HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 5 The Happy Prince

Haryana State Board HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 5 The Happy Prince Textbook Exercise Questions and Answers.

Haryana Board 9th Class English Solutions Moments Chapter 5 The Happy Prince

HBSE 9th Class English The Happy Prince Textbook Questions and Answers

Think about It

Question 1.
Why do the courtiers call the prince ‘The Happy Prince’? Is he really happy? What does he see all around him?
(दरबारी लोग राजकुमार को प्रसन्न राजकुमार’ क्यों कहते हैं? क्या वह सचमुच ही प्रसन्न है? वह अपने चारों ओर क्या देखता है?)
Answer:
The Prince lives in the palace, where sorrow is not allowed to enter. He does not know what tears are. He is really happy. He sees beautiful things all around him which make him happy. So the courtiers call him ‘The Happy Prince’.

(राजकुमार महल में रहता है, जहाँ पर दुःख को प्रवेश करने की अनुमति नहीं होती है। उसे नहीं पता कि आँसू क्या होते हैं। वह सचमुच ही प्रसन्न है। वह अपने चारों ओर सुंदर चीजें देखता है जो उसे प्रसन्न करती रहती हैं। इसलिए दरबारी लोग उसे ‘प्रसन्न राजकुमार’ कहते हैं।)

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 5 The Happy Prince

Question 2.
Why does the Happy Prince send a ruby for the seamstress? What does the swallow do in the seamstress house? |
(प्रसन्न राजकुमार दर्जिन के लिए एक मणिक क्यों भेजता है? अबाबील दर्जिन के घर में जाकर क्या करती है?)
Answer:
The seamstress is a very poor lady. Her son has a fever. He is asking his mother to give him oranges. She has nothing to give him but river water. The boy is crying. So the Happy Prince sends a ruby for the seamstress. The little swallow takes the ruby from the Prince’s sword and flies away with it. He reaches the poor woman’s house and goes in. He puts the ruby on the table and flies round the boy’s bed fanning him with his wings.

(दर्जिन एक बहुत ही गरीब महिला है। उसका बेटा बहुत बीमार है। वह अपनी माँ से संतरे माँग रहा है। लेकिन उसके पास उसे नदी का पानी देने के सिवाय और कुछ नहीं है। लड़का रो रहा है। इसलिए प्रसन्न राजकुमार दर्जिन के लिए एक मणिक भेजता है। छोटी अबाबील राजकुमार. की तलवार में से हीरा निकाल लेती है और उसे लेकर उड़ जाती है। वह गरीब महिला के घर पहुंचती है और अंदर घुस जाती है। वह हीरे को मेज पर रख देती है और लड़के के बिस्तर के चारों ओर उड़कर अपने पंखों से उसे हवा देती है।)

Question 3.
For whom does the prince send the sapphires and why?
(राजकुमार नीलम किसके लिए भेजता है और क्यों?)
Answer:
The Happy Prince had two beautiful sapphires as eyes. He sends one sapphire to a poor student. The student is so hungry and cold that he cannot do any work more. The prince sends the other sapphire to a little matchgirl. All her matches are spoiled because they fell into the gutter. Her father will beat her if she goes home without any money.

(प्रसन्न राजकुमार के पास आँखों के स्थान पर दो सुंदर नीलम लगे हुए थे। एक नीलम को वह एक गरीब विद्यार्थी के पास भेजता है। वह विद्यार्थी इतना भूखा और ठंडक महसूस कर रहा है कि वह कोई काम नहीं कर सकता है। राजकुमार दूसरा नीलम माचिस बेचने वाली एक लड़की के लिए भेजता है। नाले में गिर जाने के कारण उसकी सारी माचिसें खराब हो गई हैं। यदि वह बिना पैसों के घर गई तो उसका पिता उसे पीटेगा।)

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 5 The Happy Prince

Question 4.
What does the swallow see when it flies over the city?
(जब अबाबील उड़कर के शहर के ऊपर से जाती है तो वह क्या देखती है?)
Answer:
The swallow flies over the city on the request of the Happy Prince. He sees the rich making merry in their beautiful houses, while the beggars sitting at the gates. He sees white faces of starving children in the dark lanes. Under the archway of a bridge, he sees two hungry children.

(प्रसन्न राजकुमार के निवेदन पर अबाबील शहर के ऊपर से उड़ान भरती है। वह अमीरों को अपने सुंदर घरों के अंदर खुशियाँ मनाते हुए देखती है, जबकि भिखारी उनके द्वार पर बैठे हुए हैं। अंधेरी गलियों में भुखमरी के शिकार बच्चों के सफेद चेहरों को देखती है। एक पुल के नीचे वह दो भूखे बच्चों को देखती है।)

Question 5.
Why did the swallow not leave the prince and go to Egypt?
(अबाबील राजकुमार को छोड़कर मिस्र देश क्यों नहीं जाती है?)
Answer:
The Prince had given the sapphires of his eyes to poor people. Now he was blind. The swallow felt sad for him. He loved him for his kindness. So he decided to stay with him forever.

(राजकुमार ने अपनी आँखों के नीलम गरीब लोगों को दे दिए थे। अब वह अंधा था। अबाबील इस पर उदास हो गई। वह उसे उसकी दयालुता के लिए प्यार करती थी। इसलिए उसने सदा के लिए उसके पास रहने का फैसला किया।)

Question 6.
What are the precious things mentioned in the story? Why are they precious?
(कहानी में वर्णित मूल्यवान वस्तुएँ कौन-सी हैं? वे मूल्यवान क्यों हैं?)
Answer:
The leaden heart of the Happy Prince and the dead body of the little swallow are the precious things mentioned in the story. They are precious because the little bird shall sing sweet songs for ever in God’s garden of Paradise and the Happy Prince shall praise Him.

(प्रसन्न राजकुमार का सीसे से बना हुआ दिल तथा छोटी अबाबील का मृत शरीर इस कहानी में वर्णित दो महत्त्वपूर्ण वस्तुएँ हैं। वे मूल्यवान इसलिए हैं क्योंकि छोटा पक्षी तो हमेशा के लिए भगवान के उपवन में मधुर गीत गाएगा और प्रसन्न राजकुमार भगवान की प्रशंसा करेगा।)

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 5 The Happy Prince

Talk about It

Question 1.
The little swallow says, “It is curious, but I feel quite warm now, although it is so cold.” Have you ever had such a feeling? Share your experience with your friends.
Answer:
It was the day of 6th January. I was on my way to school. I was going on my bicycle. An old man was also going ahead me on his bicycle. All of a sudden a stray cow came running and hit the old man’s bicycle very hard. The old man fell on the road. The handle of his bicycle hit hard on his head and it started bleeding. I got down of my bicycle and put him in a cycle rickshaw to the civil hospital. The doctor gave him an emergency treatment. His life was saved. Someone reported the matter to my school Principal. He honoured me in the morning assembly. It was a cold day but at that moment I was feeling quite warm. It was the warmness of doing a good deed.

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 5 The Happy Prince

 

Very Short Answer Type Questions

Question 1.
Where did the statue of the Happy Prince stand?
Answer:
The statue of the Happy Prince stood, high above the city on a tall column.

Question 2.
How did the statue of the Happy Prince look?
Answer:
He was gilded all over with thin leaves of fine gold.

Question 3.
What did the statue have for eyes?
Answer:
The statue had two bright sapphires for eyes.

Question 4.
What was there on the statue’s sword hilt?
Answer:
A large red ruby glowed on his sword hilt.

Question 5.
Where was the little swallow going?
Answer:
The little swallow was going to Egypt.

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 5 The Happy Prince

Question 6.
Where did the little swallow decide to spend his night?
Answer:
The little swallow decided to spend his night under the statue of the Happy Prince.

Question 7.
What made the statue of the Happy Prince shed tears?
Answer:
The miserable condition of the people of his city made the statue shed tears.

Question 8.
When the Happy Prince was alive what did he not know?
Answer:
When the Happy Prince was alive he did not know what tears were.

Question 9.
What work did the old woman do for whom the Happy Prince sent the ruby from his sword hilt?
Answer:
She was a seamstress.

Question 10.
What was the old woman’s son suffering from?
Answer:
He was suffering from fever.

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 5 The Happy Prince

Question 11.
What was wrong with the playwright?
Answer:
He was faint with hunger.

Question 12.
What did the Happy Prince send for the playwright?
Answer:
He sent a sapphire to the playwright.

Question 13.
Why was the matchgirl crying?
Answer:
The matchgirl was crying because all her matches had fallen into a gutter.

Question 14.
What happened to the little swallow ultimately?
Answer:
The little swallow died at the feet of the Happy Prince.

Question 15.
Why did the little swallow refuse to go away to Egypt leaving the Happy Prince alone?
Answer:
The little swallow refused to go away to Egypt leaving the Happy Prince alone because now the statue had become blind.

