HBSE 12th Class Geography Important Questions Chapter 7 तृतीयक और चतर्थ क्रियाकलाप

Haryana State Board HBSE 12th Class Geography Important Questions Chapter 7 तृतीयक और चतर्थ क्रियाकलाप Important Questions and Answers.

Haryana Board 12th Class Geography Important Questions Chapter 7 तृतीयक और चतर्थ क्रियाकलाप

वस्तुनिष्ठ प्रश्न

1. तृतीयक क्रियाकलाप संबंधित है-
(A) कृषि से
(B) विनिर्माण उद्योगों से
(C) बुद्धि तथा कुशलता से जुड़ी सेवाओं से
(D) बौद्धिक व्यवसाय से
उत्तर:
(C) बुद्धि तथा कुशलता से जुड़ी सेवाओं से

2. वकील और शिक्षक किस प्रकार के क्रियाकलाप के अंतर्गत आते हैं?
(A) प्राथमिक
(B) द्वितीयक
(C) तृतीयक
(D) चतुर्थक
उत्तर:
(C) तृतीयक

HBSE 12th Class Geography Important Questions Chapter 7 तृतीयक और चतर्थ क्रियाकलाप

3. सेवाएँ किस प्रकार का क्रियाकलाप हैं?
(A) प्राथमिक
(B) द्वितीयक
(C) तृतीयक
(D) चतुर्थक
उत्तर:
(C) तृतीयक

4. आधुनिक युग में महिलाओं की संख्या किस क्रियाकलाप में अधिक है?
(A) प्राथमिक
(B) द्वितीयक
(C) तृतीयक
(D) चतुर्थक
उत्तर:
(C) तृतीयक

5. विश्व में रोजगार के अवसरों में वृद्धि किस व्यवसाय में बढ़ रही है?
(A) प्राथमिक
(B) द्वितीयक
(C) तृतीयक
(D) चतुर्थक
उत्तर:
(C) तृतीयक

6. उच्च बौद्धिक व्यवसाय में लगे लोग किस प्रकार के क्रियाकलाप के अंतर्गत आते हैं?
(A) प्राथमिक
(B) द्वितीयक
(C) तृतीयक
(D) चतुर्थक
उत्तर:
(C) तृतीयक

7. विज्ञापन, कानूनी सेवाएँ, जनसंपर्क और परामर्श किस प्रकार की सेवाएँ हैं?
(A) मनोरंजन सेवाएँ
(B) वाणिज्यिक सेवाएँ
(C) विनिर्माण सेवाएँ
(D) परिवहन और संचार सेवाएँ
उत्तर:
(B) वाणिज्यिक सेवाएँ

8. वैश्विक कंपनियों के सर्वाधिक मुख्यालय कहाँ हैं?
(A) लंदन
(B) टोकियो
(C) पेरिस
(D) न्यूयार्क
उत्तर:
(D) न्यूयार्क

9. निम्नलिखित में से कौन-सा देश इंटरनेट द्वारा अच्छी तरह जुड़ा हुआ नहीं है?
(A) स्कैंडिनेविया
(B) भारत
(C) ऑस्ट्रेलिया
(D) कनाडा
उत्तर:
(B) भारत

HBSE 12th Class Geography Important Questions Chapter 7 तृतीयक और चतर्थ क्रियाकलाप

10. उत्तरी अमेरिका का वैश्विक नगर कौन-सा है?
(A) पेरिस
(B) न्यूयार्क
(C) टोकियो
(D) शंघाई
उत्तर:
(B) न्यूयार्क

11. यूरोप का प्रमुख वैश्विक नगर कौन-सा है?
(A) न्यूयार्क
(B) लंदन
(C) लास एंजिल्स
(D) टोकियो
उत्तर:
(B) लंदन

12. एशिया का प्रमुख वैश्विक नगर कौन-सा है?
(A) टोकियो
(B) लंदन
(C) न्यूयार्क
(D) टोरंटो
उत्तर:
(A) टोकियो

13. विश्व के प्रमुख वैश्विक नगर हैं-
(A) लंदन, पेरिस, काहिरा
(B) लंदन, रोम, कोलंबो
(C) लंदन, सिंगापुर, सिडनी
(D) लंदन, न्यूयार्क, टोकियो
उत्तर:
(D) लंदन, न्यूयार्क, टोकियो

14. सबसे कम वैश्विक कंपनियों के मुख्यालय कहाँ है?
(A) न्यूयार्क
(B) लंदन
(C) टोकियो
(D) मैक्सिको
उत्तर:
(D) मैक्सिको

15. बाह्यस्रोतन का व्यावसायिक क्रियाकलाप है-
(A) मानव संसाधन
(B) सूचना प्रौद्योगिकी
(C) उपभोक्ता सेवाएँ
(D) उपर्युक्त सभी
उत्तर:
(D) उपर्युक्त सभी

16. निम्नलिखित में से तृतीयक क्रियाकलाप का उदाहरण नहीं है-
(A) शिक्षक
(B) वकील
(C) चिकित्सा
(D) उपर्युक्त सभी
उत्तर:
(C) चिकित्सा

17. निम्नलिखित में से चतुर्थ क्रियाकलाप का उदाहरण नहीं है
(A) चिकित्सा
(B) अनुसंधान
(C) शिक्षक
(D) उपर्युक्त सभी
उत्तर:
(C) शिक्षक

HBSE 12th Class Geography Important Questions Chapter 7 तृतीयक और चतर्थ क्रियाकलाप

18. निम्नलिखित में से पंचम क्रियाकलाप का उदाहरण नहीं है-
(A) निर्णयकर्ता
(B) परामर्शदाता
(C) नीति-निर्धारक
(D) उपर्युक्त सभी
उत्तर:
(D) उपर्युक्त सभी

B. निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर एक शब्द में दीजिए

प्रश्न 1.
किसी एक तृतीयक क्रियाकलाप का उदाहरण दें।
उत्तर:
व्यापार।

प्रश्न 2.
यूरोप का प्रमुख वैश्विक नगर कौन-सा है?
उत्तर:
लंदन।

प्रश्न 3.
एशिया का प्रमुख वैश्विक नगर कौन-सा है?
उत्तर:
टोकियो।

प्रश्न 4.
वे काम जिनमें उच्च परिमाण और स्तर वाले अन्वेषण सम्मिलित होते हैं, उन्हें क्या कहते हैं?
उत्तर:
उन्हें पंचम क्रियाकलाप कहते हैं।

