and chopped onions. There was an almond tree also on the way. There were a number of fruit stalls which sold different fruits available according to the season.

(बामा, एक तमिल दलित लेखिका, अपने बचपन के अनुभवों का वर्णन करती है। उस समय वह तीसरी कक्षा में पढ़ती थी। उसके लिए स्कूल से घर तक दस मिनट में जाना सम्भव था। मगर वह रास्ते में दृश्यों का आनन्द उठाती थी और घर पहुँचने में लगभग एक घन्टा लगाती थी। एक दिन, उसने करतब दिखाने वाला एक बन्दर देखा। उसने एक सपेरे को साँप के साथ भी देखा। एक साइकिल चलाने वाला था जो तीन दिन से साइकिल चला रहा था। उसने मारियाता मन्दिर देखा। वहाँ पर गाँधीजी की मूर्ति के साथ मिठाई की एक दुकान थी। वहाँ पर एक फेरी वाला था जो मिट्टी के मनके और कान साफ करने के उपकरण बेच रहा था। अक्सर वहाँ पर विभिन्न राजनीतिक दलों के नेता वहाँ पर इकट्ठे होते थे और जब चुनावों का समय नजदीक आता था तो भाषण देते थे।

वहाँ पर गली में नाटक होते थे या कठपुतलियों का प्रदर्शन या “ना जादू ना चमत्कार” नाम का साहसिक प्रदर्शन होता था। बाज़ार में कॉफी के क्लब होते थे। नौकर कॉफी को एक रोचक तरीके से ठन्डा करता था। वह एक गिलास को बहुत ऊँचा उठाता था और उसकी कॉफी को दूसरे गिलास में डालता था जो उसने दूसरे हाथ में पकड़ा होता था। रास्ते में कुछ लोग दुकानों के सामने बैठे होते थे और प्याज काटते थे। रास्ते में बादाम का पेड़ भी होता था। वहाँ पर बहुत-सी ऐसी फलों की दुकानें भी होती थीं जो मौसम के अनुसार उपलब्ध होते थे।)

Question 4.
How did Bama learn about untouchability? How did she feel about it? (बामा को छुआछूत के बारे में कैसे पता चला ? उसने इसके बारे में क्या महसूस किया ?)
Or
What was the scene that first amused Bama but then filled her with anger and revolt? (वह क्या दृश्य था जिसे देखकर पहले तो बामा प्रसन्न हुई और बाद में क्रोध और विद्रोह से भर गई?)
Answer:
One day, she came to her street from the school. She saw that a threshing floor had been set up. The landlord sat in one corner and watched the proceedings. The people of the writer’s coming were hard at work. They were driving cattle in pairs round and round and the grain was being threshed. Suddenly, the writer saw a big man holding a paper bag by the strings and carrying it high. There was vadai or bhajji in it. The man seemed funny. Then he came to the landlord, bowed low and extended the packet to him. He folded the hands while still holding the strings. The landlord opened the packet and started eating the vadais.

Seeing all this Bama was amused. When she came home, she told her elder brother, this funny incident. But her brother said that it was not funny. The big man was untouchable. The upper caste men did not allow the dalits to touch the packet. So he held it by the strings. When the author heard it she felt very sad and angry. An important elder of her community had to bring snacks for the landlord and bow before him.

(एक दिन, वह स्कूल से अपनी गली में आई। उसने देखा कि भूसे से अनाज निकालने वाला फर्श बनाया गया था। जमींदार एक कोने में बैठा था और काम को देख रहा था। लेखिका के समुदाय के लोग मेहनत कर रहे थे। वे मवेशियों के जोड़ो को चारों तरफ घुमा रहे थे और अनाज निकल रहा था। अचानक, लेखिका ने एक बुजुर्ग आदमी को कागज के एक लिफाफे को डोरी से पकड़े और उसे ऊँचा उठाए हुए देखा। इसके अन्दर वडाई या भज्जी थी।

आदमी हास्यपद लगता था। तब वह जमींदार के पास आया, नीचे तक झुका और वह लिफाफा उसे दे दिया। उसने डोरी पकड़े-पकड़े ही हाथ जोड़े। ज़मींदार ने लिफाफा खोला और वडाई खाना शुरू कर दिया। यह देखकर बामा प्रसन्न हुई। जब वह घर आई, तो उसने यह मजे दार घटना, अपने भाई को बताई। मगर उसके भाई ने कहा कि यह मज़ेदार नहीं है; बुजुर्ग आदमी एक अछूत था। ऊँची जाति वाले लोग दलितों को लिफाफों को हाथ लगाने नहीं देते थे। इसलिए उसने उसे डोरी से पकड़ा हुआ था। जब लेखिका ने यह बात सुनी तो वह उदास और क्रोधित हो गई। उसके समुदाय के एक महत्त्वपूर्ण बुजुर्ग व्यक्ति को जमींदार के लिए खाने का सामान लाना पड़ता था और उसके सामने झुकना भी पड़ता था।)

Question 5.
How could the Dalits throw away humiliation and earn respect, according to Bama’s brother? (बामा के भाई के अनुसार दलित किस प्रकार अपमान को दूर कर सकते हैं, और सम्मान अर्जित कर सकते हैं ?) [H.B.S.E. 2017 (Set-D)]
Answer:
Bama’s elder brother, Annan, had been studying at the university. He had come home for the holidays. He had often to go to the library in neighboring village to borrow books. One day, when he was on the way, he came across one of the landlord’s men.

When her rd’s men. When her brother told him his name. he asked him in which street he lived. By knowing the name of the street, he would know to which caste he belonged. Later, Annan told Bama that they were born into a low caste so they were never given any honour or respect. But if they could make progress, they would be able to throw away all that humiliation and earn respect. He advised his sister to study with care and learn all she could. If she forges ahead in life, people would respect her. The author never forgot those words of her brother. She worked hard and stood first in the class. She earned the respect of her classmates. Later, she became a very famous writer.

(बामा का बड़ा भाई, अन्नान, विश्वविद्यालय में पढ़ रहा था। वह छुट्टियों में घर आया हुआ था। उसे पुस्तकें उधार लेने के लिए अक्सर पास के गाँव के पुस्तकालय में जाना पड़ता था। एक दिन जब वह रास्ते में था, तो उसे जमींदार का एक आदमी मिला। जब उसके भाई ने अपना नाम बताया, तो उसने पूछा कि वह किस गली में रहता है। गली का नाम पता लगने, पर वह जान जाता कि वह किस जाति से सम्बन्ध रखता है। बाद में, अन्नान ने लेखिका को बताया कि क्योंकि वे एक नीची जाति में पैदा हुए हैं, इसलिए उन्हें कोई सम्मान नहीं दिया जाता।

लेकिन अगर वे प्रगति कर लें, तो वे इन सब अपमानों को दूर कर सकते हैं और सम्मान प्राप्त कर सकते हैं। उसने लेखिका को सलाह दी कि वह मन लगाकर पढ़े और जितना कुछ सीख सकती है, सीखें। अगर वह जीवन में प्रगति करती है, तो लोग उसका सम्मान करेंगे। लेखिका अपने भाई के इन शब्दों को कभी नहीं भूली। उसने बहुत मेहनत की और कक्षा में प्रथम आई। उसने अपनी सहपाठियों का सम्मान प्राप्त किया। और बाद में वह एक प्रसिद्ध लेखिका बन गई।)

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 8 Memories of Childhood

Memories of Childhood Summary in English and Hindi

Memories of Childhood Introduction to the Chapter
In this chapter two woman writers record their childhood memories. These women belonged to the lower section of society. They describe the partial treatment given to them by the so-called upper sections of society. The first is a native American writer, Zitkala-Sa. She describes an event in her school where her hair were cut down. She came from a society where cutting of hair of captured warriors was done. So the cutting of hair signified being cowardly.

She learnt that in the school her hair would be cut. She decided that she would not allow them to cut her hair. So she went into a room and hid herself under a bed. But she was discovered, dragged out and was subjected to hair-cutting. She cried a lot, but could do nothing. In the second part of the essay, Bama, a Tamil Dalit woman narrates her childhood experience. She found that the people of her community were considered untouchables. She remembers an event where a man humbled herself before the village elder because the man was an untouchable. Her brother advised her to rise in life so that she would not be insulted. She kept his advice in mind. She worked hard, got higher education and became a famous writer.

(इस पाठ में दो महिला लेखिकाएँ अपने बचपन की यादों का जिक्र करती हैं। ये महिलाएँ समाज के निम्न वर्ग से सम्बन्ध रखती हैं। वे अपने साथ समाज के उच्च वर्गों के द्वारा किए गए भेदभावपूर्ण व्यवहार का वर्णन करती हैं। इनमें से पहली मूल अमेरिकी लेखिका, जित्कला-सा है। वह अपने स्कूल की एक घटना का वर्णन करती है जब उसके बाल काट दिए गए थे। वे ऐसे समाज से आई थी जहाँ पर कैद किए गए योद्धाओं के बाल काटने का रिवाज था। इसलिए बाल काटने का अभिप्राय था कायर होना। उसे पता चला कि स्कूल में उसके बाल काट दिए जाएंगे।

उसने फैसला किया कि वह स्कूल वालों को अपने बाल नहीं काटने देगी। इसलिए वह एक कमरे में गई और एक बिस्तर के नीचे छुप गई। मगर उसे ढूँढ लिया गया, खींचकर बाहर निकाला गया और उसके बाल काट दिए गए। वह बहुत रोई, मगर कुछ न कर सकी। लेख के दूसरे भाग में, एक तमिल दलित महिला बामा, अपने बचपन के अनुभव का वर्णन करती है। उसने देखा था कि उसके समुदाय के लोगों को अछूत माना जाता था। उसे एक घटना याद आती है जहाँ एक व्यक्ति को गाँव के पंचों के सामने अपमानित होना पड़ा क्योंकि वह एक अछूत था। उसके भाई ने उसे सलाह दी कि वह जीवन में ऊपर उठे ताकि कोई उसे अपमानित न कर सके। उसने उस सलाह को दिल में रखा। उसने कठिन परिश्रम किया, उच्च शिक्षा प्राप्त की और एक प्रसिद्ध लेखिका बन गई।)

Memories of Childhood Summary
I. The Cutting Of My Long Hair
In the first part of the chapter, Zitkala-Sa remembers her first day at school. She was full of fear as well as expectation. The children were taken to a hall for breakfast. She was new and did not know to behave at such assemblies. The children gathered round a table. A bell rang and they took out chairs. The author took out the chair and sat on it. But everyone was still standing. So she got up. Then the bell rang and all of them sat on the chair. Now the author also sat down. She looked at other children. But all the other hung down their heads over their plates. But she found that the others were not eating. Then the third bell rang. Now every one picked up his knife and fork and began eating. She found a paleface woman was staring at her.

She felt herself odd among them. So she started crying Later in the day, one of her friend, Judewin told her that their long hair would be cut short. In the society from where the author has come, it was taboo to cut hair. Only the hair of the captured soldiers were cut. So the cutting of hair was considered a sign of cowardice. She decided that she would not let them cut her hair. She would rebel against that rule. She went into a room. There she hid under a bed. She heard voices calling her name. But she did not come out. Then she heard the footsteps in the room. She was found out. They dragged her out and fastened to a chair. She started crying. But nobody cared for her weeping and her hair was cut down. She cried but no one came to her help.

I. मेरे लंबे बालों का कटना (पाठ के पहले भाग में, जित्कला-सा स्कूल के अपने पहले दिन को याद करती है। वह भय और आशा से भरी हुई थी। बच्चों को नाश्ते के लिए एक हॉल में ले जाया गया। वह नई थी और उसे मालूम नहीं था कि ऐसी सभाओं में कैसे व्यवहार किया जाता है। बच्चे एक गोल मेज के आस-पास इकट्ठे हो गए। एक घन्टी बजी और उन्होंने कुर्सियाँ निकाली। लेखिका ने एक कुर्सी निकाली और उस पर बैठ गई। मगर हर बच्चा अभी भी खड़ा था, इसलिए वह भी खड़ी हो गई। तब घन्टी बजी और सब कुर्सियों पर बैठ गए। अब लेखिका भी बैठ गई। उसने अन्य बच्चों को देखा, मगर सब अपनी प्लेटों पर झुके हुए थे, मगर उसने देखा कि वे लोग खा नहीं रहे थे। फिर तीसरी घन्टी बजी। अब हर एक ने अपना-अपना छुरी और कांटा उठाया और खाना आरम्भ कर दिया। उसने एक पीले चेहरे वाली औरत को उसे घूरते हुए पाया। उसने स्वयं को उनके बीच अलग-सा महसूस किया, इसलिए उसने रोना शुरु कर दिया।

उस दिन के बाद में, उसकी एक सहेली जुडविन ने उसे बताया कि उनके लम्बे बाल काट दिए जाएंगे। जिस समाज से लेखिका आई थी, उसमें बाल काटना निषेध था। केवल कैद किए गए सैनिकों के बाल ही काटे जाते थे। इसलिए बाल काटना कायरता की निशानी माना जाता था। उसने फैसला किया कि वह उन्हें अपने बाल नहीं काटने देगी। वह इस नियम के खिलाफ विद्रोह कर देगी। वह एक कमरे में गई, वहाँ वह एक बिस्तर के नीचे छुप गई। उसने अपने नाम को पुकारती हुई आवाजें सुनीं, मगर वह बाहर नहीं आई। तब उसने कमरे में कदमों की आवाज सुनी। उसे ढूँढ लिया गया। उन्होंने उसे बाहर खींच लिया और एक कुर्सी के साथ बाँध दिया। उसने रोना आरम्भ कर दिया। मगर किसी ने उसके रोने की परवाह नहीं की और उसके बाल काट दिए गए। वह रोई मगर कोई भी उसकी सहायता के लिए नहीं आया।)

II. We Too Are Human Beings

In the second part of the chapter, a Tamil Dalit writer, Bama narrates her childhood experiences. At that time she was studying in the third class. It was possible for her to reach home from school in ten minutes. But she often enjoyed the scenes on the way and it took her about one hour to reach home. One day, she saw a performing monkey. She also saw a snake charmer with a snake. There was a cyclist who had been performing the cycling feat for three days. She saw the Maariyaata temple. There was sweet stall by statue of Gandhiji. There was a hawker selling clay beads and instruments for cleaning out the ears.

Often the people from various political parties gathered there and gave speeches when the time for elections came near. There were street plays or puppet shows or a ‘no magic no miracle’ stunt performance. There were coffee clubs in the bazaar. The waiter cooled the coffee in an interesting way. He lifted a tumbler high and poured its contents into another tumbler which he held in the other hand. On the way some people sat in front of shops and chopped onions. There was an almond tree also on the way. There were a number of fruit stalls which sold different fruits available according to the season.

One day, she came to her street from the school. She saw that a threshing floor had been set up. The landlord sat in one corner and watched the proceedings. The people of the writer’s community were hard at work. They were driving cattle in pairs round and round and the grain was being threshed. Suddenly the writer saw a big man holding a paper bag by the strings and carrying it high.

There was vadai or bhajji in it. The man seemed funny. Then he came to the landlord, bowed low and extended the packet to him. He folded the hands while still holding the strings. The landlord opened the packet and started eating the vadais. When she came home, she told her elder brother, this funny incident. But her brother said that it was not funny. The big man was untouchable. The upper caste men did not allow the dalits to touch the packet. So he held it by the strings. When the author heard it she felt very sad. An important elder of her community had to bring snacks for the landlord and bow before him.

Her elder brother, Annan, had been studying at the university. He had come home for the holidays. He had often to go to the library in neighbouring village to borrow books. One day, when he was on the way, he came across one of the landlord’s men. When her brother told him his name, he asked him in which street he lived. By knowing the name of the street, he would know to which caste he belonged.

Later, Annan told the author that as they were born into a low caste, they were never given any honour or respect. But if they could make progress, they can throw away all those insults. He advised the author to study with care and learn all she could. If she forges ahead in life, people would respect her. The author never forgot those words of her brother. She worked hard and became famous writer.

हम भी इन्सान हैं (पाठ के दूसरे भाग में, एक तमिल दलित लेखिका बामा, अपने बचपन के अनुभवों का वर्णन करती है। उस समय वह तीसरी कक्षा में पढ़ती थी। उसके लिए स्कूल से घर तक दस मिनट में जाना सम्भव था। मगर वह रास्ते में दृश्यों का आनन्द उठाती थी और घर पहुँचने में लगभग एक घन्टा लगाती थी। एक दिन, उसने करतब दिखाने वाला बन्दर देखा। उसने एक सपेरे को साँप के साथ भी देखा। वहाँ एक साइकिल चलाने वाला था जो तीन दिन से साइकिल चला रहा था। उसने मारियाता मन्दिर देखा। वहाँ पर गांधीजी की मूर्ति के साथ मिठाई की एक दुकान थी। वहाँ पर एक फेरी वाला था जो मिट्टी के मनके और कान साफ करने के उपकरण बेच रहा था।

अक्सर विभिन्न राजनीतिक दलों के नेता वहाँ पर इकट्ठे होते थे और जब चुनावों का समय नजदीक आता था तो भाषण देते थे। वहाँ पर गली में नाटक होते थे या कठपुतलियों का प्रदर्शन या “ना जादू ना चमत्कार” नाम का साहसिक प्रदर्शन होता था। बाज़ार में कॉफी के क्लब होते थे। नौकर कॉफी को एक रोचक तरीके से ठंडा करता था। वह एक गिलास को बहुत ऊँचा उठाता था और उसकी कॉफी को दूसरे गिलास में डालता था जो उसने दूसरे हाथ में पकड़ा होता था। रास्ते में कुछ लोग दुकानों के सामने बैठे होते थे और प्याज काटते थे। रास्ते में बादाम का पेड़ भी होता था। वहाँ पर बहुत-से ऐसे फलों की दुकानें भी होती थीं जो मौसम के अनुसार उपलब्ध होती थी।

एक दिन, वह स्कूल से अपनी गली में आई। उसने देखा कि भूसे से अनाज निकालने वाला फर्श बनाया गया था। ज़मींदार एक कोने में बैठा था और काम को देख रहा था। लेखिका के समुदाय के लोग मेहनत कर रहे थे। वे मवेशियों के जोड़ो को चारों तरफ घुमा रहे थे और अनाज निकल रहा था। अचानक लेखिका ने एक बड़े आदमी को कागज के एक लिफाफे को डोरी से पकड़े और उसे ऊँचा उठाए हुए देखा। इसके अन्दर वडाई या भज्जी थी।

आदमी हास्यपद लगता था। तब वह ज़मींदार के पास आया, नीचे तक झुका और वह पैकेट उसे दिया। उसने डोरी पकड़े हुए ही हाथ जोड़े। ज़मींदार ने पैकेट खोला और वडाई खाना शुरु कर दिया। जब वह घर आई, तो उसने यह मज़ेदार घटना, अपने भाई को बताई। मगर उसके भाई ने कहा कि यह मज़ेदार नहीं है। बड़ा आदमी एक अछूत था। ऊँची जाति वाले लोग दलितों को लिफाफों को हाथ लगाने नहीं देते थे। इसलिए उसने उसे डोरी से पकड़ा हुआ था। जब लेखिका ने यह बात सुनी तो वह उदास हो गई। समुदाय के एक बुजुर्ग व्यक्ति को ज़मींदार के लिए खाने का सामान लाना पड़ता था और उसके सामने झुकना भी पड़ता था।

उसका बड़ा भाई, अन्नान, विश्वविद्यालय में पढ़ रहा था। वह छुट्टियों में घर आया हुआ था। उसे पुस्तकें उधार लेने के लिए अक्सर पास के गाँव के पुस्तकालय में जाना पड़ता था। एक दिन, जब वह रास्ते में था, तो उसे ज़मींदार का एक आदमी मिला। जब उसके भाई ने उसे अपना नाम बताया तो, उसने पूछा कि वह किस गली में रहता है। गली का नाम पता लगने पर वह जान जाता कि वह किस जाति से सम्बन्ध रखता है।

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 8 Memories of Childhood

बाद में, अन्नान ने लेखिका को बताया कि क्योंकि वे एक नीची जाति में पैदा हुए हैं, इसलिए उन्हें कोई सम्मान नहीं दिया जाता। लेकिन अगर वे प्रगति कर लें, तो वे इन सब अपमानों को दूर कर सकते हैं। उसने लेखिका को सलाह दी कि वह मन लगाकर पढ़े और जितना कुछ सीख सकती है, सीखे। अगर वह जीवन में प्रगति करती है, तो लोग उसका सम्मान करेंगे। लेखिका अपने भाई के इन शब्दों को कभी नहीं भूली। उसने बहुत मेहनत की और एक प्रसिद्ध लेखिका बन गई।)

Memories of Childhood Meanings

I. The Cutting Of My Long Hair
[Page 93-94] :
Episode (event) = घटना;
marginalised (belonging to low caste) = निम्न जाति वाले;
reflect on (think about)= सोचना;
mainstream (majority) = बहुसंख्या;
contemporary (living at the same time) = समकालीन;
triumphed (became victorious)= जीतना;
belfry (a tower where the bell hangs) = घंटाघर;
clatter (noise)= शोर;
clinging (sticking)= चिपटना;
moccasins (soft shoes)= नरम जूते;
immodestly (without grace)= भाड़ ढंग सं;
shyly (with shyness) = शर्माते हुए;
crawl (creep) = रेंगना;
glance at (look at) = देखना;
keenly (seriously) = गम्भीरता से;
muttering (grumbling)= बुड़बुड़ाना ।

[Page 95-96] :
Venture (do something) = कुछ करना;
warriors (soldiers) = योद्धा;
captured (arrested) = कैद करना;
mourners (those who mourn)= अफसोस करने वाले;
cowards (cowardly people)= डरपोक लोग;
submit (yield, bend) = हार मानना, झुकना;
rebelled (revolted) = विद्रोह करना;
disappear (vanish) = गायब होना;
squeaking (make noise while walking) = जूतों की चरमराहट;
whither (where)= कहां;
huddled (crouched) = दुबकना;
peered out (looked out) = बाहर खींचना;
stoop (bend) = झुकना;
dragged out (pulled out) = बाहर देखना;
resisted (protested) = विरोध करना;
scratching (wounding by nails) = नाखून से खरोचना;
gnaw off (cut down) = काट लेना;
braids (hair)= बाल;
indignities (insults)= अपमान;
anguish (agony) = पीड़ा;
moaned (groaned) = कराहना;
herder (cowherd)= गडरिया।

II. We Too Are Human Beings

[Page 96-97]:
Humiliated (insulted) = अपमानित किया;
dawdle (wander) = आवारागदी करना;
entertaining amusing = मनोरंजक;
oddities (strange things)= अजीब चीज़ें;
displayed (exhibited) = प्रदर्शित किया;
offerings (presents) = उपहार;
lemur (a kind of animal) = एक प्रकार का जानवर;
harangue (deliver speech) = भाषण देना;
stunt (daring act) = साहसिक कार्य;
tumbler (drinking glass)= गिलास;
chopping (cutting) = काटना;
tether (tie) = बाँधना;
lollies (sweets) = मिठाइयाँ;
slung (hung) = लटकाना;
ledge (slab) = पत्थर की पटरियाँ।

[Page 98-100] :
Muzzle (cover of snout) = थूथन की जाली;
elder (respectable old man) = सम्मानित बूढ़ा आदमी;
shriek (cry) = चीख;
extended (stretched) = फैलाना, बढ़ाना;
cupping (folding hands) = हाथ जोड़ना;
comic (ludicrous) = हास्यपद;
funny (amusing) = मनोरंजक;
disgusting (contemptuous) = घृणात्मक;
provoked (excited) = उत्तेजित;
meekly (humbly) = विनम्रता से;
infuriated (very angry) = बहुत गुस्से में;
petty (mean) = तुच्छ;
errands (perform small tasks on order) = आदेश पर काम करना;
wages (workman’s pay) = मज़दूरी;
community (part of society)= समदाय;
dignity (respect)= सम्मान;
stripped (deprived)= वाचत;
impression (imprint)= प्रभाव;
frenzy (craze) = पागलपन;
urged (inspired)= आग्रह किया, प्रेरित किया।

Memories of Childhood Translation in Hindi

Before You Read
I. The Cutting of My Long Hair …..

ZITKALA-SA

The first day in the land of apples was a bitter-cold one; for the snow still covered the ground, and the trees were bare. A large bell rang for breakfast, its loud metallic voice crashing through the belfry overhead and into our sensitive ears. The annoying clatter of shoes on bare floors gave us no peace. The constant clash of harsh noises, with an undercurrent of many voices murmuring an unknown tongue, made a bedlam within which I was securely tied. And though my spirit tore itself in struggling for its lost freedom, all was useless.

(सेबों के देश में पहला दिन बड़ा ठंडा था; क्योंकि जमीन अभी भी बर्फ से ढकी थी, और वृक्ष पत्तों रहित थे। नाश्ते के लिए एक लंबी घंटी बजी, इसकी ऊँची धातु की आवाज़ हमारे सिर के ऊपर घंटाघर को पार करती हई हमारे कानों को चीर रही थी। नंगे फर्श पर जूतों की चिढ़ाने वाली तेज आवाज़ हमें चैन नहीं लेने देती थी। लगातार उठता हुआ कटु आवाज़ों का वह शोर, जिसकी पृष्ठभूमि में अनजानी भाषा की बहुत-सी आवाजें थीं, एक ऐसा पागलखाना सा बना दिया था जिसके अन्दर मैं बंधी हुई थी। और यद्यपि मेरी आत्मा अपनी खोयी हुई आजादी को प्राप्त करने के लिए स्वयं को तोड़ रही थी, सारे प्रयत्न निष्फल थे।)

A paleface woman, with white hair, came up after us. We were placed in a line of girls who were marching into the dining room. These were Indian girls, in stiff shoes and closely clinging dresses. The small girls wore sleeved aprons and shingled hair. As I walked noiselessly in my soft moccasins, I felt like sinking to the floor, for my blanket had been stripped from my shoulders. I looked hard at the Indian girls, who seemed not to care that they were even more immodestly dressed than I, in their tightly fitting clothes. While we marched in, the boys entered at an opposite door. I watched for the three young braves who came in our party. I spied them in the rear ranks, looking as uncomfortable as I felt.

A small bell was tapped, and each of the pupils drew a chair from under the table. Supposing this act meant they were to be seated, I pulled out mine and at once slipped into it from one side. But when I turned my head, I saw that I was the only one seated, and all the rest at our table remained standing. Just as I began to rise, looking shyly around to see how chairs were to be used, a second bell was sounded. All were seated at last, and I had to crawl back into my chair again. I heard a man’s voice at one end of the hall, and I looked around to see him. But all the others hung their heads over their plates.

As I glanced at the long chain of tables, I caught the eyes of a paleface woman upon me. Immediately I dropped my eyes, wondering why I was so keenly watched by the strange woman. The man ceased his mutterings, and then a third bell was tapped. Everyone picked up his knife and fork and began eating. I began crying instead, for by this time I was afraid to venture anything more.

(सफेद बालों और पीले चेहरे वाली एक औरत हमारे पीछे-पीछे आयी। हमें उन लड़कियों की पंक्ति में खड़ा कर दिया गया जो भोजन के कमरे में जा रहीं थीं। वे सब भारतीय लड़कियाँ थीं, जो कठोर जूते और तंग वस्त्र पहने थीं। छोटी लड़कियाँ बाजू वाले एप्रन पहने थीं और उनके बाल छोटे-छोटे कटे हुए थे। जब मैं निःशब्द अपने मोकासिन पहने चल रही थी, मैं शर्म से फर्श पर गिरने को हो रही थी, क्योंकि मेरा कम्बल मेरे कंधों से नीचे गिर गया था। मैंने कठोर नजरों से उन भारतीय लड़कियों की ओर देखा जिन्हें इस बात की कोई चिन्ता प्रतीत नहीं हो रही थी कि वे मेरी अपेक्षा और भी अधिक भद्दे और तंग कपड़े पहने थीं।

जब हम अन्दर प्रवेश कर रहे थे, लड़के सामने वाले दरवाजे से आ रहे थे। मेरी नजरें उन तीन बहादुर नौजवानों को तलाश रही थीं जो हमारे दल के साथ आए थे। मैंने उन्हें पिछली पंक्तियों में देख लिया; वे उतने ही बेचैन हो रहे थे जैसे मैं थी। एक छोटी घंटी बजी, और हर विद्यार्थी ने मेज के नीचे से एक कुर्सी निकाली। यह मानकर कि यह बैठने के लिए निकाली गयी थी, मैंने अपनी कुर्सी निकाली और तुरंत ही उसमें बैठ गयी।

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 8 Memories of Childhood

परन्तु जब मैंने अपना सिर घुमाया, तो देखा कि केवल मैं ही बैठी हुई थी, और अन्य सभी खड़े हुए थे। जब मैं यह देखती हुई उठने लगी कि इन कुर्सियों का उपयोग किस प्रकार होना था, एक दूसरी घंटी बजी। आखिर सारे बैठ गए और मुझे फिर से अपनी कुर्सी पर बैठना पड़ा और मैंने हॉल के अंतिम छोर से आती एक पुरुष की आवाज सुनी और मैंने उसे देखने के लिए सिर घुमाया। परन्तु अन्य सभी अपना सिर अपनी प्लेटों पर झुकाए थे। जब मैंने मेजों की लंबी श्रृंखला पर नजर डाली तब मैंने पीले चेहरे वाली एक औरत को अपनी ओर देखते पाया। तुरन्त ही मैंने अपनी नजरें हटा लीं, और सोचने लगी कि वह अजनबी औरत मुझे क्यों इतने ध्यान से देख रही थी। उस आदमी ने बोलना बन्द किया, और तब एक तीसरी घंटी बजी। हर व्यक्ति ने अपना छुरी और कांटा उठाया और खाना प्रारम्भ कर दिया। मैं इसके बजाय रोने लगी, क्योंकि मैं अब कोई भी काम करने से डर रही थी।)

But this eating by formula was not the hardest trial in that first day. Late in the morning, my friend Judewin gave me a terrible warning. Judewin knew a few words of English; and she had overheard the paleface woman talk about cutting our long, heavy hair. Our mothers had taught us that only unskilled warriors who were captured had their hair shingled by the enemy.

Among our people, short hair was worn by mourners and shingled hair by cowards! we discussed our fate some moments, and when Judewin said, “We have to submit because they are strong.” I rebelled. “No, I will not submit! I will struggle first !” I answered.

(परन्तु प्रथम दिन इस तरीके से भोजन करना मेरी उस दिन की सबसे बड़ी मुसीबत नहीं थी। देर शाम, मेरी सहेली जुडविन ने मुझे भयानक चेतावनी दी। जुडविन जो अंग्रेजी के कुछ शब्द जानती थी और उसने पीले चेहरे वाली महिला को हमारे लम्बे, भारी बाल काटने की बात करते सुन लिया था। हमारी माताओं ने हमें बताया था कि केवल अनाड़ी योद्धाओं के बाल काट दिए जाते थे जब वे शत्रु द्वारा पकड़ लिए जाते थे। हमारे लोगों में छोटे बाल मातम करने वालों व कायरों के होते थे! कुछ क्षणों तक हमने अपनी किस्मत की चर्चा की, और जब जुडविन ने कहा, “हमें समर्पण करना पड़ेगा, क्योंकि वे शक्तिशाली हैं।” मैंने विद्रोह कर दिया। “नहीं, मैं समर्पण नहीं करूँगी! मैं पहले संघर्ष करूँगी!” मैंने उत्तर दिया।)

I watched my chance, and when no one noticed, I disappeared. I crept up the stairs as quietly as I could in my squeaking shoes my moccasins had been exchanged for shoes. Along the hall I passed, without knowing whither I was going. Turning aside to an open door, I found a large room with three white beds in it. The windows were covered with dark green curtains, which made the room very dim. Thankful that no one was there, I directed my steps toward the corner farthest from the door. On my hands and knees, I crawled under the bed and huddled myself in the dark corner.

(मैं अपने मौके की ताक में थी, और जब कोई नहीं देख रहा था, तो मैं गायब हो गई। मैं अपने चरमराते जूतों से सीढ़ियों पर जितना दबे पाँव हो सकता था चढ़ गई मेरे मोकासिन के बदले मुझे जूते दे दिए गए थे। मैं हॉल से होकर चलती चली गयी बिना यह जाने कि मैं किधर जा रही थी। एक खुले दरवाजे में जाकर मैंने देखा तीन सफेद बिस्तरों वाला एक बड़ा कमरा था। खिड़कियों पर गहरे हरे पर्दे पड़े हुए थे, जिससे कमरा बहुत धुंधला हो गया था। मैंने शुक्र किया कि वहाँ कोई नहीं है, मैं दरवाजे से सबसे परे वाले कोने की ओर गई। हाथों व घुटनों के बल रेंगकर मैं पलंग के नीचे घुस गई और सिमटकर अंधेरे कोने में बैठ गई।)

From my hiding place, I peered out, shuddering with fear whenever I heard footsteps nearby. Though in the hall loud voices were calling my name, and I knew that even Judewin was searching for me, I did not open my mouth to answer. Then the steps were quickened and the voices became excited. The sounds came nearer and nearer. Women and girls entered the room.

I held my breath and watched them open closet doors and peep behind large trunks. Someone threw up the curtains, and the room was filled with sudden light. What caused them to stoop and look under the bed I do not know. I remember being dragged out, though I resisted by kicking and scratching wildly. In spite of myself, I was carried downstairs and tied fast in a chair.

(अपनी छुपने की जगह से मैंने झाँक कर देखा, और जब कभी मैं अपने समीप कदमों की आहट सुनती थी, मैं भय से काँप जाती थी। यद्यपि हॉल में ऊँची आवाज़ों में मेरा नाम पुकारा जा रहा था, और मैं जानती थी कि जुडविन भी मुझे खोज रही थी, मैंने उत्तर देने के लिए मुँह न खोला। फिर कदम तेज हो गए और आवाजें उत्तेजित हो गईं। आवाजें निकट और निकटतर आने लगीं। स्त्रियाँ व लड़कियाँ कमरे में आ गईं। मैंने साँस को रोके रखा और उन्हें अलमारियों के दरवाजे खोलते और बड़े-बड़े ट्रंकों के पीछे झाँकते देखा। किसी ने पर्दे एक ओर हटा दिए और कमरा अचानक प्रकाश से भर गया।

मुझे नहीं पता कि उन्होंने पलंग के नीचे झुककर किस कारण से देखा। मुझे तो इतना याद है कि उन्होंने मुझे बाहर घसीटा, यद्यपि मैंने पागलों की भाँति लातें मारकर व नाखूनों से नोचकर विरोध किया। मेरे विरोध करने के बावजूद मुझे उठाकर सीढ़ियों से नीचे ले जाया गया और एक कुर्सी से कसकर बाँध दिया गया।)

I cried aloud, shaking my head all the while until I felt the cold blades of the scissors against my neck, and heard them gnaw off one of my thick braids. Then I lost my spirit. Since the day I was taken from my mother I had suffered extreme indignities. People had stared at me. I had been tossed about in the air like a wooden puppet. And now my long hair was shingled like a coward’s! In my anguish, I moaned for my mother, but no one came to comfort me. Not a soul reasoned quietly with me, as my own mother used to do; for now, I was only one of many little animals driven by a herder.

(मैं जोर से चीखती रही, और तब तक सिर हिलाती रही जब तक मैंने कैंची के ठंडे फलकों को अपनी गर्दन पर महसूस नहीं किया और अपनी एक मोटी-चोटी के कटने की आवाज न सुनी थी। तब मैं हिम्मत हार गई। जबसे मुझे मेरी माँ से जुदा किया गया था मैं अत्यन्त अपमान सहन करती आ रही थी। लोग मुझे घूरते थे। मुझे लकड़ी की कठपुतली की भाँति हवा में उछाला गया था। और अब मेरे बाल कायरों के बालों की भाँति छोटे कर दिए गए थे। अपनी पीड़ा में मैं कराहकर अपनी माँ को पुकारती थी, परन्तु मुझे सांत्वना देने कोई न आया। किसी ने शांति से मुझे नहीं समझाया जैसे कि मेरी माँ किया करती थी, क्योंकि अब मैं गडरिये द्वारा हांकी जाने वाली बहुत-से छोटे पशुओं में से एक बन गई थी।)

II. We Too are Human Beings…..

BAMA
When I was studying in the third class, I hadn’t yet heard people speak openly of untouchability. But I had already seen, felt, experienced and been humiliated by what it is. I was walking home from school one day, an old bag hanging from my shoulder. It was actually possible to walk the distance in ten minutes. But usually it would take me thirty minutes at the very least to reach home. It would take me from half an hour to an hour to dawdle along, watching all the fun and games that were going on, all the entertaining novelties and oddities is the streets, the shops and the bazaar.

(जब मैं तीसरी कक्षा में पढ़ती थी, तब तक मैंने लोगों को छुआछूत के बारे में खुले तौर से बातें करते नहीं सुना था। परन्तु मैं इसे पहले ही देख चुकी थी, इसे महसूस कर चुकी थी, अनुभव कर चुकी थी और इसके द्वारा अपमानित हो चुकी थी। एक दिन, मैं स्कूल से अपने कंधे से पुराना थैला लटकाए घर जा रही थी। वास्तव में वह फासला दस मिनट में चलकर तय किया जा सकता था। परन्तु मुझे घर पहुंचने में प्रायः कम-से-कम तीस मिनट लगते थे। मुझे सभी खेल व तमाशा, जो वहाँ चलता रहता था और सड़कों, दुकानों व बाजार में जो मनोरंजन व नई वस्तुएँ थीं, उन्हें देखने में समय नष्ट करते हुए घर पहुँचने में आधा घंटे से एक घंटा तक लग जाता था।)

The performing monkey; the snake which the snake-charmer kept in its box and displayed from time to time; the cyclist who had not got off his bike for three days, and who kept pedaling as hard as he could from break of day; the rupee notes that were pinned on to his shirt to spur him on; the spinning wheels; the Maariyaata temple, the huge bell hanging there; the pongal offerings being cooked in front of the temple; the dried fish stall by the statue of Gandhi; the sweet stall, the stall selling fried snacks, and all the other shops next to each other; the street light always demonstrating how it could change from blue to violet; the narik Karavan hunter gypsy with his wild lemur in cages, selling needles, clay beads and instruments for cleaning out the ears-Oh, I could go on and on. Each thing would pull me to a stand-still and not allow me to go any further.

(तमाशा दिखाने वाला बन्दर; साँप जिसे सपेरा एक पिटारी में रखता था और समय-समय पर प्रदर्शित करता था, साइकिल चलाने वाला जो पिछले तीन दिन से साइकिल से नहीं उतरा था और जो सुबह से ही जितने तेज चला सकता था चलता रहता था; उसे चलाते रहने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए उसकी कमीज पर एक-एक रुपए के नोट टाँके हुए थे; चरखे; मारियाता मन्दिर, वहाँ लटका बड़ा घंटा; पोंगल का चढ़ावा जो मन्दिर के सामने पकाया जा रहा था, गाँधीजी की मूर्ति के समीप सूखी मछली की दुकान, मिठाई की दुकान, तले हुए जलपान बेचने वाली की दुकान और एक-दूसरे से जुड़ी हुई दुकानें और सड़क के लैम्प जो सदा दिखाते रहते थे; वे नीले से बैंगनी कैसे बन सकते हैं, नरिक्कुरवन जिप्सी शिकारी जिसके पास पिंजरे में जंगली लीमर थे, और जो सुइयाँ मिट्टी के मनके और कान साफ करने के औजार बेचता था-ओह! मैं जितना चाहे याद कर सकती हूँ। प्रत्येक चीज मुझे खींचकर रोके रखती थी और आगे नहीं बढ़ने देती थी।)

At times, people from various political parties would arrive, put up a stage and harangue us through their mikes. Then there might be a street play, or a puppet show, or a “no magic, no miracle” stunt performance. All these would happen from time to time. But almost certainly there would be some entertainment or other going on.

Even otherwise, there were the coffee clubs in the bazaar: the way each waiter cooled the coffee, lifting a tumbler high up and pouring its contents into a tumbler held in his other hand. Or the way some people sat in front of the shops chopping up onion, their eyes turned elsewhere so that they would not smart. Or the almond tree growing there and its fruit which was occasionally blown down by the wind. All these sights taken together would tether my legs and stop me from going home.

(कभी-कभी, विभिन्न राजनीतिक दलों के लोग आते थे, अपना मंच बनाते थे और अपने माइकों द्वारा हमें भाषण सुनाते थे। फिर कभी गली में नाटक होता, या कठपुतली का तमाशा, या ‘न जादू, न चमत्कार’ का कमाल का प्रदर्शन होता था। यह सब समय-समय पर होते रहते थे। परन्तु निश्चित ही कोई-न-कोई तमाशा चलता ही रहता था। इसके अलावा बाजार में कॉफी क्लब थीं जिस प्रकार प्रत्येक नौकर कॉफी ठंडी करने के लिए एक गिलास को ऊँचा उठाता था और कॉफी को दूसरे हाथ में पकड़े गिलास में उड़ेलता था। या जिस प्रकार दुकानों के आगे बैठे लोग प्याज-चीरते थे और अपनी आँखें परे रखते थे ताकि उन्हें टीस न लगे। या वहाँ उगा हुआ बादाम का पेड़ जिसका फल कभी-कभी हवा में उड़कर नीचे गिर पड़ता था। यह सभी दृश्य मिलकर मेरे पाँव रोक देते थे और मुझे घर जाने से रोक लेते थे।)

And then, according to the season, there would be mango, cucumber, sugar cane, sweet potato, palm shoots, gram, palm syrup and palm-fruit, guavas, and jack-fruit. Every day I would see people selling sweet and savory fried snacks, payasam, halva, boiled tamarind seeds, and iced lollies. Gazing at all this, one day, I came to my street, my bag slung over my shoulder. At the opposite corner, though, a threshing floor had been set up, and the landlord watched the proceedings, seated on a piece of sacking spread over a stone ledge. Our people were hard at work, driving cattle in pairs, round and round, to tread out the grain from the straw. The animals were muzzled so that they wouldn’t help themselves to the straw. I stood for a while there, watching the fun.

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 8 Memories of Childhood

(और फिर, वहाँ ऋतु के अनुसार आम, खीरे, गन्ने, शक्करकंदी, खजूर के अंकुर, चना, खजूर का शरबत, और खजूर का फल, अमरूद और कटहल होते थे। प्रतिदिन मैं लोगों को मिठाइयाँ, चटपटी नमकीन, प्यासम, हलवा, उबले हुए इमली के बीज और बर्फ की कुल्फी बेचते हुए देखती थी। एक दिन यह सब कुछ देखते हुए, अपना थैला कंधे पर लटकाए मैं अपनी गली में आई। सामने वाले कोने में अनाज निकालने का स्थल लगा दिया गया था, और जमींदार एक पत्थर पर टाट बिछाकर बैठा काम देख रहा था। हमारे लोग काम पर लगे हुए थे, तिनकों में से अन्न कुचलकर निकालने के लिए बैलों की जोड़ियाँ, गोल-चक्कर में हाँक रहे थे। बैलों के मुँह पर छीके बाँधे थे ताकि वे स्वयं न खाने लग जाएँ। मैं कुछ देर वहाँ खड़ी तमाशा देखती रही।)

Just then, an elder of our street came along from the direction of the bazaar. The manner in which he was walking along made me want to double up. I wanted to shriek with laughter at the sight of such a big man carrying a small packet in that fashion. I guessed there was something like vadai or green banana bhajji in the packet because the wrapping paper was stained with oil. He came along, holding out the packet by its string, without touching it. I stood there thinking to myself, if he holds it like that, won’t the package come undone, and the vadais fall out? The elder went straight up to the landlord, bowed low and extended the packet towards him, cupping the hand that held the string with his other hand. The landlord opened the parcel and began to eat the vadais.

(उसी समय हमारी गली का एक बुजुर्ग बाजार की दिशा से उधर आया। जिस प्रकार वह चल रहा था उसे देखकर मेरा मन बहुत ज्यादा हँसने को हुआ। एक बड़े आदमी का छोटे-से पैकेट को इस प्रकार उठाकर चलने के ढंग को देखकर मैं हँसी से चिल्लाना चाहती थी। मेरा अनुमान था कि उस लिफाफे में वड़ाई या हरे केलों की भाजी जैसे कोई वस्तु होगी, क्योंकि जिस कागज में वह लिपटा था उस पर तेल का धब्बा पड़ गया था। वह आ रहा था, और लिफाफे को छुए बिना डोरी से थामा हुआ था। मैं वहाँ खड़ी सोच रही थी कि यदि वह इसे इस प्रकार पकड़े रहा तो क्या लिफाफा खुल न जाएगा और वड़ाई गिर नहीं जाएँगे ? वह बुजुर्ग सीधा ज़मींदार के पास गया, झुककर प्रणाम किया और लिफाफा उसकी ओर बढ़ा दिया, और जिस हाथ में डोर थी उसके साथ दूसरा हाथ लगाकर हाथ जोड़े। जमींदार ने लिफाफा खोला और वड़ाई खाने लगा।)

After I had watched all this, at last I went home. My elder brother was there. I told him the story in all its comic detail. I fell about with laughter at the memory of a big man, and an elder at that, making such a game out of carrying the parcel. But Annan was not amused. Annan told me the man wasn’t being funny when he carried the package like that. He said everybody believed that they were upper caste and therefore must not touch us. If they did, they would be polluted. That’s why he had to carry the package by its string. When I heard this, I didn’t want to laugh anymore, and I felt terribly sad.

How could they believe that it was disgusting if one of us held that package in his hands, even though the vadai had been wrapped first in a banana leaf, and then parcelled in paper? I felt so provoked and angry that I wanted to touch those wretched vadais myself straightaway. Why should we have to fetch and carry for these people, I wondered. Such an important elder of ours goes meekly to the shops to fetch snacks and hands them over reverently, bowing and shrinking, to this fellow who just sits there and stuffs them into his mouth. The thought of it infuriated me.

(यह सब देखने के बाद, मैं घर गई। मेरा बड़ा भाई वहाँ था। मैंने यह कहानी पूरे मनोरंजक वर्णन के साथ उसे सुनाई। मैं उस बड़े आदमी और वह भी बुजुर्ग, की उस प्रकार उसे लिफाफा उठाकर ऐसा खेल करते हुए लाने की याद से हँसकर लोट-पोट हो रही थी। परन्तु अन्नान को इस पर कोई हँसी न आई। अन्नान ने मुझे बताया कि जब वह आदमी इस प्रकार लिफाफे को लेकर आ रहा था। वह मजाकिया नहीं था। उसने कहा कि सभी लोग सोचते हैं कि वे ऊँची जाति के हैं, इसलिए वे हमें छू नहीं सकते। यदि वे छू लेंगे तो वे अपवित्र हो जाएँगे। यही कारण है कि उसे लिफाफे को डोरी से उठाकर लाना पड़ा था।

जब मैंने यह सुना मेरी हँसी बन्द हो गई, और मुझे बहुत अधिक उदासी हुई। वे ऐसा कैसे मान सकते थे कि यदि हममें से कोई लिफाफा हाथ में पकड़ ले तो यह घृणास्पद हो जाएगी, यद्यपि वड़ों को पहले केले के पत्ते में लपेटा गया था और उसके बाद उसकी कागज में पुड़िया बनाई गई थी ? मैं इतनी उत्तेजित व क्रुद्ध हुई कि मैं उन कमबख्त वड़ों को उसी समय जाकर छूना चाहती थी। मुझे हैरानी हुई, हमें इन लोगों की गुलामी करने की आवश्यकता क्यों थी। हमारा ऐसा महत्त्वपूर्ण बुजुर्ग नाश्ता लाने के लिए विनम्रता से दुकानों पर जाता है और इस प्रकार सादर झुककर सिकुड़कर उन्हें देता है जो बैठे-बैठे उन्हें मुँह में ठूस लेता है। इस प्रकार से मैं क्रोध में आ गई।)

How was it that these fellows thought so much of themselves? Because they had scraped four coins together, did that mean they must lose all human feelings? But we too are human beings. Our people should never run these petty errands for these fellows. We should work in their fields, take home our wages, and leave it at that.

(क्या कारण था कि ये लोग अपने-आपको इतना ऊँचा समझते हैं ? क्योंकि उन्होंने चार पैसे कमा लिए हैं, क्या इसका यह अर्थ है कि उनमें मानव भावनाएँ ही समाप्त हो जाएँ ? परन्तु हम भी मनुष्य हैं। हमारे लोगों को इनके आदेश मानते भागना नहीं चाहिए। हमें इनके खेतों में काम करना चाहिए, और अपना पारिश्रमिक लेकर घर जाना चाहिए और इसके अतिरिक्त कुछ नहीं।)

My elder brother, who was studying at a university, had come home for the holidays. He would often go to the library in our neighbouring village in order to borrow books. He was on his way home one day, walking along the banks of the irrigation tank. One of the landlord’s men came up behind him. He thought my Annan looked unfamiliar, and so te asked, “Who are you, appa, what’s your name ?” Annan told him his name. Immediately the other man asked, “Thambi, on which street do you live ?” The point of this was that if he knew on which street we lived, he would know our caste too.

(मेरा बड़ा भाई जो विश्वविद्यालय में पढ़ता था, छुट्टियों में घर आया हुआ था। वह प्रायः पुस्तकालय से पुस्तकें उधार लेने के लिए पड़ोस के गाँव में जाया करता था। एक दिन वह सिंचाई के तालाब के किनारे चलता हुआ घर जा रहा था। जमींदार का एक आदमी उसके पीछे आया। उसे लगा कि अन्नान अपरिचित व्यक्ति है, और इसलिए उसने पूछा, “अप्पा तुम कौन हो, आपका नाम क्या है ?” अन्नान ने उसे अपना नाम बता दिया। उस आदमी ने तुरंत पूछा, “थम्बी, आप किस गली में रहते हो ?” इसका अभिप्राय यह था कि यदि उसे पता चल जाता कि हम किस गली में रहते थे तो हमारी जाति का भी पता चल जाता।)

Annan told me all these things. And he added, “Because we are born into this community, we are never given any honour or dignity or respect; we are stripped of allthat. But if we study and make progress, we can throw away these indignities. So study with care, learn all you can. If you are always ahead in your lessons, people will come to you of their own accord and attach themselves to you. Work hard and learn.” The words that Annan spoke to me that day made a very deep impression on me. And I studied hard, with all my breath and being, in a frenzy almost. As Annan had urged, I stood first in my class. And because of that, many people became my friends.

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 8 Memories of Childhood

(अन्नान ने मुझे यह सब बातें बताई। और वह बोला, “क्योंकि हम इस समुदाय में पैदा हुए हैं इसलिए हमें कोई मान-सम्मान अथवा आदर नहीं दिया जाता; हम इन सबसे वंचित हैं। लेकिन यदि हम पढ़ाई करें और उन्नति करें, तो हम इस निरादर को दूर कर सकते हैं। इसलिए ध्यान से अध्ययन करो, जो भी सीख सकती हो सीखो। यदि तुम अपनी पढ़ाई में आगे रहोगी तो लोग अपने आप तुम्हारे पास आएँगे, और तुमसे मित्रता करेंगे। परिश्रम करो और सीखो।” अन्नान ने जो शब्द उस दिन मुझे कहे थे उनका मुझ पर गहरा प्रभाव पड़ा। और मैंने जी-जान से खूब पढ़ाई की, लगभग पागलपन के साथ। जैसे-अन्नान ने मुझे कहा था, मैं अपनी कक्षा में प्रथम आई। और इसी कारण बहुत-से लोग मेरे मित्र बन गए।)

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 7 Evans Tries an O-Level

Haryana State Board HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 7 Evans Tries an O-Level Textbook Exercise Questions and Answers.

Haryana Board 12th Class English Solutions Vistas Chapter 7 Evans Tries an O-Level

HBSE 12th Class English Evans Tries an O-Level Textbook Questions and Answers

Question 1.
Reflecting on the story, what did you feel about Evans having the last laugh ? (कहानी पर विचार करते हुए ईवान्स की अन्तिम जीत के बारे में आपका क्या विचार है ?)
Answer:
Evans is a prisoner. In the past, he escaped from jail three times. This time, the Governor and other officers of the jail are very cautious. They have made elaborate arrangements for him. He escapes but the Governor catches him in the hotel. However, Evans finally escapes with the help of his friends. All this shows that Evans is a very clever person. He and his friends are far superior to the Governor who proves to be no match for Evans.
(ईवान्स एक कैदी है। अतीत में, वह जेल से तीन बार भाग चुका है। इस बार, गवर्नर और जेल के अन्य अधिकारी बहुत सावधान हैं। उन्होंने इसके लिए कड़े इंतजाम किए हैं। वह फरार हो जाता है मगर गवर्नर उसे होटल में पकड़ लेता है। लेकिन ईवान्स अंत में, अपने साथियों की सहायता से फिर भाग जाता है। यह सब बातें दर्शाती हैं कि ईवान्स एक बहुत चालाक आदमी है। वह और उसके साथी गवर्नर से काफी अधिक चालाक हैं जो ईवान्स के मुकाबले में कुछ नहीं हैं।)

Question 2.
When Stephens returns to the cell he jumps to a conclusion and the whole machinery blindly goes by his assumption without even checking the identity of the injured ‘McLeery’. Does this show how hasty conjectures can prevent one from seeing the obvious? How is the criminal able to predict such negligence?
(जब स्टीफन्स कोठरी में लौटकर आया तो वह एकदम एक निष्कर्ष पर पहुँच जाता है और सारी व्यवस्था घायल ‘मैकलीरी’ की पहचान की पड़ताल किए बिना आँखें बन्द करके उसी धारणा के अनुसार चल पड़ती है। क्या इससे पता चलता है कि जल्दबाजी में लगाए अनुमान स्पष्ट चीज को भी देखने में बाधा डाल देते हैं ? अपराधी इस प्रकार की लापरवाही का पहले से ही कैसे अनुमान लगा लेते हैं ?)
Answer:
Stephens accompanies the parson to the gate of the prison. When he comes back to the cell, he finds an injured person in Evan seat. He comes to the conclusion that it is McLeery. He thinks that Evans has injured him and has escaped from the prison in the parson’s dress. Everybody, including the Governor, believe it. This is the general belief that a prisoner escapes in the guise of someone else. So they do not even recognize Evan’s voice. They trust him completely when he tells them that he knows where Evans has gone. They do not even try to check how deep his wound is. This clearly shows that hasty judgments prevent one from seeing the obvious things. The criminals devise new ways of escaping. They know that the officials are generally negligent. So they make use of such negligence in escaping from the prison.

(स्टीफन्स पादरी को जेल के द्वार तक छोड़कर आता है। जब वह कोठरी में वापस आता है, तो वह ईवान्स की सीट में एक घायल व्यक्ति को पाता है। वह इस निष्कर्ष पर पहुँचता है कि वह मैकलीरी है। वह सोचता है कि ईवान्स ने उसे घायल कर दिया है और पादरी की पोशाक पहनकर जेल से भाग गया है। गवर्नर सहित हर व्यक्ति, इस बात पर विश्वास करता है। आमतौर पर यह माना जाता है कि कोई कैदी किसी अन्य व्यक्ति के भेष में फरार होता है। इसलिए वे ईवान्स की आवाज को भी नहीं पहचानते। वे उस पर पूरी तरह विश्वास करते हैं, जब वह उन्हें बताता है कि ईवान्स कहाँ गया है। वे इस बात की जांच करने का प्रयत्न भी नहीं करते कि उसका घाव कितना गहरा है। इससे साफ प्रतीत होता है कि जल्दबाजी में किए गए निर्णय हमें साफ जाहिर चीजों को देखने से रोकते हैं। अपराधी फरार होने के नए तरीके खोजते रहते हैं। वे जानते हैं कि अफ़सर लोग आमतौर पर लापरवाह होते हैं। इसलिए वे जेल से भागने में इस लापरवाही का फायदा उठाते हैं।)

Question 3.
What could the Governor have done to securely bring back Evans to prison when he caught him at the Golden Lion? Does that final act of foolishness really prove that “he was just another good for-a-giggle, gullible governor, that was all”?
(जब गवर्नर ने ईवान्स को गोल्डन लॉयन में पकड़ लिया था, तो उसे पक्की तरह वापस लाने के लिए क्या प्रबन्ध करने चाहिए थे ? क्या उसका अन्तिम मूर्खता का कार्य सिद्ध करता है कि “वह भोला-भाला बुद्धू गवर्नर था” ?)
Answer:
The Governor is cleverer than Stephen and Jackson. He is able to decode the six-figure reference, 313/271. He can see that this code refers to Chipping Norton. He is right. He is able to trace Evans to the hotel. But the Governor does not know that Evans is more intelligent than him. The reference to the code is only to befool the Governor. In his over-confidence, he goes there all alone to arrest Evans. It appears that he only asked the hotel receptionist to request the jail authorities to send a prison van.

The prison van comes and takes Evans away. In fact, this is the same van that the Governor sent to the court in the morning. It is being driven by Evan’s friends. Even the police officer who arrests him is his friend. Thus the Governor makes a number of mistakes. To bring Evans back to prison securely, the Governor should have asked the area police to help him. He should have followed the prison van to the jail. But he does not any such precautions. Therefore, in the end, he proves to be just a foolish and gullible Governor.

(गवर्नर स्टीफन्स और जैक्सन से अधिक चालाक है। वह छह अंकों के संकेत 313/271 का भेद खोलने में सफल हो जाता है। वह देख सकता है कि यह संकेत चिप्पिंग नॉर्टर के बारे में है। वह सही है। वह ईवान्स के होटल तक पहुँचने में सफल हो जाता है। मगर गवर्नर नहीं जानता कि ईवान्स उससे अधिक अक्लमंद है। संकेत के प्रति जिक्र तो केवल गवर्नर को बेवकूफ बनाने के लिए है। अपने जरूरत से अधिक विश्वास के कारण वह वहाँ ईवान्स को गिरफ्तार करने के लिए अकेला ही जाता है। ऐसा लगता है कि उसने केवल होटल की स्वागतकर्ता को कहा कि वह जेल के अफसरों को जेल की वैन भेजने के लिए प्रार्थना करे।

जेल की वैन आती है और ईवान्स को ले जाती है। वास्तव में, यह वही वैन है, जो गवर्नर ने सुबह कचहरी में भेजी थी। इसे ईवान्स के मित्र ही चला रहे हैं। यहाँ तक कि जो पुलिस अफसर उसे गिरफ्तार करता है, वह भी उसका मित्र है। इस प्रकार गवर्नर बहुत-सी गलतियाँ करता है। ईवान्स को वापस जेल में सुरक्षित लाने के लिए, गवर्नर को एरिया पुलिस को उसकी सहायता करने के लिए कहना चाहिए था। उसे जेल की वैन के पीछे जेल तक जाना चाहिए था। मगर वह ऐसी कोई सावधानी नहीं बरतता। इसलिए अंत में वह केवल मूर्ख और जल्दी बेवकूफ बन जाने वाला गवर्नर साबित होता है।)

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 7 Evans Tries an O-Level

Question 4.
While we condemn the crime, we are sympathetic to the criminal. Is this the reason why prison staff often develop a soft corner for those in custody?
(जबकि हम अपराध की निन्दा करते हैं, हम अपराधी से सहानुभूति रखते हैं। क्या यही कारण है कि जेल कर्मचारी कैदियों के प्रति नर्म पड़ जाते हैं ?)
Answer:
We all condemn the crime. But we are human beings. That is why the jail staff often develops a soft corner for the prisoner. This is especially true when the prisoner is not violent in his behavior and is cooperative. They begin to trust the prisoner. So in some cases, they do not follow the rules very strictly. The clever prisoners make use of this human tendency. In the case of Evans, the prison officials are sympathetic towards him. The Governor tells Stephens to come out of his cell so that he could concentrate on writing. Jackson does not insist on his taking off his cap. The Governor allows him to cover his shoulders with a blanket as it is cold inside. All these things help Evans in his plan to escape from the prison.

(हम सब अपराध की निंदा करते हैं। मगर हम सब इन्सान हैं। इसलिए जेल का विभाग अक्सर किसी कैदी के लिए नम्र दृष्टिकोण बना लेता है। यह बात विशेषतौर पर तब सच होती है जब कैदी अपने व्यवहार में हिंसक न हो और सहयोग देने वाला हो। वे कैदी पर विश्वास करना शुरु कर देते हैं। कई मामलों में तो, वे नियमों का सख्ती से पालन नहीं करते। चालाक कैदी मनुष्य की इस प्रवृत्ति का फायदा उठाते हैं। ईवान्स के मामले में, जेल के अधिकारी उसके प्रति सहानुभूतिपूर्ण हैं। गवर्नर स्टीफन्स से कहता है कि वह कोठरी से बाहर आ जाए ताकि वह लिखने पर ध्यान केन्द्रित कर सके। जैक्सन इस बात पर जोर नहीं देता कि वह अपनी टोपी उतारे। गवर्नर उसे इस बात की अनुमति दे देता है कि वह अपने कंधे कम्बल से ढक ले क्योंकि अन्दर सर्दी है। ये सब बातें ईवान्स की जेल से फरार होने में सहायता करती हैं।)

Question 5.
Do you agree that between crime and punishment it is mainly a battle of wits ? (क्या आप इस बात से सहमत हैं कि अपराध और सजा में दिमाग की लड़ाई होती है ?)
Answer:
Yes, it is mainly a battle of wits between the crime and the punishment. The criminals use their intelligence and cleverness to befool the law. However, in this battle of wits, the criminals often have the upper hand. In the case of Evans, the jail authorities keep strict watch on Evans and his movements. Even then, he is able to hoodwink the Governor and his jail staff and escapes from there.

(हाँ, यह मुख्यतौर पर अपराध और सजा में दिमाग की लड़ाई है। अपराधी कानून को बेवकूफ बनाने के लिए अपनी अक्ल और चालाकी का प्रयोग करते हैं। लेकिन दिमाग की इस लड़ाई में आमतौर पर अपराधियों का पलड़ा भारी होता है। ईवान्स के मामले में जेल के अफसर उस पर और उसकी गतिविधियों पर कड़ी निगरानी रखते हैं। इसके बावजूद भी वह गवर्नर और जेल के विभाग को बेवकूफ बनाने में सफल हो जाता है, और जेल से फरार हो जाता है।)

Read And Find Out

Question 1.
What kind of a person was Evans? [H.B.S.E. 2017 (Set-B)] (ईवान्स किस प्रकार का व्यक्ति था?)
Answer:
Evans was a criminal. He had been imprisoned in the Oxford prison. He was different from other prisoners. He was gentle in his behavior. He was not given to violence. But he was very clever. He had already escaped from jail three times.
(ईवान्स एक अपराधी था। उसे ऑक्सफोर्ड जेल में कैद करके रखा गया था। वह अन्य कैदियों से भिन्न था। वह अपने बर्ताव में विनम्र था। वह हिंसक नहीं था। मगर वह बहुत चालाक था। वह पहले ही जेल से तीन बार फरार हो चुका था।)

Question 2.
What were the precautions taken for the smooth conduct of the examination? (परीक्षा के सुचारु संचालन के लिए क्या सावधानियाँ ली गईं?)
Answer:
Every possible precaution was taken for the smooth conduct of the examination. Jackson, a senior prison officer is asked to search Evans’s cell thoroughly. Another jail officer is asked to stay inside the cell till the examination lasts. Evan’s cell is fitted with a microphone so that the Governor can listen to every word spoken and every sound made in the cell.
(परीक्षा के सुचारु रूप से संचालन के लिए हर संभव सावधानी बरती गई थी। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी जैक्सन को ईवान्स की कोठरी की अच्छी तरह तलाशी लेने को कहा जाता है। एक अन्य पुलिस अफसर को कहा कि जब तक परीक्षा चलती है कोठरी के अन्दर ही रहे। ईवान्स की कोठरी में एक माईक्रोफोन लगा दिया जाता है। ताकि गवर्नर कोठरी के अन्दर बोली जाने वाली हर बात और हर आवाज को सुन सके।)

Question 3.
Will the exam now go as scheduled? (क्या परीक्षा पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार चलेगी?)
Answer:
Evans is very clever. The Governor fears that Evans may try to escape from the jail. He may overpower the invigilator. So he takes every possible precaution. He orders Jackson, a senior prison offic search Evans’s cell thoroughly. After these precautions, the examination will go on as scheduled.
(ईवान्स बहुत चालाक है। गवर्नर को डर है कि ईवान्स जेल से फरार होने की कोशिश करेगा। वह पर्यवेक्षक को काबू कर सकता है। इसलिए वह हर सम्भव सावधानी बरतता है। वह एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी जैक्सन को आदेश देता है कि वह ईवान्स की कोठरी की अच्छी तरह तलाशी ले। इन सावधानियों के बाद, परीक्षा पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार चलेगी।)

Question 4.
Did the Governor and his staff finally heave a sigh of relief? (क्या गवर्नर और उसके विभाग ने अन्त में चैन की साँस ली?)
Answer:
After the examination came to an end, the Governor and his staff finally heaved a sigh of relief. But this relief was short-lived. After some time it is found that in spite of all their precautions, Evans has escaped from the prison. He is caught in the hotel. But from there also he escapes.
(जब परीक्षा समाप्त हो गई, तो गवर्नर और उसका विभाग चैन की सांस लेता है। मगर यह चैन क्षणभंगुर था। थोड़ी देर के बाद पता लगता है कि सब सावधानियों के बावजूद, ईवान्स जेल से फरार हो गया है। वह होटल में पकड़ा जाता है मगर वह वहाँ से भी भाग जाता है।)

Question 5.
Will the injured McLeery be able to help the prison officers track Evans? (क्या घायल मैकलीरी जेल के अफसरों की ईवान्स को खोजने में सहायता कर पाएगा?)
Answer:
McLeery is found injured. It appears that Evans has injured him and has escaped. McLeery shows the question paper to the Governor. A photocopied sheet is pasted on the last page of the question paper. It is printed in German. It contains instructions for Evans to escape. Thus he helps the prison officers. However, he is only putting them on the wrong track.
(मैकलीरी घायल अवस्था में मिलता है। ऐसा लगता है कि ईवान्स ने उसे घायल कर दिया है और भाग गया है। मैकलीरी गवर्नर को प्रश्न-पत्र दिखाता है। प्रश्न-पत्र के अन्तिम पेज पर एक अन्य कागज चिपकाया गया था। यह जर्मन भाषा में छपा हुआ है। इसमें ईवान्स के भाग जाने के लिए निर्देश छपे हैं। इस प्रकार वह जेल के अफसरों की सहायता करता है। लेकिन वह तो केवल उन्हें गलत रास्ते पर डाल रहा है।)

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 7 Evans Tries an O-Level

Question 6.
Will the clues left behind on the question paper, put Evans back in prison again? (क्या प्रश्न-पत्र पर छोड़े गए संकेत, ईवान्स को फिर से जेल में पहुँचा देंगे?)
Answer:
There are some clues left behind on the question paper. But these clues have been left there deliberately. Their purposes is to put the prison officers on the wrong trail. These clues will not be able to put Evans back in prison again.
(प्रश्न-पत्र पर कुछ संकेत छोड़ दिए गए हैं। मगर ये संकेत वहाँ पर जानबूझ कर छोड़े गए हैं। उनका उद्देश्य है जेल के अधिकारियों को गलत रास्ते पर डालना। ये संकेत ईवान्स को फिर से जेल में डालने में कामयाब नहीं होंगे।)

Question 7.
Where did Evans go? [H.B.S.E. 2017 (Set-C)] (ईवान्स कहाँ गया?)
Answer:
Evans is out of the prison. He is happy to be free. He reaches the Golden Lion Hotel in Chipping Norton. But he is shocked to see that the Governor is already there. The Governor orders the policemen to arrest him. But Evans is very clever. He escapes from there also. (ईवान्स जेल से बाहर है। वह आजाद होकर प्रसन्न है। वह चिप्पिंग नॉर्टन में गोल्डन लॉयन होटल में जाता है। मगर उसे यह देखकर सदमा लगता है कि गवर्नर पहले से ही वहाँ पर है। गवर्नर पुलिस वालों को आदेश देता है कि वे उसे कैद कर लें। मगर ईवान्स बहुत चालाक है। वह वहाँ से भी फरार हो जाता है।)

HBSE Class 12 English Evans Tries an O-Level Important Questions and Answers

Multiple Choice Questions
Select the correct option for each of the following questions :

1. Who is the writer of the play ‘Evans Tries An O-Level’?
(A) Colin Dexter
(B) Dolin Center
(C) Rolin Dexter
(D) Nolin Sexter
Answer:
(A) Colin Dexter

2. Who is Evans?
(A) a doctor
(B) a prisoner
(C) a teacher
(D) a leader
Answer:
(B) a prisoner

3. How many times has Evans already escaped from jail?
(A) five times
(B) four times
(C) three times
(D) two times
Answer:
(C) three times

4. How is Evans popularly known?
(A) Evans the Terrible
(B) Evans the Break
(C) Evans the Sake
(D) Evans the Fake
Answer:
(B) Evans the Break

5. What language does Evans want to study?
(A) German
(B) Chinese
(C) Hindi
(D) Punjabi
Answer:
(A) German

6. What test does Evans want to take?
(A) C-level in Chinese
(B) F-level in Hindi
(C) D-level in French
(D) O-level in German
Answer:
(D) O-level in German

7. Who would be the invigilator for Evans’ test?
(A) a teacher
(B) a doctor
(C) a priest
(D) a policeman
Answer:
(C) a priest

8. Whom does the governor ask to search Evans’ cell thoroughly?
(A) Jackson
(B) Rexon
(C) Sexon
(D) Maxon
Answer:
(A) Jackson

9. What does Evans tell Jackson when he asks him to take off his hat?
(A) he is bald
(B) he feels cold without his hat
(C) the hat fits him nicely
(D) it is his lucky hat
Answer:
(D) it is his lucky hat

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 7 Evans Tries an O-Level

10. What is the real reasons for Evans for not taking off his hat?
(A) it is his lucky hat
(B) he has cut off his hair
(C) he is bald
(D) his hair is grey
Answer:
(B) he has cut off his hair

11. What is the name of the invigilator?
(A) Rev. Stuart McLeary
(B) Rev. Mtuart ScLeary
(C) Rev. Ltuart ScLeary
(D) Rev. Rtuart McLeary
Answer:
(A) Rev. Stuart McLeary

12. Why does the invigilator use the rubber ring?
(A) when he runs
(B) when he sleeps
(C) when he sings
(D) when he has to sit for a long time
Answer:
(D) when he has to sit for a long time

13. What does the rubber ring actually contain?
(A) red ink
(B) human blood
(C) pig’ blood
(D) red paint
Answer:
(C) pig’s blood

14. The invigilator is not real McLeary. Who is he?
(A) a shopkeeper
(B) a friend of Evans
(C) a truck driver
(D) a dry cleaner
Answer:
(B) a friend of Evans

Short Answer Type Questions
Question 1.
How was Evans different from other criminals ? (ईवान्स किस प्रकार अन्य अपराधियों से अलग था ?)
Or
Who was Evans ? Describe his true characteristics. [H.B.S.E. March, 2018 (Set-B)] (ईवान्स कौन था? इसकी सही विशेषताएँ बताएँ।)
Answer:
Evans was a criminal. He had been imprisoned in the Oxford prison. He was different from other prisoners. He was gentle in his behaviour. He was not given to violence. That’s why even jail officials had some sympathy for him. But he was very clever.
(ईवान्स एक अपराधी था। उसे ऑक्सफोर्ड जेल में कैद करके रखा गया था। वह अन्य कैदियों से भिन्न था। वह अपने व्यवहार में विनम्र था। वह हिंसक नहीं था। इसलिए जेल के अफसरों में भी उसके लिए सहानुभूति थी। मगर वह बहुत चालाक था।)

Question 2.
What precautions have been taken about Evans ? (ईवान्स के बारे में क्या सावधानियाँ बरती गई हैं ?) Why was Evans called Evans the Break’? [H.B.S.E. 2020 (Set-B)] (ईवान्स को ‘ईवान्स भगौड़ा’ क्यों कहा जाता था?)
Answer:
Evans has already escaped from jail three times. So he is popularly known as Evans, the Break. It is feared that he will try to escape the fourth time also. So every precaution has been taken. He has been put
Or
into a separate cell in the jail. There is a strict watch over him. However, he makes a clever plan of escaping and hoodwinks all.
(ईवान्स पहले ही जेल से तीन बार भाग चुका है। इसलिए उसे आमतौर पर ईवान्स, भगौड़ा कहा जाता है। ऐसा डर है कि वह चौथी बार भागने का प्रयत्न भी करेगा। इसलिए हर सावधानी बरती गई है। उसे जेल में एक अलग कोठरी में रखा गया है। उस पर कड़ी निगरानी रखी जा रही है। लेकिन, वह जेल से भाग जाने की एक चालाकीपूर्ण योजना बनाता है और सबको धोखा दे देता है।)\

Question 3.
How does Evans learn German language in the cell ? (कोठरी में ईवान्स किस प्रकार जर्मन भाषा सीखता है ?)
Answer:
Evans expresses his desire to study the German language. So evening classes are selected for him in the jail. He is the only student. The jail authorities have arranged a teacher for him from the technical college. But later it is learnt that the German teacher was, infact, a friend of Evans.
(ईवान्स जर्मन भाषा सीखने की अपनी इच्छा जाहिर करता है। इसलिए उसके लिए जेल में सांयकालीन कक्षाओं का इंतजाम किया जाता है। वह अकेला छात्र है। जेल के अफसरों ने उसके लिए तकनीकी महाविद्यालय से एक अध्यापक का इंतजाम किया है। मगर बाद में पता लगता है कि जर्मन अध्यापक वास्तव में ईवान्स का मित्र ही था।)

Question 4.
In what examination does Evans want to appear ? (ईवान्स कौन-सी परीक्षा देना चाहता है ?)
Answer:
Evans appears keen on learning German language. He wants to take an O-level test in German language. The Governor concedes to his request. He arranges with the examination board to hold the examination in Evans’s cell. A priest from St. Mary Mags is to be the invigilator.
(ईवान्स जर्मन भाषा सीखने को बड़ा उत्सुक नजर आता है। वह जर्मन भाषा में ओ-स्तर की परीक्षा देना चाहता है। गवर्नर उसकी प्रार्थना को स्वीकार कर लेता है। वह परीक्षा-बोर्ड के साथ यह इंतजाम करता है कि ईवान्स की कोठरी में उसकी परीक्षा ली जाए। सेन्ट मैरी मैग्ज़ का एक पादरी पर्यवेक्षक होगा।)

Question 5.
What precaution does the Governor take about Evans’s examination ? . (गवर्नर ईवान्स की परीक्षा के बारे में क्या सावधानी लेता है ?)
Answer:
The Governor takes every possible precaution. He orders Jackson, a senior prison officer to search Evans’s cell thoroughly. Jackson takes away even Evans’s nail scissors and nail file. Another jail official is asked to stay inside the cell till the examination lasts. Evan cell is fitted with a microphone so that the Governor can listen to every word spoken and every sound made in the cell.
(गवर्नर हर सम्भव सावधानी बरतता है। वह एक सीनियर जेल अधिकारी, जैक्सन को आदेश देता है कि वह ईवान्स की कोठरी की अच्छी तरह तलाशी ले। जैक्सन ईवान्स की नाखून काटने की कैंची और उसके नाखून की रेती भी ले जाता है। जेल के एक अन्य अधिकारी को जब तक परीक्षा चलती है तब तक ईवान्स की कोठरी के अन्दर रहने को कहा जाता है। ईवान्स की कोठरी में एक माईक्रोफोन फिट कर दिया जाता है ताकि गवर्नर कोठरी में कहे गए हर शब्द और की गई हर आवाज को सुन सके।)

Question 6.
Why is Evans allowed to keep his hat on? (ईवान्स को टोप पहने रखने की अनुमति क्यों दी गई है ?)
Answer:
Evans is wearing a woollen hat. Jackson asks Evans to take off his hat. But Evans says that it is his lucky hat. So Jackson lets him keep the hat on. Infact, this is part of Evans’s plan to escape. He has cut off his long wavy hair with the blade to impersonate the invigilator.
(ईवान्स ने एक ऊनी टोप पहना हुआ है। जैक्सन ईवान्स को कहता है कि वह अपना टोप उतार दे। मगर ईवान्स कहता है कि वह उसका भाग्यशाली टोप है। इसलिए जैक्सन उसे टोप पहने रखने की अनुमति दे देता है। वास्तव में, यह ईवान्स के भागने की योजना का भाग है। उसने अपने लंबे घुघराले बाल ब्लेड से काट लिए हैं ताकि वह पर्यवेक्षक का भेष बना सके।)

Question 7.
Where was McLeery in the hospital or somewhere else? (मैकलीरी कहाँ था अस्पताल में या कहीं और?)
Answer:
The invigilator arrives at the gate of the prison. He is a parson in a church. His name is Rev. Stuart McLeery. Infact, this man is not the real McLeery, the parson. He is Evans’s friend who is impersonating as McLeery. The real McLeery was bound and gagged in his flat.
(पर्यवेक्षक जेल के गेट पर आता है। वह चर्च का एक पादरी है। उसका नाम रिवरेंड स्टुअर्ट मैकलीरी है। वास्तव में, यह व्यक्ति वास्तविक पादरी मैकलीरी नहीं है। वह ईवान्स का मित्र है जो मैकलीरी होने का नाटक कर रहा है। वास्तविक मैकलीरी को उसके फ्लैट में बाँध दिया गया था और उसके मुँह को भी बंद कर दिया गया था।)

Question 8.
What does Jackson find in the parson’s suitcase ? (जैक्सन को पादरी के सूटकेस में क्या मिलता है ?)
Answer:
Jackson searches the parson’s suitcase also. He finds a semi-inflated small rubber ring. He tells Jackson that he is suffering from haemorrhoids. He uses the rubber ring when he sits down for a long time. Jackson lets him keep it. But he does not know that this is a clever plan. The tube contains pig’s blood which Evan later uses to pretend that he is the wounded McLeery.