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 5 The Happy Prince

Question 16.
What happened to the statue when the little swallow died?
Answer:
At that moment a curious crack sounded inside the statue, as if something had broken.

Question 17.
What are the precious things mentioned in the story?
Answer:
The precious things mentioned in the story are the dead little swallow and the broken heart of the Happy Prince.

Short Answer Type Questions

Question 1.
Describe the statue of the Happy Prince.
(प्रसन्न राजकुमार की मूर्ति का वर्णन करो।)
Answer:
The statue of the Happy Prince stood on a tall pillar. He was covered with gold. He had two bright sapphires for his eyes. He had a large ruby on the hilt of his sword.

(प्रसन्न राजकुमार की मूर्ति एक ऊँचे स्तंभ पर थी। वह सोने से ढकी हुई थी। उसकी आँखों के स्थान पर दो चमकते हुए नीलम थे। उसकी तलवार की मूठ पर एक बड़ा मणिक था।)

Question 2.
What made the statue of the Happy Prince cry?
(प्रसन्न राजकुमार की मूर्ति किस बात पर रोई?)
Answer:
The statue of the Happy Prince was on a high pillar. He could see the sorrows and misery of people. He saw a seamstress. Her son was ill. But she had nothing to give her except the river water. This made the Happy Prince cry.

(प्रसन्न राजकुमार की मूर्ति एक ऊँचे स्तंभ पर थी। वह लोगों के दुःख और कष्ट देख सकता था। उसने दर्जिन को देखा। उसका बेटा बीमार था। मगर उसके पास उसे देने के लिए नदी के पानी के सिवाय कुछ नहीं था। इस पर प्रसन्न राजकुमार रोने लगा।)

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 5 The Happy Prince

Question 3.
Why was the statue called the Happy Prince?
(मूर्ति को प्रसन्न राजकुमार क्यों कहा जाता था?)
Answer:
This was the statue of a Prince. When he was alive he lived in a palace. He did not know what tears were. There was no sorrow in his life. He was always happy. He lived and died as a Happy Prince. So his statue was called the Happy Prince.

(यह एक राजकुमार की मूर्ति थी। जब वह जीवित था तो वह एक महल में रहता था। वह नहीं जानता था कि आँसू क्या होते हैं। उसके जीवन में कोई गम नहीं था। वह सदा प्रसन्न रहता था। वह एक प्रसन्न राजकुमार की तरह जिया और मरा । इसलिए मूर्ति को प्रसन्न राजकुमार कहा जाता था।)

Question 4.
Why did the Happy Prince request the swallow to stay with him for the night?
(प्रसन्न राजकुमार ने अबाबील को रात को रहने की प्रार्थना क्यों की?)
Answer:
The Happy Prince was very kind. He saw that the poor seamstress was very sad. Her son was ill. She had nothing to give him except the river water. The Happy Prince wanted to help her. He wanted to send her a ruby. But he could not move. So he requested the swallow to stay with him for the night.

(प्रसन्न राजकुमार बहुत दयालु था। उसने देखा कि गरीब दर्जिन बहुत उदास थी। उसका बेटा बीमार था। उसके पास उसे देने के लिए नदी के पानी के सिवाय और कुछ नहीं था। प्रसन्न राजकुमार उसकी सहायता करना चाहता था। वह उसे मणिक भेजना चाहता था। मगर वह हिल नहीं सकता था। इसलिए उसने अबाबील से प्रार्थना की कि वह उसके पास रात को रुक जाए।)

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 5 The Happy Prince

Question 5.
How did the swallow give comfort to the son of the seamstress?
(अबाबील.ने दर्जिन के बेटे को आराम कैसे पहुँचाया?)
Answer:
The swallow came to the house of the seamstress. He found that her son was suffering from fever. He took pity on him. He fanned the boy with his wings. The son felt comfort. He fell asleep.

(अबाबील दर्जिन के घर आई। उसने देखा कि उसका बेटा बुखार से पीड़ित है। उसे उस पर तरस आ गया। उसने लड़के को अपने पंखों से हवा की। लड़के को आराम महसूस हुआ। वह सो गया।)

Question 6.
What was the last wish of the swallow?
(अबाबील की अंतिम इच्छा क्या थी?)
Answer:
The swallow knew that her end had come. He flew on to the shoulder of the Happy Prince and said, “I wish to kiss your hand.” The Happy Prince asked him to kiss him on the lips. He kissed on his lips and then died.

(अबाबील जानती थी कि उसका अंत आ गया है। वह उड़कर प्रसन्न राजकुमार के कंधे पर आई और उससे बोली, “मैं आपका हाथ चूमना चाहती हूँ।” प्रसन्न राजकुमार ने उसे उसके होंठों को चूमने को कहा। उसने उसे होंठों पर चूमा और फिर मर गई।)

Essay Type Questions

Question 1.
Why did the Happy Prince send a ruby to the seamstress?
(प्रसन्न राजकुमार ने दर्जिन को मणिक क्यों भेजा?)
Answer:
The Happy Prince was very kind. He saw the ugliness and misery of his city. He saw a small house. In this house there lived a poor woman. She was a seamstress. Her face was thin. She looked tired. Her hands were rough. There were needle marks on them. She was embroidering flowers on a satin gown. Her son was ill. He wanted to eat oranges. But the woman was very poor. She could not gave him anything except the river water. She could not leave the gown. The queen’s maid had to wear it at the next court ball. The Happy Prince felt pity for the poor woman and his son. He wanted to help them. So he sent a ruby to her.

(प्रसन्न राजकुमार बहुत दयालु था। उसने शहर की गंदगी और गरीबी को देखा। उसने एक छोटे घर को देखा। उस घर में एक गरीब स्त्री रहती थी। वह एक दर्जिन थी। उसका चेहरा पतला था। वह थकी हुई लगती थी। उसके हाथ खुरदरे थे। उन पर सुइयों के निशान थे। वह एक साटिन के गाउन पर फूलों की कढ़ाई कर रही थी। उसका बेटा बीमार था। वह संतरे खाना चाहता था। मगर स्त्री बहुत गरीब थी। वह उसे नदी के पानी के अलावा कुछ नहीं दे सकती थी। वह गाउन नहीं छोड़ सकती थी। उसे रानी की सखी ने दरबार के अगले नृत्य में पहनना था। प्रसन्न राजकुमार को गरीब स्त्री एवं उसके बेटे पर तरस आया। वह उनकी सहायता करना चाहता था। इसलिए उसने उसके पास मणिक भेजा।)

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 5 The Happy Prince

Question 2.
Why did the Happy Prince request the swallow to stay for another day?
(प्रसन्न राजकुमार ने अबाबील को एक दिन और रुकने की प्रार्थना क्यों की?)
Answer:
The Happy Prince was on a tall column. From there he could see the miseries of people. He wanted to help the poor. But he could not move. The Prince wanted to help a poor seamstress. He sent a ruby to her through the swallow. Then the Prince saw a playwright. He was leaning on his desk. He was very handsome. His hair was brown and crisp. He was trying to finish a play. But he was feeling very cold. He had no firewood to keep himself warm. The Prince wanted to help him. He wanted to send one of the sapphires of his eyes to the young man. So he requested the swallow to stay for another day.

(प्रसन्न राजकुमार एक ऊँचे स्तंभ पर था। वहाँ से वह लोगों के कष्टों को देख सकता था। वह गरीबों की सहायता करना चाहता था। मगर वह हिल नहीं सकता था। राजकुमार एक गरीब दर्जिन की सहायता करना चाहता था। उसने अबाबील के द्वारा उसके पास एक मणिक भेजा। तब राजकुमार ने एक नाटककार को देखा। वह अपने मेज पर झुका हुआ था। वह बहुत सुंदर था। उसके बाल भूरे एवं धुंघराले थे। वह एक नाटक पूरा करने का प्रयत्न कर रहा था। मगर उसे बहुत ठंड लग रही थी। उसके पास स्वयं को गर्म रखने के लिए जलाने वाली लकड़ी नहीं थी। राजकुमार उसकी सहायता करना चाहता था। वह उस युवा व्यक्ति के पास अपनी आँखों का एक नीलम भेजना चाहता था। इसलिए उसने अबाबील से प्रार्थना की कि वह एक दिन और रुक जाए।)

Question 3.
Describe the sufferings of the poor people in the city. How did the Happy Prince help them?
(शहर के गरीब लोगों के कष्टों का वर्णन करो। प्रसन्न राजकुमार ने किस प्रकार उनकी सहायता की?)
Answer:
The life of poor people in the city was miserable. The Happy Prince saw their sorrows and sufferings. There was a poor seamstress. She was sad and tired. Her son was ill. But she had nothing to give him except the river water. In another house, there lived a poor playwright. He had no wood to keep himself warm. There was a little matchgirl. She had no shoes or stockings. The Prince also saw the homeless and sad children.