प्रश्न 5.
सेवाएँ किस प्रकार का क्रियाकलाप हैं?
उत्तर:
तृतीयक क्रियाकलाप।

प्रश्न 6.
विश्व में रोजगार के अवसरों में वृद्धि किस व्यवसाय में बढ़ रही है?
उत्तर:
तृतीयक व्यवसाय में।

प्रश्न 7.
विज्ञापन, कानूनी सेवाएँ, जनसंपर्क और परामर्श किस प्रकार की सेवाएँ हैं?
उत्तर:
वाणिज्यिक सेवाएँ।

प्रश्न 8.
उत्तरी अमेरिका का वैश्विक नगर कौन-सा है?
उत्तर:
न्यूयॉर्क।

प्रश्न 9.
विश्व के प्रमुख वैश्विक नगर कौन-कौन से हैं?
उत्तर:
विश्व के प्रमुख वैश्विक नगर लंदन, न्यूयॉर्क, टोकियो हैं।

HBSE 12th Class Geography Important Questions Chapter 7 तृतीयक और चतर्थ क्रियाकलाप

प्रश्न 10.
वैश्विक कंपनियों के मुख्यालय कहाँ हैं?
उत्तर:
मैक्सिको में।

प्रश्न 11.
वाणिज्यिक सेवाओं का कोई एक उदाहरण दें।
उत्तर:
विज्ञापन।

प्रश्न 12.
परिवहन सेवाओं का कोई एक उदाहरण दें।
उत्तर:
रेल।

प्रश्न 13.
ज्ञानोन्मुखी व्यक्ति किस क्रियाकलाप में आते हैं?
उत्तर:
चतुर्थक व पंचम क्रियाकलाप में।

प्रश्न 14.
सूचना का संग्रहण किस प्रकार के क्रियाकलाप में आता है?
उत्तर:
चतुर्थक क्रियाकलाप में।

प्रश्न 15.
पर्यटन किस प्रकार का क्रियाकलाप है?
उत्तर:
तृतीयक क्रियाकलाप।

प्रश्न 16.
बाह्यस्रोतन का क्या उद्देश्य है?
उत्तर:
दक्षता को सुधारना और लागतों को कम करना।

प्रश्न 17.
सूचना का संग्रहण, उत्पादन व प्रकीर्णन किस प्रकार के क्रियाकलाप के अंतर्गत आता है?
उत्तर:
चतुर्थ क्रियाकलाप के।

प्रश्न 18.
पर्यटन उद्योग द्वारा पोषित दो उद्योगों के नाम बताएँ।
उत्तर:

  1. फुटकर व्यापार
  2. शिल्प उद्योग।

प्रश्न 19.
उच्च स्तरीय सेवाओं के कोई दो उदाहरण दें।
उत्तर:

  1. परामर्शदाता
  2. विशेषज्ञ।

प्रश्न 20.
नोड क्या होता है?
उत्तर:
दो या अधिक मार्गों का संधि-स्थल, एक उद्गम बिंदु, एक गंतव्य बिंदु या मार्ग के सहारे कोई बड़ा कस्बा नोड होता है।

HBSE 12th Class Geography Important Questions Chapter 7 तृतीयक और चतर्थ क्रियाकलाप

प्रश्न 21.
लाल कॉलर श्रमिक किन क्रियाओं को कहते हैं?
उत्तर:
प्राथमिक क्रियाओं को।

प्रश्न 22.
व्यापार किस प्रकार का क्रियाकलाप है?
उत्तर:
तृतीयक।

अति-लघूत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
विनिर्माण और सेवाओं में क्या अंतर होता है?
उत्तर:
विनिर्माण में वस्तुओं का उत्पादन होता है जो मूर्त होता है अर्थात् उसे देखा, छुआ या मापा जा सकता है लेकिन सेवाओं का उत्पाद अमूर्त होता है व उसे प्रत्यक्ष रूप से मापा भी नहीं जा सकता।

प्रश्न 2.
वाणिज्यिक सेवाएँ क्या होती हैं?
उत्तर:
विज्ञापन बनाना, बिक्री बढ़ाने के तरीके निकालना, कर्मचारियों का चयन, अधिकारियों का प्रशिक्षण, ग्राहकों की अभिरुचियों का सर्वेक्षण इत्यादि वाणिज्यिक सेवाएँ हैं। ये सेवाएँ दूसरी कंपनियों की उत्पादन
क्षमता व बिक्री को बढ़ाती हैं।

प्रश्न 3.
असंगठित क्षेत्र क्या होता है?
उत्तर:
बिना किसी औपचारिक माध्यम से नौकरियाँ पाना व करना असंगठित क्षेत्र कहलाता है। ऐसी नौकरियों के चयन व नियंत्रण इत्यादि पर किसी सरकारी या अर्ध-सरकारी संगठन की भूमिका नहीं होती।

प्रश्न 4.
उन्नत अर्थव्यवस्थाओं में विनिर्माण का ह्रास क्यों हुआ?
उत्तर:
मशीनों के घिसकर पुराना पड़ने, उनकी उत्पादकता घटने, कोयले के भंडारों के लगभग समाप्त होने तथा मनुष्य की जगह कंप्यूटर व आधुनिक मशीनों के आ जाने से उन्नत अर्थव्यवस्थाओं में निरौद्योगीकरण की प्रक्रिया आरंभ हुई।

प्रश्न 5.
इंटरनेट द्वारा सबसे अच्छी तरह जुड़े विश्व के दो देशों के नाम बताइए।
उत्तर:
कनाडा और ऑस्ट्रेलिया इंटरनेट द्वारा सबसे अच्छी तरह जुड़े हुए देश हैं।

