HBSE 12th Class Hindi Solutions Aroh Chapter 10 छोटा मेरा खेत, बगुलों के पंख

Haryana State Board HBSE 12th Class Hindi Solutions Aroh Chapter 10 छोटा मेरा खेत, बगुलों के पंख Textbook Exercise Questions and Answers.

Haryana Board 12th Class Hindi Solutions Aroh Chapter 10 छोटा मेरा खेत, बगुलों के पंख

HBSE 12th Class Hindi छोटा मेरा खेत, बगुलों के पंख Textbook Questions and Answers

कविता के साथ

प्रश्न 1.
छोटे चौकोने खेत को कागज़ का पन्ना कहने में क्या अर्थ निहित है?
उत्तर:
कवि अपने कवि-कर्म को किसान के कर्म के समान बताना चाहता है अर्थात् कविता की रचना खेती करने जैसी है। इसीलिए कवि ने कागज़ के पन्ने को छोटा चौकोना खेत कहा है। जिस प्रकार खेत में बीज बोकर उसमें पानी और रसायन दिया जाता है और फिर उससे अंकुर और फल-फूल उत्पन्न होते हैं। उसी प्रकार कागज़ के पन्ने पर कवि के संवेदनशील भाव शब्दों का सहारा पाकर अभिव्यक्त होते हैं जिससे पाठक को आनंद प्राप्त होता है।।

प्रश्न 2.
रचना के संदर्भ में अंधड़ और बीज क्या हैं?
उत्तर:
अंधड़ का तात्पर्य है-संवेदनशील भावनाओं का आवेग। कवि के मन में अनजाने में कोई भाव जाग उठता है। जैसे एक दुबले-पतले भिक्षुक को देखकर निराला के मन में भावनाओं का अंधड़ उठ खड़ा हुआ था और उसने ‘भिक्षुक’ कविता की रचना की। बीज का अर्थ है-किसी निश्चित विषय-वस्तु का मन में जागना। जब कोई विषय कवि के मन को अपनी ओर आकर्षित कर लेता है और वह बिंब के रूप में अभिव्यक्त होने के लिए कुलबुलाने लगता है तो उसे हम बीज रोपना कह सकते हैं।

HBSE 12th Class Hindi Solutions Aroh Chapter 10 छोटा मेरा खेत, बगुलों के पंख

प्रश्न 3.
रस का अक्षयपात्र से कवि ने रचनाकर्म की किन विशेषताओं की ओर इंगित किया है?
उत्तर:
कवि की काव्य-रचना को रस का अक्षय पात्र कहा गया है। इसका तात्पर्य यह है कि कविता में निहित सौंदर्य, रस भाव आदि कभी नष्ट नहीं होते। वे अनंतकाल तक कविता में विद्यमान रहते हैं। किसी भी काल अथवा युग का पाठक उस कविता को पढ़कर आनन्दानुभूति प्राप्त कर सकता है। इसलिए कविता को कवि ने ‘रस का अक्षयपात्र’ कहा है।

व्याख्या करें

(1) शब्द के अंकुर फूटे,
पल्लव-पुष्पों से नमित हुआ विशेष।

(2) रोपाई क्षण की
कटाई अनंतता की
लुटते रहने से ज़रा भी नहीं कम होती।
उत्तर:
(1) जब कवि के मन में भावों का कोई बीज जागता है तो उसे कल्पना का रसायन मिल जाता है। फलतः कवि अहम्मुक्त हो जाता है। धीरे-धीरे वह भाव शब्द रूपी अंकुरों के माध्यम से फूटकर बाहर आने लगता है। अंततः कवि के विशेष भाव पत्ते, फल-फूल के समान विकसित होने लगते हैं। जैसे पौधा फल-फूल से लदकर झुक जाता है, उसी प्रकार कविता पाठकों के लिए अपनी भाव संपदा समर्पित करती है।।

(2) कवि यह कहना चाहता है कि कविता में बीज तो क्षण भर में बोया जाता है। कवि के मन में भी भावनाओं के आवेग के कारण ही कविता किसी क्षण फूट पड़ती है परंतु उसकी फसल कभी नष्ट नहीं होती। वह अनंतकाल तक फल देती रहती है। कविता का रस कभी कम नहीं होता। किसी भी युग का कोई भी पाठक कविता का आनंद प्राप्त कर सकता है।

