HBSE 7th Class Hindi Vyakaran अव्यय (अविकारी शब्द)

Haryana State Board HBSE 7th Class Hindi Solutions Hindi Vyakaran Avyay (Avikaari Shabd) अव्यय (अविकारी शब्द) Exercise Questions and Answers.

Haryana Board 7th Class Hindi Vyakaran अव्यय (अविकारी शब्द)

अव्यय (अविकारी शब्द):
हमने संज्ञा, सर्वनाम, विशेषण और क्रिया पदों का अध्ययन किया और देखा कि इन पदों के रूपों में परिवर्तन होता है, अत: इन्हें विकारी पद कहते हैं। अब उन पदों का अध्ययन किया जाएगा जिनका रूप सदैव एक ही बना रहता है और उनमें परिवर्तन नहीं होता। एक ही रूप बने रहने के कारण इन्हें अव्यय कहते हैं। अव्यय शब्द का अर्थ है जिसका व्यय न हो अर्थात् जिनमें विकार न आए। इन्हें अविकारी पद भी कहते हैं।

अव्यय वे शब्द हैं जिनमें लिंग, वचन, पुरुष, काल आदि से मिलकर विकार या रूप-परिवर्तन नहीं होता।।

अव्यय के भेद (Indeclinable Words) :
अव्यय के पांच मुख्य भेद माने जाते हैं-
1. क्रिया विशेषण (Adverb)
2. संबंधबोधक (Post Position)
3. समुच्चयबोधक (Conjunction)
4. विस्मयादिबोधक (Interjection)
5. निपात (Stress)

HBSE 7th Class Hindi रचना अव्यय (अविकारी शब्द)

1. क्रिया विशेषण (Adverb) :
जो पद क्रिया की विशेषता बताता है उसे क्रिया विशेषण अव्यय कहते हैं ; जैसेधीरे-धीरे, आजकल, के पास, बिल्कुल।
क्रिया विशेषण के चार भेद माने गए हैं :
(क) कालवाचक क्रियाविशेषण (Adverb of Time) : जो पद क्रिया के काल या समय की विशेषता बताता है उसे कालवाचक क्रियाविशेषण कहते हैं; जैसे

  • तुम चेन्नै कब जाओगे।
  • संजय परसों जयपुर से आया था।
  • शीला प्रतिदिन स्कूल जाती है।
  • महँगाई आजकल बढ़ती जा रही है।

(ख) स्थानवाचक क्रियाविशेषण (Adverb of Place): जो पद क्रिया के स्थान का बोध कराता है, उसे स्थानवाचक क्रियाविशेषण कहते हैं; जैसे-

  • वह यहां रहता है।
  • माता जी बाहर गई हैं।
  • तुम इधर-उधर मत जाओ।
  • वर्षा में कहां जाओगे ?

(ग) रीतिवाचक क्रियाविशेषण (Adverb of Manner): जो पद क्रिया के होने की रीति या विधि संबंधी विशेषता बताता है, उसे रीतिवाचक क्रियाविशेषण कहते हैं ; जैसे-

  • कार तेज़ दौड़ती है।
  • साइकिल धीरे-धीरे चलती है।
  • मुदिता ध्यानपूर्वक पढ़ती है।

(घ) परिमाणवाचक क्रियाविशेषण (Adverb of Quantity) : जो पद क्रिया की मात्रा या परिमाण बताए, वह परिमाणवाचक क्रियाविशेषण है; जैसे

  • मैं बिल्कुल थक गया हूँ।
  • बंगाल में चावल अधिक खाया जाता है।
  • थोड़ा खाओ, खूब चबाओ।

HBSE 7th Class Hindi रचना अव्यय (अविकारी शब्द)

2. संबंधबोधक अव्यय (Post Position) :
संबंधबोधक अव्यय अपने पूर्वपद के साथ संबध जोड़ता है। इस पद के पहले किसी-न-किसी परसर्ग की अपेक्षा रहती है; जैसे- से दूर, के साथ, के कारण, के वास्ते, की अपेक्षा, की जगह, के अनुसार, की तरफ। उदाहरण के लिए :