प्रश्न 6.
व्यापारिक केंद्र किसे कहते हैं?
उत्तर:
फुटकर और थोक व्यापार अथवा वाणिज्य की सभी सेवाओं का उद्देश्य लाभ कमाना है। यह सारा काम कस्बों और नगरों में होता है, जिन्हें व्यापारिक केंद्र कहा जाता है।

प्रश्न 7.
ग्रामीण विपणन केंद्र क्यों महत्त्वपूर्ण हैं?
उत्तर:
ये अर्ध-नगरीय केंद्र होते हैं जो निकटवर्ती बस्तियों का पोषण करते हैं। यहाँ व्यक्तिगत सेवाएँ और व्यावसायिक सेवाएँ ठीक प्रकार से विकसित नहीं होती, परंतु ये ग्रामीण लोगों की अधिक माँग वाली वस्तुएँ और सेवाएँ उपलब्ध कराते हैं।

प्रश्न 8.
चिकित्सा पर्यटन क्या है?
उत्तर:
चिकित्सा उपचार को अंतर्राष्ट्रीय पर्यटन से संबद्ध कर दिया जाए तो यह पर्यटन चिकित्सा पर्यटन कहलाता है।

प्रश्न 9.
तृतीयक क्रियाकलाप के कोई चार उदाहरण दें।
उत्तर:

  1. व्यापारी
  2. वकील
  3. डॉक्टर
  4. इंजीनियर।

HBSE 12th Class Geography Important Questions Chapter 7 तृतीयक और चतर्थ क्रियाकलाप

प्रश्न 10.
तृतीयक क्रियाकलाप के कौन-कौन से क्षेत्र हैं?
उत्तर:

  1. व्यापार
  2. परिवहन
  3. संचार
  4. सेवाएँ।

प्रश्न 11.
अपतटन (offshoring) क्या है?
उत्तर:
जब बाह्यस्रोतन का कार्य समुद्र-पार के क्षेत्रों से करवाया जाता है तो इसे अपतटन कहा जाता है।

प्रश्न 12.
पर्यटन से क्या अभिप्राय है?
उत्तर:
पर्यटन एक ऐसी यात्रा है जो मनोरंजन या फुरसत के क्षणों का आनंद उठाने के उद्देश्यों से की जाती है। इस यात्रा का उद्देश्य व्यापार करना या पैसा कमाना नहीं होता।

प्रश्न 13.
परिवहन से क्या तात्पर्य है?
उत्तर:
परिवहन एक ऐसी सेवा या सुविधा है जिससे व्यक्तियों, विनिर्मित माल और संपति को भौतिक रूप से एक स्थान से दसरे स्थान पर ले जाया जा सकता है। यह हमारी गतिशीलता की मल आवश्यकताओं को परा करने हेत एक संगठित उद्योग है।

प्रश्न 14.
संचार क्या है?
उत्तर:
संचार सेवाओं में शब्दों, संदेशों, तथ्यों और विचारों का प्रेषण सम्मिलित है। एक स्थान से दूसरे स्थान पर सूचना एवं संदेश भेजने या प्राप्त करने की विस्तृत व्यवस्था को संचार कहा जाता है।

प्रश्न 15.
बाह्यस्रोतीकरण कितने प्रकार का होता है?
उत्तर:
बाह्यस्रोतीकरण तीन प्रकार का होता है-

  1. उत्पादन का बाह्यस्रोतीकरण।
  2. सेवाओं का बाह्यस्रोतीकरण।
  3. नवाचार का बाह्यस्रोतीकरण।

प्रश्न 16.
थोक व्यापार सेवाओं की कोई दो विशेषताएँ बताएँ।
उत्तर:

  1. भारी मात्रा में वस्तुओं का व्यापार होना।
  2. फुटकर बिक्री न होना।

प्रश्न 17.
फुटकर व्यापार सेवाओं की कोई दो विशेषताएँ बताएँ।
उत्तर:

  1. ये एक निश्चित स्थान से संबंधित होती हैं। ये एक स्थानीय व्यापारिक सेवाएँ हैं।
  2. ये वे व्यापारिक सेवाएँ हैं जो उपभोक्ताओं को वस्तु के प्रत्यक्ष विक्रय से संबंधित होती हैं।

प्रश्न 18.
सेवा क्षेत्र प्रायः विकसित देशों पर क्यों केन्द्रित होता है?
उत्तर:
विकसित देशों की अर्थव्यवस्था अच्छी होती है। इन देशों में लोगों की आय के बढ़ने से प्रति व्यक्ति आय बढ़ती है। इससे सेवा क्षेत्र की माँग में वृद्धि हो जाती है। इसलिए सेवा क्षेत्र विकसित देशों पर केन्द्रित होता है।

लघूत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
तृतीयक क्रियाकलाप/ क्रियाएँ किसे कहते हैं?
उत्तर:
तृतीयक व्यवसाय में समुदाय को दी जाने वाली व्यक्तिगत तथा व्यावसायिक सेवाएँ सम्मिलित हैं। यातायात, संचार, व्यापार, स्वास्थ्य, शिक्षा तथा प्रशासनिक सेवा तृतीयक व्यवसाय के महत्त्वपूर्ण उदाहरण हैं। इस व्यवसाय में लगे हुए लोग प्रत्यक्ष रूप से किसी वस्तु का उत्पादन नहीं करते, बल्कि अपनी कार्य-कुशलता तथा तकनीकी क्षमता से समाज की सेवा करते हैं। इस व्यवसाय को ‘सेवा श्रेणी’ भी कहा जाता है।