(जैक्सन पादरी का एक सूटकेस भी चेक करता है। उसे एक आधी-फूली हुई रबड़ की छोटी गोल ट्यूब से मिलती है। वह जैक्सन को बताता है कि वह हैमोरॉयड्स से पीड़ित है। जब वह अधिक देर तक बैठता है तो वह रबड़ की उस गोल ट्यूब का प्रयोग करता है। जैक्सन उसे इसको अपने पास रखने देता है। मगर वह यह नहीं जानता कि यह एक चतुराईपूर्ण योजना है। ट्यूब में सूअर का खून है जिसे बाद में ईवान्स इस बात का ढोंग करने के लिए प्रयोग करता है कि वही घायल मैकलीरी है।)

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 7 Evans Tries an O-Level

Question 9.
Why does Stephens not stay inside the cell, as originally planned ? (जैसे कि पहले सोचा गया था, उसके विपरीत स्टीफन्स कोठरी में क्यों नहीं ठहरता ?)
Answer:
The examination starts. Stephens is to stay inside Evans’s cell. But Evans says that he cannot concentrate if Stephens remains inside the cell. So Jackson posts Stephens out of the cell and asks him to keep a watch through a peep-hole.

(परीक्षा आरम्भ होती है। स्टीफन्स ने कोठरी के अन्दर ही रहना है। मगर ईवान्स कहता है कि अगर स्टीफन्स कोठरी के अंदर रहेगा तो वह ध्यान नहीं लगा पाएगा। इसलिए जैक्सन, स्टीफन्स को दरवाजे के बाहर लगा देता है, और उसे कहता है कि वह एक छोटी-सी खिड़की में से उस पर नजर रखे।)

Question 10.
What clues did the answer sheet of Evans provide to the Governor ? (ईवान्स की उत्तर पुस्तिका ने गवर्नर को क्या संकेत दिए?) [H.B.S.E. March,2019 (Set-B)]
Answer:
Evans was asked to write Index No 133 and Centre No 271 on his answer sheet. The words written on the correction slip meant ‘Golden Lion’ from this, the Governor got the hint that Evans was at the Golden Lion Hotel of chipping Norton.
(ईवान्स को उत्तर पुस्तिका पर इन्डैक्स नं० 133 और सेंटर नं० 271 लिखने के लिए कहा गया था। करेक्शन स्लिप पर लिखे गए शब्दों का मतलब था ‘गोल्डन लायन’, इससे गवर्नर को संकेत मिला कि ईवान्स चिपिंग नॉर्टन के गोल्डन लॉयन होटल में थे।)

Question 11.
How was the Governor able to find the place where Evans had gone? (गवर्नर को उस स्थान का पता कैसे चला कि ईवान्स कहाँ गया है?)
Answer:
McLeery was appointed Evans’ invigilator. He is found injured. It appears Evans has injured him. He shows the question paper to the Governor. A photocopied sheet is pasted on the last page of the question paper. It is printed in German. It contains instructions for Evans to escape. Thus the Governor was able to find the place where Evans had gone.
(मैकलीरी को ईवान्स का पर्यवेक्षक नियुक्त किया गया। उसे घायल अवस्था में पाया गया। ऐसा लगता है कि ईवान्स ने उसे घायल किया है। मैकलीरी गवर्नर को प्रश्न-पत्र दिखाता है। प्रश्न-पत्र के अंतिम पेज पर एक कागज चिपकाया गया है। यह जर्मन भाषा में है। इसमें ईवान्स के भाग जाने के लिए निर्देश लिखे हैं। इससे गवर्नर को पता चला कि ईवान्स कहाँ गया है।)

Question 12.
What instruction does Stephens get from the Governor ? (स्टीफन्स को गवर्नर से क्या निर्देश मिलता है ?)
Answer:
Stephens gets a phone call from the Governor. He tells Stephen that after the examination, he should accompany McLeery to the prison gate and should check that Evans’s cell is properly locked. In fact this is a fake call. Its purpose is to put Stephens out of the way. In the meantime, Evans will give final shape to his plan of escape.
(स्टीफन्स को गवर्नर से फोन मिलता है। वह स्टीफन्स से कहता है कि परीक्षा के बाद, वह मैकलीरी को जेल के द्वार तक छोड़ने जाए और यह बात चेक करे कि ईवान्स की कोठरी को अच्छी तरह ताला लगा हुआ है। वास्तव में यह एक नकली फोन है। इसका उद्देश्य स्टीफन्स को रास्ते से हटाना है। इस बीच ईवान्स जेल से भागने की योजना को अंतिम रूप देगा।)

Question 13.
What does Stephens find when he comes back to the cell ? (जब स्टीफन्स वापिस कोठरी में आता है तो क्या देखता है ?)
Answer:
The examination is over. Stephens accompanies McLeery to the prison gate. When he comes back, he finds that McLeery is in Evans’s seat. He is injured and blood is trickling down from his head. He presumes that Evans has escaped after injuring McLeery. He shouts to Jackson and calls him.
(परीक्षा समाप्त हो जाती है। स्टीफन्स मैकलीरी को जेल के द्वार तक ले जाता है। जब वह लौटकर आता है, तो वह देखता है कि मैकलीरी ईवान्स की सीट पर है। वह घायल है और उसके सिर से खून बह रहा है। वह सोचता है कि इवान्ज़ मैकलीरी को घायल करके भाग गया है। वह जैक्सन को चिल्लाकर बुलाता है।)

Question 14.
Describe two of Evans main characteristics. (ईवान्स के दो प्रमुख गुणों का वर्णन करो।)
Answer:
Evans is a criminal. He has been imprisoned in the oxford prison. He is different from other prisoners. He is gentle in his behaviour. He is not given to violence.
(ईवान्स एक अपराधी है। वह ऑक्सफोर्ड जेल में बंद है। वह अन्य कैदियों से भिन्न है। वह अपने व्यवहार में सौम्य है। वह हिंसावादी नहीं है।)

Question 15.
Who do you think has outwitted the other – Evans or the Governor ? How ? (तुम्हारे अनुसार ईवान्स या गवर्नर में से किसने दूसरे को मात दी? कैसे?) [H.B.S.E. March, 2019 (Set-A)]
Answer:
It is Evans who has outwitted the Governor at every step of the story. Evans is so clever that it becomes a hard job for the Governor to keep him in jail. He has befooled the Governor four times to make sure his release from the prison.
(यह ईवान्स है जिसने कहानी के हर चरण में गवर्नर को पीछे छोड़ दिया है। ईवान्स इतना चालाक है कि उसे जेल में रखना गर्वनर के लिए एक कठिन काम हो जाता है। उन्होंने जेल से अपनी रिहाई सुनिश्चित करने के लिए चार बार गवर्नर से गुहार लगाई है।)

Question 16.
How is Evans caught at the hotel ? (ईवान्स होटल में किस प्रकार पकड़ा जाता है ?)
Answer:
Evans is out of the prison. He is happy to be free. He reaches the Golden Lion Hotel in Chipping Norton. He opens the door of his room and gets a great shock. He finds the Governor sitting on the bed. The Governor tells him that he got the hint about the hotel and its location from the information given in the question paper in code words. Evans admires the intelligence of the Governor.

(ईवान्स जेल से बाहर है। वह आज़ाद होकर प्रसन्न है। वह चिप्पिंग नॉर्टन में गोल्डन लायन होटल में पहुँचता है। वह कमरे का दरवाजा खोलता है और उसे बहुत बड़ा झटका लगता है। वह देखता है कि बिस्तर पर गवर्नर बैठा है। गवर्नर उसे बताता है कि उसे होटल और उसके स्थान के बारे में संकेत प्रश्न-पत्र में सांकेतिक भाषा में दी गई सूचना से मिला था। इवान्ज गवर्नर की बुद्धिमत्ता की तारीफ करता है।)।

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 7 Evans Tries an O-Level

Question 17.
How does Evans escape from the jail? (ईवान्स जेल से कैसे भाग जाता है ?) [H.B.S.E. March, 2019, 2020 (Set-D)]
Answer:
The Governor hands over Evans to a prison officer. He handcuffs Evans and takes him into the van and drives away. In fact, the Governor has again been hoodwinked by Evans and his friends. They got the prison van in the morning on the pretext that it was needed by the Magistrate. Now Evans was taken away in the same van. The prison officer who arrests Evans is in fact, one of his friends.

(गवर्नर ईवान्स को जेल के एक अफसर को सौंप देता है। वह अफसर ईवान्स को हथकड़ी लगाता है और वह उसे वैन में ले जाता है और चला जाता है। वास्तव में, गवर्नर को ईवान्स और उसके मित्रों ने एक बार फिर चकमा दे दिया है। उन्होंने प्रातः ही जेल की वैन इस बहाने से ले ली थी मैजिस्ट्रेट को इसकी जरूरत है। अब ईवान्स को इसी वैन में ले जाया गया है। जेल का वह अफसर जो ईवान्स को कैद करता है वास्तव में उसका एक मित्र है।)

Long Answer Type Questions

Question 1.
What precautions do the jail authorities take regarding Evan’s examination ? (जेल के कर्मचारी ईवान्स की परीक्षा के बारे में क्या सावधानियाँ लेते हैं ?) [H.B.S.E. 2017 (Set-D)]
Answer:
Evans expresses his desire to study the German language. So evening classes are selected for him in the jail. He is the only student. The jail authorities have arranged a teacher for him from the technical college. But later it is learnt that the German teacher was, in fact, a friend of Evans. Evans appears keen on learning German language. He wants to take an O-level test in German language. The Governor concedes to his request. He arranges with the Examinations Board to hold the examination in Evans’s cell. A priest from St. Mary Mags is to be the invigilator.

The Governor fears that Evans may try to escape from the jail. He may overpower the invigilator. So he takes every possible precaution. He orders Jackson, a senior prison officer to search Evans’s cell thoroughly. Jackson spends two hours searching the cell but finds nothing hidden there. He takes away even Evans’s nail scissors and nail file. Another jail official is asked to stay inside the cell till the examination lasts. Evans’s cell is fitted with a microphone so that the Governor can listen to every word spoken and every sound made in the cell.

(ईवान्स जर्मन भाषा सीखने की अपनी इच्छा जाहिर करता है। इसलिए उसके लिए जेल में सांयकालीन कक्षाओं का इंतजाम किया जाता है। वह अकेला छात्र है। जेल के अफसरों ने उसके लिए तकनीकी महाविद्यालय से एक अध्यापक का इंतजाम किया है। मगर बाद में पता लगता है कि जर्मन अध्यापक, वास्तव में, ईवान्स का मित्र ही था। ईवान्स जर्मन भाषा सीखने को बड़ा उत्सुक नजर आता है। वह जर्मन भाषा में ओ-स्तर की परीक्षा देना चाहता है। गवर्नर उसकी प्रार्थना को स्वीकार कर लेता है। वह परीक्षा-बोर्ड के साथ यह इंतजाम करता है कि ईवान्स की कोठरी में ही उसकी परीक्षा ली जाए। सेन्ट मैरी मैग्ज़ का एक पादरी पर्यवेक्षक होगा।

गवर्नर को इस बात का भय है कि ईवान्स जेल से भागने का प्रयत्न करेगा। वह पर्यवेक्षक पर काबू पा सकता है। इसलिए वह हर सम्भव सावधानी बरतता है। वह एक सीनियर जेल अधिकारी जैक्सन को आदेश देता है कि वह ईवान्स की कोठरी की अच्छी तरह तलाशी ले। जैक्सन कोठरी की तलाशी लेने में दो घन्टे लगाता है मगर उसे वहाँ कुछ भी छुपा हुआ नहीं मिलता। वह तो ईवान्स की नाखून काटने की कैंची और उसके नाखून की रेती भी ले जाता है। जेल के एक अन्य अफसर को जब तक परीक्षा चलती है तब तक ईवान्स की कोठरी के अन्दर रहने को कहा जाता है। ईवान्स की कोठरी में एक माईक्रोफोन फिट कर दिया जाता है ताकि गवर्नर कोठरी में कहे गए हर शब्द और की गई हर आवाज को सुन सके।)

Question 2.
Describe the scene in Evan’s cell before the start of the examination. [H.B.S.E. 2020 (Set-C)] (परीक्षा आरम्भ होने से पहले ईवान्स की कोठरी के दृश्य का वर्णन करो।)
Answer:
Half an hour before the beginning of the examination, Jackson and Stephen visit Evans’s cell. They give a blade to Evans to shave himself. Jackson asks Stephen to take away the blade after Evans has shaved himself. He is wearing a woollen hat. Jackson asks Evans to take off his hat. But Evans says that it is his lucky hat. So Jackson lets him keep the hat on. Infact, this is part of Evans’s plan to escape. He has cut off his long wavy hair with the blade to impersonate the invigilator. The invigilator arrives at the gate of the prison. He is a person in a church. His name is Rev. Stuart McLeery. He is led to Evans’s cell and introduced to him.

The Governor is still worried. He phones Jackson and asks him to search McLeery thoroughly. Jackson searches his suitcase also. He finds a semi-inflated small rubber ring. He tells Jackson that he is suffering from hemorrhoids. He uses the rubber ring when he sits down for a long time. Jackson lets him keep it. But he does not know that this is a clever plan. The tube contains pig’s blood which Evans later uses to pretend that he is the wounded McLeery. In fact, this man is not the real McLeery, the parson. He is Evans’s friend who is impersonating as McLeery. The real McLeery was bound and gagged in his flat.

(परीक्षा आरम्भ होने से आधा घंटा पहले, जैक्सन और स्टीफन्स ईवान्स की कोठरी में जाते हैं। वे ईवान्स को शेव करने के लिए एक ब्लेड देते हैं। जैक्सन स्टीफन्स से कहता है कि जब ईवान्स शेव कर चुके तो वह ब्लेड को ले जाए। इवान्ज़ अपनी शेव कर लेता है। उसने एक ऊनी टोप पहना हुआ है। जैक्सन ईवान्स को कहता है कि वह अपना हैट उतार दे। मगर ईवान्स कहता है कि वह उसका भाग्यशाली टोप है। इसलिए जैक्सन उसे टोप पहने रखने की अनुमति दे देता है। वास्तव में, यह ईवान्स के भागने की योजना का एक भाग है। उसने अपने लम्बे घुघराले बाल ब्लेड से काट लिए हैं ताकि वह पर्यवेक्षक का भेष बना सके।

पर्यवेक्षक जेल के गेट पर आता है। वह चर्च का एक पादरी है। उसका नाम रिवरेंड स्टुअर्ट मैकलीरी है। उसे ईवान्स की कोठरी में लाया जाता है और उससे उसका परिचय करवाया जाता है। गवर्नर अभी भी चिंतित है। वह जैक्सन को फोन करता है और उसे कहता है कि वह मैकलीरी की पूरी तरह तलाशी ले। जैक्सन उसका सूटकेस भी चेक करता है। उसे एक आधी फूली हुई रबड़ की छोटी गोल ट्यूब मिलती है। वह जैक्सन को बताता है कि वह हैमोरॉयड्स से पीड़ित है।

जब वह अधिक देर तक बैठता है तो वह रबड़ की उस गोल ट्यूब का प्रयोग करता है। जैक्सन उसे इसको अपने पास रखने देता है। मगर वह यह नहीं जानता कि यह एक चतुराईपूर्ण योजना है। ट्यूब में सूअर का खून है जिसे बाद में ईवान्स इस बात का ढोंग करने के लिए प्रयोग करता है कि वही घायल मैकलीरी है। वास्तव में यह व्यक्ति वास्तविक पादरी मैकलीरी नहीं है। वह ईवान्स का मित्र है जो मैकलीरी होने का नाटक कर रहा है। वास्तविक मैकलीरी को उसके फ्लैट में बाँध दिया गया था और उसके मुँह को भी बंद कर दिया गया था।)

Question 3.
What two calls does the Governor receive during Evans’s examination ? (ईवान्स की परीक्षा के दौरान गवर्नर को कौन-से दो फोन आते हैं ?)
Answer:
The examination starts. Stephens is to stay inside Evans’s cell. But Evans says that he cannot concentrate if Stephens remains inside the cell. So Jackson posts Stephens out of the cell and asks him to keep a watch through a peephole. At 9.40, the Governor receives a call from the Examination Board office. He is told that there is an error in the question paper and it has to be corrected. The Governor passes on the information to Jackson. The invigilator announces it to Evans. It is a minor correction. In fact, it is a hint to Evans. The call is not from the Examination Board. It is from one of the friends of Evans. It cleverly informs Evans the name of the hotel — Golden Lion.

eives another call. It is from the Magistrate’s office. They need a prison van and two prison officials for a remand case. Infact this call is also a hoax. Through this call, Evans’s friends are able to get a prison van. They will use it at the end of the story. He says that it is cold inside the cell. He asks for permission to cover his shoulders with a blanket lying in the cell. The Governor allows him to do so.

Stephens keeps looking through the peephole almost every minute. He always finds McLeery reading the newspaper, and Evans sitting with his pen held between his teeth. Three minutes before the end of the examination, Stephens gets a phone call from the Governor. He tells Stephen that after the examination, he should accompany McLeery to the prison gate and should check that Evans’s cell is properly locked. In fact, this is a fake call. Its purpose is to put Stephens out of the way. In the meantime, Evans will give final shape to his plan of escape.

(परीक्षा आरम्भ होती है। स्टीफन्स ने ईवान्स की कोठरी के अन्दर रहना है। मगर ईवान्स कहता है कि अगर स्टीफन्स कोठरी के अन्दर रहेगा तो वह परीक्षा देने पर अपना ध्यान केन्द्रित नहीं कर पाएगा। इसलिए जैक्सन स्टीफन्स को कोठरी के बाहर पहरे पर बिठा देता है और उसे कहता है कि वह एक छोटी-सी खिड़की में से उस पर नजर रखे। 9.40 पर, गवर्नर को परीक्षा-बोर्ड के दफ्तर से फोन आता है कि प्रश्न-पत्र में कुछ गलती है और उसे ठीक करवाना है। गवर्नर यह सूचना जैक्सन को दे देता है। पर्यवेक्षक यह सूचना ईवान्स को देता है। यह एक छोटी-सी गलती है। वास्तव में यह ईवान्स को एक संकेत है। यह फोन परीक्षा-बोर्ड से नहीं आता है। यह ईवान्स के एक मित्र से आता है। यह बड़ी चतुराई से ईवान्स को होटल का नाम बता देते हैं-गोल्डन लॉयन।

थोड़ी देर बाद, गवर्नर को एक और फोन मिलता है। यह मैजिस्ट्रेट के दफ्तर से है। उन्हें एक रिमांड केस के लिए जेल की वैन और दो जेल अधिकार चाहिएँ। वास्तव में, यह फोन भी नकली है। इसके द्वारा, ईवान्स के मित्रों को जेल की वैन मिल जाती है। इसे वे कहानी के अन्त में प्रयोग करेंगे। ईवान्स माईक्रोफोन के द्वारा गवर्नर से बात करता है। वह कहता है कि कोठरी में बहुत ठंड है। वह कोठरी में पड़े कम्बल से अपने कंधे ढकने की अनुमति माँगता है। गवर्नर उसे ऐसा करने की अनुमति दे देता है।

स्टीफन्स छोटी खिड़की में से लगभग हर मिनट झांक लेता है। वह सदा मैकलीरी को अखबार पढ़ते हुए, और ईवान्स को अपने पेन को दाँतों में दबाए हुए बैठे देखता है। परीक्षा समाप्त होने से तीन मिनट पहले, स्टीफन्स को गवर्नर से फोन मिलता है। वह स्टीफन्स से कहता है कि परीक्षा के बाद वह मैकलीरी को जेल के द्वार तक छोड़ने जाए और यह बात चेक करे कि ईवान्स की कोठरी को अच्छी तरह ताला लगा हुआ है। वास्तव में, यह एक नकली फोन है। इसका उद्देश्य स्टीफन्स को रास्ते से हटाना है। इस बीच, ईवान्स जेल से भागने की योजना को अंतिम रूप देगा।)

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 7 Evans Tries an O-Level

Question 4.
What does Stephens find when he comes back after escorting McLeery to the prison door ? (मैकलीरी को जेल के द्वार तक छोड़कर जब स्टीफन्स वापस आता है तो क्या देखता है ?)
OR
How was the ‘Injured’ McLeery able to befool the prison officers? (घायल मैकलीरी जेल के अफसरों को मूर्ख बनाने में कैसे सफल हुआ?) [H.B.S.E. March, 2019 (Set-D)]
Answer:
After the examination, Stephens accompanies McLeery to the prison gate. When he comes back, he finds that McLeery is in Evans’s seat. He is injured and blood is trickling down from his head. He presumes that Evans has escaped after injuring McLeery. He shouts to Jackson and calls him. McCleery appears to be shocked and weak. Jackson and Stephens lead him to the yard where the Governor has also arrived. He orders that McLeery should be taken to the hospital. But McLeery says that he is alright. He shows the question paper to the Governor. A photocopied sheet is pasted on the last page of the question paper.

It is printed in German. It contains instructions for Evans to escape. Just then, detective superintendent, Carter arrives there. McCleery says that he knows where Evans has escaped and he can help them trace him out. So the Governor asks Carter to take McLeery with him and they both drive away. The Governor rebukes Stephens to escort Stephens to the prison gate, thinking him to be McLeery. But Stephens tells him that he received a call from him. The Governor realizes that it was a hoax call, as he did not send any such instructions to Stephens. He also thinks that Jackson did not search Evans’s cell thoroughly. He could not find that a false beard and a parson’s cloak was hidden in the cell. He could not see that McLeery brought it.

(परीक्षा समाप्त होने के बाद स्टीफन्स मैकलीरी को जेल के द्वार तक ले जाता है। जब वह लौटकर आता है, तो वह देखता है कि मैकलीरी ईवान्स की सीट पर है। वह घायल है और उसके सिर से खून बह रहा है। वह सोचता है कि ईवान्स मैकलीरी को घायल करके भाग गया है। वह जैक्सन को चिल्लाकर बुलाता है। मैकलीरी कमजोर और हैरान लगता है। जैक्सन और स्टीफन्स उसे आँगन में ले जाते हैं जहाँ पर गवर्नर भी पहुंच गया है। वह आदेश देता है कि मैकलीरी को हस्पताल में ले जाया जाए। मगर मैकलीरी कहता है कि वह ठीक है। वह गवर्नर को प्रश्न-पत्र दिखाता है। उसके आखिरी पेज पर एक फोटो-कॉपी शीट चिपकी हुई है। यह जर्मन भाषा में छपी है। इसमें ईवान्स के भागने के बारे में निर्देश हैं। तभी वहाँ पर जासूस, अधीक्षक कार्टर पहुँच जाता है। मैकलीरी कहता है कि वह जानता है कि ईवान्स भागकर कहाँ गया होगा और वह उसे ढूंढने में सहायता कर सकता है।

इसलिए गवर्नर कॉर्टर से कहता है कि वह मैकलीरी को अपनी साथ ले जाए और वे दोनों कार में चले जाते हैं। गवर्नर स्टीफन्स को इस बात के लिए डाँटता है कि वह ईवान्स को मैकलीरी समझकर उसे जेल के गेट के बाहर तक छोड़ आया। मगर स्टीफन्स कहता है कि उसे उस (गवर्नर से) इस बारे में फोन आया था। गवर्नर महसूस करता है कि यह एक नकली फोन था, क्योंकि उसने ऐसे कोई निर्देश स्टीफन्स को नहीं भेजे थे। वह यह भी सोचता है कि कोठरी के अन्दर एक नकली दाढ़ी और पादरी का चोगा छुपा हुआ था। वह यह नहीं देख सका कि मैकलीरी इन्हें लाया था।)

Question 5.
What does the Governor realise about McLeery ? (गवर्नर को मैकलीरी के बारे में क्या पता चलता है ?)
Answer:
Carter telephones the Governor and tells him that McLeery spotted Evans on a road in a car. They chased the car but it disappeared at the Headington roundabout. He also tells Governor that when they went to the Examination Board Office, McLeery appeared to be very ill. So he phoned the Radcliffe hospital for an ambulance. He hopes that McLeery is now in the hospital. The Governor enquires from the hospital. They tell him that they sent an ambulance for McLeery but he was not there. Now the Governor sees that it was a very clever plan made by Evans. First, someone impersonated as McLeery and came to Evans’s cell. Then Evans impersonated as McLeery and faked as injured, telling the Governor that Evans injured him. In fact, it was pig’s blood which gave the appearance of a bleeding head.

(कॉर्टर गवर्नर को फोन करता है और उसे बताता है कि मैकलीरी ने ईवान्स को एक सड़क पर एक कार में देखा था। उन्होंने कार का पीछा किया था मगर वह कार हेडिंग्टन रोड के मोड़ पर गायब हो गई थी। वह गवर्नर को यह भी बताता है कि जब वे परीक्षा बोर्ड के दफ्तर में गए, तो मैकलीरी बहुत बीमार नजर आ रहा था। इसलिए उसने रैडक्लिफ हस्पताल में एम्बुलैन्स के लिए फोन किया था। उसे आशा है कि मैकलीरी अब हस्पताल में है। गवर्नर हस्पताल से पूछताछ करता है। वे उसे बताते हैं कि उन्होंने मैकलीरी के लिए एक वैन भेजी थी, मगर वह वहाँ पर नहीं था। अब गवर्नर महसूस करता है कि यह ईवान्स द्वारा बनाई गई एक बड़ी चतुराईपूर्ण योजना थी। पहले तो किसी ने मैकलीरी का भेष बनाया और ईवान्स की कोठरी में आया। तब ईवान्स ने मैकलीरी का भेष बनाया और यह ढोंग किया कि वह घायल है, और गवर्नर को कहा कि उसे ईवान्स ने घायल किया है। वास्तव में, उन्होंने सूअर के खून से सिर से खून बहने का नाटक किया।)

Question 6.
How was Evans arrested and how did he gain his freedom? (ईवान्स कैसे गिरफ्तार हुआ और उसने अपनी आजादी कैसे हासिल की?)
Answer:
Evans is out of the prison. He is happy to be free. He is sorry that he cut his hair short to impersonate as McLeery. He recalls the events of the day. His friends provided him soap, water and everything in the car. Now he hopes to leave his hotel early in the morning. He reaches the Golden Lion Hotel in Chipping Norton.

He opens the door of his room and gets a great shock. He finds the Governor sitting on the bed. The Governor tells him that he got the hint about the hotel and its location from the information given in the question paper in code words. Evans admires the intelligence of the Governor. The Governor and Evans come into the lobby of the hotel. Receptionist tells the Governor that the prison van is waiting in front of the hotel. A prison officer handcuffs Evans. He takes him into the van and drive away.

Infact, the Governor has again been hoodwinked by Evans and his friends. They got the prison van in the morning on the pretext that it was needed by the Magistrate. Now Evans was taken away in the same van. The prison officer who arrests Evans is in fact, one of his friends. When the prison van turns the corner, his friend unlocks the handcuff. Then they drive to Newbury. Evans escapes from prison for the fourth time.

(ईवान्स जेल से बाहर है। वह आज़ाद होकर प्रसन्न है। उसे इस बात का अफसोस है कि उसे मैकलीरी का भेष बनाने के लिए अपने बाल काटने पड़े। वह दिन भर की घटनाओं को याद करता है। उसके दोस्तों ने उसे साबुन, पानी और अन्य हर चीज कार में दी। अब उसे आशा है कि वह प्रातः जल्दी होटल से चला जाएगा। वह चिप्पिंग नॉर्टन में गोल्डन लायन होटल में पहुँचता है। वह कमरे का दरवाजा खोलता है और उसे बहुत बड़ा झटका लगता है। वह देखता है कि बिस्तर पर गवर्नर बैठा है। गवर्नर उसे बताता है कि उसे होटल और उसके स्थान के बारे में संकेत प्रश्न-पत्र में सांकेतिक भाषा में दी गई सूचना से मिला था। ईवान्स गवर्नर की बुद्धिमत्ता की तारीफ करता है। गवर्नर और ईवान्स होटल की लॉबी में आते हैं।

स्वागत करने वाली गवर्नर को बताती है कि जेल की वैन होटल के सामने खड़ी है। जेल का एक अफसर ईवान्स को हथकड़ी लगाता है। वह उसे वैन में ले जाता है और चला जाता है। वास्तव में गवर्नर को ईवान्स और उसके मित्रों ने एक बार फिर चकमा दे दिया है। उन्होंने प्रातः ही जेल की वैन इस बहाने ले ली थी मैजिस्ट्रेट को इसकी जरूरत है। अब ईवान्स को इसी वैन में ले जाया गया है। जेल का वह अफसर जो ईवान्स को कैद करता है वास्तव में उसका एक मित्र है। जब जेल की वैन मोड़ से ओझल होती है। उसका मित्र हथकड़ी खोल देता है। तब वे न्यूबरी चले जाते हैं। ईवान्स जेल से चौथी बार फरार हो जाता है।)

Question 7.
Write a brief summary of the story ‘Evans Tries an O-level. (‘Evans Tries an O-Level’ कहानी का संक्षिप्त सार लिखो।)
Answer:
This is a very interesting play. Evans is a prisoner. In the past, he has escaped from prison three times. Now a strict watch is being kept over him. One day he expresses his desire to appear for O-level examination in German language. He is given permission to take the examination. The exam his prison cell. A question paper comes from the Examination Board. A person named McLeery comes as an invigilator. Infact, he is Evans’s friend. Acting on a fake call, Stephens escapes McLeery to the gate.

When he comes back, he finds McLeery injured. He guesses that the person who went out was Evans. Infact it was Evans, impersonating as McLeery. When he is taken out, he escapes. But the Governor gets hints from the question paper and goes to Evans’s hotel. He arrests Evans. But the prison officer who takes Evans away in the prison van is also fake. He is Evans’s friend. In this way, Evans escapes from the prison for the fourth time.

(यह एक बहुत रोचक नाटक है। ईवान्स एक कैदी है। अतीत में वह जेल से तीन बार भाग चुका है। अब उस पर कड़ी निगरानी रखी जा रही है। एक दिन वह जर्मन भाषा में ओ-स्तर की परीक्षा देने की अपनी इच्छा जाहिर करता है। उसे वह परीक्षा देने की अनुमति मिल जाती है। परीक्षा जेल की कोठरी में ही होती है। परीक्षा-बोर्ड से प्रश्न-पत्र आता है। मैकलीरी नाम का एक व्यक्ति पर्यवेक्षक के रूप में आता है। वास्तव में, वह ईवान्स का मित्र है। एक नकली टेलीफोन कॉल के कारण, स्टीफन्स को द्वार तक ले जाता है। जब वह लौटकर वापस आता है, तो वह देखता है कि मैकलीरी घायल है।

वह अनुमान लगाता है कि, जो व्यक्ति बाहर गया वह ईवान्स है। वास्तव में यह मैकलीरी के भेष में ईवान्स था। जब उसे बाहर ले जाया जाता है तो वह भाग जाता है। मगर गवर्नर को प्रश्न-पत्र से संकेत मिल जाता है और वह ईवान्स के होटल में जाता है। वह ईवान्स को गिरफ्तार कर लेता है। मगर जेल का जो अफसर ईवान्स को वैन में ले जाता है वह भी नकली है। वह ईवान्स का मित्र है। इस प्रकार ईवान्स चौथी बार जेल से भाग जाता है।)

Evans Tries an O-Level Summary in English and Hindi

Evans Tries an O-Level Introduction to the Chapter
This is a very interesting play. Evans is a prisoner. In the past, he has escaped from prison three times. Now a strict watch is being kept over him. One day he expresses his desire to appear for O-level examination in German language. He is given permission to take the examination. The examination is held in his prison cell. A question paper comes from the Examination Board.

A person named McLeery comes as an invigilator. Infact, he is Evans’s friend. Acting on a fake call, Stephens escorts McLeery to the gate. When he comes back, he finds McLeery injured. He guesses that the person who went out was Evans.

Infact it was Evans, impersonating as McLeery. When he is taken out, he escapes. But the Governor gets hints from the question paper and goes to Evans’s hotel. He arrests Evans. But the prison officer who takes Evans away in the prison van is also fake. He is Evans’s friend. In this way, Evans escapes from the prison for the fourth time.

(यह एक बहुत रोचक नाटक है। ईवान्स एक कैदी है। अतीत में वह जेल से तीन बार भाग चुका है। अब उस पर कड़ी निगरानी रखी जा रही है। एक दिन वह जर्मन भाषा में ओ-स्तर की परीक्षा देने की अपनी इच्छा जाहिर करता है। उसे वह परीक्षा देने की अनुमति मिल जाती है। परीक्षा जेल की कोठरी में ही होती है। परीक्षा बोर्ड से प्रश्न-पत्र आता है। मैकलीरी नाम का एक व्यक्ति पर्यवेक्षक के रूप में आता है। वास्तव में, वह ईवान्स का मित्र है।

एक नकली टेलीफोन के कारण स्टीफन्स मैकलीरी को गेट तक ले जाता है। जब वह लौटकर वापिस आता है, तो वह देखता है कि मैकलीरी घायल है। वह अनुमान लगाता है कि जो व्यक्ति बाहर गया वह ईवान्स था। वास्तव में यह मैकलीरी के भेष में ईवान्स था। जब उसे बाहर ले जाया जाता है तो वह भाग जाता है। मगर गवर्नर को प्रश्न-पत्र से संकेत मिल जाता है, और वह ईवान्स के होटल में जाता है। वह ईवान्स को गिरफ्तार कर लेता है। मगर जेल का जो अफसर ईवान्स को वैन में ले जाता है वह भी नकली है। वह ईवान्स का मित्र है। इस प्रकार, ईवान्स चौथी बार जेल से भाग जाता है।)

Evans Tries an O-Level Summary
Evans is a criminal. He has been imprisoned in the Oxford prison. He is different from other prisoners. He is gentle in his behavior. He is not given to violence. But he is very clever. He has already escaped from jail three times. So he is popularly known as Evans, the Break. It is feared that he will try to escape the fourth time also. So every precaution has been taken. He has been put into a separate cell in the jail. There is a strict watch over him. However, he makes a clever plan of escaping and hoodwinks all.

Evans expresses his desire to study the German language. So evening classes are arranged for him in the jail. He is the only student. The jail authorities have arranged a teacher for him from the technical college. But later it is learnt that the German teacher was, infact, a friend of Evans. Evans appears keen on learning German language. He wants to take an O-level test in German language. The Governor concedes to his request. He arranges with the Examinations Board to hold the examination in Evans’s cell.

A priest from St. Mary Mags is to be the invigilator. The Governor fears that Evans’s may try to escape from the jail. He may overpower the invigilator. So he takes every possible precaution. He orders Jackson, a senior prison officer, to search Evans’s cell thoroughly. Jackson spends two hours searching the cell, but finds nothing hidden there. He takes away even Evans’s nail scissors and nail file. Another jail officer is asked to stay inside the cell till the examination lasts. Evans’s cell is fitted with a microphone so that the Governor can listen to every word spoken and every sound made in the cell.

Half an hour before the beginning of the examination, Jackson and Stephens visit Evans’s cell. They give a blade to Evans to shave himself. Jackson asks Stephens to take away the blade after Evans has shaved himself. He is wearing a woollen hat. Jackson asks Evans to take off his hat. But Evans’s says that it is his lucky hat. So Jackson lets him keep the hat on. Infact, this is a part of Evans’s plan to escape. He has cut off his long wavy hair with the blade to impersonate the invigilator.

The invigilator arrives at the gate of the prison. He is a parson in a church. His name is Reverend Stuart McLeery. He is led to Evans’s cell and introduced to him. The Governor is still worried. He phones Jackson and asks him to search McLeery thoroughly. Jackson searches his suitcase also. He finds a semi-inflated small rubber ring. He tells Jackson that he is suffering from hemorrhoids. He uses the rubber ring when he sits down for a long time. Jackson lets him keep it. But he does not know that this is a clever plan. The tube contains pig’s blood which Evans later uses to pretend that he is the wounded McLeery. In fact, this man is not the real McLeery, the parson. He is Evans’s friend who is impersonating as McLeery. The real McLeery was bound and gagged in his flat.

The examination starts. The invigilator asks Evans to write his index number and his center number on his answer sheet. Stephens is to stay inside Evans’s cell. But Evans says that he cannot concentrate if Stephens remains inside the cell. So Jackson posts Stephens out of the cell and asks him to keep a watch through a peephole.

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 7 Evans Tries an O-Level

At 9.40, the Governor receives a call from the Examinations Board office. He is told that there is an error in the question paper and it has to be corrected. The Governor passes on the information to Jackson. The invigilator announces it to Evans. It is a minor correction. Infact, it is a hint to Evans. The call is not from the Examinations Board. It is from one of the friends of Evans. It cleverly informs Evans the name of the hotel : Golden Lion.
After some time, the Governor receives another call. It is from the Magistrate’s office. They need a prison van and two prison officers for a remand case. In fact this call is also a hoax. Through this call, Evans’s friends are able to get a prison van. They will use it at the end of the story.

Evans talks to the Governor through the microphone. He says that it is cold inside the cell. He asks for permission to cover his shoulders with a blanket lying in the cell. The Governor allows him to do so. Stephens keeps looking through the peephole almost every minute. He always finds McLeery reading the newspaper, and Evans sitting with his pen held between his teeth.

Three minutes before the end of the examination, Stephens gets a phone call from the Governor. He tells Stephens that after the examination, he should accompany McLeery to the prison gate and should check that Evans’s cell is properly locked. In fact, this is a fake call. Its purpose is to put Stephens out of the way. In the meantime, Evans will give final shape to his plan of escape.

Then the examination is over. Stephens accompanies McLeery to the prison gate. When he comes back, he finds that McLeery is in Evans’s seat. He is injured and blood is trickling down from his head. He presumes that Evans has escaped after injuring McLeery. He shouts to Jackson and calls him.

McCleery appears to be shocked and weak. Jackson and Stephens lead him to the yard where the Governor has also arrived. He orders that McLeery should be taken to the hospital. But McLeery says that he is alright. He shows the question paper to the Governor. A photocopied sheet is pasted on the last page of the question paper. It is printed in German.

It contains instructions for Evans to escape. Just then, detective superintendent, Carter arrives there. McCleery says that he knows where Evans has escaped and he can help them trace him out. So the Governor asks Carter to take McLeery with him and they both drive away. The Governor rebukes Stephens for escorting Stephens to the prison gate, thinking him to be McLeery. But Stephens tells him that he received a call from him. The Governor realises that it was a hoax call, as he did not send any such instructions to Stephens.

He also thinks that Jackson did not search Evans’s cell thoroughly. He could not find that a false beard and a parson’s cloak was hidden in the cell. He could not see that McLeery brought it. He could not detect that Evans is McLeery. But the Governor thinks that Evans has made the mistake of leaving his question paper behind. He feels sure that with the help of McLeery Evans will soon be arrested again.

Carter telephones the Governor and tells him that McLeery spotted Evans on a road in a car. They chased the car but it disappeared at the Headington roundabout. He also tells Governor that when they went o the Examinations Board office, McLeery appeared to be very ill. So he phoned the Radcliffe hospital for an ambulance. He hopes that McLeery is now in the hospital. The Governor enquires from the hospital. They tell him that they sent an ambulance for McLeery but he was not there.

Now the Governor sees that it was a very clever plan made by Evans. First, someone impersonated as McLeery and came to Evans’s cell. Then Evans impersonated as McLeery and faked as injured, telling the Governor that Evans injured him. In fact, it was pig’s blood which gave the appearance of a bleeding head.

Evans is out of the prison. He is happy to be free. He is sorry that he cut his hair short to impersonate as McLeery. He recalls the events of the day. His friends provided him soap, water, and everything in the car. Now he hopes to leave his hotel early in the morning. He reaches the Golden Lion Hotel in Chipping Norton. He opens the door of his room and gets a great shock. He finds the Governor sitting on the bed. The Governor tells him that he got the hint about the hotel and its location from the information given in the question paper in code words. Evans admires the intelligence of the Governor.

The Governor and Evans come into the lobby of the hotel. The receptionist tells the Governor that the prison van is waiting in front of the hotel. A prison officer handcuffs Evans. He takes him into the van and drive away. In fact, the Governor has again been hoodwinked by Evans and his friends. They got the prison van in the morning on the pretext that it was needed by the Magistrate. Now Evans was taken away in the same van. The prison officer who arrests Evans,is fact, one of his friends. When the prison van turns the corner, his friend unlocks the handcuff. Then they drive to Newbury. Evans escapes from prison for the fourth time.

(ईवान्स एक अपराधी है। उसे ऑक्सफोर्ड जेल में कैद करके रखा गया है। वह अन्य कैदियों से भिन्न है। वह अपने व्यवहार में विनम्र है। वह हिंसक नहीं है। मगर वह बहुत चालाक है। वह पहले ही जेल से तीन बार भाग चुका है। इसलिए उसे आमतौर पर, ईवान्स भगौड़ा कहा जाता है। ऐसा डर है कि वह चौथी बार भागने का प्रयत्न भी करेगा। इसलिए हर सावधानी बरती गई है। उसे जेल में एक अलग कोठरी में रखा गया है। उस पर कड़ी निगरानी रखी जा रही है। लेकिन, वह जेल से भाग जाने की एक चालाकीपूर्ण योजना बनाता है और सबको धोखा दे देता है।

ईवान्स जर्मन भाषा सीखने की अपनी इच्छा जाहिर करता है। इसलिए उसके लिए जेल में सायंकालीन कक्षाओं का इंतज़ाम किया जाता है। वह अकेला छात्र है। जेल के अफसरों ने उसके लिए तकनीकी महाविद्यालय से एक अध्यापक का इंतजाम किया है। मगर बाद में पता लगता है कि जर्मन अध्यापक वास्तव में ईवान्स का मित्र ही था। ईवान्स जर्मन भाषा सीखने को बड़ा उत्सक नजर आता है। वह जर्मन भाषा में ओ-स्तर की परीक्षा देना चाहता है। गवर्नर उसकी प्रार्थना को स्वीकार कर लेता है। वह परीक्षा-बोर्ड के साथ यह इंतजाम करता है कि ईवान्स की कोठरी में ही उसकी परीक्षा ली जाए। सेन्ट मैरी मैग्स का एक पादरी पर्यवेक्षक होगा।

गवर्नर को इस बात का भय है कि ईवान्स जेल से भागने का प्रयत्न करेगा। वह पर्यवेक्षक पर काबू पा सकता है। इसलिए वह हर सम्भव सावधानी बरतता है। वह एक वरिष्ठ जेल अधिकारी जैक्सन को आदेश देता है, कि वह ईवान्स की कोठरी की अच्छी तरह तलाशी ले। जैक्सन कोठरी की तलाशी लेने में दो घण्टे लगाता है, मगर उसे वहाँ कुछ भी छुपा हुआ नहीं मिलता। वह तो ईवान्स की नाखून काटने की कैंची और उसके नाखून की रेती भी ले जाता है। जेल के अन्य, अफसर को जब तक परीक्षा चलती है तब तक ईवान्स की कोठरी के अन्दर रहने को कहा जाता है। ईवान्स की कोठरी में एक माइक्रोफोन फिट कर दिया जाता है ताकि गवर्नर कोठरी में कहे गए हर शब्द और की गई आवाज को सुन सके।

परीक्षा आरम्भ होने से आधा घण्टा पहले, जैक्सन और स्टीफन्स ईवान्स की कोठरी में जाते हैं। वे ईवान्स को शेव करने के लिए एक ब्लेड देते हैं। जैक्सन स्टीफन्स से कहता है कि जब ईवान्स शेव कर ले तो वह उस ब्लेड को ले जाए। ईवान्स अपनी शेव कर लेता है। उसने एक ऊनी टोप पहना हुआ है। जैक्सन ईवान्स को कहता है कि वह अपना टोप उतार दे। मगर, ईवान्स कहता है कि वह उसका भाग्यशाली टोप है। इसलिए जैक्सन उसे टोप पहने रखने की अनुमति दे देता है। वास्तव में यह ईवान्स के भागने की योजना का एक भाग है। उसने अपने लम्बे धुंघराले बाल ब्लेड से काट लिए हैं ताकि वह पर्यवेक्षक का भेष बना सके। पर्यवेक्षक जेल के द्वार पर आता है।

वह चर्च का एक पादरी है। उसका नाम रिवरेंड स्टुअर्ट मैकलीरी है। उसे ईवान्स की कोठरी में लाया जाता है। उससे उसका परिचय करवाया जाता है। गवर्नर अभी भी चिंतित है। वह जैक्सन को फोन करता है और उसे कहता है कि वह मैकलीरी की पूरी तरह तलाशी ले। जैक्सन उसका सूटकेस भी देखता है। उसे एक आधी फूली हुई रबड़ की छोटी गोल ट्यूब मिलती है। वह जैक्सन को बताता है कि वह हैमोरॉयड्स से पीड़ित है। जब वह अधिक देर तक बैठता है, तो वह रबड़ की उस गोल ट्यूब का प्रयोग करता है। जैक्सन उसे इसको अपने पास रखने देता है, मगर वह यह नहीं जानता कि यह एक चतुराईपूर्ण योजना है। ट्यूब में सूअर का खून है, जिसे बाद में ईवान्स इस बात का ढोंग करने के लिए प्रयोग करता है कि वह घायल मैकलीरी है। वास्तव में यह व्यक्ति वास्तविक पादरी मैकलीरी नहीं है। वह ईवान्स का मित्र है जो मैकलीरी होने का नाटक कर रहा है। वास्तविक मैकलीरी को उसके फ्लैट में बाँध दिया गया था और उसके मुँह को भी बंद कर दिया गया था।

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 7 Evans Tries an O-Level

परीक्षा आरम्भ होती है। पर्यवेक्षक ईवान्स को कहता है कि वह अपनी उत्तर-पुस्तिका पर अपना इन्डेक्स नम्बर और सेन्टर नम्बर लिखे। स्टीफन्स ने ईवान्स की कोठरी के अन्दर रहना है। मगर ईवान्स कहता है कि अगर स्टीफन्स कोठरी के अन्दर रहेगा तो वह परीक्षा देने पर अपना ध्यान केन्द्रित नहीं कर पाएगा। इसलिए जैक्सन स्टीफन्स को कोठरी के बाहर पहरे पर बिठा देता है, और उसे कहता है कि वह एक छोटी-सी खिड़की में से उस पर नज़र रखे। 9:40 पर, गवर्नर को परीक्षा बोर्ड के दफ्तर से फोन आता है कि प्रश्न-पत्र में कुछ गलती है और उसे ठीक करवाना है। गवर्नर यह सूचना जैक्सन को देता है। पर्यवेक्षक यह सूचना ईवान्स को देता है। यह एक छोटी-सी गलती है। वास्तव में, यह ईवान्स को एक संकेत है। यह फोन परीक्षा-बोर्ड से नहीं है। यह ईवान्स के एक मित्र से है। यह बड़ी चतुराई से ईवान्स को होटल का नाम बता देती है-गोल्डन लॉयन।

थोड़ी देर बाद, गवर्नर को एक और फोन आता है। यह मैजिस्ट्रेट के दफ्तर से है। उन्हें एक रिमांड केस के लिए जेल की वैन और दो जेल अधिकारी चाहिएँ। वास्तव में यह फोन भी नकली है। इसके द्वारा ईवान्स के मित्रों को जेल की वैन मिल जाती है। इसे वे कहानी के अन्त में प्रयोग करेंगे। ईवान्स माइक्रोफोन के द्वारा गवर्नर से बात करता है। वह कहता है कि कोठरी में बहुत ठंड है। वह कोठरी में पड़े कम्बल से अपने कन्धे ढकने की अनुमति माँगता है। गवर्नर उसे ऐसा करने की अनुमति दे देता है।

स्टीफन्स छोटी खिड़की में से लगभग हर मिनट झाँक लेता है। वह सदा मैकलीरी को अखबार पढ़ते हुए और ईवान्स को अपने पेन को दाँतों में दबाए हुए बैठे देखता है। परीक्षा समाप्त होने से तीन मिनट पहले स्टीफन्स को गवर्नर से फोन मिलता है। वह स्टीफन्स से कहता है कि परीक्षा के बाद वह मैकलीरी को जेल के गेट तक छोड़ने जाए और यह बात चेक करे कि ईवान्स की कोठरी को अच्छी तरह ताला लगा हुआ है। वास्तव में यह एक नकली फोन है। इसका उद्देश्य स्टीफन्स को रास्ते से हटाना है। इस बीच ईवान्स जेल से भागने की योजना को अंतिम रूप देगा।

तब परीक्षा समाप्त हो जाती है। स्टीफन्स मैकलीरी को जेल के द्वार तक ले जाता है। जब वह लौटकर आता है, तो वह देखता है कि मैकलीरी ईवान्स की सीट पर है। वह घायल है और उसके सिर से खून बह रहा है। वह सोचता है कि ईवान्स मैकलीरी को घायल करके भाग गया है। वह जैक्सन को चिल्लाकर बुलाता है। मैकलीरी कमजोर और सदमें में लगता है। जैक्सन और स्टीफन्स उसे आँगन में ले जाते हैं, जहाँ पर गवर्नर भी पहुँच गया है। वह आदेश देता है कि मैकलीरी को हस्पताल में ले जाया जाए। मगर मैकलीरी कहता है कि वह ठीक है। वह गवर्नर को प्रश्न पत्र दिखाता है। उसके आखिरी पेज पर एक फोटो कॉपी शीट चिपकी हुई है। यह जर्मन भाषा में छपी है। इसमें ईवान्स के भागने के बारे में निर्देश है। तभी वहाँ पर जासूस, सुपरिटेन्डेंट कॉर्टर पहुँच जाता है। मैकलीरी कहता है कि वह जानता है कि ईवान्स भागकर कहाँ गया होगा और वह उसे ढूंढ़ने में सहायता कर सकता है। इसलिए गवर्नर कॉर्टर से कहता है कि वह मैकलीरी को अपने साथ ले जाए और वे दोनों कार में चले जाते हैं।

गवर्नर स्टीफन्स को इस बात के लिए डाँटता है कि वह ईवान्स को मैकलीरी समझकर उसे जेल के गेट के बाहर तक छोड़ आया। मगर स्टीफन्स उसे कहता है कि उसे उससे (गवर्नर) इस बारे में फोन आया था। गवर्नर महसूस करता है कि यह एक नकली फोन था क्योंकि उसने ऐसे कोई निर्देश स्टीफन्स को नहीं भेजे थे। वह यह भी सोचता है कि जैक्सन ने ईवान्स की कोठरी की तलाशी अच्छी तरह नहीं ली होगी। वह यह नहीं देख सका कि कोठरी के अन्दर एक नकली दाढ़ी और पादरी का चोगा छुपा हुआ था। वह यह नहीं देख सका कि मैकलीरी इन्हें लाया था। वह इस बात को भाँप नहीं सका कि ईवान्स मैकलीरी था। मगर गवर्नर यह सोचता है कि ईवान्स ने प्रश्न-पत्र को अपने पीछे छोड़कर गलती कर दी है। उसे पूरा विश्वास है कि मैकलीरी की सहायता से वह शीघ्र ही ईवान्स को पकड़ लेगा।

कार्टर गवर्नर को फोन करता है, और उसे बताता है कि मैकलीरी ने ईवान्स को एक सड़क पर एक कार में देखा था। उन्होंने कार का पीछा किया था मगर वह कार हैडिन्गटन रोड के मोड़ पर गायब हो गई थी, वह गवर्नर को यह भी बताता है कि जब वे परीक्षा बोर्ड के दफ़तर में गए, तो मैकलीरी बहुत बीमार नज़र आ रहा था। इसलिए उसने रैडक्लिफ हस्पताल में एम्बुलेन्स के लिए फोन किया था। उसे आशा है कि मैकलीरी अब हस्पताल में है। गवर्नर हस्पताल से पूछताछ करता है। वे उसे बताते हैं कि उन्होंने मैकलीरी के लिए एक वैन भेजी थी। अब गवर्नर महसूस करता है कि यह ईवान्स द्वारा बनाई गई एक बड़ी चतुराईपूर्ण योजना थी। पहले तो किसी ने मैकलीरी का भेष बनाया और ईवान्स की कोठरी में आया। तब ईवान्स ने मैकलीरी का भेष बनाया और यह ढोंग किया कि वह घायल है और गवर्नर को कहा कि उसे ईवान्स ने घायल किया है। वास्तव में उन्होंने सूअर के खून से सिर से खून बहने का नाटक किया।

ईवान्स जेल से बाहर है। वह आजाद होकर प्रसन्न है। उसे इस बात का अफ़सोस है कि उसे मैकलीरी का भेष बनाने के लिए अपने बाल काटने पड़े हैं। वह दिन भर की घटनाओं को याद करता है। उसके दोस्तों ने उसे साबुन, पानी और अन्य हर चीज कार में दी। अब उसे आशा है कि वह प्रातः जल्दी होटल से चला जाएगा। वह चिप्पिंग नॉर्टन में गोल्डन लॉयन होटल में पहुँचता है। वह कमरे का दरवाजा खोलता है और उसे बहुत बड़ा झटका लगता है। वह देखता है कि बिस्तर पर गवर्नर बैठा है। गवर्नर उसे बताता है कि उसे होटल और उसके स्थान के बारे में संकेत प्रश्न-पत्र में सांकेतिक भाषा में दी गई सूचना से मिला था। ईवान्स गवर्नर की बुद्धिमत्ता की तारीफ करता है।

गवर्नर और ईवान्स होटल की लॉबी में आते हैं। रिसेप्सनिस्ट गवर्नर को बताती है कि जेल की वैन होटल के सामने खड़ी है। जेल का एक अफसर ईवान्स को हथकड़ी लगाता है। वह उसे वैन में ले जाता है। वास्तव में गवर्नर को ईवान्स और उसके मित्रों ने एक बार फिर चकमा दे दिया है। उन्होंने प्रातः ही जेल की वैन इस बहाने से ले ली थी मैजिस्ट्रेट को इसकी जरूरत है। अब ईवान्स को इसी वैन में ले जाया गया है। जेल का वह अफसर जो ईवान्स को कैद करता है वास्तव में उसका एक मित्र है। जब जेल की वैन मोड़ से ओझल होती है, उसका मित्र हथकड़ी खोल देता है। तब वे न्यूबरी चले जाते हैं। ईवान्स जेल से चौथी बार फरार हो जाता है।)

Evans Tries an O-Level Meanings

[Page 70-71] :
Slightly (a little) = कुछ;
chap (person/man) = व्यक्ति ;
packet (a lot of money) = बहुत पैसा;
procedure (method/wayof doing something) = तरीका;
criminal (relating to crime)= अपराध सम्बन्धी;
congenital (since birth) = जन्म से;
kleptomaniac (habitual of stealing) = चुराने की आदत वाला;
tempted (induced) = प्रेरित किया;
presumably (supposedly) = शायद;
cell (small room in a jail) = जेल की कोठरी;
parson (priest) = पादरी;
invigilate (supervise) = निरीक्षण करना;
chuckled (laughed softly) = हल्के-हल्के हँसना;
incommunicado (prohibited to be communicated) = कहने को निषेध;
reiterated (repeated) = दोहराई गई;
cradled (hung up) = फोन को रख देना।

[Page 72] :
Recent (that happened sometime ago) = कुछ समय पहले घटित;
gracing (doing a favour) = एहसान करना;
premises (building) = भवन/चारदीवारी;
disgracing (causing shame)= शर्मनाक;
persistent (continuous) = लगातार;
nagging (quarrelsome)= झगड़ालू;
genuinely (earmestly) = गम्भीरता से/सच से;
recreational (concerning recreation) = मनोरंजन सम्बन्धी;
cat in hell’s chance (no chance) = कोई अवसर नहीं;
grubby (dirty) = गन्दा;
bunk (sleeping berth) = सोने का लम्बा स्थान;
burly (big and healthy) = बड़ा एवं स्वस्थ;
surly (irritating) = चिड़चिड़ा;
curtly (dryly) = खुश्की से;
bust in (come in suddenly) = अचानक अन्दर आना।

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 7 Evans Tries an O-Level

[Page 73-74] :
Scraping (remove by rubbing) = रगड़कर हटाना;
mug (face) = चेहरा;
smouldered (burnt slowly) = सुलगना;
leered (looked at with contempt) = घृणा से देखना;
contemptuous (full of hatred) = घृणा भरा;
shrugged (raised shoulder) = कन्धे उचकाए;
crisis (time of danger) = संकट;
charm (amulet) = ताबीज;
briskly (quickly) = शीघ्रता से;
clerical (concerning a priest) = पादरी सम्बन्धी;
drizzle (light rain) = हल्की बरसात;
spattered (sprinkled) = छिड़काव किया;
scheduled (fixed) = निश्चित;
lathering (making froth) = झाग बनाना;
vigorously (energetically) = जोश से;
distempered (painted) = पेन्ट किया;
swath (the part cut by a scythe)= दरांती द्वारा काटा गया एक भाग।

[Page 75-76]:
vaguely (not clearly) = अस्पष्ट;
conceded (admitted)= स्वीकार किया;
keep your nose clean (keep out of trouble) = मुसीबत से दूर रहो;
lodge (hut) = झोंपड़ी;
clanging (sound made by metal) = धातु द्वारा की गई आवाज़;
riveted (fixed) = केन्द्रित;
thudded (made dull heavy sound)= भारी आवाज़ करना;
precaution (preventive action) = सावधानी सतर्कता;
spot (notice) = देखना;
theatrical (showy) = दिखावापूर्ण;
alert (watchful) = चौकन्ना;
haystack (heap of hay) = घास-फूस का ढेर;
nagging (worrying/quarrelling)= झगड़ालू;
smuggle (to bring in illegally) = तस्करी करना;
chisel (wedge) = छैनी;
potential (possible) = सम्भव;
jack-knife (small knife)= छोटा चाकू;
frisked (searched) = तलाशी ली;
landing (platform) = चबूतरा।

[Page 77-78] :
Riffled (ransacked) = छान मारा;
cursorily (not thoroughly) = सरसरी तौर पर;
holy Writ (the Bible) = बाईबल;
amiable (gentle) = विनम्र;
demeanour (conduct)= व्यवहार;
ruffled (annoyed)= परेशान;
sourly (bitterly)= कड़वाहट से;
haemorrhoids (piles) = पेचिश;
embarrassment (discomfort)= असुविधा;
overdoing (doing to excess) = अधिकता से करना;
correction slip (amendment) = सुधार;
fake (spurious) = नकली;
staccato (sharp sound) = तीखी आवाज;
wee (a bit) = कुछ।

[Page 79-80] :
Agreement (concurrence) = समझौता;
impressive (causing impression) = प्रभावशाली;
remand (send into custody) = हवालात में भेजना;
hoax (deceit) = धोखा;
peered (looked closely)= घूरकर देखना;
peep-hole (inspection hole) = निरीक्षण छिद्र;
sorely (painfully) = कष्ट से;
amateurishly (not professionally) = बिना व्यावसायिक रूप से;
scalp (upper part of skull)= खोपड़ी का ऊपरी भाग;
pebble (shingles) = कंकड़;
parky (chilly) = ठण्डा;
draped (wrapped) = लिपटा;
fishy (doubtful) = संदेहात्मक;
suffocate (stifle) = दबाना;
revert (return) = लौटाना;
apprehensively (with fears)= भय से;
absolutely (completely)= पूरी तरह से।

[Page 81-82] :
Scraping (rubbing) = रगड़ना;
distinguished (prominent) = प्रमुख;
accent (style of pronunciation) = उच्चारण का तरीका;
foster (encourage) = प्रोत्साहित करना;
belated (delayed) = देरी से;
tufted (bushy) = झाड़ी की तरह;
dripped (fall in drops) = बूंद-बूंद करके गिरना;
fierce (wild) = जंगली/खूखार;
wildly (madly) = पागलों की तरह;
penetrate (enter) = प्रवेश करना;
moan (groan) = कराहना;
trailed (dragged behind) = खींचना;
sticky (gum like) = चिपचिपा;
squelchy (wet sucking sound) = पानी की छप-छप की आवाज;
grasped (held tightly) = कसकर पकड़ना;
banged (slammed) = जोर से बंद किया;
bolted (fastened with bolts) = चिटकनी से बंद करना;
caked (became hard) = सख्त होना।

[Page 83-85] :
Dredging (exploring) = खोजना;
vital (significant) = महत्त्वपूर्ण;
wailed (cried) = चिल्लाना;
squealed (made a sharp cry) = तीखी चीख मारना;
tarnished (discoloured) = बदरंग होना;
bewilderment (puzzle) = पहेली;
spurt (jet) = फुआरा;
gravel (small stones) = कंकड़;
scathing (scornful) = निंदाजनक;
morons (fools) = मूर्ख;
stammered (stuttered) = हकलाया;
sworn (said on oath) = कसम खाकर कहा;
whiplash (stroke of a whip)= चाबुक का वार;
blithering (talking foolishly) = मूर्खता से बात करना;
despair (hopelessness) = निराशा;
conceal (hid) = छिपाना;
paraphernalia (equipment) = साजो-सामान;
rapped (spoke sharply and rapidly) = तीखे रूप से एवं तेज बोलना;
erupted (exploded) = फट पड़ा;
strident (ear shattering) = कर्ण-भेदी;
burst (exploded) = फटना;
gullible (credulous) = बहुत जल्दी विश्वास करने वाला;
groggy (shaky) = व्यथित।

[Page 86-87] :
Vanished (disappeared)= गायब होना;
impact (collision) = टक्कर;
bound (tied) = बाँध दिया;
gagged (prevented from speaking) = बोलने से रोकना;
impersonating (playing the part of)= अन्य की भूमिका निभाना;
delicious (tasty) = स्वादिष्ट;
stroll (walk leisurely) = आराम से चलना;
former (earlier) = पहले;
glories (splendour) = शान;
tricky (clever) = चालाक;
close call (nearly caught)= लगभग पकड़ा गया;
sore (painful) = कष्टदायक;
definitely (certainly) = निःसन्देह;
bothering (troubling) = तंग करना;
stud (doubled headed button)= दो तरफा बटन;
apart (separate) = अलग;
fiddling (making idle movement) = बेकार की हरकत करना;
gorgon (a fierce monster) = खूंखार राक्षस;
darted (walked or moved rapidly) = तेजी से चलना;
visibly (apparently) = स्पष्टतया।

[Page 88-89] :
Mask (hide/conceal) = छिपाना;
relaxed (in an easy mood)= आराम के मूड में;
ruefully (sorrowfully) = दुःख से;
muddle (confusion) = उथल-पुथल;
pint (about half a litre) = आधा लिटर;
grinned (laughed) = हैंसा;
feebly (weakly) = कमजोरी से।

[Page 90-91]:
Volume (bulk) = बड़ी मात्रा;
reluctant (unwilling) = अनिच्छा से;
awkwardly (clumsily)= बेढंगे तरीके से;
ponder (think deeply) = गहराई से सोचना।

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 7 Evans Tries an O-Level

Evans Tries an O-Level Translation in Hindi

Should criminals in prison be given the opportunity of learning and education? (क्या जेल में हत्यारों को कुछ सीखने व पढ़ाई करने के अवसर देने चाहिएँ ?) Dramatis Personae The Secretary of the Examinations Board The Governor of H.M. Prison, Oxford James Evans, a prisoner Mr Jackson, a prison officer Mr Stephens, a prison officer The Reverend S. McLeery, an invigilator Mr Carter, Detective Superintendent Mr Bell, Detective Chief Inspector
All precautions have been taken to see to it that the O-level German examination arranged in the prison for Evans does not provide him with any means of escape.

(नाटक के पात्र परीक्षा बोर्ड का सचिव एच०एम० जेल ऑक्सफोर्ड का गवर्नर जेम्स ईवान्स, एक कैदी श्रीमान जैक्सन, जेल का एक अधिकारी श्रीमान स्टीफन्स, जेल का एक अधिकारी रिवरेंड एस० मैकलीरी, एक पर्यवेक्षक श्रीमान कॉर्टर, जासूस अधीक्षक श्रीमान बेल, जासूसी प्रमुख इंस्पैक्टर जेल में ओ-स्तर परीक्षा के लिए सभी सावधानियाँ ली जा रही हैं ताकि ईवान्स नाम के जिस कैदी के लिए यह की जा रही हैं उसे भागने का अवसर न मिल पाए)

It was in early March when the Secretary of the Examinations Board received the call from Oxford Prison. “It’s a slightly unusual request, Governor, but I don’t see why we shouldn’t try to help. Just the one fellow, you say ?” “That’s it. Chap called Evans. Started night classes in O-level German last September. Says he’s dead keen to get some sort of academic qualification.”

(यह मार्च का आरम्भ था जब परीक्षा बोर्ड के सचिव को ऑक्सफोर्ड जेल से कॉल प्राप्त हुई। “यह थोड़ी-सी अजीब प्रार्थना है, गवर्नर, परंतु मैं सहायता न करने की कोशिश का कोई कारण नहीं देख रहा। बस एक आदमी, आप कहते हैं?” “वही है। ईवान्स नाम का व्यक्ति। पिछले सितंबर में ओ-स्तर जर्मन की कक्षाएँ शुरु की थीं। कहता है कि वह किसी प्रकार की शैक्षणिक योग्यता प्राप्त करने का इच्छुक है।”)

“Is he any good?” “He was the only one in the class, so you can say he’s had individual tuition all the time, really. Would have cost him a packet if he’d been outside.” “Well, let’s give him a chance, shall we ?”

(“क्या वह कुछ अच्छा है?” “वह कक्षा में एकमात्र था, अतः आप कह सकते हो कि उसे वास्तव में सदा व्यक्तिगत शिक्षण मिला है। अगर वह जेल में नहीं होता तो उसे यह बड़ा महँगा पड़ता।” “अच्छा, चलिए उसे एक मौका देते हैं, दें क्या ?”)