  • मैं घर से दूर पहुंच गया था।
  • इस मकान के पीछे शिव मंदिर है।
  • मोहन बाज़ार की ओर गया है।
  • उसके सामने तुम कहीं नहीं ठहर सकते।

3. समुच्चयबोधक अव्यय (Conjunction) :
जो अव्यय पदों, पदबंधों और उपवाक्यों को जोड़ते हैं, उन्हें समुच्चयबोधक अव्यय कहते हैं; जैसे- और, कि, अथवा, क्योंकि, इसलिए।
समुच्चयबोधक अव्यय के दो भेद हैं :
(क) समानाधिकरण समुच्चयबोधक : जो दो या उससे अधिक समान पदों, पदबंधों, उपवाक्यों को जोड़ता है, वह समानाधिकरण समुच्चयबोधक अव्यय कहलाता है। जैसे-

  • नरेन्द्र शाम को रोटी और दाल खाता है।
  • जोगेन्द्र रसमलाई या गुलाबजामुन खाता है।

(ख) व्यधिकरण समुच्चबोधक : जो पद किसी वाक्य के एक या अधिक आश्रित उपवाक्यों को जोड़ता है, वह व्यधिकरण समुच्चयबोधक अव्यय कहलाता है; जैसे-

  • शेख घर चला गया है क्योंकि उसके सिर में दर्द था।
  • उसने परिश्रम किया फिर भी सफल नहीं हो पाया।

4. विस्मयादिबोधक अव्यय (Interjection) :
विस्मयादिबोधक अव्यय वे रूप हैं जो आश्चर्य, हर्ष, शोक, व्यथा, घृणा आदि मनोभावों के उद्गार को व्यक्त करते हैं। उद्गार प्रायः अपने-आप मुँह से निकल जाते हैं और इनका उद्देश्य प्रायः सुनने वाले को कोई सूचना देना नहीं होता; जैसे-

  • वाह ! क्या सुंदर दृश्य है। (आश्चर्य)
  • अरे ! गाड़ी से बचो। (चेतावनी)
  • क्या बोलूँ ! (व्यथा)
  • शाबाश ! बहुत बड़ा काम किया तुमने। (प्रशंसा)
  • छिः ! ऐसी गंदी बात करता है। (घृणा)

HBSE 7th Class Hindi रचना अव्यय (अविकारी शब्द)

5. निपात (Stress) :
वाक्य में जो अव्यय किसी शब्द या पद के बाद लगकर उसके अर्थ में विशेष प्रकार का बल या भाव पैदा करने में सहायता करते हैं, उन्हें निपात या अवधारणामूलक शब्द कहते हैं; जैसे
1. राम ही कल जाएगा।
2. राम कल ही जाएगा।
3. कल राम भी जाएगा।
4. मैंने तो कुछ नहीं किया।
5. तुम्हारे बारे में बच्चे तक जानते हैं।

अभ्यास

1. अव्यय किसे कहते हैं ? उदाहरण देकर स्पष्ट कीजिए।
2. अव्यय के भेद बताते हुए प्रत्येक के दो-दो उदाहरण दीजिए।
3. क्रिया विशेषण का अर्थ स्पष्ट करते हुए इसके प्रकारों का विवेचन उदाहरण सहित कीजिए।
4. निम्नलिखित अनुच्छेद में प्रयुक्त अव्ययों के नीचे रेखा खींचो तथा उसका भेद भी बताओ।
राम और श्याम तेज दौड़ रहे थे। वे पेड़ के पास रुक गए। अरे ! इतना लंबा सांप कहां से आ गया ? राम बोला कि मैं अब नहीं दौडूंगा। श्याम भी चला गया।
5. क्रिया-विशेषण छांटो :

  • गीता मधुर गाती है।
  • वह ऊपर बैठा है।
  • रवि आज आएगा।

6. संबंधबोधक छांटो:

  • पेड़ के नीचे विश्राम कर लो।
  • गाँव के परे एक मठ है।
  • भवन के ऊपर झंडा फहरा रहा है।
  • सेना के आगे घुड़सवार थे।

Leave a Comment

Your email address will not be published.