प्रश्न 2.
बाह्यस्रोतन पर एक टिप्पणी लिखें।
उत्तर:
बाह्यस्रोतन अथवा ठेका देना दक्षता को सधारने अथवा लागतों को घटाने के लिए किसी बाहरी अभिकरण को काम सौंपना है। जब बाह्यस्रोतन में कार्य समद्र पार के स्थानों पर स्थानांतरित कर दिया जाता है तो इसे अपतरण कहा जाता है। यद्यपि दोनों अपतरण और बाह्यस्रोतन का प्रयोग इकट्ठा किया जाता है। जिन व्यापारिक क्रियाकलापों को बाह्यस्रोतन किया जाता है, उनमें सूचना प्रौद्योगिकी, मानव संसाधन, ग्राहक सहायता तथा काल सेंटर सेवाएँ और कई बार विनिर्माण तथा अभियांत्रिकी भी सम्मिलित की जाती है। बाह्यस्रोतन उन देशों में आ रहा है जहाँ सस्ता और कुशल श्रम उपलब्ध है। बाह्यस्रोतन के द्वारा काम उपलब्ध होने पर इन देशों से प्रवास कम हो जाता है। बाह्यस्रोतन के बने रहने का मुख्य कारक तुलनात्मक लाभ है। चतुर्थक सेवाओं की नवीन प्रवृत्तियों में ज्ञान प्रक्रमण बाह्यस्रोतन (के०पी०ओ०) और होम शोरिंग है, जो बाह्यस्रोतन का विकल्प है।

प्रश्न 3.
सेवाओं के प्रमुख घटक कौन से हैं?
उत्तर:
सेवाओं के प्रमुख घटक निम्नलिखित हैं-

  1. वाणिज्यिक सेवाएँ विज्ञापन, कानूनी सेवाएँ, जनसंपर्क और परामर्श।
  2. परिवहन और संचार-रेल, सड़क, जहाज, वायुयान सेवाएँ तथा डाक तार सेवाएँ।
  3. मनोरंजन दूरदर्शन, रेडियो, फिल्म और साहित्य।
  4. विभिन्न स्तरीय प्रशासन स्थानीय, राज्य एवं राष्ट्रीय प्रशासन, अधिकारी वर्ग पुलिस सेना तथा अन्य जन सेवाएँ।
  5. गैर-सरकारी संगठन-शिशु चिकित्सा, पर्यावरण, ग्रामीण विकास।
  6. वित्त, बीमा, वाणिज्यिक और आवासीय भूमि और भवनों जैसी अचल संपत्ति का क्रय-विक्रय।
  7. उत्पादक और उपभोक्ता को जोड़ने वाले कार्य करने जैसी सेवाएँ।

HBSE 12th Class Geography Important Questions Chapter 7 तृतीयक और चतर्थ क्रियाकलाप

प्रश्न 4.
भंडारों के प्रकार कौन-कौन से हैं? वर्णन करें। अथवा विभागीय तथा श्रृंखला भंडारों से आप क्या समझते हैं?
उत्तर:
भंडारों के मुख्यतः दो प्रकार होते हैं, जो इस प्रकार हैं-
1. विभागीय भंडार वस्तुओं की खरीद और भंडारों के विभिन्न अनुभागों में बिक्री के सर्वेक्षण के लिए विभागीय प्रमुखों को उत्तरदायित्व और प्राधिकार सौंप देते हैं।

2. श्रृंखला भंडार-अत्यधिक मितव्ययता से व्यापारिक माल खरीदे जाते हैं। यहाँ तक कि अपने विनिर्देश पर सीधे वस्तुओं का निर्माण करा लेते हैं। वे अनेक कार्यकारी कार्यों में अत्यधिक कुशल विशेषज्ञ नियुक्त कर लेते हैं। उनके पास एक भंडार के अनुभव के परिणामों को अनेक भंडारों में लागू करने की योग्यता होती है।

प्रश्न 5.
दूरसंचार के कारण कैसे परिवर्तन आए हैं?
उत्तर:
दूरसंचार का प्रयोग विद्युतीय प्रौद्योगिकी के विकास से जुड़ा है। संदेशों के भेजे जाने की गति के कारण इसने संचार में क्रान्ति ला दी है। समय सप्ताहों से मिनटों में घट गया है और मोबाइल दूरभाष जैसी नूतन उन्नति ने किसी भी समय कहीं से भी संचार को प्रत्यक्ष और तत्काल बना दिया है।

प्रश्न 6.
पंचम क्रियाकलाप का वर्णन कीजिए।
उत्तर:
पंचम क्रियाकलाप वे सेवाएँ हैं जो नवीन और वर्तमान विचारों की रचना, उनके पुनर्गठन और व्याख्या, आँकड़ों की व्याख्या और प्रयोग तथा नई प्रौद्योगिकी के मूल्यांकन पर केंद्रित होती हैं। ये व्यवसाय तृतीयक क्षेत्र में स्वर्ण-कॉलर कहे जाने वाले व्यवसायों का एक और उप-विभाग हैं जिसमें अनुसंधान वैज्ञानिक, वित्त एवं विधि परामर्शदाता, सरकारी अधिकारी आदि आते हैं। ये वर्ग उच्च वेतन वाले तथा कुशल होते हैं। उन्नत अर्थव्यवस्थाओं की संरचना में उनका महत्त्व उनकी संख्या से अधिक होता है।

प्रश्न 7.
पंचम क्रियाकलापों की प्रमुख विशेषताएँ लिखें।
उत्तर:
पंचम क्रियाकलापों की मुख्य विशेषताएँ निम्नलिखित हैं-

  1. पंचम गतिविधियाँ सर्वोच्च निर्णय-निर्माता होती हैं।
  2. विशेषज्ञ, निर्णयकर्ता, परामर्शदाता एवं नीति-निर्धारक इन क्रियाओं क्रियाकलापों के अंतर्गत आते हैं।
  3. ये गतिविधियाँ मुख्य रूप से आउटसोर्सिंग से संबंधित होती हैं।
  4. इनमें शोध, विकास, व्यापार अन्वेषण, कानूनी व्यवसाय एवं बैंकिंग आदि क्षेत्र सम्मिलित हैं।

प्रश्न 8.
ग्रामीण विपणन केन्द्र की प्रमुख विशेषताएँ लिखें।
उत्तर:
ग्रामीण विपणन केन्द्र की प्रमुख विशेषताएँ निम्नलिखित हैं-

  1. ये अर्ध-नगरीय केन्द्र होते हैं और बहुत ही प्रारम्भिक प्रकार से व्यापारिक केन्द्रों के रूप में कार्य करते हैं।
  2. इन केन्द्रों में व्यावसायिक सेवाएँ सुविकसित नहीं होती।
  3. ये स्थानीय संग्रहण एवं वितरण के केन्द्र होते हैं।
  4. ये ग्रामीण लोगों की अधिक माँग वाली वस्तुओं एवं सेवाओं को उपलब्ध कराने वाले केन्द्र हैं।
  5. अधिकांश केन्द्रों में मण्डियाँ एवं फुटकर व्यापार क्षेत्र (दुकानें) भी होते हैं।