“That’s jolly kind of you. What exactly’s the procedure now ?” “Oh, don’t worry about that. I’ll be sending you all the forms and stuff. What’s his name, you say? Evans ?” “James Roderick Evans.” It sounded rather grand. “Just one thing, Governor. He’s not a violent sort of fellow, is he? I don’t want to know his criminal record or anything like that, but-”

(“यह आपकी बड़ी कृपा है। अब यह बताइए कि सही तरीका क्या है ?” “ओह, इसकी चिंता मत करो। मैं आपको सारे फार्म व अन्य सामान भेज रहा हूँ। उसका क्या नाम है, क्या बताया था आपने ? ईवान्स ?” “जेम्स रोडरिक ईवान्स।” यह कुछ शानदार मालूम पड़ता है। “सिर्फ एक बात, गवर्नर। यह कोई हिंसात्मक व्यक्ति तो नहीं है न, क्या है ? मैं उसके अपराधिक रिकॉर्ड के बारे में नहीं जानना चाहता, या उस तरह की कोई और बात, मगर-।”)।

“No. There’s no record of violence. Quite a pleasant sort of chap, they tell me. Bit of a card, really. One of the stars at the Christmas concert. Imitations, you know the sort of thing : Mike Yarwood stuff. No, he’s just a congenital kleptomaniac, that’s all.” The Governor was tempted to add something else, but he thought better of it. He’d look after that particular side of things himself.

(“नहीं। हिंसा का कोई रिकॉर्ड नहीं है। काफी खुशमिजाज़ लड़का है, ऐसा कहते हैं। कुछ मजाक किस्म का, वाकई। क्रिसमस सभा का एक खास आकर्षण। कुछ नकलचीसा, आप ऐसी बातों को जानते ही हैं। जैसे माइक यारवुड करता है। नहीं, उसे केवल चोरी करने की मानसिक बीमारी है।” गवर्नर कुछ और भी कहना चाहता था मगर उसने उसे कुछ न कहना बेहतर समझा। इस विशेष बात को वह अपने-आप ही देख लेगा।)

“Presumably,” said the Secretary, “you can arrange a room where —-” “No problem. He’s in a cell on his own. If you’ve no objections, he can sit the exam in there.” “That’s fine.” “And we could easily get one of the parsons from St. Mary Mags to invigilate, if that’s-”

(“मेरा विचार है,” सचिव बोला, “आप एक कमरे की व्यवस्था कर सकते हो जहाँ-” “कोई समस्या नहीं। उसके पास अलग से कोठरी है। अगर आपको कोई आपत्ति न हो, तो वह वहीं बैठकर परीक्षा दे सकता है।” “यह ठीक है।” “और हम सेन्ट मेरी मैग्स से किसी पादरी को आसानी से पर्यवेक्षण के लिए बुला सकते हैं, ऐसा है-“)

“Fine, yes. They seem to have a lot of parsons there, don’t they ?” The two men chuckled good-naturedly, and the Secretary had a final thought. “At least there’s one thing. You shouldn’t have much trouble keeping him incommunicado, should you ?”

(“बहुत अच्छा है। ऐसा लगता है कि वहाँ उनके पास काफी पादरी होते हैं, क्या उनके पास नहीं होते ?” दोनों आदमी मजाक में हँसे, और सचिव ने अन्तिम बात कही। “कम-से-कम एक चीज है। आपको उसे बिना बातचीत रखने में ज्यादा परेशानी नहीं रही होगी, क्या रही ?”)

The Governor chuckled politely once more, reiterated his thanks, and slowly cradled the phone. Evans! “Evans the Break” as the prison officers called him. Thrice he’d escaped from prison, and but for the recent wave of unrest in the maximum-security establishments up north, he wouldn’t now be gracing the Governor’s premises in Oxford; and the Governor was going to make absolutely certain that he wouldn’t be disgracing them. Not that Evans was a real burden: just a persistent, nagging presence. He’d be all right in Oxford, though : the Governor would see to that–would see to it personally. And besides, there was just a possibility that Evans was genuinely interested in O-level German. Just a slight possibility. Just a very slight possibility. AT 8.30 p.m. on Monday 7 June, Evans’s German teacher shook him by the hand in the heavily guarded Recreational Block, just across from D Wing.

(गवर्नर एक बार फिर हल्के से हँसा, अपने धन्यवाद को दोहराया, और धीरे से टेलीफोन को रख दिया। ईवान्स! “ईवान्स द ब्रेक” जैसे कि जेल अधिकारी उसे पुकारते थे। तीन बार वह जेल से भाग चुका था, और यदि उत्तर के अधिकतम सुरक्षा वाली जेलों में हाल ही में विद्रोह की लहर न होती तो वह गवर्नर के ऑक्सफोर्ड के प्रांगण की शोभा नहीं बढ़ा रहा होता; और गवर्नर यह निश्चित मानने जा रहा था कि वह उनको अपमानित नहीं करेगा।

ऐसा नहीं था कि ईवान्स वास्तव में एक बोझ थाः बस एक लगातार कष्ट देने वाली उपस्थिति था। यद्यपि वह ऑक्सफोर्ड में एकदम सही थाः गवर्नर उसका ख्याल रखता था वह इसका स्वयं व्यक्तिगत रूप से ख्याल रखता था। और इसके अलावा, बस एक संभावना थी कि ईवान्स वास्तव में ओ-स्तर जर्मन में रुचि रखता था। बस एक थोड़ी-सी संभावना। बस बहुत कम संभावना। 7 जून सोमवार को शाम के 8.30 पर, ईवान्स के जर्मन अध्यापक ने उससे भारी सुरक्षा वाले मनोरंजन ब्लॉक में हाथ मिलाया जो बस डी विंग के सामने थे।)

“Guten Glück, Herr Evans.” “Pardon ?” “I said, “Good luck”. Good luck for tomorrow.” “Oh. Thanks, er, I mean, er, Danke Schön.” “You haven’t a cat in hell’s chance of getting through, of course, but-” “I may surprise everybody,” said Evans.

(“श्रीमान ईवान्स, सफल हो।” “मैं समझा नहीं?” “मैंने कहा, “किस्मत आपका साथ दे”। कल के लिए शुभकामना।” “ओह। धन्यवाद श्रीमान।” “यद्यपि तुम्हारे सफल होने की कोई सम्भावना नहीं है, मगर…….” “शायद मैं सबको हैरान कर दूँ,” ईवान्स ने कहा।)

At 8.30 the following morning, Evans had a visitor. Two visitors, in fact. He tucked his grubby string vest into his equally grubby trousers, and stood up from his bunk, smiling cheerfully. “Morning”, Mr Jackson. This is indeed an honour.”

(अगली प्रातः 8.30 पर ईवान्स के पास कोई आगन्तुक आया। वास्तव में वे दो थे। उसने अपनी गंदी बनियान को अपनी उतनी ही गंदी पैन्ट में दबाया और प्रसन्नतापूर्ण मुस्कराता हुआ अपने बंक से खड़ा हो गया। “शुभ प्रातः”, श्रीमान जैक्सन। यह सचमुच सम्मान का विषय है।)

Jackson was the senior prison officer on D Wing, and he and Evans had already become warm enemies. At Jackson’s side stood Officer Stephens, a burly, surly-looking man, only recently recruited to the profession. Jackson nodded curtly. “And how’s our little Einstein this morning, then ?” “Wasn’t a mathematician, Mr Jackson ?” “I think ‘e was a Jew, Mr. Jackson.” Evans’s face was unshaven, and he wore a filthy-looking red-and-white bobble hat upon his head. “Give me a chance, Mr Jackson. I was just goin’ to shave when you bust in.”

(जैक्सन जेल के डी विंग का वरिष्ठ अधिकारी था, और वह एवं ईवान्स अब तक पक्के दुश्मन बन चुके थे। जैक्सन की बगल में स्टीफन्स नाम का अधिकारी था जो तगड़ा था एवं बदमिजाज लगता था और जो उस व्यवसाय में नया-नया आया था। जैक्सन ने रूखेपन से सिर हलाया। “और आज सुबह हमारे नन्हे आइन्सटीन का क्या हाल है, फिर ?” “मि० जैक्सन, क्या वह गणितज्ञ नहीं था ?” “मि० जैक्सन मेरा ख्याल है वह एक यहूदी था।”
ईवान्स की दाढ़ी नहीं बनी थी और वह अपने सिर पर एक गंदा-सा लाल और सफेद टोप पहने था। “श्रीमान जैक्सन, आप मुझे मौका दीजिए। मैं दाढ़ी बनाने ही जा रहा था कि आप अचानक अन्दर आ गए।”)

“Which reminds me.” Jackson turned his eyes on Stephens. “Make sure you take his razor out of the cell when he’s finished scraping that ugly mug of his Clear? One of these days he’ll do us all a favour and cut his bloody throat.” For a few seconds Evans looked thoughtfully at the man standing ramrod straight in front of him, a string of Second World War medals proudly paraded over his left breast pocket. “Mr Jackson? Was it you who took my nail scissors away?” Evans had always worried about his hands.

(“इससे मुझे याद आया।” जैक्सन ने अपनी आँखें स्टीफन्स की ओर घुमाईं। “जब वह अपने बदसूरत चेहरे को साफ कर ले तब याद करके इसके रेजर को यहाँ से बाहर ले जाना। ठीक है ? किसी-न-किसी दिन यह हम सब पर कृपा करेगा और अपने कमबख्त गले को काट लेगा।” कुछ सैकन्ड तक ईवान्स अपने सामने खड़े व्यक्ति को विचारपूर्ण मुद्रा से देखता रहा जिसकी छाती पर बायीं ओर जेब पर द्वितीय विश्वयुद्ध में प्राप्त मैडलों की कतार बड़े गर्व से लगी थी। “श्रीमान जैक्सन? क्या आप ही ने मेरे नाखून काटने की कैंची उठाई थी?” ईवान्स को सदा अपने हाथों की चिंता सताती थी।)

“And your nail file, too.” “Look!’ For a moment Evans’s eyes smoldered dangerously, but Jackson was ready for him. “Orders of the Governor, Evans.” He leaned forward and leered, his voice dropping to a harsh, contemptuous whisper. “You want to complain ?” Evans shrugged his shoulders lightly. The crisis was over.

(“और नाखून घिसने की रेती भी।” “देखिए!” क्षणभर के लिए ईवान्स की आँखें खतरनाक ढंग से लाल हो गईं, पर जैक्सन उसके लिए तैयार था। “ये गवर्नर का आदेश था, ईवान्स।” वह आगे झुका और बगलें झाँकने लगा, उसकी आवाज धीमी होकर कटु घृणात्मक बुड़बुड़ाहट में बदल गई। “तुम शिकायत करना चाहते हो ?” ईवान्स ने हल्के से कन्धे उचकाए। मुसीबत टल गई थी।)।

“You’ve got half an hour to smarten yourself up, Evans-and take that bloody hat off!” “Me’ at? Huh!” Evans put his right hand lovingly on top of the filthy woollen, and smiled sadly. “D’you know, Mr Jackson, it’s the only thing that’s ever brought me any sort o’ luck in life. Kind o’ lucky charm, if you know what I mean. And today I thought-well, with me exam and all that….” Buried somewhere in Jackson, was a tiny core of compassion; and Evans knew it.

(“ईवान्स, तुम्हारे पास तैयार होने के लिए आधा घंटा है, और इस कमबख्त टोप को उतार लो।” “मेरा टोप ? ओह!” ईवान्स ने अपना दाहिना हाथ प्यार से गन्दे ऊन (टोपी) के ऊपर फेरा, और उदासी से हँसा। “क्या आपको पता है कि श्रीमान जैक्सन, यही एक चीज है जो कभी मेरे जीवन में कोई किस्मत लाई है। एक तरह से सौभाग्य का ताबीज, अगर आप मेरी बात समझें तो। और आज मैंने सोचा-ये परीक्षा और सारी चीजें……” जैक्सन की सारी गाली-गलौच, धमकी और बेवकूफी के नीचे कहीं सहानुभूति का कोई छोटा-सा अंश था और ईवान्स इसे समझता था।)

“Just this once, then, Shirley Temple.” (If there was one thing that Jackson genuinely loathed about Evans it was his long, wavy hair.) “And get shaving!” At 8.45 the same morning the Reverend Stuart McLeery left his bachelor flat in Broad Street and stepped out briskly towards Carfax. The weatherman reported temperatures considerably below the normal for early June, and a long black overcoat and a shallow-crowned clerical hat pro from the steady drizzle which had set in half an hour earlier and which now spattered the thick lenses of his spectacles.

In his right hand, he was carrying a small brown suitcase, which contained all that he would need for his morning duties, including a sealed question paper envelope, a yellow invigilation form, a special “authentication” card from the Examinations Board, a paper knife, a Bible (he was to speak to the Women’s Guild that afternoon on the Book of Ruth), and a current copy of The Church Times.

(“चलो फिर सिर्फ इस एक बार, शर्ले टेम्पल।” (अगर ईवान्स के बारे में कोई एक बात थी जिससे जैक्सन सचमुच बड़ी घृणा करता था तो वे थे जैक्सन के लंबे लहराते बाल ।) “और दाढ़ी बना लो।” उसी प्रातः 8.45 पर रिवरेंड स्टुअर्ट मैकलीरी ने ब्रॉड स्ट्रीट के अपने छोटे फ्लैट को छोड़ा और जल्दी-जल्दी कारफैक्स की तरफ चल पड़ा। मौसम की भविष्यवाणी हुई थी कि जून के शुरुआत में तापमान सामान्य से कम रहेगा और एक लम्बा काला कोट और एक छोटे आकार का पादरियों वाला टोप धीमी बूंदा-बाँदी से बचाव करते थे, जो आधे घण्टे पहले शुरू हुई थी और जो अब उसके चश्मे के मोटे लैंसों पर पड़ रही थी।

अपने दाएँ हाथ में वह एक छोटा भूरा सूटकेस लिए हुए था, जो उन चीजों का भरा था जो उसकी सुबह ड्यूटी में काम आने वाली थीं, जिसमें शामिल थे एक सील किया हुआ प्रश्न-पत्र का लिफाफा, पर्यवेक्षण का एक पीला फॉर्म, एक विशेष ‘सत्यता’ का कार्ड जो परीक्षा बोर्ड से मिला था, एक कागज काटने का चाकू, एक बाईबल (उसे उस दोपहर को महिला सहकारी संस्था को रूथ की पुस्तक के बारे में संबोधित करना था), और ‘द चर्च टाइम्स’ का एक ताजा अंक।)

The two-hour examination was scheduled to start at 9.15 a.m. Evans was lathering his face vigorously when Stephens brought in two small square tables and set them opposite each other in the narrow space between the bunk on the one side and on the other a distempered stone wall. Next, Stephens brought in two hard chairs, the slightly less battered of which he placed in front of the table which stood nearer the cell door.

(दो घंटे की परीक्षा 9.15 पर शुरु होनी थी। ईवान्स जोर से अपने चेहरे पर झाग बना रहा था जब स्टीफन्स दो छोटी चौकोर टेबल लेकर आया और दोनों को एक-दूसरे के सामने सोने की पट्टी और डिस्टेम्पर की हुई दीवार के बीच की तंग जगह में रख दिया। फिर, स्टीफन्स दो सख्त कुर्सियाँ ले आया, जो थोड़ी कम टूटी हुई थीं जिनके सामने उसने एक टेबल रख दिया जो कोठरी के दरवाजे के पास थे।)

Jackson put in a brief final appearance. “Behave yourself, laddy!” Evans turned and nodded. “And these” (Jackson pointed to the pin-ups)”off!” Evans turned and nodded again. “I was goin’ to take “’em down anyway. A minister, isn’t he? The chap comin’ to sit in, I mean.” “And how did you know that ?” asked Jackson quietly. “Well, I had to sign some forms, didn’t I? And I couldn’t ‘help ”

(जैक्सन ने संक्षिप्त रूप से अन्तिम बार प्रवेश किया। “अपने आपको संभालो, नौजवान……….” ईवान्स मुड़ा और सिर हिलाया। “और ये”-(जैक्सन ने तस्वीरों की तरफ इशारा किया) “इन्हें उतारो।” ईवान्स मुड़ा और दुबारा सिर हिलाया। “मैं इनको उतारने ही जा रहा था। एक पादरी है, क्या वह नहीं है ?’ मेरा मतलब है जो यहाँ बैठने आ रहा है।” “और तुमने यह कैसे जाना ?” जैक्सन ने धीरे से पूछा। “ठीक है, मुझे कुछ फार्म साइन करने पड़ते थे, क्या नहीं करने पड़ते ? और मैं ऐसा किए बिना रह भी नहीं सकता।”)

Evans drew the razor carefully down his left cheek and left a neat swath in the white lather. “Can I ask you something, Mr. Jackson? Why did they ’ave to bug me in this cell ?” He nodded his head vaguely to a point above the door. “Not a very neat job,” conceded Jackson. “They’re not—they don’t honestly think I’m goin’ to try to—” “They’re taking no chances, Evans. Nobody in his senses would take any chance with you.” “Who’s goin’ to listen in ?” ।

(ईवान्स ने सावधानी से अपने बाएँ गाल पर ब्लेड चलाया और सफेद झाग के बीच एक साफ लकीर बना दी। “मि० जैक्सन, क्या मैं आपसे कुछ पूछ सकता हूँ ? मेरी इस कोठरी में उन्हें सुनने की गुप्त मशीन क्यों लगानी पड़ी?” उसने अस्पष्ट-सा अपना सिर उठाकर दरवाजे के ऊपर एक स्थान की ओर संकेत किया। “काम बहुत सफाई से नहीं हुआ,” जैक्सन ने स्वीकार किया। “ऐसा तो नहीं वे कहीं ऐसा तो नहीं सोच रहे कि मैं भागने की कोशिश करूँगा-” “वे कोई खतरा मोल नहीं ले रहे, ईवान्स। कोई भी आदमी जिसमें जरा भी अक्ल है तुम्हें लेकर कोई खतरा नहीं उठाएगा।” “अन्दर इस वार्ता को कौन सुनेगा ?”)

“I’ll tell you who’s going to listen in, laddy. It’s the Governor himself, see? He don’t trust you a bloody inch and nor do I. I’ll be watching you like a hawk, Evans, so keep your nose clean. Clear?” He walked towards the door. Evans nodded. He’d already thought of that, and Number Two Hand kerchief was lying ready on the bunk-a neatly folded square of off-white linen. “Just one more thing, Einstein.” “Ya? Wha’s ‘at?” “Good luck, old son.”

(“नौजवान, मैं बताता हूँ कि अन्दर कौन सुनेगा। देखो, इसे गवर्नर खुद सुनेगा ? वह तुम पर इंच भर भी भरोसा नहीं करता- . और न मैं। मैं एक बाज की तरह तुम पर नजर रखूगा, ईवान्स, इसलिए मुसीबत से बच कर रहना। समझे?” वह दरवाजे की ओर बढ़ा। ईवान्स ने सिर हिलाया। वह पहले ही इस बारे में सोच चुका था और दूसरा रूमाल तख्ने वाले बिस्तर पर तैयार रखा थाएक साफ-सुथरा तह लगा हल्के सफेद रंग का चौकोर सूती कपड़ा। “बस एक और बात, आइन्सटीन” “हाँ ? क्या है ?” “भाग्य तुम्हारा साथ दे, बेटे।”)

In the little lodge just inside the prison’s main gates, the Reverend S. McLeery signed his name neatly in the visitors’ book, and thence walked side by side with a silent prison officer across the exercise yard to D Wing, where he was greeted by Jackson. The Wing’s heavy outer door was unlocked, and locked behind them, the heavy inner door the same, and McLeery was handed into Stephens’s keeping.

“Get the razor ?” murmured Jackson. Stephens nodded. “Well, keep your eyes skinned. Clear ?” Stephens nodded again; and McLeery, his feet clanging up the iron stairs, followed his new guide, and finally stood before a cell door, where Stephens opened the peephole and looked through.
“That’s him, sir.”

(जेल के मुख्य द्वार के अंदर एक छोटे-से कमरे में रिवरेंड एस० मैकलीरी ने विजिटर्स की पुस्तक में अपना नाम साफ-साफ लिखा और वहाँ से जेलखाने के एक मौन अधिकारी के साथ चलता हुआ व्यायाम के मैदान को पार करके डी विंग में आ गया, जहाँ उसका स्वागत जैक्सन ने किया। विंग के भारी बाहरी दरवाजे का ताला खोला गया और उनके घुसने के बाद फिर अंदर से बंद कर दिया गया। भीतर का भारी दरवाजा भी वैसा ही था और मैकलीरी को स्टीफन्स की देख-रेख में छोड़ दिया गया।

“रेजर ले लिया ?” जैक्सन बुड़बुड़ाया। स्टीफन्स ने फिर से सिर हिलाया, और लोहे की सीढ़ी पर अपने जूतों की आवाज करता मैकलीरी अपने नए गाइड के पीछे-पीछे आ गया और अंततः एक कोठरी के दरवाजे पर आकर खड़ा हो गया जहाँ स्टीफन्स ने दरवाजे पर लगा छिद्र खोला और अंदर देखा। “यह वही है श्रीमान।”)

Evans, facing the door, sat quietly at the farther of the two tables, his whole attention riveted to a textbook of elementary German grammar. Stephens took the key from its ring, and the cell lock sprang back with a thudded, metallic twang. It was 9.10 a.m. when the Governor switched on the receiver. He had instructed Jackson to tell Evans of the temporary little precaution that was only fair. (As if Evans wouldn’t spot it!) But wasn’t it all a bit theatrical? Schoolboyish, almost? How on earth was Evans going to try anything on today? If he was so anxious to make another break, why in heaven’s name hadn’t he tried it from the Recreational Block? Much easier. But he hadn’t. And there he was now–sitting in a locked cell, all the prison officers on the alert, two more locked doors between his cell and the yard, and a yard with a wall as high as a haystack. Yes, Evans was as safe as houses.

(दरवाजे की ओर मुँह किए हुए ईवान्स दोनों में से दूर वाली मेज पर बैठा था, उसका पूरा ध्यान प्रारम्भिक जर्मन व्याकरण की एक पाठ्यपुस्तक पर केंद्रित था। स्टीफन्स ने गुच्छे से चाबी निकाली और कोठरी का ताला एक भारी धातु की खनखनाती आवाज के साथ खुल गया। प्रातः 9.10 पर गवर्नर ने अपना रिसीवर चालू कर दिया। उसने जैक्सन को हिदायत दी थी कि वह ईवान्स को तात्कालिक रूप से ली गई छोटी-सी सावधानी के बारे में बता दे। जो बिल्कुल सही था। (मानो ईवान्स इसे नहीं देखेगा!) पर यह सब कहीं कुछ नाटकीय तो न था ? लगभग स्कूली लड़कों जैसा ? भला आज ईवान्स कैसे कोई कोशिश कर सकता था ? अगर उसे फिर से भागने की जरूरत थी तो भला वह मनोरंजन ब्लॉक से भागने का प्रयत्न क्यों न करता ? कहीं अधिक आसान। पर उसने ऐसा नहीं कया। और अब वह वहाँ पर था-एक ताला लगी कोठरी में बैठा, जेल के सारे अधिकारी सतर्क, आँगन और उसकी कोठरी के बीच दो और ताला लगे दरवाजे, और ऐसा आँगन जिसकी दीवारें किसी भूसे के ढेर की तरह ऊँची। हाँ, ईवान्स उतना ही सुरक्षित था जितना घर….)

Anyway, it wouldn’t be any trouble at all to have the receiver turned on for the next couple of hours or so. It wasn’t as if there was going to be anything to listen to, was it? Amongst other things, an invigilator’s duty was to ensure that the strictest silence was observed. But…..but still that little nagging doubt! Might Evans try to take advantage of McLeery? Get him to smuggle in a chisel or two, or a rope ladder, or The Governor sat up sharply. It was all very well getting rid of any potential weapon that Evans could have used; but what about McLeery? What if, quite unwittingly, the innocent McLeery had brought in something himself? A jack-knife, perhaps? And what if Evans held him hostage with such a weapon? The Governor reached for the phone. It was 9.12 a.m.

(खैर, अगले दो घंटे के करीब रिसीवर खुला रखना कोई मुश्किल नहीं था। ऐसा नहीं था कि सुनने के लिए कुछ होगा, होगा क्या ? अन्य बातों के अतिरिक्त निरीक्षक का कर्तव्य है कि वह पूरी शांति बनाए रखे। पर…….पर फिर भी कुछ छोटा-सा परेशान करने वाला शक! हो सकता है ईवान्स, मैकलीरी से फायदा उठाने का प्रयत्न करें ? उसके द्वारा कोई छेनी, कोई रस्सी, सीढ़ी, अथवा कुछ अन्य वस्तु अंदर मंगवाए। गवर्नर चौकन्ना होकर बैठा था। किसी भी ताकतवर हथियार, जो ईवान्स प्रयोग कर सकता था, से अच्छी तरह छुटकारा पा लिया गया था; परन्तु मैकलीरी के बारे में क्या ? क्या होगा यदि, बिल्कुल भोलेपन में, भोला मैकलीरी खुद कुछ अपने साथ ले आया ? एक जैक-नाइफ, शायद ? और क्या होगा यदि ईवान्स इस प्रकार के हथियार से उसे बंधक बना लेगा ? गवर्नर फोन के लिए पहुँचा। सुबह के 9.12 बजे थे।)

The examinee and the invigilator had already been introduced by Stephens when Jackson came back and shouted to McLeery through the cell door. “Can you come outside a minute, sir? You too, Stephens.” Jackson quickly explained the Governor’s worries, and McLeery patiently held out his arms at shoulder level whilst Jackson lightly frisked his clothes. “Something hard here, sir.” “Ma reading glasses,” replied McLeery, looking down at the spectacle case.

Jackson quickly reassured him and bending down on the landing thumb-flicked the catches on the suitcase. He picked up each envelope in turn, carefully passed his palms along their surfaces-and seemed satisfied. He riffled cursorily through a few pages of Holy Writ, and vaguely shook The Church Times. All right, so far. But one of the objects in McLeery’s suitcase was puzzling him sorely.

(परीक्षार्थी और पर्यवेक्षक का परिचय पहले ही स्टीफन्स द्वारा करवा दिया गया था जब जैक्सन वापस आया और कोठरी के दरवाजे में से मैकलीरी पर चिल्लाया। “क्या आप एक मिनट के लिए बाहर आ सकते हैं, सर ? आप भी स्टीफन्स।” जैक्सन ने तुरन्त गवर्नर की चिंताओं की व्याख्या की और मैकलीरी ने धैर्य से कंधों पर से अपने हाथ आगे ऊपर किए जैक्सन धीरे-धीरे उसके कपड़ों की तलाशी ले रहा था। “यहाँ कुछ सख्त है, सर।” “मेरे पढ़ने के चश्मे हैं,” मैकलीरी ने उत्तर दिया, चश्मों के कवर की तरफ देखते हुए। जैक्सन ने जल्दी से उसको तसल्ली दी और नीचे झुकते हुए अंगूठों से दबाकर सूटकेस की चटखनी खोली। उसने प्रत्येक लिफाफे को उठाया बारी-बारी से, उनकी सतह पर सावधानी से अपनी हथेली फेरी और संतुष्ट प्रतीत हुआ। उसने जल्दी-जल्दी बाईबल के कुछ पेज पलटे और हल्के से ‘द चर्च टाइम्स’ को झड़काया। सब ठीक है, अब तक, परन्तु मैकलीरी के सूटकेस में एक चीज उसको बेहद परेशान कर रही थी।)

“Do you mind telling me why you’ve brought this, sir ?” He held up a smallish semi-inflated rubber ring, such as a young child with a waist of about twelve inches might have struggled into. “You thinking of going for a swim, sir ?” McLeery’s hitherto amiable demeanor was slightly ruffled by this tasteless little pleasantry, and he answered Jackson somewhat sourly. “If ye must know, I suffer from hemorrhoids, and when I’m sitting down for any length o’time” “Very sorry, sir. I didn’t mean to, er….” The embarrassment was still reddening Jackson’s cheeks when he found the paper knife at the bottom of the case. “I think I’d better keep this though, if you don’t mind, that is, sir.”

(“श्रीमान जी, क्या आप बताने का कष्ट करेंगे, कि आप यह क्यों लाए हैं ?” उसने एक छोटी-सी आधी फूली हुई रबड़ की रिंग उठाई, ऐसी जैसे कि एक 12 इंच की कमर वाला बच्चा इसमें से फंसकर निकला हो। “क्या आप तैरने जाने की सोच रहे हैं, श्रीमान ?” मैकलीरी का अब तक का मधुर स्वभाव इस छोटे-से मजाक से थोड़ा नाराज हो गया, और उसने जैक्सन को कुछ कड़वे शब्दों में उत्तर दिया। “यदि आपको अवश्य ही जानना है, मैं खूनी बवासीर से पीड़ित हूँ, और जब मैं कुछ समय बैठता हूँ तो…..” “माफी चाहता हूँ, श्रीमान, मेरा मतलब यह नहीं…….” परेशानी अब भी जैक्सन के गालों को लाल कर रही थी जब उसे सूटकेस की तली में कागज काटने का चाकू मिला। “मेरे विचार से मैं इसे रख लूँ तो ठीक होगा, यदि आपको कष्ट न हो, श्रीमान।”)

It was 9.18 a.m. before the Governor heard their voices again, and it was clear that the examination was going to be more than a little late in getting underway.
McLeery: “Ye’ve got a watch ?” Evans: “Yes, sir.”
McLeery: “I’ll be telling ye when to start, and again when you’ve five minutes: left. A’ right ?”
Silence. McLeery: “There’s plenty more on this writing paper should ye need it.”
Silence. McLeery: “Now. Write the name of the paper, 021-1, in the top left-hand corner.”
Silence. McLeery: “In the top right-hand corner write your index number-313. And in the box just below that, write your centre number-271. A’right ?”

(प्रातः 9.18 का समय हो गया था जब गवर्नर ने उनकी आवाजें फिर सुनी, और यह स्पष्ट था कि परीक्षा थोड़ी देरी से आरम्भ होने जा रही थी।
मैकलीरी : “क्या तुम्हारे पास एक घड़ी है ?” ईवान्स : “हाँ, श्रीमान।” मैकलीरी : “मैं आपको बताऊँगा कब शुरू करना है, और फिर जब पाँच मिनट शेष रह जाएंगी। ठीक है ?”
खामोशी। मैकलीरी : “लिखने का कागज़ बहुत है, अगर तुम्हें जरूरत हो।”
खामोशी। मैकलीरी : “अब, ऊपर से दाएँ तरफ पेपर का नाम 021-1 लिखो।”
खामोशी। मैकलीरी : “दायीं ओर सबसे ऊपर कोने में अपना इन्डैक्स नं लिखो-313. और ठीक उसके नीचे बने खाने में, अपना
सैंटर नं० लिखो-271. ठीक है ?”)

Silence. 9.20 a.m. McLeery : “I’m now going to ”
Evans : “E’s not goin’ to stay ‘ere, is ‘e?”
McLeery: “I don’t know about that.
I” Stephens: “Mr Jackson’s given me strict instructions to-”.
Evans: “How am I suppose to concentrate on my exam….with someone breathin’ down my neck? Christ! Sorry, sir, I didn’t mean-” The Governor reached for the phone. “Jackson? Ah, good. Get Stephens out of that cell, will you? I think we’re perhaps overdoing things.” “As you wish, sir.”
The Governor heard the exchanges in the cell, heard the door clang once more, and heard McLeery announce that the examination had begun at last. It was 9.25 a.m., and there was a great calm.

(खामोशी। प्रातः के 9.20. मैकलीरी : “अब मैं शुरू करने जा रहा हूँ-” ईवान्स : “क्या वह यहाँ से नहीं जा रहा, क्या नहीं वह?”
मैकलीरी : “इसके बारे में मैं कुछ नहीं जानता हूँ। मैं-”

स्टीफन्स : “श्रीमान जैक्सन ने मुझे सख्त हिदायतें दी हैं कि-” ईवान्स : “भला कैसे मैं अपनी परीक्षा पर ध्यान केंद्रित कर सकता हूँ….. जब लगातार कोई बन्दूक मेरी गर्दन पर सांस ले रही हो ? हे भगवान! क्षमा करें, श्रीमान, मेरा यह इरादा नहीं है-” गवर्नर ने फोन उठाया। “जैक्सन ? आह, ठीक है। स्टीफन्स को कोठरी से बाहर निकाल लो, कृपया ? मुझे लगता है कि हम कुछ अधिक चिन्ता कर रहे हैं।” “जैसी आपकी मर्जी, श्रीमान।” गवर्नर ने कोठरी में होने वाली बातचीत सुनी, दरवाजे के बन्द होने की आवाज़ एक बार फिर आई, और मैकलीरी को यह घोषणा करते सुना कि परीक्षा अंततः प्रारम्भ हो चुकी है। सुबह 9.25 का समय था और घना सन्नाटा था।)

At 9.40 a.m. the Examinations Board rang through, and the Assistant Secretary with special responsibility for modern languages asked to speak to the Governor. The examination had already started, no doubt? Ah, a quarter of an hour ago. Yes. Well, there was a correction slip which some fool had forgotten to place in the examination package. Very brief. “Could the Governor please….?” “Yes, of course. I’ll put you straight through to Mr Jackson in D Wing. Hold the line a minute.”

(सुबह 9.40 पर परीक्षा बोर्ड का टेलीफोन आया और वह सहायक-सचिव जिस पर आधुनिक भाषाओं का विशेष उत्तरदायित्व था गवर्नर से बात करना चाहता था। निःसंदेह परीक्षा पहले ही प्रारम्भ हो चुकी थी ? हाँ, पंद्रह मिनट हो चुके थे ? अच्छा। ठीक है, एक त्रुटि-निवारण कागज था जो कोई मूर्ख परीक्षा के लिफाफे में रखना भूल गया था। बड़ा छोटा-सा। “क्या गवर्नर साहिब कृपया….?”
“हाँ, अवश्य । मैं आपकी बात सीधे डी विंग में श्रीमान जैक्सन से करवाता हूँ। एक मिनट लाइन पर रहिए।”)

Was this the sort of thing the Governor had feared? Was the phone call a faķe? Some signal? Some secret message…..? But he could check on that immediately. He dialed the number of the Examinations Board but heard only the staccato bleeps of a line engaged. But then the line was engaged, wasn’t it? Yes. Not very intelligent, that….

(कहीं यह वैसी ही तो कोई चीज़ थी जिसका गवर्नर को भय था ? कहीं यह टेलीफोन नकली न हो ? कोई इशारा ? कोई गुप्त सन्देश….. ? पर वह तुरन्त ही जाँच सकता है। उसने परीक्षा बोर्ड का नम्बर मिलाया परन्तु केवल छोटी-सी बीप की आवाजें ही सुनीं जो बताती थीं कि लाइन खाली नहीं है। पर फिर लाइन तो व्यस्त थी, नहीं क्या ? यह कोई बहुत समझदारी की बात न थी….)

Two minutes later he heard some whispered communications in the cell, and then McLeery’s broad Scots voice :
“Will ye please stop writing a wee while, Mr Evans, and listen carefully. Candidates offering German, 021-1, should note the following correction. ‘On page three, line fifteen, the fourth word should read golden, not, goldene; and the whole phrase will therefore read zum goldenen Löwen, not zum Goldene Löwen’. I will repeat that……”

(दो मिनट बाद उसने कोठरी में कानाफूसी में बातचीत सुनी और तब मैकलीरी की तेज स्कॉट आवाज सुनी “श्री ईवान्स, क्या आप कुछ देर के लिए लिखना रोक देंगे और ध्यान से सुनेंगे। जर्मन 021-1 में परीक्षा देने वाले छात्र जरा इस शुद्धी को नोट करें। ‘पृष्ठ तीन पर पंद्रहवीं पंक्ति के चौथे शब्द goldene के स्थान पर goldenen पढ़ें और फिर सारा वाक्यांश इसलिए इस तरह पढ़ना चाहिए Zum goldenen Lowen, और Zum goldene Lowen नहीं।” मैं इसको दोहराऊंगा…………)

The Governor listened and smiled. He had taken German in the sixth form himself, and he remembered all about the agreements of adjectives. And so did McLeery, by the sound of things, for the minister’s pronunciation was most impressive. But what about Evans? He probably didn’t know what an adjective was.

The phone rang again. The Magistrates’ Court. They needed a prison van and a couple of prison officers. Remand case. And within two minutes the Governor was wondering whether that could be a hoax. He told himself not to be so silly. His imagination was beginning to run riot.
Evans!

(गवर्नर ने सुना और मुस्कुराया। वह खुद छठी कक्षा में जर्मन पढ़ चुका था, और उसे विशेषणों की सहमति के बारे में याद था। और ऐसे ही मैकलीरी, जैसा कि लगता था, क्योंकि मंत्री का उच्चारण बहुत प्रभावशाली था। परन्तु ईवान्स के बारे में क्या ? वह शायद नहीं जानता था कि विशेषण क्या था। फोन फिर बजा। मैजिस्ट्रेट का कोर्ट। उनको एक जेल की वैन और दो जेल अधिकारियों की जरूरत थी। एक रिमाण्ड केस था। और दो ही मिनट में गवर्नर हैरान था कि क्या यह एक मजाक हो सकता था। उसने अपने आपको इतना मूर्ख न बनने के लिए कहा। उसकी कल्पना पागल होती जा रही थी। ईवान्स!)

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 7 Evans Tries an O-Level

For the first quarter of an hour Stephens had dutifully peered through the peep-hole at intervals of one minute or so; and after that, every two minutes. At 10.45 a.m. everything was still all right as he looked through the peephole once more. It took four or five seconds–no more. What was the point? It was always more or less the same. Evans, his pen between his lips, sat staring straight in front of him towards the door, seeking-it seemed-some sorely needed inspiration from somewhere. And opposite him, McLeery, seated slightly askew from the table now: his face in semi-profile; his hair (as Stephens had noticed earlier) amateurishly clipped pretty closely to the scalp; his eyes behind the pebble lenses peering short-sightedly at The Church Times; his right index finger hooked beneath the narrow clerical collar; and the fingers of the left hand, the nails meticulously manicured, slowly stroking the short black beard.

(एक घण्टे के चौथाई समय तक स्टीफन्स ने कर्तव्यनिष्ठता से झांकने के सुराग से एक-मिनट या दो के अन्तराल पर झांक कर देखा और इसके बाद, प्रत्येक दो मिनट बाद । प्रातः 10.45 तक सब कुछ अब भी ठीक था जब उसने एक बार और अन्दर झांकने के सुराग से देखा। इसमें 4 या 5 सैकंड लगे थे अधिक नहीं। बात क्या थी ? यह हमेशा लगभग वैसा ही था। ईवान्स, अपना पेन अपने होठों में, लिए बैठा हुआ सीधा दरवाजे की तरफ देख रहा था, ढूंढता हुआ-ऐसा लगता था-कहीं-न-कहीं से वह प्रेरणा जिसकी उसको बेहद जरूरत थी। और उसके सामने मैकलीरी अब टेबल से थोड़ा तिरछा बैठा हुआः उसका चेहरा आधा दिखता हुआ; उसके बाल (जैसा कि स्टीफन्स पहले भी देख चुका था) नौसिखिए द्वारा बिल्कुल खोपड़ी के नजदीक से काटे हुए; उसकी आँखें मोटे लैंसों के पीछे से द चर्च टाइम्स पर ताकते हुए; उसके दाएँ हाथ की उँगली क्लैरिकल कॉलर के नीचे अटकी हुई; और बाएँ हाथ की उंगलियाँ, जिनके नाखून बड़ी सावधानी से घिसे हुए, धीरे-धीरे छोटी काली दाढ़ी को थपथपाते हुए।)

At 10.50 a.m. the receiver crackled to life and the Governor realised he’d almost forgotten Evans for a few minutes.
Evans: “Please, sir!” (A whisper) Evans: “Please, sir!” (Louder) Evans: “Would you mind if I put a blanket round me shoulders, sir? It’s a bit parky in ‘ere, isn’t it?” Silence. Evans: “There’s one on me bunk ‘ere, sir.” McLeery: “Be quick about it.”

Silence. (प्रातः 10.50 पर रिसीवर से फिर आवाज़ आई और गवर्नर ने महसूस किया कि वह कुछ मिनटों के लिए ईवान्स को लगभग भूल ही गया था।
ईवान्स : “कृपया, श्रीमान!” (फुसफुसाहट)
ईवान्स : “कृपया, श्रीमान ! (पहले से तेज आवाज)
ईवान्स : “क्या आप इस बात की अनुमति देते हैं कि मैं अपने कंधों पर कम्बल डाल लूँ, श्रीमान? यहाँ ठण्ड है, है न ?” खामोशी।
ईवान्स : “मेरे बिस्तर पर एक कम्बल है, श्रीमान।” मैकलीरी : “यह काम जल्दी कर डालो।” खामोशी।)

At 10.51 a.m. Stephens was more than a little surprised to see a grey regulation blanket draped round Evans’s shoulders, and he frowned slightly and looked at the examinee more closely. But Evans, the pen still between his teeth, was staring just as vacantly as before. Blankly beneath a blanket….. Should Stephens report the slight irregularity? Anything at all fishy, hadn’t Jackson said? He looked through the peephole once again, and even as he did so Evans pulled the dirty blanket more closely to himself.

Was he planning a sudden batman leap to suffocate McLeery in the blanket? Don’t be daft! There was never any sun on this side of the prison; no heating, either, during the summer months, and it could get quite chilly in some of the cells. Stephens decided to revert to his earlier every-minute observation.

At 11.20 a.m. the receiver once more crackled across the silence of the Governor’s office, and McLeery informed Evans that only five minutes remained. The examination was almost over now, but something still gnawed away quietly in the Governor’s mind. He reached for the phone once more.

(प्रातः 10.51 पर स्टीफन्स थोड़ा अधिक हैरान हुआ जब उसने ईवान्स के कंधों पर कैदियों का भूरा कम्बल लिपटा देखा और थोड़ा क्रोधित होकर उसने परीक्षार्थी की ओर अधिक गौर से देखा। पर ईवान्स तो अभी भी दाँतों में पेन दबाए पहले की तरह से खाली देखे जा रहा था। कम्बल के नीचे खाली नजरों से…. क्या स्टीफन्स इस छोटी-सी नियम-अवहेलना की खबर दे ? क्या जैक्सन ने नहीं कहा था, कोई भी बात, जो जरा भी संदेहास्पद हो ? उसने सुराग में से एक बार फिर देखा और जैसे ही उसने ऐसा किया ईवान्स ने गन्दे कम्बल को अपने ऊपर खींच लिया। क्या वह मैकलीरी को अचानक ही कम्बल में लपेटकर उसकी सांस को बन्द करने की योजना बना रहा था।

प्रातः 11.20 पर गवर्नर के दफ्तर की शांति को भंग करता हुआ रिसीवर फिर बोल उठा और मैकलीरी ने ईवान्स को सूचित किया कि केवल पाँच मिनट शेष हैं। परीक्षा अब लगभग समाप्त हो चुकी थी, पर कोई चीज अब भी चुपचाप गवर्नर के दिमाग को परेशान कर रही थी। वह एक बार फिर फोन की ओर बढ़ा।)

At 11.22 a.m. Jackson shouted along the corridor to Stephens. The Governor wanted to speak with him— “Hurry, man!” Stephens picked up the phone apprehensively and listened to the rapidly spoken orders. Stephens himself was to accompany McLeery to the main prison gates. Understood? Stephens personally was to make absolutely sure that the door was locked on Evans after McLeery had left the cell. Understood?
Understood. At 11.25 a.m. the Governor heard the final exchanges.

(प्रातः 11.22 जैक्सन बरामदे में स्टीफन्स का नाम पुकारता आया। गवर्नर उससे बात करना चाहते थे-“जल्दी करो, जवान ! डरते-डरते स्टीफन्स ने फोन उठाया और जल्दी-जल्दी बोली हुई आज्ञाओं को सुना। स्टीफन्स को स्वयं जेल के मुख्य द्वार तक मैकलीरी के साथ जाना था। समझे ? स्टीफन्स को स्वयं इस बात का पूरा विश्वास कर लेना था कि मैकलीरी के जाने के बाद ईवान्स का दरवाजा बन्द हो चुका है। समझे ? समझ गया। प्रातः 11.25 पर गवर्नर ने अन्तिम वार्तालाप सुना।)

McLeery: “Stop writing, please.”
Silence. McLeery: “Put your sheets in order and see they’re correctly numbered.”
Silence.
Scraping of chairs and tables. Evans : “Thank you very much, sir.” McLeery : “A’right, was it ?” Evans : “Not too bad.” McLeery : “Good….Mr Stephens!” (Very loud)
The Governor heard the door clang for the last time. The examination was over. (मैकलीरी : “कृपया, लिखना बन्द करें।”
खामोशी। मैकलीरी : “अपने कागज़ तरतीब से लगा लो और निश्चय कर लो कि उन पर सही नम्बर लगे हैं।” खामोशी। कुर्सियों और मेजों के खिसकने की आवाज़। ईवान्स : “श्रीमान, बहुत-बहुत धन्यवाद।” मैकलीरी : “ठीक हो गया, है न ?” ईवान्स : “बहुत बुरा नहीं।” मैकलीरी : “अच्छा….. श्रीमान स्टीफन्स।” (बहुत ऊँचा) गवर्नर ने दरवाजे की आवाज़ अन्तिम बार सुनी। परीक्षा समाप्त हो चुकी थी।)

“How did he get on, do you think ?” asked Stephens as he walked beside McLeery to the main gates. “Och. I canna think he’s distinguished himself, I’m afraid.” His Scots accent seemed broader than ever, and his long black overcoat, reaching almost to his knees, fostered the illusion that he had suddenly grown slimmer.

Stephens felt pleased that the Governor had asked him, and not Jackson, to see McLeery off the premises, and all in all the morning had gone pretty well. But something stopped him from making his way directly to the canteen for a belated cup of coffee. He wanted to take just one last look at Evans. It was like a programme he’d seen on TV about a woman who could never really convince herself that she’d locked the front door when she’d gone to bed: often she’d got up twelve, fifteen, sometimes twenty times to check the bolts.

(“आपके विचार से उसकी परीक्षा कैसी रही ?” मैकलीरी के साथ-साथ मुख्य द्वार की ओर जाते हुए स्टीफन्स ने पूछा। “ओह । मुझे नहीं लगता कि उसने अपना नाम रोशन किया है।” उसका स्काटिश उच्चारण पहले से कहीं अधिक स्पष्ट लगता था और उसका लम्बा काला ओवरकोट लगभग उसके घुटनों तक पहुँचता था जिससे यह भ्रम बढ़ता था कि वह अचानक ही पतला हो गया है। स्टीफन्स ने इस बात पर खुशी महसूस की कि गवर्नर ने जैक्सन की बजाय उसे मैकलीरी को प्रांगण से अलविदा करने को कहा, और पूरी सुबह सही गुजरी। परन्तु किसी चीज ने उसे सीधा कैंटीन में एक कप ताजगी भरी कॉफी के लिए जाने से रोका। वह बस एक अन्तिम नजर ईवान्स पर डालना चाहता था। यह उस कार्यक्रम की तरह था जो उसने TV पर देखा था-एक औरत के बारे में जो हमेशा वास्तव में पक्का समझती थी कि बिस्तर में जाने से पहले उसने सामने वाले दरवाजे को ताला नहीं लगाया था-प्रायः बारह, पंद्रह और कई बार बीस बार चिटखनी का निरीक्षण करने के लिए उठती थी।)

He re-entered D Wing, made his way along to Evans’s cell, and opened the peephole once more. Oh, no! CHRIST, NO! There, sprawled back in Evans’s chair was a man (for a semi-second Stephens thought it must be Evans), a grey regulation blanket slipping from his shoulders, the front of his closely cropped, irregularly tufted hair awash with fierce red blood which had dripped already through the small black beard, and was even now spreading horribly over the white clerical collar and down into the black clerical front.

Stephens shouted wildly for Jackson: and the words appeared to penetrate the curtain of blood that veiled McLeery’s ears, for the minister’s hand felt feebly for a handkerchief from his pocket, and held it to his bleeding head, the blood seeping slowly through the white linen. He gave a long low moan and tried to speak. But his voice trailed away, and by the time Jackson had arrived and despatched Stephens to ring the police and the ambulance, the handkerchief was a sticky, squelchy wodge of cloth.

(वह डी विंग में दुबारा घुसा, ईवान्स की कोठरी में गया, और एक बार फिर से’ झांकने वाली खिड़की को खोला। ओह नहीं। क्राईस्ट, नहीं! वहाँ ईवान्स की कुर्सी पर पीछे को लुढ़का हुआ एक आदमी था। (एक सैकंड के लिए स्टीफन्स ने सोचा कि वह ईवान्स था), एक काला कम्बल उसके कंधों से फिसलता हुआ, उसके सामने के बाल बिल्कुल छोटे, ऊबड़-खाबड़ गुच्छेदार बाल लाल खून से भीगे हुए जो पहले ही छोटी काली दाढ़ी पर आ गया था, और अब पादरी के सफेद कॉलर पर भी फैल रहा था और उसके नीचे काले कपड़ों में भी।

स्टीफन्स जैक्सन के लिए पागलों की तरह चिल्लायाः और उसके शब्द खून के पर्दे को चीरते हुए प्रतीत हुए जो मैकलीरी के कानों को ढक चुका था, पादरी के हाथ ने कमजोरी से उसकी जेब से रूमाल को टटोला, और उसको खून निकलते हुए सिर पर रखा, खून धीरे-धीरे सफेद कपड़े से निकलने लगा। उसने एक लम्बी और धीमी कराहट निकाली, और बोलने की कोशिश की, परन्तु उसकी आवाज लुप्त हो गई और जैक्सन ने वहाँ आने और उसके द्वारा स्टीफन्स को और एम्बुलेंस को बुलाने के लिए फोन करने भेजने तक पूरा रूमाल चिपचिपा, पचर-पचर करता हुआ एक कपड़े का टुकड़ा बन चुका था।)

McCleery slowly raised himself, his face twisted tightly with pain. “Dinna worry about the ambulance, man! I’m a’ right…. I’m a’ right…..Get the police! I know….. I know where…..he….” He closed his eyes and another drip of blood splashed like a huge red raindrop on the wooden floor. His hand felt along the table, found the German question paper, and grasped it tightly in his bloodstained hand. “Get the Governor! I know….I know where Evans….”

(मैकलीरी ने धीरे-धीरे अपने-आपको खड़ा किया, उसका चेहरा दर्द से सख्ती से सिकुड़ गया। “एम्बुलेंस के बारे में चिन्ता मत करो। मैं ठीक हूँ……मैं ठीक हूँ……पुलिस को बुलाओ। मैं जानता हूँ……मैं जानता हूँ वह…..कहाँ….।” उसने अपनी आँखें बन्द कर लीं और खून की एक बड़ी बूँद लकड़ी के फर्श पर आकर गिरी। उसके हाथ ने टेबल को टटोला, जर्मन प्रश्न-पत्र को ढूंढा और इसको अपने खून से भरे हाथ में कसकर दबोच लिया। “गवर्नर को बुलाओ! मैं जानता हूँ……मैं जानता हूँ ईवान्स कहाँ है ?”)

Almost immediately sirens were sounding, prison officers bar asked orders, puzzled prisoners pushed their way along the corridors, doors were banged and bolted, and phones were ringing everywhere. And within a minute McLeery, with Jackson and Stephens supporting him on either side, his face now streaked and caked with drying blood, was greeted in the prison yard by the Governor, perplexed and grim.

“We must get you to hospital immediately. I just don’t-” “I’ve called the police ?” “Yes, yes. They’re on their way. But-” “I’m a’right. I’m a’ right. Look! Look here! ” Awkwardly he opened the German question paper and thrust it before the Governor’s face. “It’s there! D’ye, see what I mean ?”
The Governor looked down and realised what McLeery was trying to tell him. A photocopied sheet had been carefully and cleverly superimposed over the last (originally blank) page of the question paper.

(लगभग उसी समय सायरन बज रहे थे, और अधिकारी आदेश दे रहे थे, हैरान कैदी बरामदे की तरफ बढ़ रहे थे। दरवाजे बज रहे थे और चिटकनियाँ चढ़ाई जा रही थीं, और सभी जगह फोनों की घंटियाँ बज रही थीं। और एक मिनट के अन्दर-अन्दर मैकलीरी उसको संभाले हुए जैक्सन और स्टीफन्स, अब उसके चेहरे पर जमे हुए खून से लाइनें बन गईं थीं, गवर्नर ने उसका अभिवादन किया जो विचलित और गम्भीर था। “हमें तुम्हें फौरन अस्पताल ले जाना होगा। मैं बिल्कुल नहीं-” “आपने पुलिस बुलाई ?” “हाँ, हाँ। वे चल चुके हैं। पर-” “मैं ठीक हूँ। मैं ठीक हूँ। देखो! यहाँ देखो! बेढंगे तरीके से उसने जर्मन प्रश्न-पत्र खोला और उसे गवर्नर के चेहरे के सामने कर दिया। “यह देखो! समझे मेरा क्या मतलब है ?” गवर्नर ने देखा और समझ गया कि मैकलीरी उसे क्या बताना चाह रहा था। एक फोटोकापी बड़ी सावधानी और चतुराई से प्रश्न-पत्र के अन्तिम (मूलरूप से खाली) पेज पर चिपकाई हुई थी।)

“Ye see what they’ve done, Governor. Ye see…” His voice trailed off again, as the Governor, dredging the layers of long neglected learning, willed himself to translate the German text before him :

(“देखो, गवर्नर, उन लोगों ने क्या किया है। आप देखिए…..” उसकी आवाज फिर धीमी पड़ गई, जबकि गवर्नर, बहुत दिनों से भूले ज्ञान की परतों से धूल हटाकर अपने सामने रखे जर्मन भाषा के लेख का अनुवाद करने का प्रयत्न कर रहा था 🙂

Sie sollen dem schon verabredeten Plan genau folgen. Der wichtige Zeitpunkt ist drei Minuten vor Ende des Examens…. “You must follow the plan already somethinged. The vital point in time is three minutes before the end of the examination but something something something something….Don’t hit him too hard remember, he’s a minister! And don’t overdo the Scots accent when…” A fast-approaching siren wailed to its crescendo, the great doors of the prison yard were pushed back, and a white police car squealed to a jerky halt beside them.

…..“तुम्हें योजना के अनुसार चलना होगा। समय के बारे में महत्त्वपूर्ण बात है, परीक्षा समाप्त होने के तीन मिनट पहले पर कुछ कुछ कुछ कुछ….उसे अधिक जोर से मत मारना याद रखो, वह एक पादरी है। और न ज्यादा स्कॉटिश उच्चारण करना जब….” … तेजी से आती हुई साइरन की आवाज अपने पूरे जोर से चीखी। जेल के बड़े दरवाजे अन्दर की ओर खुल गए, और उनकी बगल में पुलिस की एक सफेद कार तेज आवाज के साथ झटका मारकर रुकी।)

Detective Superintendent Carter swung himself out of the passenger seat and saluted the Governor. “What the hell’s happening, sir ?” And, turning to McLeery: “Christ! Who’s hit him ?” But McLeery cut across whatever explanation the Governor might have given. “Elsfield Way, officer! I know where Evans….” He was breathing heavily and leaned for support against the side of the car, where the imprint of his hand was left in tarnished crimson.

(गुप्तचर विभाग का अध्यक्ष कार्टन से पैसेंजर सीट से नीचे उतरा और गवर्नर का अभिवादन किया। “यहाँ पर यह क्या हो रहा है, श्रीमान ?” और मैकलीरी की तरफ मुड़ते हुए-“हे भगवान! इसे किसने मारा ?”
पर मैकलीरी ने गवर्नर के किसी भी संभावित उत्तर को काट दिया। “ऑफिसर, ऐल्सफील्ड मार्ग! मुझे पता है ईवान्स कहाँ…” वह हाँफ रहा था और सहारे के लिए कार की साइड पर झुका जहाँ उसके हाथ के लाल धब्बों का निशान बन गया।)

In bewilderment, Carter looked to the Governor for guidance. “What—?” “Take him with you, if you think he’ll be all right. He’s the only one who seems to know what’s happening.” Carter opened the back door and helped McLeery inside; and within a few seconds, the car leaped away in a spurt of gravel.

(भ्रम की स्थिति में कॉर्टर ने मार्गदर्शन के लिए गवर्नर की ओर देखा। “क्या ?” “अगर आपको लगता है कि इसकी हालत ठीक रहेगी, तो आप इसे अपने साथ ले जाएँ। यह अकेला व्यक्ति है जिसे लगता है कि वह जानता है कि क्या हो रहा है।” कॉर्टर ने पीछे का दरवाजा खोला और सहारा देकर मैकलीरी को अन्दर किया और कुछ पलों में ही कार कंकड़ों को उछालकर तेजी से निकल गई।)

“Elsfield Way”, McLeery had said; and there it was staring up at the Governor from the last few lines of the German text: “From Elsfield Way drive to the Headington roundabout, where….” Yes, of course. The Examinations Board was in Elsfield Way, and someone from the Board must have been involved in the escape plan from the very beginning: the question paper itself, the correction slip…

The Governor turned to Jackson and Stephens. “I don’t need to tell you what’s happened, do I ?” His voice sounded almost calm in its scathing contempt. “And which one of you two morons was it who took Evans for a nice little walk to the main gates and waved him bye-bye ?” “It was me, sir,” stammered Stephens. “Just like you told me, sir. I could have sworn-” “What? Just like I told you, you say? What the hell_?” “When you rang, sir, and told me to-” “When was that ?” The Governor’s voice was a whiplash now. “You know, sir. About twenty past eleven just before-” “You blithering idiot, man! It wasn’t me who rang you. Don’t you realise-” But what was the use? He had used the telephone at that time, but only to try (unsuccessfully, once more) to get through to the Examinations Board.

(“ऐल्सफील्ड मार्ग,” मैकलीरी ने कहा था; और यही चीज जर्मनी में लिखे हुए कागज अन्तिम कुछ पंक्तियों से गवर्नर को घूर रही थी-“ऐल्सफील्ड मार्ग से चक्कर काटकर हैडिंग्टन की तरफ जाओ….” हाँ, वाकई। परीक्षा-बोर्ड का कार्यालय ऐल्सफील्ड मार्ग पर था और बोर्ड का कोई-न-कोई व्यक्ति प्रारम्भ से ही ईवान्स के भागने के काम में शामिल होगा-प्रश्न-पत्र, स्वयं, भूल-सुधार की पर्ची….। गवर्नर जैक्सन और स्टीफन्स की तरफ मुड़ा। “मुझे तुम्हें बताने की जरूरत नहीं है कि क्या हो चुका है, क्या मुझे है ? तीव्र नफरत से उसकी आवाज लगभग शान्त लगी। “और तुम दोनों में से वह मूर्ख कौन था जो ईवान्स को गेट तक एक छोटी-सी सैर कराता हुआ ले गया और उसे अलविदा कहा ?” “यह मैं था, श्रीमान,” स्टीफन्स हकलाया। “जैसा कि आपने मुझे बताया था, श्रीमान। मैं कसम खा सकता था-” “क्या ? जैसे कि मैंने तुम्हें बताया था, तुम कहते हो ? क्या बेवकूफी है-?” “जब आपने फोन किया, सर, और मुझे बताया कि-” “यह कब हुआ ?” गवर्नर की आवाज अब तीखी हो गई थी । “आप जानते हैं, सर। बस 11 बजकर 20 मिनट पर-” “तुम पूरे मूर्ख आदमी हो। यह मैं नहीं था जिसने तुम्हें फोन किया। क्या तुम्हें एहसास नहीं-” परन्तु क्या फायदा था ? उसने उस समय टेलीफोन का प्रयोग किया था, परन्तु केवल कोशिश की थी (असफल, एक बार फिर) परीक्षा-बोर्ड से सम्पर्क साधने की।)

He shook his head in growing despair and turned on the senior prison officer. “As for you, Jackson! How long have you been pretending you’ve got a brain, eh ? Well, I’ll tell you something, Jackson. Your skull’s empty. Absolutely empty!” It was Jackson who had spent two hours in Evans’s cell the previous evening; and it was Jackson who had confidently reported that there was nothing hidden away there–nothing at all. And yet Evans had somehow managed to conceal not only a false beard, a pair of spectacles, a dog collar, and all the rest of his clerical paraphernalia, but also some sort of weapon with which he’d given McLeery such a terrible blow across the head. Aarrgh!

(बढ़ती हुई निराशा के साथ उसने अपना सिर हिलाया और उच्च जेल अधिकारी की तरफ मुड़ा। “अब तुम्हारी बात जैक्सन! कब से तुम यह झूठा दावा कर रहे हो कि तुम्हारे पास दिमाग है, एह ? चलो मैं तुम्हें एक बात बताता हूँ, जैक्सन । तुम्हारी खोपड़ी खाली है। पूरी तरह खाली है!” वह जैक्सन ही था जिसने पिछली शाम ईवान्स की कोठरी में दो घंटे बिताए और वह जैक्सन था जिसने पूरे विश्वास से सूचना दी थी कि वहाँ कोई चीज छिपी नहीं थी कुछ भी नहीं। और फिर भी ईवान्स ने किसी तरह से न केवल नकली दाढ़ी, एक जोड़ी चश्मा, एक कॉलर और बाकी सारा अपना पादरी से सम्बन्धित साजो-सामान छिपाने में सफल हो गया था, बल्कि कुछ अस्त्र भी जिसकी सहायता से उसने मैकलीरी पर ऐसी भयानक चोट उसके सिर पर की थी। अरे!)

A prison van backed alongside, but the Governor made no immediate move. He looked down again at the last line of the German: “….to the Headington roundabout, where you go straight over and make your way to….to Neugraben.” “Neugraben”? Where on earth-? “New” something. “Newgrave”? Never heard of it: There was a “Wargrave”, somewhere near Reading, but…No, it was probably a code word, or-And then it hit him. Newbury! God, yes! Newbury was a pretty big sort of place but- He rapped out his orders to the driver. “St Aldates Police Station, and step on it! Take Jackson and Stephens here, and when you get there ask for Bell. Chief Inspector Bell. Got that ?” He leaped the stairs to his office three at a time, got Bell on the phone immediately, and put the facts before him. “We’ll get him, sir,” said Bell. “We’ll get him, with a bit o’luck.”

(“जेल की एक गाड़ी बगल में आकर रुकी, पर गवर्नर ने तुरन्त कोई हरकत नहीं की। उसने फिर से जर्मनी में लिखी अन्तिम पंक्ति को देखा “….हेडिंग्टन के आस-पास जहाँ से तुम सीधे चले जाना और अपना रास्ता बनाना….न्यूओबन।” “न्यूओबन” ? यह कौन-सी जगह….? “न्यू” कोई चीज। “न्यूग्रेव” ? यह कभी सुना नहीं एक “वारग्रेव” थी, कहीं रीडिंग के पास, पर… नहीं यह शायद कोई गुप्त संकेत था, या और तब उसे समझ आया। न्यूबरी! हे भगवान, हाँ! न्यूबरी थी तो काफी सुन्दर बड़ी जगह पर… . उसने ड्राइवर को ऊँची आवाज में और जल्दी-जल्दी हुक्म दिया। सेंट एलडेट्स थाना, और जल्दी करो! जैक्सन और स्टीफन्स को यहाँ लेकर आओ, और जब तुम वहाँ पहुँच जाओ तो बेल को बुलाना। चीफ इंस्पैक्टर बेल । समझे ?” अपने दफ्तर की सीढ़ियों पर एक बार में तीन सीढ़ियाँ फाँदता हुआ वह आया, फौरन बेल को फोन मिलाया और उसके सामने सारे तथ्य रखे। “हम उसे पकड़ लेंगे, श्रीमान”, बेल बोला। “अगर किस्मत ने जरा-सा भी साथ दिया तो हम उसे पकड़ लेंगे।”)

The Governor sat back and lit a cigarette. Ye gods! What a beautifully laid plan it had all been! What a clever fellow Evans was! Careless leaving that question paper behind; but then, they all made their mistakes somewhere along the line. Well, almost all of them. And that’s why very very shortly Mr clever-clever Evans would be back inside doing his once more.

The phone on his desk erupted in a strident burst, and Superintendent Carter informed him that McLeery had spotted Evans driving off along Elsfield Way; they’d got the number of the car all right and had given chase immediately, but had lost him at the Headington roundabout; he must have doubled back into the city.

(गवर्नर आराम से बैठ गया, और एक सिगरेट जला ली। हे भगवान! यह कितनी सुन्दर ढंग से बनाई गई योजना थी! ईवान्स कितना चालाक था! लापरवाही करके वह प्रश्न-पत्र पीछे छोड़ गया; परन्तु तब, वे सभी कोई-न-कोई गलती करते ही हैं। ठीक है, लगभग वे सभी। और यही कारण है कि बहुत ही जल्दी श्रीमान चालाक, ईवान्स जेल के अन्दर होगा। उसके डेस्क पर रखा फोन तेज आवाज में फट पड़ा, और अधीक्षक कॉर्टर ने उसको सूचना दी कि मैकलीरी ने ईवान्स को ऐल्सफील्ड वे की तरफ गाड़ी चलाते हुए देखा था; उन्होंने कार का नम्बर अच्छी तरह से प्राप्त किया और तुरन्त उसका पीछा किया, परन्तु उसे हेडिंग्टन के आस-पास कहीं खो दिया था; वह अवश्य ही शहर में दोबारा आ गया है।)

“No,” said the Governor quietly. “No, he’s on his way to Newbury.” He explained his reasons for believing so, and left it at that. It was a police job now-not his. He was just another good-for-a-giggle, gullible governor, that was all. “By the way, Carter. I hope you managed to get McLeery to the hospital all right ?” “Yes. He’s in the Radcliffe now. Really groggy, he was, when we got to the Examination offices, and they rang for the ambulance from there.”

The Governor rang the Radcliffe a few minutes later and asked for the accident department. “McLeery, you say ?” “Yes. He’s a person.” “I don’t think there’s anyone.” “Yes, there is. You’ll find one of your ambulances picked him up from Elsfield Way about-” “Oh, that. Yes, we sent an ambulance all right, but when we got there, the fellow had gone. No one seemed to know where he was. Just vanished! Not a sign-“. But the Governor was no longer listening, and the truth seemed to hit him with an almost physical impact somewhere in the back of his neck.

(“नहीं,” गवर्नर ने धीरे से कहा। “नहीं, वह न्यूबरी के रास्ते पर है।” उसने ऐसा विश्वास करने के अपने कारण बताए, और यह बात यहीं छोड़ दी। अब यह पुलिस का काम था-उसका नहीं। वह भी केवल एक हँसी का पात्र बनने वाला, जल्दी विश्वास करने वाला गवर्नर था, बस यही था। “हाँ, एक बात है, कॉर्टर। मुझे आशा है कि तुम मैकलीरी को सही सलामत अस्पताल ले गए होंगे ?” “हाँ। वह अब रैडक्लीफ में है। जब हम जाँच कार्यालय पहुंचे तो वह सचमुच कमजोर था और उन्होंने वहाँ से एम्बुलैंस बुलाई।” गवर्नर ने कुछ मिनट बाद रैडक्लीफ में फोन किया और दुर्घटना विभाग के बारे में पूछा।

“मैकलीरी, आप कहते हैं ?” “ हाँ। वह एक पादरी है।” “मेरे विचार से इस नाम का कोई नहीं है-” “हाँ, वहाँ है। आपको पता लगेगा कि आपकी एक एम्बुलैंस ने उसे ऐल्सफील्ड वे से लिया था-” “ओह, वह। हाँ, हमने वहाँ एम्बुलैंस भेजी थी, परन्तु जब हम वहाँ पहुँचे, तो वह आदमी जा चुका था। किसी को भी पता नहीं चल पा रहा था कि वह कहाँ गया। बस लुप्त हो गया था! एक भी चिह्न नहीं था परन्तु गवर्नर अब सुन नहीं रहा था, और लगता था कि सच्चाई ने लगभग शारीरिक प्रभाव डालते हुए उसकी गर्दन पर शारीरिक रूप से चोट की।)

A quarter of an hour later they found the Reverend S. McLeery, securely bound and gagged, in his study in Broad Street. He’d been there, he said, since 8.15 a.m., when two men had called and… Enquiries in Newbury throughout the afternoon produced nothing. Nothing at all. And by tea time everyone in the prison knew what had happened. It had not been Evans, impersonating McLeery, who had walked out; it had been Evans, impersonating McLeery, who had stayed in.

(कोई पन्द्रह मिनट बाद उन्होंने रिवरेंड एस० मैकलीरी को अच्छी तरह से बंधा हुआ और मुंह बन्द किया हुआ ब्राड स्ट्रीट के अपने अध्ययन कक्ष में पाया। उसने बताया कि वह वहाँ पर सुबह 8.15 से पड़ा हुआ है जब दो व्यक्ति आए थे और…. सारे न्यूबरी में उस दोपहर बाद होने वाली पूछताछ से कुछ भी पता नहीं लगा। बिल्कुल भी नहीं। और चाय के समय तक जेल के अन्दर हर व्यक्ति को पता चल चुका था कि हुआ क्या था। ईवान्स मैकलीरी का भेष बनाकर भागा नहीं था; बल्कि ईवान्स मैकलीरी का भेष बनाकर अन्दर रह गया था।)

The fish and chips were delicious, and after a gentle stroll round the centre of Chipping Norton, Evans decided to return to the hotel and have an early night. A smart new hat concealed the wreckage of his closely cropped hair, and he kept it on as he walked up to the reception desk of the Golden Lion. It would take a good while for his hair to regain its former glories-but what the hell did that matter. He was out again, wasn’t he? A bit of bad luck, that, when Jackson had pinched his scissors, for it had meant a long and tricky operation with his only razor blade the previous night. Ah! But he’d had his good luck, too. Just think! If Jackson had made him take his bobble hat off! Phew! That really had been a close call. Still, old Jackson wasn’t such a bad fellow…

(मछली और चिप्स स्वादिष्ट थे और चिपिंग नार्टन चौराहे तक आराम से सैर करने के बाद, ईवान्स ने होटल लौटकर जल्दी सोने का निश्चय किया। उसके छोटे कटे बालों को एक शानदार नया हैट छिपाए हुए था, और गोल्डन लॉयन (होटल) के रिसेप्शन पर पहुँचने तक उसने यह हैट पहने रखा। अपनी पहले वाली शान प्राप्त करने में उसके बालों को समय लगेगा-पर इससे आखिर क्या अन्तर पड़ता था। वह फिर से आज़ाद था, नहीं था क्या ? थोड़ी-सी बदकिस्मती तब लगी थी जब जैक्सन ने कैंची चुरा ली थी, क्योंकि इसके कारण बड़ा लम्बा और चालाकी भरा ऑपरेशन उस एकमात्र रेजर से उसे पिछली रात अपने बालों का करना पड़ा था। आह! पर तकदीर ने उसका साथ भी दिया था। जरा सोचो! अगर जैक्सन ने उससे अपना छोटा ऊनी हैट उतारने को कहा होता तो! ओह! वह तो सचमुच बाल-बाल बच गया। फिर भी बूढ़ा जैक्सन इतना बुरा आदमी नहीं था….)

One of the worst things-funny, really!–had been the beard. He’d always been allergic to sticking plaster, and even now his chin was irritatingly sore and red. The receptionist wasn’t the same girl who’d booked him in, but the change was definitely for the better. As he collected his key, he gave her his best smile, told her he wouldn’t be bothering with breakfast, ordered the Daily Express, and asked for an early-morning call at 6.45 a.m. Tomorrow was going to be another busy day.’

(एक बहुत खराब बात, जो वास्तव में मजेदार थी वह दाढ़ी के बारे में है। उसे सदा प्लास्टर चिपकाने से एलर्जी हो जाती थी और इस समय भी उसकी ठोढ़ी में बड़ी दर्द थी और वह लाल थी।) रिसेप्शनिस्ट वह लड़की नहीं थी जिसने उसका कमरा बुक किया था, परन्तु बदलाव निश्चय ही अच्छे के लिए था। जब उसने चाबी ली, उसने उसे अपनी सबसे अच्छी मुस्कराहट दी, उसको बताया कि वह नाश्ते के लिए परेशान नहीं करेगा,डेली एक्सप्रेस का आदेश दिया और सुबह जल्दी 6.45 पर कॉल करने के लिए कहा। कल का दिन एक अन्य व्यस्त दिन होगा।)

He whistled softly to himself as he walked up the broad stairs….He’d sort of liked the idea of being dressed up as a minister dog collar and everything. Yes, it had been a jolly good idea for “McLeery’ to wear two black fronts, two collars. But that top collar! Phew! It had kept on slipping off the back stud; and there’d been that one panicky moment when “McLeery’ had only just got his hand up to his neck in time to stop the collars springing apart before Stephens…Ah! They’d got that little problem worked out all right, though: a pen stuck in the mouth whenever the evil eye had appeared at the peephole.