कविता के आसपास

प्रश्न 1.
शब्दों के माध्यम से जब कवि दृश्यों, चित्रों, ध्वनि-योजना अथवा रूप-रस-गंध को हमारे ऐन्द्रिक अनुभवों में साकार कर देता है तो बिंब का निर्माण होता है। इस आधार पर प्रस्तुत कविता से बिंब की खोज करें।
उत्तर:
इन कविताओं में चाक्षुष बिंबों की सुंदर योजना की गई है। ये बिंब इस प्रकार हैं

  1. छोटा मेरा खेत चौकोना
  2. कागज़ का एक पन्ना
  3. कोई अंधड़ कहीं से आया
  4. शब्द के अंकुर फूटे
  5. पल्लव-पुष्पों से नमित
  6. झूमने लगे फल
  7. अमृत धाराएँ फूटतीं
  8. नभ में पाँती-बँधी बगुलों की पाँखें
  9. कजरारे बादलों की छाई नभ छाया
  10. तैरती साँझ की सतेज श्वेत काया

HBSE 12th Class Hindi Solutions Aroh Chapter 10 छोटा मेरा खेत, बगुलों के पंख

प्रश्न 2.
जहाँ उपमेय में उपमान का आरोप हो, रूपक कहलाता है। इस कविता में से रूपक का चुनाव करें।
उत्तर:
इन कविताओं में निम्नलिखित रूपकों का प्रयोग हुआ है-

उपमेय उपमान
(1) (भावनात्मक जोश) अंधड़
(2) आनंदपूर्ण भाव अमृत धाराएँ
(3) (रस) फल
(4) (विषय) बीज
(5) कागज़ का एक पन्ना छोटा मेरा खेत चौकोना
(6) कल्पना रसायन
(7) रस का अनुभव करना कटाई
(8) अलंकार, सौंदर्य पल्लव-पुष्प
(9) शब्द अंकुर

कला की बात

प्रश्न 1.
बगुलों के पंख कविता को पढ़ने पर आपके मन में कैसे चित्र उभरते हैं? उनकी किसी भी अन्य कला माध्यम में अभिव्यक्ति करें।
उत्तर:
शिक्षक की सहायता से विद्यार्थी स्वयं करें। यह प्रश्न परीक्षोपयोगी नहीं है।

HBSE 12th Class Hindi छोटा मेरा खेत, बगुलों के पंख Important Questions and Answers

सराहना संबंधी प्रश्न

प्रश्न-
निम्नलिखित पंक्तियों में निहित काव्य-सौंदर्य पर प्रकाश डालिए
1. कल्पना के रसायनों को पी
बीज गल गया निःशेष;
शब्द के अंकुर फूटे,
पल्लव-पुष्पों से नमित हआ विशेष।
उत्तर:

  1. इन काव्य-पंक्तियों में कवि ने रूपक के माध्यम से विचारों के रचना रूप ग्रहण करने तथा अभिव्यक्ति का माध्यम बनने पर प्रकाश डाला है।
  2. रूपक अलंकार का सफल प्रयोग किया गया है।
  3. ‘पल्लव-पुष्पों में अनुप्रास अलंकार है।
  4. संपूर्ण पद्यांश में प्रतीकात्मता का समावेश है।
  5. तत्सम प्रधान साहित्यिक हिंदी भाषा का प्रयोग हुआ है।
  6. शब्द-चयन सर्वथा उचित एवं भावाभिव्यक्ति में सहायक है।

2. झूमने लगे फल,
रस अलौकिक
अमृत धाराएँ फूटती
रोपाई क्षण की,
कटाई अनंतता की
लुटते रहने से जरा भी नहीं कम होती।
उत्तर:

  1. इस पद्यांश में कवि ने कविता की तुलना अनंतकाल तक रस देने वाले फल के साथ की है। यह तुलना बड़ी सटीक, सुंदर और सार्थक बन पड़ी है।
  2. ‘रस’ शब्द में श्लेष अलंकार का प्रयोग है। इसके दो अर्थ हैं-फलों का रस तथा काव्य-आनंद। कवि ने काव्य-रस को अलौकिक कहा है। इसलिए कविता का आनंद शाश्वत होता है।
  3. तत्सम प्रधान साहित्यिक हिंदी भाषा का प्रयोग हुआ है।
  4. शब्द-चयन सरल, उचित और भावाभिव्यक्ति में सहायक है।
  5. मुक्त छंद का सफल प्रयोग हुआ है।

3. कजरारे बादलों की छाई नभ छाया,
तैरती साँझ की सतेज श्वेत काया।
हौले हौले जाती मुझे बाँध निज माया से।
उसे कोई तनिक रोक रक्खो।
उत्तर:

  1. कजरारे बादलों में साँझ की तैरती काया की अभिव्यक्ति बगुलों के माध्यम से की गई है। इसमें उत्प्रेक्षा अलंकार है।
  2. ‘हौले हौले’ में पुनरुक्ति प्रकाश अलंकार है।
  3. सहज एवं सरल साहित्यिक हिंदी भाषा का प्रयोग हआ है।
  4. शब्द-चयन सर्वथा उचित एवं भावाभिव्यक्ति में सहायक हैं।

विषय-वस्तु पर आधारित लघूत्तरात्मक प्रश्न

प्रश्न 1.
छोटा मेरा खेत’ कविता में ‘बीज गल गया निःशेष’ से क्या तात्पर्य है?
उत्तर:
‘बीज गल गया’ निःशेष के माध्यम से कवि यह कहना चाहता है कि जब कविता का मूल भाव कवि के मन में पूरी तरह से रच-बस जाता है अर्थात् वह उसे आत्मसात कर लेता है, तब वह अहममुक्त हो जाता है। अन्य शब्दों में हम कह सकते हैं कि जिस प्रकार बीज मिट्टी में गल कर अंकुर रूप धारण कर लेता है उसी प्रकार कविता का मूल भाव कवि के मन में आत्मसात् हो जाता है। कवि निजता से मुक्त हो जाता है। तभी उसके हृदय से कविता फूटती है।

प्रश्न 2.
‘छोटा मेरा खेत’ कविता का मूल भाव क्या है? स्पष्ट करें।
उत्तर:
‘छोटा मेरा खेत’ कविता के माध्यम से कवि ने कविता की रचना प्रक्रिया पर प्रकाश डाला है। कविता का जन्म किसी अज्ञात प्रेरणा से विशेष क्षण में होता है। कोई विषय अचानक कवि की संवेदना को प्रभावित करता है। कवि अहंकारमुक्त होकर पूर्ण तन्यमता के साथ उस मूल भाव को अपने मन में बैठा लेता है। तत्पश्चात् शब्द, भाव, अलंकार आदि पौधे के पत्तों के समान स्वतः फूटने लगते हैं। जहाँ पौधे की फसल नश्वर होती है, वहाँ कविता का फल अर्थात् रस शाश्वत होता है। कविता का रस हम अनंत काल तक ले सकते हैं। यह कभी भी नष्ट नहीं होता। किसी भी काल अथवा युग का पाठक किसी भी समय कविता का आनंद प्राप्त कर सकता है।

HBSE 12th Class Hindi Solutions Aroh Chapter 10 छोटा मेरा खेत, बगुलों के पंख

प्रश्न 3.
‘छोटा मेरा खेत’ कविता की सार्थकता को स्पष्ट कीजिए।
उत्तर:
‘छोटा मेरा खेत’ कविता में कवि ने अपने कर्म और किसान की मेहनत को एक समान बताया है। कवि और किसान दोनों ही कठोर परिश्रम करते हैं। यदि किसान की कर्म-भूमि खेत है तो कवि की कर्म-भूमि कविता है। किसान खेत पर हल चलाता है, परंतु कवि कागज़ पर कलम चलाता है। अंतर केवल यह है कि किसान का खेत विशाल होता है जिससे वह अनाज पैदा करता है परंतु कवि का खेत छोटा होता है, जिस पर वह कविता रूपी खेती को उगाता है। छोटे-से खेत पर ही कविता का महल खड़ा किया जाता है। खेत से पैदा होने वाली फसल केवल एक बार पक कर तैयार होती है, परंतु कविता एक अमर रचना होती है। अनंत काल तक कविता का आनंद प्राप्त किया जा सकता है। अतः कविता का आनंद शाश्वत होता है।