प्रश्न 9.
उन्नत आर्थिक व्यवस्था में विनिर्माण का ह्रास क्यों हुआ?
उत्तर:
उन्नत अर्थव्यवस्था में अधिकतर लोग तृतीयक और चतुर्थक व्यवसायों में आकर्षित होते हैं क्योंकि विनिर्माण के क्षेत्र में रोजगार के अवसर धीरे-धीरे घटने लगते हैं जबकि सूचना और प्रौद्योगिक क्रांति के फलस्वरूप तृतीयक और चतुर्थक व्यवसाय में रोजगार के अवसर बढ़ते जा रहे हैं। इसलिए उन्नत अर्थव्यवस्था वाले देशों में विनिर्माण का ह्रास हो रहा है। इस क्रिया को निरोद्यौगीकरण कहा जाता है।

प्रश्न 10.
तृतीयक क्रियाकलापों में उत्पादन और विनिमय दोनों सम्मिलित होते हैं। व्याख्या करें।
उत्तर:
तृतीयक क्रियाकलापों में उत्पादन और विनिमय दोनों शामिल होते हैं। उत्पादन में उपलब्ध सेवाओं का उपभोग किया जाता है। उत्पादन को अप्रत्यक्ष रूप से मजदूरी और वेतन के रूप में मापा जाता है। विनिमय में व्यापार, संचार और परिवहन की सुविधाएँ शामिल होती हैं, जिनका उपयोग दूरी को कम करने के लिए किया जाता है। इसलिए इन क्रियाकलापों में सेवाओं का व्यावसायिक उत्पादन शामिल होता है। ये भौतिक कच्चे माल के प्रयोग में प्रत्यक्ष रूप से शामिल नहीं होतीं। बिजली का मिस्त्री, तकनीशियन, धोबी, नाई, दुकानदार, चालक इत्यादि का काम करना तृतीयक क्रियाकलाप के प्रमुख उदाहरण हैं। तृतीयक क्रियाकलापों की विशेषता यह है कि ये कर्मियों की विशिष्टीकृत कुशलताओं, अनुभव और ज्ञान पर निर्भर करती है।

प्रश्न 11.
पर्यटन के मुख्य आकर्षणों का वर्णन करें।
उत्तर:
पर्यटन के मुख्य आकर्षण निम्नलिखित हैं-

  1. जलवायु-ठंडे प्रदेशों की जलवायु उष्ण क्षेत्रों के लोगों को आकर्षित करती है; जैसे बर्फ से ढके क्षेत्र आदि।
  2. भू-दृश्य कई लोग आकर्षित करने वाले भू-दृश्यों में अवकाश बिताना पसंद करते हैं; जैसे पर्वत, झीलें, समुद्री तट आदि।
  3. इतिहास एवं कला इतिहास और कला का आनंद उठाने के लिए लोग प्राचीन नगरों, किलों, महलों, गिरजाघरों को देखने जाते हैं।
  4. संस्कृति और अर्थव्यवस्था मानव जातीय और स्थानीय रीतियों को पसंद करने वालों को पर्यटन लुभाता है। यदि कोई प्रदेश सस्ते दामों में पर्यटकों की जरूरतों को पूरा करता है तो वह बहुत लोकप्रिय हो जाता है। घरों में रुकना एक लाभदायक व्यापार बनकर उभरा है; जैसे गोआ के हैरीटेज़ होम्स आदि।

HBSE 12th Class Geography Important Questions Chapter 7 तृतीयक और चतर्थ क्रियाकलाप

प्रश्न 12.
चतुर्थक क्रियाकलापों के महत्त्व का वर्णन कीजिए।
उत्तर:
चतुर्थक क्रियाकलाप अनुसंधान और विकास पर केन्द्रित होते हैं। इन्हें ऐसी उन्नत सेवाओं के रूप में देखा जा सकता है जो विशिष्टीकृत ज्ञान, प्रौद्योगिक कुशलता और प्रशासकीय सामर्थ्य से जुड़ी हुई हैं। बहुराष्ट्रीय कम्पनियों के मुख्य कार्यकारी अधिकारी, चिकित्सकीय प्रतिलेखक (Medical Transciptionist), म्यूचुअल फण्ड के प्रबन्धक, परामर्शदाता, सॉफ्टवेयर इंजीनियर, प्रारंभिक विद्यालयों, विश्वविद्यालयी कक्षाओं, रंगमंचों, लेखाकार्य, अस्पतालों व कार्यालय भवनों में काम करने वाले लोग इस वर्ग की सेवाओं से जुड़े हुए हैं। अतः चतुर्थक क्रियाकलापों का अर्थ मूलभूत रूप से बौद्धिक व्यवसाय है जिसका मुख्य कार्य सोचना, चिन्तन करना, अन्वेषण करना आदि है। इस वर्ग के लोग आर्थिक विकास में अपना महत्त्वपूर्ण योगदान देते हैं। इसकी महत्ता को देखते हुए आज विकसित व विकासशील राष्ट्रों में इस क्रियाकलाप का अनुपात बढ़ रहा है।

प्रश्न 13.
चतुर्थक क्रियाएँ अन्य आर्थिक क्रियाओं को प्रतिस्थापित कर रही हैं। वर्णन कीजिए।
अथवा
चतुर्थक क्रियाएँ तृतीयक क्रियाओं का स्थान लेती जा रही हैं। वर्णन करें।
उत्तर:
तृतीयक क्रियाकलाप बुद्धि तथा कुशलता से जुड़ी सेवाएँ है जिसका उत्पादन अमूर्त होता है। चतुर्थक क्रियाकलाप भी उच्च बौद्धिक व्यवसाय जो चिंतन तथा शोध के लिए विचार देते हैं। इनका उत्पादन भी अमूर्त होता है। आर्थिक वृद्धि के आधार पर तृतीयक क्षेत्र के सभी रोजगारों को चतुर्थ क्षेत्र ने प्रतिस्थापित कर दिया है। विकसित अर्थव्यवस्था के आधे से अधिक कर्मी ज्ञान के इस क्षेत्र में कार्यरत हैं तथा पारस्परिक कोष प्रबन्धकों से लेकर परामर्शदाताओं, सॉफ्टवेयर सेवाओं की माँग में उच्च वृद्धि हुई है।