They were hungry and were shivering with cold. The Prince felt pity for them. He sent the ruby to the poor woman. He sent one sapphire each to the young man and the matchgirl. He sent all the gold of his body to these children. Now they could buy bread and were happy. Thus the Happy Prince helped the poor and sad people of his city.

(शहर के गरीब लोग बहुत दुःखी थे। प्रसन्न राजकुमार ने उनके दुःखों और कष्टों को देखा। वहाँ एक गरीब दर्जिन थी। वह उदास और थकी हुई थी। उसका बेटा बीमार था। मगर उसके पास उसे देने के लिए नदी के पानी के अलावा कुछ नहीं था। एक अन्य घर में, एक गरीब नाटककार रहता था। उसके पास स्वयं को गर्म रखने के लिए लकड़ी नहीं थी। एक माचिस वाली लड़की थी। उसके पास जूते और जुराबें नहीं थीं।

राजकुमार ने बेघर और उदास बच्चे भी देखे। वे भूखे थे और ठंड से काँप रहे थे। राजकुमार को उन पर तरस आ गया। उसने गरीब स्त्री के पास मणिक भेजा। उसने युवा व्यक्ति और माचिस वाली लड़की के पास एक-एक नीलम भेजा। उसने अपने शरीर का सारा सोना इन बच्चों के पास भेज दिया। अब वे रोटी खरीद सकते थे और प्रसन्न थे। इस प्रकार प्रसन्न राजकुमार ने अपने शहर के गरीब और उदास लोगों की सहायता की।)

Question 4.
What happened to the statue of the Prince and the swallow in the end?
(अंत में राजकुमार की मूर्ति और अबाबील का क्या हुआ?)
Answer:
The swallow and the Happy Prince became friends. The swallow loved the Prince for his kindness. He decided not to go away. The Prince sent his ruby and the sapphires of his eyes to the poor people. He sent the gold of his body to the poor children. Now he was blind and ugly. Then winter came. The little swallow felt very cold. But he did not leave the Prince.

One day, the swallow died. The leaden heart of the Prince broke in two. The next day, the statue was pulled down. It was melted in a furnace. But leaden heart did not melt. It was thrown on a dust heap. The dead body of the swallow was also lying there. God sent his angel to bring the two most precious things from the city. The angel brought him the leaden heart of the Prince and the dead body of the swallow.

(अबाबील और प्रसन्न राजकुमार मित्र बन गए। अबाबील को राजकुमार से उसकी दयालुता के कारण प्यार हो गया। उसने वहाँ से न जाने का निर्णय लिया। राजकुमार ने अपना मणिक और आँखों के नीलम गरीब लोगों के पास भेज दिए। उसने अपने शरीर का सोना गरीब बच्चों के पास भेज दिया। अब वह अंधा और भद्दा था। तब सर्दी आ गई। छोटी अबाबील को बहुत ठंड लगी। मगर उसने राजकुमार को नहीं छोड़ा।

एक दिन अबाबील मर गया। राजकुमार का सीसे का दिल टूट गया। अगले दिन मूर्ति को पिघला दिया गया। इसे एक भट्ठी में पिघलाया गया। मगर सीसे का दिल नहीं पिघला। इसे एक ढेर पर फेंक दिया गया। अबाबील का मृत शरीर भी वहीं पड़ा था। भगवान ने अपने फरिश्ते को उस शहर से दो सबसे बहुमूल्य वस्तुएँ लाने भेजा। फरिश्ता उसके पास राजकुमार का सीसे का दिल और अबाबील का मृत शरीर ले आया।)

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 5 The Happy Prince

Question 5.
Draw a brief character sketch of the Happy Prince.
(प्रसन्न राजकुमार का संक्षिप्त चरित्र-चित्रण करो।)
Answer:
The Happy Prince was a statue. He stood on a tall pillar. He had two sapphires for his eyes. His. body was covered with leaves of gold. There was a large red ruby on his sword hilt. When he was alive he was very happy. He did not know any sorrow or misery.

People called him the Happy Prince. After his death, he was set on a high pillar. Now he could see poverty and misery all around him. His heart was filled with pity.

He tried to help the poor people. He sent the ruby to the poor seamstress. He sent the sapphires of his eyes to the playwright and the match girl. He sent the gold of his body to the poor and hungry children. He loved the swallow. When the swallow died his heart broke. Thus the Happy Prince was a kind and loving man.

(प्रसन्न राजकुमार एक मूर्ति था। वह एक ऊँचे स्तंभ पर खड़ा था। उसकी आँखों के स्थान पर दो नीलम थे। उसका शरीर सोने की परतों से ढका हुआ था। उसके तलवार की मूठ पर एक लाल मणिक था। जब वह जीवित था तो बहुत प्रसन्न था। वह किसी दुःख या कष्ट को नहीं जानता था। लोग उसे प्रसन्न राजकुमार कहते थे।

उसकी मृत्यु के बाद, उसे एक ऊँचे स्तंभ पर लगा दिया गया। अब वह अपने चारों ओर गरीबी और कष्ट देख सकता था। उसका दिल करुणा से भर गया। उसने गरीब लोगों की सहायता करने का प्रयत्न किया। उसने गरीब दर्जिन के पास मणिक भेजा।

उसने अपनी आँखों के नीलम नाटककार तथा माचिस वाली लड़की को भेज दिए। उसने अपने शरीर का सोना गरीब और भूखे बच्चों को भेज दिया। वह अबाबील से प्यार करता था। जब अबाबील मरा तो उसका दिल टूट गया। इस प्रकार प्रसन्न राजकुमार दयालु एवं प्रिय व्यक्ति था।)

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 5 The Happy Prince

Question 6.
Give a brief character-sketch of the swallow.
(अबाबील का संक्षिप्त चरित्र-चित्रण करो।)
Answer:
The little swallow plays an important role in this story. He was going to Egypt. His friends were waiting for him. But the Prince requested him to stay for one day more. He agreed. At the request of the Prince, he took the ruby to the seamstress. He took the sapphires of the Prince’s eyes to the young man and the poor girl. Now the Prince was blind. So he decided to stay with the Prince.

The swallow had a kind heart. He fanned the son of the poor woman and gave him comfort. Then winter came. The swallow lived in the snow. He had only crumbs to eat. But he did not leave the Prince. One day the swallow died. But even death could not separate him from the prince. The angel of God took the swallow and the Prince’s heart to paradise.

(छोटी अबाबील इस कहानी में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। वह मिस्र में जा रही थी। उसके मित्र उसका इंतजार कर रहे थे। मगर राजकुमार ने उसे एक दिन और रुकने को कहा। वह मान गई। राजकुमार की प्रार्थना.पर, वह मणिक को दर्जिन के पास ले गई। वह राजकुमार की आँखों के नीलम, युवा व्यक्ति और गरीब लड़की के पास ले गई।

अब राजकुमार अंधा हो गया था। इसलिए उसने राजकुमार के पास सदा रहने का फैसला किया। अबाबील का दिल दयालु था। उसने गरीब स्त्री के बेटे को पंखा किया और उसे आराम पहुँचाया। तब सर्दी आ गई। अबाबील बर्फ में रही। उसके पास खाने के लिए केवल रोटी के टुकड़े थे। मगर उसने राजकुमार को नहीं छोड़ा। एक दिन अबाबील मर गई। मगर मौत भी उसे राजकुमार से अलग नहीं कर पाई। भगवान का फरिश्ता अबाबील और राजकुमार के दिल को स्वर्ग में ले गया।)

Multiple Choice Questions

Question 1.
Where did the statue of the Happy Prince stand?
(A) in the palace
(B) on a tall building
(C) on a tall column
(D) in a park
Answer:
(C) on a tall column

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 5 The Happy Prince

Question 2.
What was the body of the Happy Prince gilded with?
(A) flowers
(B) silver leaves
(C) thin leaves of brass
(D) thin leaves of gold
Answer:
(D) thin leaves of gold

Question 3.
What were his eyes made of?
(A) sapphires
(B) ruby
(C) diamond
(D) glass
Answer:
(A) sapphires

Question 4.
Where was the little swallow going?
(A) to Egypt
(B) to India
(C) to Cylone
(D) to Syria
Answer:
(A) to Egypt

Question 5.
Where did the swallow decide to spend the night?
(A) under a chimney
(B) in a house
(C) in the king’s palace
(D) between the feet of the statue
Answer:
(D) between the feet of the statue

Question 6.
What happened as the little swallow was going to sleep?
(A) a cool breeze blew
(B) the clouds thundered
(C) a large drop of water fell on him
(D) the statue began to shake
Answer:
(C) a large drop of water fell on him

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 5 The Happy Prince

Question 7.
How many drops of water fell on the little swallow from the eyes of the Happy Prince?
(A) one
(B) two
(C) three
(D) four
Answer:
(C) three

Question 8.
Why was the Happy Prince weeping?
(A) to see the condition of the little swallow town
(B) to see the sorrows and sufferings of the people of his
(C) to see his ugly body
(D) none of these
Answer:
(B) to see the sorrows and sufferings of the people of his