Easy! But all that fiddling about under the blanket with the black front and the stud at the back of the collar that had been far more difficult than they’d ever bargained for…Everything else had gone beautifully smoothly, though. In the car he’d found everything they’d promised him: soap and water, clothes, the map-yes, the map, of course. The Ordnance Survey Map of Oxfordshire…. He’d got some good friends; some very clever friends. Christ, ah!

(जब वह चौड़ी सीढ़ियों पर चढ़ रहा था तो उसने अपने लिए हल्की-सी सीटी बजाई…….. । एक तरह से पादरी का भेष बनाना उसे अच्छा लगा था, डॉग कालर और हर चीज। हाँ, यह मजेदार विचार था कि मैकलीरी दो अग्र वस्त्र, गाउन पहनकर आया, दो कॉलर। पर वह ऊपर वाला कॉलर! ओह! यह तो बार-बार बटन से अलग हो जाता था और एक क्षण तो बड़ा भयावह हो गया था जब मैकलीरी ने बिल्कुल आखिरी वक्त पर अपना हाथ अपने गले पर लगाया था जिससे कि वह स्टीफन्स के सामने दोनों कॉलरों को अलग होने से रोक ले….! आह! वह छोटी समस्या भी उन्होंने ठीक से सुलझा ली, जब भी निरीक्षण छिद्र पर गन्दी आँख दिखाई दे मुँह में पेन लगा दिया जाए। आसान! पर वह सारा खिलवाड़, कम्बल के नीचे काले कपड़े को पहनना और कॉलर के पीछे स्टड फिट करना जितना उन्होंने सोचा था, यह सब उससे कहीं कठिन लगा था। यद्यपि बाकी सारी बातें बड़ी सफाई से निपट गई थीं। कार में उसे सारी चीजें मिल गई थीं जिनका उससे वायदा किया गया था-साबुन और पानी, कपड़े, नक्शा-हाँ, सचमुच नक्शा। ऑक्सफोर्ड शायर का आर्डिनेंस सर्वे मैप…। उसके पास कुछ अच्छे मित्र थे, कुछ बड़े चतुर मित्र। क्राइस्ट, ओह!)

He unlocked his bedroom door and closed it quietly behind him—and then stood frozen to the spot, like a man who has just caught a glimpse of the Gorgon. Sitting on the narrow bed was the very last man in the world that Evans had expected or wanted to see. “It’s not worth trying anything,” said the Governor quietly, as Evans’s eyes darted desperately around the room. “I’ve got men all round the place.” (Well, there were only two, really: but Evans needn’t know that.) He let the words sink in. “Women, too. Didn’t you think the blonde girl in reception was rather sweet ?”

(उसने अपने शयनकक्ष का ताला खोला और पीछे से इसे धीरे-से बन्द कर दिया और फिर उसी जगह जम कर खड़ा रह गया, उस आदमी की तरह जिसने दैत्य पर नजर डाल दी हो। उस छोटे बिस्तर पर वह व्यक्ति बैठा था जो संसार का अन्तिम व्यक्ति होता जिसकी उसने उम्मीद की हो-या देखना चाहा हो। “किसी कोशिश से कोई फायदा न होगा,” गवर्नर ने शान्ति से कहा, जबकि ईवान्स की आँख हताश में कमरे में चारों ओर दौड़ रही थी। “मेरे आदमियों ने चारों तरफ से घेरा हुआ है।” (वैसे तो वास्तव में दो ही थे पर ईवान्स को यह जानने की आवश्यकता न थी।) उसने शब्दों को ईवान्स की समझ में आने दिया। “औरतें भी। क्या तुम्हें नहीं लगा कि स्वागत टैबल पर बैठी लड़की कुछ अधिक ही सुन्दर थी ?”)

Evans was visibly shaken. He sat down slowly in the only chair the small room could offer, and held his head between his hands. For several minutes there was utter silence. Finally, he spoke. “It was that bloody correction slip, I s’pose.”

(ईवान्स स्पष्ट रूप से घबरा गया था। धीरे-धीरे उस छोटे से कमरे में पड़ी एकमात्र कुर्सी पर बैठा और अपने हाथों में अपने सिर को पकड़ लिया। कई मिनटों तक पूरी निस्तब्धता छाई रही। आखिर, वह बोला। “मेरा ख्याल है, वह कमबख्त भूल-सुधार की पर्ची इस सबका कारण होगी।”)

“We-ell” (the Governor failed to mask the deep satisfaction in his voice) “there are a few people who know a little German.” Slowly, very slowly, Evans relaxed. He was beaten and he knew it. He sat up at last and managed to smile ruefully. “You know, it wasn’t really a mistake. You see, we ‘hadn’t been able to fix up any ‘hotel, but we could’ve worked that some other way. No. The really important thing was for the phone to ring just before the exam finished-to get everyone out of the way for a couple of minutes.

So we ‘ad to know exactly when the exam started, didn’t we?” “And, like a fool, I presented you with that little piece of information on a plate.” “Well, somebody did. So, you see, sir, that correction slip killed two little birds with a single stone, didn’t it? The name of the ‘otel for me, and the exact time the exam started for, er, for, er….”

(“खैर” (अपनी आवाज के गहरे संतोष को गवर्नर छिपा न सका) “कुछ लोग हैं जिन्हें थोड़ी-बहुत जर्मन आती है।” धीरे-धीरे, बहुत धीरे, ईवान्स शांत हुआ। वह हार गया था और वह इस बात को जानता था। अंततः वह विश्वास के साथ बैठा और पश्चात्ताप की मुस्कराहट अपने चेहरे पर ला सका। “देखिए, वास्तव में यह कोई गलती न थी।

देखो, हम किसी होटल को पक्का नहीं कर सके थे, पर हम कुछ और इंतजाम कर सकते थे। नहीं। असली महत्त्वपूर्ण बात यह थी कि परीक्षा समाप्त होने से ठीक पहले फोन की घंटी बजे–ताकि दो मिनट के लिए हमें पूर्ण आजादी मिल सके। इसलिए हमें यह ठीक-ठीक जानना आवश्यक था कि परीक्षा कब प्रारम्भ होती है। नहीं क्या ?” “और किसी बेवकूफ की तरह सूचना की वह छोटी-सी पर्ची मैंने तुम्हें आसानी से भेंट कर दी।” “जो, किसी ने तो दी। इस प्रकार, देखिए, श्रीमान, उस भूल-सुधार पर्ची ने दो काम किए, नहीं किए क्या ? मुझे होटल का नाम बताया और परीक्षा प्रारम्भ होने का ठीक समय….”)

The Governor nodded. “It’s a pretty common word.” “Good job it is pretty common, sir, or I’d never ‘ave known where to come to, would I?” “Nice name, though: zum goldenen Lowen.” “How did you know which Golden Lion it was? There are ‘hundreds of ’em.” “Same as you, Evans. Index number 313; Centre number 271. Remember? Six figures? And if you take an Ordnance Survey Map for Oxfordshire, you find that the six-figure reference 313/271 lands you bang in the middle of Chipping Norton.” “Yea, you’re right. Huh! We’d ‘oped you’d run off to Newbury.” “We did.” “Well, that’s something, I spose.”

(गवर्नर ने सिर हिलाया। “यद्यपि यह काफी सामान्य शब्द है।” “यही तो अच्छी बात थी श्रीमान, कि यह शब्द काफी सामान्य है वरना मुझे कभी पता ही न लगता कि कहाँ आना है, लगता क्या ?” “हालांकि, अच्छा नाम है-जुम गोल्डन लॉयन।” “आपको यह कैसे पता लगा कि यह कौन-सा गोल्डन लाईन था ? ऐसे तो सैकड़ों हैं।” “जैसे तुमने जाना ईवान्स। इन्डैक्स नं0 313; सेंटर नं. 271. याद है ? छह अंक ? और अगर तुम ऑक्सफोर्ड शायर का आर्डिनेंस सर्वे मैप लो तो तुम देखोगे कि छह अंक वाला संदर्भ तुम्हें बिल्कुल चिपिंग नॉर्टन के बीच में ले आता है। “हाँ, आप सही कहते हैं। हमें उम्मीद थी कि आप न्यूबरी की तरफ जा रहे होंगे।” “हम गए थे।” “खैर, मेरा ख्याल है कि यह कुछ बात हुई न।”)

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 7 Evans Tries an O-Level
“That question paper, Evans. Could you really understand all that German? I could hardly – ” “Nah! Course I couldn’t. I knew roughly what it was all about, but we just ‘oped it’d throw a few spanners in the works-you know, sort of muddle everybody a bit.” The Governor stood up. “Tell me one thing before we go. How on earth did you get all that blood to pour over your head ?”

(“वह प्रश्न-पत्र, ईवान्स। क्या तुम सचमुच इतनी सारी जर्मन समझ सकते थे ? मैं तो मुश्किल से कुछ-” “नहीं। निःसन्देह मैं नहीं समझ सकता था। मोटे तौर पर मुझे पता था कि वह किस विषय में था, पर हमें इतनी आशा जरूर थी कि यह गड़बड़ करने जैसा होना-आप जानते हैं न, हर व्यक्ति को थोड़ा एक तरह का संशय पैदा होगा।” गवर्नर खड़ा हो गया। “हमारे चलने से पहले बस एक बात बताओ। भला तुम्हें अपने सिर पर डालने के लिए इतना खून कहाँ से मिला ?”)

Evans suddenly looked a little happier. “Clever, sir. Very clever, that was-‘ow to get a couple o’ pints of blood into a cell, eh? When there’s none there to start off with, and when, er, and when the “invigilator”, shall we say, gets, searched before ‘e comes in. Yes, sir. You can well ask about that, and I dunno if I ought to tell you. After all, I might want to use that particular-” “Anything to do with a little rubber ring for piles, perhaps?” Evans grinned feebly. “Clever, though, wasn’t it?” “Must have been a tricky job sticking a couple of pints.”

(अचानक ही ईवान्स कुछ प्रसन्न दिखाई दिया। “होशियारी, श्रीमान। बड़ा होशियारी का काम था-कैसे किसी कोठरी के अन्दर दो पाईंट खून पहुंचाया जाए, आह ? जबकि प्रारम्भ में वहाँ बिल्कुल भी नहीं है, और जब, अर, जबकि “निरीक्षक” की क्या हम उसे यह नाम दे सकते हैं, अन्दर आने से पहले तलाशी ली जाती है। जी हाँ। आप इसके बारे में अवश्य पूछ सकते हैं पर मैं नहीं समझता कि मुझे आपको बताना चाहिए। आखिर, हो सकता है इस विशेष चीज का उपयोग-” “शायद कहीं इसका सम्बन्ध उन छोटे छल्लों से तो नहीं था जो पाइल्स के लिए थे ?” ईवान्स एक कमजोर मुस्कराहट से हँसा। “होशियारी का काम फिर भी, नहीं क्या ?” “फिर भी काफी कठिन काम रहा होगा उसके अन्दर दो पाईंट खून भरना।”)

“Nah! You’ve got it wrong, sir. No problem about that.” “No?” “Nah! It’s the clotting, you see. That’s the big trouble. We got the blood easy enough. Pig’s blood, it was-from the slaughter’ouse in Kidlington. But to stop it clotting you’ve got to mix yer actual blood” (Evans took a breath) “with one tenth of its own volume of 3.8 per-cent trisodium citrate! Didn’t know that, did you, sir ?”

(“नहीं श्रीमान, आप इसे गलत समझे, सर। यह कोई समस्या नहीं है।” “नहीं है ?” “नहीं! देखिए, समस्या तो खून का जमना है। यह बड़ी समस्या है। खून तो हमें आसानी से मिल गया। यह सूअर का खून था यह किड्लिंगटन के कसाईखाने से मिला। पर इसे जमने से रोकने के लिए आपको इसमें अपना खून मिलाना पड़ेगा” (ईवान्स सांस लेने के लिए रुका) “इसके आयतन के दसवें भाग के बराबर इसमें ट्राइसोडियम सिट्रेट मिलाना होगा! आपको नहीं पता था न, क्या पता था, श्रीमान ?”)

The Governor shook his head in a token of reluctant admiration. “We learn something new every day, they tell me. Come on, m’lad.” Evans made no show of resistance, and side by side the two men walked slowly down the stairs. “Tell me, Evans. How did you manage to plan all this business? You’ve had no visitors-I’ve seen to that. You’ve had no letters-.” “I’ve got lots of friends, though.” “What’s that supposed to mean ?” “Me German teacher, for a start.” “You mean-? But he was from the Technical College.” “Was ‘e?” Evans was almost enjoying it all now. “Ever check up on ‘im, sir ?” . “God Almighty! There’s far more going on than I -” “Always will be, sir.”

(न चाहते हुए भी गवर्नर ने प्रशंसा के चिह्न के रूप में अपना सिर हिलाया। “कहते हैं हमें रोज ही कुछ नया सीखना होता है। अच्छा, बेटे चलो।” ईवान्स ने किसी विरोध का प्रदर्शन नहीं किया और दोनों आदमी साथ-साथ सीढ़ियाँ उतरने लगे। “ईवान्स मुझे यह बताओ कि इस सारे काम की योजना तुमने कैसे बनाई ? तुम्हें कोई मिलने नहीं आया-मैंने इस बात का ख्याल रखा है। तुम्हें कोई पत्र भी नहीं मिला था-” “पर मेरे बहुत-से मित्र हैं।” “इसका क्या अर्थ लगाया जाए ?” । “पहले मेरे जर्मन अध्यापक को ही ले लो।” “तुम्हारा मतलब-? पर वह तो टेक्निकल कॉलेज से था।” “ऐसा क्या ?” ईवान्स को अब इन बातों में मजा आने लगा था। “कभी उसके बारे में पूछताछ की, श्रीमान ?” “हे भगवान् ! बहुत कुछ ऐसा हो रहा जो मैं-” “हमेशा होगा, सर।”)

“Everything ready ?” asked the Governor as they stood by the reception desk. “The van’s out the front, sir,” said the pretty blonde receptionist. Evans winked at her, and she winked back at him. It almost made his day. A silent prison officer handcuffed the recaptured Evans, and together the two men clambered awkwardly into the back seat of the prison van. “See you soon, Evans.” It was almost as if the Governor were saying farewell to an old friend after a cocktail party. “Cheerio, sir. I, er, I was just wonderin’. I know your German’s pretty good, sir, but do you know any more o’ these modern languages ?”

(रिसेप्शन डेस्क पर पहुँचकर गवर्नर ने पूछा, “क्या हर चीज तैयार है ?” सुनहरी बालों वाली सुन्दर रिसेप्शनिस्ट ने कहा, “सर गाड़ी सामने की तरफ खड़ी है।” ईवान्स ने उसकी ओर आँख से इशारा किया और वापस उसने भी आँख से इशारा किया। लगता था इसने तो उसका दिन सुधार दिया। चुपचाप जेल के एक अधिकारी ने दोबारा पकड़े गए ईवान्स के हाथों में हथकड़ियाँ लगा दी और दोनों आदमी साथ-साथ भद्दे ढंग से जेल-गाड़ी की पिछली सीट पर चढ़ गए। “अच्छा ईवान्स, जल्दी मिलेंगे।” यह बिल्कुल ऐसा था मानो कॉकटेल पार्टी के बाद गवर्नर अपने किसी पुराने मित्र को अलविदा कह रहा हो। “आपकी यात्रा शुभ हो, श्रीमान’। मैं बस यह सोच रहा था कि आपकी जर्मन तो काफी अच्छी है, पर क्या आपको इस आधुनिक भाषाओं के बारे में कुछ और भी पता है ?”)

“Not very well. Why ?”
Evans settled himself comfortably on the back seat, and grinned happily. ‘Nothin’, really. I just happened to notice that you’ve got some O-level Italian classes comin’ up next September, that’s all.’ “Perhaps you won’t be with us next September, Evans.” James Roderick Evans appeared to ponder the Governor’s words deeply. “No. P’r’aps I won’t,” he said. As the prison van turned right from Chipping Norton on to the Oxford road, the hitherto silent prison officer unlocked the handcuffs and leaned forward towards the driver, “For Christ’s sake get a move on! It won’t take ’em long to find out-‘ “Where do ye suggest we make for ?” asked the driver, in a broad Scots accent…. “What about Newbury?” suggested Evans.

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 7 Evans Tries an O-Level

(“बहुत अच्छी तरह नहीं। क्यों ?”
ईवान्स आराम से पिछली सीट पर बैठ गया और खुशी से मुस्कराया। “कोई खास बात नहीं, मैं तो सिर्फ यह सोच रहा था कि अगले सितम्बर ओ-स्तर के इटालियन क्लास लगने वाले हैं, बस यही बात थी। “ईवान्स, शायद अगले सितम्बर तक तुम हमारे पास न हो।” जेम्स रूडरिक ईवान्स गवर्नर के उत्तर पर विचार करने लगा। “नहीं शायद मैं न होऊँ,” वह बोला। जैसे ही चिपिंग नॉर्टन से सीधे हाथ मुड़कर गाड़ी ऑक्सफोर्ड रोड पर आई, अभी तक चुपचाप रहे जेल-अधिकारी ने हथकड़ी खोल दी और आगे झुककर ड्राइवर से बोला, “भगवान के नाम पर, चलते चलो! उन्हें पता लगाने में देर नहीं लगेगी-” स्पष्ट स्काटिश आवाज में ड्राइवर ने पूछा, “आप किधर चलना चाहेंगे ?” “न्यूबरी के बारे में क्या ख्याल है ?” ईवान्स ने सुझाव दिया।)

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 6 On the Face of it

Haryana State Board HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 6 On the Face of it Textbook Exercise Questions and Answers.

Haryana Board 12th Class English Solutions Vistas Chapter 6 On the Face of it

HBSE 12th Class English On the Face of it Textbook Questions and Answers

Question 1.
What is it that draws Derry towards Mr Lamb in spite of himself? [H.B.S.E. March, 2018 (Set-B, C)] (क्या कारण है कि न चाहते हुए भी डैरी श्री लैंब की तरफ आकर्षित हो जाता है ?)
Answer:
Derry’s face got burned with acid. It looks ugly. People dislike him and avoid him. So Derry also avoids people and like to remain lonely. He goes to Mr Lamb’s garden hoping that it would be empty But there he comes across Mr Lamb. He wants to avoid him. But Mr Lamb talks to him in a kind manner. He does not even mention his face. He welcomes Derry to his garden. He tells Derry that outer appearance is not of much importance. The real beauty is within man’s spirit. This pleases Derry. So he is drawn towards Mr Lamb.

(डैरी का चेहरा तेज़ाब से जल गया था। यह भद्दा लगता है। लोग उससे नफरत करते हैं और उससे बचते हैं। इसलिए डैरी भी लोगों से बचता है और अकेला रहना पसन्द करता है। वह श्री लैंब के बाग में यह सोचकर जाता है कि यह खाली होगा। मगर वहाँ पर उसकी मुलाकात श्री लैंब से होती है। वह उससे बचना चाहता है। मगर श्री लैंब उससे दयालुता से बात करते हैं। वे तो उसके चेहरे का जिक्र भी नहीं करते। वे डैरी का अपने बाग में स्वागत करते हैं। वे डैरी को बताते हैं कि बाहरी रूप का अधिक महत्त्व नहीं होता। वास्तविक सुन्दरता मनुष्य की आत्मा में होती है। इससे डैरी खुश हो जाता है। इसलिए वह श्री लैंब की तरफ आकर्षित हो जाता है।)

Question 2.
In which section of the play does Mr Lamb display signs of loneliness and disappointment? What are the ways in which Mr Lamb tries to overcome these feelings? (नाटक के कौन-से भाग में श्री लैंब अकेलेपन व निराशा के लक्षण प्रकट करता है ? वे कौन-से ढंग हैं जिनके द्वारा श्री लैंब इन भावनाओं पर नियन्त्रण पाने का प्रयास करता है ?)
Answer:
It is towards the end of the play that Mr Lamb displays signs of loneliness and disappointment. When Derry goes away saying that he will come back, Mr Lamb says to himself : “Everyone says, I’ll come back’. But they never do. None of them ever comes back.” These words show Mr Lamb’s loneliness and disappointment. But he tries to overcome these feelings by watching, listening and thinking. He has no curtains on his windows. He loves to see the natural light and darkness. He loves to hear the winds blowing. People say bees buzz, but when he listens to them he feels that they are humming. He finds no difference between flowers, trees, herbs and weeds. To him, they are all growing living things. It is by such positive thinking that he tries to overcome his loneliness and disappointment.

(ऐसा नाटक के अन्त में होता है कि श्री लैंब को अकेलेपन और निराशा के लक्षण दिखते हैं। जब हैरी यह कहकर चला जाता है कि वह वापिस आएगा, तो श्री लैंब अपने आपसे कहते हैं, “हर व्यक्ति कहता है, “मैं वापिस आऊँगा”। मगर वे कभी वापिस नहीं आते। आज तक उनमें से कोई भी वापिस नहीं आया है।” ये शब्द श्री लैंब के अकेलेपन और निराशा को दर्शाते हैं। मगर वह इन भावनाओं का अवलोकन करके, सुनकर और सोचकर दूर करने का प्रयत्न करता है। उसकी खिड़कियों पर पर्दे नहीं हैं। वह प्राकृतिक रोशनी और अंधेरे को देखना चाहता है। वह हवा के चलने की आवाज़ सुनना पसन्द करता है। लोग कहते हैं कि मधुमक्खियाँ भिनभिनाती हैं, मगर जब वह उन्हें सुनता है तो उसे लगता है कि वे गुनगुना रही हैं। उसे फूलों, वृक्षों, जड़ी-बूटियों और खरपतवार में कोई अन्तर नज़र नहीं आता। उसके लिए वे सब जीवित वस्तुएँ हैं। इस प्रकार के सकारात्मक विचारों से वह अपने अकेलेपन और निराशा को दूर करने की कोशिश करता है।)

Question 3.
The actual pain or inconvenience caused by a physical impairment is often much less than the sense of alienation felt by the person with disabilities. What is the kind of behaviour that the person expects from others? (प्रायः शारीरिक क्षति से होने वाली वास्तविक पीड़ा दिव्यांग लोगों द्वारा अकेलेपन को अनुभव करने की भावना की अपेक्षा कम होती है। उस प्रकार का व्यक्ति अन्य लोगों से किस प्रकार के व्यवहार की अपेक्षा करता है ?)
OR
The lesson, ‘On the Face of It’, is an apt depiction of the loneliness and sense of alienation experienced by people on account of a dissability. Explain. [H.B.S.E. March, 2019 (Set-C)] (अध्याय, ‘On the Face of It’ अकेलेपन की भावना का एक उपयुक्त चित्रण है, जो दिव्यांगता के कारण लोगों द्वारा अनुभव की गई अलगाव की भावना है। व्याख्या करें।)
Answer:
When a person is disabled, the physical pain goes away with the passage of time. Even the inconvenience is reduced as the person because is used to his handicap. However, the real pain is caused by the attitude of the society towards the disabled person. Often people dislike a physically impaired person. They do not allow him to mix with them. They avoid him. Often they are afraid of him as in this play, people are afraid of Derry because of his burned face. As a result, the handicapped person feels a sense of alienation. He thinks that he is not a part of the normal society. A handicapped person expects others to treat him as a normal human being. He does not want to be treated as different. He does not like others to remind him of his physical deformity or handicap. He does not want that others should pity him.

(जब कोई व्यक्ति दिव्यांग होता है तो शारीरिक दर्द समय के बीतने के साथ समाप्त हो जाता है। यहाँ तक कि असुविधा भी कम हो जाती है क्योंकि व्यक्ति अपने दिव्यांगता का आदी हो जाता है। लेकिन वास्तविक दर्द समाज के दिव्यांग व्यक्ति के प्रति दृष्टिकोण से होता है। अकसर लोग शारीरिक रूप से दिव्यांग व्यक्ति को पसन्द नहीं करते। वे उसे अपने साथ मिलने-जुलने की अनुमति नहीं देते। वे उससे बचते हैं। अकसर वे उससे डरते हैं जैसे कि इस नाटक में लोग डैरी से उसके जले हुए चेहरे के कारण डरते हैं। परिणामस्वरूप, दिव्यांग व्यक्ति को अकेलेपन की भावना महसूस होती है। वह सोचता है कि वह सामान्य समाज का भाग नहीं है। दिव्यांग व्यक्ति अन्य लोगों से यह उम्मीद करता है कि वे उसे एक सामान्य इन्सान की तरह समझें। वह अलग प्रकार के व्यवहार को पसन्द नहीं करता। वह नहीं चाहता कि लोग उसे उसकी शारीरिक दिव्यांगता या कुरूपता की याद दिलाएँ। वह नहीं चाहता कि अन्य लोग उस पर तरस खाएँ।)

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 6 On the Face of it

Question 4.
Will Derry get back to his old seclusion or will Mr Lamb’s brief association effect a change in the kind of life he will lead in the future?
(क्या डैरी फिर से पुराने ढंग से अलग-थलग रहेगा या श्री लैंब के साथ उसकी संक्षिप्त संगति के कारण उसके भविष्य के रहने के ढंग में परिवर्तन आ जाएगा ?)
Answer:
When Derry comes to Mr Lamb’s garden, he is afraid. He avoids people and wants to spend some time in a lonely place. He has face burned with acid and people are afraid of him. So he also hates them. But his meeting with Mr Lamb changes his outlook. Mr Lamb tells him not to avoid people or to hate them. He is deeply influenced by Mr Lamb. So, it is expected that his brief association with Lamb will bring a change in the kind of life that he will lead in the future.

(जब डैरी श्री लैंब के बाग में आता है तो वह भयभीत है। वह लोगों से बचता है और कुछ समय अकेले स्थान पर बिताना चाहता है। उसका चेहरा तेज़ाब से जला हुआ है और लोग उससे डरते हैं। इसलिए वह भी उनसे नफरत करता है। मगर श्री लैंब से उसकी मुलाकात उसके दृष्टिकोण को बदल देती है। श्री लैंब उसे बताते हैं कि वह लोगों से दूर न जाए और न ही उनसे नफरत करे। वह श्री लैंब से बहुत प्रभावित होता है। इसलिए यह आशा की जाती है कि श्री लैंब से उसकी संक्षिप्त मुलाकात उसके भविष्य के जीवन में परिवर्तन ला देगी।)

Read And Find Out

Question 1.
Who is Mr Lamb? How does Derry get into his garden? [H.B.S.E. March, 2020 (Set-B)] ( श्री लैंब कौन है? डैरी उसके बाग में किस प्रकार घुसता है ?)
Answer:
Mr Lamb is an old man. He is the owner of a garden. Derry is a young boy. One day he goes to a garden. He enters Mr Lamb’s garden by scaling a wall.
(श्री लैंब एक बूढ़ा आदमी है। वह एक बाग का मालिक है। डैरी एक युवा लड़का है। एक दिन वह बाग में जाता है। वह श्री लैंब के बाग में एक दीवार फांदकर प्रवेश करता है।)

Question 2.
Do you think all this will change Derry’s attitude towards Mr Lamb? (क्या आपके विचार में यह सब हैरी के श्री लैंब के प्रति दृष्टिकोण को बदल देगा ?)
Answer:
Yes, Mr Lamb’s kind behavior will change Derry’s attitude towards Mr Lamb. Derry’s face got burned with acid. It looks ugly. People dislike him and avoid him. So Derry also avoids people and likes to remain lonely. But Lamb talks to him a kind manner. He tells Derry that outer appearance is of not much importance. The real beauty is within man’s spirit. This pleases Derry. So he is drawn towards Mr Lamb.

(हाँ, श्री लैंब का दयालुता वाला व्यवहार, डैरी के उनके प्रति दृष्टिकोण को बदल देगा। डैरी का चेहरा तेज़ाब से जल गया था। यह भद्दा लगता है। लोग उससे नफरत करते हैं और उससे बचते हैं। इसलिए डैरी भी लोगों से बचता है और अकेला रहना चाहता है। परन्तु श्री लैंब उससे दयालुता से बात करते हैं। वे डैरी को बताते हैं कि बाहरी रूप का अधिक महत्त्व नहीं होता । वास्तविक सुन्दरता मनुष्य की आत्मा में होती है। यह बात डैरी को प्रसन्न कर देती है। इसलिए वह श्री लैंब की तरफ आकर्षित होता है।)

HBSE Class 12 English On the Face of it Important Questions and Answers

Multiple Choice Questions
Select the correct option for each of the following questions :
1. Who is the writer of the play ‘On the Face of it?
(A) Susan Hill
(B) Lusan Sill
(C) Nusan Lill
(D) Susan Nill
Answer:
(A) Susan Hill

2. Who is Derry?
(A) an old farmer
(B) a carpenter
(C) a teacher
(D) a young boy
Answer:
(D) a young boy

3. What is wrong with Derry’s face?
(A) it has a big nose
(B) it is very handsome
(C) one side of it is burnt
(D) it has no ears
Answer:
(C) one side of it is burnt

4. How was one side of Derry’s face burnt?
(A) he fell into fire
(B) by acid
(C) by a fire-cracker
(D) by a gunshot
Answer:
(B) by acid

5. One day Derry goes to a garden. To whom does the garden belong?
(A) Mr Lamb
(B) Mr Lamba
(C) Mr Samb
(D) Mr Samba
Answer:
(A) Mr Lamb

6. How does Derry enter the garden?
(A) through the gate
(B) through a hole
(C) from the roof
(D) he scales a wall
Answer:
(D) he scales a wall

7. How does Mr Lamb talk to Derry?
(A) in an angry tone
(B) in a kind tone
(C) in a weeping tone
(D) in a sad tone
Answer:
(B) in a kind tone

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 6 On the Face of it

8. Why do people avoid Derry?
(A) his face is burnt and looks ugly
(B) they don’t like his name
(C) they love him
(D) they respect him
Answer:
(A) his face is burnt and looks ugly

9. Where does the real worth of man life, according to Mr Lamb?
(A) his looks
(B) his outer appearance
(C) in his money
(D) in himself
Answer:
(D) in himself

10. What does Mr Lamb ask Derry to do?
(A) to weed out the garden
(B) to plant trees
(C) to pick apples
(D) to pick brinjals
Answer:
(C) to pick apples

11. What is Mr Lamb’s deformity?
(A) he has an artificial leg
(B) an artificial arm
(C) his ears are missing
(D) he has only one eye
Answer:
(A) he has an artificial leg

12. What do children call Mr Lamb?
(A) handsome Lamb
(B) beautiful Lamb
(C) tall Lamb
(D) lamely Lamb
Answer:
(D) lamely Lamb

13. Which fairy tale does Mr Lamb remind Derry of?
(A) the beauty and the beast
(B) the picnic and the feast
(C) the dinner at least
(D) the beast and the beauty
Answer:
(A) the beautiful and the beast

Short Answer Type Questions
Question 1.
Who is Derry? Why does he go to Mr Lamb’s garden? [H.B.S.E. 2017 (Set-B), 2020 (Set-A)] (डरी कौन है ? वह श्री लैंब के बाग में क्यों जाता है ?)
Answer:
Derry is a young boy. One day he goes to a garden. This garden belongs to an old man named Mr Lamb. Derry thinks that there is nobody in the garden. He goes to that garden as he wants to spend time in a lonely place.

(डैरी एक युवा लड़का है। एक दिन वह एक बाग में जाता है। यह बाग एक बूढ़े व्यक्ति श्री लैंब का है। हैरी सोचता है कि बाग में कोई नहीं है। वह किसी एकांत स्थान पर समय व्यतीत करना चाहता है इसलिए वह बाग में जाता है।)

Question 2.
Why is Derry startled? Whom does he see in the garden? (डरी भौंचक्का क्यों हो जाता है ? वह बाग में किसे देखता है ?)
Answer:
Suddenly Derry sees Mr Lamb sitting in the garden. Derry is startled. He wants to go back, but Mr Lamb speaks to him in a kind tone. He tells Derry that he is welcome there. He tells him not to be afraid of him.

(अचानक डैरी श्री लैंब को बाग में बैठे हुए देखता है। डैरी डर जाता है। वह वापिस जाना चाहता है, मगर श्री लैंब उससे प्यार के लहजे में बात करते हैं। वे डैरी को बताते हैं कि उसका वहाँ पर स्वागत है। वे उससे कहते हैं कि वह उनसे न डरे।)

Question 3.
Why do people avoid Derry? [H.B.S.E. 2017 (Set-A)] (लोग हैरी की उपेक्षा क्यों करते हैं ?)
Answer:
People are afraid of him. One side of his face is burnt. It got burnt by acid. His face looks ugly and so people avoid him and hate him. Some people show as if they do not mind his burned face. Yet Derry knows that they try to avoid him.

(लोग उससे डरते हैं। उसके चेहरे का एक भाग जला हुआ है। यह तेज़ाब से जल गया था। उसका चेहरा भद्दा लगता है और इसलिए लोग उससे बचते हैं और उससे नफरत करते हैं। कुछ लोग यह दिखावा करते हैं कि वे उसके जले हुए चेहरे को बुरा नहीं समझते। मगर डैरी जानता है कि वे उससे बचने की कोशिश करते हैं।)

Question 4.
Why does Mr. Lamb leave his gate always open ? (श्री लैंब हमेशा अपना दरवाजा खुला क्यों छोड़ता है?) [H.B.S.E. March, 2019 (Set-C)]
Answer:
My Lamb was a kind hearted person. He lost one of his legs in war. He had love and affection for those who suffered from physical deformity. He welcomed everyone to his garden. He wanted anyone to come to his garden and talk to him. That’s why he keeps the gate of his garden always open.

(श्री लैंब एक दयालु व्यक्ति थे। उन्होंने युद्ध में अपना एक पैर खो दिया था। उनमे शरीरिक दिव्यांगता से पीड़ित लोगों के लिए प्रेम ओर स्नेह था। वह सभी को अपने बगीचे में स्वागत करते थे। वह चाहते थे कि कोई भी उनके बगीचे में आए और उनसे बाते करें। यही कारण है कि वह अपने बगीचे के दरवाजे को हमेशा खुला रखते थे।)।

Question 5.
What does Mr Lamb tell Derry about the real worth of a person? (श्री लैंब डैरी को व्यक्ति की वास्तविक कीमत के बारे में क्या बताता है ?)
Answer:
The real worth of a person is not in his looks or outer appearance. His real worth is in him. Mr Lamb says that there are weeds in his garden. Other people look down upon weeds. But he looks upon weeds as living, growing plants like any other plant. He means to say that he does not hate Derry. He looks upon Derry as any other boys.

(एक व्यक्ति के वास्तविक गुण उसकी शक्ल या बाहरी रूप में नहीं होते। उसकी वास्तविक कीमत उसके अन्दर होती है। श्री लैंब कहते हैं कि उनके बाग में खरपतवार हैं। अन्य लोग इस खरपतवार से नफरत करते हैं। मगर वे इन खरपतवारों को अन्य पौधों की तरह जीवित, उगते हुए पौधे मानते हैं। उनके कहने का अर्थ है कि वे डैरी से नफरत नहीं करते। वे हैरी को अन्य लड़कों की तरह ही समझते हैं।)

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 6 On the Face of it

Question 6.
What does Mr Lamb tell Derry about his own physical deformity? (श्री लैंब डैरी को स्वयं के शारीरिक दिव्यांगता के बारे में क्या बताते हैं ?)
Answer:
Mr Lamb tells Derry that he too has a physical deformity. He has an artificial leg. His real leg was blown off in the war. Children call him Lamely-Mr Lamb. But he does not mind it. He is not afraid of the children and children are not afraid of him. They come to him often and he gives them toffees.

(श्री लैंब डैरी को बताते हैं कि उनमें भी एक शारीरिक दिव्यांगता है। उनकी एक टाँग नकली है। उनकी असली टाँग युद्ध में कट गई थी। बच्चे उन्हें लंगड़ा-श्री लैंब कहते हैं। मगर वे इस बात का बुरा नहीं मानते। वे बच्चों से नहीं डरते और बच्चे उनसे नहीं डरते। वे अकसर उनके पास आते हैं और वे उन्हें टॉफियाँ देते हैं।)

Question 7.
What advice does Mr Lamb give Derry about the real beauty? (श्री लैंब डैरी को वास्तविक सुन्दरता के बारे में क्या सलाह देते हैं ?) OR How does Mr Lamb try to remove the baseless fears of Derry? (श्री लैंब हैरी के बेबुनियाद डर को दूर करने की कोशिश कैसे करते हैं?) [H.B.S.E. March, 2019 (Set-A)]
Answer:
Mr Lamb advises Derry that he should also not mind what others say about his face. Mr Lamb tells Derry that beauty is not merely in the physical body. Real beauty lies within our spirits. Handsome is he who handsome does.

(श्री लैंब डैरी को सलाह देते हैं कि वह भी इस बात का बुरा न माने कि लोग उसके चेहरे के बारे में क्या कहते हैं। श्री लैंब डैरी को बताते हैं कि सुन्दरता केवल शरीर में नहीं होती। वास्तविक सुन्दरता हमारी आत्मा में होती है। सुन्दर वह व्यक्ति होता है जो सुन्दर काम करता है।)

Question 8.
What story does Mr Lamb remind Derry of? (श्री लैंब डैरी को किस कहानी की याद दिलाते हैं ?)
Answer:
Mr Lamb reminds Derry of the fairy tale about the beauty and the beast. Derry already knows the tale. A beautiful princess kisses a beast. The beast then transforms into a handsome prince. This is because of the power of love. The beautiful princess loved the monster because she could see the goodness in him.

(श्री लैंब डैरी को सुन्दर लड़की और जानवर की परी-कथा की याद दिलाते हैं। डैरी पहले ही उस कहानी को जानता है। एक सुन्दर राजकुमारी एक जानवर को चूमती है। वह जानवर तब एक सुन्दर राजकुमार में परिवर्तित हो जाता है। ऐसा प्यार की शक्ति के कारण हुआ। सुन्दर राजकुमारी उस जानवर से प्यार करती थी क्योंकि वह उसकी अन्दर की अच्छाई को देख सकती थी।)

Question 9.
How does Mr Lamb console Derry? How have other people consoled him? (श्री लैंब डैरी को किस प्रकार सांत्वना देते हैं ? अन्य लोगों ने उसे किस प्रकार सांत्वना दी है ?)
Answer:
Mr Lamb consoles Derry. He tells Derry that worse things could have happened to him. He could have been blind or born deaf. Derry says that other people have consoled him by telling him that many people bear their sufferings without any complaint.

(श्री लैंब डैरी को सांत्वना देते हैं। वे डैरी को बताते हैं कि जो कुछ उसके साथ हुआ, उससे भी बुरा हो सकता था। वह अन्धा या बहरा पैदा हो सकता था। डैरी कहता है कि अन्य लोगों ने उसे यह कहकर सांत्वना दी है कि बहुत-से लोग अपनी तकलीफों को बिना शिकायत के सहन करते हैं।)

Question 10.
How has Mr Lamb learned so much? (श्री लैंब ने इतना कुछ किस प्रकार सीखा है ?)
Answer:
Derry thinks that Mr Lamb is peculiar. He wants to know how he has learned so much. Mr Lamb tells him that he has learnt all by watching, listening and thinking. He has a number of books. He listens to the humming music of the bees. He watches plants and trees. He thinks deeply over all these things.

(डैरी सोचता है कि श्री लैंब विचित्र है। वह जानना चाहता है कि उन्होंने इतना ज्ञान किस प्रकार प्राप्त किया है। श्री लैंब उसे बताते है कि उन्होंने वह सब कुछ देखने, सुनने और सोचने से सीखा है। उनके पास बहुत-सी किताबें हैं। वे मधुमक्खियों के भिनभिनाते संगीत को सुनते हैं। वे पौधों और वृक्षों को देखते हैं। वे इन सब चीजों के बारे में गहराई से सोचते हैं।)

Question 11.
What does Mr Lamb tell Derry about hatred? (श्री लैंब डैरी को नफरत के बारे में क्या बताते हैं ?)
Answer:
Mr Lamb advises Derry not to hate anybody. Hatred is worse than the acid that burnt his face, because hatred burns the inside of man. Mr Lamb tells him that keeping aloof will not help him.

(श्री लैंब डैरी को सलाह देते हैं कि वह किसी से नफरत न करे। नफरत उस तेज़ाब से भी बुरी है जिससे उसका चेहरा जल गया था क्योंकि नफरत व्यक्ति के अन्दर को जला देती है। श्री लैंब उसे बताते हैं कि अकेले रहने से बात नहीं बनेगी।)

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 6 On the Face of it

Question 12.
Why does Derry’s mother warn him not to go to see Mr Lamb? (डरी की माँ उसको मि० लैंब से मिलने न जाने की चेतावनी क्यों देती है?) OR What did Derry’s mother think of Mr. Lamb? [H.B.S.E. 2020 (Set-C)] (डरी की माँ श्री लैंब के बारे में क्या सोचती थी?)
Answer:
Derry tells his mother the experience of his meeting with Mr Lamb. Derry’s mother is worried. She has some doubts in her mind because they have not been known to those people for a long time. So she warns him not to go to see Mr Lamb.

(डैरी अपनी माँ को मि० लैंब के साथ अपनी मुलाकात का अनुभव बताता है। डैरी की माँ चिन्तित है। उसके मन में कुछ शंकाएँ हैं क्योंकि वे उन लोगों को ज्यादा समय से नहीं जानते थे। इसलिए वह उसे चेतावनी देती है कि वह मि० लैंब से मिलने न जाए।)

Question 13.
What realisation comes to Derry about his face at the end of the play? (नाटक के अंत में डैरी को अपने चेहरे के बारे में किस ज्ञान का अहसास होता है?)
Answer:
Derry considered himself unlucky because of his burnt face. He avoided meeting people as well as people hated his burnt face. But Mr Lamb does not agree with this point of view. He tells Derry that he is a healthy boy. He had limbs, eyes, tongue, brain and everything else. He can get on with the world like others. He can even get better than most of the people.

(डैरी अपने जले हुए चेहरे के कारण स्वयं को दुर्भाग्यशाली समझता था। वह लोगों से मिलने से बचता था और साथ-ही-साथ लोग भी उसके जले हुए चेहरे से घृणा करते थे। लेकिन श्री लैंब इस बात से सहमति नहीं रखता है। वह डैरी को कहता है कि वह एक स्वस्थ लड़का है। उसके सभी अंग, आँखें, जीभ, दिमाग सब कुछ सही है। वह अन्य लोगों की तरह संसार के साथ चल सकता है। वह तो अधिकतर लोगों से आगे भी निकल सकता है।)

Question 14.
How did Derry get his face burnt? (डरी का चेहरा कैसे जल गया था?)
Answer:
Derry is a young man. One side of his face is burnt. It got burnt by acid. His face looks ugly and so people avoid him and hate him. Some people show as if they do not mind his burned face. Yet Derry knows that they try to avoid him.)

(डैरी एक नवयुवक है। उसके चेहरे की एक साइड जली हुई है। वह तेजाब के कारण जल गई थी। उसका चेहरा भद्दा दिखाई देता है। इसलिए लोग उससे मिलने से कतराते हैं और घृणा करते हैं। कुछ लोग प्रदर्शित करते हैं कि उन्हें उसका जला हुआ चेहरा बुरा नहीं लगता। जबकि डैरी जानता है कि वे उससे बचने का प्रयास करते हैं।)

Question 15.
Why does Derry go back to Mr Lamb? (डेरी श्री लैंब के पास वापस क्यों जाता है?)
Answer:
Derry rushes home because he thinks his mother would be worried. He tells his mother about his meeting with Mr Lamb. His mother does not want that he should go back to him. But Derry tells her that Mr Lamb is a different man. He thinks that it is an opportunity that he should not miss. So he goes back to Mr Lamb.

(डैरी शीघ्र घर जाता है क्योंकि वह सोचता है कि उसकी माता चिंतित होगी। वह अपनी माता को श्री लैंब के साथ अपनी मुलाकात के बारे में बताता है। उसकी माता यह नहीं चाहती कि वह वापिस उसके पास जाए। मगर डैरी उसे बताता है कि श्री लैंब एक अलग इन्सान है। वह सोचता है कि यह एक ऐसा अवसर है जो उसे गंवाना नहीं चाहिए। इसलिए वह श्री लैंब के पास वापस जाता है।)

Question 16.
What happens to Mr Lamb in the end? (अंत में श्री लैंब के साथ क्या होता है?)
Answer:
Derry hurries back to Mr Lamb’s garden. When he reaches the garden, he finds that Mr Lamb has fallen on the ground. He has fallen off a ladder. He was trying to reach apples. Unluckily he fell off. Derry finds that Lamb is already dead. This is a great shock to him. He weeps because he has lost a true friend.

(डैरी भागकर वापिस श्री लैंब के बाग में आता है। जब वह बाग में पहुँचता है तो वह देखता है कि श्री लैंब जमीन पर गिर गए हैं। वे एक सीढ़ी से गिर गए हैं। वे सेबों तक पहुँचने का प्रयत्न कर रहे थे। दुर्भाग्यवश वे गिर गए। डैरी देखता है कि श्री लैंब मर चुके हैं। यह उसके लिए बहुत बड़ा सदमा है। वह रोता है क्योंकि उसने एक सच्चा मित्र खो दिया है।)

Long Answer Type Questions
Question 1.
Derry goes to Mr Lamb’s garden. How does Mr Lamb treat him? (डेरी श्री लैंब के बाग में जाता है। श्री लैंब उससे कैसा व्यवहार करते हैं ?) OR What change took place in Derry when he met Mr Lamb? [H.B.S.E. March, 2018 (Set-B)] (डैरी में क्या परिवर्तन होता है जब वह श्री लैंब से मिलता है?)
Answer:
Derry is a young boy. One day he goes to a garden. This garden belongs to an old man named Mr Lamb. Derry thinks that there is nobody in the garden. He wants to spend his time in a lonely place. Though the gate is open, Derry does not know it. He scales a wall to enter the garden. Suddenly Derry sees Mr Lamb sitting in the garden. Derry is startled. He wants to go back, but Mr Lamb speaks to him in a kind tone. He tells Derry that he is welcome there. He tells him not to be afraid of him. Derry says that he is not afraid of anybody. On the other hand, people are afraid of him. One side of his face is burnt. It got burnt by acid. His face looks ugly and so people avoid him and hate him. Some people show as if they do not mind his burned face.

Yet Derry knows that they try to avoid him. Mr Lamb tells him that he does not hate him. He says that soon he will get ripe crab apples to make them into jelly. He asks Derry if he would help him to pick apples. Derry thinks that like most other people, Mr Lamb is also trying to change the topic. But Mr Lamb assures Derry that he really does not dislike him. The real worth of a person is not in his looks or outer appearance. His real worth is in him. Mr Lamb says that there are weeds in his garden. Other people look down upon weeds. But he looks upon weeds as living, growing plants like any other plant. He means to say that he does not hate Derry. He looks upon Derry as any other boys.

(डैरी एक युवा लड़का है। एक दिन वह बाग में जाता है। यह बाग एक बूढ़े व्यक्ति श्री लैंब का है। डैरी सोचता है कि बाग में कोई नहीं है। वह किसी एकान्त स्थान पर समय व्यतीत करना चाहता है। यद्यपि गेट खुला है मगर डैरी को इस बात का पता नहीं है। वह दीवार पार करके बाग में जाता है। अचानक डैरी श्री लैंब को बाग में बैठे हुए देखता है। डैरी डर जाता है। वह वापिस जाना चाहता है। मगर श्री लैंब उससे प्यार के लहजे में बात करते हैं। वे डैरी को बताते हैं कि उसका वहाँ पर स्वागत है। वे उससे कहते हैं कि वह उससे न डरे। डैरी कहता है कि वह किसी से नहीं डरता। इसके विपरीत लोग उससे डरते हैं। उसके चेहरे का एक भाग जला हुआ है। यह तेज़ाब से जल गया था। उसका चेहरा भद्दा लगता है और इसलिए लोग उससे बचते हैं और उससे नफरत करते हैं। कुछ लोग यह दिखावा करते हैं कि वे उसके जले हुए चेहरे को बुरा नहीं समझते। मगर डैरी जानता है कि वे उससे बचने की कोशिश करते हैं। श्री लैंब उसे बताते हैं कि वे उससे नफरत नहीं करते। वे कहते हैं कि शीघ्र ही उसकी पके हुए सेबों की फसल तैयार हो जाएगी जिनसे वह जैली बनाएगा।

वह डैरी से पूछता है कि क्या वह उनकी सेब चुनने में सहायता करेगा। डैरी सोचता है कि अन्य लोगों की तरह श्री लैंब भी विषय को बदलना चाहते हैं। मगर श्री लैंब डैरी को विश्वास दिलाते हैं कि वे सचमुच उससे नफरत नहीं करते। एक व्यक्ति के वास्तविक गुण उसकी शक्ल या बाहरी रूप में नहीं होते। उसकी वास्तविक कीमत उसके अन्दर होती है। श्री लैंब कहते हैं कि उनके बाग में खरपतवार हैं। अन्य लोग इस खरपतवार से नफरत करते हैं। मगर वे इन खरपतवार को अन्य पौधों की तरह जीवित, उगते हुए पौधे मानते हैं। उनके कहने का अर्थ है कि वे डैरी से नफरत नहीं करते। वे डैरी को अन्य लड़कों की तरह ही समझते हैं।)

Question 2.
What does Mr Lamb tell Derry about his own physical deformity? [H.B.S.E. 2017 (Set-C)] (श्री लैंब डैरी को अपने स्वयं के शारीरिक दिव्यांगता के बारे में क्या बताते हैं ?)
Answer:
Mr Lamb tells Derry that he too has a physical deformity. He has an artificial leg. His real leg was blown off in the war. Children call him Lamely-Mr Lamb. But he does not mind it. He is not afraid of the children and children are not afraid of him. They come to him often and he gives them toffees. Mr Lamb advises Derry that he should also not mind what others say about his face. Mr Lamb tells Derry that beauty is not merely in the physical body. Real beauty lies within our spirits.

Handsome is he who handsome does. He reminds Derry of the fairy tale about the beauty and the beast. Derry already knows the tale. A beautiful princess kisses a beast. The beast then transforms into a handsome prince. This is because of the power of love. Derry knows the moral of the story also: “It is not what you look like. It is what you are inside.” The beautiful princess loved the monster because she could see the goodness in him.

(श्री लैंब डैरी को बताते हैं कि उनमें भी एक शारीरिक दिव्यांगता है। उनकी एक टाँग नकली है। उनकी असली टाँग युद्ध में कट गई थी। बच्चे उन्हें लंगड़ा श्री लैंब कहते हैं। मगर वे इस बात का बुरा नहीं मानते। वे बच्चों से नहीं डरते और बच्चे उनसे नहीं डरते। वे अकसर उनके पास आते हैं और वे उन्हें टॉफियाँ देते हैं। श्री लैंब डैरी को सलाह देते हैं कि वह भी इस बात का बुरा न माने कि लोग उसके चेहरे के बारे में क्या कहते हैं। श्री लैंब डैरी को बताते हैं कि सुन्दरता केवल शरीर में नहीं होती। वास्तविक सुन्दरता हमारी आत्मा में होती है। सुन्दर वह होता है जो सुन्दर काम करता है। वे डैरी को सुन्दर लड़की और जानवर की परी-कथा की याद दिलाते हैं। डैरी पहले से ही उस कहानी को जानता है।

एक सुन्दर राजकुमारी एक जानवर को चूमती है। वह जानवर तब एक सुन्दर राजकुमार में परिवर्तित हो जाता है। ऐसा प्यार की शक्ति के कारण हुआ। डैरी को भी इस कहानी की शिक्षा के बारे में पता है : “सत्य यह नहीं, जैसे तुम दिखाई देते हो। सत्य यह है कि तुम अन्दर से कैसे हो।” सुन्दर राजकुमारी उस जानवर से प्यार करती थी क्योंकि वह उसकी अन्दर की अच्छाई को देख सकती थी।)

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 6 On the Face of it

Question 3.
How does Mr Lamb console Derry? (श्री लैंब डैरी को किस प्रकार सांत्वना देते हैं ?)
Answer:
Mr Lamb consoles Derry. He tells Derry that worse things could have happened to him. He could have been blind or born deaf. Derry says that other people have consoled him by telling him that many people bear their sufferings without any complaint. Derry has heard a woman say that the disabled people like Derry should live with the other handicapped people only.

But Mr Lamb does not agree to this. He says that physical deformity does not make people similar. Everyone is unique because people have different ideas and thoughts. Derry thinks that Mr Lamb is peculiar. He wants to know how he has learned so much. Mr Lamb tells him that he has learnt all by watching, listening and thinking. He has a number of books. He listens to the humming music of the bees. He watches plants and trees. He thinks deeply over all these things.

(श्री लैंब डैरी को सांत्वना देते हैं। वे डैरी को बताते हैं कि जो कुछ उसके साथ हुआ, उससे भी बुरा हो सकता था। वह अन्धा या बहरा पैदा हो सकता था। डैरी कहता है कि अन्य लोगों ने उसे यह कहकर सांत्वना दी है कि बहुत-से लोग अपनी तकलीफों को बिना शिकायत के सहन करते हैं। डैरी ने एक औरत को यह कहते भी सुना कि एक-जैसे दिव्यांग लड़कों को केवल अन्य दिव्यांग लोगों के साथ ही रहना चाहिए। मगर श्री लैंब इस बात से सहमत नहीं होते।

वे कहते हैं कि शारीरिक दिव्यांग लोगों को एक-जैसा नहीं बनाती। हर व्यक्ति अनूठा है क्योंकि लोगों के अलग-अलग विचार होते हैं। डैरी सोचता है कि श्री लैंब विचित्र हैं। वह जानना चाहता है कि उन्होंने इतना ज्ञान किस प्रकार प्राप्त किया है। श्री लैंब उसे बताते हैं कि उन्होंने वह सब कुछ देखने, सुनने और सोचने से सीखा है। उनके पास बहुत-सी किताबें हैं। वे मधुमक्खिओं के भिनभिनाते संगीत को सुनते हैं। वे पौधों और वृक्षों को देखते हैं। वे इन सब चीज़ों के बारे में गहराई से सोचते हैं।)

Question 4.
Derry is a victim of his own complex. Do you find some change in him in the end? (डरी अपने ही अहम् का शिकार है। क्या कहानी के अंत में आप उसमें कोई परिवर्तन देखते हैं?)
Answer:
Derry is a victim of his own complex. He thinks that people are not friendly. So he hates most people. He avoids them and likes to remain aloof. But Mr Lamb tells him that if men are not friends, it does not mean that they are enemies. He advises him not to hate anybody. Hatred is worse than the acid that burnt his face, because hatred burns the inside of man.

Mr Lamb tells him that keeping aloof will not help him. Mr Lamb tells him the story of a man who was always afraid of meeting an accident or catching an infectious disease. He shut himself up in a room. He thought that by always remaining in a room he could avoid meeting an accident. But it was not so. He had an accident even in the room. A picture hanging on the wall fell on his head and he died.

Derry tells Mr Lamb that his parents are worried about him. They fear that because of his burnt face, Derry would not be able to get on with the world. When they are dead, nobody would take care of Derry. But Mr Lamb does not agree with this point of view. He tells Derry that he is a healthy boy. He had limbs, eyes, tongue, brain and everything else. He can get on with the world like others. He can even get better than most of the people. This bring a big change in him in the end.

(डैरी अपने ही अहम् का शिकार है। वह सोचता है कि लोग दोस्ताना नहीं हैं। इसलिए वह अधिकतर लोगों से नफरत करता है। वह उनसे बचता है और अलग रहना चाहता है। मगर श्री लैंब उसे बताते हैं कि अगर लोग मित्र नहीं हैं तो इसका अर्थ यह नहीं है कि वे शत्रु हैं। वे उसे सलाह देते हैं कि वह किसी से नफरत न करे। नफरत उस तेज़ाब से बुरी है जिससे उसका चेहरा जल गया था क्योंकि नफरत व्यक्ति के अन्दर को जला देती है। श्री लैंब उसे बताते हैं कि अकेले रहने से बात नहीं बनेगी। श्री लैंब उसे उस आदमी की कहानी बताते हैं जिसे सदा इस बारे का डर लगा रहता था कि उसकी दुर्घटना हो जाएगी या उसे कोई गम्भीर बीमारी लग जाएगी। उसने खुद को एक कमरे में बंद कर लिया। उसने सोचा कि सदा एक कमरे में रहने के कारण वह दुर्घटना होने से बच जाएगा। मगर ऐसा नहीं हुआ। उसके साथ कमरे में भी दुर्घटना हो गई। दीवार पर टंगी एक तस्वीर उसके सिर पर गिर गई और वह मर गया।

हैरी श्री लैंब को बताता है कि उसके माता-पिता उसके लिए चिंतित हैं। उन्हें डर है कि अपने जले हुए चेहरे के कारण डैरी संसार में अपना स्थान नहीं बना पाएगा। जब वे मर जाएँगे तो हैरी की देखभाल करने वाला कोई नहीं होगा। मगर श्री लैंब इस दृष्टिकोण से सहमत नहीं हैं। वे डैरी को बताते हैं कि वह एक स्वस्थ लड़का है। उसके सभी अंग, आँखें, जीभ, दिमाग और सब कुछ है। वह अन्य लोगों की तरह संसार के साथ चल सकता है। वह तो अधिकतर लोगों से आगे भी निकल सकता है। इसके अंत में उसके जीवन में बहुत बड़ा अंतर आता है।)

Question 5.
Describe Mr Lamb’s death. (श्री लैंब की मौत का वर्णन करें।)
Answer:
Derry is impressed by the encouragement given to him by Mr Lamb. He tells him that he is going home to tell his parents that he will spend sometime with Mr Lamb. He tells Mr Lamb that it is risky for him to climb the ladder to get crab apples. He can fall and get himself killed. Mr Lamb tells him that he has learned the art of climbing the ladder in spite of being lame. Derry promises him that he will come back soon. Mr Lamb does not hope that he will come back.

Derry rushes home because he things his mother would be worried. He tells his mother about his meeting with Lamb. His mother does not want that he should go back to him. But Derry tells her that Mr Lamb is a different man. He thinks that it is an opportunity that he should not miss. So he hurries back to Mr Lamb’s garden. When he reaches the garden, he finds that Mr Lamb has fallen on the ground. He has fallen off a ladder. He was trying to reach apples. Unluckily he fell off. Derry finds that Mr Lamb is already dead. This is a great shock to him. He weeps because he has lost a true friend.

(डैरी श्री लैंब द्वारा दिए गए प्रोत्साहन से प्रभावित हो जाता है। वह उन्हें बताता है कि वह अपने माता-पिता को यह बताने के लिए अपने घर जा रहा है कि वह श्री लैंब के साथ कुछ समय बिताएगा। वह श्री लैंब को बताता है कि सेब तोड़ने के लिए सीढ़ी पर चढ़ना खतरनाक है। वे गिर सकते हैं और उनकी मृत्यु हो सकती है। श्री लैंब उसे बताते हैं कि लंगड़ा होने के बावजूद उन्होंने सीढ़ी पर चढ़ने की कला सीख ली है। डैरी उन्हें वायदा करता है कि वह शीघ्र ही वापिस आएगा। श्री लैंब को यह आशा नहीं है कि वह वापिस आएगा। डैरी शीघ्र घर जाता है क्योंकि वह सोचता है कि उसकी माता चिंतित होगी।

वह अपनी माता को श्री लैंब के साथ अपनी मुलाकात के बारे में बताता है। उसकी माता यह नहीं चाहती कि वह वापिस उसके पास जाए। मगर डैरी उसे बताता है कि श्री लैंब एक अलग इन्सान हैं। वह सोचता है कि यह एक ऐसा अवसर है जो उसे गँवाना नहीं चाहिए। इसलिए वह भागकर वापिस श्री लैंब के बाग में आता है। जब वह बाग में पहुँचता है तो वह देखता है कि श्री लैंब जमीन पर गिर गए हैं। वे सीढ़ी से गिरे हैं। वे सेबों तक पहुँचने का प्रयत्न कर रहे थे। दुर्भाग्यवश वे गिर गए। डैरी देखता है कि श्री लैंब मर चुके हैं। यह उसके लिए बहुत बड़ा सदमा है। वह रोता है क्योंकि उसने एक सच्चा मित्र खो दिया है।)

Question 6.
Write a brief summary of the play. (नाटक का संक्षिप्त सार लिखें।)
Answer:
This is a play about a young boy Derry and an old man, Mr Lamb. One side of Derry’s face got burned by acid when he was a child. He appears ugly. When people look at him, they have mixed reactions. Some hate him and some think that it is terrible. But most people avoid him. This attitude of people towards him has made Derry bitter. He thinks that people are afraid of him as if he were a ghost.

In turn, he also hates people and avoids them. He wants to spend time in lonely places where people would not stare at him. One day, he reaches the garden of Mr Lamb. He goes there thinking that there would be no one there. But he is surprised to see Mr Lamb. Derry wants to run away. But Mr Lamb is a friendly person. He welcomes Derry. He speaks words of love and hope. Derry is impressed. He goes to tell his mother about Mr Lamb. But when he comes back, he finds that Mr Lamb has fallen off a ladder while trying to reach apples. Derry finds that Mr Lamb is dead. His death makes Derry very sad.

(यह नाटक एक युवा लड़के डैरी और एक बूढ़े आदमी श्री लैंब के बारे में है। जब डैरी एक बच्चा था तो उसके चेहरे का एक भाग तेज़ाब से जल गया था। वह देखने में भद्दा लगता है। जब लोग उसे देखते हैं तो उनकी मिली-जुली प्रतिक्रियाएँ होती हैं। कुछ लोग उससे नफरत करते हैं और कुछ सोचते हैं कि यह बात भयानक है। लेकिन अधिकतर लोग उससे बचते हैं। उसके प्रति लोगों के दृष्टिकोण ने डैरी को कटु बना दिया है। वह सोचता है कि लोग उससे इस प्रकार डरते हैं जैसे कि वह कोई भूत है।

इसके बदले में वह भी लोगों से नफरत करता है और उनसे बचता है। वह अपना समय एकान्त स्थानों पर बिताना चाहता है जहाँ लोग उसे न घुरें। एक दिन वह श्री लैंब के बाग में पहुँच जाता है। वह वहाँ पर यह सोचकर जाता है कि वहाँ पर कोई नहीं होगा। मगर वह श्री लैंब को देखकर हैरान हो जाता है। डैरी वहाँ से भागना चाहता है। मगर श्री लैंब एक दोस्ताना व्यक्ति हैं। वे डैरी का स्वागत करते हैं। वे प्यार और आशा के शब्द बोलते हैं। हैरी प्रभावित हो जाता है। वह अपनी माता को श्री लैंब के बारे में बताने जाता है। मगर जब लौटकर आता है तो देखता है कि सेबों तक पहुँचने के प्रयास में श्री लैंब सीढ़ी से गिर गए हैं। डैरी देखता है कि श्री लैंब मर गए हैं। उनकी मौत डैरी को बहुत उदास बना देती है।)

Question 7.
Mr. Lamb has a different perspective of life ? How does he explain that there are other important things to stare at ? (जीवन के बारे में श्री लैंब का एक अलग ही दृष्टिकोण है? वह कैसे इस बात को समझाता है कि जीवन में ध्यान देने के लिए और भी बहुत-सी महत्त्वपूर्ण चीजें हैं?)
Answer:
Mr. Lamb is an old man. He is a man of wisdom. He has many practical experiences of life. He always sees the life in a positive view. He has a different perspective of life. One day a young man named Derry enters his garden. Derry has an ugly face and people avoid meeting him. Derry thinks that people hate him. But People are afraid of him. One side of his face is burnt. It got burnt by acid. His face looks ugly and so people avoid him and hate him. Some people show as if they do not mind his burned face. Yet Derry knows that they try to avoid him. Mr Lamb tells Derry that he does not hate him.

He says that soon he will get ripe crab apples to make them into jelly. He asks Derry if he would help him to pick apples. Derry thinks that like most other people, Mr Lamb is also trying to change the topic. But Mr Lamb assures Derry that he really does not dislike him. The real worth of a person is not in his looks or outer appearance. His real worth is in him. Mr Lamb says that there are weeds in his garden. Other people look down upon weeds. But he looks upon weeds as living, growing plants like any other plant. He means to say that he does not hate Derry. He looks upon Derry as any other boys.

(मि० लैंब एक बूढ़ा आदमी है। वह एक बुद्धिमान् आदमी है। वह हमेशा जीवन के सकारात्मक रूप को देखता है। जीवन के बारे में उसका भिन्न दृष्टिकोण है। एक दिन डैरी नाम का एक नवयुवक उसके बाग में प्रवेश करता है। उसका चेहरा भद्दा है और लोग उससे मिलने से कतराते हैं। डैरी सोचता है कि लोग उससे घृणा करते हैं लेकिन लोग उससे डरते हैं। उसके चेहरे का एक भाग जला हुआ है। यह तेज़ाब से जल गया था। उसका चेहरा भद्दा लगता है और इसलिए लोग उससे बचते हैं और उससे नफरत करते हैं। कुछ लोग यह दिखावा करते हैं कि वे उसके जले हुए चेहरे को बुरा नहीं समझते।

मगर डैरी जानता है कि वे उससे बचने की कोशिश करते हैं। श्री लैंब डैरी को बताते हैं कि वे उससे नफरत नहीं करते। वे कहते हैं कि शीघ्र ही उसकी पके हुए सेबों की फसल तैयार हो जाएगी जिनसे वह जैली बनाएगा। वे डैरी से पूछते हैं कि क्या वह उनकी सेब चुनने में सहायता करेगा। डैरी सोचता है कि अन्य लोगों की तरह श्री लैंब भी विषय को बदलना चाहते हैं। मगर श्री लैंब डैरी को विश्वास दिलाते हैं कि वे सचमुच उससे नफरत नहीं करते। एक व्यक्ति के वास्तविक गुण उसकी शक्ल या बाहरी रूप में नहीं होते। उसकी वास्तविक कीमत उसके अन्दर होती है। श्री लैंब कहते हैं कि उनके बाग में खरपतवार हैं। अन्य लोग इस खरपतवार से नफरत करते हैं। मगर वे इन खरपतवारों को अन्य पौधों की तरह जीवित, उगते हुए पौधे मानते हैं। उनके कहने का अर्थ है कि वे डैरी से नफरत नहीं करते। वे डैरी को अन्य लड़कों की तरह ही समझते हैं।)

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 6 On the Face of it

On the Face of it Summary in English and Hindi

On the Face of it Introduction to the Chapter
This is a play about a young boy Derry and an old man, Mr Lamb. One side of Derry’s face got burned by acid when he was a child. He appears ugly. When people look at him, they have mixed reactions. Some hate him and some think that it is terrible. But most people avoid him. This attitude of people towards him has made Derry bitter. He thinks that people are afraid of him as if he is a ghost. In turn, he also hates people and avoids them. He wants to spend his time in lonely places where people would not stare at him.

One day, he reaches the garden of Mr Lamb. He goes there thinking that there would be no one there. But he is surprised to see Mr Lamb. Derry wants to run away. But Mr Lamb is a friendly person. He welcomes Derry. He speaks words of love and hope. Derry is impressed. He goes to tell his mother about Mr Lamb. But when he comes back, he finds that Mr Lamb has fallen off a ladder while trying to reach apples. Derry finds that Mr Lamb is dead. His death makes Derry very sad.

(यह नाटक एक युवा लड़के डैरी और एक बूढ़े आदमी, श्री लैंब के बारे में है। जब डैरी एक बच्चा था तो उसका चेहरा एक तरफ से तेजाब के कारण जल गया था। वह देखने में कुरूप लगता है। जब लोग उसे देखते हैं तो उनकी मिली-जुली प्रतिक्रियाएँ होती हैं। कुछ लोग उससे नफरत करते हैं और कुछ सोचते हैं कि यह बात भयानक है। लेकिन अधिकतर लोग उससे बचते हैं। उसके प्रति लोगों के इस दृष्टिकोण ने डैरी को कटु बना दिया है। वह सोचता है कि लोग उससे इस प्रकार डरते हैं जैसे कि वह कोई भूत है। इसके बदले में वह भी लोगों से नफरत करता है और उनसे बचता है।

वह अपना समय एकांत स्थानों पर बिताना चाहता है, जहाँ लोग उसे न घुरें। एक दिन वह श्री लैंब के बाग में पहुँच जाता है। वह वहाँ पर यह सोचकर जाता है कि वहाँ पर कोई नहीं होगा। मगर वह श्री लैंब को देखकर हैरान हो जाता है। डैरी वहाँ से भागना चाहता है। मगर श्री लैंब एक दोस्ताना व्यक्ति हैं। वह डैरी का स्वागत करता है। वह प्यार और आशा के शब्द बोलता है। डैरी प्रभावित हो जाता है। वह अपनी माता को श्री लैंब के बारे में बताने जाता है। मगर जब वह लौटकर आता है तो देखता है कि सेबों तक पहुँचने के प्रयास में श्री लैंब एक सीढ़ी से गिर गए हैं। डैरी देखता है कि श्री लैंब मर गए हैं। उनकी मौत डैरी को बहुत उदास बना देती है।)

On the Face of it Summary
Derry is a young boy. One day he goes to a garden. This garden belongs to an old man named Mr Lamb. Derry thinks that there is nobody in the garden. He wants to spend time in a lonely place. Though the gate is open, but Derry does not know it. He scales a wall to enter the garden. Suddenly Derry sees Mr Lamb sitting in the garden. Derry is startled. He wants to go back, but Mr Lamb speaks to him in a kind tone. He tells Derry that he is welcome there. He tells him not to be afraid of him.

Derry says that he is not afraid of anybody. On the other hand, people are afraid of him. One side of his face is burnt. It got burnt by acid. His face looks ugly and so people avoid him and hate him. Some people show as if they do not mind his burned face. Yet Derry knows that they try to avoid him.

Mr Lamb tells him that he does not hate him. He says that soon he will get ripe crab apples to make them into jelly. He asks Derry if he would help him to pick apples. Derry thinks that like most other people, Mr Lamb is also trying to change the topic. But Mr Lamb assures Derry that he really does not dislike him. The real worth of a person is not in his looks or outer appearance. His real worth in him. Mr Lamb says that there are weeds in his garden. Other people look down upon weeds. But he looks upon weeds as living, growing plants like any other plant. He means to say that he does not hate Derry. He looks upon Derry as any other boys.

Mr Lamb tells Derry that he too has a physical deformity. He has an artificial leg. His real leg was blown off in the war. Children call him Lamely-Mr Lamb. But he does not mind it. He is not afraid of the children and children are not afraid of him. They come to him often and he gives them toffees. Mr Lamb advises Derry that he should also not mind what others say about his face. Mr Lamb tells Derry that beauty is not merely in the physical body. Real beauty lies within our spirits.

Handsome is he who handsome does. He reminds Derry of the fairy tale about the beauty and the beast. Derry already knows the tale. A beautiful princess kisses a beast. The beast then transforms into a handsome prince. This is because of the power of love. Derry knows the moral of the story also: “It is not what you look like. It is what you are inside.” The beautiful princess loved the monster because she could see the goodness in him.

Mr Lamb consoles Derry. He tells Derry that worse things could have happened to him. He could have been blind or born deaf. Derry says that other people have consoled him by telling him that many people bear their sufferings without any complaint. Derry has heard a woman say that the handicapped people like Derry should live with the other handicapped people only. But Mr Lamb does not agree to this. He says that physical deformity does not make people similar.

Everyone is unique because people have different ideas and thoughts. Derry thinks that Mr Lamb is peculiar. He wants to know how he has learned so much. Mr Lamb tells him that he has learnt all by watching, listening and thinking. He has a number of books. He listens to the humming music of the bees. He watches plants and trees. He thinks deeply over all these things.

Derry thinks that people are not friendly. So he hates most people. He avoids them and likes to remain aloof. But Mr Lamb tells him that if people are not friends, it does not mean that they are enemies. He advises him not to hate anybody. Hatred is worse than the acid that burnt his face, because hatred burns the inside of man. Mr Lamb tells him that keeping aloof will not help him.