प्रश्न 4.
‘रोपाई क्षण की कटाई अनंतता की’ पंक्तियों में कवि किस विरोधाभास को व्यक्त करना चाहता है?
उत्तर:
इस कथन का अर्थ यह है कि कविता की रचना थोड़े समय में हो जाती है। कविता का मूल भाव किसी विशेष क्षण में कवि के मन में जन्म लेता है। तत्पश्चात् कवि कविता की रचना करता है। अन्य शब्दों में, हम कह सकते हैं कि कविता की रचना में होती है उसकी अवधि बहुत छोटी होती है, परंतु अनंतकाल तक पाठक उसका रस लेते रहते हैं। उदाहरण के रूप में सूरदास ने ‘सूरसागर’ की रचना की। परंतु आज सैकड़ों वर्ष बीतने पर भी यह काव्य-ग्रंथ पाठकों को आनंदानुभूति प्रदान करता है। यह प्रक्रिया आगे भी चलती रहेगी। अतः कवि का यह कहना ‘रोपाई क्षण की कटाई अनंत’ उचित ही है।

प्रश्न 5.
‘छोटा मेरा खेत’ कविता में रस का अक्षय पात्र किसे कहा गया और क्यों?
उत्तर:
कवि के द्वारा कागज़ पर उकेरे गए काव्य को रस का पात्र कहा गया है। काव्य-रचना कभी भी नष्ट नहीं होती। अनेक पाठक और श्रोता काव्य से आनंद अनुभूति प्राप्त करते हैं। अतः काव्य का रस अनश्वर है। यह रस कभी घटता नहीं है और ज्यों-का-त्यों बना रहता है। संसार की महान काव्य-रचनाएँ आज भी पाठकों को उतनी ही रसानुभूति प्रदान करती हैं जितनी कि पहले के पाठकों को। निश्चय से कविता रस का अक्षय भंडार है। कविता का रस न मिटने वाला रस है।

प्रश्न 6.
‘बगुलों के पंख’ कविता के सौंदर्य पर प्रकाश डालिए।
उत्तर:
‘बगुलों के पंख’ कविता में सहज और स्वाभाविक सुंदरता है। उसका भाव पक्ष जितना सुंदर है, उतना ही कला पक्ष भी प्राकृतिक सौंदर्य का एक अनूठा प्रयोग है। इसमें सायंकाल को काले बादलों के मध्य आकाश में बगुले पंक्तिबद्ध होकर विहार करते हैं जिसका कवि चित्रण करता है। यह चित्रण बड़ा ही मनोहारी और आकर्षक है।

कवि ने सहज, सरल और सुकोमल पदावली का प्रयोग किया है। शब्द छोटे-छोटे हैं। अनुनासिकता वाले शब्दों के कारण यह कविता बड़ी मधुर बन पड़ी है। ‘आँखें चुराना’ मुहावरे का सफल प्रयोग किया गया है। पांती बँधे, हौले हौले, बगुलों की पाँखें जैसे प्रयोग बड़े ही कोमल बन पड़े हैं। पुनरुक्ति प्रकाश तथा अनुप्रास अलंकारों का स्वाभाविक प्रयोग हुआ है।

प्रश्न 7.
‘बगुलों के पंख’ कविता का मूलभाव लिखिए।
उत्तर:
इस लघु कविता में कवि ने प्रकृति सौंदर्य का मनोरम वर्णन किया है। आकाश में काले-काले बादल दिखाई दे रहे हैं। उन बादलों में सफेद पंखों वाले बगुले पंक्तिबद्ध होकर उड़े जा रहे हैं। ऐसा लगता है कि सायंकाल में कोई श्वेत काया तैर रही है। बगुलों की पंक्तियों का यह सौंदर्य कवि की आँखों को अपनी ओर आकर्षित कर लेता है। कवि चाहता है कि वह इन बगुलों को निरंतर देखता रहे। परंतु बगुले तो उड़े जा रहे हैं। यदि उन्हें कोई रोक ले तो कवि इस सौंदर्य को निरंतर देखता रह सकता है।