Question 9.
When the Happy Prince was alive; he did not know what
(A) joys
(B) amusements
(C) tears
(D) blessings
Answer:
(C) tears

Question 10.
What did his courtiers call him when he was alive?
(A) The Happy Prince
(B) Maharaja
(C) Yuvraj
(D) Lord
Answer:
(A) The Happy Prince

Question 11.
What was his heart made of?
(A) gold
(B) diamond
(C) silver
(D) lead
Answer:
(D) lead

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 5 The Happy Prince

Question 12.
What was the profession of the woman who was sitting in her cottage with prickled hands?
(A) seamstress
(B) cake-making
(C) charwoman
(D) none of these
Answer:
(A) seamstress

Question 13.
What was the seamstress’s ailing son asking for?
(A) bread
(B) medicines
(C) oranges
(D) drinking water
Answer:
(C) oranges

Question 14.
What does the Happy Prince ask the little swallow to take to the poor lady?
(A) an orange
(B) a sapphire
(C) a ruby
(D) a bag of coins
Answer:
(C) a ruby

Question 15.
Which country does the river Nile belong to?
(A) England
(B) India
(C) South Africa
(D) Egypt
Answer:
(D) Egypt

Question 16.
Where did the little swallow take the ruby to?
(A) to the palace
(B) to the seamstress house
(C) to Egypt
(D) nowhere
Answer:
(B) to the seamstress’ house

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 5 The Happy Prince

Question 17.
Where were the white marble angles scluptured?
(A) in the palace
(B) near the palace
(C) in the cathedral tower
(D) in the seamstress’s house
Answer:
(C) in the cathedral tower

Question 18.
Why was the boy tossing on the bed?
(A) because of fever
(B) because of hunger
(C) because of cold
(D) because of thirst
Answer:
(A) because of fever

Question 19.
When the little swallow returned to the Happy Prince after giving a ruby to the seamstress how was he feeling?
(A) cold
(B) painful
(C) dissatisfied and tired
(D) warm and happy
Answer:
(D) warm and happy

Question 20.
What was the trouble to the playwright?
(A) he was sick
(B) he was cold and hungry
(C) he was dull and boring
(D) he had no work to do.
Answer:
(B) he was cold and hungry

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 5 The Happy Prince

The Happy Prince Summary

The Happy Prince Introduction in English

The Happy Prince was a beautiful statue. This statue was on a tall pillar. The prince was covered with gold. There were two sapphires in place of his eyes. He had a ruby in his sword hilt. He could see all around the city. When he was alive, he lived in a palace. He was always happy. He had not seen the miseries of life. But now he could see miseries around him. He saw the hungry and the homeless. He was very sad. He was filled with pity.

One day, a swallow came there. He saw the prince in tears. The prince told him that he wanted to help the poor and sad people. He sent his ruby and the sapphires of his eyes to the poor people. Now he was blind. He sent his gold also. Now he looked ugly. The swallow began to love the prince. The winter came but the swallow did not go away. He lived with the prince.

One day, the swallow died. This broke the leaden heart of the statue. The statue was no longer beautiful. It was melted in a furnace. But the leaden heart did not melt. It was thrown in the dust heap. The dead swallow was also lying there. God sent one of his angels to bring the two most precious things. He took the dead swallow and the leaden heart to God. Both these things were really fit for paradise.

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 5 The Happy Prince

The Happy Prince Summary in English

The Happy Prince was a beautiful statue. This statue was on a tall pillar. The Happy Prince was covered with leaves of gold. There was a ruby on the hilt of his sword. His eyes were made of sapphires.

One day a swallow came to the Prince. He was going to Egypt. He flew all the day long. At night he arrived at the city. He saw the statue of the Happy Prince. He decided to spend the night there. So he alighted between the feet of the Happy Prince. He was about to go to sleep. Suddenly a few drops of water fell on him. He looked up. He found that there were tears in the eyes of the Happy Prince. The swallow asked the Happy Prince why he was weeping. The Prince told him his tale.

He told the swallow that once he lived in a palace. He was very happy. He had not seen any poverty. He did not know what sorrow. was. His courtiers called him Happy Prince. After his death, his statue was set up on a tall pillar. Now he could see the city and its misery. He could see sorrows around him. This misery made him sad.

The Prince told the swallow that there was a poor house in a little street. In this house, a poor woman lived. She was a seamstress. There were needle marks on her hands. She was embroidering flowers on a satin gown. This gown belonged to the queen’s loveliest maid. She was to wear it at the court ball. The seamstress’ son was ill. He was crying for oranges. But his mother was too poor to buy oranges for him.

The Happy Prince wanted to help the woman. But he could not move. So he requested the swallow to remove the ruby from his sword and take it to the poor woman: The swallow said that he was going to Egypt. His friends were waiting for him. The Prince asked him to stay for one night more. The swallow agreed. He removed the ruby from the sword. He took it to the woman’s house. He put the ruby on the table. He fanned the boy’s forehead with his wings. The boy fell asleep and slept peacefully.

Then the swallow came back to the Prince. It was quite cold, but the swallow felt warm. The Prince told him that it was the warmth of his good action The next night the swallow went to say goodbye to the Prince. But he requested the swallow to stay for one more night. Now he wanted to help a young man. He was very poor. He was trying to write a play for the Director of the Theatre.

It was very cold. He had no firewood to keep him warm. The Prince asked the swallow to take a eyes and take it to the young man. The swallow began to weep. But the Prince ordered him to take his sapphire to the young man. The swallow obeyed the Prince. He took the sapphire to the young.

I looked at the sapphire. He became very happy. He hoped to finish the play now W. At night, the swallow went to the Prince. Now he wanted to take leave of him. But the Prince requested him to stay for one more night. Now he wanted to help a poor match girl.

All her matches had fallen into the gutter. She father would beat her if she did not bring any money home. She had no shoes or stockings. Her it would make him completely blind. But he had to obey the Prince. He took the sapphire to the girl. She became happy. Now the Prince had become blind. So the swallow decided to stay with the prince for ever.

The Prince asked the swallow to fly over the city and tell him what he saw there. The swallow saw that the rich were making merry. But the poor were miserable. He saw hungry children. There were two boys. They were lying in each other’s arms. They were trying to keep each other warm.

The swallow told all this to the Prince. The Prince told the swallow to take off his gold leaves one by one. He should distribute these among the poor and suffering people. The swallow obeyed the Prince. The poor children got food and clothes. They became happy. But the Prince looked ugly.

Soon there was snow. The little swallow felt very cold. But he did not leave the Prince. He tried to keep himself warm. But one day his end came. He kissed the Happy Prince and fell down dead. The Prince became very sad. The leaden heart of the Prince broke in two.

The next morning the Mayor of the city passed that way. He looked at the statue of the Happy Prince. It looked ugly. The statue was no longer useful. He ordered it to be pulled down. It was melted in a furnace. But the leaden heart did not melt. So it was thrown into a dust heap. The dead swallow was also lying there.

God sent one of his angels to bring him the two most precious things from the city. The angel brought him the dead swallow and the leaden heart of the Prince. God praised the angel for his choice. He said that these two things were fit for Paradise.

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 5 The Happy Prince

The Happy Prince Introduction in Hindi

प्रसन्न राजकुमार एक सुंदर मूर्ति था। यह मूर्ति एक ऊँचे स्तंभ पर थी। राजकुमार सोने से ढका हुआ था। उसकी आँखों के स्थान पर दो नीलमं थे। उसकी तलवार की मूठ में एक मणिक था। वह शहर के चारों ओर देख सकता था। जब वह जीवित था, तो एक महल में रहता था। वह सदा प्रसन्न था। उसने जीवन के कष्टों को नहीं देखा था। मगर अब वह अपने चारों ओर दुःखों को देख सकता था। उसने भूखे और बेघर लोगों को देखा। वह बहुत उदास हुआ। वह करुणा से भर गया।

एक दिन, वहाँ एक अबाबील आई। उसने राजकुमार को रोते हुए देखा। राजकुमार ने उसे बताया कि वह गरीब और उदास लोगों की सहायता करना चाहता है। उसने अपना मणिक और आँखों के नीलम गरीब लोगों के पास भेज दिए। अब वह अंधा हो गया था। उसने अपना सोना भी भेज दिया। अब वह भद्दा लगता था। अबाबील ने राजकुमार से प्यार करना आरंभ कर दिया। सर्दी आ गई, मगर अबाबील वहाँ से नहीं गई। वह राजकुमार के पास रही। एक दिन अबाबील मर गई। इससे राजकुमार का सीसे का दिल टूट गया।