दीर्घ-उत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
विकासशील देशों में सेवा क्षेत्र विकसित देशों से किस प्रकार भिन्न है? व्याख्या कीजिए।
उत्तर:
विकासशील तथा विकसित देशों की अर्थव्यवस्था के विकास में सेवा क्षेत्रों का महत्त्व बढ़ता जा रहा है। दोनों प्रकार के देशों के सेवा क्षेत्रों में मूलभूत अंतर पाया जाता है जो निम्नलिखित प्रकार से है विकासशील देशों का सेवा क्षेत्र-विकासशील देशों का सेवा क्षेत्र भी तेजी से बढ़ रहा है। राष्ट्रीय संपदा में भी इनके योगदान में वृद्धि हो रही है। परंतु इन सेवाओं का आकलन या लेखा-जोखा अच्छी तरह नहीं रखा जा सकता क्योंकि इन देशों के असंख्य लोग अब भी असंगठित सेवाओं में लगे हैं। इनके अंतर्गत गृहणियाँ, बाल मजदूर, रिक्शाचालक, मिस्त्री तथा अकुशल श्रमिक आते हैं। इनकी मजदूरी घटती-बढ़ती रहती है। इसलिए इन लोगों की सेवाओं का कोई लेखा-जोखा नहीं रखा जा सकता।

विकसित देशों का सेवा क्षेत्र विकसित अर्थव्यवस्था वाले देशों में सेवाओं पर आधारित विकास में उल्लेखनीय बढ़ोतरी हुई है। इन देशों में रोजगार के अवसर निरंतर बढ़ रहे हैं। इन देशों के लोग संगठित सेवा क्षेत्रों में लगे हुए हैं जिनका आसानी से लेखा-जोखा रखा जा सकता है।

प्रश्न 2.
संसार में चतुर्थक सेवाओं की प्रकृति तथा वृद्धि का वर्णन कीजिए।
उत्तर:
विगत कुछ वर्षों से आर्थिक क्रियाकलापों में अति विशिष्टता और जटिलता का समावेश होता जा रहा है जिसके परिणामस्वरूप सेवाओं का एक नया वर्ग बन गया है जिन्हें चतुर्थक क्रियाकलाप कहा जाता है। इस वर्ग में शिक्षा, सूचना, शोध और विकास जैसे क्रियाकलापों को रखा गया है। अतः चतुर्थक क्रियाकलाप उन उच्च कोटि के बौद्धिक व्यवसायों को कहते हैं जिनका दायित्व चिंतन, बोध और विकास के लिए नए विचार देना है। आर्थिक दृष्टि से अत्यधिक विकसित देशों में चतुर्थक क्रियाकलाप में लगे लोगों की संख्या धीरे-धीरे बढ़ रही है। इस वर्ग में कार्यरत लोगों के उच्च वेतनमान तथा पदोन्नति के पर्याप्त अवसर उपलब्ध होते हैं। इसलिए इन लोगों में गतिशीलता पाई जाती है। सूचना प्रौद्योगिकी में आई क्रांति के फलस्वरूप ज्ञान पर आधारित उद्योगों में वृद्धि हो रही है। विज्ञान और प्रौद्योगिकी पर आधारित औद्योगिक संकुल स्थापित होते जा रहे हैं।

संयुक्त राज्य अमेरिका में ऐसे अनेक औद्योगिक संकुलों का विकास हुआ है जिन्हें विज्ञान और प्रौद्योगिकी पार्क कहा जाता है। सॉफ्टवेयर पर आधारित उद्योग इसका प्रमुख उदाहरण है। सूचना प्रौद्योगिकी में सूक्ष्म इलैक्ट्रॉनिकी, कंप्यूटर, दूरसंचार, प्रसारण तथा ऑटो इलैक्ट्रॉनिक्स संयुक्त रूप से सम्मिलित हैं। प्रौद्योगिकी में नए-नए आविष्कार होते जा रहे हैं। आनुवंशिक इंजीनियरिंग ऐसा ही एक नया क्षेत्र है जिसका अनुप्रयोग विविध क्षेत्रों; जैसे चिकित्सा, स्वास्थ्य, परिवहन आदि में किया जा रहा है। सूचना प्रौद्योगिकी को परिवर्तन का केंद्र बिंदु कहा जाता है। तेजी से होने वाले प्रौद्योगिक परिवर्तनों के कारण उत्पादन में लगने वाला समय घट रहा है। वैश्वीकरण और उदारीकरण के कारण वस्तुओं के उत्पादन और विपणन को अधिक सूचना प्रधान बना दिया गया है।

प्रश्न 3.
सूचना प्रौद्योगिकी का अर्थ बताते हुए भूमंडलीय अर्थव्यवस्था पर इसके प्रभाव का वर्णन कीजिए।
उत्तर:
सूचना प्रौद्योगिकी-सूचना प्रौद्योगिकी अनेक प्रकार की प्रौद्योगिकी का संयुक्त रूप है। इसमें कंप्यूटर, सूक्ष्म इलैक्ट्रॉनिकी, दूरसंचार, प्रसारण और ऑटो-इलेक्ट्रॉनिक्स शामिल है। सूचना प्रौद्योगिकी के उपयोग से प्रौद्योगिकी में अनेक नए आविष्कार हुए हैं। सूचना प्रौद्योगिकी परिवर्तन का केंद्र-बिंदु है। कृषि क्रांति और औद्योगिक क्रांति के बाद सूचना प्रौद्योगिकी तीसरी महत्त्वपूर्ण क्रांति है। इसकी प्रमुख विशेषता “ज्ञान का उत्पादन तथा सूचना प्रसंस्करण की युक्तियों में ज्ञान व सूचना का अनुप्रयोग है।”