Mr Lamb tells him the story of a man who was always afraid of meeting an accident or catching an infectious disease. He shut himself up in a room. He thought that by always remaining in a room he could avoid meeting an accident. But it was not so. He had an accident even in the room. A picture hanging on the wall fell on his head and he died.

Derry tells Mr Lamb that his parents are worried about him. They fear that because of his burnt face, Derry would not be able to get on with the world. When they are dead, nobody would take care of Derry. But Mr Lamb does not agree with this point of view. He tells Derry that he is a healthy boy. He had limbs, eyes, tongue, brain and everything else. He can get on with the world like others. He can even get better than most of the people.

Derry is impressed by the encouragement given to him by Mr Lamb. He tells him that he is going home to tell his parents that he will spend sometime with Mr Lamb. He tells Mr Lamb that it is risky for him to climb the lad mself killed. Mr Lamb tells him that he has learned the art of climbing the ladder in spite of being lame. Derry promises him that he will come back soon. Mr Lamb does not hope that he will come back. Derry rushes home because he thinks his mother would be worried.

He tells his mother about his meeting with Mr Lamb. His mother does not want that he should go back to him. But Derry tells her that Mr Lamb is a different man. He thinks that it is an opportunity that he should not miss. So he hurries back to Mr Lamb’s garden. When he reaches the garden, he finds that Mr Lamb has fallen on the ground. He has fallen off a ladder. He was trying to reach apples. Unluckily he fell off. Derry finds that Mr Lamb is already dead. This is a great shock to him. He weeps because he has lost a true friend.

(डैरी एक युवा लड़का है। एक दिन वह एक बाग में जाता है। यह बाग एक बूढ़े व्यक्ति श्री लैंब का है। डैरी सोचता है कि बाग में कोई नहीं है। वह किसी एकांत स्थान पर समय व्यतीत करना चाहता है। यद्यपि गेट खुला है, मगर डैरी को इस बात का पता नहीं है। वह दीवार फांदकर बाग में जाता है। अचानक डैरी श्री लैंब को बाग में बैठे हुए देखता है। डैरी डर जाता है। वह वापिस जाना चाहता है, मगर श्री लैंब उससे प्यार के लहजे में बात करते हैं। वे डैरी को बताते हैं कि उसका वहाँ पर स्वागत है। वे उससे कहते हैं कि वह उनसे न डरे। उन्होंने सीढ़ी पर चढ़ने की कला सीख ली है। डैरी उन्हें वायदा करता है कि वह शीघ्र ही वापिस आएगा। श्री लैंब को यह आशा नहीं है कि वह वापिस आएगा। डैरी शीघ्र घर जाता है, क्योंकि वह सोचता है कि उसकी माता चिन्तित होगी।

वह अपनी माता को श्री लैंब के साथ अपनी मुलाकात के बारे में बताता है। उसकी माता यह नहीं चाहती कि वह वापिस उसके पास जाए। मगर डैरी उसे बताता है कि श्री लैंब एक अलग इन्सान हैं। वह सोचता है कि यह एक ऐसा अवसर है जो उसे गंवाना नहीं चाहिए। इसलिए वह भागकर वापिस श्री लैंब के बाग में आता है। जब वह बाग में पहुँचता है तो वह देखता है कि श्री लैंब जमीन पर गिर गए हैं। वे सीढ़ी से नीचे गिर गए हैं। वे सेबों तक पहुँचने का प्रयत्न कर रहे थे। दुर्भाग्यवश वे गिर गए। डैरी देखता है कि श्री लैंब मर चुके हैं। यह उसके लिए बहुत बड़ा सदमा है। वह रोता है, क्योंकि उसने एक सच्चा मित्र खो दिया है।)

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 6 On the Face of it

On the Face of it Meanings

[Page 56-57] :
Strikes (starts) = आरम्भ करता है;
withdrawn (lonely) = अकेला/अंतर्मुखी;
occasional (sporadic) = कभी-कभी होने वाला;
rustling (soft sound) = सरसराहट की आवाज़;
tentatively (cautiously) = सावधानी से, अलग तरीके से;
startled (surprised) = हैरान;
mind (take care)= ध्यान देना;
windfalls (unforseen gain) = भाग्यवश लाभ;
afraid (fearing)= डरना;
panic (fear)= डर;
on account (because of) के कारण;
steal (pilfer)= चुराना;
scrump (steal) = चुराना;
pause (stop) = रुकना;
pretend (show) = ढोंग करना;
underneath (under) = नीचे।

[Page 58-59] :
Pick (pluck) = तोड़ना;
give me a hand (help me)= मेरी सहायता करो;
rubbish (worthless things) = बेकार की चीजें;
blown off (torm away in an explosion) = विस्फोट में अलग होना;
lamey (lame) = लंगड़ा;
beast (wild animal) = जंगली जानवर।

[Page 60-62] :
Worse off (in a worse condition) = बुरी हालत में;
monstrous (huge)= विशाल;
daft (mad) = पागल;
dribble (fall in drops/slaver)= लार टपकना;
cruel (unkind) = दयाहीन;
peculiar (strange)= अजीब;
hive (beehive) = मधुमक्खियों का छत्ता;
buzz (sound made by bees) = मधुमक्खियों की भिनभिनाहट;
trespassing (illegal entry) = गैर-कानूनी प्रवेश;
lost (gone forever) = सदा के लिए गया;
altogether (completely) = पूरी तरह।

[Page 68] :
Bound to (sure to happen) = आवश्यक होने वाला;
shifting (moving) बदलना हिलना;
thomping (beating) थपथपाना;
steady (firm) = मजबूत;
swishes (loud hissing sound) = सर्र-सर्र की आवाज़;
stops dead (stops suddenly) = अचानक रुक जाना।

On the Face of it Translation in Hindi

This is a play featuring an old man and a small boy meeting in the former’s garden. The old man strikes up a friendship with the boy who is very withdrawn and defiant. What is the bond that unites the two?
(यह नाटक एक बूढ़े व्यक्ति और एक लड़के के बारे में है जो पहले वाले व्यक्ति अर्थात् बूढ़े व्यक्ति के बगीचे में मिलते हैं। बूढ़ा व्यक्ति उस अंतर्मुखी और तिरस्कारपूर्ण लड़के से दोस्ती कर लेता है। वह कौन-सा बंधन है जो इन दोनों को जोड़ता है ?)

Scene One
Mr Lamb’s garden [There is the occasional sound of birdsong and of tree leaves rustling. Derry’s footsteps are heard as he walks slowly and tentatively through the long grass. He pauses, then walks on again. He comes round a screen of bushes so that when Mr Lamb speaks to him he is close at hand and Derry is startled]

दृश्य एक
(श्री लैंब का बगीचा [कभी-कभी पक्षियों की आवाज़ और वृक्ष के पत्तों की सरसराहट सुनाई देती है। डैरी के कदमों की आहट सुनाई देती है जब वह धीरे-धीरे और सावधानी से लम्बी घास में चलता है। वह रुकता है, फिर आगे बढ़ जाता है। वह घूमता हुआ झाड़ियों की एक बाड़ के सामने आ जाता है, अतः जब श्री लैंब उसे सम्बोधित करते हैं तो वह पास ही होता है और डैरी चौंक जाता है।)
MR LAMB : Mind the apples!
DERRY : What ? Who’s that ? Who’s there ?
MR LAMB : Lamb’s my name. Mind the apples. Crab apples those are. Windfalls in the long grass. You could trip.
DERRY : I……there…….I thought this was an empty place. I didn’t know there was anybody here ……….
MR LAMB : That’s all right. I am here. What are you afraid of boy? That’s all right.
DERRY : I thought it was empty ……….an empty house.
MR LAMB : So it is. Since I’m out here in the garden. It is empty. Until I go back inside. In the
meantime, I’m out here and likely to stop. A day like this. Beautiful day. Not a day to
be indoors.
(श्री लैंब : सेबों का ध्यान रखो!
डैरी : क्या ? यह कौन है ? कौन है वहाँ ?
श्री लैंब : मेरा नाम लैंब है। सेबों का ध्यान रखो। वे कैब सेब हैं। हवा से लम्बी घास में गिर गए हैं। तुम्हारे पैर उन पर पड़ सकते हैं।
डैरी: मैं……वहाँ….मैंने तो सोचा था कि यह जगह खाली है। मुझे नहीं पता था कि यहाँ कोई है………।
श्री लैंब : कोई बात नहीं। मैं यहाँ हूँ। लड़के, तुम क्यों डर रहे हो ? कोई बात नहीं। डैरी : मैंने सोचा था कि यह खाली है…..एक खाली घर। श्री लैंब
डैरी : ऐसा ही है। क्योंकि आज मैं बगीचे में हूँ। यह खाली है। जब तक कि मैं वापस अन्दर न जाऊँ। इस बीच मैं यहाँ बाहर हूँ और सम्भावना है कि ठहर जाऊँ। ऐसा खूबसूरत दिन। सुन्दर दिन। घर के अन्दर बैठने का दिन नहीं।)
DERRY : [Panic] I’ve got to go.
MR LAMB: Not on my account. I don’t mind who comes into the garden. The gate’s always open. Only you climbed the garden wall.
DERRY : [Angry] You were watching me.
MR LAMB : I saw you. But the gate’s open. All welcome. You’re welcome. I sit here. I like sitting.
(डैरी : [डर से] मुझे जाना है।
श्री लैंब : मेरे कारण नहीं। मुझे इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि बगीचे में कौन आता है। दरवाजा हमेशा खुला
रहता है। बस तुमने ही बगीचे की दीवार फाँदी।
डैरी: [क्रुद्ध] तुम मुझे देख रहे थे।
श्री लैंब : मैंने तुम्हें देखा था। पर दरवाजा खुला है। सबका स्वागत है। तुम्हारा स्वागत है। मैं यहाँ बैठता हूँ। मुझे बैठना पसंद है।)
DERRY : I’d not come to steal anything.
MR LAMB: No, no. The young lads steal…..scrump the apples. You’re not so young.
DERRY: I just…..wanted to come in. Into the garden.
MR LAMB: So you did. Here we are, then.
DERRY: You don’t know who I am.
MR LAMB: A boy thirteen or so.
DERRY: Fourteen. [Pause] But I’ve got to go now. Good-bye.
MR LAMB: Nothing to be afraid of. Just a garden. Just me.
DERRY: But I’m not…..I’m not afraid. [Pause] People are afraid of me.
MR LAMB: Why should that be?
(डैरी : मैं कुछ चुराने नहीं आया था। श्री लैंब : नहीं, नहीं। छोटे लड़के चुराते हैं………सेब खाते हैं। तुम इतने छोटे नहीं हो।
डैरी : मैं केवल……….अंदर आना चाहता था। बगीचे में। श्री लैंब : तुम यही चाहते थे। फिर, हम दोनों यहाँ हैं।
डैरी : तुम नहीं जानते कि मैं कौन हूँ।
श्री लैंब : एक लड़का। तेरह या उसके आस-पास।
डैरी : चौदह। [विराम] पर अब मुझे जाना है। अलविदा।
श्री लैंब : डरने का कोई कारण नहीं। बस एक बगीचा। बस मैं।
डैरी : पर मैं नहीं…… मैं डरता नहीं हूँ। [विराम] लोग मुझसे डरते हैं।
श्री लैंब : ऐसा क्यों ?)

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 6 On the Face of it
DERRY: Everyone is. It doesn’t matter who they are, or what they say, or how they look. How they pretend. I know. I can see.
MR LAMB: See what?
DERRY: What they think.
MR LAMB: What do they think, then?
DERRY: You think…..’ Here’s a boy.’You look at me……and then you see my face and you think. ‘That’s bad. That’saterrible thing. That’s the ugliest thing Jever saw.’You think, ‘Poor boy.’ But I’m not. Not poor. Underneath, you are afraid. Anybody would be. I am.
When I look in the mirror, and see it, I’m afraid of me.
MR LAMB : No, Not the whole of you. Not of you. DERRY : Yes! [Pause]
(डैरी : हर आदमी डरता है। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि वे कौन हैं, या क्या कहते हैं, या कैसे दिखाई देते हैं। वे कैसा दिखावा करते हैं। मैं जानता हूँ। मैं समझ सकता हूँ।
श्री लैंब : क्या समझ सकते हो ? डैरी : वे क्या सोच रहे हैं।
श्री लैंब : तब, वे क्या सोचते हैं ?
डैरी : आप सोचते हो……. ‘यह एक लड़का है। तुम मेरी ओर देखते हो….. और तब तुम मेरा चेहरा देखते हो और तुम सोचते हो। ‘बहुत बुरा है। यह एक बहुत भयानक चीज़ है। इससे अधिक बदसूरत चीज़ मैंने आज तक नहीं देखी।’ तुम सोचते हो, ‘बेचारा लड़का। परन्तु मैं नहीं हूँ। बेचारा नहीं। मन-ही-मन में तुम डरते हो। कोई भी डरेगा। मैं डर जाता हूँ। जब मैं दर्पण देखता हूँ और इसे देखता हूँ, मैं स्वयं से डर जाता हूँ।
श्री लैंब : नहीं, तुम्हारा पूर्णरूप नहीं। तुम्हारा नहीं।
डैरी : हाँ। [विराम]
MR LAMB: Later on, when it’s a bit cooler, I’ll get the ladder and a stick, and pull down those crab apples. They’re ripe for it. I make jelly. It’s a good time of year, September. Look at them…..orange and golden. That’s magic fruit. I often say. But it’s best picked and
made into jelly. You could give me a hand.
DERRY: What have you changed the subject for? People always do that. Why don’t you ask me? Why do you do what they all do and pretend it isn’t true and isn’t there? In case I see you looking and mind and get upset? I’ll tell……you don’t ask me because you’re afraid to.
(श्री लैंब : बाद में, जब मौसम थोड़ा ठंडा हो जाए, मैं एक सीढ़ी और एक डंडा ले आऊँगा और उन क्रैब सेबों को तोगा। वे पूरी तरह पक चुके हैं। मैं जैली बनाऊँगा। सितम्बर, वर्ष का अच्छा समय होता है। उन्हें देखो. …..सन्तरी और सुनहरे। यह जादू फल है। मैं अकसर कहता हूँ। पर सर्वोत्तम यही है कि इसे तोड़कर जैली बनाई जाए।

तुम मेरी सहायता कर सकते हो। डैरी तुमने विषय क्यों बदल दिया? लोग सदा ऐसा ही करते हैं। तुम मुझसे पूछते क्यों नहीं ? तुम क्यों वही कर रहे हो जो सारे लोग करते हैं और दिखावा करते हो कि यह सच नहीं है और ऐसा है ही नहीं ? अगर मैं तुम्हें घूरता देखू और बुरा मानूँ और परेशान होऊँ ? मैं बताता हूँ……तुम पूछते नहीं क्योंकि तुम डरते हो।)
MR LAMB: You want me to ask…..say so, then.
DERRY: I don’t like being with people. Any people.
MR LAMB: I should say…..to look at it…..I should say, you got burned in a fire.
DERRY: Not in a fire. I got acid all down that side of my face and it burned it all away. It ate my face up. It ate me up. And now it’s like this and it won’t ever be any different.
MR LAMB: No.
(श्री लैंब : तुम चाहते हो कि मैं पूछू……तो ऐसा कहो। डैरी : मैं लोगों का साथ पसन्द नहीं करता। किसी भी तरह के लोगों का।
श्री लैंब : मैं कहूँगा…..ऊपर से देखने पर…..मैं कहूँगा, तुम आग से जले हो।
डैरी : आग से नहीं। मेरे चेहरे की उस पूरी तरफ तेज़ाब गिरा था और उसने इसे जला दिया। यह मेरे चेहरे को खा गया। यह मुझे खा गया। और अब ऐसा ही है जिसमें कभी कोई परिवर्तन नहीं होगा। श्री लैब : नहीं।)
DERRY : Aren’t you interested ? ।
MR LAMB: You’re a boy who came into the garden. Plenty do. I’m interested in anybody. Anything. There’s nothing God made that doesn’t interest me. Look over there…..over beside the far wall. What can you see?
डैरी : क्या तुम्हें कोई रुचि नहीं ?
श्री लैंब : तुम एक लड़के हो जो इस बगीचे में आए। बहुत-से आते हैं। मैं किसी भी व्यक्ति में रुचि रखता हूँ। हर वस्तु में। भगवान की बनाई कोई ऐसी वस्तु नहीं है जिसमें मेरी रुचि न हो। उधर देखो वहाँ…..दूर वाली दीवार के पास। तुम्हें क्या नज़र आता है ?)

DERRY: Rubbish.
MR LAMB: Rubbish? Look, boy, look…..what do you see?
DERRY: Just….grass and stuff. Weeds.
MR LAMB: Some call them weeds. If you like, then……a weed garden, that. There’s fruit and there are flowers, and trees and herbs. All sorts. But over there…..weeds. I grow weeds there. Why is one green, growing plant called a weed and another ‘flower’? Where’s
the difference. It’s all life….growing. Same as you and me.
DERRY : We’re not the same.
डैरी : बेकार की बात।
श्री लैंब : बेकार की बात ? देखो, लड़के, जरा ध्यान से देखो….तुम क्या देखते हो?
डैरी : बस……. घास और वैसी ही चीजें । जंगली पौधे। श्री लैंब : कुछ लोग उन्हें जंगली पौधे कहते हैं। अगर तुम चाहो तो…..एक जंगली पौधे का बगीचा है, वह । वहाँ हर प्रकार के फल, फूल, वृक्ष और बूटियाँ हैं। सभी प्रकार के। परन्तु वहाँ…..जंगली पौधे । मैं वहाँ जंगली पौधे उगाता हूँ। क्यों किसी हरे-भरे, बढ़ते पौधे को जंगली पौधा और किसी को ‘फूल’ कहते हैं? अन्तर कहाँ है ? यह सब जीवन है…..उगता हुआ। बिल्कुल तुम्हारी और मेरी तरह।
डैरी : हम एक-जैसे नहीं हैं।)
MR LAMB: I’m old. You’re young. You’ve got a burned face, I’ve got a tin leg. Not important. You’re standing there…I’m sitting here. Where’s the difference?
DERRY: Why have you got a tin leg?
MR LAMB: Real one got blown off, years back. Lamey-Mr Lamb, some kids say. Haven’t you heard them? You will. Lamey-Mr Lamb. It fits. Doesn’t trouble me.
(श्री लैंब : मैं बूढ़ा हूँ। तुम जवान हो। तुम्हारा चेहरा जला हुआ है, मेरी एक टाँग टीन की है। महत्त्वहीन बात । तुम वहाँ खड़े हो…. मैं यहाँ बैठा हूँ। अन्तर कहाँ है ?
डैरी : तुम्हारी टाँग टीन की क्यों है ?
श्री लैंब : कई साल पहले, असली टाँग एक विस्फोट में चली गई। कुछ बच्चे लेमी-श्री लैंब कहते हैं। क्या तुमने कभी उन्हें सुना नहीं है? तुम सुनोगे। लेमी-श्री लैंब। यह ठीक है। मुझे बुरा नहीं लगता।)
DERRY : But you can put on trousers and cover it up and no one sees, they don’t have to notice and stare.
MR LÁMB: Some do. Some don’t. They get tired of it, in the end. There are plenty of other things to stare at.
DERRY : Like my face. (डैरी : पर तुम पैन्ट पहन सकते हो और इसे ढक सकते हो और यह किसी को नहीं दिखेगा, उन्हें उस पर ध्यान देने या घूरने की आवश्यकता नहीं है। श्री लैंब : कुछ लोग ऐसा करते हैं। कुछ नहीं करते हैं। अंत में वे इससे थक जाते हैं। घूरने के लिए और बहुत-सी चीजें हैं। डैरी जैसे मेरा चेहरा।)
MR LAMB: Like crab apples or the weeds or a spider climbing up a silken ladder or my tall sunflowers.
DERRY: Things.
MR LAMB: It’s all relative. Beauty and the beast.
DERRY: What’s that supposed to mean?
MR LAMB : You tell me. (श्री लैंब : जैसे कि कैब सेब या जंगली पौधे या रेशमी सीढ़ियाँ चढ़ती हुई मकड़ी, या मेरे ऊँचे सूरजमुखी के फूल।
डैरी : वस्तुएँ।
श्री लैंब : यह सब तुलनात्मक है। सौन्दर्य और पशु।
डैरी : इसका क्या अर्थ होता है ?
श्री लैंब : मुझे तुम बताओ।)
DERRY: You needn’t think they haven’t all told me that fairy story before. ‘It’s not what you look like, it’s what you are inside. Handsome is as handsome does. Beauty loved the monstrous beast for himself and when she kissed him he changed into a handsome prince.’ Only he wouldn’t, he’d have stayed a monstrous beast. I won’t change.

तुम यह मत सोचना कि मुझे लोगों ने वह परियों की कहानी पहले नहीं सुनाई। ‘तुम जो दिखते हो, वह नहीं हो, तुम वह हो जो तुम अंदर से हो। सुन्दर वह होता है जो सुन्दर काम करता है। सुन्दर लड़की ने दैत्याकार पशु को प्यार किया और जब उसने उसे चूमा तो वह सुन्दर राजकुमार बन गया। पर वह ऐसा चाहता नहीं था, वह तो दैत्याकार पशु बने रहना अधिक पसन्द करता था। मैं बदलूँगा नहीं।)

MR LAMB: In that way? No, you won’t.
DERRY: And no one’ll kiss me, ever. Only my mother and she kisses me on the other side of my face, and I don’t like my mother to kiss me, she does it because she has to. Why should I like that? I don’t care if nobody ever kisses me.
(श्री लैंब : तुम किस तरीके से नहीं बदलोगे ? । डैरी : और मुझे कभी कोई नहीं चूमेगा। मेरी माँ के सिवाय, और उसने मुझे मेरे चेहरे के दूसरी तरफ चूमा और मुझे मेरी माँ का मुझे चूमना पसंद नहीं, वह चूमती है, क्योंकि उसे ऐसा करना पड़ता है। मैं इसे क्यों पसंद करूँ ? परवाह नहीं अगर मुझे कोई कभी नहीं चूमें।)
MR LAMB: Ah, but do you care if you never kiss them.
DERRY: What?
MR LAMB: Girls. Pretty girls. Long hair and large eyes. People you love.
DERRY: Who’d let me? Not one.
MR LAMB: Who can tell ?
(श्री लैंब : आह, पर अगर तुम उन्हें कभी न चूम सके तो क्या तुम इस बात की परवाह करोगे ?
डैरी : क्या ?
श्री लैंब : लड़कियाँ । सुन्दर लड़कियाँ । लम्बे-लम्बे बाल और बड़ी-बड़ी आँखें। वे लोग जिनसे तुम प्यार करते हो।
डैरी : मुझे चूमने कौन देगा ? एक भी नहीं। श्री लैंब : कौन जाने ?)
DERRY : I won’t ever look different. When I’m as old as you, I’ll look the same. I’ll still only have half a face.
MR LAMB : So you will. But the world won’t. The world’s got a whole face, and the world’s there to be looked at.
DERRY : Do you think this is the world ? This old garden ?
MR LAMB : When I’m here. Not the only one. But the world, as much as anywhere.
DERRY : Does your leg hurt you?
MR LAMB: Tin doesn’t hurt, boy!
(डैरी : मैं कभी भी अलग नज़र नहीं आऊँगा। जब मैं आपकी उम्र का हो जाऊँगा तो भी ऐसा ही लगूंगा। तब भी चेहरा आधा ही होगा। श्री लैंब : तुम ऐसे ही रहोगे। पर संसार नहीं। संसार का चेहरा पूरा है और यह संसार देखने के लिए है।
डैरी : क्या आपके विचार में संसार यही है ? यह पुराना बगीचा ?
श्री लैंब : जब मैं यहाँ हूँ। एकमात्र नहीं। पर वैसे ही जैसे संसार किसी अन्य स्थान पर है।
डैरी : क्या आपकी टाँग आपको दर्द करती है ?
श्री लैंब : टीन कष्ट नहीं देता, बेटे!)
DERRY: When it came off, did it?
MR LAMB: Certainly.
DERRY: And now? I mean, where the tin stops, at the top?
MR LAMB: Now and then. In wet weather. It doesn’t signify.
DERRY: Oh, that’s something else they all say. ‘Look at all those people who are in pain and brave and never cry and never complain and don’t feel sorry for themselves.’
MR LAMB: I haven’t said it.
(डैरी : जब यह कटी थी तो क्या इसने दर्द किया था ? श्री लैंब : अवश्य। डैरी : और अब? मेरा मतलब, जहाँ ऊपरी किनारे पर टीन की टाँग टकराती है ?
लैंब : अब और तब बरसात के मौसम में। यह कुछ खास नहीं है।
डैरी : ओह, लोग एक और बात भी कहते हैं। ‘उन लोगों की तरफ देखो जो कष्ट में हैं, बहादुरी से सामना करते हैं और न कभी रोते हैं, न शिकायत करते हैं और अपने ऊपर तरस नहीं खाते।’
श्री लैंब : मैंने ऐसा नहीं कहा है।)
DERRY: And think of all those people worse off than you. Think, you might have been blinded, or born deaf, or have to live in a wheelchair or be daft in your head and dribble.
MR LAMB: And that’s all true, and you know it.
(डैरी और उन सारे लोगों के बारे में सोचो जो तुम्हारी अपेक्षा अधिक बुरी हालत में हैं। सोचो, तुम अन्धे हो सकते थे, या बहरे पैदा हो सकते थे या तुम्हें व्हील चेयर में रहना पड़ सकता था, अथवा तुम ऐसे हो सकते थे जिनकी मन्दबुद्धि होती है और लार टपकती है। श्री लैंब : और यह सच है, और तुम यह जानते हो।)
DERRY : It won’t make my face change. Do you know, one day, a woman went by me in the street-I was at a bus-stop-and she was with another woman, and she looked at me, and she said….whispered….only I heard her…..she said, “Look at that, that’s a terrible
thing. That’s a face only a mother could love.”
MR LAMB: So you believe everything you hear, then?
DERRY: It was cruel.
MR LAMB: Maybe not meant as such. Just something said between them.
DERRY: Only I heard it. I heard.
MR LAMB: And is that the only thing you ever heard anyone say, in your life?
DERRY: Oh no! I’ve heard a lot of things.
MR LAMB: So now you keep your ears shut.
DERRY: You’re…………..peculiar. You say peculiar things. You ask questions. I don’t understand.
MR LAMB: I like to talk. Have company. You don’t have to answer questions. You dont have to
stop here at all. The gate’s open.
DERRY : Yes, but….
इससे मेरा चेहरा नहीं बदल जाएगा। आपको पता है, एक दिन, एक औरत गली में मेरे पास से गुजरीमैं एक बस-स्टॉप पर था और वह किसी अन्य औरत के साथ थी, और उसने मेरी ओर देखा, और वह बोली….बुड़बुड़ायी….केवल मैंने उसे सुना….वह बोली, “उसको देखो, कैसी भयानक चीज़ है। वह ऐसा चेहरा है जिसे कोई माँ ही प्यार कर सकती है।”
श्री लैंब : तो इसका अर्थ है तुम हर सुनी हुई बात पर विश्वास कर लेते हो ?
डैरी : यह क्रूर बात थी।
श्री लैंब : शायद इसका ऐसा अभिप्राय नहीं था। केवल आपस में कही गई कोई बात थी।
डैरी : केवल मैंने इसे सुना। मैंने सुना।
श्री लैंब : और क्या तुमने अपने जीवन में किसी द्वारा कही गई केवल यही बात सुनी है ?
डैरी : अरे नहीं! मैंने बहुत-सी बातें सुनी हैं।
श्री लैंब : तो अब तुम्हें अपने कान बन्द कर लेने चाहिएँ।
डैरी : तुम…………..अजीब हो। तुम अजीब बातें करते हो। तुम जो प्रश्न करते हो, मेरी समझ में नहीं आते हैं।
श्री लैंब : मुझे बात करना अच्छा लगता है। साथ रहना अच्छा लगता है। तुम्हें प्रश्नों के उत्तर देने की आवश्यकता नहीं है। तुम्हें यहाँ रुकने की भी आवश्यकता नहीं है। गेट खुला है।
डैरी : हाँ, लेकिन…..)
MR LAMB: I’ve a hive of bees behind those trees over there. Some hear bees and they say, bees buzz. But when you listen to bees for a long while, they humm….and hum means ‘sing’.I hear them singing, my bees.
(श्री लैंब : उन सामने वाले पेड़ों के पीछे, मेरे पास मधुमक्खियों का छत्ता है। कुछ लोग उन मधुमक्खियों की आवाज़ सुनकर कहते हैं वे भिनभिना रही हैं। पर जब आप काफी देर तक मधुमक्खियों की आवाज़ सुनते रहें, तो वे गुनगुनाने लगती हैं …….और गुनगुनाने का अर्थ है ‘गाना’। मैं उन्हें गाता हुआ सुनता हूँ, मेरी मधुमक्खियाँ।)
DERRY : But….I like it here. I came in because I liked it….when I looked over the wall.
MR LAMB : If you’d seen me, you’d not have come in.
DERRY : No.
MR LAMB : No.
DERRY : It’d have been tress
MR LAMB : Ah. That’s not why.
DERRY : I don’t like being near people. When they stare…. when I see them being afraid of me.
(डैरी : पर……यह जगह मुझे पसन्द है। मैं इसलिए अन्दर आया, क्योंकि यह मुझे पसन्द है……..जब मैंने दीवार के ऊपर से देखा।
श्री लैंब : अगर तुमने मुझे देख लिया होता, तो तुम न आते।
डैरी: नहीं। श्री लैंब : नहीं।
डैरी: यह अनाधिकृत प्रवेश होता। श्री लैंब : आह । यही कारण नहीं है।
डैरी : मैं लोगों के पास होना पसन्द नहीं करता। जब वे घूरते हैं….जब मैं उन्हें स्वयं से डरते देखता हूँ।)

MR LAMB: You could lock yourself up in a room and never leave it. There was a man who did that. He was afraid, you see. Of everything. Everything in this world. A bus might run him over, or a man might breathe deadly germs onto him, or a donkey might kick him to death, or lightning might strike him down, or he might love a girl and the girl would leave him, and he might slip on a banana skin and fall and people who saw him would laugh their heads off. So he went into this room, and locked the door, and got into his bed, and stayed there.

(श्री लैंब : तुम चाहो तो स्वयं को सदा के लिए एक कमरे में बंद कर सकते हो। एक आदमी था जिसने ऐसा किया। देखो, वह डरता था। हर चीज़ से। इस संसार की प्रत्येक वस्तु से। क्या पता कोई बस उसे कुचल दे, या कोई व्यक्ति सांस से उसके ऊपर घातक कीटाणु फेंक दे, या कोई गधा उसे दुलत्ती मारकर उसकी जान ले ले, या फिर बिजली उस पर पड़कर उसे गिरा दे, या फिर वह किसी लड़की से प्यार कर बैठे और वह लड़की उसे छोड़ दे, और हो सकता था कि वह किसी केले के छिलके पर फिसलकर गिर जाए और उसे देखने वाले हँस-हँसकर पागल हो जाएँ। इसलिए वह अपने कमरे में गया और दरवाजा बंद कर लिया, और अपने बिस्तर में लेट गया और वहीं रहा।)
DERRY : Forever?
MR LAMB: For a while.
DERRY : Then what?
MR LAMB: A picture fell off the wall on to his head and killed him.[Derry laughs a lot]
MR LAMB: You see?
DERRY: But…..you still say peculiar things.
MR LAMB: Peculiar to some.
DERRY: What do you do all day?
MR LAMB: Sit in the sun. Read books. Ah, you thought it was an empty house, but inside, it’s full. Books and other things. Full.
(डैरी : सदा के लिए ?
श्री लैंब : कुछ समय के लिए। डैरी : फिर क्या हुआ ?
श्री लैंब : दीवार से एक तस्वीर उसके सिर पर गिरी और वह मर गया। [डैरी बहुत हँसता है]
श्री लैंब : तुम समझे ?
डैरी: परन्तु….अब भी आपकी बातें अजीब लगती हैं।
श्री लैंब : कुछ लोगों को अजीब लगती हैं।
डैरी: तुम सारा दिन क्या करते हो ?
श्री लैंब : धूप में बैठता हूँ। किताबें पढ़ता हूँ। आह, तुम्हें लगा था कि यह घर खाली है, पर अन्दर से यह भरा पड़ा है। यह किताबों व अन्य वस्तुओं से भरा है। पूरा भरा है।)
DERRY : But there aren’t any curtains at the windows.
MR LAMB: I’m not fond of curtains. Shutting things out, shutting things in. I like the light and the darkness, and the windows open, to hear the wind.
DERRY : Yes. I like that. When it’s raining, I like to hear it on the roof.
MR LAMB : So you’re not lost, are you? Not altogether ? You do hear things. You listen.
(डैरी : मगर वहाँ खिड़कियों पर परदे नहीं हैं। श्री लैंब : मुझे परदों का शौक नहीं है। बाहर की चीज़ों को बन्द करना या छुपाना; अन्दर की चीज़ों को बन्द करना या छुपाना। मुझे प्रकाश और अंधकार पसन्द है, और खुली खिड़कियाँ, ताकि हवा सुनाई देती रहे।
श्री लैंब : हाँ। मुझे वह पसन्द है। जब वर्षा होती है तब छत पर इसकी आवाज़ सुनना मुझे पसन्द है।
डैरी : तो अभी तक तुमने स्वयं को नहीं खोया है, नहीं न ? पूरी तरह तो नहीं ? तुम चीजें सुनते हो। तुम सुनते हो।)
DERRY : They talk about me. Downstairs, when I’m not there. What’ll he ever do ? What’s going to happen to him when we’ve gone? How ever will he get on in this world ? Looking like that ? With that on his face ?’ That’s what they say.
MR LAMB: Lord, boy, you’ve got two arms, two legs and eyes and ears, you’ve got a tongue and a brain. You’ll get on the way you want, like all the rest. And if you chose, and set your mind to it, you could get on better than all the rest.
(डेरी : वे (मेरे माता-पिता) मेरे बारे में बातें करते हैं। नीचे, जब मैं वहाँ नहीं होता हूँ। ‘यह करेगा क्या ? हमारे मरने के बाद इसका क्या होगा ? इस संसार में यह कैसे रह पाएगा ? इस शक्ल के साथ ? चेहरे पर इन निशानों के साथ?’ वे ऐसी बातें करते हैं।
श्री लैंब : हे भगवान, लड़के, तुम्हारे दो बाजू हैं, दो टाँगें हैं और आँखें और कान हैं, तुम्हारे पास जीभ और दिमाग है। बाकी सभी लोगों की तरह तुम भी मनचाहे रास्ते पर चलोगे। और अगर तुमने चाहा और इस पर अपना दिमाग केंद्रित किया, तो तुम बाकी सब लोगों से अधिक अच्छा काम कर सकोगे।)
DERRY : How ?
MR LAMB : Same way as I do.
DERRY: Do you have any friends?
MR LAMB: Hundreds.
DERRY: But you live by yourself in that house. It’s a big house, too.
श्री लैंब : जैसे मैं करता हूँ।
डैरी : क्या तुम्हारा कोई मित्र है ?
श्री लैंब: सैकड़ों।
डैरी : पर आप इस घर में अकेले रहते हैं। यह घर बड़ा भी है।)
MR LAMB: Friends everywhere. People come in…. everybody knows me. The gate’s always open. They come and sit here. And in front of the fire in winter. Kids come for the apples and pears. And for toffee. I make toffee with honey. Anybody comes. So have you.
DERRY: But I’m not a friend.
MR LAMB : Certainly you are. So far as I’m concerned.What have you done to make me think you’re not?
DERRY : You don’t know me. You don’t know where I come from or even what my name is.
(श्री लैंब : हर स्थान पर मेरे मित्र हैं। लोग अन्दर आते हैं…..हर आदमी मुझे जानता है। गेट सदा खुला रहता है। लोग आते हैं और यहाँ बैठते हैं। और सर्दी में आग के सामने । बच्चे सेब और नाशपाती के लिए आते हैं। और टॉफी के लिए। मैं शहद की टॉफी बनाता हूँ। कोई भी आ जाता है। ऐसे ही तुम आए।
डैरी : पर मैं कोई मित्र नहीं हूँ।
श्री लैंब : निःसन्देह तुम मित्र हो। जहाँ तक मेरा सम्बन्ध है। तुमने ऐसा क्या किया है कि मैं समझू कि तुम मित्र नहीं हो।
हैरी : तुम मुझे जानते नहीं। तुम्हें यह भी नहीं मालूम कि मैं कहाँ से आया हूँ और मेरा क्या नाम है।)
MR LAMB : Why should that signify? Do I have to write all your particulars down and put them in a filing box, before you can be a friend ?
DERRY: I suppose….not. No.
MR LAMB: You could tell me your name. If you chose. And not, if you didn’t.
DERRY: Derry. Only it’s Derek…..but I hate that. Derry. If I’m your friend, you don’t have to be mine. I choose that.
MR LAMB: Certainly.
DERRY: I might never come here again, you might never see me again and then I couldn’t still be a friend.
MR LAMB: Why not?
(श्री लैंब : इसका अर्थ क्या है ? क्या मुझे तुम्हें मित्र बनाने से पहले तुम्हारे बारे में सारे तथ्यों को लिखकर एक बक्से में भरना होगा, इससे पहले कि मैं तुम्हें मित्र कह सकूँ?
डैरी: मेरा ख्याल है……नहीं। नहीं।
डैरी : तुम मुझे अपना नाम बता सकते हो। चाहो तो। और न चाहो तो नहीं।
डैरी : डैरी। वैसे यह डैरेक है…..पर मुझे उससे घृणा है।
डैरी : अगर मैं तुम्हारा मित्र हूँ, तुम्हें मेरा मित्र होने की आवश्यकता नहीं है। इस बात का चुनाव मैं करूँगा।
डैरी: निःसन्देह।
डैरी : मैं शायद यहाँ फिर कभी न आऊँ, तुम शायद मुझे फिर कभी न मिलो और तब मैं तुम्हारा मित्र नहीं रहूँगा।
श्री लैंब : क्यों नहीं?)
DERRY: How could I? You pass people in the street and you might even speak to them, but you never see them again. It doesn’t mean they’re friends.
MR LAMB: Doesn’t mean they’re enemies, either, does it?
DERRY: No they’re just….nothing. People. That’s all.
MR LAMB: People are never just nothing. Never.
DERRY: There are some people I hate.
MR LAMB That’d do you more harm than any bottle of acid. Acid only burns your face.

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 6 On the Face of it
DERRY: Only…
(डैरी : मैं मित्र कैसे हो सकता हूँ ? तुम सड़क पर चलते हुए लोगों के पास से गुजरते हो और शायद तुम उनसे बोलो भी, पर आप फिर उनसे मिलते नहीं हो। इसका अर्थ यह नहीं कि वे मित्र हो गए। श्री लैंब : इसका अर्थ यह भी नहीं कि वे शत्रु हो गए, है न?
डैरी: नहीं, बस वे हैं…..कुछ नहीं। लोग। और कुछ नहीं।
श्री लैंब : लोग कभी भी केवल कुछ नहीं होते। कभी नहीं।
डैरी: कुछ लोग हैं जिनसे मैं नफरत करता हूँ।
श्री लैंब : किसी तेज़ाब की बोतल की अपेक्षा इससे तुम्हें अधिक नुकसान होगा। तेज़ाब तो केवल चेहरा जलाता है।
डैरी: केवल……)
MR LAMB: Like a bomb only blew up my leg. There’s worse things can happen. You can burn yourself away inside.
DERRY: After I’d come home, one person said, “He’d have been better off stopping in there. In the hospital. He’d be better off with others like himself.” She thinks blind people only ought to be with other blind people and idiot boys with idiot boys.
MR LAMB: And people with no legs altogether?
DERRY: That’s right.
MR LAMB: What kind of a world would that be?
DERRY : At least there’d be nobody to stare at you because you weren’t like them.
(श्री लैंब : जैसे कि एक बम ने केवल मेरी टाँग उड़ा दी। इससे बुरी बहुत-सी बातें हो सकती हैं। तुम अपने-आपको अन्दर से जला सकते हो।
डैरी : मेरे घर आने के बाद एक व्यक्ति ने कहा, “अगर यह वहीं रहता तो इसके लिए बेहतर रहता। अस्पताल में। अपने जैसे अन्य लोगों के साथ वह अधिक अच्छा महसूस करता।” वह सोचती है कि अंधों को केवल दूसरे अंधों के साथ रहना चाहिए और बुद्धिहीन लड़कों को बुद्धिहीन लड़कों के साथ।
श्री लैंब : और वे लोग जिनकी कोई टाँग न हो सारे एक-साथ।
डैरी : बिल्कुल सही। श्री लैंब : वह संसार कैसा होगा ?
डैरी : कम-से-कम कोई ऐसा आदमी तो न होगा जो आपको केवल इसलिए घूरे कि आप उस जैसे नहीं हैं।)
MR LAMB : So you think you’re just the same as all the other people with burned faces ? Just by what you look like ? Ah…..everything’s different. Everything’s the same, but everything is different. Itself.
DERRY: How do you make all that out?
MR LAMB: Watching. Listening. Thinking.
DERRY: I’d like a place like this. A garden. I’d like a house with no curtains.
MR LAMB: The gate’s always open.
(श्री लैंब : तो तुम्हारा ख्याल है कि तुम बिल्कुल वैसे ही हो जैसे दूसरे जले हुए चेहरे वाले लोग हैं ? केवल इस कारण से कि तुम दिखाई कैसे देते हो ? आह…..हर बात अलग है। हर बात समान है, पर हर बात अलग है। अपने-आप। डैरी : आप इतना कुछ कैसे समझते हैं ?
श्री लैंब : देखकर। सुनकर। सोचकर।
डैरी: मैं इस तरह की जगह चाहता हूँ। एक बगीचा। मैं बिना परदों वाला घर चाहता हूँ। श्री लैंब दरवाजा सदा खुला रहता है।)
DERRY : But this isn’t mine.
MR LAMB: Everything’s yours if you want it. What’s mine is anybodys?
DERRY: So I could come here again? Even if you were out…I could come here.
MR LAMB: Certainly. You might find others here, of course.
DERRY: Oh…
MR LAMB: Well, that needn’t stop you, you needn’t mind.
DERRY: It’d stop them. They’d mind me. When they saw me here. They look at my face and run.
MR LAMB: They might. They might not. You’d have to take the risk. So would they.
DERRY: No, you would. You might have me and lose all your other friends because nobody wants to stay near me if they can help it.
MR LAMB: I’ve not moved.
DERRY: No…..
(डैरी : पर यह मेरा नहीं है। श्री लैंब : हर वस्तु जो तुम चाहो, वह तुम्हारी है। जो मेरा है वह हर किसी का है।
डैरी : तो मैं यहाँ फिर आ सकता हूँ ? चाहे तुम न भी हो…..मैं अंदर आ सकता हूँ।
श्री लैंब : जरूर। हाँ तुम्हें यहाँ दूसरे लोग भी मिल सकते हैं।
डैरी: ओह….. श्री लैंब : देखो, इस कारण तुम्हें आना बन्द करने की जरूरत नहीं है, न तुम्हें बुरा मानने की जरूरत है।
डैरी: इस कारण वे रुक जाएंगे। उन्हें मेरी उपस्थिति बुरी लगेगी। वे मेरे चेहरे को देखते ही भाग जाएँगे।
श्री लैंब : शायद । शायद नहीं भी। तुम्हें यह खतरा तो मोल लेना ही होगा। इसी प्रकार उन्हें भी।
डैरी : नहीं, खतरा मोल आपको लेना होगा। शायद आप मुझे तो बुला लें और अपने अन्य सारे मित्रों से हाथ धो बैठें, क्योंकि कोई मेरे पास ठहरना नहीं चाहता है, अगर वे लाचार न हों।
श्री लैंब : मैं तो नहीं भागा। डैरी
डैरी: नहीं…..)
MR LAMB: When I go down the street, the kids shout ‘Lamey-Lamb’. But they still come into the garden, into my house; it’s a game. They’re not afraid of me. Why should they be ?, Because I’m not afraid of them, that’s why not.
DERRY: Did you get your leg blown off in the war?
MR LAMB: Certainly.
DERRY: How will you climb on a ladder and get the crab apples down, then?
MR LAMB: Oh, there’s a lot of things I’ve learned to do, and plenty of time for it. Years. I take it steady.
DERRY: If you fell and broke your neck, you could lie on the grass and die. If you were on your own.
MR LAMB: I could.
(श्री लैंब : जब मैं गली में से गुजरता हूँ, बच्चे चिल्लाते हैं ‘लेमी-श्री लैंब’। पर वे फिर भी बगीचे में आते हैं, मेरे घर में आते हैं; यह एक खेल है। वे मुझसे डरते नहीं हैं। क्यों डरें? , क्योंकि मैं उनसे नहीं डरता हूँ, यही कारण है कि वे नहीं डरते हैं।
डैरी : क्या आपकी टाँग युद्ध में उड़ गई थी।
श्री लैंब : हाँ। डैरी : तो आप सीढ़ी पर कैसे चढ़ेंगे और कैब सेब को कैसे तोड़ेंगे।
श्री लैंब : ओह, मैंने बहुत-सी बातें करनी सीख ली हैं, और मेरे पास इसके लिए बहुत समय है। कितने ही वर्ष मैं इसे कसकर पकड़ता हूँ।
डैरी: अगर तुम गिरे और गर्दन टूट गई, तब तुम घास पर गिरकर मर सकते हो। अगर आप अकेले हो तो।
श्री लैंब : हो सकता है।)
DERRY : You said I could help you.
MR LAMB: If you want to.
DERRY: But my mother wants to know where I am. It’s three miles home, across the fields. I’m fourteen. But they still want to know where I am.
MR LAMB: People worry.
DERRY: People fuss.
MR LAMB: Go back and tell them.
(डैरी : आपने कहा कि मैं आपकी सहायता कर सकता हूँ।
श्री लैंब : अगर तुम चाहो तो। डैरी : पर मेरी माँ जानना चाहेगी कि मैं कहाँ हूँ। घर यहाँ से तीन मील दूर है, खेतों के पार । मैं चौदह का हूँ। पर फिर भी वे जानना चाहते हैं कि मैं कहाँ हूँ।
श्री लैंब : लोग चिन्ता करते हैं।
डैरी: लोग नाराज़ होते हैं।
श्री लैंब : वापिस जाओ और उन्हें बता दो।)
DERRY : It’s a three miles.
MR LAMB: It’s a fine evening. You’ve got legs.
DERRY: Once I got home, they’d never let me come back.
MR LAMB: Once you got home, you’d never let yourself come back.
DERRY: You don’t know……you don’t know what I could do.
MR LAMB: No. Only you know that.
DERRY: If I chose.
MR LAMB : Ah….if you chose. I don’t know everything, boy. I can’t tell you what to do.
(डैरी : तीन मील का रास्ता है। श्री लैंब : आज शाम मौसम अच्छा है। तुम्हारे पास टाँगें हैं।
डैरी : एक बार मैं घर पहुँच गया तो वे मुझे कभी वापिस नहीं आने देंगे।
श्री लैंब : अगर तुम एक बार घर पहुंच गए तो तुम खुद वापिस नहीं आओगे।
डैरी : तुम्हें नहीं पता…..तुम्हें नहीं पता कि मैं क्या कर सकता हूँ।
श्री लैंब : नहीं। यह तो केवल तुम जानते हो।
डैरी: अगर मैं चाहूँ….
श्री लैंब : आह……अगर तुम चाहो।
लड़के, मैं हर बात नहीं जानता। मैं तुम्हें नहीं बता सकता कि तुम्हें क्या करना चाहिए।)
DERRY : They tell me.
MR LAMB: Do you have to agree?
DERRY: I don’t know what I want. I want….something no one else has got or ever will have. Something just mine. Like this garden. I don’t know what it is.
MR LAMB: You could find out.
DERRY : How ? MR LAMB : Waiting. Watching. Listening. Sitting here or going there. I’ll have to see to the bees.
(डैरी : वे बताते हैं। श्री लैंब : क्या तुम्हें सहमत होना पड़ता है ?
डैरी : मुझे नहीं पता कि मैं क्या चाहता हूँ। मैं चाहता हूँ….कुछ ऐसा जो किसी के पास नहीं है और न कभी होगा। जैसे कि यह बगीचा। मुझे नहीं पता कि वह वस्तु क्या है।
श्री लैंब : तुम पता लगा सकते हो।
हैरी : कैसे ? श्री लैंब : प्रतीक्षा करके। देखकर। सुनकर। यहाँ बैठकर या वहाँ जाकर। मुझे मधुमक्खियों को देखना होगा।)
DERRY : Those other people who come here…..do they talk to you ? Ask you things ?
MR LAMB : Some do, some don’t. I ask them. I like to learn.
DERRY : I don’t believe in them. I don’t think anybody ever comes. You’re here all by yourself and miserable and no one would know if you were alive or dead and nobody cares.
डैरी : क्या अन्य लोग जो यहाँ पर आते हैं……क्या वे तुमसे बात करते हैं ? तुमसे कुछ पूछते हैं ?
श्री लैंब : कुछ करते हैं, कुछ नहीं करते हैं। मैं उनसे पूछता हूँ। मैं सीखना चाहता हूँ।
डैरी: मुझे उन पर विश्वास नहीं है। मेरे ख्याल से कभी कोई नहीं आता। तुम यहाँ बिल्कुल अकेले हो और दुःखी हो और कभी कोई भी नहीं जान पाएगा कि तुम जीवित हो या मृत और किसी को परवाह नहीं है।)

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 6 On the Face of it
MR LAMB: You think what you please.
DERRY: All right then, tell me some of their names.
MR LAMB: What are names? Tom, Dick or Harry. [Getting up I’m off down to the bees].
DERRY: I think you’re daft…..crazy…..
MR LAMB: That’s a good excuse.
DERRY: What for? You don’t talk sense.
MR LAMB : Good excuse not to come back. And you’ve got a burned-up face, and that’s other people’s excuse.
DERRY : You’re like the others, you like to say things like that. If you don’t feel sorry for my face, you’re frightened of it, and if you’re not frightened, you think I’m ugly as a devil. I am a devil. Don’t you ? [Shouts]
(श्री लैंब : तुम जैसा चाहो सोचो।।
डैरी : अच्छा फिर ठीक है, मुझे उनमें से कुछ के नाम बताओ।
श्री लैंब : नाम में क्या है ? टॉम, डिक और हैरी। [(उठते हुए)] मैं चला मधुमक्खियों की ओर । डैरी
डैरी: मेरा ख्याल है तुम मूर्ख हो ……. पागल …….
श्रीलैंब : यह अच्छा बहाना है।
हैरी : किस लिए ? तुम बुद्धिमत्तापूर्ण की बात नहीं करते।
श्री लैंब : वापिस न आने का अच्छा बहाना। और तुम्हारा चेहरा जला हुआ है, और यह दूसरे लोगों का बहाना है (तुम्हारे पास न आने का)। : तुम दूसरों की तरह हो, तुम इस तरह की बातें कहना पसंद करते हो। अगर तुम मेरे चेहरे पर तरस नहीं खाते, तो तुम इससे डरते हो, और अगर तुम डरते नहीं हो तो तुम सोचते हो कि मैं बहुत बदसूरत हूँ। मैं कोई शैतान हूँ। क्या तुम ऐसा नहीं सोचते ? [चीखता है] [Mr Lamb does not reply. He has gone to his bees.]
DERRY : [Quietly] No. You don’t. I like it here. [Pause. Derry gets up and shouts.] I’m going. But I’ll come back. You see. You wait. ‘I can run. I haven’t got a tin leg. I’ll be back. [Derry runs off. Silence. The sounds of the garden again.] ([श्री लैंब कोई उत्तर नहीं देते हैं। वह अपनी मधुमक्खियों के पास चला गया है।]
हैरी : [शांति से] नहीं। तुम नहीं। मुझे यह स्थान पसन्द है। [विराम]
डैरी: खड़ा होता है और चीखता है। मैं जा रहा हूँ। परन्तु मैं वापिस आऊँगा। देख लेना। तुम प्रतीक्षा करना। मैं दौड़ सकता हूँ। मेरी टाँग टीन की नहीं है। मैं वापिस आऊँगा। [डैरी दौड़ जाता है। चुप्पी। फिर बगीचे की आवाज़ आती है।)
MR LAMB : [To himself] There my dears. That’s you seen to. Ah……you know. We all know. “I’ll come back”. They never do, though. Not them. Never do come back. [The garden noises fade.]
(श्री लैंब : [अपने-आप से] ये मेरे प्यारे हैं। यह तो तुम देख चुके हो। आह…….तुम जानते हो। हम सब जानते हैं। “मैं वापिस आऊँगा।” परन्तु वे कभी नहीं आते हैं। वे नहीं। कभी वापिस नहीं आते। [बगीचे का शोर धीरे-धीरे समाप्त हो जाता है)

Scene Two
Derry’s house.
MOTHER: You think I don’t know about him, you think. I haven’t heard things.
DERRY: You shouldn’t believe all you hear.
MOTHER: Been told. Warned. We’ve not lived here three months, but I know what there is to know and you’re not to go back there.
DERRY: What are you afraid of? What do you think he is? An old man with a tin leg and he lives in a huge house without curtains and has a garden. And I want to be there, and sit and…..listen to things. Listen and look.

दृश्य दो
(डैरी का घर। : क्या तुम सोचते हो मैं उसके बारे में नहीं जानती, तुम सोचते हो मैंने कोई चीज़ नहीं सुनी।
माँ : तुमने जो सुना तुम्हें उस पर विश्वास नहीं करना चाहिए।
हैरी : मुझे बताया गया है। चेतावनी दी गई है। हम यहाँ तीन महीने से नहीं रह रहे थे, परन्तु मैं यह जानती हूँ अब तुम वहाँ दोबारा नहीं जाओगे।
माँ : आप किस बात से डरती हैं ? तुम्हारे अनुसार वह कौन है ? वह बूढ़ा आदमी जिसकी टीन की टाँग है जो बगैर पर्दे के एक बहुत बड़े घर में रहता है वहाँ एक बाग है। मैं वहाँ पर गया और बैठा…..
बहुत- सी चीजें सुनीं। सुनीं और देखीं।)
MOTHER : Listen to what ?
DERRY: Bees singing. Him talking.
MOTHER: And what’s he got to say to you?
DERRY: Things that matter. Things nobody else has ever said. Things I want to think about.
MOTHER: Then you stay here and do your thinking. You’re best off here.
DERRY: I hate it here.
MOTHER: You can’t help the things you say. I forgive you. It’s bound to make you feel bad things….and say them. I don’t blame you.
(माँ : क्या सुना ?
डैरी: मधुमक्खियों का गुनगुनाना। उसका बोलना।
माँ: और उसके पास तुम्हें कहने के लिए क्या है ?
डैरी: महत्त्वपूर्ण बातें। वे बातें जो आज तक किसी और ने मुझे नहीं बताईं। वे बातें जिनके बारे में सोचना चाहता हूँ।
माँ : तो तुम यहीं ठहरो और सोचो। तुम यहीं पर ठीक हो।
डैरी : मुझे इस स्थान से घृणा है।
माँ : जो कुछ तुम कह रहे हो उस पर तुम्हारा बस नहीं है। मैं तुम्हें माफ करती हूँ। तुम्हारा बुरा मानना अवश्यम्भावी है…और तुम कह लो। मैं तुम्हें दोष नहीं देती।)
DERRY : It’s got nothing to do with my face and what I look like. I don’t care about that and it isn’t important. It’s what I think and feel and what I want to see and find out and hear. And I’m going back there. Only to help him with the crab apples. Only to look at things and listen. But I’m going.
(डैरी : इसका मेरे चेहरे या मैं कैसा दिखता हूँ से कोई संबंध नहीं है। मुझे उसकी कोई चिंता नहीं है और न ही उसका कोई महत्त्व है। महत्त्व इस बात का है कि मैं क्या सोचता हूँ और क्या अनुभव करता हूँ और इसका कि मैं क्या देखना चाहता हूँ और पता लगाता और सुनता हूँ। और मैं वहाँ वापिस जा रहा हूँ। केवल कैब सेबों में उसकी सहायता के लिए। केवल चीज़ों को देखने और सुनने के लिए। लेकिन मैं जा रहा हूँ।)।
MOTHER: You’ll stop here.
DERRY : Oh no, oh no. Because if I don’t go back there, I’ll never go anywhere in this world again. [The door slams. Derry runs, panting.] And I want the world…..I want it……I want it…… [The sound of his panting fades.]
माँ : तुम यहीं रुकोगे।
डैरी: ओ नहीं, ओ नहीं। क्योंकि अगर मैं वापिस न गया तो फिर मैं इस संसार से कभी कहीं नहीं जा पाऊँगा। [दरवाज़ा बंद होता है। डैरी हाँफता हुआ दौड़ता है। और मुझे संसार चाहिए……मुझे चाहिए……मुझे चाहिए…… [हाँफने की आवाज़ समाप्त हो जाती है।])

Scene Three

Mr Lamb’s garden [Garden sounds: the noise of a branch shifting; apples thumping down; the branch shifting again.]
MR LAMB: Steady……that’s…….got it. That’s it…..[More apples fall] And again. That’s it…..and…. [A creak. A crash. The ladder falls back, Mr Lamb with it. A thump. The branch swishes back. Creaks. Then silence. Derry opens the garden gate, still panting.]

दृश्य तीन
(श्री लैंब का बगीचा। [बगीचे की आवाजें : किसी डाल के हिलने की आवाज़; सेबों का धम्म से गिरना; डाल का फिर से हिलना ।
श्री लैंब : रुको…..हाँ ठीक है…..पकड़ लिया। यही है……[और सेब गिरते हैं। और दोबारा। वह यह है….. और…….. [चटखने की आवाज़। गिरने की आवाज़। सीढ़ी और उसके साथ श्री लैंब गिरते हैं। एक धम्म की आवाज। डाली वापस उठ जाती है। आवाज़। फिर सन्नाटा। डैरी बगीचे का दरवाजा खोलता है, अभी भी हाँफ रहा है।)
Derry : You see, you see! I came back. You said I wouldn’t and they said…..but I came back, I wanted…. [He stops dead. Silence.] Mr Lamb, Mr …..You’ve…. [He runs through the grass. Stops. Kneels]
Mr Lamb, It’s all right….You fell…..I’m here, Mr Lamb, It’s all right. [Silence] I came back. Lamey-Lamb. I did…..come back. [Derry begins to weep.]

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 6 On the Face of it

The End
(डैरी : तुम देखो, तुम देखो! मैं वापिस आ गया हूँ। तुम कहते थे मैं नहीं आऊँगा और वे कहते थे…..पर मैं आ गया, मैं चाहता था….. [वह एकदम रुक जाता है। सन्नाटा।]
श्री लैंब, श्री……..आप…….. [वह घास पर दौड़ता है। रुकता है। घुटनों पर झुकता है।]
श्री लैंब, कोई बात नहीं…….आप गिर गए……मैं यहाँ हूँ, श्री लैंब, कोई बात नहीं। [सन्नाटा]
मैं वापिस आ गया। लेमी-लैंब। सचमुच…..वापिस आ गया। [डैरी रोने लगता है।] समाप्त।

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 5 Should Wizard Hit Mommy?

Haryana State Board HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 5 Should Wizard Hit Mommy? Textbook Exercise Questions and Answers.

Haryana Board 12th Class English Solutions Vistas Chapter 5 Should Wizard Hit Mommy?

HBSE 12th Class English Should Wizard Hit Mommy Textbook Questions and Answers

Question 1.
What is the moral issue that the story raises? [H.B.S.E. 2020 (Set-C)] (यह कहानी किस नैतिक प्रश्न को उठाती है?)
Answer:
The story presents two viewpoints. The first is the adult’s view of the world and the second is the children’s view. The story raises the moral issue of whether parents should impose their own point of view on their children. The parents want that their children should be obedient. They should accept their viewpoints. On the other hand, the children have their own questions which must be satisfied. Jack tells his daughter Jo a story. She does not like the ending of the story. She wants that the wizard should hit the skunk’s mommy for giving him his bad smell back. But Jack defends the skunk’s mommy.

(कहानी दो दृष्टिकोण प्रस्तुत करती है। पहला वयस्क लोगों का संसार के बारे में दृष्टिकोण है और दूसरा एक बच्चे का दृष्टिकोण है। कहानी इस नैतिक सवाल को उठाती है कि क्या माता-पिता को अपना दृष्टिकोण अपने बच्चों पर थोपना चाहिए। माता-पिता चाहते हैं कि उनके बच्चे आज्ञाकारी बनें। वे उनके दृष्टिकोण को स्वीकार करें। दूसरी ओर, बच्चों के अपने प्रश्न होते हैं जिन्हें संतुष्ट किया जाना चाहिए। जैक अपनी बेटी जोअ को एक कहानी सुनाता है। उसे कहानी का अंत पसंद नहीं है। वह चाहती है कि जादूगर स्कंक की मम्मी को पीटे क्योंकि उसने स्कंक को उसकी बुरी गंध वापिस दिलवा दी। मगर जैक स्कंक की माता का पक्ष लेता है।)

Question 2.
How does Jo want the story to end and why? (जोअ कहानी का अन्त किस प्रकार एवं क्यों करवाना चाहती है?)
OR
Why does Jo want that the wizard should hit the mommny? Does her stand reflect a child’s perspective on life? What is your choice? (जोअक्यों चाहता है कि जादूगर मम्मी पर प्रहार करे? क्या उसका निर्णय एक बच्चे का जिन्दगी के बारे में दृष्टिकोण व्यक्त करता है? तुम्हारा चयन क्या है?) [H.B.S.E: March, 2019 (Set-B)]
Answer:
Jo wants that the wizard should not give the skunk his bad smell back. He should not agree to the demand of the skunk’s mommy. She wants that the wizard should hit the skunk’s mommy. She wants the story to end in this way because she has sympathy with the skunk. She thinks that his mommy is stupid.

(जोअ चाहती है कि जादूगर स्कंक को उसकी बुरी गंध वापिस न दे। उसे स्कंक की माता की माँग को नहीं मानना चाहिए। वह चाहती है कि जादूगर स्कंक की माता को पीटे। वह चाहती है कि कहानी इस तरह से समाप्त हो क्योंकि उसे स्कंक से सहानुभूति है। वह सोचती है कि मम्मी मूर्ख है।)

Question 3.
Why does Jack insist that it was the wizard that was hit and not the mother? (जैक इस बात पर जोर क्यों देता है कि जादूगर पर प्रहार हुआ न कि माता पर?)
Answer:
In Jack’s story, the skunk’s mother wants that her child should smell like a skunk and not like roses. She goes to the wizard and compels him to give the skunk his smell back. Jack defends the mother’s action. He thinks that a mothers have the right to decide how their children should smell. The wizard has no right to change the skunk’s smell without his mother’s consent.

(जैक की कहानी में, स्कंक की माता चाहती है कि उसके बच्चे की गंध एक स्कंक की तरह हो, न कि गुलाबों की तरह। वह जादूगर के पास जाती है और उसे मजबूर करती है कि वह स्कंक को उसकी गंध वापिस कर दे। जैक माता के काम का पक्ष लेता है। वह सोचता है कि एक माता को यह फैसला करने का अधिकार है कि उसके बच्चे की गंध कैसी होनी चाहिए। जादूगर को स्कंक की माता की अनुमति के बिना स्कंक की गंध बदलने का अधिकार नहीं है।)

Question 4.
What makes Jack feel caught in an ugly middle position? (जैक ऐसा क्यों महसूस करता है कि वह मध्य की खराब अवस्था में फँस गया है?)
Answer:
Jack’s daughter Jo does not like the ending of the story told by him. She wants that the wizard should hit the skunk’s mommy. Jack cannot decide what is right. Is the mother right to decide what her child will be like? Or should the children be allowed to shape their own lives. So Jack feels caught in an ugly middle position.

(जैक की बेटी जोअ को उस द्वारा सुनाई गई कहानी का अन्त पसंद नहीं है। वह चाहती है कि जादूगर स्कंक की माता की पिटाई करे। जैक यह फैसला नहीं कर पाता कि क्या सही है। क्या माता यह फैसला करने में सही है कि उसका बच्चा किस प्रकार का दिखे या बच्चों को अपना जीवन खुद बनाने की अनुमति दी जाए। इसलिए जैक महसूस करता है कि वह मध्य की खराब हालत में फँस गया है।)

Question 5.
What is your stance regarding the two endings to the Roger Skunk story? (रोज़र स्कंक की कहानी के दो अन्तों के प्रति आपका दृष्टिकोण क्या है?)
Answer:
I think that Roger Skunk’s mother was right. One should like to establish his own identity in the society. We cannot change ourselves according to the whims of everyone in the society. We should be proud of what we are. That is why, Roger Skunk’s mother got his smell back for him. In the end, the other animals of the forest got used to his smell and played with him.

(मेरे विचार में स्कंक की माता सही थी। व्यक्ति को समाज में अपनी खुद की पहचान बनानी चाहिए। हम अपने-आपको समाज में हर किसी की इच्छा के अनुसार नहीं बदल सकते। हम जो कुछ हैं, हमें उस पर गर्व होना चाहिए। इसीलिए रोज़र स्कंक की माता ने उसकी गंध उसे वापिस दिला दी। अंत में जंगल के अन्य जानवर उसकी गंध के आदी हो गए और उसके साथ खेलने लगे।)

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 5 Should Wizard Hit Mommy?

Question 6.
Why is an adult’s perspective on life different from that of a child’s? (जीवन के प्रति वयस्क व्यक्ति का दृष्टिकोण बच्चे के दृष्टिकोण से अलग क्यों होता है?)
Answer:
A child lives in dreams. He has no practical experience of the world. On the other hand, the adult has seen the world and experienced life. So an adult’s perspective on life is different from that of a child.

(बच्चा सपनों में रहता है, उसे संसार का व्यावहारिक अनुभव नहीं होता। दूसरी ओर वयस्क लोगों ने संसार को देखा है और जीवन का अनुभव लिया है। इसीलिए एक संसार के प्रति एक वयस्क का दृष्टिकोण एक बच्चे के दृष्टिकोण से भिन्न होता है।)

Read And Find Out

Question 1.
Who is Jo? How does she respond to her father’s story-telling? [H.B.S.E. 2017 (Set-B)] (जोअ कौन है ? वह अपने पिता द्वारा सुनाई गई कहानियों पर किस प्रकार प्रतिक्रिया व्यक्त करती है ?)
Answer:
Jo is a little girl. She is four years old. Her father often tells her stories. Jo has a critical mind. She often asks hers father difficult moral questions about his stories.
(जोअ एक छोटी-सी लड़की है। वह चार साल की है। उसका पिता अक्सर उसे कहानियाँ सुनाता है। जोअ का दिमाग आलोचनात्मक है। वह अक्सर अपने पिता से उसकी कहानियों के बारे में कठिन नैतिक प्रश्न पूछती है।)

Question 2.
What possible plot line could the story continue with? (कहानी किस सम्भावित कथानक पंक्ति की तरफ जा सकती है ?)
Answer:
Jo is not happy with the ending of the story. She wants that the wizard should hit the stupid mother. But Jack defends the mother’s action.
(जोअ कहानी के अन्त से प्रसन्न नहीं है। वह चाहती है कि जादूगर बेवकूफ मम्मी को पीटे, लेकिन जैक माँ के कार्य का पक्ष लेता है।)

Question 3.
What do you think was Jo’s problem? [H.B.S.E. 2017 (Set-A)] (आपके विचार में जो की समस्या क्या थी ?)
Answer:
Jo wanted that her father should tell the story again with a different ending. The wizard should punish the mother. Jack said that Skunk’s mother was right. But Jo was not convinced. She thought that the wizard should have hit Roger’s mommy as she was stupid.

(जोअ चाहती थी कि उसका पिता उस कहानी को अलग अंत के साथ फिर से सुनाए । जादूगर को माता को सजा देनी चाहिए थी। जैक ने कहा कि स्कंक की माता सही थी। मगर जोअ को यह बात जची नहीं। वह चाहती थी कि जादूगर को रोज़र की मम्मी को पीटना चाहिए था क्योंकि वह बेवकूफ थी।)

HBSE Class 12 English Should Wizard Hit Mommy Important Questions and Answers

Multiple Choice Questions
Select the correct option for each of the following questions : 

1. Who is the writer of the story ‘Should Wizard Hit Mommy’?
(A) John Updike
(B) John Dikeuk
(C) Kohn Dikeup
(D) Rohan Kanhai
Answer:
(A) John Updike

2. Who is Jo?
(A) an old lady
(B) a teacher
(C) a doctor
(D) a little girl
Answer:
(D) a little girl

3. What is the name of Jo’s father?
(A) Mack
(B) Jack
(C) Crack
(D) Pack
Answer:
(B) Jack

4. Who tells stories to Jo?
(A) her mother
(B) her brother
(C) her father
(D) her sister
Answer:
(C) her father

5. Jack’s stories are always about a little animal. What is its name?
(A) Roger
(B) Podger
(C) Hogger
(D) Cogger
Answer:
(A) Roger

6. In every story whom does Roger consult about his problem?
(A) a cat
(B) an owl
(C) a dog
(D) a fox
Answer:
(B) an owl

7. What suggestion does the owl give Roger about his problem?
(A) to consult a doctor
(B) to consult a teacher
(C) to consult a wizard
(D) to meet a lady
Answer:
(C) to consult a wizard

8. Where would Roger go in order to get the pennies?
(A) to the school
(B) to the well
(C) to the hospital
(D) to the bank
Answer:
(B) to the well

9. In the evening, from where did Roger’s father return?
(A) Houston
(B) California
(C) Boston
(D) Georgia
Answer:
(C) Boston

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 5 Should Wizard Hit Mommy?

10. What does now Jo ask her father?
(A) about sums of mathematics
(B) about politics
(C) about religion
(D) difficult moral questions
Answer:
(D) difficult moral questions

11. Why was the Skunk left alone?
(A) he was poor
(B) he had a bad smell
(C) he was small
(D) he was bad
Answer:
(B) he had a bad smell

12. What did Jo ask her father about magic?
(A) does he know magic
(B) should she learn magic
(C) are magicians good people
(D) if magic spells are real
Answer:
(D) if magic spells are real

13. What kind of bat did the wizard wear?
(A) a pointed blue hat
(B) a red hat
(C) a yellow hat
(D) a green hat
Answer:
(A) a pointed blue hat

14. What did Roger the Skunk want to smell like?
(A) a rose
(B) a nose
(C) a fish
(D) a dish
Answer:
(A) a rose

15. How much money did the Wizard demand from the Skunk for making him smell like roses?
(A) ten pennies
(B) seven pennies
(C) five pennies
(D) six pennies
Answer:
(B) seven pennies

16. Why did other animals no longer hate the Skunk?
(A) now he smelled like roses
(B) now he was big
(C) now he has handsome
(D) now he was kind
Answer:
(A) now he smelled like roses

17. Roger’s mother was not happy with him. She thought that Roger should smell like a
(A) rat
(B) cat
(C) owl
(D) Skunk
Answer:
(D) Skunk

18. After Roger’s mother had taken him to the Wizard, why she was happy?
(A) Roger smelled like her
(B) Roger had become handsome
(C) he had become fat
(D) he was intelligent
Answer:
(A) Roger smelled like her

19. How did Jo like the story to end?
(A) Roger’s mother should kill wizard
(B) the wizard should give back the smell of roses to Roger
(C) the wizard should have punished Roger’s mom
(D) Roger should have been happy with his shunk smell
Answer:
(C) the wizard should have punished Roger’s mom

Short Answer Type Questions
Question 1.
Jack began telling Jo stories when she was two years old. How things have changed now? (जैक ने जोअ को तब से कहानियाँ सुनाना आरम्भ किया जब वह दो साल की थी। हालात अब किस प्रकार बदल गए हैं?)
Answer:
Jack has been telling Jo stories since she was two years old. He could not invent new stories every day. So each story was similar. But now things have changed. She has become a little wiser. She asks difficult questions. Every answer does not satisfy her.