अब मूर्ति सुंदर नहीं रही थी। इसे एक भट्ठी में पिघला दिया गया। मगर सीसे का दिल नहीं पिघला। इसे कूड़े के ढेर पर फेंक दिया गया। मरी हुई अबाबील भी वहीं पड़ी थी। भगवान ने अपने एक फरिश्ते को दो सबसे महत्त्वपूर्ण वस्तुएँ लाने को कहा। वह मरी हुई अबाबील तथा राजकुमार का सीसे का दिल भगवान के पास ले आया। ये दोनों वस्तुएँ सचमुच स्वर्ग के लिए उचित थीं।

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 5 The Happy Prince

The Happy Prince Summary In Hindi

प्रसन्न राजकुमार एक सुंदर मूर्ति था। यह मूर्ति एक ऊँचे स्तंभ पर थी। प्रसन्न राजकुमार सोने की परतों से ढका हुआ था। उसकी तलवार की मूठ में एक मणिक था। उसकी आँखें नीलमों की बनी हुई थीं।

एक दिन एक अबाबील राजकुमार के पास आई। वह मिस्र को जा रही थी। वह सारा दिन उड़ती रही। रात के समय वह शहर में पहुंची। उसने प्रसन्न राजकुमार की मूर्ति देखी। उसने वहाँ रात बिताने का निर्णय लिया। इसलिए वह प्रसन्न राजकुमार के कदमों में उतर गई। वह सोने ही वाला था। अचानक उस पर पानी की कुछ बूंदें गिरी। उसने ऊपर देखा। उसने देखा कि प्रसन्न राजकुमार की आँखों में आँसू हैं। अबाबील ने. प्रसन्न राजकुमार से पूछा कि वह क्यों रो रहा है। राजकुमार ने उसे अपनी कहानी सुनाई।

उसने अबाबील को बताया कि कभी वह एक महल में रहता था। वह बहुत प्रसन्न था। उसने जरा-सी भी गरीबी नहीं देखी थी। वह नहीं जानता था कि दुःख क्या होता है। उसके दरबारी उसे प्रसन्न राजकुमार कहते थे। उसकी मृत्यु के बाद, उसकी मूर्ति को एक ऊँचे स्तंभ पर लगा दिया गया। अब वह शहर और इसके कष्टों को देख सकता था। वह अपने चारों तरफ के कष्टों को देख सकता था। इन कष्टों ने उसे उदास कर दिया।

राजकुमार ने अबाबील को बताया कि एक छोटी गली में एक गरीब घर है। उस घर में एक गरीब स्त्री रहती है। वह एक दर्जिन है। उसके हाथों पर सुइयों के निशान हैं। वह साटिन के गाउन पर फूलों की कढ़ाई कर रही है। यह गाउन रानी की सबसे सुंदर सखी का है। उसने उसे दरबार के नृत्य में पहनना है। दर्जिन का बेटा बीमार है। वह संतरों के लिए रो रहा था। मगर उसकी माँ इतनी गरीब थी कि वह उसके लिए संतरे नहीं खरीद सकती।

प्रसन्न राजकुमार उस स्त्री की सहायता करना चाहता था। मगर वह हिल नहीं सकता था। इसलिए उसने अबाबील से प्रार्थना की कि वह उसकी तलवार की मूठ में से मणिक निकाल ले और उसे गरीब स्त्री के पास ले जाए। अबाबील ने कहा कि वह मिस्र जा रही है। उसके मित्र वहाँ उसका इंतजार कर रहे हैं। राजकुमार ने उससे कहा कि वह एक रात और वहाँ रुक जाए। अबाबील मान गई। उसने तलवार में से मणिक निकाला। वह इसे स्त्री के घर ले गई। उसने मणिक को मेज पर रख दिया। उसने लड़के के माथे पर अपने पंखों से हवा दी। लड़के को नींद आ गई और वह चैन से सोया।

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 5 The Happy Prince

तब अबाबील वापस राजकुमार के पास आ गई। वहाँ बहुत ठंड थी, मगर अबाबील को गर्मी लगी। राजकुमार ने उसे बताया कि यह अच्छा काम करने की गर्मी है। .. अगली रात को अबाबील राजकुमार को अलविदा कहने को गई। मगर उसने अबाबील से प्रार्थना की कि वह एक रात और रुक जाए। अब वह एक युवा व्यक्ति की सहायता करना चाहता है। वह बहुत गरीब है।

वह एक रंगमंच के निर्देशक के लिए एक नाटक पूरा करने का प्रयत्न कर रहा है। बहुत ठंड है। उसके पास स्वयं को गर्म रखने के लिए जलाने वाली लकड़ी नहीं थी। राजकुमार ने अबाबील से कहा कि वह उसकी एक आँख का नीलम युवा व्यक्ति के पास ले जाए। अबाबील ने रोना आरंभ कर दिया।

मगर राजकुमार ने अबाबील को युवा व्यक्ति के पास नीलम ले जाने का आदेश दिया। अबाबील ने राजकुमार की आज्ञा का पालन किया। वह नीलम को युवा व्यक्ति के पास ले गई। युवा व्यक्ति ने नीलम को देखा। वह प्रसन्न हो गया। अब उसे नाटक समाप्त करने की आशा थी।

रात को अबाबील राजकुमार के पास गई। अब वह उससे अलविदा लेना चाहती थी। मगर राजकुमार ने एक और रात रुकने की प्रार्थना की। अब वह माचिस वाली एक गरीब लड़की की सहायता करना चाहता था। उसकी सब माचिसें नाली में गिर गई थीं। वह रो रही थी। अगर वह घर पैसे नहीं ले गई तो उसका पिता उसे पीटेगा। उसके पास जूते या जुराबें नहीं थीं।

उसका सिर नंगा था। प्रसन्न राजकुमार ने अबाबील को कहा कि वह उसका दूसरा नीलम उस लड़की के पास ले जाए। अबाबील ने कहा कि इससे वह पूरी तरह अंधा हो जाएगा। मगर उसे राजकुमार की आज्ञा का पालन करना पड़ा। वह नीलम को लड़की के पास ले गई। वह प्रसन्न हो गई। अब राजकुमार अंधा हो गया था। इसलिए अबाबील ने सदा के लिए राजकुमार के पास ठहरने का निर्णय लिया।

राजकुमार ने अबाबील से कहा कि वह शहर के ऊपर उड़ान भरे और उसे बताए कि उसने वहाँ क्या देखा। अबाबील ने देखा कि अमीर लोग खुशियाँ मना रहे थे। गरीब लोग दुःखी थे। उसने भूखे बच्चे देखे। वहाँ दो लड़के थे। वे एक-दूसरे की बाँहों में लेटे हुए थे। वे एक-दूसरे को गर्म रखने का प्रयत्न कर रहे थे। अबाबील ने यह सब कुछ राजकुमार को बताया। राजकुमार ने अबाबील से कहा कि वह उसके शरीर की सोने की परतों को एक-एक करके उतारे। वह इन्हें गरीब और पीड़ित लोगों में बाँट दे। अबाबील ने राजकुमार की आज्ञा का पालन किया। गरीब बच्चों को भोजन और कपड़े मिल गए। वे प्रसन्न हो गए। मगर राजकुमार भद्दा लगने लगा।

शीघ्र ही वहाँ बर्फ पड़ने लगी। छोटी अबाबील को बहुत ठंड महसूस हुई। मगर उसने राजकुमार को नहीं छोड़ा। उसने स्वयं को गर्म रखने का प्रयत्न किया। मगर एक दिन उसका अंत आ गया। उसने प्रसन्न राजकुमार को चूमा और गिरकर मर गई। राजकुमार बहुत उदास हो गया। राजकुमार का सीसे का दिल दो हिस्सों में टूट गया।

अगली प्रातः शहर का मेयर उस रास्ते से गुजरा। उसने प्रसन्न राजकुमार की मूर्ति को देखा। यह भद्दी लगती थी। यह मूर्ति अब और अधिक लाभदायक नहीं थी। उसने इसे गिराने का आदेश दिया। इसे एक भट्ठी में पिघलाया गया। मगर राजकुमार का सीसे का दिल नहीं पिघला। इसलिए इसे कूड़े के ढेर पर फेंक दिया गया। मरी हुई अबाबील भी वहीं पड़ी थी।

भगवान ने अपने एक फरिश्ते को शहर की दो सबसे बहुमूल्य वस्तुएँ लाने को भेजा। फरिश्ता उसके पास मरी हुई अबाबील और राजकुमार का सीसे का दिल ले आया। भगवान ने फरिश्ते की उसके चयन के लिए प्रशंसा की। उसने कहा कि ये दो वस्तुएँ स्वर्ग के लिए उचित हैं।

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 5 The Happy Prince

The Happy Prince Word-Meanings

(Page 28) :
Statue = a figure of a person in stone = बुत; sapphire = precious stone = नीलम; ruby = a dark red jewel = मणिक; sword = a weapon = तलवार; precious = of great value = कीमती; stone = jewel = रत्न; column = pillar = स्तंभ; gilded = a thin layer of gold = सोने का पत्र चढ़ा हुआ; glow = shine = चमकना; hilt = handle of a sword = मूठ; swallow = a bird = अबाबील एक पक्षी; preparations = to get ready for something = तैयारियाँ; plenty = enough = प्रचुरता; alighted = came down = उतरा।