सूचना प्रौद्योगिकी का भूमंडलीय अर्थव्यवस्था पर प्रभाव-सूचना प्रौद्योगिकी का अर्थ बताते हुए भूमंडलीय अर्थव्यवस्था पर प्रभाव निम्नलिखित हैं

  1. औद्योगिक देशों में उच्च वेतन वाली नौकरियाँ, सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में उपलब्ध हैं।
  2. सूचना के प्रवाह से प्रौद्योगिक परिवर्तन तेजी से हो रहे हैं। उत्पादन में लगने वाला समय घट रहा हैं।
  3. दूरसंचार के विकसित तंत्र के कारण आज आर्थिक क्रियाकलाप पृथ्वी पर दूर-दूर तक फैल गए हैं।
  4. कंप्यूटर और दूरसंचार के मिल जाने से संचार का एक समन्वित नेटवर्क विकसित हुआ है जिससे दूर बैठे लोगों से प्रत्यक्ष संपर्क करके बेहतर परिणाम लिया जा सकता है।
  5. इलैक्ट्रॉनिक माध्यम से लेन-देन अब अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय व्यवस्था का केंद्र-बिंदु बन गया है। इस व्यवस्था के द्वारा बैंक क्षण भर में पूँजी को विश्व के किसी भी कोने में भेजा जा सकता है।
  6. सूचना प्रौद्योगिकी के द्वारा घर बैठे वस्तुएँ खरीदी जा सकती हैं।
  7. विश्व में स्टॉक एक्सचेंज व मुद्रा बाजार का सारा काम सूचना प्रौद्योगिकी पर निर्भर है।

प्रश्न 4.
चतुर्थ क्रियाकलाप की संकल्पना का वर्णन कीजिए।
अथवा
चतुर्थ सेवाओं की नवीन प्रवृत्तियों का वर्णन कीजिए। अथवा चतुर्थ सेवाओं से आपका क्या अभिप्राय है? विभिन्न प्रकार की चतुर्थ क्रियाओं का वर्णन करें।
उत्तर:
चतुर्थ सेवा या क्रियाकलाप का अर्थ यह क्रियाएँ आर्थिक स्थिति को ओर मजबूत बनाने वाली क्रियाएँ होती हैं। इस प्रकार की क्रियाओं में तकनीकी प्रयोग का सबसे अधिक महत्त्व है। यह प्रक्रियाएँ सभी प्रकार की श्रेणी क्रियाओं में मशीनी प्रयोग पर प्रबल बल देती हैं। इस प्रकार की क्रियाओं में मस्तिष्क, बुद्धि, ज्ञान और कौशल मुख्य हिस्सा हैं।

चतुर्थ सेवाओं की नवीन प्रवृत्तियाँ या क्रियाएँ चतुर्थ सेवाओं की नवीन प्रवृत्तियाँ या क्रियाएँ निम्नलिखित हैं-
1. बाह्यस्रोतन व अपतटन-बाह्यस्रोतन का अर्थ है-किसी बाहरी अभिकरण को कार्य सौंपना अथवा ठेके पर काम देना। इसका उद्देश्य दक्षता में सुधार करना और लागतों में कमी करना है। जब बाह्यस्रोतन का कार्य समुद्र-पार के स्थानों से करवाया जाता है तो उसे अपतटन कहा जाता है। इनके अंतर्गत प्रमुख क्षेत्र हैं-सूचना प्रौद्योगिकी, मानक संसाधन, कॉल सेंटर, विनिर्माण एवं अभियांत्रिकी आदि।

2. ज्ञान प्रकमण बाह्यस्रोतन-यह सूचना प्रेरित ज्ञान पर आधारित सेवा है जोकि चतुर्थ सेवाओं की नवीन प्रवृत्ति है। इसके अंतर्गत अनुसंधान, विकास कार्य, व्यवसाय अनुसंधान, बौद्धिक सम्पदा आदि क्षेत्र आते हैं। अतः यह एक नई प्रणाली है जो ज्ञान से संबंधित है। इसमें ज्ञान देने और लेने की नई प्रणालियों का उद्गम हुआ है।

3. मेडिकल टूरिज्म वर्तमान में भारत ने चिकित्सा के क्षेत्र में बहुत उपलब्धि हासिल कर ली है। बाहरी देशों से लोग भारत में सस्ते एवं आरामदायक मेडिकल सुविधाओं के लिए आते हैं।

4. सूचना प्रौद्योगिकी-इसमें कंप्यूटर, दूरसंचार, प्रसारण आदि शामिल हैं। अनेक प्रकार के नए आविष्कारों को प्रयोग में लाना सूचना प्रौद्योगिकी परिवर्तन का केंद्र-बिंदु है।।

निष्कर्ष – तेजी से उभरता चतुर्थ क्रियाओं का वृत्त उद्योगों में क्रान्ति का कार्य करेगा। ज्यादातर चतुर्थ क्रियाएँ विकसित देशों में अधिक होती हैं तथा विकासशील और अल्प विकसित देशों में चतुर्थ क्रियाओं को शामिल करने से उनकी आर्थिक व्यवस्था का सुधारा जा सकता है।

प्रश्न 5.
तृतीयक क्रियाकलापों के वर्गीकरण का वर्णन करें।
उत्तर:
तृतीयक क्रियाकलाप बुद्धि और कुशलता से जुड़ी सेवाएँ हैं; जैसे मिस्त्री से हम अपनी बाइक या स्कूटी ठीक कराते हैं। बीमार होने पर डॉक्टर से इलाज कराते हैं। इन सभी प्रकार की सेवाओं को कुशलता, अन्य सैद्धान्तिक ज्ञान एवं क्रियात्मक प्रशिक्षण की जरूरत होती है। तृतीयक क्रियाकलापों में उत्पादन और विनिमय दोनों शामिल होते हैं। इसमें वस्तुओं का उत्पादन नहीं, बल्कि सेवाओं का व्यावसायिक उत्पादन होता है जिनका उपभोग किया जाता है। इसको परोक्ष रूप से वेतन और पारिश्रमिक के रूप में मापा जाता है। इन सेवाओं के बिना विनिर्माण नहीं हो सकता। विनिमय के अन्तर्गत व्यापार, परिवहन और संचार सुविधाएँ शामिल होती हैं।
HBSE 12th Class Geography Important Questions Chapter 7 तृतीयक और चतर्थ क्रियाकलाप 1
तृतीयक क्रियाकलापों के प्रकार-तृतीयक क्रियाकलाप निम्नलिखित प्रकार के होते हैं-
1. व्यापार एवं वाणिज्य उत्पादित वस्तओं के खरीदने और बेचने को व्यापार कहते हैं। व्यापार फटकर और थोक दो प्रकार का होता है। थोक व्यापार से जुड़े वित्तीय लेन-देन को वाणिज्य कहा जाता है। व्यापार से जुड़ी सभी प्रकार की सेवाओं का एक ही उद्देश्य होता है लाभ कमाना।