(जैक जोअ को उसे तब से कहानियाँ सुना रहा है जब वह दो साल की थी। वह रोज नई कहानियों का आविष्कार नहीं कर पाता। इसलिए हर कहानी एक जैसी होती थी। मगर अब हालत बदल गई है। वह कुछ समझदार हो गई है। वह कठिन प्रश्न पूछती है। हर उत्तर उसे संतुष्ट नहीं करता।)

Question 2.
Describe Jack’s style of story telling. (जैक के कहानी सुनाने के तरीके का वर्णन करें।) OR What kind of stories does Jo’s father tell her? [H.B.S.E. 2020 (Set-A)] (जोअ का पिता उसे किस प्रकार की कहानियाँ सुनाता था?)
Answer:
Jack cannot invent new stories every day. So every new story is only slightly different from the basic story. The story is always about a little animal called Roger like Roger Fish, Roger Squirrel, Roger Chipmunk, etc.

(जैक रोज नई कहानी का आविष्कार नहीं कर पाता, इसलिए हर नई कहानी मूलभूत कहानी से केवल थोड़ी-सी अलग होती है। कहानी सदा एक छोटे जानवर रोज़र के बारे में होती है, जैसे कि रोज़र मछली, रोज़र गिलहरी, रोज़र चिपमंक आदि।)

Question 3.
Who has a problem in Jack’s stories? Where would he go to get his problem solved? (जैक की कहानियों में किसको समस्या होती है? वह अपनी समस्या सुलझाने के लिए कहाँ जाता है?)
Answer:
In every story, Roger had a problem. He consulted a wise owl. The owl would tell him to consult a wizard who could solve every problem with his magic wand. The wizard would solve the problem but demanded a fee.
(हर कहानी में रोज़र की एक समस्या होती है। वह एक अक्लमंद उल्लू से संपर्क करता है। उल्लू उसे एक जादूगर से मिलने की सलाह देता है। जो हर समस्या को अपनी जादू की छड़ी से हल कर सकता है। जादूगर समस्या को हल कर देगा। मगर वह फीस माँगता है।)

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 5 Should Wizard Hit Mommy?

Question 4.
Where would Roger find the pennies for the wizard ? (रोज़र को जादूगर के लिए पेनियाँ कहाँ मिलती थीं?)
Answer:
Roger had always a few pennies short. The wizard would tell him to go the well where he could find the rest of the pennies. Roger would go the well, get the pennies, and paid them to the wizard. Then he would be happy and would play with the other animals.

(रोज़र के पास सदा ही कुछ पेनी कम पैसे होते हैं। जादूगर उसे कहता है कि वह एक कुएँ पर जाए जहाँ उसे बाकी की पेन्नियाँ मिल जाएंगी। रोज़र कुएँ पर जाएगा, पेन्नियाँ लेगा और जादूगर को देगा। तब वह प्रसन्न हो जाएगा और अन्य जानवरों के साथ खेलेगा।)

Question 5.
What happened in the evening in Jack’s stories? Why was Jo generally satisfied with the ending of the story?
(जैक की कहानियों में शाम को क्या होता था? आमतौर पर जोअ कहानी के अन्त से क्यों सन्तुष्ट होती थी?)
Answer:
In the evening, Roger’s father returned from Boston. The stories always ended with the description of the supper. Jo was always satisfied with the ending of the story as Roger’s problem was always solved.

(शाम को रोज़र का पिता बोस्टन से लौटकर आएगा। कहानियाँ सदा ही रात्रि के भोजन के वर्णन के साथ समाप्त होती थी। जोअ सदा ही कहानी के अंत से संतुष्ट होती थी क्योंकि रोज़र की समस्या सदा ही हल हो जाती थी।)

Question 6.
What change has come in Jo now? (अब जोअ में क्या परिवर्तन आ गया है?)
Answer:
Now Jo has grown a little older. She has developed a critical mind. She often asks her father difficult moral questions.
(अब जोअ कुछ बड़ी हो गई है। उसका दिमाग आलोचनात्मक हो गया है। वह अक्सर अपने पिता से कठिन नैतिक प्रश्न पूछती है।)

Question 7.
About whom does Jack tell his story? (जैक अपनी कहानी किसके बारे में सुनाता है?)
Answer:
Jack tells her a new story. It is about a skunk called Roger Skunk. Roger Skunk smells very bad. The other animals do not like his bad smell. They do not like to play with him. The skunk was left alone and wept.

(जैक उसे एक नई कहानी सुनाता है। यह रोज़र स्कंक नाम के एक जानवर के बारे में है। रोज़र स्कंक की गंध बहुत बुरी है। अन्य जानवर उसकी गंध को पसंद नहीं करते। वह उसके साथ खेलना पसंद नहीं करते। स्कंक अकेला रह गया और रोने लगा।)

Question 8.
Where did Roger Skunk go to solve his problem? (अपनी समस्या सुलझाने के लिए रोज़र स्कंक कहाँ गया?)
Answer:
As in Jack’s other stories, Roger Skunk went to a big tree. A big owl sat on the top branch of this tree. Roger Skunk told the owl, “I smell very bad. What can I do?” The wise owl thought and thought. Then he told Roger Skunk to go to the wizard as he could solve his problem.

(जैसा कि जैक की अन्य कहानियों में होता है, रोज़र स्कंक बड़े वृक्ष तक गया। उसकी सबसे ऊँची शाखा पर एक बड़ा उल्लू बैठा था। रोज़र स्कंक ने उल्लू से कहा, “मेरी गंध बहुत खराब है। मैं क्या कर सकता हूँ?” अक्लमंद उल्लू बहुत देर तक सोचता रहा। फिर उसने स्कंक से कहा कि वह जादूगर के पास जाए क्योंकि वह उसकी समस्या को हल कर सकता था।)

Question 9.
What did Jo ask her father when she interrupted his story? (जब जोअ ने अपने पिता की कहानी में दखल दिया तो उसने क्या पूछा?)
Answer:
Jo interrupted her father while he was telling her a story. She asked him if magic spells were real. Once Jack told her that spiders ate bugs, she then asked her mother if it was true. One day her mother had told her that God was in the sky and everywhere around us. She wondered if it was right. She asked Jack about it. Jack told her that all things were real in stories.

(जब उसका पिता उसे कहानी सुना रहा था तो उसने अपने पिता की बात में दखल दिया। उसने पूछा कि क्या जादू के प्रभाव सच्चे होते हैं। एक दिन जैक ने उसे बताया कि मकड़ियाँ कीड़े खाती हैं। तब उसने अपनी माता से पूछा कि क्या यह सच है। एक दिन उसकी माता ने उसे बताया था कि भगवान आकाश में है और हमारे चारों तरफ है। उसे हैरानी हुई कि क्या यह सच है। उसने जैक से इसके बारे में पूछा। जैक ने उसे बताया कि कहानियों में सब बातें सच्ची होती हैं।)

Question 10.
Describe the appearance of the wizard. (जादूगर के रूप का वर्णन करो।)
Answer:
Roger Skunk went to the wizard. He knocked at the wizard’s door. The wizard opened the door. He was a tiny old man. He had a long white beard and wore a pointed blue hat.

(रोज़र स्कंक जादूगर के पास गया। उसने जादूगर के दरवाजे पर दस्तक दी। जादूगर ने दरवाजा खोला। वह एक छोटा बूढ़ा आदमी था। उसकी लंबी सफेद दाढ़ी थी और उसने नुकीला नीला हैट पहना हुआ था।)

Question 11.
What did Roger Skunk tell the wizard about his problem? (रोज़र स्कंक ने जादूगर को अपनी समस्या के बारे में क्या कहा?) OR How did the wizard help Roger Skunk? [H.B.S.E. March, 2018 (Set-A)] (जादूगर रोज़र स्कंक की सहायता कैसे करता है?)
Answer:
The wizard asked Roger Skunk about his problem. Roger told him that he smelled very bad. All the other animals ran away from him. The wizard took out his magic wand. He asked Roger what he wanted to smell like. After thinking for some time, Roger replied that he wanted to smell like roses. The wizard waved his wand and Roger Skunk smelled like fresh roses.

(जादूगर ने रोज़र स्कंक से उसकी समस्या के बारे में पूछा। रोज़र ने उसे बताया कि उसकी गंध बहुत बुरी है। बाकी सब जानवर उससे दूर भागते हैं। जादूगर ने अपनी जादू की छड़ी निकाली। उसने रोज़र से पूछा कि वह किस तरह की सुगंध चाहता है। कुछ देर सोचने के बाद रोज़र ने उत्तर दिया कि वह चाहता है कि उसकी गंध गुलाब की हो। जादूगर ने अपनी छड़ी घुमाई और रोज़र स्कंक की गंध ताजे फूलों की तरह हो गई।)

Question 12.
How much money did the wizard demand of Roger Skunk? How did Roger arrange that money? (जादूगर ने रोज़र स्कंक से कितना पैसा माँगा? रोज़र ने उस पैसे का इन्तजाम कैसे किया?) OR How did Roger Skunk pay the wizard? (रोज़र ने जादूगर को पैसे कैसे दिए?) [H.B.S.E. March, 2019 (Set-A)]
Answer:
The wizard demanded seven pennies from Roger for having solved his problem. But Roger had only four pennies. The wizard asked to go to a magic well where he would find three pennies. Roger went there and found three pennies. He came back and gave those pennies to the wizard.

(जादूगर ने रोज़र से उसकी समस्या हल करने के नाम की सात पेन्नियाँ माँगी। मगर रोज़र के पास तो केवल चार पेन्नियाँ थीं। जादूगर ने रोज़र से जादू के कुएँ के पास जाने को कहा, जहाँ उसे तीन पेन्नियाँ मिलेंगी। रोज़र वहाँ गया और उसे तीन पेन्नियाँ मिली। वह वापिस आया और उसने वे पेन्नियाँ जादूगर को दी।)

Question 13.
What happened after Roger Skunk’s smell changed into that of roses? (जब रोज़र स्कंक की गंध गुलाबों जैसी हो गई तो क्या हुआ?)
Answer:
Due to the effect of the magic wand, now Roger Skunk smelled like roses. He ran into the jungle. He mixed with other animals. Now all the little creatures liked his smell. They gathered around him. They did not hate him and played many games with him.

(जादू की छड़ी के प्रभाव से अब रोज़र की गंध गुलाबों की तरह हो गई थी। वह जंगल में भाग गया। वह अन्य जानवरों से मिला। अब सब छोटे जानवर उसकी गंध को पसंद करते थे। वे उसके इर्द-गिर्द इकट्ठे हो गए। वे उससे नफरत नहीं करते थे और उसके साथ उन्होंने कई खेल खेले।)

Question 14.
What happened when Roger’s mother found that he smelled like roses? (जब रोज़र की माता को पता चला कि उसकी गंध गुलाब की तरह हो गई है तो क्या हुआ?)
Answer:
Roger came home. His mother found that he smelled of roses. She was not happy. She thought that Roger should smell like a skunk. She was angry with the wizard for giving Roger that smell.

(रोज़र घर आया। उसकी माता ने देखा कि उसकी गंध गुलाब के फूलों जैसी है। वह खुश नहीं हुई। उसने सोचा कि रोज़र की गंध एक स्कंक जैसी होनी चाहिए। वह जादूगर से इस बात के लिए नाराज हुई कि उसने रोज़र को गुलाब की गंध दे दी थी।)

Question 15.
What happened after Roger Skunk smelled very bad again? (जब रोजर स्कंक से फिर दुर्गंध आने लगी तो क्या हुआ?)
Answer:
Roger Skunk’s mother took Roger back to the wizard. She hit the wizard on the head. She asked r’s real smell. Roger and his mommy came back home. Roger’s father had come back from Boston. They had the supper together. Now Roger’s mother was happy. She loved Roger Skunk because now he smelled like her.

(रोज़र स्कंक की माता उसको फिर से जादूगर के पास ले गई। उसने जादूगर के सिर पर प्रहार किया। उसने जादूगर से कहा कि वह रोज़र को उसकी स्कंक वाली गंध वापिस दे। रोज़र और उसकी माता घर वापिस आए। रोज़र का पिता बोस्टन से वापिस आ गया था। उन्होंने मिलकर रात्रि का भोजन किया। अब रोज़र की माता बहुत प्रसन्न थी। उसे रोज़र स्कंक से प्यार था क्योंकि अब उसकी गंध उसकी (रोज़र की माता) तरह थी।)

Question 16.
Describe Roger Skunk. What was his main problem? [H.B.S.E. 2020 (Set-D)] (रोजर स्कंक का वर्णन करो। उसकी मुख्य समस्या क्या थी?)
Answer:
Roger Skunk is an imaginary small animal character of Jack’s story. His main problem was that he had a very foul smell. All the animals in the forest hated him for his foul smell.

(रोजर स्कंक जैक की कहानी का एक छोटा काल्पनिक जानवर है। उसकी मुख्य समस्या यह थी कि उसके शरीर से बहुत दुर्गंध निकलती थी। जंगल के सारे जानवर उसकी दुर्गंध के कारण उससे घृणा करते थे।)

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 5 Should Wizard Hit Mommy?

Question 17.
How was Jo affected by Jack’s story telling? (जैक की कहानी सुनाने पर जो कैसे प्रभावित हुआ?) [H.B.S.E. 2019 (Set-B)]
Answer:
Joe developed a sense of inquisitiveness. She always questioned her father on various points based on her understanding. She develops a sense of thinking and understanding things basis on her own perspective. She also became on her own perspective. She also became a good listener. This is how Joe was affected by Jack storytelling.

(जोअ ने अपने अंदर जिज्ञासा की भावना विकसित की थी। वह अपनी समझ के आधार पर अपने पिता से विभिन्न बिंदुओं पर सवाल पूछती थी। वह एक अच्छी श्रोता भी बन गई। इस तरह जैक की कहानी सुनाने से जोअ प्रभावित हुआ।)

Long Answer Type Questions
Question 1.
What kind of stories does Jo’s father tell her? (जोअ का पिता उसे किस प्रकार की कहानियाँ सुनाता था?)
Answer:
Jo is a little girl. She is four years old. Her father, Jack has been telling her bedtime stories since she was two years old. Jack cannot invent new stories every day. So every new story is only slightly different from the basic story. The story is always about a little animal called Roger. (Roger Fish, Roger Squirrel, Roger Chipmunk, etc.) In every story, Roger had a problem. He consulted a wise owl. The owl would tell him to consult a wizard who could solve every problem with his magic wand.

The wizard would solve the problem but demanded a fee. Roger had always a few pennies short. The wizard would tell him to go the well where he could find the rest of the pennies. Roger would go to the well, get the pennies and paid them to the wizard. Then he would be happy and would play with the other animals. In the evening, Roger’s father returned from Boston. The stories always ended with the description of the supper. Jo was always satisfied with the ending of the story as Roger’s problem was always solved.

(जोअ एक छोटी-सी लड़की है। वह चार साल की है। उसका पिता जैक उसे तब से सोते समय की कहानियाँ सुना रहा है जब वह दो साल की थी। जैक रोज नई कहानी का आविष्कार नहीं कर पाता। इसलिए हर नई कहानी मूलभूत कहानी से केवल थोड़ी-सी अलग होती है। कहानी सदा एक छोटे जानवर रोज़र के बारे में होती है (रोज़र मछली, रोज़र गिलहरी, रोज़र चिपमंक आदि)। हर कहानी में रोज़र की एक समस्या होती है। वह एक अक्लमंद उल्लू से संपर्क करता है। उल्लू उसे एक जादूगर से मिलने की सलाह देता है जो हर समस्या को अपनी जादू की छड़ी से हल कर सकता है।

जादूगर समस्या को हल कर देगा मगर वह फीस माँगता है। रोज़र के पास सदा ही कुछ पेन्नी कम पैसे होते हैं। जादूगर उसे कहता है कि वह एक कुएँ पर जाए जहाँ उसे बाकी की पेन्नियाँ मिल जाएंगी। रोज़र कुएँ पर जाएगा, पेन्नियाँ लेगा और जादूगर को देगा। तब वह प्रसन्न हो जाएगा और अन्य जानवरों के साथ खेलेगा। शाम को रोज़र का पिता बोस्टन से लौटकर आएगा। कहानियाँ सदा ही रात्रि के भोजन के वर्णन के साथ समाप्त होती थी। जोअ सदा ही कहानी के अन्त से संतुष्ट होती थी क्योंकि रोज़र की समस्या सदा ही हल हो जाती थी।)

Question 2.
How does Jo interrupt her father when he is telling a story? [H.B.S.E. 2017 (Set-C)] (जब उसका पिता कहानी सुना रहा था तो जोअ ने कैसे दखल दिया?)
Answer:
Now Jo has grown a little older. She has developed a critical mind. She often asks her father difficult moral questions. Jack tells her a new story. It is about a skunk called Roger Skunk. Roger Skunk smells very bad. The other animals do not like his bad smell. They do not like to play with him. Skunk was left alone and wept. As in Jack’s other stories, Roger Skunk went to a big tree. A big owl sat on the top branch of this tree. Roger Skunk told the owl, “I smell very bad. What can I do?” The wise owl thought and thought. Then he told Roger Skunk to go to the wizard as he could solve his problem.

At this point, Jo interrupted her father. She asked him if magic spells were real. She had begun to ask such questions. Once Jack told her that spiders ate bugs, she then asked her mother if it was true. One day her mother had told her that God was in the sky and everywhere around us. She wondered if it was right. She asked Jack about it. Jack told her that all things were real in stories.

(अब जोअ कुछ बड़ी हो गई है। उसका दिमाग आलोचनात्मक हो गया है। वह अक्सर अपने पिता से कठिन नैतिक प्रश्न पूछती है। जैक उसे एक नई कहानी सुनाता है। यह रोज़र स्कंक नाम के एक स्कंक के बारे में है। रोज़र स्कंक की गंध बहुत बुरी है। अन्य जानवर उसकी गंध को पसंद नहीं करते। वह उसके साथ खेलना पसंद नहीं करते। स्कंक अकेला रह गया और रोने लगा। जैसा कि जैक की अन्य कहानियों में होता है, स्कंक बड़े वृक्ष तक गया। उसकी सबसे ऊँची शाखा पर एक बड़ा उल्लू बैठा था। रोज़र स्कंक ने उल्लू से कहा, “मेरी गंध बहुत खराब है। मैं क्या करूँ?” अक्लमंद उल्लू बहुत देर तक सोचता रहा।

फिर उसने स्कंक से कहा कि वह जादूगर के पास जाए क्योंकि वह उसकी समस्या को हल कर सकता था। इस जगह जोअ ने अपने पिता की बात में दखल दिया। उसने पूछा कि क्या जादू के प्रभाव सच्चे होते हैं। उसने ऐसे प्रश्न पूछने आरंभ कर दिए थे। एक दिन जैक ने उसे बताया कि मकड़ियाँ कीड़े खाती हैं। तब उसने अपनी माता से पूछा कि क्या यह सच है। एक दिन उसकी माता ने उसे बताया था कि भगवान आकाश में है और हमारे चारों तरफ है। उसे हैरानी हुई कि क्या यह सच है। उसने जैक से इसके बारे में पूछा। जैक ने उसे बताया कि कहानियों में सब बातें सच्ची होती हैं।)

Question 3.
How does the wizard solve Roger Skunk’s problem? (जादूगर रोज़र स्कंक की समस्या कैसे हल करता है?)
Answer:
Jack resumed the story. Roger Skunk went to the wizard. He knocked at the wizard’s door. The wizard opened the door. He was a tiny old man. He had a long white beard and wore a pointed blue hat. He asked Roger Skunk about his problem. Roger told him that he smelled very bad. All the other animals ran away from him. The wizard asked Roger to come in. The wizard had many magic things lying in a big dusty heap. He took out his magic wand. He asked Roger what he wanted to smell like.

After thinking for some time, Roger replied that he wanted to smell like roses. At this point, Jo asked her father if the old wizard would die. Jack replied that wizards did not die. Jack told Jo that the wizard muttered a magic spell. Jo was very happy to hear it. Jack said that in no time, Roger Skunk smelled like fresh roses. Roger became very happy. He mixed with other animals. Now all the little creatures liked his smell. They played many games with him.

(जैक ने अपनी कहानी फिर से शुरु की। रोज़र स्कंक जादूगर के पास गया। उसने जादूगर के दरवाजे पर दस्तक दी। जादूगर ने दरवाजा खोला। वह एक छोटा बूढ़ा आदमी था। उसकी लंबी सफेद दाढ़ी थी और उसने नुकीला नीला हैट पहना हुआ था। उसने रोज़र स्कंक से उसकी समस्या के बारे में पूछा। रोज़र ने उसे बताया कि उसकी गंध बहुत बुरी है। बाकी सब जानवर उससे दूर भागते हैं। जादूगर ने रोज़र से अंदर आने के लिए कहा।

जादूगर के सामने एक बड़े धूल-भरे ढेर में बहुत-सी चीजें पड़ी थीं। उसने अपनी जादू की छड़ी निकाली। उसने रोज़र से पूछा कि वह किस तरह की सुगंध चाहता है। कुछ देर सोचने के बाद रोज़र ने उत्तर दिया कि वह चाहता है कि उसकी गंध गुलाब की हो। इस जगह पर जोअ ने अपने पिता से पूछा कि क्या जादूगर मर जाएगा। जैक ने उत्तर दिया कि जादूगर नहीं मरते। जैक ने जोअ को बताया कि जादूगर ने मंत्र पढ़ा। जोअ को यह सुनकर बड़ी प्रसन्नता हुई। जैक ने कहा कि शीघ्र ही रोज़र स्कंक की गंध ताजे गुलाबों की तरह हो गई। रोज़र बहुत खुश हो गया। वह अन्य जानवरों में शामिल हो गया। अब सब छोटे प्राणी उसकी गंध को चाहते थे। उन्होंने उसके साथ बहुत-से खेल खेले।)

Question 4.
What happened after Roger Skunk came home smelling of roses? (जब रोज़र स्कंक गुलाबों की गंध लिए घर आया तो क्या हुआ?)
Answer:
Roger came home. His mother found that he smelled of roses. She was not happy. She thought that Roger should smell like a skunk. She was angry with the wizard for giving Roger that smell. Roger told his mommy that all animals would run away from him if he got his skunk smell back. But his mother did not care. She took Roger back to the wizard. She hit the wizard on the head. Jo suggested that the wizard should hit her back. But Jack did not agree with her. He said that the wizard gave Roger his skunk smell back. Roger and his mommy came home. Roger’s father had come from Boston. They had the supper together. Now Roger’s mother was happy. She loved Roger Skunk because now he smelled like her.

(रोज़र घर आया। उसकी माता ने देखा कि उसकी गंध गुलाब के फूलों जैसी है। वह खुश नहीं हुई। उसने सोचा कि रोज़र की गंध एक स्कंक जैसी होनी चाहिए। वह जादूगर से इस बात के लिए नाराज हुई कि उसने रोज़र को गुलाब की गंध दे दी थी। रोज़र ने अपनी माता से कहा कि अगर उसकी स्कंक की गंध वापिस आ गई तो सब जानवर उससे दूर भाग जाएंगे। मगर उसकी माता ने इस बात की परवाह नहीं की। वह रोज़र को फिर से जादूगर के पास ले गई। उसने जादूगर के सिर पर प्रहार किया। जोअ ने सुझाव दिया कि जादूगर को वापिस रोज़र पर प्रहार करना चाहिए था। मगर जैक उससे सहमत नहीं हुआ। उसने कहा कि जादूगर ने रोज़र को उसकी स्कंक वाली गंध वापिस दे दी। रोज़र और उसकी माता घर आए। रोज़र का पिता बोस्टन से वापिस आ गया था। उन्होंने मिलकर रात्रि का भोजन किया। अब रोज़र की माता बहुत प्रसन्न थी। उसे रोज़र स्कंक से प्यार था क्योंकि अब उसकी गंध उसकी (रोज़र की माता) तरह थी।)

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 5 Should Wizard Hit Mommy?

Question 5.
What did Jo think of the ending of the story? How and why did Jo want to change ? (जोअ कहानी के अन्त के बारे में क्या सोचती थी? जोअ इसमें परिवर्तन कैसे और क्यों करना चाहता था?) [H.B.S.E. March, 2018 (Set-B)]
Answer:
Jo did not like the ending of the story. She asked if the other animals still hated Roger. Jack said that now the other animals gradually liked him. They got used to his smell and played with him. But Jo said that the mother skunk was stupid. She wanted that Jack should tell the story again with a different ending. The wizard should punish the mother. But Jack defended the mother. But Jo was not convinced. She thought that the wizard should have hit Roger’s mommy as she was stupid.

(जोअ को कहानी का अन्त पसंद नहीं आया। उसने पूछा कि क्या अन्य जानवर अभी भी रोज़र से नफरत करते थे। जैक ने कहा कि अब अन्य जानवरों ने धीरे-धीरे उससे प्यार करना शुरु कर दिया। वे उसकी गंध के आदी बन गए और उससे खेलने लगे। मगर जोअ ने कहा कि स्कंक की माता बेवकूफ थी। जोअ चाहती थी कि जैक इस कहानी को अलग अन्त के साथ फिर-से सुनाए। जादूगर को माता को सजा देनी चाहिए। मगर जैक ने माता का पक्ष लिया। मगर जोअ सहमत नहीं हुई। वह सोचती थी कि जादूगर को रोज़र की मम्मी की पिटाई करनी चाहिए थी क्योंकि वह बेवकूफ थी।)

Question 6.
How does Jack narrate the story “Should Wizard Hit Mommy’? (जैक ‘शुड विजर्ड हिट मम्मी’ कहानी का वर्णन किस प्रकार करता है?)
Answer:
This story is about the worldview of a little child. This worldview is different from the views of her father. Jack tells his little daughter Jo bedtime stories. Now she has grown a little older and asks her father difficult moral questions about his stories. One day Jack tells her the story of a little animal Skunk. He has a problem. He smells very bad. He goes to a wizard and the wizard makes him smell like roses. Now other animals like to play with him. But the skunk’s mother is angry with him. She takes him to the wizard. She asks him to make skunk smell as bad as before. Jo is not happy at the ending of the story. She wants that the wizard should hit the stupid mother. But Jack defends the mother’s action.

(यह कहानी एक छोटी बच्ची के सांसारिक दृष्टिकोण के बारे में है। यह सांसारिक दृष्टिकोण उसके पिता के विचारों से भिन्न है। जैक अपनी छोटी बच्ची जोअ को सोते समय कहानियाँ सुनाता है। अब वह थोड़ी-सी बड़ी हो गई है और अपने पिता से उसकी कहानियों के बारे में कठिन नैतिक प्रश्न पूछती है। एक दिन जैक उसे एक छोटे जानवर स्कंक की कहानी सुनाता है। उसे एक समस्या है। उसकी गंध बहुत खराब है। वह एक जादूगर के पास जाता है जो उसकी गंध को गुलाबों की तरह बना देता है। अब अन्य जानवर उसके साथ खेलना पसंद करते हैं। मगर स्कंक की माता उससे नाराज है। वह उसे जादूगर के पास ले जाती है। वह उसे कहती है कि वह स्कंक की गंध पहले की तरह कर दे। जोअ कहानी के अन्त से प्रसन्न नहीं है। वह चाहती है कि जादूगर उस मूर्ख माता को पीटे। मगर जैक माँ के काम का पक्ष लेता है।)

Should Wizard Hit Mommy Summary in English and Hindi

Should Wizard Hit Mommy Introduction to the Chapter
This story is about the worldview of a little child. This worldview is different from the views of her father. Jack tells his little daughter Jo bedtime stories. Now she has grown a little older and asks her father difficult moral questions about his stories. One day Jack tells her the story of a little animal Skunk. He has a problem. His smells very bad. He goes to a wizard and the wizard makes him smell like roses. Now other animals like to play with him. But the Skunk’s mother is angry with him. She takes him to the wizard. She asks him to make skunk smell as bad as before. Jo is not happy at the ending of the story. She wants that the wizard should hit the stupid mother, but Jack defends the mother’s action.

(यह कहानी एक छोटी बच्ची के सांसारिक दृष्टिकोण के बारे में है। यह सांसारिक दृष्टिकोण उसके पिता के विचारों से भिन्न है। जैक अपनी छोटी बच्ची जोअ को सोते समय कहानियाँ सुनाता है। अब वह थोड़ी-सी बड़ी हो गई है और अपने पिता से उसकी कहानियों के बारे में कठिन नैतिक प्रश्न पूछती है। एक दिन जैक उसे एक छोटे जानवर स्कंक की कहानी सुनाता है। उसे एक समस्या है। उसकी गंध बहुत खराब है। वह एक जादूगर के पास जाता है और जादूगर उसकी गंध को गुलाबों की तरह बना देता है। अब अन्य जानवर उसके साथ खेलना पसंद करते हैं। मगर स्कंक की माता उससे नाराज है। वह उसे जादूगर के पास ले जाती है। वह उसे कहती है कि वह स्कंक की गंध पहले की तरह कर दे। जोअ कहानी के अंत से प्रसन्न नहीं है। वह चाहती है कि जादूगर उस मूर्ख माता को पीटे, मगर जैक माँ के काम का पक्ष लेता है।)

Should Wizard Hit Mommy Summary
Jo is a little girl. She is four years old. Her father, Jack, has been telling her bedtime stories since she was two years old. Jack cannot invent new stories every day. So every new story is only slightly different from the basic story. The story is always about a little animal called Roger. (Roger Fish, Roger Squirrel, Roger Chipmunk, etc.) In every story, Roger had a problem. He consulted a wise owl. The owl would tell him to consult a wizard who could solve every problem with his magic wand. The wizard would solve the problem but demanded a fee. Roger had always a few pennies short. The wizard would tell him to go the well where he could find the rest of the pennies. Roger would go the well, get the pennies and paid them to the wizard. Then he would be happy and would play with the other animals. In the evening, Roger’s father returned from Boston. The stories always ended with the description of the supper. Jo was always satisfied with the ending of the story as Roger’s problem was always solved.

But now Jo has grown a little older. She has developed a critical mind. She often asks her father difficult moral questions. Jack tells her a new story. It is about a skunk called Roger Skunk. Roger Skunk smells very bad. The other animals do not like his bad smell. They do not like to play with him. Skunk was left alone and wept. As in Jack’s other stories, Roger Skunk went to a big tree. A big owl sat on the top branch of this tree. Roger Skunk told the owl, “I smell very bad. What can I do?” The wise owl thought and thought. Then he told Roger Skunk to go to the wizard as he could solve his problem.

At this point, Jo interrupted her father. She asked him if magic spells were real. She had begun to ask such questions. Once Jack told her that spiders ate bugs, she then asked her mother if it was true. One day her By mother had told her that God was in the sky and everywhere around us. She wondered if it was right. She asked Jack about it.

Jack resumed the story. Roger Skunk went to the wizard. He knocked at the wizard’s door. The wizard opened the door. He was a tiny old man. He had a long white beard and wore a pointed blue hat. He asked Roger Skunk about his problem. Roger told him that he smelled very bad. All the other animals ran away from him. The wizard asked Roger to come in. The wizard had many magic things lying in a big dusty heap. He took out his magic wand. He asked Roger what he wanted to smell like. After thinking for some time, Roger replied that he wanted to smell like roses. At this point, Jo asked her father if the old wizard would die. Jack replied that wizards did not die. Jack told Jo that the wizard muttered a magic spell. Jo was very happy to hear it. Jack said that in no time, Roger Skunk smelled like fresh roses. Roger became very happy.

The wizard demanded seven pennies from Roger for having solved his problem. But Roger had only four pennies. The wizard asked him to go to a magic well where he would find three pennies. Roger went there and found three pennies. He came back and gave those pennies to the wizard. Roger Skunk ran into the jungle. He mixed with other animals. Now all the little creatures liked his smell. They gathered around him. They did not hate him and played many games with him.

Roger came home. His mother found that he smelled of roses. She was not happy. She thought that Roger should smell like a skunk. She was angry with the wizard for giving Roger that smell. Roger told his mommy that all animals would run away from him if he got his skunk smell back. But his mother did not care. She took Roger back to the wizard. She hit the wizard on the head. Jo suggested that the wizard should hit her back. But Jack did not agree with her. He said that the wizard gave Roger his skunk smell back. Roger and his mommy came home. Roger’s father had come from Boston. They had the supper together. Now Roger’s mother was happy. She loved Roger Skunk because now he smelled like her. Here the story ended.

Jo did not like the ending of the story. She asked if the other animals still hated Roger. Jack said that now the other animals gradually liked him. They got used to his smell and played with him. But Jo said that the mother skunk was stupid. She wanted that Jack should tell the story again with a different ending. The wizard should punish the mother. But Jack defended the mother. But Jo was not convinced. She thought that the wizard should have hit Roger’s mommy as she was stupid.

(जोअ एक छोटी-सी लड़की है। वह चार साल की है। उसका पिता, जैक उसे तब से सोते समय कहानियाँ सुना रहा है जब वह दो साल की थी। जैक रोज नई कहानियों का आविष्कार नहीं कर पाता, इसलिए हर नई कहानी मूलभूत कहानी से केवल थोड़ी-सी अलग होती है। कहानी सदा एक छोटे जानवर रोज़र के बारे में होती है (रोज़र मछली, रोज़र गिलहरी, रोज़र चिपमंक आदि)। हर कहानी में रोज़र की एक समस्या होती है। वह एक अक्लमंद उल्लू से संपर्क करता है।

उल्लू उसे एक जादूगर से मिलने की सलाह देता है जो हर समस्या को अपनी जादू की छड़ी से हल कर सकता है। जादूगर समस्या को हल कर देगा मगर वह फीस माँगता है। रोज़र के पास सदा ही कुछ पेन्नी कम पैसे होते हैं। जादूगर उसे कहता है कि वह एक कुएँ पर जाए, जहाँ उसे बाकी की पेन्नियाँ मिल जाएँगी। रोज़र कुएँ पर जाएगा, पेन्नियाँ लेगा और जादूगर को देगा। तब वह प्रसन्न हो जाएगा और अन्य जानवरों के साथ खेलेगा। शाम को रोज़र का पिता बोस्टन से लौटकर आएगा। कहानियाँ सदा ही रात्रि के भोजन के वर्णन के साथ समाप्त होती थीं। जोअ सदा ही कहानी के अंत से संतुष्ट होती थी क्योंकि रोजर की समस्या सदा ही हल हो जाती थी।

मगर अब जोअ कुछ बड़ी हो गई है। उसका दिमाग आलोचनात्मक हो गया है। वह अकसर अपने पिता से कठिन नैतिक प्रश्न पूछती है। जैक उसे एक नई कहानी सुनाता है। यह रोज़र स्कंक नाम के एक स्कंक के बारे में है। रोज़र स्कंक की गंध बहुत बुरी है। अन्य जानवर उसकी गंध को पसंद नहीं करते। वे उसके साथ खेलना पसंद नहीं करते। स्कंक अकेला रह गया और रोने लगा। जैसाकि जैक की अन्य कहानियों में होता है, रोज़र स्कंक बड़े वृक्ष तक गया। उसकी सबसे ऊँची शाखा पर एक बड़ा उल्लू बैठा था। रोज़र स्कंक ने उल्लू से कहा, “मेरी गंध बहुत खराब है। मैं क्या करूँ?” अक्लमंद उल्लू बहुत देर तक सोचता रहा। फिर उसने रोज़र स्कंक से कहा कि वह जादूगर के पास जाए क्योंकि वह उसकी समस्या को हल कर सकता था।

इस जगह, जोअ ने अपने पिता की बात में दखल दिया। उसने पूछा कि क्या जादू के प्रभाव सच्चे होते हैं। उसने ऐसे प्रश्न पूछने आरंभ कर दिए थे। एक दिन जैक ने उसे बताया कि मकड़ियाँ कीड़े खाती हैं। जब उसने अपनी माता से पूछा कि क्या यह सच है। एक दिन उसकी माता ने उसे बताया था कि भगवान आकाश में है और हमारे चारों तरफ है। उसे हैरानी हुई कि क्या यह सच है। उसने जैक से इसके बारे में पूछा।

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 5 Should Wizard Hit Mommy?

Should Wizard Hit Mommy Meanings
[Page 52-53] :
Rapt (lost in thoughts) = विचारों में खोया;
startled (surprised) = हैरान;
cranky (irritable) = चिड़चिड़ा;
trace (sign) = चिह्न;
rumbled (made a rolling sound) = गड़गड़ की आवाज;
apprehensive (fearful) = भयभीत;
dabbling (moving) = हिलना चलना;
genuine (sincere) = सही;
agitation (excitement) = जोश;
inspiration (stimulation) = प्रेरणा;
astounded (astonished) = हैरान।

[Page 54-55] :
Mashed (crushed into pulp) = कुचलना/लुगदी बनाना;
dessert (sweet dish) = मीठा पकवान;
hugged (embraced)= आलिंगन करना;
eventually (at last) = अंततः;
rare (unusual) = असाधारण;
emphasis (stress) =जोर देना;
odd (strange)= अजीब;
tiptoed (moved noiselessly) = बिना शोर किए चलना;
pretense (feigning) = ढोंग करना;
bounced (jumped) = कूदा;
gingerly (cautiously) = सावधानी से;
plump (chubby) = मोटा-ताजा;
can (tin container) = टीन का बर्तन;
spank (slap) = थप्पड़ मारना;
utter (complete) = पूर्ण;
weariness (tiredness) = थकान;
tan (brown) = भूरा।

Should Wizard Hit Mommy Translation in Hindi

Here is a story about the worldview of a little child, and the difficult moral question she raises during the story session with her father.

(यह कहानी एक बच्चे के संसार के दृष्टिकोण के बारे में है, और उस मुश्किल नैतिक प्रश्न के बारे में जो वह उसके पिता से इस कहानी के दौरान पूछती है।)

In the evenings and for Saturday naps like today’s, Jack told his daughter Jo a story out of his head. This custom, begun when she was two, was itself now nearly two years old, and his head felt empty. Each new story was a slight variation of a basic tale : a small creature, usually named Roger (Roger Fish, Roger Squirrel, Roger Chipmunk), had some problem and went with it to the wise old owl. The owl told him to go to the wizard, and the wizard performed a magic spell that solved the problem, demanding in payment a number of pennies greater than the number that Roger Creature had, but in the same breath directing the animal to a place where the extra pennies could be found.

Then Roger was so happy he played many games with other creatures and went home to his mother just in time to hear the train whistle that brought his daddy home from Boston. Jack described their supper, and the story was over. Working his way through this scheme was especially fatiguing on Saturday, because Jo never fell asleep in naps anymore, and knowing this made the rite seem futile.

. (हर शाम को और आज की तरह शनिवार की हल्की नींद के लिए जैक अपनी बेटी जोअ को एक मनघड़त कहानी सुनाता था। यह रिवाज/चलन उस समय शुरू हुआ जब वह दो वर्ष की थी, अब यह काम दो वर्ष से चल रहा था और अब उसका दिमाग खाली महसूस करता था। हर नई कहानी मुख्य कहानी से थोड़ी-सी अलग होती थी : एक छोटा-सा जीव, जिसका नाम प्रायः रोज़र होता था (रोज़र मछली, रोज़र गिलहरी, रोज़र चिपमंक), जिसकी जब कोई समस्या होती थी और जिसे लेकर वह बुद्धिमान उल्लू के पास जाता। उल्लू उसको जादूगर के पास जाने के लिए कहता, और जादूगर जादू से उस समस्या को हल कर देता और जितने पैसे रोज़र के पास होते थे उससे अधिक पैसे वह काम के बदले माँगता था और साथ ही वह उसे यह भी बता देता था |

किवे अतिरिक्त पैसे कहाँ मिलेंगे। तब रोज़र इतना खुश होता कि वह अन्य जीवों के साथ बहुत-से खेल खेलता था, और घर अपनी माँ के पास समय पर पहुँच जाता था उस गाड़ी की सीटी सुनने के लिए जिस गाड़ी से उसके पिता बोस्टन से घर आते थे। जैक उनके रात्रि के भोजन का जिक्र करता और कहानी समाप्त हो जाती थी। शनिवार को अपनी योजना पर काम करना उसके लिए वास्तव में थका देने वाला था, क्योंकि जोअ कभी भी झपकी के दौरान सोती नहीं थी अब और इस बात का ज्ञान इस आदत को व्यर्थ बनाता था।)

The little girl (not so little anymore; the bumps her feet made under the covers were halfway down the bed, their big double bed that they let her be in for naps and when she was sick) had at last arranged herself, and from the way, her fat face deep in the pillow shone in the sunlight sifting through the drawn shades, it did not seem fantastic that some magic would occur, and she would take her nap like an infant of two. Her brother, Bobby, was two, and already asleep with his bottle. Jack asked, “Who shall the story be about today?”

(छोटी लड़की (अब वह इतनी छोटी भी नहीं थी; उसके पैर पलंग पर चादर के नीचे से जो ऊँचाई बनाते थे वह पलंग पर आधी दूर तक जाती थी, उस डबलबेड पर जिस पर वे उसे दोपहर बाद की नींद और बीमारी की अवस्था में सोने देते थे) ने आखिरकार अपने-आपको व्यवस्थित कर लिया था और जिस तरह से बन्द परदे से छनकर आती हुई धूप में सिरहाने पर रखा हुआ उसका मोटा चेहरा चमक रहा था, उससे किसी जादू के वहाँ होने पर कोई विचित्रता न लगती और वह दो साल के शिशु की तरह अपनी दोपहर की छोटी नींद पूरी करती। उसका भाई बाबी दो वर्ष का था और अपनी बोतल लेकर पहले ही सो चुका था। जैक ने पूछा, “आज की कहानी किसके बारे में होगी?”)

“Roger…” Jo squeezed her eyes shut and smiled to be thinking she was thinking. Her eyes opened, her mother’s blue. “Skunk,” she said firmly. A new animal; they must talk about skunks at nursery school. Having a fresh hero momentarily stirred Jack to creative enthusiasm. “All right,” he said. “Once upon a time, in the deep dark woods, there was a tiny little creature by the name of Roger Skunk. And he smelled very bad.” “Yes,” Jo said.

(“रोज़र….” जोअ ने अपनी आँखें कसकर बन्द कर ली और यह सोचकर मुस्कराई कि वह सोच रही थी। उसने अपनी माँ की तरह की नीली आँखें खोली। “स्कंक”, उसने दृढ़ता से कहा। एक नया जानवर; जरूर नर्सरी स्कूल में स्कंक के बारे में बात होती होगी। एक नए नायक को पाकर क्षणभर के लिए जैक का रचनात्मक जोश सक्रिय हो उठा। “ठीक है,” वह बोला। “एक बार की बात है, घने गहरे जंगलों में रोज़र स्कंक नाम का एक नन्हा-सा, छोटा-सा प्राणी रहता था। और उससे बड़ी बदबू निकलती थी।” “हाँ,” जोअ बोली।)

“He smelled so bad that none of the other little woodland creatures would play with him.” Jo looked at him solemnly; she hadn’t foreseen this. “Whenever he would go out to play,” Jack continued with zest, remembering certain humiliations of his own childhood, “all of the other tiny animals would cry, “Uh-oh, here comes Roger Stinky Skunk,” and they would run away, and Roger Skunk would stand there all alone, and two little round tears would fall from his eyes.” The corners of Jo’s mouth drooped down and her lower lip bent forward as he traced with a forefinger along the side of her nose the course of one of Roger Skunk’s tears.

(“उससे इतनी गन्दी बदबू आती थी कि जंगल का कोई अन्य प्राणी उसके साथ नहीं खेलता था।” जोअ ने उसकी ओर ध्यान से देखा; यह तो उसने सोचा ही न था। “जब भी वह खेलने जाता,” जैक उत्साह से कहता गया, उसे खुद बचपन में हुए अपने अपमानों की याद आने लगी, “अन्य सारे छोटे-छोटे जानवर चीखते, “ऊ, ओ, लो आ गया बदबूदार रोज़र स्कंक” और वे भाग जाते और रोज़र स्कंक वहाँ अकेला रह जाता और दो छोटे-मोटे आँसू उसकी आँख से गिर जाते।” जो के मुँह के किनारे झुक गए और उसका निचला होंठ आगे निकल आया जब जैक ने अपनी पहली उँगली से उसकी नाक के पास से निकलता हुआ रोज़र स्कंक के आँसू का रास्ता बताया।)

“Won’t he see the owl?” she asked in a high and faintly roughened voice. Sitting on the bed beside her, Jack felt the covers tug as her legs switched tensely. He was pleased with this moment-he was telling her something true, something she must know—and had no wish to hurry on. But downstairs a chair scraped, and he realized he must get down to help Clare paint the living room woodwork.

(“क्या वह उल्लू से नहीं मिलेगा?” ऊँची और कुछ मोटी आवाज में उसने पूछा। उसकी बगल में बिस्तर में बैठे जैक ने अनुभव किया कि उसकी टाँगों पर पड़ी चादर खिंची जब उसने (बच्ची ने) तनाव में अपनी टाँगें बदली (इधर-उधर की)। इस क्षणिक अवसर पर वह खुश हो गया-वह उसे सच्चाई बता रहा था, कुछ ऐसा जो उसे जानना ही चाहिए और जल्दी करने की उसकी कोई इच्छा न थी। पर नीचे एक कुर्सी के रगड़ने की आवाज आई और उसे लगा कि क्लेयर को लकड़ी का सामान पेंट करने में सहायता के लिए अवश्य नीचे जाना चाहिए।)

“Well, he walked along very sadly and came to a very big tree, and in the tiptop of the tree was an enormous wise old owl.” “Good.” “Mr Owl,” Roger Skunk said, “all the other little animals run away from me because I smell so bad.” “So you do,” the owl said. “Very, very bad.” “What can I do?” Roger Skunk said, and he cried very hard.
“The wizard, the wizard,” Jo shouted, and sat right up, and a Little Golden Book spilled from the bed. “Now, Jo. Daddy’s telling the story. Do you want to tell Daddy the story?” “No. You me.”
“Then lie down and be sleepy.” Her head relapsed onto the pillow and she said, “Out of your head.” “Well. The owl thought and thought. At last he said, “Why don’t you go see the wizard?” “Daddy?” “What?”

(“खैर, वह बहुत उदासी से दूर तक चला और एक बहुत बड़े पेड़ तक आया, और पेड़ के शिखर पर एक विशाल बुद्धिमान् बूढ़ा उल्लू था।” “अच्छा ।” “श्रीमान उल्लू,” रोज़र स्कंक ने कहा, “सभी दूसरे छोटे जानवर मुझसे दूर भागते हैं क्योंकि मुझसे बदबू आती है।” “हाँ ऐसा ही है,” उल्लू ने कहा। “बहुत, बहुत बुरी बदबू है।” “मैं क्या कर सकता हूँ?” रोज़र स्कंक ने कहा, और वह जोर-जोर से रोया।
“जादूगर, जादूगर,” जोअ चिल्लाई, और बैठ गई, और एक छोटी सुनहरी किताब बैड से गिर पड़ी। “अब, जोअ डैडी कहानी सुना रहे हैं। क्या तुम डैडी को कहानी सुनाना चाहती हो?” “नहीं। आप मुझे सुनाओ।” । “फिर लेट जाओ और सोने का प्रयास करो।” उसका सिर तकिए पर गिरा और उसने कहा, “अपने दिमाग से बनाकर।” “खैर। उल्लू ने सोचा। अन्त में उसने कहा, “तुम जादूगर से जाकर क्यों नहीं मिलते?” “डैडी?” “क्या?”)

“Are magic spells real?” This was a new phase, just this last month, a reality phase. When he told her spiders eat bugs, she turned to her mother and asked, “Do they really?” and when Clare told her God was in the sky and all around them, she turned to her father and insisted, with a sly yet eager smile. “Is He really?”

“They’re real in stories,” Jack answered curtly. She had made him miss a beat in the narrative. “The owl said, “Go through the dark woods, under the apple trees, into the swamp, over the crick ” “What’s a crick?”

(“क्या जादू के सम्मोहन वास्तविक होते हैं?” यह एक नया पक्ष था, इस महीने ही पैदा होने वाला एक वास्तविक पक्ष। जब उसने उसे बताया कि मकड़ियाँ कीड़े खाती हैं, उसने अपनी माँ की तरफ मुड़कर पूछा था, “क्या सचमुच ऐसा है?” और जब क्लेयर ने उसे बताया कि भगवान आकाश में है और उनके चारों तरफ भी, तब उसने अपने पिता की ओर मुड़कर रहस्यमय किन्तु उत्सुक मुस्कराहट से जिद्द करते हुए पूछा था। “क्या सचमुच वह है?”

“कहानियों में वास्तविक होते हैं,” जैक ने रूखेपन से उत्तर दिया। उसकी वजह से यह कहानी का एक दौर भूल गया था। “उल्लू बोला, “घने अन्धेरे जंगलों से होकर जाओ, सेब के वृक्षों के नीचे होकर निकल जाओ, क्रिक पार दलदल में-” “क्रिक क्या होता है?”)
A little river. “Over the crick, and there will be the wizard’s house.” And that’s the way Roger Skunk went, and pretty soon he came to a little white house, and he rapped on the door.” Jack rapped on the window sill, and under the covers Jo’s tall figure clenched in an infantile thrill. “And then a tiny little old man came out, with a long white beard and a pointed blue hat, and said, “Eh? What is? Watcher want? You smell awful.” The wizard’s voice was one of Jack’s own favourite effects; he did it by scrunching up his face and somehow whining through his eyes, which felt for the interval rheumy. He felt being an old man suited him.

(एक छोटी नदी। “नदी के ऊपर, और वहाँ जादूगर का घर होगा।” और रोज़र स्कंक उसी रास्ते पर गया, और बहुत शीघ्र वह एक छोटे-से सफेद घर के पास आ गया और उसने दरवाजे पर दस्तक दी।” जैक ने खिड़की की चौखट को थपथपाया, और बिस्तर में जोअ का लम्बा शरीर शैशव रोमांच से जकड़ गया। “और तब तक एक छोटा-सा बूढ़ा आदमी बाहर आया, उसकी लम्बी सफेद दाढ़ी और नोकदार नीला हैट था, और वह बोला, “ओ ? क्या बात है ? किससे मिलना चाहते हो? तुमसे बहुत बुरी गंध आ रही है।” जादूगर की आवाज करना जैक का अपना मनचाहा प्रभाव था; यह उसने अपना चेहरा सिकोड़कर और आँखों में से रोने के ढंग से की थी, जो (आँखें) इस बीच नम हो गई थी। उस बूढ़े आदमी का अभिनय करना अनुकूल था।)

“I know it,” Roger Skunk said, “and all the little animals run away from me. The enormous wise owl said you could help me.” “Eh? Well, maybe. Come on in. Don’t get too close.” Now, inside, Jo, there were all these magic things, all jumbled together in a big dusty heap, because the wizard did not have any cleaning lady.”

“Why?” “Why? Because he was a wizard and a very old man.” “Will he die?” “No. Wizards don’t die. Well, he rummaged around and found an old stick called a magic wand and asked Roger Skunk what he wanted to smell like. Roger thought and thought and said, “Roses.” “Yes. Good,” Jo said smugly.

(“मैं जानता हूँ,” रोज़र स्कंक बोला, “और सभी छोटे जानवर मुझसे दूर भागते हैं। बड़े अक्लमन्द उल्लू ने कहा है कि आप मेरी सहायता कर सकते हो।” “ओ? खैर, हो सकता है। अन्दर आ जाओ। बहुत समीप ना आना।” अब, जोअ, अन्दर सभी जादू की चीजें थीं, सभी अव्यवस्था में एक धूल-भरे ढेर में पड़ी थी, क्योंकि जादूगर के पास कोई सफाई करने वाली महिला नहीं थी।”

“क्यों?” “क्यों? क्योंकि वह एक जादूगर था, और बहुत बूढ़ा था।” “क्या वह मर जाएगा?” “नहीं। जादूगर नहीं मरते। तो उसने इधर-उधर ढूँढा और एक पुराना डंडा खोजा जिसे जादू की छड़ी कहते थे और उसने रोज़र स्कंक से पूछा कि तुम कैसी गंधवाले बनना चाहते हो। रोज़र ने बहुत सोचा और कहा, “गुलाब।” “हाँ। ठीक किया,” जो ने आत्मसन्तुष्टि से कहा।) ।

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 5 Should Wizard Hit Mommy?

Jack fixed her with a trance like gaze and chanted in the wizard’s elderly irritable voice : “Abracadabry, hocus-poo, Roger Skunk, how do you do, Roses, boses, pull an ear, Roger Skunk, you never fear : Bingo!” (जैक ने उसकी तरफ अधखुली आँखों से देखा और जादूगर की बूढ़ी भद्दी आवाज में बोला : “अब्राकडवरी, होकस-पू, .रोज़र-स्कंक, कैसे हो तुम, गुलाब, सुलाव, खींचो कान, रोज़र स्कंक, डरो मत तुम : बिंगो!”)

He paused as a rapt expression widened out from his daughter’s nostrils, forcing her eyebrows up and her lower lip down in a wide noiseless grin, an expression in which Jack was startled to recognize his wife feigning pleasure at cocktail parties. “And all of a sudden,” he whispered, “the whole inside of the wizard’s house was full of the smell of roses! ‘Roses!’ Roger Fish cried. And the wizard said, very cranky, “That’ll be seven pennies.” “Daddy.” “What?” “Roger Skunk. You said Roger Fish.” “Yes Skunk.” “You said Roger Fish. Wasn’t that silly?” “Very silly of your stupid old daddy. Where was I? Well, you know about the pennies.” “Say it.”

(वह तब ठहरा जब उसकी बेटी के नथुनों से ध्यानावस्था का भाव आरम्भ हुआ, जिससे उसकी पलकें ऊपर उठी और उसका निचला होंठ एक शब्दहीन मुस्कराहट में नीचे गिर गया, यह एक ऐसा भाव था जिसने जैक को चकित कर दिया क्योंकि ऐसा ही भाव वह अपनी पत्नी के चेहरे पर तब देखता था जब वह शराब की पार्टियों में खुश दिखने का दिखावा करती थी।

“और अचानक ही,” वह बड़बड़ाया, “जादूगर का घर अन्दर से गुलाबों की खुशबू से भर गया। ‘गुलाब !’ रोज़र मछली चिल्लाया। और जादूगर बड़े गुस्से में बोला, “इसके सात पैनी होंगे।” “डैडी।” “क्या?” “रोज़र स्कंक। आपने रोज़र मछली कहा।” “हाँ। स्कंक।” “आपने कहा रोज़र मछली। क्या यह मूर्खता नहीं थी?” “तुम्हारे मूर्ख डैडी की यह बहुत मूर्खता थी। मैं कहाँ था? खैर, तुम्हें पैनी (पैसे) के बारे में पता है।” “यह कहो।”)

“O.K. Roger Skunk said, “But all I have is four pennies,’ and he began to cry.” Jo made the crying face again, but this time without a trace of sincerity. This annoyed Jack. Downstairs some more furniture rumbled. Clare shouldn’t move heavy things; she was six months pregnant. It would be their third.

(“ठीक है। रोज़र स्कंक ने कहा, ‘परन्तु मेरे पास केवल चार पैनी हैं,’ और उसने रोना शुरू कर दिया।” जोअ ने फिर से रोता हुआ चेहरा बनाया, परन्तु इस बार बिना ईमानदारी के चिह्न के। इससे जैक नाराज हो गया। नीचे कुछ और फर्नीचर खींचा गया। क्लेयर को भारी चीजें नहीं सरकानी चाहिएँ; वह छह महीने की गर्भवती है। यह उनका तीसरा बच्चा होगा।)

“So the wizard said, ‘Oh, very well. Go to the end of the lane and turn around three times and look down the magic well and there you will find three pennies. Hurry up.’ So Roger Skunk went to the end of the lane and turned around three times and there in the magic well were three pennies! So he took them back to the wizard and was very happy and ran out into the woods and all the other little animals gathered around him because he smelled so good. And they played tag, baseball, football, basketball, lacrosse, hockey, soccer, and pick-up sticks.”

(“इसलिए जादूगर ने कहा, ‘ओह, बहुत अच्छा है। गली के अन्त तक जाओ और तीन बार मुड़ो और जादुई कुएँ में देखो और वहाँ तुम्हें तीन पैनी मिल जाएँगी। जल्दी करो।’ इसलिए रोज़र स्कंक गली के अन्त तक गया और तीन बार मुड़ा और जादुई कुएँ में तीन पैनी थीं! इसलिए उसने वे उठाए और वापस जादूगर के पास ले गया और बड़ा खुश था और जंगल में भागा और सारे छोटे जानवर उसके आस-पास इकट्ठे हो गए, क्योंकि उसमें से बड़ी अच्छी खुशबू आती थी। और उन्होंने टैग, बेसबॉल, फुटबॉल, बॉस्केट बॉल, लैकरोस, हॉकी, सोक्र और पिक-अप-स्टिकस खेला।”)

“What’s pick-up sticks?” “It’s a game you play with sticks.” “Like the wizard’s magic wand?” “Kind of. And they played games and laughed all afternoon and then it began to get dark and they all ran home to their mommies.” Jo was starting to fuss with her hands and look out of the window, at the crack of day that showed under the shade. She thought the story was all over. Jack didn’t like women when they took anything for granted; he liked them apprehensive, hanging on his words. “Now, Jo, are you listening?”

(“पिक-अप-स्टिकस क्या होता है?” “यह एक खेल होता है जिसे तुम छड़ियों से खेलते हो।” “जादूगर की जादुई छड़ी की तरह?” “इसी प्रकार की। और उन्होंने खेल खेला और पूरी दोपहर हँसते रहे और तब अन्धेरा होना शुरू हो जाता और वे सभी घर अपनी मम्मियों के पास भाग गए।” जोअ अपने हाथों को मटकाने लगी थी और खिड़की के बाहर देखने लगी थी, उस सुबह के लिए जो अब (कहानी में) आने वाली था। उसे लगा कहानी समाप्ति पर थी। जैक को औरतें तब बहुत बुरी लगती थी जब वह किसी बात को मानकर चलती थीं, वह चाहता था कि वे प्रतीक्षा करें, उसके शब्दों का इन्तजार करें। “अब, जोअ, क्या तुम सुन रही हो?”)

“Yes.” “Because this is very interesting. Roger Skunk’s mommy said, ‘What’s that awful smell?” “Wha-at?” “And, Roger Skunk said, ‘It’s me, Mommy. I smell like roses.’ And she said, ‘Who made you smell like that?’ And he said, “The wizard,’ and she said, ‘Well, of all the nerve. You come with me and we’re going right back to that very awful wizard.”

(“हाँ।” “क्योंकि वह बड़ी रोचक है। रोज़र स्कंक की मम्मी ने कहा, ‘यह भयानक गंध क्या है?’ “क्या-या….?” “और, रोज़र स्कंक बोला, ‘मम्मी, यह मैं हूँ। मुझसे गुलाबों की खुशबू आ रही है।’ और वह बोली, ‘किसने तुम्हारी गंध ऐसी कर दी?’ और वह बोला, ‘जादूगर,’ और वह बोली, ‘अच्छा, उसकी यह हिम्मत। तुम मेरे साथ चलो और हम तुरन्त उस भयानक जादूगर के पास जाएँगे।”)

Jo sat up, her hands dabbling in the air with genuine fright. “But Daddy, then he said about the other little animals run away!” Her hands skittered off, into the underbrush. “All right. He said, “But Mommy, all the other little animals run away,’ and she said, “I don’t care. You smelled the way a little skunk should have and I’m going to take you right back to that wizard,’ and she took an umbrella and went back with Roger Skunk and hit that wizard right over the head.” “No,” Jo said, and put her hand out to touch his lips, yet even in her agitation did not quite dare to stop the source of truth. Inspiration came to her. “Then the wizard hit her on the head and did not change that little skunk back.”

(जोअ उठकर बैठ गई, वास्तविक भय से उसके हाथ हवा में लहराने लगे। “लेकिन डैडी, तब उसने बताया कि दूसरे जानवर भाग जाते हैं।” उसके हाथ (कल्पना में) झाड़ियों में दौड़ते चले गए। ..“ठीक है। उसने कहा, ‘पर मम्मी, अन्य सारे छोटे-छोटे जानवर भाग जाते हैं’, और वह बोली, ‘मुझे इस बात की परवाह नहीं। तुमसे वैसी गंध आती थी जैसे किसी छोटे स्कंक से आनी चाहिए और मैं तुम्हें तुरन्त उस जादूगर के पास ले चलती हूँ,’ और उसने एक छतरी उठाई और रोज़र स्कंक के साथ वापस गई और सीधे जादूगर के सिर पर प्रहार किया।” .
“नहीं,” जोअ बोली, और उसके (जैक के) होठों को छूने के लिए उसने अपने हाथ बाहर निकाले, फिर भी अपनी उत्तेजना में भी सत्य के स्रोत को रोकने का साहस उसे न हुआ। उसके अन्दर प्रेरणा जागी। “तब जादूगर ने उसके सिर पर मारा और नन्हें स्कंक को वापस नहीं बदला।”)

“No,” he said. “The wizard said, ‘O.K.’ and Roger Skunk did not smell of roses anymore. He smelled very bad again.” “But the other little mum – oh! – a mum “. “Joanne. It’s Daddy’s story. Shall Daddy not tell you any more stories?” Her broad face looked at him through sifted light, astounded. “This is what happened, then. Roger Skunk and his mommy went home and they heard Woo-oo, w0000-00 and it was the choo-choo train bringing Daddy Skunk home from Boston. And they had lima beans, celery, liver, mashed potatoes, and Pie-Oh-My for dessert. And when Roger Skunk was in bed Mommy Skunk came up and hugged him and said he smelled like her little baby skunk again and she loved him very much. And that’s the end of the story.”

(“नहीं,” उसने कहा। “जादूगर ने कहा, “ठीक है” और रोज़र स्कंक की सुगन्ध अब गुलाबों की नहीं थी। उसकी सुगन्ध फिर-से बहुत खराब हो गई थी।” “मगर दूसरा छोटा अमम-ओह! अमम-” “जोआनी। यह डैडी की कहानी है। क्या आज के बाद डैडी तुम्हें कहानियाँ न सुनाए?” उसके चौड़े चेहरे ने डैडी को हैरान होकर छनकर आती हुई रोशनी में से देखा। “तो, ऐसा ही हुआ। रोज़र स्कंक और उसकी मम्मी घर चले गए और उन्होंने वू-वू-वू-ऊ की आवाज सुनी और यह छुक-छुक गाड़ी थी जिसमें डैडी स्कंक बोस्टन से आया था और उन्होंने लीमा बीन्ज, सैलरी, लिवर, आलू की टिक्की और पाई-ओह-माई की मिठाई खाई। और जब रोज़र स्कंक सो रहा था तो मम्मी स्कंक आई और उसे गले से लगाया और कहा कि उसकी सुगन्ध फिर-से बच्चे स्कंक की तरह हो गई थी और उसे उससे बहुत प्यार है। और यहीं पर यह कहानी समाप्त होती है।”)

“But Daddy.” “What?” “Then did the other little animals run away?” “No, because eventually they got used to the way he was and did not mind it at all.” “What’s evenshiladee?” “In a little while.” “That was a stupid mommy.” (“मगर डैडी।” “क्या?” “फिर क्या दूसरे जानवर भाग गए?” “नहीं, क्योंकि अन्ततः वह जिस प्रकार का था, वे उसके आदी हो गए और उन्हें यह बात बिल्कुल बुरी नहीं लगी।” “अन्ततः क्या होता है?” “कुछ समय बाद।” “वह एक मूर्ख मम्मी थी।”)

“It was not,” he said with rare emphasis, and believed, from her expression, that she realised he was defending his own mother to her, or something as odd. “Now I want you to put your big heavy head in the pillow and have a good long nap.” He adjusted the shade so not even a crack of day showed, and tiptoed to the door, in the pretense that she was already asleep. But when he turned, she was crouching on top of the covers and staring at him. “Hey. Get under the covers and fall fast a sleep. Bobby’s asleep.”

(“ऐसा नहीं था,” उसने कुछ अधिक ही जोर देकर कहा, और उसकी भावाभिव्यक्ति से उसे यह विश्वास हो गया कि वह समझ गई थी कि वह उसके सामने अपनी माँ का बचाव या ऐसी ही कोई और विचित्र बात कर रहा था। “अब मैं चाहता हूँ कि तुम अपना बड़ा भारी सिर तकिए पर रखो और अच्छी लम्बी नींद लो।” उसने परदे को ऐसा खींचा कि रोशनी की एक किरण भी अन्दर न आ सके, और दबे पाँव दरवाजे पर आ गया ऐसा बहाना बनाया कि जैसे वह अब सो चुकी है। पर जब वह मुड़ा, तब वह सिरहाने के पास बैठी दिखाई दी और उसकी तरफ घूर रही थी। “हे। चादर ढक लो और जल्दी से ग-ग-गहरी नींद में सो जाओ। बॉबी सो गया।”)

She stood up and bounced gingerly on the springs. “Daddy.” “What?” “Tomorrow, I want you to tell me the story that that wizard took that magic wand and hit that mommy”- her plump arms chopped forcefully-“right over the head.” “No. That’s not the story. The point is that the little skunk loved his mommy more than he loved all the other little animals and she knew what was right.”

“No. Tomorrow you say he hit that mommy. Do it”. She kicked her legs up and sat down on the bed with a great heave and complaint of springs, as she had done hundreds of times before, except that this time she did not laugh. “Say it, Daddy.”

“Well, we’ll see. Now at least have a rest. Stay on the bed. You’re a good girl.” (वह खड़ी हो गई और संभलकर लेकिन तेजी से उछलती हुई बोली। “डैडी।” “क्या?”
“मैं चाहती हूँ कि आप कल मुझे कहानी सुनाएँ कि जादूगर ने अपनी जादू की छड़ी उठाई और मम्मी को मार दी”– उसका मोटा बाजू जोर के साथ घूमा–“सीधे सिर के ऊपर।”
“नहीं। कहानी इस प्रकार नहीं है। बात यह है कि नन्हा स्कंक अपनी मम्मी से इतना प्यार करता था जितना बाकी सभी जानवरों को मिलाकर भी नहीं करता था और वह (मम्मी) जानती थी कि क्या ठीक है।”

“नहीं। कल आप कहना कि उसने मम्मी पर प्रहार किया। जरूर कहना।” टाँगें चलाती हुई वह बिस्तर पर बैठ गई और उसी बच्चों जैसी जिद्द के साथ बोली जैसी कि वह पहले भी सैकड़ों बार कर चुकी थी, सिवाय इस अन्तर के कि इस बार वह हँस नहीं रही थी। “ऐसा ही कहना, डैडी।” “अच्छा, देखेंगे। अब तो कम-से-कम सो जाओ। बिस्तर पर ही रहना। तुम अच्छी लड़की हो।”)

He closed the door and went downstairs. Clare had spread the newspapers and opened the paint can and, wearing an old shirt of his on top of her maternity smock, was stroking the chair rail with a dipped brush. Above him footsteps vibrated and he called, “Joanne! Shall I come up there and spank you?” The footsteps hesitated.

(वह दरवाजा बन्द करके नीचे चला गया। क्लेयर ने अखबार बिछा रखे थे और पेंट का डिब्बा खोल रखा था और अपने मातृत्त्व को ढकने के लिए पहने गए ढीले कपड़े के ऊपर उसने उसकी (जैक की) एक पुरानी कमीज पहन रखी थी, वह कुर्सी के डण्डे पर भिगोया हुआ बुश चला रही थी। उसके ऊपर से कदमों के हिलने की आवाज आई और उसने पुकारा, “जोआनी ! क्या मैं आकर तुम्हें पीढूँ?” कदम रुक गए।)

“That was a long story,” Clare said. “The poor kid,” he answered, and with utter weariness watched his wife labour. The woodwork, a cage of moldings and rails and baseboards all around them, was half old tan and half new ivory and he felt caught in an ugly middle position, and though he as well felt his wife’s presence in the cage with him, he did not want to speak with her, work with her, touch her, anything.

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 5 Should Wizard Hit Mommy?

(“बड़ी लम्बी कहानी थी,” क्लेयर बोली। “बेचारी बच्ची,” उसने उत्तर दिया और पूरी थकान के साथ अपनी पत्नी को मेहनत करते देखता रहा। लकड़ी का सामान, मोल्डिंग और डंडों से बना एक कठघरा और उनके चारों ओर बिखरे तख्ते, कुछ भूरे पुराने और कुछ हाथीदाँत जैसे चमकते सफेद और उसने स्वयं को एक बेकार परिस्थिति के मध्य में कैद पाया और यद्यपि उसने अपनी पत्नी की उपस्थिति को भी अपने साथ पिंजरे में अनुभव किया, उसकी इच्छा न हुई कि वह उससे बोले, उसके साथ काम करे, उसे छुए या कुछ भी करे।)

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 4 The Enemy

Haryana State Board HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 4 The Enemy Textbook Exercise Questions and Answers.

Haryana Board 12th Class English Solutions Vistas Chapter 4 The Enemy

HBSE 12th Class English The Enemy Textbook Questions and Answers

Question 1.
There are moments in life when we have to make hard choices between our roles as private individuals and as citizens with a sense of national loyalty. Discuss with reference to the story you have just read. [H.B.S.E. March, 2018 (Set-C)] (जीवन में कई ऐसे क्षण होते हैं जब हमें व्यक्तिगत रूप में और राष्ट्रीय वफादारी के लिए नागरिक के रूप में कठोर विकल्प को चुनना होता है। जो कहानी आपने अभी पढ़ी है उसके सन्दर्भ में विवेचना करो।)
Answer:
It is true that often in our life we are faced with situations where we have to make hard choice. As human beings we have human feelings and kindness. We have sympathy and kindness for our fellow beings. But sometimes our feelings of sympathy may clash with our national interest or patriotism. However, if a man has true feelings of sympathy, he rises above narrow patriotism and hears the call of humanity.

In this story, Sadao is a Japanese doctor. One day an American soldier is washed by the waves to the beach near his house. The soldier is injured. These are the war days and America and Japan are enemies. Sadao finds that the soldier is badly injured. If he did not operate upon him he would die. But the American soldier is an enemy. Sadao is in a dilemma. In the end, he performs the operation and saves his life. He also helps the soldier in escaping from there. Thus Sadao makes the right choice and listens to the call of duty.

(यह बात सच है कि हमारे जीवन में कई बार हम ऐसी स्थिति में फंस जाते हैं जब हमें कठोर विकल्प चुनना पड़ जाता है। एक मानव होने के नाते हमारी मानवीय संवेदनाएँ और दयाभाव होते हैं। अपने सहयोगियों के प्रति हमारे दिलों में सहानुभूति और दयाभाव होते हैं। लेकिन कई बार हमारी सहानुभूति की भावनाओं का हमारे राष्ट्रीय हित या राष्ट्रभक्ति के साथ टकराव हो जाता है। यद्यपि, किसी इन्सान के मन में सहानुभूति का भाव दृढ़ता से भरा है, तो वह संकीर्ण राष्ट्र भक्ति की भावना से ऊपर उठ जाता है और मानवता की आवाज को सुनता है।

इस कहानी में, सदाओ एक जापानी डॉक्टर है। एक दिन एक अमेरिकी सैनिक लहरों के साथ बहकर समुद्र तट पर उसके घर के पास आ जाता है। सैनिक घायल है। इन दिनों युद्ध चल रहा है और अमेरिका और जापान दुश्मन है। सदाओ देखता है कि सैनिक बुरी तरह से घायल है। यदि वह उसका ऑपरेशन नहीं करता है तो वह मर जाएगा। लेकिन अमेरिकी सैनिक एक शत्रु है। सदाओ एक दुविधा में है। अंत में, वह उसका ऑपरेशन करता है और उसका जीवन बचा देता है। वह सैनिक की वहाँ से बच निकलने में भी मदद करता है। इस तरह से डॉ० सदाओ सही निर्णय लेता है और अपने कर्त्तव्य के प्रति प्रण निभाता है।)

Question 2.
Dr Sadao was compelled by his duty as a doctor to help the enemy soldier. What made Hana, his wife, sympathetic to him in the face of open defiance from the domestic staff?
(डॉ० सदाओ को एक डॉक्टर होने के नाते अपने कर्त्तव्य से दुश्मन सैनिक की सहायता करने को बाध्य होना पड़ा। अपने घरेलू स्टॉफ के तीव्र विरोध के बावजूद उसकी पत्नी हाना उसके प्रति सहानुभूतिपूर्ण क्यों थी?)
Answer:
Sadao and his wife decided to save the soldier’s life. The domestic servants did not like it. They thought that Sadao was helping an enemy. They also thought that because Hana had studied in America, she was sympathetic to the American soldier. But this was not the case. Hana knew her husband well. She knew that he was a skilled doctor. She also knew that as human beings they had the duty to help an injured and helpless man. Sometimes she also felt that the soldier should be handed over to the police. But she had full faith in her husband. Moreover, the American soldier was injured. If they handed over to the police, he would die. That is why, Hana was sympathetic to the American soldier in spite of the open defiance by her domestic servants.