(Page 29) :
Curious = strange = अजीब; bright = shining = चमकते हुए; determined = decided = निश्चय करना; tear = salty liquid which flows from the eyes = आँसू; cheek = a soft part of the face = गाल; pity = feeling of sorrow for others = दया; drenched = made wet = भिगो देना; alive = living = जीवित; human = of man = मानवीय; courtier = companion of a king = दरबारी; indeed = really = वास्तव में; ugliness = unattractive = कुरूपता; misery = unfortunate condition = दुर्दशा; lead = a kind of metal = सीसा (एक धातु); solid = hard = ठोस; polite = gentle = विनीत, विनम्र; remark = comment = टिप्पणी; worn = old, tired = वृद्ध या थका-मांदा; coarse = rough = रूखे; seamstress = maid tailor = दर्जिन; maid of honour = lady in attendance upon a queen or princess = रानी या राजकुमारी की परिचारिका। Fastened = firmly fixed = मजबूती से जड़े हुए; pedestal = column or base = आधार।

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 5 The Happy Prince

(Page 30) :
Picked out = remove = 3615Ft; cathedral = church = Fire ; tower = a fall structure = बुर्ज या मीनार; angel = messenger from God = देवदूत; sculptured = carved = संगतराशी किए हुए। Lantern = lamp = लालटेन; mast = a tall pole of wood or metal = मस्तूल; toss = roll = करवटें बदलना; feverishly = restlessly = बेचैनी से; delicious slumber = sweet sleep = मधुर नींद; action = deed = कार्य।

(Page 31) :
Garret = attic, small dark room near the roof = अटारी; bunch = group = गुच्छा; crisp = curly = धुंघराले; pomegranate = a fruit = अनार; grate = fireplace = अंगीठी; faint = feeble = कमजोर; playwright = dramatist = नाटककार; rare = seldom = दुर्लभ।

(Page 32) :
Pluck out = take out = उखाड़ना; jeweller = सुनार; command = order = आदेश देना; darted = rushed = झपटना; bury = cover = ढाँपना; flutter = flapping = फड़फड़ाहट; appreciate = praise = प्रशंसा करना; harbour = port = बंदरगाह; vessel = utensil = पात्र; bid = say = कहना; goodbye = farewell = विदाई | match girl= a girl who sells match boxes = माचिस बेचने वाली लड़की; spoiled = useless = बेकार।

(Page 33) :
Stockings = socks = जुराब; Jewel = precious stone = रत्न ; slip = push off = खिसका देना; marvellous = wonderful = अद्भुत; suffering = misery = कष्ट; lane = street = गली; starving = hungry = भूखा; wandered = went = चले गए; dull = not bright or clear = नीरस।

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 5 The Happy Prince

(Page 34) :
Scarlet = bright red = गहरा लाल; skate = move on skates = बर्फ पर फिसलना; crumbs = small bits of bread = रोटी के छोटे-छोटे टुकड़े; flap = move up and down = फड़फड़ाना; murmur = mutter = बुड़बुड़ाना; certainly = without doubts = निस्संदेह; dreadful = fearful = डरावना; mayor = head of a municipal corporation = महापौर; shabby = in bad condition = बुरी हालत में।

(Page 35) :
Clerk = official incharge of records = gft; pulled down = demolished = first Paell; melt=. flow = पिघलाना; foundry = place where metal is melted and moulded = ढलाई खाना; paradise = heaven = स्वर्ग।

The Happy Prince Translation in Hindi

(Page 28) (प्रसन्न राजकुमार एक सुंदर मूर्ति था। वह सोने से ढका हुआ था, उसकी आँखें नीलमों से बनी हुई थीं, और उसकी तलवार में एक मणिक लगा हुआ था। वह अपने पास के सारे सोने और बहुमूल्य पत्थरों को क्यों बाँटना चाहता था ?) … शहर से काफी ऊपर एक लंबे स्तंभ पर एक प्रसन्न राजकुमार की मूर्ति थी। उसके चारों ओर सोने की बहुत पतली तह (परत) चढ़ी हुई थी, उसकी आँखों के स्थान पर दो हीरे (मणियाँ) जड़े हुए थे और उसकी तलवार की मूठ पर एक बड़ी लाल मणिक (रूबी) चमक रही थी।

एक रात शहर के ऊपर एक छोटी सी अबाबील चिड़िया उड़कर आई। उसके मित्र छह सप्ताह पूर्व मिस्र में चले गए थे, मगर वह पीछे रह गई थी; तब उसने भी मिस्र में जाने का निर्णय किया।

सारा दिन वह चिड़िया उड़ती रही और रात के समय वह शहर में पहुंची।

“मैं कहाँ ठहरूँ ?” उसने कहा।” मेरे विचार से शहर ने तैयारियाँ कर ली हैं। तब उसने लंबे स्तंभ के ऊपर मूर्ति देखी।

“मैं यहाँ ठहरूंगी,” वह चिल्लाकर बोली। “यह बहुत अच्छी जगह है और यहाँ पर्याप्त मात्रा में हवा है।” इसलिए वह प्रसन्न राजकुमार के कदमों में उतरकर बैठ गई।

“मेरे पास सुनहरी शयनकक्ष है।” उसने स्वयं से धीमे से कहा जब उसने अपने चारों ओर देखा और उसने सोने की तैयारी की;

(Page 29)
मगर जैसे ही वह अपने सिर को अपने पंख के नीचे डालकर सोने लगी थी कि उसके ऊपर पानी की एक बड़ी बूंद गिरी। “कितनी विचित्र बात है!” उसने चिल्लाकर कहा। “आकाश में एक भी बादल नहीं है, तारे एकदम साफ और चमकीले हैं और फिर भी बरसात हो रही है।”

तब एक बूंद और गिरी। “इस मूर्ति का क्या लाभ है अगर यह मुझे बरसात से नहीं बचा सकती।” उसने कहा। “मुझे किसी अच्छी चिमनी वाले बर्तन की खोज करनी चाहिए।” और उसने उड़ जाने का निश्चय किया।

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 5 The Happy Prince

मगर इससे पहले कि वह अपने पंख खोलती, एक तीसरी बूंद गिरी, और उसने ऊपर देखा और कहा-आह! उसने क्या देखा?

प्रसन्न राजकुमार की आँखें आँसुओं से भरी हुई थीं और आँसू उसकी सुनहरी गालों पर बह रहे थे। चाँदनी रात में उसका चेहरा इतना सुंदर लग रहा था कि अबाबीलं का दिल दया से भर गया।

“तुम कौन हो ?” उसने कहा। “मैं प्रसन्न राजकुमार हूँ।” “तो फिर तुम रो क्यों रहे हो ?” अबाबील ने पूछा। “तुमने मुझे एकदम गीला कर दिया है।”

“जब मैं जीवित था और मेरे में मानवीय दिल था,” मूर्ति ने उत्तर दिया, “तब मैं नहीं जानता था कि आँसू क्या होते हैं, क्योंकि मैं महल में रहता था, जहाँ दुःखों को आने नहीं दिया जाता। मेरे दरबारी मुझे प्रसन्न राजकुमार कहते थे और सचमुच मैं प्रसन्न था। मैं इसी प्रकार जीवित रहा और ऐसे ही मर गया। और जबकि मैं मर गया हूँ, उन्होंने मुझे इतना ऊँचा स्थापित कर दिया है कि मैं शहर की सारी गंदगी और दुःख देख सकता हूँ और यद्यपि मेरा हृदय रांगे (एक धातु) का बना हुआ है फिर भी मैं रोए बिना नहीं रह सकता।”

“क्या! वह ठोस सोने का नहीं है ?” अबाबील ने स्वयं से कहा। मगर वह इतनी विनम्र थी कि उसने व्यक्तिगत बातें नहीं पूछीं।

“बहुत दूर” मूर्ति ने धीमी संगीतमय आवाज में कहना जारी रखा, “बहुत दूर एक छोटी सी गली में एक गरीब घर है। उसकी एक खिड़की खुली है और उसमें से मैं मेज के पास बैठी हुई एक स्त्री देख सकता हूँ। उसका चेहरा पतला और कष्टपूर्ण है और उसके हाथ भद्दे एवं लाल हैं, जो सुइयों से चुभे हुए हैं क्योंकि वह एक दर्जिन है। वह साटिन के एक गाउन पर फूलों की कढ़ाई कर रही है और इस गाउन को रानी की अति सुंदर सम्मानजनक सखी ने दरबार की अगली नाच पार्टी में पहनना है।