फुटकर व्यापार सेवाएँ-फुटकर व्यापार उसे कहते हैं जिसमें वस्तुएँ सीधे उपभोक्ता को बेची जाती हैं।
थोक व्यापार सेवाएँ थोक व्यापार फुटकर भंडारों द्वारा न होकर सौदागरों, बड़े व्यापारिक घरानों आदि द्वारा होता है।

2. परिवहन सेवाएँ परिवहन एक सेवा है जिसमें व्यक्तियों, कच्चे पदार्थों और विनिर्मित माल को एक-स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाया जाता है।

3. संचार सेवाएँ-संचार सेवाओं में शब्दों और संदेशों, तथ्यों और विचारों तथा संगीत का प्रेषण शामिल किया जाता है।

4. सेवाएँ-वित्त, बीमा व बैंकिंग आदि सेवाएँ मौद्रिक सेवाओं में आती हैं। दूरदर्शन, फिल्म, रेडियो, साहित्य जैसी मनोरंजनात्मक और प्रमोद सेवाओं में शामिल हैं। पुलिस, सेना आदि प्रशासिनक सेवाओं में आते हैं।

निष्कर्ष – वर्तमान में अनेक सेवाएँ नियमित और व्यवस्थित हो गई हैं जिनका पर्यवेक्षण और निष्पादन सरकारें, निगम एवं कम्पनियाँ करती हैं। केन्द्र तथा राज्य सरकारों ने परिवहन, दूर-संचार, बिजली तथा जलापूर्ति जैसी सेवाओं के लिए निगमों का गठन किया हुआ है।

HBSE 12th Class Geography Important Questions Chapter 7 तृतीयक और चतर्थ क्रियाकलाप

प्रश्न 6.
पर्यटन का क्या अभिप्राय है? पर्यटन को प्रभावित करने वाले कारकों का वर्णन करें।
उत्तर:
पर्यटन का अर्थ-पर्यटन एक ऐसी यात्रा है जो मनोरंजन या फुरसत के क्षणों का आनंद उठाने के उद्देश्यों से की जाती है। इस यात्रा का उद्देश्य व्यापार करना या पैसा कमाना नहीं होता। विश्व पर्यटन संगठन (World Tourism Organisation) के अनुसार पर्यटक वे लोग हैं जो यात्रा करके अपने सामान्य वातावरण से बाहर के स्थानों में कुछ दिनों के लिए रहने जाते हैं। वर्तमान में पर्यटन दुनिया भर में एक आरामपूर्ण गतिविधि के रूप में लोकप्रिय हो गया है।
पर्यटन को प्रभावित करने वाले कारक-पर्यटन को प्रभावित करने वाले कारक निम्नलिखित हैं-
1. माँग-पिछली एक शताब्दी से जीवन में बड़ी व्यस्तता और जीवन-स्तर में हुए सुधार के कारण लोगों में छुट्टियों की माँग तेजी से बड़ी है। विकसित देशों के साथ-साथ आज भारत जैसे विकासशील देशों में भी सप्ताहांत अथवा छुट्टी के दिन ज्यादा मौज-मस्ती व घूमने-फिरने वालों की संख्या बढ़ रही है।

2. विकसित परिवहन-पर्यटन का आरम्भ और अन्त दोनों विकसित परिवहन सुविधाओं पर निर्भर करते हैं। आवागमन की दिक्कतें व परिवहन बाधाएँ पर्यटन को हतोत्साहित करती हैं। बेहतर सड़क व्यवस्था अथवा महामार्गों से जुड़े पर्यटक स्थलों पर लोग अपनी गाड़ियों से जाना पसन्द करते हैं।

3. पैकेज व प्रबन्धन-आज विश्व में ऐसी अनेक टूर एवं ट्रेवल कम्पनियाँ विकसित हो गई हैं जो घर से वापिस तक की यात्रा का सम्पूर्ण प्रबन्ध करती हैं।

4. वातावरण एवं जलवायु-वातावरण एवं जलवायु भी पर्यटन को सबसे अधिक प्रभावित करते हैं। उदाहरणतः ठण्डे प्रदेशों के अधिकांश लोग खिली धूप का आनन्द लेने हेतु गर्म प्रदेशों की ओर आगमन करते हैं। इसी प्रकार गर्म प्रदेशों के लोग ठण्डे प्रदेशों की ओर आगमन करते हैं।

5. भू-दृश्य-मनमोहक दृश्यों वाले स्थानों पर अवकाश बिताना सभी को अच्छा लगता है। सुन्दर भू-दृश्य का तात्पर्य होता है झीलें, पर्वत, प्रपात, दर्शनीय समुद्री तट इत्यादि।

6. इतिहास एवं स्थापत्य कला-बहुत-से पर्यटक जिन्हें इतिहास एवं प्राचीन कलाओं का बोध होता है वे प्राचीन नगरों, किलों, स्मारकों, मीनारों व परातत्व के स्थानों पर जाकर अतीत को अनुभव करते हैं।
निष्कर्ष-वर्तमान में पर्यटन में एक नई प्रवृत्ति उभरकर सामने आई है। ऐसी सुविधा गोवा में हेरीटेज़ होम्स व कर्नाटक में कूर्ग और मैडीकेरे के नाम से उपलब्ध है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.