(सदाओ और उसकी पत्नी ने सैनिक के जीवन को बचाने का निर्णय लिया। घरेलू नौकरों को यह बात पसंद नहीं थी। उन्होंने सोचा कि सदाओ एक शत्रु की मदद कर रहा था। उन्होंने यह बात भी सोची क्योंकि हाना ने अमेरिका में पढ़ाई की थी, इसलिए उसके मन में अमेरिकी सैनिक के प्रति सहानुभूति थी। लेकिन ऐसी बात नहीं थी। हाना अपने पति को अच्छी तरह से जानती थी। वह जानती थी कि वह एक निपुण डॉक्टर है। वह यह भी जानती थी कि इन्सान होने के नाते एक घायल और असहाय व्यक्ति की मदद करना उनका कर्त्तव्य था। कई बार उसने यह भी महसूस किया कि उस सैनिक को पुलिस के हवाले कर दिया जाए। लेकिन उसको अपने पति पर पूरा भरोसा था। इससे भी बढ़कर, अमेरिकी सैनिक घायल था। यदि वे उसे पुलिस के हवाले कर देते, तो वह मर जाता। यही वजह है कि, अपने घरेलू नौकरों के खुले विरोध के बावजूद भी हाना उस अमेरिकी सैनिक के प्रति सहानुभूतिपूर्ण थी।)

Question 3.
How would you explain the reluctance of the soldier to leave the shelter of the doctor’s home even when he knew he couldn’t stay there without risk to the doctor and himself? (हालांकि जब वह जानता था कि वह डॉक्टर के घर में डॉक्टर और स्वयं को खतरे में डाले बिना वहाँ नहीं रह सकता फिर भी आप सैनिक की डॉक्टर के घर को छोड़ने की अनिच्छा को कैसे समझाएँगे?)
Answer:
Dr Sadao saved the American soldier’s life. He found that he and his wife were very kind to him. If Sadao had not operated on him, he would have died. The soldier had been tortured in a Japanese camp. He had escaped from there. If Sadao had given him over to the police, he would have died there. After the operation, the soldier was very weak. He was not in a position to run away. So, he was reluctant to go away. But when Sadao finally asked him to go, he obeyed. He agreed reluctant as he knew that the doctor was saving his life again.

(डॉ० सदाओ ने अमेरिकी सैनिक के जीवन को बचाया। उसने देखा कि वह और उसकी पत्नी उसके प्रति बहुत ही दयालु थे। यदि सदाओ उसका ऑपरेशन नहीं करता, तो वह मर जाता। उस सैनिक को एक जापानी कैंप में यातना दी गई थी। वह वहाँ से बचकर निकला था। यदि सदाओ उसे पुलिस को सौंप देता, तो वह वहाँ पर मर जाता। ऑपरेशन के बाद, सैनिक बहुत कमजोर था। वह भागने की स्थिति में नहीं था। इसलिए वह जाने में हिचकिचा रहा था। लेकिन जब सदाओ ने उसको जाने के लिए कहा, तो उसने उसकी बात मानी। वह अनिच्छा के साथ सहमत हो गया क्योंकि उसे पता था कि डॉक्टर फिर से उसका जीवन बचाने का प्रयास कर रहा था।) ।

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 4 The Enemy

Question 4.
What explains the attitude of the General in the matter of the enemy soldier? Was it human consideration, lack of national loyalty, dereliction of duty or simply self-absorption? (दुश्मन सैनिक के प्रति जनरल की लापरवाही क्या बात समझाती है? क्या यह मानवीय विचार, राष्ट्रीय प्यार की कमी, कर्तव्य की लापरवाही या केवल आत्म-व्यक्तता थी?)
Answer:
The General was ruthless. He had his private assassins. The General told Sadao that he would send his assassins to kill the American soldier. But the assassins did not come for two days. On the third day, Sadao helped the American soldier in escaping. It was not the human consideration on the part of the General. He was not a kind hearted man. It was also not the lack of national loyalty or the dereliction of duty. The General had been ill. He had to undergo an operation. So he was lost in his own worries. Because of this, he forgot about the American soldier.

(जनरल क्रूर था। उसने अपने निजी हत्यारे रखे हुए थे। जनरल ने सदाओ को बताया कि अमेरिकी सैनिक को मारने के लिए वह अपने निजी हत्यारों को भेज देगा। लेकिन वे हत्यारे दो दिन तक नहीं आए। तीसरे दिन, सदाओ ने अमेरिकी सैनिक की बचकर निकलने में मदद की। जनरल की बात में मानवीय संवेदना नहीं थी। वह एक दयालु हृद्य वाला व्यक्ति नहीं था। राष्ट्र के प्रति स्वामीभक्त और कर्त्तव्य के प्रति लापरवाह भी नहीं था। जनरल बीमार हो गया था। उसे ऑपरेशन करवाना पड़ा था। इसलिए वह भी अपनी चिन्ताओं में डूबा हुआ था। इसकी वजह से, वह अमेरिकी सैनिक को भूल गया था।)

Question 5.
While hatred against a member of the enemy race is justifiable, especially during wartime, what makes a human being rise above narrow prejudices? (जबकि दुश्मन राष्ट्र के सदस्य के प्रति, विशेषतौर पर युद्ध के दौरान, नफरत सही समझी जा सकती है, कौन-सी बात मनुष्य को राष्ट्रीय पूर्वाग्रहों से ऊपर उठाती है?)
Answer:
Nations go to war against one another. During the war time, the national leaders make propaganda against the people of other nations. At that time we may feel enmity with the other people. But we should never forget that we are all human beings. Nations may hate each other. But people do not hate one another simply because they belong to different countries. When a person is faced with a situation where he can save another person’s life, he generally acts on humanitarian grounds. That is what Dr Sadao did. He saved the life of an American soldier although at that time, Japan and America were at war.

(राष्ट्र एक दूसरे के खिलाफ युद्ध करते रहते हैं। युद्ध के दौरान, राष्ट्रीय नेता दूसरे राष्ट्रों के विरुद्ध दुष्प्रचार करते रहते हैं। इस समय हम दूसरे लोगों के प्रति शत्रुता महसूस करते हैं। लेकिन हमें इस बात को नहीं भूलना चाहिए कि हम सभी इन्सान हैं। राष्ट्र एक-दूसरे से नफरत कर सकते हैं। लेकिन लोग एक-दूसरे से नफरत नहीं करते क्योंकि उनका संबंध भिन्न-भिन्न देशों से है। जब किसी व्यक्ति का सामना ऐसी स्थिति से होता है जब वह किसी दूसरे आदमी का जीवन बचा सकता है, तो प्रायः वह मानवीय आधार पर कार्य करता है। यही काम डॉ० सदाओ ने किया। उसने एक अमेरिकी सैनिक का जीवन बचाया, जबकि उस समय, जापान और अमेरिका के बीच युद्ध छिड़ा हुआ था।)

Question 6.
Do you think the doctor’s final solution to the problem was the best possible one in the circumstances? (क्या आपके विचार में समस्या के प्रति डॉक्टर का अन्तिम समाधान उन परिस्थितियों में सर्वोत्तम सम्भव था?)
Answer:
Yes, the doctor’s final solution to the problem was the best possible. He did not to let the American soldier die. But he also did not want to be arrested on the charges of sheltering an enemy. So, he first saved the soldier’s life by operating on him. Then he brought the matter to the notice of the General. He said that he would send the assassins to kill the man. Sadao waited for two days but the assassins did not come. Sadao could not let the soldier remain longer in his house. It would have been dangerous for both-for him and the soldier. So he helped the soldier in escaping from there.

(हाँ, डॉक्टर के द्वारा समस्या का निकाला गया अंतिम हल संभवतः सर्वश्रेष्ठ था। उसने अमेरिकी सैनिक को मरने नहीं दिया। लेकिन वह एक शत्रु को आश्रय देने के आरोप में गिरफ्तार होने से भी बचना चाहता था। इसलिए उसने पहले ऑपरेशन करके सैनिक का जीवन बचाया। तब वह उस मामले को जनरल के संज्ञान (जानकारी) में लेकर आया। उसने कहा कि वह उस आदमी को मारने के लिए अपने हत्यारे भेज देगा। सदाओ ने दो दिन तक इन्तजार किया लेकिन हत्यारे नहीं आए। सदाओ उस सैनिक को अधिक दिनों तक अपने घर में रहने नहीं दे सकता था। यह उन दोनों उसके और सैनिक के लिए खतरे से भरा हुआ था। इसलिए उसने उस सैनिक की वहाँ से बचकर निकलने में मदद की।)

Question 7.
Does the story remind you of ‘Birth’ by A.J.Cronin that you read in Snapshots last year? What are the similarities? (क्या यह कहानी आपको ए.जे. क्रॉनिन की कहानी ‘बर्थ’ की याद दिलाती है जो आपने पिछले साल ‘स्नैपशॉट्स’ में पढ़ी थी? समानताएँ क्या हैं ?)
Answer:
Both these stories are centered on doctors who do their duties. In both the stories, the doctors save lives. The doctors in these stories are driven by monetary considerations. In ‘Birth’, Dr, Andrew was tired. But he willingly accompanied Morgan. There he had to wait for a long time before his services were needed. He saved two lives – that of the newborn baby and its mother. The baby did not breathe. The midwife declared it to be stillborn. But the doctor worked hard and saved its life. In the story ‘Enemy’, Sadao works hard and saves the life of an enemy soldier. He does not hand him over to the police. Thus, in both the stories, the doctors are devoted to their duty.

(ये दोनों कहानियाँ डॉक्टरों पर आधारित है जो अपने कर्तव्य का पालन करते हैं। दोनों कहानियों में, डॉक्टर जीवन बचाते हैं। इन दोनों कहानियों में डॉक्टर धन से भी प्रभावित दिखाई पड़ते हैं। कहानी ‘Birth’ में डॉ० एण्ड्रयू थका हुआ था। लेकिन वह स्वेच्छा से मॉर्गन के साथ गया। वहाँ पर उसे अपनी सेवाएं प्रदान करने से पहले बहुत देर तक इन्तजार करना पड़ा। उसने दो जीवन बचाए-नवजात बच्चे का और उसकी माँ का। बच्चा साँस नहीं ले रहा था। दाई ने उसे मृत घोषित कर दिया था। लेकिन डॉक्टर ने कठोर परिश्रम किया और उसकी जीवन बचा लिया। कहानी ‘The Enemy’ में भी सदाओ कठोर परिश्रम करता है और शत्रु सैनिक का जीवन बचा लेता है। वह उसे पुलिस के हवाले नहीं करता है। इस तरह से इन दोनों कहानियों में, डॉक्टर अपने कर्तव्य के प्रति समर्पित हैं।)

Question 8.
Is there any film you have seen or novel you have read with a similar theme? (क्या आपने इसी विषय पर कोई फिल्म देखी है या कोई उपन्यास पढ़ा है?)
Answer:
For self-attempt. (स्वयं करें।)

Read And Find Out

Question 1.
Who was Dr Sadao? Where was his house? [H.B.S.E. March, 2020 (Set-A)] (डॉ० सदाओ कौन था? उसका घर कहाँ था ?)
Answer:
Dr Sadao was a Japanese doctor. He was a very famous doctor. His house was a low square stone house. It was built upon rocks well above a narrow beach.
(डॉ० सदाओ एक जापानी डॉक्टर था। वह एक बहुत ही प्रसिद्ध डॉक्टर था। उसका घर चोकोर पत्थरों से बना एक कम ऊँचाई वाला घर था। वह एक तंग समुद्री तट के ऊपर चट्टानों पर बना हुआ था।)

Question 2.
Will Dr Sadao be arrested on the charge of harbouring an enemy? (क्या डॉ० सदाओ को एक दुश्मन को आश्रय देने के लिए कैद किया जाएगा?)
Answer:
No, Dr Sadao will not be arrested. He performs his duty as a doctor to save a person from death. He will tell the General about the American soldier. But as the General depends on Dr Sadao for his treatment, he will not take any action against the doctor. (नहीं, डॉ० सदाओ को गिरफ्तार नहीं किया जाएगा। वह एक आदमी को मौत से बचाने के लिए अपने कर्तव्य का पालन करता है। वह जनरल को अमेरिकी सैनिक के बारे में बताएगा। लेकिन जनरल भी अपने इलाज के लिए डा० सदाओ पर ही निर्भर है, वह उसके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं करेगा।)

Question 3.
Will Hana help the wounded man and wash him herself? . (क्या हाना घायल आदमी की सहायता करेगी और स्वयं उसके घाव धोएगी?)
Answer:
Hana asks her maid-servant Yumi to wash the wounded man. But she refuses to do so. At this Hana herself washes the wounded soldier.
(हाना अपनी नौकरानी यूमी से घायल व्यक्ति के घावों की सफाई करने को कहती है। लेकिन वह ऐसा करने से इन्कार कर देती है। इस पर हाना स्वयं ही घायल सैनिक के घावों को धोती है।)

Question 4.
What will Dr Sadao and his wife do with the man? (डॉ० सदाओ और उसकी पत्नी उस व्यक्ति का क्या करेंगे ?)
Answer:
Dr Sadao is a gentleman. He performs the duty of a doctor. He knows the man is wounded and must be helped even if he is an American soldier. His wife also helps him. They look after him and cure him. (डॉ० सदाओ एक सरल व्यक्ति है। वह एक डॉक्टर के कर्त्तव्य का पालन करता है। वह जानता है कि वह आदमी घायल है और फिर चाहे वह अमेरिकी सैनिक ही क्यों न हो उसकी मदद की जानी चाहिए। उसकी पत्नी भी उसकी सहायता करती है। वे उसकी देखभाल करते हैं और उसका इलाज करते हैं।)

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 4 The Enemy

Question 5.
Will Dr Sadao be arrested on the charge of harbouring an enemy? [H.B.S.E. 2017 (Set-A)] (क्या डॉ० सदाओ को एक शत्रु को आश्रय देने के लिए कैद किया जाएगा ?)
Answer:
For Answer see Q.2. (प्रश्न 2 का उत्तर देखें।)

Question 6.
What will Dr Sadao do to get rid of the man? (उस व्यक्ति से छुटकारा पाने के लिए डॉ० सदाओ क्या करेगा?) OR What did Dr Sadao do to help Tom escape to freedom? (डॉ० सदाओ ने टॉम को बचाने के लिए क्या किया?) [H.B.S.E. March, 2019 (Set-B)]
Answer:
Dr Sadao looked after the wounded American soldier. He treated him and saved his life. When the American soldier was recovered, he helped him in escaping from there. He provided a boat to him so that he could escape.
(डॉ० सदाओ ने घायल अमेरिकी सैनिक की देखभाल की। उसने उसका इलाज किया और उसका जीवन बचा लिया। जब अमेरिकी सैनिक स्वस्थ हो गया, तो उसने उसकी वहाँ से बच निकलने में भी मदद की। उसने उसको एक नौका उपलब्ध करवाई ताकि वह बचकर निकल सके।)

HBSE Class 12 English The Enemy Important Questions and Answers

Multiple Choice Questions
Select the correct option for each of the following questions : 

1. Who is the writer of the story ‘The Enemy’?
(A) R.K. Narayan
(B) Pearl S. Buck
(C) Bearl S. Puck
(D) Searl S. Buck
Answer:
(B) Pearl S. Buck

2. Who is the Japanese doctor in the story ‘The Enemy’?
(A) Dr Sadao Hoki
(B) Dr Hadao Soki
(C) Dr Dadao Koki
(D) Dr Kadao Soki
Answer:
(A) Dr Sadao Hoki

3. Who is the enemy in the story ‘The Enemy’?
(A) an American soldier
(B) an Indian soldier
(C) a German soldier
(D) a French soldier
Answer:
(A) an American soldier

4. What is the condition of the American soldier in the beginning of the story?
(A) healthy
(B) strong
(C) injured
(D) he is singing
Answer:
(C) injured

5. What was the name of Dr Sadao’s wife?
(A) Tana
(B) Lana
(C) Dana
(D) Hana
Answer:
(D) Hana

6. Where had Dr Sadao met Hana for the first time?
(A) in India
(B) in Germany
(C) in America
(D) in Pakistan
Answer:
(C) in America

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 4 The Enemy

7. One day, whom did Dr Sadao and his wife see in the morning?
(A) a staggering man
(B) a tiger
(C) a cow
(D) a leader
Answer:
(A) a staggering man

8. At first Dr Sadao and his wife thought that the injured man was a fisherman. But what did they find when they went near the man?
(A) he was a German
(B) he was an American
(C) he was a Sailor
(D) he was a Writer
Answer:
(B) he was an American

9. What would happen if Dr Sadao sheltered an American soldier in the house?
(A) Dr Sadao would be arrested
(B) the soldier will run away
(C) Dr Sadao’s wife would run away
(D) they will all be safe
Answer:
(A) Dr Sadao would be arrested

10. What did Dr Sadao’s wife suggest about the American soldier?
(A) to kill him
(B) to hand him over to the government
(C) to treat him
(D) to put him back into the sea
Answer:
(D) to put him back into the sea

11. What was his moral duty about the injured American soldier, according to Dr. Sadao?
(A) to throw him out of the house
(B) to throw him into the sea
(C) to treat him
(D) to hand him over to the police
Answer:
(C) to treat him

12. What would happen if they did not operate upon the American soldier at once?
(A) he would run away
(B) he would die
(C) the police would arrest him
(D) the soldier would cry
Answer:
(B) he would die

13. What did Hana refuse to do ?
(A) to make tea
(B) to inform the police
(C) to wash the injured soldier’s wounds
(D) to tell anyone
Answer:
(C) to wash the injured soldier’s wounds

14. Did Yumi, the maidservant, agree to wash the American soldier’s wounds?
(A) yes
(B) no
(C) maybe
(D) none of these
Answer:
(B) no

15. Who washed the wounds of the injured American soldier?
(A) Dr Sadao
(B) Yumi, the maid servant
(C) the gardener
(D) Dr Sadao’s wife
Answer:
(D) Dr Sadao’s wife

16. What did Dr. Sadao tell his wife after operating upon the American soldier?
(A) he would die
(B) he would live
(C) they would kill him
(D) he would kill them
Answer:
(B) he would live

17. What did the messenger tell Hana?
(A) the policeman was coming
(B) Sadao would be arrested
(C) the general had asked for Sadao
(D) Sadao was to be rewarded
Answer:
(C) the general had asked for Sadao

Short Answer Type Questions
Question 1.
Describe the time of the story. (कहानी के समय का वर्णन करो।)
Answer:
The story is set in the days of the World War II. It is about a Japanese doctor, Dr Sadao Hoki and an injured American soldier whom he treated. At that time, Japan was at war with America.

(यह कहानी द्वितीय विश्व युद्ध के समय में लिखी गई है। यह कहानी एक जापानी डॉक्टर सदाओ होकी और एक घायल अमेरिकी सैनिक के बारे में है जिसका उसने उपचार किया। उस समय, जापान का अमेरिका से युद्ध छिड़ा हुआ था।)

Question 2.
Who was Dr Sadao? Where was his house? [H.B.S.E. March, 2017 (Set-D), 2020 (Set-C)] (डॉ० सदाओ कौन था? उसका घर कहाँ था?)
Answer:
Dr Sadao was a Japanese doctor. He was famous for his skill. Dr Sadao’s house was a low square stone house. It was set upon rocks well above a narrow beach, that was outlined with bent pines.

(डॉ० सदाओ एक जापानी डॉक्टर था। वह अपनी निपुणता के लिए प्रसिद्ध था। डॉ० सदाओ का घर चोकोर पत्थरों से बना एक नीचा घर था। वह एक तंग समुद्री तट पर चट्टानों के ऊपर स्थित था और उसके किनारे पर चीड़ के झुके पेड़ खड़े थे।)

Question 3.
Why was Dr Sadao not sent to the war front with the troops?[H.B.S.E. March, 2018 (Set-C)] (डॉ० सदाओ को सेनाओं के साथ युद्ध पर क्यों नहीं भेजा गया था?)
Answer:
Dr Sadao was a skilled and famous surgeon of his region. He was famous not only as a doctor but as a scientist also. He was perfecting a technique that would render the wounds perfectly clean. But he had not been sent to the war front with the troops. The old General was ill. He might need an operation. So Sadao was kept in Japan.

(डॉ० सदाओ अपने क्षेत्र का एक निपुण और प्रसिद्ध सर्जन था। वह केवल डॉक्टर के रूप में ही नहीं बल्कि एक वैज्ञानिक के रूप में भी प्रसिद्ध था। वह एक ऐसी तकनीक का प्रयोग कर रहा था जो कि जख्मों को पूरी तरह से साफ कर देती थी। लेकिन उसको सैनिक टुकड़ियों के साथ युद्ध के मोर्चे पर नहीं भेजा गया था। वृद्ध जनरल बीमार था। उसे शायद ऑपरेशन की आवश्यकता थी। इसलिए डॉ० सदाओ को जापान में ही रखा गया।)

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 4 The Enemy

Question 4.
Who was Dr Sadao’s wife? (डॉ० सदाओ की पत्नी कौन थी?)
Answer:
The name of Sadao’s wife was Hana. Sadao had met her in America where both of them had gone to study. They fell in love and when they came back to Japan, they married each other. (डॉ० सदाओ की पत्नी का नाम हाना था। सदाओ उसको अमेरिका में मिला था जहाँ पर वे दोनों पढ़ाई करने के लिए गए थे। उनमें प्यार हो गया और जब वे जापान लौटे, तो उन्होंने आपस में शादी कर ली।)

Question 5.
What did Dr Sadao and his wife see one day? (एक दिन डॉ० सदाओ और उसकी पत्नी ने क्या देखा?)
Answer:
One day, Dr Sadao and his wife were standing in the verandah of their house. They were looking towards the sea. There was mist on the sea. Suddenly they saw a man came out of the mist to the shore. It seemed that he had been flung out of the ocean by a big wave.
(एक दिन डॉ० सदाओ और उसकी पत्नी अपने घर के बरामदे में खड़े थे। वे समुद्र की ओर देख रहे थे। समुद्र पर धुंध छाई हुई थी। अचानक ही उन्होंने धुंध में से एक आदमी को किनारे की ओर आते हुए देखा। ऐसा लगता था कि उसे किसी बड़ी लहर के द्वारा समुद्र से बाहर फेंक दिया गया था।)

Question 6.
In what condition did Dr Sadao find the American soldier at the seashore? (H.B.S.E. 2019 (Set-D)] (डॉ० सदाओ को समुद्र के किनारे पर अमेरिकन सैनिक किस अवस्था में मिला?) Or When did Dr Sadao and his wife first see the American? [H.B.S.E. March, 2018 (Set-D)] (डॉ० सदाओ और उसकी पत्नी ने पहली बार अमेरिकन को कब देखा?)
Answer:
The shallow sea near the beach was dotted with spiked rocks. Somehow the man had managed to come through them and he must be badly injured. At first Sadao and his wife thought that perhaps he was a fisherman. But when they went near the man, they found that he was an American. He laid there unconscious.
(समुद्र तट के पास का उथले सागर पर नुकीली चट्टानों के निशान नजर आ रहे थे। जैसे-तैसे वह आदमी उन चट्टानों में से होते हुए तट तक पहुंच गया और वह बुरी तरह से घायल था। पहले तो डॉ० सदाओ और उसकी पत्नी ने सोचा कि वह कोई मछुआरा होगा। लेकिन जब वे उस आदमी के निकट गए, तो उन्होंने पाया कि वह तो एक अमेरिकी है। वह वहाँ पर बेहोश पड़ा था।)

Question 7.
What did Sadao notice about the White man’s wound? How did he stop its bleeding? (सदाओ ने श्वेत आदमी के घाव के बारे में क्या देखा? उसने घाव से बहते हुए रक्त को कैसे रोका?)
Answer:
Dr Sadao searched for the wound. He found that there was a gun wound his lower back. It appeared that he had been shot and had not been tended for many days. Dr Sadao found that the man was bleeding. In order to stop bleeding, he packed the wound with sea moss.
(डॉ० सदाओ ने उसका घाव खोजा। उसने पाया कि उसकी पीठ के नीचे एक गोली का घाव था। ऐसा लगता था कि उसको गोली लगी थी और कई दिनों से उसका इलाज नहीं हुआ था। डॉ० सदाओ ने देखा कि उस आदमी का खून बह रहा था। खून के बहाव को बंद करने के लिए उसने घाव को सागर की काई से भर दिया।)

Question 8.
What did Hana suggest to her husband about the injured soldier? (हाना ने घायल सैनिक के बारे में अपने पति को क्या सुझाव दिया?)
Answer:
Dr Sadao wondered what he should do with the man. If they sheltered an American soldier in the house, they would be arrested. And if they turned him over to the police, he would certainly die. Hana told her husband that the best thing would be to put the man back into the sea.
(डॉ० सदाओ हैरान था कि वह उस आदमी का क्या करे। यदि उन्होंने एक अमेरिकी सैनिक को अपने घर में आश्रय दिया, तो उन्हें गिरफ्तार कर लिया जाएगा। और यदि उन्होंने उसे पुलिस के हवाले कर दिया, तो वह निश्चित रूप से मर जाएगा। हाना ने अपने पति को बताया कि उनके लिए सबसे अच्छी बात यह होगी कि वे उस आदमी को वापस समुद्र में फेंक दें।)

Question 9.
What did Dr Sadao tell his wife about the injured soldier? (डॉ० सदाओ ने घायल सैनिक के बारे में अपनी पत्नी को क्या बताया?)
Answer:
The injured soldier appeared to be a prisoner of war and had escaped. Dr Sadao said to his wife that if the man were healthy, he would hand him over to the police. But the man was injured and as a doctor, he had the moral duty to treat him.
(घायल सैनिक युद्ध बंदी दिखाई पड़ता था और वह बचकर निकला था। डॉ० सदाओ ने अपनी पत्नी को बताया कि यदि वह आदमी स्वस्थ होता, तो वह उसे पुलिस के हवाले कर देता। लेकिन वह आदमी घायल था और एक डॉक्टर होने के नाते उसका नैतिक कर्त्तव्य था कि वह उसका इलाज करे।)

Question 10.
What did Dr Sadao decide to tell the servants about the injured American? (डॉ० सदाओ ने घायल अमेरिकन के बारे में नौकरों को क्या बताने का फैसला किया?)
Answer:
Dr Sadao wanted to bring the injured American to his house and treat him. But there was the problem of servants in the house. Hana suggested that they would tell the servants that they intended to hand over the man to the police after treating him.
(डॉ० सदाओ घायल अमेरिकी को अपने घर लाना चाहता था और उसका इलाज करना चाहता था। लेकिन घर में नौकरों की समस्या थी। हाना ने सुझाव दिया कि वे नौकरों को बता देंगे कि इलाज करने के बाद वे उस आदमी को पुलिस के हवाले कर देंगे।)

Question 11.
What did Hana tell her husband about performing an operation on the injured soldier? (हाना ने घायल सैनिक के ऑप्रेशन के बारे में अपने पति को क्या बताया?)
Answer:
Sadao and his wife carried the injured man into the house. They took him into an empty bedroom and laid him on the matted floor. Sadao felt his pulse. It was very weak. He said that if he were not operated upon soon, he would die. Hana told Sadao that he should not try to save the man, as he was the enemy. But he insisted on performing the operation.
(सदाओ और उसकी पत्नी घायल सैनिक को घर ले गए। वे उसे एक खाली शयनकक्ष में ले गए और उसको एक मैट (चटाई) पर लिटा दिया। सदाओ ने उसकी नब्ज महसूस की। यह बहुत कमजोर हो गई थी। उसने कहा कि यदि उसका शीघ्र ही ऑपरेशन नहीं किया गया, तो वह मर जाएगा। हाना ने सदाओ को कहा कि उसे उस आदमी को बचाने का प्रयास नहीं करना चाहिए, क्योंकि वह एक शत्रु था। लेकिन उसने उसका ऑपरेशन करने की जिद्द पकड़े रखी।)

Question 12.
What did the servants say when they learnt about the American soldier in the house? (जब नौकरों को घर में अमेरिकन सैनिक के होने का पता चला तो उन्होंने क्या कहा?)
Answer:
The servants, one of whom was also the gardener, were frightened at what their master had just told them. The gardener said that the master should not heal the wounds of the enemy. He said that the sea had wounded the man with the rocks. If Sadao healed his wounds, the sea would be angry and take revenge on the whole household.
(नौकर, जिनमें से एक माली भी था, अपने मालिक के द्वारा बताई गई बात को सुनकर डर गए थे। माली ने कहा कि मालिक को शत्रु के घावों को ठीक नहीं करना चाहिए। उसने कहा कि समुद्र ने अपनी चट्टानों से उस आदमी को घायल किया था। यदि सदाओ ने उसके घावों को ठीक कर दिया, तो समुद्र नाराज हो जाएगा और पूरे घर से बदला लेगा।)

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 4 The Enemy

Question 13.
What did Yumi say when Hana asked him to wash the prisoner? (जब हाना ने यूमी को कैदी को साफ करने को कहा तो उसने क्या कहा?)
Answer:
Sadao said that the injured soldier had to be washed. Hana told Yumi to bring hot water to the room where the white man was. Yumi came into the room, but she refused to wash a white man and left the room.
(सदाओ ने कहा कि घायल सैनिक को साफ किया जाना चाहिए। हाना ने यूमी से कहा कि वह कमरे में गर्म पानी लेकर आए जहाँ वह गोरा आदमी पड़ा था। यूमी कमरे में आई, लेकिन उसने उस गोरे आदमी को साफ करने से मना कर दिया और कमरे से चली गई।

Question 14.
How did Hanagive anesthetic to the injured American? – (हाना ने घायल अमेरिकन को बेहोशी की दवा कैसे दी?)
Answer:
Dr Sadao entered the room with his surgeon’s emergency bag. He and Hana turned the man over. The blood from the wound had spoiled their expensive mat. Then Sadao washed the injured man’s back. He asked Hana to give the anesthetic to the man. She moistened the cotton with the anesthetic and held it near his nostrils.
(डॉ० सदाओ ने अपने सर्जन वाले आपातकालीन बैग के साथ कमरे में प्रवेश किया। उसने और हाना ने उस आदमी को पलट दिया। घाव से निकल रहे खून ने उनके कीमती कालीन को खराब कर दिया था। तब सदाओ ने उस घायल आदमी की पीठ को साफ किया। उसने हाना को कहा कि वह उस आदमी को बेहोशी की दवाई दे। उसने बेहोशी की दवाई के साथ रूई को गीला किया और उसके नाक के छिद्रों के पास कर दिया।)

Question 15.
What did Dr Sadao and his wife tell the American when he regained consciousness? (जब अमेरिकन को होश आया तो डॉ० सदाओ और उसकी पत्नी ने उसे क्या बताया?)
Answer:
After sometime, the man regained consciousness. He was surprised to find himself in the home of a Japanese doctor. Sadao and his wife told him that he had been washed ashore and that they had operated upon him.
(कुछ समय के पश्चात्, उस आदमी को होश आ गया। वह स्वयं को एक जापानी डॉक्टर के घर में पाकर हैरान था। सदाओ और उसकी पत्नी ने उसे बताया कि वह पानी में बहकर समुद्र तट पर आ गया था और उन्होंने उसका ऑपरेशन कर दिया है।)

Question 16.
What did Sadao tell the American on the third day? (डॉ० सदाओ ने तीसरे दिन अमेरिकन को क्या बताया?)
Answer:
On the third day of the operation, when Sadao entered the guest room he found that the young man had regained some strength and was recovering. He asked Sadao whether he would hand him over to the police. Sadao told him that he had not yet decided about his fate.

(ऑपरेशन के तीसरे दिन, जब सदाओ ने अतिथि कक्ष में प्रवेश किया तो पाया कि उस नौजवान में कुछ जान आ गई थी और वह ठीक हो रहा था। उसने सदाओ से पूछा कि क्या वह उसे पुलिस के हवाले करेगा। सदाओ ने उसको बताया कि अभी उसने उसके भाग्य के बारे में निर्णय नहीं लिया है।)

Question 17.
Why were the servants in a revolting mood? (नौकर विद्रोह के मूड में क्यों थे?)
Answer:
Hana told her husband that the servants were in a revolting mood. Yumi had told her that she would not remain in the house any more if the American was kept in the house. She said that the other servants were also angry as they thought that Sadao was helping an American soldier.
(हाना ने अपने पति को बताया कि नौकर विद्रोह के मूड में हैं। यूमी ने उसको बता दिया था कि यदि अमेरिकी को घर में रखा गया तो वह उस घर में नहीं रहेगी। उसने कहा कि अन्य नौकर भी नाराज हैं क्योंकि सदाओ एक अमेरिकी सैनिक की मदद कर रहा था।)

Question 18.
What did the official messenger tell Hana? (सरकारी सन्देशवाहक ने हाना को क्या बताया?)
Answer:
In the afternoon a messenger in an official uniform came. Hana was terrified. But he simply said that the General had asked for Sadao to visit his palace in order to check him. She heaved a sigh of relief.
(दोपहर बाद सरकारी वर्दी में एक संदेशवाहक आया। हाना डर गई थी। लेकिन उसने इतना ही कहा कि जनरल ने सदाओ को अपने स्वास्थ्य की जाँच करवाने हेतु अपने महल में बुलाया है। उसने एक राहत की साँस ली।)

Question 19.
What did the General say when Dr Sadao tell him about the American? (जब डॉ० सदाओ ने उसे अमेरिकन के बारे में बताया तो जनरल ने क्या कहा?)
Answer:
Sadao told the General about the presence of the American soldier in his house. The General did not get angry with him. On the other hand, he praised his skill as a surgeon. He told Sadao that he would not let anything happen to him as he was treating him (the General). He said that it was unfortunate that the American had washed up on his doorstep.

(डॉ० सदाओ ने जनरल को अपने घर में अमेरिकी सैनिक की उपस्थिति के बारे में बताया। जनरल ने उसके प्रति गुस्सा प्रकट नहीं किया। दूसरी ओर उसने एक सर्जन के रूप में उसकी कुशलता की प्रशंसा की। उसने सदाओ को बताया कि वह उसके साथ कुछ भी गलत नहीं होने देगा क्योंकि वह उसका (जनरल का) इलाज कर रहा था। उसने कहा कि यह तो एक दुर्भाग्यपूर्ण बात रही है कि वह बहकर उसके घर तक आ गया था।)

Question 20.
What did the General tell Dr Sadao about the American? (जनरल ने डॉ० सदाओ को अमेरिकन के बारे में क्या कहा?)
Answer:
The General told Sadao that the American would have to be killed so that the matter did not reach the police. He said that he would send his private assassins. They would kill the Americans without making any noise. They would even take away the dead body so that there would be no trace of the American having come to Sadao’s house.
(जनरल ने सदाओ को बताया कि अमेरिकी को मार दिया जाना चाहिए ताकि मामला पुलिस तक न पहुँचे। उसने कहा कि वह अपने निजी हत्यारे भेज देगा। वे बिना किसी शोर के उस अमेरिकी को मार देंगे। वे उसके मूल शरीर को भी ले जाएँगे ताकि उस अमेरिकी के सदाओ के घर आने का कोई निशान भी न बचे।)

Question 21.
Did the assassins come to kill the American soldier? (क्या अमेरिकन सैनिक को मारने के लिए हत्यारे आए?)
Answer:
The General said that he would send assassins to kill the Americans. That night Sadao could not sleep properly. The next morning, he went to the American’s room. He did not expect to find him in his room. But he found him sleeping peacefully. On the second night too Sadao slept badly. He expected the assassins to come anytime. But the next morning, he was still there. It was the same the third morning. The prisoner was alive.

(जनरल ने कहा कि वह अमेरिकी को मारने के लिए हत्यारे भेज देगा। उस रात सदाओ ठीक ढंग से सो नहीं सका। अगली सुबह, वह उस अमेरिकी के कमरे में गया। वह उसे अपने कमरे में होने की उम्मीद नहीं कर रहा था। लेकिन उसने उसे शांति के साथ सोते हुए पाया। अगली रात को भी सदाओ को ठीक से नींद नहीं आई। उसे किसी भी पल हत्यारों के आने की उम्मीद थी। लेकिन अगली सुबह, वह फिर से वहाँ था। तीसरी सुबह को भी वही स्थिति थी। कैदी जिंदा था।)

Question 22.
How did Sadao help the American to escape? (सदाओ ने अमेरिकन की भागने में किस प्रकार सहायता की?)
Answer:
As soon it was dark Sadao dragged his boat to the shore and put food and bottled water as well two quilts in it. He also gave the American a small flashlight. He asked him to signal him two flashes if his food ran out before he caught a boat. Then the American shook Sadao’s hand warmly and walked away to the shore in order to escape in the boat.

(जैसे ही अंधेरा हुआ सदाओ अपनी नौका को खींचकर किनारे पर ले आया और उसमें भोजन, पानी की बोतलें और साथ ही साथ दो रजाइयाँ नाव में रख दीं। उसने अमेरिकी को एक छोटी टॉर्च भी दी। उसने उससे कहा कि यदि नाव के मिलने से पहले उसका भोजन समाप्त हो गया तो वह दो बार टॉर्च जलाकर उसे संकेत दे। तब अमेरिकी ने गर्मजोशी के साथ सदाओ के साथ हाथ मिलाया और अपनी नौका में बचकर निकलने के लिए समुद्र तट की ओर चल दिया।)

Question 23.
How did the General react when he came to know that the American soldier had escaped? (जब जनरल को पता चला कि अमेरिकन सैनिक भाग गया है तो उसकी क्या प्रतिक्रिया थी?) OR Was Dr Sadao arrested on the charge of harbouring an enemy? (क्या डॉ० सदाओ को दुश्मन को शरण देने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था?) [H.B.S.E., 2019 (Set-C)]
Answer:
Dr Sadao helped the American soldier to escape. The next week, he told the General that the American prisoner had escaped. Now the General remembered that he had promised to get the prisoner killed. He told Sadao that due to his illness he had forgotten. He was worried and so told Sadao to keep the whole affair a secret. So, Dr Sadao was not arrested.

(डॉ० सदाओ ने अमेरिकी सैनिक की बच निकलने में मदद की। अगले सप्ताह, उसने जनरल को बताया कि अमेरिकी कैदी बचकर भाग गया है। तब जनरल को याद आया कि उसने अमेरिकी कैदी को मरवा देने का वायदा किया था। उसने सदाओ को बताया कि वह अपनी बीमारी की वजह से भूल गया था। वह चिंतित था और उसने सदाओ को बताया कि वह इस सारे मामले को एक रहस्य ही रहने दे। इसलिए डॉ० सदाओ को गिरफ्तार नहीं किया गया था।)

Long Answer Type Questions
Question 1.
What did Dr Sadao and his wife Hana see one day? [H.B.S.E. 2017 (Set-B)] (डॉ० सदाओ और उसकी पत्नी हाना ने एक दिन क्या देखा?)
Answer:
Dr Sadao Hoki was a famous Japanese doctor. His wife was Hana. One day, Dr Sadao and his wife were standing in the verandah of their house. They were looking towards the sea. There was mist on the sea. Suddenly they saw a man came out of the mist to the shore. It seem that he had been flung out of the sea by a big wave. He staggered a few steps. Then he fell and started crawling on his knees and hands. After a few minutes, he fell on his face and laid there.

The shallow sea near the beach was dotted with spiked rocks. Somehow the man had managed to come through them and he must be badly injured. At first Sadao and his wife thought that perhaps he was a fisherman. But when they went near the man, they found that he was an American. He lay there unconscious. Dr Sadao searched for the wound. He found that there was a gun wound on his lower back. It appeared that he had been shot and had not been tended for many days. Dr Sadao found that the man was bleeding. In order to stop bleeding, he packed the wound with sea moss.

(डॉ० सदाओ होकी एक प्रसिद्ध जापानी डॉक्टर था। हाना उसकी पत्नी थी। एक दिन, डॉ० सदाओ ओर उसकी पत्नी अपने घर के बरामदे में खड़े थे। वे समुद्र की ओर देख रहे थे। समुद्र के ऊपर धुंध छाई हुई थी। अचानक ही उन्होंने धुंध के बीच में से होकर एक आदमी को किनारे की ओर आते हुए देखा। ऐसे लगता था कि एक बड़ी लहर ने उसको समुद्र से बाहर फेंक दिया था। वह कुछ कदम लड़खड़ाया। तब वह नीचे गिर गया और उसने अपने घुटनों और हाथों के बल रेंगना शुरू कर दिया। कुछ मिनटों के पश्चात् वह अपने मुँह के बल गिर गया और वहीं पड़ा रहा।

समुद्र तट के पास उथले सागर पर नुकीली चट्टायनों के निशान नजर आ रहे थे। जैसे-तैसे वह आदमी उन चट्टानों में से होते हुए तट तक पहुँच गया और वह बुरी तरह से घायल था। पहले तो डॉ० सदाओ और उसकी पत्नी ने सोचा कि वह कोई मछुआरा होगा। लेकिन जब वे उस आदमी के निकट गए, तो उन्होंने पाया कि वह एक अमेरिकी है। वह वहाँ पर बेहोश पड़ा था। डॉ० सदाओ ने उसका घाव खोजा। उसने पाया कि उसकी पीठ के नीचे एक गोली का घाव था। ऐसा लगता था कि उसको गोली लगी थी और कई दिनों से उसका इलाज नहीं हुआ था। डॉ० सदाओ ने देखा कि उस आदमी का खून बह रहा था। खून के बहाव को बंद करने के लिए उसने घाव को सागर की काई से भर दिया।)

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 4 The Enemy

Question 2.
What did Dr Sadao and his wife decide to do with the injured American soldier? What was the problem? [H.B.S.E. March, 2018 (Set-A)] (डॉ० सदाओ और उसकी पत्नी ने घायल अमेरिकन का क्या करने का फैसला किया? समस्या क्या थी?)
Answer:
Dr Sadao and his wife found an injured American soldier washed by the waves in front of their house. He and his wife wondered what they should do with the man. If the should do with the man. If they sheltered an American soldier in the house, they would be arrested. And if they turned him over to the police, he would certainly die. Hana told her husband that the best thing would be to put the man back into the sea. He appeared to be a prisoner of war and had escaped.

Dr Sadao said to his wife that if the man was healthy, he would hand him over to the police. But the man was injured and as a doctor, he had the moral duty to treat him. But there was the problem of servants in the house. Hana suggested that they would tell the servants that they intended to hand over the man to the police after treating him. But she also warned that if they did not give the man over as prisoner of war, it would endanger them as well as their children. In the end, they decided to carry the man into the house and treat him.

(डॉ० सदाओ और उसकी पत्नी ने अपने घर के सामने समुद्र की लहरों के द्वारा बहाकर लाए गए एक घायल अमेरिकी को देखा। वह और उसकी पत्नी हैरान थे कि वे उस आदमी का क्या करें। यदि उन्होंने एक अमेरिकी को घर में शरण दी, तो उन्हें गिरफ्तार कर लिया जाएगा। और यदि उन्होंने उसे पुलिस के हवाले कर दिया तो वह निश्चय ही मर जाएगा। हाना ने अपने पति को बताया कि उनके लिए सबसे बढ़िया बात तो यह रहेगी कि वे उस आदमी को वापस समुद्र में फेंक दें।

वह एक युद्ध बंदी दिखाई पड़ रहा था और भागा हुआ था। डॉक्टर सदाओ ने अपनी पत्नी से कहा कि यदि वह आदमी स्वस्थ होता, तो वह उसे पुलिस के हवाले कर देता। लेकिन वह आदमी घायल था और एक डॉक्टर होने के नाते उसका इलाज करना इसका नैतिक कर्त्तव्य था। लेकिन घर में नौकरों को लेकर भी समस्या थी। हाना ने सुझाव दिया कि वे नौकरों को बता देंगे कि वे इलाज के बाद उस आदमी को पुलिस के हवाले कर देंगे। लेकिन उसने यह चेतावनी भी दी थी कि यदि उन्होंने एक युद्ध बंदी के रूप में उस आदमी को नहीं सौंपा, तो इससे उनके साथ-साथ उनके बच्चों को भी खतरा होगा। अंत में, उन्होंने उस आदमी को घर के अन्दर ले आने और उसका इलाज करने का निर्णय लिया।)

Question 3.
How did Dr Sadao and his wife give the first aid to the injured soldier? Why did the servants refuse to help them? (सदाओ और उसकी पत्नी ने घायल सैनिक को प्राथमिक चिकित्सा कैसे दी? नौकरों ने उनकी सहायता करने से क्यों इंकार कर दिया ?)
Answer:
Sadao and his wife carried the injured man into the house. They took him into an empty bedroom and laid him on the matted floor. Sadao felt his pulse. It was very weak. He said that if he was not operated upon soon, he would die. Hana told Sadao that he should not try to save the man as he was the enemy. But he insisted on performing the operation. The man was very dirty. Sadao said that he should first be washed. But Hana did not want him to touch the man. She said that she would ask Yumi, the maid-servant to wash him. She called Yumi. The other two servants, one of whom was also the gardener, were frightened at what their master had just told them.

The gardener said that the master should not heal the wounds of the enemy. He said that the sea had wounded the man with the rocks. If Sadao healed his wounds, the sea would be angry and take revenge on the whole household. Hana was also doubtful as to where they should save an enemy’s life. Yet she told Yumi to bring hot water to the room where the white man was. Yumi came into the room, but she refused to wash a white man and left the room. Then Hana decided to wash the man herself. She dipped the towel in hot water and washed the man carefully.

(सदाओ और उसकी पत्नी घायल सैनिक को घर ले गए। वे उसे एक खाली शयनकक्ष में ले गए और उसको एक मैट (चटाई) पर लिटा दिया। सदाओ ने उसकी नब्ज देखी। यह बहुत कमजोर हो गई थी। उसने कहा कि यदि उसका शीघ्र ही ऑपरेशन नहीं किया गया, तो वह मर जाएगा। हाना ने सदाओ को कहा कि उसे उस आदमी को बचाने का प्रयास नहीं करना चाहिए, क्योंकि वह एक शत्रु था। लेकिन उसने उसका ऑपरेशन करने की जिद्द पकड़े रखी। वह आदमी बहुत गंदा था। सदाओ ने कहा कि पहले उसे साफ किया जाना चाहिए। लेकिन हाना नहीं चाहती थी कि वह उस आदमी को छूए। उसने कहा कि वह नौकरानी यूमी से कहेगी कि वह उसे साफ कर दे। उसने यूमी को बुलाया। नौकर, जिनमें से एक माली भी था, अपने मालिक के द्वारा बताई गई बात को सुनकर डर गए थे। माली ने कहा कि मालिक को शत्रु के घावों को ठीक नहीं करना चाहिए।

उसने कहा कि समुद्र ने अपनी चट्टानों से उस आदमी को घायल किया था। यदि सदाओ ने उसके घावों को ठीक कर दिया तो समुद्र नाराज हो जाएगा और पूरे घर से बदला लेगा। हाना को भी संदेह था कि वे एक शत्रु के जीवन को कहाँ बचाए। फिर भी वह यूमी को कमरे में गर्म पानी लाने को कहती है जहाँ वह गोरा आदमी पड़ा था। यूमी कमरे के अन्दर आई, लेकिन उसने एक गोरे आदमी की सफाई करने से मना कर दिया और चली गई। तब हाना ने स्वयं उस आदमी को साफ करने का निर्णय लिया। उसने गर्म पानी में तौलिये को भिगोया और बड़ी सावधानी के साथ उस आदमी को साफ किया।)

Question 4.
Describe the operation performed by Dr Sadao on the American soldier to save his life. (अमेरिकन सैनिक की जान बचाने के लिए डॉ० सदाओ द्वारा उस पर किए गए ऑप्रेशन का वर्णन करो।)
Answer:
Sadao entered the room with his surgeon’s emergency bag. Hana helped him reluctantly. They turned the man over. The blood from the wound had spoiled their expensive mat. Then Sadao washed the injured man’s back. He asked Hana to give the anesthetic to the man. When she saw the big wound she felt sick and ran outside. But after some time, she came back. She moistened the cotton with the anesthetic and held it near his nostrils. The American became unconscious. Sadao started his operation. First of all he took out the bullet that was still in his body. Then he gave him an injection. As a result, his pulse grew stronger. Sadao told his wife that the man was going to live.

After some time, the man regained consciousness. He was surprised to find himself in the home of a Japanese doctor. Sadao and his wife told him that he had been washed ashore and that they had operated upon him.

(सदाओ ने अपना सर्जन वाला आपातकालीन बैग लेकर कमरे में प्रवेश किया। हाना ने अनमने भाव से उसकी मदद की। उन्होंने उस आदमी को पलट दिया। घाव से निकल रहे खून ने उनके कीमती कालीन को खराब कर दिया था। तब सदाओ ने उस घायल आदमी की पीठ को साफ किया। उसने हाना को उस आदमी को बेहोशी की दवाई देने को कहा। जब उसने इतने बड़े घाव को देखा तो वह घबरा गई और बाहर भाग गई। लेकिन कुछ समय के बाद, वह वापस आई। उसने बेहोशी की दवाई के साथ रूई को गीला किया और उसके नाक के छिद्रों के पास लगा दिया।

अमेरिकी बेहोश हो गया। सदाओ ने अपना ऑपेरशन शुरू कर दिया। सबसे पहले तो उसने गोली को बाहर निकाला जो अभी भी उसके शरीर के अन्दर थी। तब उसने उसे एक टीका लगाया। जिसके परिणामस्वरूप, उसकी नब्ज ने मजबूती पकड़ ली। सदाओ ने अपनी पत्नी को बताया कि अब उस आदमी का जीवन बच जाएगा। कुछ समय के पश्चात्, उस आदमी को होश आ गया। वह स्वयं को एक जापानी डॉक्टर के घर में पाकर हैरान था। सदाओ और उसकी पत्नी ने उसे बताया कि वह पानी में बहकर समुद्र तट पर आ गया था और उन्होंने उसका ऑपरेशन कर दिया है।)

Question 5.
Describe the soldier’s condition and the happenings in Dr Sadao’s house during the first seven days after the operation. (ऑप्रेशन के बाद पहले सात दिन के दौरान की डॉ० सदाओ के घर की घटनाओं और सैनिक की हालत का वर्णन करो।)
Answer:
On the third day of the operation, when Sadao entered his room he found that the young man had regained some strength and was recovering. He asked Sadao whether he would hand him over to the police. Sadao told him that he had not yet decided about his fate. When Sadao came out of the room, Hana told him that the servants were in a revolting mood. Yumi had told her that she would not remain in the house any more if the American was kept in the house. She said that the other servants were also angry as they thought that Sadao was helping an American soldier. The servants did not leave but they became more watchful.

In the meantime, the American grew stronger day by day. But the servants were not pleased. On the morning of the seventh day, the servants left together. After they had gone, Hana asked Sadao to take a clear decision about the man. Sadao did not reply but went into the man’s room. He told him that now he could stand on his feet for a few minutes.
(ऑपरेशन के तीसरे दिन, जब सदाओ ने अतिथि कक्ष में प्रवेश किया तो पाया कि उस नौजवान में कुछ जान आ गई थी और वह ठीक हो रहा था। उसने सदाओ से पूछा कि क्या वह उसे पुलिस के हवाले करेगा। सदाओ ने उसको बताया कि अभी उसने उसके भाग्य के बारे में निर्णय नहीं लिया है। जब सदाओ कमरे से बाहर आया, हाना ने अपने पति को बताया कि नौकर विद्रोह के मूड में हैं। यूमी ने उसको बता दिया था कि यदि अमेरिकी को घर में रखा गया तो वह उस घर में नहीं रहेगी। उसने कहा कि अन्य नौकर भी नाराज हैं क्योंकि सदाओ एक अमेरिकी सैनिक की मदद कर रहा था। नौकर छोड़कर तो नहीं गए लेकिन वे अधिक चौकन्ने हो गए।

इस अवधि में, अमेरिकी दिन-प्रतिदिन ठीक होता गया। लेकिन नौकरों में खुशी नहीं थी। सातवें दिन की सुबह, सारे नौकर इक्ठे चले गए। उनके जाने के बाद, हाना ने सदाओ से कहा कि वह उस आदमी के बारे में कोई स्पष्ट निर्णय ले। सदाओ ने कोई उत्तर नहीं दिया बल्कि उस आदमी के कमरे में चला गया। उसने उसे बताया कि अब वह कुछ पलों के लिए अपने पैरों पर खड़ा हो सकता है।)

Question 6.
Why did Sadao Hoki go to America? Narrate his experiences there. (सदाओ हाकी अमेरिका क्यों गया? उसके वहाँ के अनुभव का वर्णन करें।) [H.B.S.E. March, 2019 (Set-C)]
Answer:
At the age of 22 Sadao Hoki went to America to study surgery and medicine as it was the wish of his father. In the beginning, he had a great difficulty in finding a place to live in America because he was a Japanese. He perceived that Americans were full of prejudice and for him it was a bitter experience to live with them. In America, Sadao lived at the house of an American professor. a few other foreign students also lived there. The rooms in which they lived were very small. The food given to them was of not good quality. Moreover the professor’s wife was very talkative. But Sadao continued to live there because here he met a Japanese girl named Hana with whom he fell in love. But they did not marry in America. After completing their studies they came back to Japan and got married.

(22 वर्ष की उम्र में, सदाओ हाकी शल्य-चिकित्सा और औषधि विज्ञान का अध्ययन करने के लिए अमेरिका गया, क्योंकि वह उसके पिता की इच्छा थी। शुरूआत में, उसको अमेरिका में रहने की जगह ढूढने के लिए बहुत-सी कठिनाइयों का सामना करना पड़ा क्योंकि वह एक जापानी था। उनका मानना था कि अमेरिकी लोग पूर्वाग्रह से भरे थे और उनके लिए यह उनके साथ रहने का एक कड़वा अनुभाव था। अमरिका में, सदाओ एक अमेरिकन प्रोफेसर के घर पर रहता था। कुछ अन्य विदेशी विद्यार्थी भी वहाँ रहते थे। जिन कमरों में वे रहते थे, बहुत छोटे थे। उनकों दिया जाने वाला भोजन भी अच्छी गुणवत्ता का नहीं होता था। साथ ही, प्रोफेसर की पत्नी बहुत कानूनी थी। परंतु सदाओ ने वहाँ रहना जारी रखा क्योंकि वहाँ वह एक जापानी लड़की हाना से मिला जिससे उसे प्यार हो गया। परन्तु उन्होंने अमेरिका में शादी नहीं की। अपनी पढ़ाई पूरी करने के पश्चात् वे जापान वापस आ गए और शादी कर ली।)

Question 7.
Describe how Sadao helped the American soldier to escape? [H.B.S.E. 2020 (Set-B)] (वर्णन करो कि सदाओ ने अमेरिकी सैनिक की भागने में कैसे सहायता की।)
Answer:
The General said that he would send the assassins to kill the American soldier. That night Sadao could not sleep properly. He was woken up even by the smallest sound. The next morning, he went to the American’s room. He did not expect to find him in his room. But he found him sleeping peacefully. On the second night too Sadao slept badly. He expected the assassins to come anytime. But the next morning, he was still there. It was the same the third morning. The prisoner was alive. Sadao went to him and told him now he was alright and could go away. He told the soldier that he would put his boat on the shore that night with food and extra clothing in it. The American could row the boat to the little island. He could live on the island till he saw a Korean fishing boat pass by. As soon it was dark Sadao dragged his boat to the shore and put food and bottled water as well two quilts in it. He also gave the American a small flashlight. He asked him to signal him two flashes if his food ran out before he caught a boat. Then the American shook Sadao’s hand warmly and walked away to the shore in order to escape in the boat.

(जनरल ने कहा कि वह अमेरिकी को मारने के लिए हत्यारे भेज देगा। उस रात सदाओ ठीक ढंग से सो नहीं सका। वह बहुत ही धीमी आवाज से उठा। अगली सुबह, वह उस अमेरिकी के कमरे में गया। वह उसे अपने कमरे में होने की उम्मीद नहीं कर रहा था। लेकिन उसने उसे शांति के साथ सोते हुए पाया। अगली रात को भी सदाओ को ठीक से नींद नहीं आई। उसे किसी भी पल हत्यारों के आने की उम्मीद थी। लेकिन अगली सुबह वह फिर से वहाँ था। तीसरी सुबह को भी वही स्थिति थी। कैदी जिंदा था। सदाओ उसके पास गया और उसे बताया कि अब वह बिल्कुल ठीक है और जा सकता था। उसने सैनिक को बताया कि उस रात वह अपनी नौका समुद्र किनारे लगा देगा और उसमें भोजन और अतिरिक्त कपड़े रख देगा।

अमेरिकी नाव में बैठकर छोटे द्वीप तक जा सकता था। वह तब तक उस द्वीप पर रह सकता था जब तक कि कोई कोरियाई मछली पकड़ने वाली नौका वहाँ से नहीं गुजरती। जैसे ही अंधेरा हुआ सदाओ अपनी नौका को खींचकर किनारे पर ले आया और उसमें भोजन, पानी की बोतलें और साथ-ही-साथ दो रजाइयाँ नाव में रख दीं। उसने अमेरिकी को एक छोटी टॉर्च भी दी। उसने उससे कहा कि यदि नाव के मिलने से पहले उसका भोजन समाप्त हो गया तो वह दो बार टॉर्च जलाकर उसे संकेत दे। तब अमेरिकी ने गर्मजोशी के साथ सदाओ से हाथ मिलाया और अपनी नौका में बचकर निकलने के लिए समुद्र तट की ओर चल दिया।)

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 4 The Enemy

Question 8.
“If all the Japanese were like you, there wouldn’t have been a war” said Tom. Justify his statement. [H.B.S.E. March, 2019 (Set-A)] (टॉम ने कहा कि अगर सभी जापानी आप जैसे होते तो युद्ध नहीं होता। इस कथन का निरूपण करें।)
Answer:
Tom was the injured American soldier whose life was saved by Dr. Sadao. The soldier was highly impressed by the kindness shown to him by Dr. Sadao and his wife Hana. He found that he and his wife were very kind to him. If Sadao had not operated on him, he would have died. The soldier had been tortured in a Japanese camp. He had escaped from there. If Sadao had given him over to the police, he would have died there. After the operation, the soldier was very weak. He was not in a position to run away. So, he was reluctant to go away. But when Sadao finally asked him to go, he obeyed. He agreed reluctant as he knew that the doctor was saving his atement “If all the Japanese were like you, there wouldn’t have been a war.”

(टॉम अमेरिका का घायल सैनिक था जिसकी जान डॉ० सदाओ ने बचाई थी। उनकी पत्नी हाना द्वारा दिखाई गई दया से सैनिक बहुत प्रभावित हुए। उसने पाया कि वह और उसकी पत्नी उसके प्रति बहुत दयालु थे। यदि सदाओ ने उस पर काम न किया होता, तो वह मर जाता। जापानी शिविर में सैनिक को प्रताड़ित किया गया था। अगर सदाओ ने उसे पुलिस को सौंप दिया होता, तो वह वहीं मर जाता। ऑपरेशन के बाद सिपाही बहुत कमज़ोर था। वह भागने कि स्थिति में नहीं था। इसलिए वह दूर जाने के लिए इच्छुक नहीं था। लेकिन जब सदाओ ने आखिरकार उसे जाने को कहा, तो उसने माना कि वह अनिच्छुक था क्योंकि वह जानता था कि डॉक्टर फिर से उसकी जान बचा रहा है। इस पल में उन्होंने बयान दिया कि अगर सभी जापानी आपकी तरह होते तो युद्ध नहीं होता।)

The Enemy Summary in English and Hindi

The Enemy Introduction to the Chapter
This story is the humanism and kindness of a Japanese doctor. He overcame the feelings of narrow patriotism and listen to the call of duty and humanity. Sadao is a Japanese surgeon. One day an injured American soldier is washed up to the shore. At that time, Japan and America are at war. The American soldier is an enemy. Yet Sadao listens to the call of duty as a surgeon. He cannot allow him to die. He operates upon the American soldier and saves his life. In the end, he also helps the soldier to escape.

(यह कहानी एक जापानी चिकित्सक के मानवतावादी दृष्टिकोण और दयालुता के बारे में है। वह देशभक्ति की संकीर्ण भावना से ऊपर उठा और उसने अपने कर्तव्य और मानवता की आवाज को सुना। सदाओ एक जापानी चिकित्सक है। एक दिन एक घायल अमेरिकी सिपाही पानी में बहकर किनारे तक आ गया। उस समय जापान और अमेरिका में युद्ध चल रहा है। अमेरिकी सैनिक एक शत्रु है। फिर भी सदाओ चिकित्सक के रूप में अपने कर्त्तव्य की आवाज को सुनता है। वह उसे मरने नहीं दे सकता था। वह अमेरिकी सैनिक का ऑप्रेशन करता है और उसका जीवन बचाता है। अंत में, वह बच निकलने में उस सैनिक की सहायता भी करता है।)

The Enemy Summary
The story is set in the days of the World War II. It is about a Japanese doctor, Dr Sadao Hoki and an injured American soldier, whom he treated. At that time, Japan was at war with America. Sadao’s house was a low square stone house. It was set upon rocks well above a narrow beach, that was outlined with bent pines. Dr Sadao was a skilled and famous surgeon of his region. He was famous not only as a doctor but as a scientist also. He was perfecting a technique that would render the wounds perfectly clean. But he had not been sent to the war front with the troops. The old General was ill. He might need an operation. So Sadao was kept in Japan.

The name of Sadao’s wife was Hana. Sadao had met her in America where both of them had gone to study. They fell in love and when they came back to Japan, they married each other. One day, Dr Sadao and his wife were standing in the verandah of their house. They were looking towards the sea. There was mist on the sea. Suddenly they saw a man came out of the mist to the shore. It seemed that he had been flung out of the sea by a big wave. He staggered a few steps. Then he fell and started crawling on his knees and hands. After a few minutes, he fell on his face and laid there.

The shallow sea near the beach was dotted with spiked rocks. Somehow the man had managed to come through them and he must be badly injured. At first, Sadao and his wife thought that perhaps he was a fisherman. But when they went near the man, they found that he was an American. He lay there unconscious. Dr Sadao searched for the wound. He found that there was a gun wound on his lower back. It appeared that he had been shot and had not been tended for many days. Dr Sadao found that the man was bleeding. In order to stop bleeding, he packed the wound with sea moss.

Now Sadao wondered what he should do with the man. If they sheltered an American soldier in the house, they would be arrested and if they turned him over to the police, he would certainly die. Hana told her husband that the best thing would be to put the man back into the sea. He appeared to be a prisoner of war and had escaped. Dr Sadao said to his wife that if the man were healthy, he would hand him over to the police. But the man was injured and as a doctor, he had the moral duty to treat him. But there was the problem of servants in the house. Hana suggested that they would tell the servants that they intended to hand over the man to the police after treating him. But she also warned that if they did not give the man over as prisoner of war, it would endanger them as well as their children.

Then Sadao and his wife carried the injured man into the house. They took him into an empty bedroom and laid him on the matted floor. Sadao felt his pulse. It was very weak. He said that if he was not operated upon soon, he would die. Hana told Sadao that he should not try to save the man as he was the enemy. But he insisted on performing the operation. The man was very dirty. Sadao said that he should first be washed. But Hana did not want him to touch the man. She said that she would ask Yumi, the maid-servant, to wash him. She called Yumi to wash the soldier. The other two servants, one of whom was also the gardener, were frightened at what their master had just told them. The gardener said that the master should not heal the wounds of the enemy.

He said that the sea had wounded the man with the rocks. If Sadao healed his wounds, the sea would be angry and take revenge on the whole household. Hana was also doubtful as to where they should save an enemy’s life. Yet she told Yumi to bring hot water to the room where the white man was. Yumi came into the room, but she refused to wash a white man and left the room. Then Hana decided to wash the man herself. She dipped the towel in hot water and washed the man carefully.

Just then Sadao entered the room, with his surgeon’s emergency bag. Hana helped him reluctantly. They turned the man over. The blood from the wound had spoiled their expensive mat. Then Sadao washed the injured man’s back. He asked Hana to give the anesthetic to the man. When she saw the big wound she felt sick and ran outside. But after sometime, she came back. She moistened the cotton with the anesthetic and held it near his nostrils. The American became unconscious. Sadao started his operation. First of all he took out the bullet that was still in his body. Then he gave him an injection.

As a result, his pulse grew stronger. Sadao told his wife that the man was going to live. After sometime, the man regained consciousness. He was surprised to find himself in the home of a Japanese doctor. Sadao and his wife told him that he had been washed ashore and that they had operated upon him. On the third day of the operation, when Sadao entered his room he found that the young man had regained some strength and was recovering. He asked Sadao whether he would hand him over to the police. Sadao told him that he had not yet decided about his fate.

When Sadao came out of the room, Hana told him that the servants were in a revolting mood. Yumi had told her that she would not remain in the house any more if the American was kept in the house. She said that the other servants were also angry as they thought that Sadao was helping an American soldier. The servants did not leave but they became more watchful. One day Yumi said to other servants that she was worried about Sadao’s children. If their father was condemned a traitor, they would also be in danger.

In the meantime, the American grew stronger day by day. But the servants were not pleased. On the morning of the seventh day, the servants left together. After they had gone, Hana asked Sadao to take a clear decision about the man. Sadao did not reply but went into the man’s room. He told him that now he could stand on his feet for a few minutes. In the afternoon a messenger in official uniform came. Hana was terrified. But he simply said that the General had asked for Sadao to visit his palace in order to check him. She heaved a sigh of relief.
Sadao went to see the General.

He told the General about the presence of the American soldier in his house. The General was not angry with him. On the other hand, he praised his skill as a surgeon. He told Sadao that he would not let anything happen to him as he was treating him (the General). He said that it was unfortunate that the American had washed up on his doorstep. But the General told Sadao that the American would have to be killed so that the matter did not reach the police. He said that he would send his private assassins. They would kill the American without making any noise. They would even take away the dead body so that there would be no trace of the American having come to Sadao’s house.

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 4 The Enemy

That night Sadao could not sleep properly. He was woken up even by the smallest sound. The next morning, he went to the American’s room. He did not expect to find him in his room. But he found him sleeping peacefully. On the second night too Sadao slept badly. He expected the assassins to come anytime. But the next morning, he was still there. It was the same the third morning. The prisoner was alive. Sadao went to him and told him now he was alright and could go away. He told the soldier that he would put his boat on the shore that night with food and extra clothing in it.

The American could row the boat to the little island. He could live on the island till he saw a Korean fishing boat pass by. As soon it was dark Sadao dragged his boat to the shore and put food and bottled water as well two quilts in it. He also gave the American a small flashlight. He asked him to signal him two flashes if his food ran out before he caught a boat. Then the American shook Sadao’s hand warmly and walked away to the shore in order to escape in the boat.

The next morning, Sadao told the General that the American had escaped. Sadao did not ask about the assassins. The General had been operated upon a week ago and was weak. In the mean time, the servants came back and now the household was again running smoothly. The next week, Sadao again told the General that the American prisoner had escaped. Now the General remembered that he had promised to get the prisoner killed. He told Sadao that due to his illness he had forgotten. He was worried and so told Sadao to keep the whole affair a secret. Now Sadao realized that he was quite safe.

That night when Sadao looked towards the island, he did not find any prick of light in the dark. It meant that the prisoner had gone away from there safely. Sadao felt very happy and satisfied.