कमरे के एक कोने में बिस्तर पर उसका लड़का बीमार पड़ा है। उसे बुखार है और वह अपनी माँ से संतरे लेने की जिद्द कर रहा है। उसकी माँ के पास नदी के पानी के अतिरिक्त उसे देने को कुछ नहीं है, इसलिए वह रो रहा है। चिड़िया, चिड़िया, छोटी चिड़िया, क्या तुम मेरी तलवार की मूठ में लगे हीरे को उसे नहीं दे आओगी ? मेरे पैर इस चौकी (आधार) में जड़े हुए हैं और मैं हिल नहीं सकता।

(Page 30)
“मिस्र में मेरी प्रतीक्षा हो रही है,” अबालील ने कहा, “मेरे साथी नील नदी के ऊपर उड़ रहे हैं और कमल के बड़े-बड़े फूलों से बातें कर रहे हैं। शीघ्र ही वे सो जाएँगे।”

राजकुमार ने अबाबील से कहा कि वह उसके पास एक रात के लिए ठहर जाए और उसकी संदेशवाहक बन जाए। “लड़का बहुत प्यासा है, और उसकी माँ बहुत उदास है,” उसने कहा।

“मैं नहीं सोचती कि मुझे लड़के अच्छे लगते हैं,” अबाबील ने उत्तर दिया। “मैं मिस्र जाना चाहती हूँ।”

मगर प्रसन्न राजकुमार इतना उदास लग रहा था कि छोटी अबाबील को दुःख हुआ। “यहाँ बहुत ठंड है,” उसने कहा। मगर वह उसके पास एक रात ठहरने और उसकी संदेशवाहक बनने के लिए मान गई।
“धन्यवाद, छोटी चिड़िया,” राजकुमार ने कहा।

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 5 The Happy Prince

अबाबील ने राजकुमार की तलवार से वह महान हीरा निकाला और उसे अपनी चोंच में लेकर शहर की छतों के ऊपर उड़ चली। वह गिरजाघर के मीनार के पास से गुजरी जहाँ सफेद देवताओं की मूर्तियाँ बनी हुई थीं। वह महल के पास से गुजरी और उसने नाच की आवाज सुनी। एक सुंदर लड़की अपने प्रेमी के साथ छज्जे पर आई।

“मेरा विचार है कि राजकीय डांस पार्टी के लिए मेरी पोशाक समय पर तैयार हो जाएगी,” उसने कहा। “मैंने आदेश दिया है कि उसके ऊपर फूलों की कढ़ाई की जाए, मगर दर्जिनें बहुत सुस्त होती हैं।”

वह नदी के ऊपर से गुजरी और उसने जहाजों के मस्तूलों पर टंगे हुए लैंप देखे। आखिर वह उस गरीब औरत के घर में आई और अंदर झाँका। लड़का बीमारी की हालत में बिस्तर पर करवटें ले रहा था और माँ इतनी थक गई थी कि उसे नींद आ गई थी।

वह अंदर फुदककर गई और उसने हीरा मेज पर औरत की थिम्बल के पास रख दिया। तब वह धीरे-धीरे बिस्तर के आस-पास उड़ी और लड़के के माथे पर अपने पंखों की हवा की। “मुझे कितनी ठंडक महसूस हो रही है।” लड़के ने कहा, “मैं अवश्य ही ठीक हो रहा हूँ” और वह मधुर नींद में सो गया।

तब वह चिड़िया उड़कर प्रसन्न राजकुमार के पास गई और बताया कि उसने क्या किया था। “यह बड़ी अजीब बात है,” उसने कहा, “मगर मुझे गर्मी महसूस हो रही है यद्यपि इतनी ठंड है।”

“ऐसा इसलिए है कि तुमने एक अच्छा कार्य किया है,” राजकुमार ने कहा। और छोटी सी अबाबील ने सोचना आरंभ कर दिया और सो गई। सोचने से उसे सदा नींद आती थी। जब प्रातः हुई वह उड़कर नदी के पास गई और स्नान किया। “आज रात मैं मिस्र जाती हूँ।”

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 5 The Happy Prince

(Page 31)
अबाबील ने कहा, और वह इसे लेकर बहुत ही आनंदित थी। उसने बहुत से स्मारक देखे और उसने गिरजाघर के गुंबद पर सबसे अधिक समय बिताया।

जब चाँद निकला तो वह उड़कर प्रसन्न राजकुमार के पास गई।

“क्या आपके पास मेरे लिए मिस्र का कोई कार्य है ?”

उसने कहा, “मैं वहाँ के लिए जाने वाली हूँ।”

“चिड़िया, चिड़िया, नन्ही चिड़िया,” राजकुमार ने कहा, “क्या तुम मेरे पास एक रात और ठहर सकती हो ?”

“मिस्र में मेरी प्रतीक्षा हो रही है, ” अबाबील ने उत्तर दिया।

“चिड़िया, चिड़िया, नन्ही चिड़िया,” राजकुमार ने कहा, “दूर, शहर के पार मैं छोटे से कमरे में एक युवा व्यक्ति को देख रहा हूँ। वह कागज़ों से भरे एक मेज़ पर झुका हुआ है और उसके पास पड़े एक गिलास में मुरझाए हुए वायलट के फूल हैं। उसके बाल ‘भूरे और धुंघराले हैं और उसके होंठ अनार के दानों की तरह लाल हैं और उसकी आँखें बड़ी-बड़ी और स्वप्निल हैं। वह नाटकघर के निर्देशन के लिए एक नाटक पूरा करने का प्रयत्न कर रहा है मगर वह इतना सुन्न है कि लिख नहीं पा रहा। अंगीठी में आग नहीं है और भूख ने उसे कमजोर कर दिया है।”

“मैं तुम्हारे पास एक रात और इंतजार करूंगी,” चिड़िया ने कहा, जिसका दिल सचमुच बहुत अच्छा था। उसने पूछा कि क्या वह एक अन्य हीरा उस युवा नाटककार के पास ले जाएगी।

“आह! अब मेरे पास कोई हीरा नहीं बचा,” राजकुमार ने कहा। “मेरे पास केवल मेरी आँखें बची हैं। ये दुर्लभ मणियों की बनी हुई हैं, जो एक हजार वर्ष पहले भारत से लाई गई थीं।”

(Page 32)
उसने चिड़िया को आदेश दिया कि वह एक मणिक को उखाड़ ले और उसे युवा नाटककार के पास ले जाए। “वह उसे जौहरी के पास बेच आएगा और लकड़ी खरीदेगा और नाटक पूरा करेगा,” उसने कहा।

चिड़िया ने कहा, “प्रिय राजकुमार, मैं यह कार्य नहीं कर सकती” और उसने रोना आरंभ कर दिया। राजकुमार ने कहा, “चिड़िया, चिड़िया, नन्ही चिड़िया, जैसा मैं कहता हूँ, वैसा ही करो।”

इसलिए अबाबील ने राजकुमार की आँख निकाली और छात्र के छोटे कमरे की तरफ उड़ गई। वहाँ जाना बहुत आसान था क्योंकि छत में छिद्र था। वह इसके बीच में से गुजरी और कमरे में आ गई। युवा व्यक्ति ने अपना सिर अपने हाथों में दबा रखा था, इसलिए उसे पक्षी के पंखों की फड़फड़ाहट सुनाई नहीं दी और जब उसने सिर उठाया तो उसने सूखे हुए फूलों के बीच में एक मणिक को पड़े हुए पाया।

“मेरे काम की प्रशंसा होनी आरंभ हो गई है,” वह चिल्लाया। “यह किसी महान प्रशंसक की तरफ से है। अब मैं नाटक पूरा कर सकता हूँ,” और वह बहुत प्रसन्न दिखने लगा।

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 5 The Happy Prince

अगले दिन चिड़िया उड़कर बंदरगाह पर गई। वह एक बड़े जहाज के मस्तूल पर बैठ गई और उसने नाविकों को काम करते हुए देखा। “मैं मिस्र जा रही हूँ”, अबाबील चिल्लाई, मगर किसी ने उसकी तरफ ध्यान नहीं दिया और जब चाँद निकला तो वह फिर से उड़कर प्रसन्न राजकुमार के पास चली गई।

मैं तुम्हें अलविदा कहने आई हूँ,” वह चिल्लाई।

“चिड़िया, चिड़िया, नन्ही चिड़िया,” राजकुमार ने कहा, “क्या तुम मेरे पास एक रात के लिए और नहीं ठहर सकती ?”

“अबाबील ने उत्तर दिया, “सर्दी का मौसम है और शीघ्र ही बर्फ पड़ने लगेगी। मिस्र में खजूर के हरे वृक्षों पर सूर्य की गर्मी होती है, और मगरमच्छ कीचड़ में पड़े सुस्ताते रहते हैं और अपने आस-पास सुस्ती से देखते हैं।”

प्रसन्न राजकुमार ने कहा, “नीचे के इलाके में एक गरीब माचिस बेचने वाली लड़की खड़ी है। उसकी सारी माचिसें नाली में गिर गई है और खराब हो गई हैं। अगर वह घर कुछ पैसे लेकर न पहुँची तो उसका पिता उसे पीटेगा, और वह रो रही है।

(Page 33)
उसके पास न जूते हैं और न जुराबें और उसका छोटा-सा सिर नंगा है। मेरी दूसरी आँख निकाल लो और यह उसे दे दो, और उसका पिता उसे नहीं पीटेगा।”

“मैं तुम्हारे पास एक रात और रुक जाऊंगी,” अबाबील ने कहा, “मगर मैं तुम्हारी आँख नहीं निकालूंगी। तब तुम बिल्कुल अंधे हो जाओगे।”

“चिड़िया, चिड़िया, नन्ही चिड़िया,” राजकुमार ने कहा, “वैसे ही करो जैसा मैं आदेश देता हूँ।”

इसलिए उसने राजकुमार की दूसरी आँख निकाली और उसे लेकर उड़ गई। वह माचिस वाली लड़की के पास से गुजरी और उसकी हथेली में हीरा गिरा दिया।

“कितना सुंदर काँच का टुकड़ा है!” छोटी लड़की ने चिल्लाकर कहा और हंसती हुई घर की ओर भागी।

तब अबाबील राजकुमार के पास वापस आई और बोली, “अब तुम बिल्कुल अंधे हो, इसलिए मैं सदा तुम्हारे पास रहूँगी।” “नहीं, नन्ही चिड़िया,” बेचारे राजकुमार ने कहा, “तुम्हें अवश्य ही मिस्र में जाना चाहिए।”

अबाबील ने कहा, “नहीं, मैं सदा तुम्हारे पास रहूंगी,” और वह राजकुमार के कदमों में सो गई।

अगले सारे दिन वह राजकुमार के कंधे पर बैठी रही और उन चीजों की कहानियाँ सुनाती रही जो उसने विचित्र देशों में देखी थीं।

राजकुमार ने कहा, “प्यारी नन्ही चिड़िया, तुम मुझे अद्भुत चीजों के बारे में बता रही हो, मगर सबसे अधिक अद्भुत तो मनुष्यों के कष्ट हैं। दुःख से बढ़कर कोई बड़ा रहस्य नहीं है। नन्ही चिड़िया, मेरे शहर के ऊपर उड़ो और मुझे बताओ कि तुमने वहाँ क्या देखा है।”

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 5 The Happy Prince

इसलिए चिड़िया उस महान शहर के ऊपर उड़ी और उसने देखा कि सुंदर घरों में अमीर लोग मजे कर रहे हैं, जबकि उनके दरवाजों के पास भिखारी बैठे हुए हैं। वह अंधेरी गलियों में उड़ी और उसने भूख से पीड़ित बच्चों के सफेद चेहरे देखे जो उदासी से अंधेरी गलियों को झाँक रहे थे। एक पुल की मेहराब के नीचे दो छोटे लड़के एक दूसरे की बाँहों में लेटकर स्वयं को गर्म रखने का प्रयत्न कर रहे थे। “हम कितने भूखे हैं!” उन्होंने कहा, “तुम यहाँ मत लेटो।” चौकीदार ने कहा और वे बरसात में भटकते हुए चले गए।

तब वह चिड़िया उड़कर वापस राजकुमार के पास आई और उसे बताया कि उसने क्या देखा था।

“मैं अच्छे सोने से दबा हुआ हूँ,” राजकुमार ने कहा। “तुम इसे टुकड़ा-टुकड़ा कर उतार लो और इसे गरीबों को दे दो। जीवित लोग सदा यह सोचते हैं कि सोना उन्हें प्रसन्न कर सकता है।” चिड़िया ने टुकड़ा-टुकड़ा करके सारा सोना उतार लिया जब तक कि राजकुमार अनाकर्षक एवं स्लेटी रंग का लगने लगा।

(Page 34)
चिड़िया टुकड़ा टुकड़ा करके सोना गरीबों के पास लाई और बच्चों के चेहरे फिर से गुलाबी हो गए और वे हंसने और गली में खेलने लगे। “अब हमारे पास रोटी है!” वे चिल्लाए।

तब बर्फ पड़ी और बर्फ के बाद पाला पड़ा। गलियाँ ऐसे लगने लगी जैसे वे चाँदी की बनी हों। हर व्यक्ति फर पहनकर घूमता फिरता था और छोटे लड़के लाल टोपियाँ पहने हुए होते थे और बर्फ पर स्केटिंग करते थे।
बेचारी नन्ही चिड़िया अधिक-से-अधिक ठंडी होती गई मगर वह राजकुमार को छोड़ न सकती थी, क्योंकि उसे उससे बहुत प्यार हो गया था। वह डबलरोटी वाले के दरवाजे के बाहर रोटी के छोटे-छोटे टुकड़े तब उठा लेती थी, जब वह देख नहीं रहा होता था और पंख फड़फड़ाकर स्वयं को गर्म रखने का प्रयत्न करती थी।

मंगर आखिर उसे मालूम हो गया कि वह मरने वाली है। उसमें केवल इतनी शक्ति बची थी कि वह एक बार फिर उड़कर राजकुमार के कंधे पर बैठी और उसने धीरे से कहा, “अलविदा, प्रिय राजकुमार, क्या आप मुझे अपना हाथ चूमने देंगे ?”

राजकुमार ने कहा, “मुझे खुशी है कि तुम आखिर मिस्र जा रही हो, नन्ही चिड़िया।। तुम यहाँ बहुत लंबे समय तक रही हो, मगर तुम मुझे होंठों पर चूमो क्योंकि मैं तुम्हें प्यार करता हूँ।”

“यह मिस्र नहीं है जहाँ मैं जा रही हूँ”, अबाबील ने कहा, “मैं मृत्यु के घर को जा रही हूँ। मृत्यु नींद का ही एक भाई है, क्या वह नहीं है ?”

. और उसने राजकुमार के होंठों पर चूमा और उसके कदमों में गिरकर मर गई।

उसी समय मूर्ति के अंदर एक विचित्र टूटने की आवाज आई, जैसे कुछ टूटा हो। वास्तव में रांगे का बना हुआ दिल टूटकर दो टुकड़े हो गया था। निस्संदेह बहुत कड़ा पाला पड़ रहा था।

अगली प्रातः शहर का मेयर मूर्ति के नीचे के इलाके में अपने काउंसलरों के साथ गुज़रा। जब वह स्तंभ के पास से गुज़रा तो उसने मूर्ति की तरफ देखा। “अरे! राजकुमार कितना गंदा नजर आ रहा है!” उसने कहा।

HBSE 9th Class English Solutions Moments Chapter 5 The Happy Prince

“सचमुच कितना गंदा!” शहर के काउंसलर चिल्लाए जो सदा मेयर के साथ सहमत होते थे और मूर्ति को देखकर वे ऊपर गए।

“तलवार में से मणिक गिर गया है, उसकी आँखें चली गई हैं और यह अब सुनहरी नहीं रहा,” मेयर ने कहा। “वास्तव में यह भिखारी से थोड़ा बेहतर है!”

“भिखारी से थोड़ा ही बेहतर है,” शहर के काउंसलरों ने कहा।

“और यहाँ वास्तव में इसके पैरों के पास एक मरा हुआ पक्षी है!” मेयर ने कहना जारी रखा। हमें सचमुच एक घोषणा जारी करनी चाहिए कि पक्षियों को यहाँ मरने की अनुमति नहीं है।” और शहर-क्लर्क ने इस सुझाव को नोट कर लिया।

(Page 35)
इसलिए उन्होंने प्रसन्न राजकुमार की मूर्ति को उखाड़ दिया। “क्योंकि वह सुंदर नहीं है और लाभप्रद भी नहीं रही,” यूनिवर्सिटी के कला के प्रोफैसर ने कहा।

तब उन्होंने भट्ठी में मूर्ति को गला दिया। फाउंडरी के मजदूरों ने फोरमैन से कहा, “कितनी अजीब बात है! यह रांगे का टूटा हुआ दिल भट्ठी में पिघलता नहीं है। हमें इसे फेंक देना चाहिए।” इसलिए उन्होंने उसे कूड़े के ढेर पर वहाँ फेंक दिया जहाँ मरी हुई अबाबील भी पड़ी हुई थी।

भगवान ने अपने एक फरिश्ते को कहा, “मुझे शहर की दो सबसे अधिक कीमती वस्तुएँ ला दो” और वह उसके लिए रांगे का दिल और मरी हुई चिड़िया ले आया।

“तुमने सही चुनाव किया है”,भगवान ने कहा, “क्योंकि मेरे स्वर्ग के बाग में यह छोटा-सा पक्षी सदा गाता रहेगा और मेरे सोने के शहर में प्रसन्न राजकुमार मेरी प्रशंसा करेगा।”

Leave a Comment

Your email address will not be published.