(यह कहानी द्वितीय विश्व-युद्ध के समय की है। यह एक जापानी चिकित्सक डॉ० सदाओ होकी और एक घायल अमेरिकी सैनिक, जिसका उसने इलाज किया, के बारे में है। उस समय जापान का अमेरिका के साथ युद्ध हो रहा था। सदाओ का घर एक कम ऊँचा चौकोर पत्थर से बना हुआ था। यह एक तंग समुद्री बीच से कुछ ऊँचाई पर चट्टानों पर स्थित था, जिसकी बाहरी सीमा पर चीड़ के वृक्ष थे। डॉ० सदाओ अपने क्षेत्र का एक प्रसिद्ध और निपुण चिकित्सक था। वह न केवल एक चिकित्सक के रूप में बल्कि एक वैज्ञानिक के रूप में भी प्रसिद्ध था। वह एक ऐसी तकनीक में महारत हासिल कर रहा था जो घावों को पूर्ण रूप से साफ कर सकती थी। लेकिन उसको सेना की टुकड़ियों के साथ युद्ध मोर्चे पर नहीं भेजा गया था। वृद्ध जनरल बीमार था। उसे एक ऑप्रेशन की आवश्यकता हो सकती थी। इसलिए सदाओ को जापान में ही रख लिया गया।

सदाओ की पत्नी का नाम हाना था। सदाओ उससे अमेरिका में मिला था जहाँ वे दोनों पढ़ाई करने गए थे। उन्हें एक-दूसरे से प्यार हो गया और जब वे जापान में वापिस आए, उन्होंने एक-दूसरे से शादी कर ली। एक दिन, डॉक्टर सदाओ और उनकी पत्नी अपने घर के बरामदे में खड़े थे। वे समुद्र की ओर देख रहे थे। समुद्र के ऊपर धुंध छाई हुई थी। अचानक ही उन्होंने धुंध में से एक आदमी को तट की ओर आते हुए देखा। ऐसा लगता था कि किसी बड़ी लहर ने उसको समुद्र से बाहर फेंक दिया था। वह कुछ कदम लड़खड़ाकर चला। फिर वह गिर गया और अपने घुटनों तथा हाथों के बल रेंगकर चलने लगा। कुछ क्षणों के बाद वह अपने चेहरे के बल गिर गया और वहीं पड़ा रहा।

तट के पास कम गहरा समुद्र उभरी हुई चट्टानों से भरा था। जैसे-तैसे करके वह आदमी उन चट्टानों से बाहर आया और वह निश्चित रूप से बहुत बुरी तरह से घायल था। पहले तो सदाओ और उसकी पत्नी ने सोचा कि शायद वह एक मछुआरा है। लेकिन जब वे आदमी पास गए तो उन्होंने देखा कि वह एक अमेरिकी है। वह वहाँ बेहोश पड़ा था। डॉक्टर सदाओ ने उसका घाव खोजा। उसने पाया कि उसकी पीठ के निचले भाग में गोली का एक घाव था। ऐसा लगता था कि उसे गोली लगी थी और कई दिनों से किसी ने भी उसकी देखभाल नहीं की थी। डॉक्टर सदाओ ने देखा कि उस आदमी का खून बह रहा था। बहते हुए खून को रोकने के लिए, उसने घाव को समुद्री काई से भर दिया।

अब सदाओ हैरान था कि वह उस आदमी का क्या करे। यदि उन्होंने एक अमेरिकी सैनिक को घर में शरण दे दी, तो उन्हें गिरफ्तार कर लिया जाएगा और यदि उन्होंने उसे पुलिस को सौंप दिया, तो वह निश्चित रूप से मर जाएगा। हाना ने अपने पति को बताया कि उनके लिए सबसे बढ़िया बात यह है कि वे उस आदमी को वापिस समुद्र में फैंक दें। वह एक युद्धबंद्धी लगता था और भाग निकला था। डॉक्टर सदाओ ने अपनी पत्नी से कहा कि यदि वह आदमी स्वस्थ होता, तो वह उसे पुलिस के हवाले कर देता। लेकिन वह व्यक्ति घायल था और एक डॉक्टर होने के नाते उसका इलाज करना उसका नैतिक कर्तव्य था। लेकिन घर में नौकरों की समस्या थी। हाना ने सुझाव दिया कि वे नौकरों को बता देंगे कि वे उस आदमी को इलाज के बाद पुलिस को सौंपना चाहते हैं। लेकिन उसने यह चेतावनी भी दे दी कि यदि उन्होंने उस आदमी को एक युद्धबंद्धी के रूप में नहीं सौंपा तो इससे उनके साथ-साथ उनके बच्चों को भी खतरा हो जाएगा।

तब सदाओ और उसकी पत्नी घायल आदमी को घर के अंदर ले गए। वे उसे एक खाली शयन-कक्ष में ले गए और फर्श पर लिटा दिया। सदाओ ने उसकी नब्ज़ पकड़ी। वह बहुत कमज़ोर थी। उसने कहा कि यदि शीघ्र ही उसका ऑप्रेशन नहीं हुआ तो वह मर जाएगा। हाना ने सदाओ को कहा कि उसे उस आदमी को बचाने का प्रयास नहीं करना चाहिए क्योंकि वह शत्रु है। लेकिन वह ऑप्रेशन करने की जिद्द पर अड़ा रहा। वह आदमी बहुत गंदा था। सदाओ ने कहा कि पहले उसे नहलाया जाना चाहिए। लेकिन हाना नहीं चाहती थी कि वह उस आदमी को छुए भी। उसने कहा कि वह नौकरानी यूमी से कहेगी कि उसे नहला दे।

उसने सैनिक को नहलाने के लिए यूमी को पुकारा। दो अन्य नौकर, जिनमें से एक माली भी था, उस बात को सुनकर जो उनके स्वामी ने अभी-अभी उनको बताई थी, भयभीत हो गए। माली ने कहा कि मालिक को शत्रु के घावों का इलाज नहीं करना चाहिए। उसने कहा कि समुद्र ने अपनी चट्टानों से उसे घायल किया है। यदि सदाओ ने उसके घावों का इलाज किया तो समुद्र उससे नाराज हो जाएगा और पूरे घर से बदला लेगा। हाना को भी संदेह था कि वे एक शत्रु के जीवन की रक्षा कहाँ तक करेंगे। फिर भी उसने यूमि को उस कमरे में गर्म पानी लाने को कहा जहाँ गोरा आदमी ठहरा था। यूमि कमरे के अंदर आई लेकिन उसने किसी गोरे आदमी को नहलाने से इंकार कर दिया और कमरे से बाहर चली गई। तब हाना ने स्वयं उस आदमी को नहलाने का निर्णय किया। उसने गर्म पानी में तौलिया डुबोया और बड़ी सावधानी के साथ उस आदमी को नहला दिया।

तभी सदाओ अपना चिकित्सक वाला थैला लेकर कमरे में घुसा। हाना ने अनिच्छापूर्वक उसकी मदद की। उन्होंने आदमी को उलटा किया। उसके घाव से निकल रहे खून ने उनके महँगे कालीन को खराब कर दिया था। तब सदाओ ने उस घायल आदमी की पीठ को साफ किया। उसने हाना को कहा कि वह उस आदमी को बेहोशी की दवाई दे दे। जब उसने बड़े घाव को देखा तो वह घबरा गई और बाहर भाग गई। लेकिन कुछ समय पश्चात् वह वापिस आई। उसने बेहोशी की दवाई से रूई को गीला किया और नथुनों के पास लगा दिया। अमेरिकी बेहोश हो गया। सदाओं ने उसका ऑप्रेशन शुरू कर दिया। सबसे पहले उसने उस गोली को बाहर निकाला जो अभी भी उसके शरीर में थी। तब उसने उसे एक टीका दिया। इसके परिणामस्वरूप, उसकी नब्ज़ मजबूत हो गई। सदाओ ने अपनी पत्नी से कहा कि अब वह आदमी जीवित रहेगा।

कुछ समय पश्चात्, उस आदमी को होश आ गया। वह स्वयं को एक जापानी चिकित्सक के घर में देखकर हैरान था। सदाओ और उसकी पत्नी ने उसे बताया कि लहरें उसे तट पर ले आई थीं और उन्होंने उसका ऑप्रेशन कर दिया। ऑप्रेशन के तीसरे दिन, जब सदाओ ने उसके कमरे में प्रवेश किया तो उसने पाया कि उस आदमी में कुछ ताकत आ गई थी और वह स्वस्थ हो रहा था। उसने सदाओ से पूछा कि क्या वह उसे पुलिस को सौंप देगा। सदाओ ने उसे बताया कि उसने अभी तक उसके भाग्य के बारे में फैसला नहीं किया है।

जब सदाओ कमरे से बाहर आया तो, हाना ने उसे बताया कि नौकर विद्रोह करने की मुद्रा में हैं। यूमि ने उसे बता दिया था कि यदि उस अमेरिकी को घर में रखा जाता है वह उस घर में नहीं रहेगी। उसने कहा कि दूसरे नौकर भी नाराज़ हैं, क्योंकि वे सोच रहे हैं कि सदाओ एक अमेरिकी सैनिक की सहायता कर रहा है। नौकर छोड़कर तो नहीं गए लेकिन वे और अधिक चौकन्ने हो गए। एक दिन यूमि ने दूसरे नौकरों से कहा कि वह सदाओ के बच्चों के बारे में चिंतित है। यदि उनके पिता पर देशद्रोह का आरोप लगता है तो वे भी खतरे में होंगे। .. इसी दौरान, अमेरिकी दिन-प्रतिदिन शक्तिशाली होता जा रहा था। लेकिन नौकर खुश नहीं थे। सातवें दिन की सुबह नौकर एक साथ छोड़कर चले गए। उनके जाने के बाद, हाना ने सदाओ से कहा कि वह उस आदमी के बारे में साफ-साफ निर्णय ले ले। सदाओ ने उत्तर नहीं दिया, लेकिन उस आदमी के कमरे में चला गया।

उसने उसे बताया कि अब वह कुछ क्षण के लिए अपने पाँवों पर खड़ा हो सकता है। दोपहर बाद के समय सरकारी वर्दी में एक संदेशवाहक आया। हाना भयभीत थी। लेकिन उसने केवल इतना मात्र कहा कि जनरल ने सदाओ को अपने महल में बुलाया है ताकि वह उसका निरीक्षण कर सके। उसने चैन की साँस ली। सदाओ जनरल को देखने गया। उसने जनरल को अपने घर में अमेरिकी सैनिक की उपस्थिति के बारे में बताया। जनरल उससे क्रोधित नहीं था। दूसरी ओर, एक चिकित्सक के रूप में उसने उसके हुनर की तारीफ की। उसने सदाओ को बताया कि वह उसके साथ कुछ भी नहीं होने देगा, क्योंकि वह उसका (जनरल का) इलाज कर रहा है। उसने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि एक अमेरिकी उसके दरवाजे पर बहाकर ला दिया गया।

लेकिन जनरल ने सदाओ को बताया कि अमेरिकी को मार दिया जाना चाहिए ताकि मामला पुलिस तक न पहुँच सके। उसने कहा कि वह अपने निजी हत्यारों को भेज देगा। वे बिना किसी शोर के अमेरिकी को मार देंगे। यहाँ तक कि वे मृत शरीर को भी ले जाएँगे ताकि किसी अमेरिकी के सदाओ के घर में आने का कोई संकेत भी न मिले। उस रात सदाओ ठीक से सो भी न सका। वह थोड़ी-सी आवाज़ पर भी उठ जाता था। अगली सुबह, वह अमेरिकन के कमरे में गया। उसे आशा नहीं थी कि वह उसे अपने कमरे में देख पाएगा लेकिन उसने उसे शांतिपूर्वक अपने कमरे में सोते हुए पाया।

दूसरी रात को भी सदाओ को नींद नहीं आई। उसे किसी भी पल हत्यारों के आने की संभावना थी, लेकिन वह अब भी वहीं पर था। तीसरी सुबह को भी बिल्कुल ऐसा ही था। कैदी अभी भी जीवित था। सदाओ उसके पास गया और उसे बताया कि वह ठीक-ठाक है और वह जा सकता है। उसने सैनिक को बताया कि वह रात से अपनी नौका को, अतिरिक्त भोजन और वस्त्रों के साथ समुद्र-तट पर छोड़ देगा। वह अमेरिकी नौका को लेकर छोटे-से टापू पर पहुंच जाएगा।

वह तब तक टापू पर रहेगा जब तक उसे कोरिया की मछली पकड़ने वाली नौका गुजरती हुई दिखाई दे जाए। जैसे ही रात हुई, सदाओ अपनी नौका को खींचकर समुद्री तट पर ले गया और उसमें भोजन तथा पानी की बोतलें तथा दो गद्दे भी रख दिए। उसने अमेरिकी को एक छोटी-सी लाइट भी दी। उसने उससे पूछा कि वह उसे दो बार बत्ती चमकाकर संकेत दे यदि नौका आने से पहले उसका भोजन खत्म हो जाए। तब अमेरिकी ने गर्म-जोशी के साथ सदाओ का हाथ पकड़ा और नौका में बच निकलने के लिए समुद्र तट की ओर चला गया।

अगली सुबह, सदाओ ने जनरल को बताया कि अमेरिकी बचकर भाग गया है। सदाओ ने हत्यारों के बारे में नहीं पूछा। जनरल का एक सप्ताह पहले ऑप्रेशन हुआ था और वह कमज़ोर था। इसी दौरान नौकर वापिस आ गए और अब उनका घर-बार अच्छी तरह से चल रहा था। अगले सप्ताह, सदाओ ने जनरल को फिर बताया कि अमेरिकी कैदी भाग गया है। फिर जनरल को याद आया कि उसने कैदी को मरवाने का वचन दिया था। उसने सदाओ को बताया कि अपनी बीमारी के कारण वह भूल गया था। वह घबराया हुआ था और उसने सदाओ को बताया कि वह पूरे मामले को गुप्त रखे। अब सदाओ ने जान लिया कि वह पूरी तरह सुरक्षित है। उस रात जब सदाओ ने द्वीप की ओर देखा, तो उसे अंधेरे में प्रकाश की कोई किरण नजर नहीं आई। इसका अर्थ था कि कैदी वहाँ से सुरक्षित जा चुका था। सदाओ बहुत प्रसन्न और संतुष्ट था।)

The Enemy Meanings

[Page 24] :
Outlined (made the figure or boundary) = सीमा रेखा बनाना;
pines (a kind of trees) = चीड़ के वृक्ष;
yonder (there) = वहाँ।

[Page 25] :
Infinite (limitless) = अनन्त;
concern (anxiety) = चिन्ता;
render (give/cause to be) = देना;
abroad (in a foreign land)= विदेश में;
mist (fog) = धुन्ध;
creeping (crawling/walking slowly) = रेंगना;
wreathing (coiling) = लिपटना;
kimono (a Japanese gown) = जापानी चोगा;
race (nation) = राष्ट्र;
literally (explicit meaning) = स्पष्ट अर्थ;
anxious (eager) = चिन्तित/व्यग्र।

[Page 26] :
Voluble (talkative) = बातूनी;
arranged (made arrangements) = इन्तज़ाम किया;
flung up (thrown) = फेंका;
breaker (a big wave) = बड़ी लहर;
staggered (walked unsteadily) = लड़खड़ाकर चला;
curled (coiling) = लिपटना;
leaned (bent) = झुका;
washed (carried away by waves) = लहरों से बहकर आया।

[Page 27] :
Surf (wave) = लहर;
spiked (having sharp points) = तीखी चोंचों वाला;
stain (spot) = धब्बा;
soaking (wet) = गीला;
stuck (clung) = चिपटा;
tortured (anguished) = पीड़ित;
unconscious (fainted) = बेहोश;
expert (specialist)= विशेषज्ञ;
bleeding (flowing out of blood)= खून का बहना;
solemn (serious)= गम्भीर;
screened (hidden) = छुपा हुआ;
considered (regarded) = समझा विचार किया;
muttered (murmured) = बुड़बुड़ाया;
stanch (to stop bleeding) = खून के बहने को रोकना।

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 4 The Enemy

[Page 28] :
Strewed (scattered) = बिखरा हुआ;
moaned (groaned)= कराहा;
stupor (unconsciousness) = बेहोशी;
steadily (calmly)= शान्ति से;
sheltered (protected)= आश्रय दिया;
curious (strange) = अजीब;
repulsion (hatred) = नफरत;
inert (motionless)= निश्चल;
battered (torn) = फटा हुआ;
faint (dim) =धुंधला;
hesitated (wavered) = हिचकिचाना;
resolution (firmness) = सख्ती।

[Page 29] :
Intend (mean to) = अभिप्राय होना;
endanger (put in danger) = खतरे में डालना;
lifted (raised) = उठाया;
fowl (a bird) = एक पक्षी;
skeleton (bony framework) = हड्डियों का ढाँचा;
quilt (stuffed cover) = रजाई;
distress (pain) = दर्द तकलीफ;
fetch (bring) = लाना;
utter (entirely)= पूर्ण;
pallor (yellow skin) = पीली त्वचा;
stoop (bend forward) = आगे झुकना।

[Page 30] :
Vitality (energy) = ताकत;
menace(danger)= खतरा;
bluntly (in a straight forward manner) = स्पष्ट तरीके से;
courteously (politely) = नम्रता से;
superstitious (believing in superstitions) = अन्धविश्वासी।

[Page 31]:
Stubbornness (unwillingness to agree) = जिद्द;
severely (harshly)= सख्ती से;
dignity (grace) = शान;
sustained (kept alive) = जीवित रखा;
stupid (foolish) = मूर्ख;
fiercely (violently)= तीव्रता से;
conviction (belief) = विश्वास;
superiority (sense of being higher)= श्रेष्ठता की भावना;
impulsively (instinctively)= प्रवृत्ति के रूप से;
rugs (wraps) = चटाई आदि;
texture (surface/structure) = सतह;
blond (light golden brown) = हल्के सुनहरे भूरे ।

[Page 32] :
Ebbing (declining )= कम होते हुए;
chilled (cold)= ठण्डा;
sterilized (made germ free) = कीटाणु-रहित करना;
alcove (a recess in the wall)= आला;
strips (small pieces)= पट्टियाँ;
shrubs (bushes) = झाड़ियाँ;
concise (brief) = संक्षिप्त;
absorption (complete attention) = पूरा ध्यान।

[Page 33] :
Anesthetic (drug to make one unconscious)= बेहोशी की दवा;
blankly (without emotion) = बिना भावना के;
peered (looked carefully) = ध्यान से देखा;
superficial (not deep) = गहरा न होनम;
choked (suffocated) = दम घुटा;
exploring (probing) = जाँच की;
leaped up (jumped) = कूदा;
retching (try to vomit) = कै करने की कोशिश;
irritable (annoyed) = चिड़चिड़ा।

[Page 34] :
Ruthless (merciless)= क्रूर;
proceeded (continued)= जारी रखा;
moaned (groaned)= कराहा;
stir (move) = हिला;
saturate (soak) = सोखना/गीला किया;
nostrils (outer openings of the nose) = नथुन;
intricate (complicated) = पेचीदा;
crouched (cowered) = दुबककर बैठना;
piteously (in a pitiable manner) = दयनीय ढंग से;
twisted (Pendent)= मुड़ना;
flickers (trembling flame)= कांपती लौ;
contradicted (denied)= बात को काटा;
liberation (freedom) = आजादी;
victorious (triumphant) = विजयी;
for instances (for example) = उदाहरणतया;
anxiously (in a worried manner) = चिन्तित रूप से;
tortured (inflicted pain) = पीड़ा दी;
observed (noticed)= देखा;
scars (marks left by wounds) = घाव के निशान;
tip (point) = सिरा।

[Page 35] :
Probed (investigated)= जाँच की;
cardinal (chief)= मुख्य;
thundered (roared)= गरजा;
precious (exact) = सही;
incision (cut) = कट;
quivered (trembled) = काँपा;
guts (intestine) = आंतड़ियाँ;
hush (quiet) = शान्त;
profound (deep)= गहरा;
paused (stopped)= रुका;
vial (small glass bottle) = काँच की छोटी बोतल;
hypodermic (introduced beneath the skin) = त्वचा के नीचे पहुँचाना;
fluttered (quivered)= काँपा;
perceived (observed) = देखा।

[Page 36-37] :
Compelled (forced) = मजबूर किया;
gasped (caught breath in surprise) = हैरानी से साँस रुकी;
comfort (console) = सांत्वना दी;
scolded (rebuked) = डाँटा;
dragged on (continued) = जारी रखा;
courtesy (politeness) = विनम्रता;
constantly (continuously) = लगातार;
marred (ruined) = नष्ट हुआ;
pinching (nipping) = चिकौटी काटना;
skill (ability)= क्षमता;
contemptuously (scornfully)= निन्दा से;
condemned (found guilty) = अपराधी पाया;
traitor (disloyal) = गद्दार;
sentimental (emotional) = भावनात्मक।

[Page 38-39] :
Assuage (soften allay) = कम करना;
fortnight (period of fifteen days) = पक्ष;
dismayed (disappointed) = निराश;
inclined (willing) = इच्छुक;
gracefully (with dignity) = शान से;
grieving (feeling sorrow) = दुःख महसूस करना;
brusquely (curtly/bluntly) = स्पष्ट रूप से;
evidently (apparently) = प्रत्यक्ष से;
unaccustomed (not used to) = आदी न होना;
utter (speak) = बोलना;
merely (only) = केवल;
exhausted (tired) = थका हुआ।

[Page 40-41] :
Indispensable (absolutely necessary) = एकदम आवश्यक;
stand (endure) = सहन करना;
ruthlessness (cruelty) = क्रूरता;
execution (death sentence)= मृत्यु-दण्ड;
irritably (with annoyance) = नाराजगी से;
assassins (murderers)= हत्यारे;
yawning (gaping)= उबासी लेना;
trick (stratagem)= चाल;
timid (fearful) = डरपोक;
gaily (cheerfully) = खुशी से;
provide (give) = देना।

[Page 42-43] :
Bother (trouble) = परेशान करना;
gripping (holding tightly) = कसकर पकड़ना;
knuckles (joints of fingers)= उँगलियों के जोड़;
displaced (removed)= हटाना;
shaggy (rough)= खुरदरा;
refrain (avoid) = हिचककर;
boughs (branches) = टहनियाँ;
dripping (falling in drops) = टपकना;
eaves (edges of roofs) = मुण्डेर;
crash (violent fall) = जोर से गिरना;
wail (cry) = चीखना;
infected (contaminated with germs)= कीटाणुओं से दूषित;
joyously (cheerfully) = खुशी से;
submerged (went under water) = डूब जाना;
fathom (a measure to know depth) = गहराई नापने का पैमाना।

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 4 The Enemy

[Page 44-45] :
Nodded (shook head) for Facilit; comprehension (understanding) = H4SHT;
dragged (pulled) = खींचा;
stout (strong) = मजबूत;
tide (rising and falling of waves on the sea)= ज्वारभाटा;
state (condition) = अवस्था;
lash (shining light) = चमकती रोशनी;
instant (moment) = क्षण;
suspected (doubted) = शक किया;
faintly (dimly)= मध्यम रूप से;
involved (affected)= प्रभावित;
cross (displeased/oppose)= नाराज/ विरोध;
signifying (indicating) = इशारा करते हुए।

[Page 46-47] :
Amazement (surprise) = हैरानी;
dereliction (carelessness)= लापरवाही;
consequence (result) = परिणाम;
loyalty (faithfulness) = वफा;
zeal (enthusiasm) = जोश;
twilight (faint light after sunset) = धुंधला;
dusk (gloom/evening) = अँधेरा/सांय;
whence (from where) = कहाँ से;
anatomy (body structure) = शरीर रचना;
despised (hated) = नफरत की;
repulsive (arousing hatred) = घृणित;
haggard (careworm) = चिन्तित।

The Enemy Translation in Hindi

It is the time of the World War. An American prisoner of war is washed ashore in a dying state and is found at the doorstep of a Japanese doctor. Should he save him as a doctor or hand him over to the Army as a patriot?
(यह विश्वयुद्ध का समय है। एक अमेरिकी युद्ध कैदी मरने के करीब की हालत में सागर से बहकर किनारे पर आ जाता है और एक जापानी डॉक्टर के घर के दरवाजे पर पाता है। क्या वह एक डॉक्टर के नाते उसे बचाएगा या एक देशभक्त के नाते जापानी सेना को सौंप देगा?)

Dr Sadao Hoki’s house was built on a spot of the Japanese coast where as a little boy he had often played. The low, square stone house was set upon rocks well above a narrow beach that was outlined with bent pines. As a boy Sadao had climbed the pines, supporting himself on his bare feet, as he had seen men do in the South Seas when they climbed for coconuts. His father had taken him often to the islands of those seas, and never had he failed to say to the little brave boy at his side, “Those islands yonder, they are the stepping stones to the future for Japan.”
“Where shall we step from them?” Sadao had asked seriously. “Who knows?” his father had answered. “Who can limit our future? It depends on what we make it.”

(डॉ० सदाओ होकी का घर जापान के समुद्री किनारे पर बना हुआ था जहाँ वह एक बच्चे के रूप में प्रायः खेल चुका था। वह नीचा, चोकोर पत्थरों का घर उस पतले तट पर ऊपर उठी चट्टानों पर बना था जिसके किनारे पर चीड़ के पेड़ थे। एक लड़के के रूप में सदाओ चीड़ के पेड़ों पर चढ़ा था, अपने आपको नंगे पैरों के सहारे थामे हुए, जैसे कि उसने दक्षिण समुद्रों में लोगों को नारियलों के लिए चढ़ते हुए देखा था। उसका पिता उसे प्रायः उन समुद्रों के टापुओं पर ले जा चुका था और अपने साथ के छोटे बहादुर बच्चे को यह कहने से कभी नहीं चुकता था। “वो वहाँ के टापू, भविष्य के जापान की सीढ़ियाँ हैं।”
“हम उनसे होकर कहाँ जाएँगे?” सदाओ ने गम्भीरता से पूछा। “कौन जानता है?” उसके पिता ने उत्तर दिया था। “हमारे भविष्य को कौन बाँध सकता है? यह इस पर निर्भर करता है कि हम इसे कैसा बनाते हैं।”)

Sadao had taken this into his mind as he did everything his father said, his father who never joked or played with him but who spent infinite pains upon him who was his only son. Sadao knew that his education was his father’s chief concern. For this reason he had been sent at twenty-two to America to learn all that could be learned of surgery and medicine. He had come back at thirty, and before his father died he had seen Sadao become famous not only as a surgeon but as a scientist. Because he was perfecting a discovery which would render wounds entirely clean, he had not been sent abroad with the troops. Also, he knew, there was some slight danger that the old General might need an operation for a condition for which he was now being treated medically, and for this possibility, Sadao was being kept in Japan.

(अपने पिता की हर बात की तरह सदाओ ने इस बात को भी याद रखा था, उसका पिता जो कभी उसके साथ कोई हँसी-मजाक नहीं करता था और न ही कोई खेल खेलता था परन्तु जिसने अपने इकलौते बेटे के लिए काफी कष्ट उठाए थे। सदाओ जानता था कि उसकी शिक्षा उसके पिता की सबसे बड़ी चिन्ता थी। इसी कारण से बाइस वर्ष की उम्र में उसे अमेरिका भेज दिया गया ताकि वह शल्य-चिकित्सा और औषधि विज्ञान के बारे में वह सब कुछ जान ले जो जाना जा सकता है।

वह तीस वर्ष की आयु में वापस आया था, और अपनी मृत्यु से पहले उसके पिता ने सदाओ को न केवल एक शल्य-चिकित्सक बल्कि वैज्ञानिक के रूप में प्रसिद्ध होता देख लिया था। उसे फौज के साथ विदेश नहीं भेजा गया था। क्योंकि वह एक ऐसी खोज में लगा था जिससे घावों को पूरी तरह साफ किया जा सके, वह यह भी जानता था कि इस बात का कुछ खतरा था कि ऐसी स्थिति आ जाए कि बूढ़े सेनापति का उस बीमारी के लिए ऑप्रेशन करना पड़े जिसका इलाज फिलहाल दवाइयों से किया जा रहा था, और इस सम्भावना के कारण उसे जापान में रखा गया था।)

Clouds were rising from the ocean now. The unexpected warmth of the past few days had at night drawn heavy fog from the cold waves. Sadao watched mists hide outlines of a little island near the shore and then come creeping up the beach below the house, wreathing around the pines. In a few minutes fog would be wrapped about the house too. Then he would go into the room where Hana, his wife, would be waiting for him with the two children.

(सागर से बादल ऊपर उठ रहे थे। पिछले कुछ दिनों की अनपेक्षित गर्मी ने रात्रि में शीत लहरों से भारी धुन्ध ला दी। सदाओ देख रहा था कि कोहरा तट के निकट वाले टापू की सीमा रेखाओं को छिपाकर तट के ऊपर रेंगता हुआ घर के नीचे आ गया था और देवदार वृक्षों के चारों ओर लिपट गया था। कुछ ही मिनटों में धुन्ध घर पर भी छा जाएगी। तब वह घर के अन्दर जाएगा जहाँ उसकी पत्नी ‘हाना’ दो बच्चों के साथ उसकी प्रतीक्षा कर रही होगी।)

But at this moment the door opened and she looked out, a dark-blue woollen haori over her kimono. She came to him affectionately and put her arm through his as he stood, smiled and said nothing. He had met Hana in America, but he had waited to fall in love with her until he was sure she was Japanese. His father would never have received her unless she had been pure in her race. He wondered often whom he would have married if he had not met Hana, and by what luck he had found her in the most casual way, by chance literally, at an American professor’s house. The professor and his wife had been kind people anxious to do something for their few foreign students, and the students, though bored, had accepted this kindness. Sadao had often told Hana how nearly he had not gone to Professor Harley’s house that night–the rooms were so small, the food so bad, the professor’s wife so voluble. But he had gone and there he had found Hana, a new student, and had felt he would love her if it were at all possible.

(पर इसी क्षण दरवाजा खुला और अपने किमोनो के ऊपर गहरे नीले रंग की हाओरी पहने हुए उसने (हाना ने) बाहर देखा। वह प्रेम से उसके पास आई और जहाँ वह खड़ा था वहीं अपना बाजू उसके बाजू में डाल दिया, मुस्कुराई और कुछ न बोली। वह हाना से अमेरिका में मिला था पर वह उससे प्यार करने के लिए उस समय तक इन्तजार करता रहा जब तक कि उसे यह निश्चित नहीं हो गया कि वह जापानी है। उसके पिता उसे (हाना को) कभी स्वीकार नहीं करेगा अगर उसकी जाति शुद्ध (जापानी) न होती।

वह अक्सर सोचता कि अगर वह हाना से न मिलता तो किससे शादी करता और क्या सौभाग्य था कि वह उससे बड़े साधारण ढंग से, शब्दशः संयोग से, एक अमेरिकन प्रोफेसर के घर पर मिला था। प्रोफेसर और उसकी पत्नी दयालु लोग थे जो अपने थोड़े से विदेशी विद्यार्थियों के लिए कुछ करने को उत्सुक थे और विद्यार्थी, हालांकि बोर होते थे, इस दयालुता को स्वीकार कर लेते थे।

सदाओ अक्सर हाना को बताता था कि उस रात कैसे उसने प्रोफेसर हार्ले के घर जाने का विचार लगभग त्याग ही दिया था कमरे कितने छोटे थे, खाना कितना खराब। प्रोफेसर की पत्नी कितनी बातूनी। पर वह गया था और वहाँ पर उसे हाना मिली थी जो एक नई विद्यार्थी थी और उसने सोचा था कि अगर जरा भी सम्भव हुआ तो वह उससे प्रेम करेगा।)

Now he felt her hand on his arm and was aware of the pleasure it gave him, even though they had been married years enough to have the two children. For they had not married heedlessly in America. They had finished their work at school and had come home to Japan, and when his father had seen her the marriage had been arranged in the old Japanese way, although Sadao and Hana had talked everything over before hand. They were perfectly happy. She laid her cheek against his arm.

(अब उसने अपने बाजू पर उसके हाथ को अनुभव किया और उसे इसके कारण उत्पन्न होने वाले आनन्द का अनुभव किया, हालांकि उनकी शादी हुए इतना समय तो बीत ही गया था कि उनके दो बच्चे हो चुके थे। क्योंकि अमेरिका में उन्होंने बिना विचारे शादी नहीं की थी। उन्होंने अपना स्कूल का काम समाप्त किया और जापान में अपने घर पर आ गए थे और जब उसका (सदाओ का) पिता उसके (हाना के) पिता से मिला तब शादी पुराने जापानी ढंग से पक्की कर दी गई, हालांकि सदाओ और हाना ने हर बात पहले से निश्चय कर ली थी। वे पूरी तरह प्रसन्न थे। उसने अपना गाल (चेहरा) उसके बाजू पर रख दिया।)

It was at this moment that both of them saw something black come out of the mists. It was a man. He was flung up out of the ocean-flung, it seemed, to his feet by a breaker. He staggered a few steps, his body outlined against the mist, his arms above his head. Then the curled mists hid him again. “Who is that?” Hana cried. She dropped Sadao’s arm and they both leaned over the railing of the veranda. Now they saw him again. The man was on his hands and knees crawling. Then they saw him fall on his face and lie there.

(उसी समय उन दोनों ने धुन्ध से बाहर आती हुई एक काली आकृति को देखा। वह एक आदमी था। ऐसा लगता था कि किसी बड़ी लहर ने उसे बहाकर किनारे पर पटक दिया था, वह कुछ कदम लड़खड़ाकर चला, उसके शरीर की आकृति-सी धुन्ध में नजर आ रही थी, उसकी बाँहें उसके सिर पर थीं। फिर चारों तरफ फैलती धुन्ध ने उसे फिर से छिपा दिया। “वह कौन है?” हाना चिल्लाई। उसने सदाओ का हाथ छोड़ दिया और वे दोनों बरामदे की रैलिंग पर से आगे झुके। अब उन्होंने उसे दोबारा देखा। वह आदमी अपने हाथों और पैरों पर रेंग रहा था। फिर उन्होंने उसको मुँह के बल गिरते हुए और लेटते हुए देखा।)

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 4 The Enemy

“A fisherman perhaps,” Sadao said, “washed from his boat.” He ran quickly down the steps and behind him Hana came, her wide sleeves flying. A mile or two away on either side there were fishing villages, but here was only the bare and lonely coast, dangerous with rocks. The surf beyond the beach was spiked with rocks. Somehow the man had managed to come through them-he must be badly torn. They saw when they came toward him that indeed it was so. The sand on one side of him had already a stain of red soaking through

(“शायद एक मछुआरा है,” सदाओ ने कहा, “अपनी नाव में बहकर आ गया है।” वह सीढ़ियों से नीचे दौड़ा और उसके पीछे-पीछे हाना आई, अपने चौड़े चोगे की बाँहें लहराती हुई। वहाँ से दोनों ओर एक मील या दो मील पर मछुआरों के गाँव थे, लेकिन यहाँ तो केवल एक एकान्त समुद्री किनारा था, खतरनाक चट्टानों वाला। बीच पर समुद्री लहरों के झाग को चट्टानें चीरती थीं। किसी-न-किसी तरह से वह आदमी उन तक आने में कामयाब हो गया वह जरूर बुरी तरह से घायल था। जब वे उसकी तरफ गए तो उन्होंने देखा कि वास्तव में ऐसा ही था। उसकी एक तरफ रेत पर पहले से ही एक लाल धब्बा हो चुका था जो तर हो चुका था।)

“He is wounded,” Sadao exclaimed. He made haste to the man, who lay motionless, his face in the sand. An old cap stuck to his head soaked with sea water. He was in wet rags of garments. Sadao stopped, Hana at his side, and turned the man’s head. They saw the face.
“A white man!” Hana whispered.

(“वह घायल है”, सदाओ ने विस्मय से कहा। वह जल्दी से उस व्यक्ति की ओर गया, जो रेत में अपना चेहरा डाले, निश्चल पड़ा था। समुद्री पानी में भीगी एक टोपी उसके सिर पर थी। उसके गीले कपड़े चिथड़े हो चुके थे। सदाओ रुका, हाना उसकी बगल में थी और उस आदमी का सिर पलटा। उन्होंने उसका चेहरा देखा। “गोरा आदमी!” हाना बुड़बुड़ाई।)

Yes, it was a white man. The wet cap fell away and there was his wet yellow hair, long, as though for many weeks it had not been cut, and upon his young and tortured face was a rough yellow beard. He was unconscious and knew nothing that they did for him.

(हाँ, यह कोई गोरा आदमी था। उसकी गीली टोपी गिर गई और उसके बाल गीले-पीले, लम्बे थे, मानो कितने ही सप्ताहों से वे कटे नहीं थे, और उसके युवा और पीड़ित चेहरे पर एक झवरी पीली दाढ़ी थी। वह बेहोश था और उन्होंने जो कुछ उसके साथ किया उसका उसे कुछ पता नहीं था।)

Now Sadao remembered the wound, and with his expert fingers he began to search for it. Blood flowed freshly at his touch. On the right side of his lower back Sadao saw that a gun wound had been reopened. The flesh was blackened with powder. Sometime, not many days ago, the man had been shot and had not been tended. It was bad chance that the rock had struck the wound. “Oh, how he is bleeding!” Hana whispered again in a solemn voice. The mists screened them now completely, and at this time of day no one came by. The fishermen had gone home and even the chance beachcombers would have considered the day at an end.

(अब सदाओ को घाव का ध्यान आया और अपनी कुशल उँगलियों से वह उसकी खोज करने लगा। उसके छूने से खून फिर से बहने लगा। सदाओ ने देखा कि उसकी कमर के दाएँ भाग के नीचे बन्दूक की गोली का जख्म फिर से हरा हो गया था। मांस पाऊडर के कारण काला पड़ चुका था। कभी, बहुत दिन न हुए होंगे, कि इस व्यक्ति को गोली लगी थी और उसका इलाज नहीं हुआ था। यह एक बुरा संयोग था कि चट्टान घाव से टकरा गई थी। “ओह, कैसे इसका रक्तस्राव हो रहा है!” हाना गम्भीर आवाज में फुसफुसाई। अब धुन्ध ने उनको पूरी तरह से ढक लिया था और दिन के इस समय कोई पास से नहीं गुजरा। मछुआरे घर जा चुके थे और बीच पर चीजें तलाश करने वालों ने दिन खराब समझा होगा।)

“What shall we do with this man?” Sadao muttered. But his trained hands seemed of their own will to be doing what they could to stanch the fearful bleeding. He packed the wound with the sea moss that strewed the beach. The man moaned with pain in his stupor but he did not awaken.

“The best thing that we could do would be to put him back in the sea,” Sadao said, answering himself. Now that the bleeding was stopped for the moment he stood up and dusted the sand from his hands.

“Yes, undoubtedly that would be best,” Hana said steadily. But she continued to stare down at the motionless man. “If we sheltered a white man in our house we should be arrested and if we turned him over as a prisoner, he would certainly die,” Sadao said. “The kindest thing would be to put him back into the sea,” Hana said. But neither of them moved. They were staring with a curious repulsion upon the inert figure. “What is he?” Hana whispered.

(“हम इस आदमी के साथ क्या करेंगे?” सदाओ बुड़बुड़ाया। परन्तु उसकी निपुण उँगलियाँ अपने आप ही वह सब करती हुई प्रतीत हुई जो वो तीव्र रक्तस्राव को रोकने के लिए कर सकती थीं। उसने घाव को सागर की काई से ढक दिया जो तट पर बिखरी पड़ी थी। वह आदमी अपनी मूर्छा में ही कराहा परन्तु जागा नहीं। “सबसे सही चीज जो हम कर सकते हैं तो यह होगा कि हम इसको वापस सागर में फेंक दें,” सदाओ ने खुद को ही जवाब देते हुए कहा।

अब जबकि फिलहाल रक्तस्राव रुक गया, वह खड़ा हुआ और अपने हाथों से रेत झाड़ा। “हाँ, निःसन्देह यह ठीक रहेगा,” हाना ने दृढ़ता से कहा। परन्तु वह उस जड़ बने आदमी की तरफ देखती रही।
“यदि हम एक गोरे आदमी को अपने घर में शरण देंगे तो हमें गिरफ्तार कर लिया जाएगा और यदि हम उसको एक कैदी के रूप में भेज देंगे तो वह अवश्य ही मर जाएगा,” सदाओ ने कहा। “सबसे दयालु चीज होगी कि इसे दोबारा सागर में डाल दिया जाए,” हाना ने कहा। परन्तु उनमें से कोई भी नहीं हिला। वे उस जड़ आकृति को एक अजीब वितृष्णा से देख रहे थे। “वह कौन है?” हाना फुसफुसायी।)

“There is something about him that looks American,” Sadao said. He took up the battered cap. Yes, there, almost gone, was the faint lettering. “A sailor,” he said, “from an American warship.” He spelled it out: “U.S. Navy.” The man was a prisoner of war!

“He has escaped,” Hana cried softly, “and that is why he is wounded.” “In the back,” Sadao agreed. They hesitated, looking at each other. Then Hana said with resolution : “Come, are we able to put him back into the sea?”

(“इसमें कुछ ऐसा है जिससे वह अमेरिकन लगता है,” सदाओ ने कहा। उसने फटी हुई टोपी उठाई। हाँ, वहाँ पर लगभग मिटे हुए, हल्के से अक्षर थे, “एक नाविक”, उसने कहा, “किसी अमेरिकन युद्धपोत से।” उसने अक्षरों को पढ़ा : “यू०एस० नौसेना।” यह व्यक्ति युद्धबंदी था! “यह भागकर आया है,” हाना ने धीमी आवाज में कहा, “और यही कारण है कि वह घायल है।” “पीठ में,” सदाओ सहमत था। वे हिचकिचाए, उन्होंने एक-दूसरे की ओर देखा। फिर निश्चय के साथ हाना बोली“आओ, क्या हम उसे वापस सागर में डालने में समर्थ हैं?”)

“If I am able, are you?” Sadao asked. “No,” Hana said, “But if you can do it alone….” Sadao hesitated again. “The strange thing is,” he said, “that if the man were whole I could turn him over to the police without difficulty. I care nothing for him. He is my enemy. All Americans are my enemy. And he is only a common fellow. You see how foolish his face is. But since he is wounded…..”

(“अगर मैं ऐसा कर सकूँ, क्या तुम कर सकोगी?” सदाओ ने पूछा। “नहीं”, हाना ने कहा, “पर अगर तुम अकेले यह कर सको…..” सदाओ फिर हिचकिचाया। “विचित्र बात यह है,” वह बोला, “अगर वह आदमी स्वस्थ होता तो मैं बिना किसी मुश्किल के उसे पुलिस को सौंप देता। मुझे उसकी कोई चिन्ता नहीं है। वह मेरा शत्रु है। सारे अमेरिकन मेरे शत्रु हैं। और वह तो केवल एक साधारण व्यक्ति है। देखो, चेहरे से वह कैसा मूर्ख लगता है। पर क्योंकि वह घायल है……”)

“You also cannot throw him back to the sea,” Hana said. “Then there is only one thing to do. We must carry him into the house.”
“But the servants?” Sadao inquired.

“We must simply tell them that we intend to give him to the police—as indeed we must, Sadao. We must think of the children and your position. It would endanger all of us if we did not give this man over as a prisoner of war.”

“Certainly,” Sadao agreed. “I would not think of doing anything else.”

(“तुम भी उसे सागर में फिर से नहीं फेंक सकते,” हाना ने कहा। “फिर तो करने के लिए केवल एक ही काम है। हमें उसे उठाकर घर के अन्दर ले जाना होगा।”
“लेकिन नौकर?” सदाओ ने पूछा।
“हमें उन लोगों को स्पष्ट बताना होगा कि हमारा इरादा उसे पुलिस को सौंपने का है जैसे कि हमें सचमुच करना चाहिए, सदाओ। हमें अपने बच्चों और तुम्हारी सामाजिक हैसियत के बारे में सोचना होगा। अगर हमने इस व्यक्ति को युद्धबन्दी के रूप में पुलिस के हवाले नहीं किया तो हम सब खतरे में पड़ जाएँगे।” … “निस्सन्देह,” सदाओ सहमत हुआ। “मैं इसके अतिरिक्त कुछ करने का सोच भी नहीं सकता।”)

Thus agreed, together they lifted the man. He was very light, like a fowl that had been half-starved for a long time until it is only feathers and skeleton. So, his arms hanging, they carried him up the steps and into the side door of the house. This door opened into a passage, and down the passage they carried the man towards empty bedroom. It had been the bedroom of Sadao’s father, and since his death it had not been used. They laid the man on the deeply matted floor.

Everything here had been Japanese to please the old man, who would never in his own home sit on a chair or sleep in a foreign bed. Hana went to the wall cupboards and slid back a door and took out a soft quilt. She hesitated. The quilt was covered with flowered silk and the lining was pure white silk.

(इस प्रकार सहमत होकर, उन दोनों ने मिलकर साथ-साथ उस आदमी को उठाया। वह बहुत हल्का था, एक ऐसे पक्षी की तरह था जिसे लम्बे समय तक आधा-पेट भोजन ही मिला हो और अन्त में सिर्फ पंख और हड्डियों का ढाँचा ही रह गया हो। अतः उसकी लटकती हुई बाजुओं के साथ उसे सीढ़ियों और बगल के दरवाजे से निकालकर ले आए। यह दरवाजा एक बरामदे में खुलता था और बरामदा पार कर वे उस व्यक्ति को एक खाली पड़े शयनकक्ष में ले आए।

यह शयनकक्ष सदाओ के पिता का था और उनकी मृत्यु के बाद से प्रयोग नहीं हुआ था। उन्होंने उस व्यक्ति को मोटे गलीचे वाले फर्श पर लिटा दिया। उस वृद्ध की खुशी के लिए यहाँ की हर वस्तु जापानी थी क्योंकि वह अपने घर के अन्दर न तो कभी किसी विदेशी कुर्सी पर बैठा और न ही विदेशी बिस्तर पर सोया। हाना दीवार में लगी अलमारियों तक गई और एक दरवाजा खोलकर एक नर्म कम्बल निकाला। वह हिचकिचाई। वह कम्बल रेशमी फूलों की कढ़ाई से सजा हुआ था और उसका अस्तर शुद्ध सफेद सिल्क का था।)

“He is so dirty,” she murmured in distress. “Yes, he had better be washed,” Sadao agreed. “If you will fetch hot water I will wash him.”
“I cannot bear for you to touch him,” she said. “We shall have to tell the servants he is here. I will tell Yumi now. She can leave the children for a few minutes and she can wash him.”

Sadao considered a moment. “Let it be so,” he agreed. “You tell Yumi and I will tell the others.” But the utter pallor of the man’s unconscious face moved him first to stoop and feel his pulse. It was faint but it was there. He put his hand against the man’s cold breast. The heart too was yet alive.

“He will die unless he is operated on,” Sadao said, considering. “The question is whether he will not die anyway.” Hana cried out in fear. “Don’t try to save him! What if he should live?” “What if he should die?” Sadao replied. He stood gazing down on the motionless man. This man must have extraordinary vitality or he would have been dead by now. But then he was very young-perhaps not yet twenty-five.
“You mean die from the operation?” Hana asked. “Yes,” Sadao said.

(“वह इतना गन्दा है,” वह परेशानी में बुड़बुड़ाई। “हाँ, वह साफ होता तो अच्छा था,” सदाओ सहमत हुआ। “यदि तुम गरम पानी ले आओ तो मैं इसे साफ कर दूंगा।” “मैं सहन नहीं कर सकती कि तुम इसे छूओ,” उसने कहा। “हमें नौकरों को बताना पड़ेगा कि वह यहाँ है। मैं अभी यूमी को बताऊँगी। वह थोड़ी देर के लिए बच्चों को छोड़कर आ सकती है और इसे साफ कर सकती है।” सदाओ ने एक पल के लिए सोचा। “चलो ऐसा ही सही,” वह सहमत हुआ। “तुम यूमी को बताओ और मैं दूसरों को बताता हूँ।”

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 4 The Enemy

परन्तु आदमी के बेहोश चेहरे के एकदम पीलेपन ने उसको पहले झुककर उसकी नाड़ी को महसूस करने के लिए प्रभावित किया। यह (नब्ज) मध्यम थी। परन्तु चल रही थी। उसने अपना हाथ आदमी की ठण्डी छाती पर रखा। दिल भी अभी जीवित था।

“यदि उसका ऑप्रेशन नहीं किया तो वह मर जाएगा”, सदाओ ने सोचते हुए कहा। “प्रश्न यह है कि क्या वह वैसे ही नहीं मरेगा।” हाना भय से चिल्लाई। “उसे बचाने की कोशिश मत करो! यदि वह जीवित हो गया तो क्या होगा?” “अगर वह मर गया तब क्या होगा?” सदाओ ने उत्तर दिया। उस निश्चल पड़े व्यक्ति की ओर देखते हुए वह बोला। इस आदमी में अवश्य ही असाधारण शक्ति होगी वरना यह अभी तक मर जाता। पर यह बहुत जवान भी तो था शायद अभी पच्चीस का भी नहीं।” “आपका अभिप्राय है ऑप्रेशन से मर गया तो?” हाना ने पूछा। “हाँ,” सदाओ ने कहा।)

Hana considered this doubtfully, and when she did not answer Sadao turned away. “At any rate something must be done with him,” he said, “and first he must be washed.” He went quickly out of the room and Hana came behind him. She did not wish to be left alone with the white man. He was the first she had seen since she left America and now he seemed to have nothing to do with those whom she had known there. Here he was her enemy, a menace, living or dead.

She turned to the nursery and called, “Yumi!” But the children heard her voice and she had to go in for a moment and smile at them and play with the baby boy, now nearly three months old.

(हाना ने इस बारे में सन्देह के साथ सोचा, और जब उसने कोई उत्तर न दिया तब सदाओ ने नजर दूसरी ओर कर ली। “कुछ भी हो, इसका कुछ न कुछ तो करना ही पड़ेगा,” उसने कहा, “और सबसे पहले इसे साफ करना होगा।” वह शीघ्रता से कमरे के बाहर चला गया और हाना उसके पीछे-पीछे आ गई। वह उस गोरे आदमी के साथ अकेली नहीं होना चाहती थी। अमेरिका छोड़ने के बाद वह पहला ऐसा व्यक्ति था जो उसे मिला था और अब ऐसा लगता था कि इस व्यक्ति का उन लोगों से कुछ लेना-देना न था जिन्हें वह वहाँ पर रहते हुए जानती थी। यहाँ वह उसका शत्रु था, एक खतरा, जीवित या मृत।

वह बच्चों के कक्ष की ओर गई और आवाज लगाई, “यूमी!” पर बच्चों ने उसकी आवाज सुन ली और क्षण भर के लिए उसे अन्दर जाकर उनकी ओर मुस्कुराना और शिशु लड़के के साथ खेलना पड़ा जो अब लगभग तीन महीने का था।)

Over the baby’s soft black hair she motioned with her mouth, “Yumi-come with me!” “I will put the baby to bed,” Yumi replied. “He is ready.”
She went with Yumi into the bedroom next to the nursery and stood with the boy in her arms while Yumi spread the sleeping quilts on the floor and laid the baby between them.

Then Hana led the way quickly and softly to the kitchen. The two servants were frightened at what their master had just told them. The old gardener, who was also a house servant, pulled the few hairs on his upper lip.

(शिशु के नाजुक काले बालों के ऊपर अपना मुँह हिलाकर इशारा किया, “यूमी-मेरे साथ आओ!” “मैं शिशु को बिस्तर पर सुला देती हूँ,” यूमी ने उत्तर दिया। “वह तैयार है।” वह यूमी के साथ बच्चों के कमरे के बगल वाले कमरे में गई और लड़के को गोद में लिए खड़ी रही जबकि यूमी ने सोने वाले गद्दे फर्श पर बिछाए और उनके मध्य शिशु को लिटा दिया। फिर हाना शीघ्रता से आगे-आगे चलकर, दबे पाँव (उसे) रसोई में ले आई। मालिक ने जो कुछ अभी-अभी कहा था वह सुनकर दोनों नौकर डरे हुए थे। बूढ़ा माली जो घर का नौकर ही था उसने अपनी मूंछ के कुछ बाल उखाड़ लिए।)

“The master ought not to heal the wound of this white man,” he said bluntly to Hana. “The white man ought to die. First he was shot. Then the sea caught him and wounded him with her rocks. If the master heals what the gun did and what the sea did they will take revenge on us.”

(“मालिक को इस गोरे आदमी के घाव का इलाज नहीं करना चाहिए,” उसने हाना से साफ-साफ कहा। “गोरे आदमी को मरना चाहिए। पहले उसे गोली लगी। फिर सागर ने उसे पकड़ा और अपनी चट्टानों से उसे घायल किया। अगर मालिक गोली के कृत्य का और सागर के अपनी चट्टानों द्वारा किए घाव का इलाज करेगा तो ये दोनों हमसे उसका बदला लेंगे।”)

“I will tell him what you say,” Hana replied courteously. But she herself was also frightened, although she was not superstitious as the old man was. Could it ever be well to help an enemy? Nevertheless she told Yumi to fetch the hot water and bring it to the room where the white man was.

She went ahead and slid back the partitions. Sadao was not yet there. Yumi, following, put down her wooden bucket. Then she went over to the white man. When she saw him her thick lips folded themselves into stubbornness. “I have never washed a white man,” she said, “and I will not wash so dirty a one now.”

(“मैं उन्हें बता दूंगी जो तुम कहते हो,” हाना ने विनम्रता के साथ उत्तर दिया। परन्तु वह खुद भी डरी हुई थी, यद्यपि वह बूढ़े आदमी की तरह अन्धविश्वासी नहीं थी। क्या दुश्मन की सहायता करना कभी सही हो सकता था? फिर भी उसने यूमी को गरम पानी लेकर कमरे में आने को कहा जहाँ गोरा आदमी था।

वह आगे गई और परदे पीछे हटाए। सदाओ अभी यहाँ नहीं आया था। यूमी ने पीछे-पीछे जाते हुए अपनी लकड़ी की बाल्टी नीचे रख दी। फिर वह गोरे आदमी के पास गई। जब उसने उसे देखा तो उसके मोटे होंठ सिकुड़कर जिद्दी हो गए। “मैंने एक सफेद आदमी को कभी साफ नहीं किया,” उसने कहा, “और मैं अब एक गन्दे गोरे आदमी को साफ नहीं करूँगी।”)

Hana cried at her severely. “You will do what your master commands you!” There was so fierce a look of resistance upon Yumi’s round dull face that Hana felt unreasonably afraid. After all, if the servants should report something that was not as it happened? “Very well,” she said with dignity. “You understand we only want to bring him to his senses so that we can turn him over as a prisoner?” “I will have nothing to do with it,” Yumi said, “I am a poor person and it is not my business.” “Then please,” Hana said gently, “return to your own work.” At once Yumi left the room. But this left Hana with the white man alone. She might have been too afraid to stay had not her anger at Yumi’s stubbornness now sustained her. “Stupid Yumi,” she muttered fiercely. “Is this anything but a man? And a wounded helpless man!”

(हाना उस पर कठोरता से चिल्लाई। “तुम वही करोगी जो तुम्हारे मालिक तुम्हें कहते हैं!” यूमी के गोल फीके चेहरे पर विरोध से भरा इतना तीखा भाव था कि हाना ने जरूरत से अधिक डरा हुआ महसूस किया। आखिर, क्या नौकर उस काम की रिपोर्ट कर देंगे जो अभी नहीं हुआ? “ठीक है,” उसने बड़े सलीके से कहा। “तुम समझ रही हो कि हम केवल उसे होश में लाना चाहते हैं ताकि हम उसको एक कैदी के रूप में सौंप सकें?” “मुझे इससे कोई लेना-देना नहीं है,” यूमी ने कहा, “मैं एक गरीब हूँ और यह मेरा काम नहीं है।” “तब कृपया”, हाना ने धीरे से कहा, “अपने काम पर लौट जाओ।” तुरन्त यूमी कमरे से चली गई। परन्तु इससे हाना गोरे आदमी के साथ अकेली रह गई। वह इतनी अधिक डर गई होती यहाँ रहकर यदि यूमी की जिद्द पर आया गुस्सा उसको वहाँ नहीं रोकता। “मूर्ख यूमी”, वह गुस्से में बुड़बुड़ाई। “क्या यह आदमी नहीं कुछ और है? और एक घायल असहाय आदमी है!”)

In the conviction of her own superiority she bent impulsively and untied the knotted rugs that kept the white man covered. When she had his breast bare she dipped the small clean towel that Yumi had brought into the steaming hot water and washed his face carefully. The man’s skin, though rough with exposure, was of a fine texture and must have been very blond when he was a child.

(अपनी श्रेष्ठता के विश्वास की प्रवृत्ति में वह झुकी और उसने उन गठीले चीथड़ों को खोल दिया जिनसे वह गोरा व्यक्ति ढका हुआ था। जब उसने उसके वक्ष को नंगा किया तो उसने यूमी द्वारा लाए गए छोटे साफ तौलिए को तेज गरम पानी में डुबोया और फिर उससे उसके चेहरे को सावधानी से साफ किया। यद्यपि उस व्यक्ति की त्वचा मौसम के प्रभाव से खुरदरी हो गई थी। अच्छी तरह हाना ने त्वचा साफ की और उसके बचपन में अवश्य ही सुन्दर रही होगी।)

While she was thinking these thoughts, though not really liking the man better now that he was no longer a child, she kept on washing him until his upper body was quite clean. But she dared not turn him over. Where was Sadao? Now her anger was ebbing, and she was anxious again and she rose, wiping her hands on the wrong towel. Then lest the man be chilled, she put the quilt over him. “Sadao!” she called softly. He had been about to come in when she called. His hand had been on the door and now he opened it. She saw that he had brought his surgeon’s emergency bag and that he wore his surgeon’s coat.

(जब वह इन बातों के बारे में सोच रही थी, हालांकि वह उस व्यक्ति के बारे में कुछ बेहतर नहीं सोच रही थी क्योंकि अब वह बच्चा नहीं था, वह उसे साफ करती रही जब तक कि उसका ऊपरी शरीर पूरी तरफ साफ नहीं हो गया। पर उसको पलटने का साहस उसे नहीं हुआ। सदाओ कहाँ था? अब उसका गुस्सा कम हो रहा था, और पुनः चिंतित हुई और खड़ी हो गई, अपने हाथ उसने गलत तौलिए से पोंछे। फिर उस व्यक्ति को ठण्ड से बचाने के लिए, उसने उसके ऊपर कम्बल डाल दिया।

“सदाओ!” उसने धीमी आवाज में पुकारा। जब उसने आवाज दी तब वह कमरे में आने ही वाला था। उसका हाथ दरवाजे पर था और अब उसने इसे खोल दिया। उसने देखा कि वह सर्जन का आपातकालीन थैला लेकर आया था और यह भी कि उसने सर्जन का कोट पहना हुआ था।)

“You have decided to operate!” she cried. “Yes,” he said shortly. He turned his back to her and unfolded a sterilized towel upon the floor of the tokonoma alcove, and put his instruments out upon it. “Fetch towels,” he said.
(“तुमने ऑप्रेशन करने का फैसला कर लिया है!” वह चिल्लाई। “हाँ,” उसने संक्षिप्त में उत्तर दिया। उसने उसकी तरफ पीठ कर ली और एक कीटाणुरहित तौलिए शो-केस के लिए बने आले में बिछा दिया और इसके ऊपर अपने औजार रख दिए। “तौलिए ले आओ,” उसने कहा।)

She went obediently, but how anxious now, to the linen shelves and took out the towels. There ought also to be old pieces of matting so that the blood would not ruin the fine floor covering. She went out to the back veranda where the gardener kept strips of matting with which to protect delicate shrubs on cold nights and took an armful of them.

(बड़ी चिन्ता के साथ आज्ञा का पालन करते हुए अब वह कपड़ों की अलमारी की तरफ बढ़ी और तौलिए ले आई। फर्श पर बिछाने वाली कुछ पुरानी मैटिंग भी होनी चाहिए ताकि खून से सुन्दर गलीचे खराब न हो जाएँ। वह पिछले बरामदे में गई जहाँ माली मैटिंग के टुकड़े रखता था जिनसे वह ठण्डी रातों में नाजुक झाड़ियों की रक्षा करता था और गोद-भर टुकड़े उठा लिए।)

But when she went back into the room, she saw this was useless. The blood had already soaked through the packing in the man’s wound and had ruined the mat under him. “Oh, the mat!” she cried. “Yes, it is ruined,” Sadao replied, as though he did not care. “Help me to turn him,” he commanded her. She obeyed him without a word, and he began to wash the man’s back carefully.

(पर जब वह लौटकर कमरे में गई तो उसने देखा कि यह व्यर्थ था। उस व्यक्ति के घावों के ऊपर रखे फाहों से खून पहले ही बह रहा था और उसके नीचे पड़े कालीन को खराब कर चुका था।
“ओह,” गलीचा!” वह चिल्लाई। “हाँ, यह खराब हो गया,” सदाओ ने ऐसे जवाब दिया मानो उसे चिन्ता न थी। “उसे पलटने में मेरी सहायता करो,” उसने उसे आज्ञा दी। उसने चुपचाप उसका कहना माना और उसने सावधानी से उस व्यक्ति की कमर को धोना प्रारम्भ कर दिया।)

“Yumi would not wash him,” she said. “Did you wash him then?” Sadao asked, not stopping for a moment his swift concise movements. “Yes,” she said. He did not seem to hear her. But she was used to his absorption when he was at work. She wondered for a moment if it mattered to him what was the body upon which he worked so long as it was for the work he did so excellently.

(“यूमी ने उसको साफ नहीं किया,” उसने कहा। “तो फिर क्या तुमने उसे साफ किया?” सदाओ ने पूछा, अपनी संक्षिप्त गतिविधियों को एक क्षण भी बिना रोके। “हाँ,” वह बोली। लगता था, उसने उसकी बात नहीं सुनी। पर जब वह काम करता होता उस समय वह उसके ध्यान मग्न होने की आदी थी। क्षणभर के लिए वह सोचने लगी कि जब वह उस काम में लगा है जिसे वह अत्यन्त कुशलता से करता है, उसके लिए इस बात का कोई महत्त्व था कि शरीर किसका था।)

“You will have to give the anesthetic if he needs it,” he said. “I?” she repeated blankly. “But never have I!” “It is easy enough,” he said impatiently. (“अगर उसे इसकी जरूरत हुई तो तुम्हें उसे बेहोशी की दवा देनी पड़ेगी”, उसने कहा। “मुझे?” उसने भावहीनता से दोहराया, “मगर मैंने कभी ऐसा नहीं किया है!” “यह बहुत आसान है”, उसने अधीरता से कहा।)

He was taking out the packing now, and the blood began to flow more quickly. He’peered into the wound with the bright surgeon’s light fastened on his forehead. “The bullet is still there,” he said with cool interest. “Now I wonder how deep this rock wound is. If it is not too deep it may be that I can get the bullet. But the bleeding is not superficial. He has lost much blood.”

At this moment Hana choked. He looked up and saw her face the colour of sulphur. “Don’t faint,” he said sharply. He did not put down his exploring instrument. “If I stop now the man will surely die.” She clapped her hands to her mouth and leaped up and ran out of the room. Outside in the garden he heard her retching. But he went on with his work.

(वह अब पैकिंग निकाल रहा था, और खून और जल्दी बहने लगा। उसने अपने माथे पर लगी सर्जन वाली लाइट के साथ घाव में देखा। “गोली अभी भी यहीं है,” उसने ठण्डे स्वभाव में कहा। “अब मुझे हैरानी है कि यह चट्टान का घाव कितना गहरा है। यदि यह ज्यादा गहरा नहीं है तो यह हो सकता है कि मैं गोली को निकाल दूँ। परन्तु रक्तस्राव बाहरी नहीं है। वह बहुत रक्त खो चुका है।”
इस समय हाना का गला भर गया। उसने ऊपर देखा और देखा कि उसके चेहरे का रंग सल्फर जैसा बन गया था।

“बेहोश मत होना,” उसने तीखे शब्दों में कहा। उसने अपना जाँचने का यन्त्र नीचे नहीं रखा। “यदि मैं अब रुक जाता हूँ तो वह जरूर मर जाएगा।” उसने अपने हाथ अपने मुँह से लगाए और ऊपर उछली और कमरे से बाहर भागी। बाहर बगीचे में उसने – उसे उल्टी करते हुए सुना। परन्तु वह अपने काम में लगा रहा।)

“It will be better for her to empty her stomach,” he thought. He had forgotten that of course she had never seen an operation. But her distress and his inability to go to her at once made him impatient and irritable with this man who lay like dead under his knife. “This man.” he thought, there is no reason under heaven why he should live.” Unconsciously this thought made him ruthless and he proceeded swiftly. In his dream the man moaned but Sadao paid no heed except to mutter at him. “Groan,” he muttered, “groan if you like. I am not doing this for my own pleasure. In fact, I do not know why I am doing it.”

(“उसके लिए अपने पेट को खाली करना बेहतर रहेगा” उसने सोचा। वह भूल गया था कि उसने कभी कोई ऑप्रेशन नहीं देखा था। परन्तु उसकी परेशानी और उसके अपनी पत्नी के पास तुरन्त न जा सकने ने उसे आदमी के प्रति अधीर और चिड़चिड़ा बना दिया जो एक मरे हुए की तरह उसके चाकू के नीचे लेटा था। “यह आदमी,” उसने सोचा, “ऐसा कोई कारण नहीं है कि उसे जीवित रहना चाहिए।”
अनजाने में ही इस विचार ने उसको निर्दयी बना दिया और वह जल्दी से अपने काम में आगे बढ़ा। अपने सपने में वह आदमी कराहा परन्तु सदाओ ने कोई परवाह नहीं की बस उस पर बुड़बुड़ाया।
“कराहो,” वह बुड़बुड़ाया, “कराहो यदि तुम चाहो तो। मैं यह सब कुछ अपने खुद के आनन्द के लिए नहीं कर रहा हूँ। वास्तव में, मैं भी नहीं जानता कि मैं यह क्यों कर रहा हूँ।”)

The door opened and there was Hana again. “Where is the anesthetic?” she asked in a clear voice. Sadao motioned with his chin. “It is as well that you came back,” he said. “This fellow is beginning to stir.” She had the bottle and some cotton in her hand. “But how shall I do it?” she asked. “Simply saturate the cotton and hold it near his nostrils”, Sadao replied without delaying for one moment the intricate detail of his work. “When he breathes badly move it away a little.”

(दरवाजा खुला और हाना फिर वहाँ आ गई। “बेहोशी की दवा कहाँ है?” उसने स्पष्ट आवाज में पूछा। सदाओ ने अपनी ठोढ़ी से इशारा किया। “अच्छा हुआ कि तुम वापस आ गई”, वह बोला, “यह आदमी हिलने लगा है।” उसके हाथ में एक बोतल और कुछ रुई थी। “पर मैं करूँ कैसे?” उसने पूछा। “बस रुई को भिगो लो और उसकी नाक के पास ले आओ,” अपनी जटिल क्रिया की एक क्षण भी रुके बिना सदाओ ने उत्तर दिया। “जब उसका साँस रुकने लगे, इसे थोड़ा दूर हटा देना।”)

She crouched close to the sleeping face of the young American. It was a piteously thin face, she thought, and the lips were twisted. The man was suffering whether he knew it or not. Watching him, she wondered if the stories they heard sometimes of the sufferings of prisoners were true. They came like flickers of rumour, told by word of mouth and always contradicted.

In the newspapers, the reports were always that wherever the Japanese armies went the people received them gladly, with cries of joy at their liberation. But sometimes she remembered such men as General Takima, who at home beat his wife cruelly, though no one mentioned it now that he had fought so victorious a battle in Manchuria. If a man like that could be so cruel to a woman in his power, would he not be cruel to one like this for instance?

(वह युवा अमेरिकन के सोते हुए चेहरे के पास झुकी। यह कारुणिक रूप से पतला चेहरा है, उसने सोचा और होठ मुड़े हुए थे। उसे पता हो या न हो पर वह कष्ट में था। उसे देखकर वह सोच रही थी कि बंदियों के कष्टों के बारे में जो कहानियाँ कभी-कभी सुनी जाती हैं, कहीं वे सच तो नहीं। वे हल्की अफवाहों की तरह आती हैं, एक मुँह से दूसरे मुँह तक और सदा विरोधी होती हैं। अखबारों में तो सदा यही खबर होती थी कि जहाँ भी जापानी सेना जाती थी लोग अपनी आजादी की खुशी के नारे लगाते हुए, बड़ी खुशी से उनका स्वागत करते थे। पर कभी-कभी उसे जनरल टकीमा जैसे लोगों की याद आती थी, जो घर पर बड़ी निर्दयता से अपनी पत्नी को पीटता था, हालांकि अब कोई इस बात का जिक्र नहीं करता था क्योंकि उसने मनचुरिया की एक बड़ी लड़ाई में विजय प्राप्त की थी। अगर उस जैसा कोई व्यक्ति अपने अधीन रहने वाली औरत के प्रति इतना निर्दयी हो सकता है तो वह उदाहरण के लिए क्या इस जैसे व्यक्ति के प्रति निर्दयी नहीं हो सकता?)

She hoped anxiously that this young man had not been tortured. It was at this moment that she observed deep red scars on his neck, just under the ear. “Those scars,” she murmured, lifting her eyes to Sadao.
(वह बड़ी चिन्ता से कामना करने लगी कि इस युवक को न सताया गया हो। बिल्कुल इसी क्षण उसने उसकी गर्दन पर बिल्कुल उसके कान के नीचे लाल घाव का निशान देखा। “वे घाव के निशान,” वह बुड़बुड़ाई और उसने सदाओ की ओर आँखें उठाईं।)

But he did not answer. At this moment he felt the tip of his instrument strike against something hard, dangerously near the kidney. All thought left him. He felt only the purest pleasure. He probed with his fingers, delicately, familiar with every atom of this human body. His old American professor of anatomy had seen to that knowledge. “Ignorance of the human body is the surgeon’s cardinal sin, sirs!” he had thundered at his classes year after year. “To operate without as complete knowledge of the body as if you had made it anything less than that is murder.”

(मगर उसने उत्तर नहीं दिया। इसी क्षण उसे लगा कि उसके औजार का सिरा किसी कठोर चीज से टकराया है जो खतरनाक रूप से गुर्दे के बिल्कुल पास था। वह अब पूरी तरह निर्विचार था। उसे केवल शुद्धतम आनन्द की अनुभूति हुई। उसने बड़ी कोमलता से अपनी उन उँगलियों से टटोला जो इस मानव शरीर के हर परमाणु से परिचित थीं। शरीर विज्ञान के उसके बूढ़े अमेरिकन प्रोफेसर ने उस ज्ञान का ध्यान रखा था। “मानव शरीर का अज्ञान सर्जन का सबसे बड़ा पाप है, श्रीमान!” वर्ष प्रतिवर्ष वह अपनी कक्षाओं में गरजा करता था। “शरीर का ज्ञान ऐसा होना चाहिए जैसे उसे तुमने ही बनाया है-इससे कम कोई भी बात हत्या है।”)

“It is not quite at the kidney, my friend,” Sadao murmured. It was his habit to murmur to the patient when he forgot himself in an operation. “My friend,” he always called his patients and so now he did, forgetting that this was his enemy. Then quickly, with the cleanest and most precise of incisions, the bullet was out. The man quivered but he was still unconscious. Nevertheless, he muttered a few English words. “Guts,” he muttered, choking. “They got….my guts…” “Sadao!” Hana cried sharply. “Hush,” Sadao said.

(“यह पूरी तरह से गुर्दे पर नहीं है, मेरे दोस्त,” सदाओ बुड़बुड़ाया। यह उसकी आदत थी कि जब वह ऑप्रेशन करते हुए स्वयं को बिल्कुल भूल जाता तो वह मरीज से धीरे-धीरे बुड़बुड़ाता। वह सदा अपने मरीजों को “मेरे दोस्त” कहकर बुलाता था और अब भी उसने वैसा ही किया, यह भूलकर कि वह उसका शत्रु था। फिर शीघ्र, बिल्कुल साफ और एकदम सही कटाव के साथ, गोली बाहर आ गई थी। आदमी कांपा परन्तु वह अभी भी बेहोश था। तो भी उसने कुछ अंग्रेज़ी के शब्द बुड़बुड़ाए। “आंतें,” वह बुड़बुड़ाया, गला रुकते हुए। “उन्होंने……….मेरी आंतों……..को घायल कर दिया।” “सदाओ!” हाना जोर से चिल्लाई। “चुप,” सदाओ ने कहा।)

The man sank again into silence so profound that Sadao took up his wrist, hating the touch of it. Yes, there was still a pulse so faint, so feeble, but enough, if he wanted the man to live, to give hope. “But certainly I do not want this man to live,” he thought. “No more anesthetic,” he told Hana.

He turned as swiftly as though he had never paused and from his medicines he chose a small vial and from it filled a hypodermic and thrust it into the patient’s left arm. Then putting down the needle, he took the man’s wrist again. The pulse under his fingers fluttered once or twice and then grew stronger. “This man will live in spite of all,” he said to Hana and sighed.

(वह आदमी फिर से इतनी गहरी चुप्पी में डूब गया कि सदाओ को उसकी कलाई को पकड़ना पड़ा, हालांकि इसे छूने से नफरत करता था। हाँ, यहाँ अभी भी एक धुंधली-सी धड़कन थी, इतनी कमजोर, परन्तु काफी थी, यदि वह उस आदमी को जीवित रखना, उसको आशा देना चाहता है तो। “परन्तु अवश्य ही मैं नहीं चाहता कि यह आदमी जिए,” उसने सोचा। “और बेहोशी की दवा नहीं,” उसने हाना को कहा।

वह इतना जल्दी मुड़ा मानो वह कभी रुका ही नहीं था और उसकी दवाइयों में से उसने एक शीशी उठाई और इसमें से एक इंजेक्शन भरा और इसको मरीज की बाईं बाजू में लगा दिया। फिर सुई को रखते हुए, उसने उस आदमी की कलाई को फिर से पकड़ा। उसकी ऊँगली के नीचे नाड़ी एक या दो बार फड़फड़ाई और थोड़ी तेज हो गई। “हर बात के बावजूद यह आदमी जिएगा,” उसने हाना से कहा और गहरी साँस ली।)

The young man woke, so weak, his blue eyes so terrified when he perceived where he was, that Hana felt compelled to apologize. She herself served him, for none of the servants would enter the room. When she came in the first time, she saw him summon his small strength to be prepared for some fearful thing. “Don’t be afraid,” she begged him softly. “How come…..you speak English….” he gasped. “I was a long time in America,” she replied.

HBSE 12th Class English Solutions Vistas Chapter 4 The Enemy

(नवयुवक जागा, इतना कमजोर, उसकी नीली आँखें इतनी डरी हुई थीं जब उसने यह देखकर कि वह कहाँ है, कि हाना को लगा उसे क्षमा करना मजबूरी थी। उसने स्वयं उसकी सेवा की क्योंकि कोई नौकर उस कमरे में घुसने को तैयार न था। जब वह पहली बार अन्दर आई, उसने देखा कि वह अपनी क्षुद्र शक्ति को एकत्रित कर किसी भयावह चीज के लिए तैयार था। “डरो मत,” कोमल आवाज में उसने विनती की। “अरे……तुम अंग्रेज़ी बोलती हो….” उसने हैरान होकर कहा। “मैं लम्बे समय तक अमेरिका में रही हूँ”, उसने उत्तर दिया।)

She saw that he wanted to reply to that but he could not, and so she knelt and fed him gently from the porcelain spoon. He ate unwillingly, but still he ate. “Now you will soon be strong,” she said, not liking him and yet moved to comfort him. He did not answer.

(उसने देखा कि वह उसकी बात का उत्तर देना चाहता था पर ऐसा कर नहीं सका, और इसलिए वह झुकी और कोमलता से उसे चीनी के चम्मच से खाना खिलाया। उसने चाहे अनिच्छापूर्वक खाया, पर खाया। “अब तुम शीघ्र ही शक्ति पा लोगे,” उसे पसन्द न करते हुए और फिर भी उसे तसल्ली देने के लिए वह बोली। उसने कोई उत्तर नहीं दिया।)

When Sadao came in the third day after the operation, he found the young man sitting up, his face bloodless with the effort.
“Lie down,” Sadao cried. “Do you want to die ?̶