बहविकल्पीय प्रश्नोत्तर

1. ‘बगुलों के पंख’ के रचयिता का क्या नाम है?
(A) फ़िराक गोरखपुरी
(B) उमाशंकर जोशी
(C) विष्णु खरे
(D) सूर्यकांत त्रिपाठी ‘निराला’
उत्तर:
(B) उमाशंकर जोशी

2. उमाशंकर जोशी का जन्म कब हुआ?
(A) सन् 1910 में
(B) सन् 1912 में
(C) सन् 1911 में
(D) सन् 1913 में
उत्तर:
(C) सन् 1911 में

3. सन् 1947 में उमाशंकर जोशी ने किस पत्रिका का संपादन किया?
(A) दिनमान
(B) नवजीवन
(C) संस्कृति
(D) परंपरा
उत्तर:
(C) संस्कृति

4. उमाशंकर जोशी का निधन कब हुआ?
(A) सन् 1978 में
(B) सन् 1982 में
(C) सन् 1985 में
(D) सन् 1988 में
उत्तर:
(D) सन् 1988 में

5. उमाशंकर जोशी ने कालिदास के किस नाटक का गुजराती में अनुवाद किया?
(A) अभिज्ञान शाकुंतलम्
(B) विक्रमोवंशीयम्
(C) नागानंदन
(D) उपर्युक्त तीनों
उत्तर:
(A) अभिज्ञान शाकुंतलम्

HBSE 12th Class Hindi Solutions Aroh Chapter 10 छोटा मेरा खेत, बगुलों के पंख

6. उमाशंकर जोशी ने भवभूति के किस नाटक का गुजराती में अनुवाद किया?
(A) मृच्छकटिकम्
(B) अभिज्ञान शाकुंतलम्
(C) उत्तररामचरित
(D) उपर्युक्त तीनों
उत्तर:
(C) उत्तररामचरित

7. ‘विश्व शांति’ के कवि का क्या नाम है?
(A) महादेवी वर्मा
(B) रवींद्रनाथ टैगोर
(C) उमाशंकर जोशी
(D) धर्मवीर भारती
उत्तर:
(C) उमाशंकर जोशी

8. ‘गंगोत्री’ के रचयिता का नाम क्या है?
(A) धर्मवीर भारती
(B) उमाशंकर जोशी
(C) रवींद्रनाथ टैगोर
(D) महादेवी वर्मा
उत्तर:
(B) उमाशंकर जोशी

9. ‘विसामो’ उपन्यास के लेखक का नाम क्या है?
(A) उमाशंकर जोशी
(B) फ़िराक गोरखपुरी
(C) विष्णु खरे
(D) हज़ारी प्रसाद द्विवेदी
उत्तर:
(A) उमाशंकर जोशी

10. ‘शहीद’ किस विधा की रचना है?
(A) एकांकी
(B) कहानी
(C) काव्य
(D) उपन्यास
उत्तर:
(B) कहानी

11. ‘छोटा मेरा खेत’ कविता में किसके अंकुर फूटने की बात कही है?
(A) शब्द के
(B) गीत के
(C) वृक्ष के
(D) बीज के
उत्तर:
(A) शब्द के

12. ‘बगुलों के पंख’ कविता में किस वक्त की सतेज श्वेत काया तैरने की बात कही है?
(A) प्रातः
(B) दोपहर
(C) साँझ
(D) रात
उत्तर:
(C) साँझ

13. उमाशंकर जोशी को किस महत्त्वपूर्ण पुरस्कार से सम्मानित किया गया?
(A) साहित्य अकादमी
(B) भारतीय ज्ञानपीठ
(C) शिखर ज्ञानपीठ
(D) कबीर सम्मान
उत्तर:
(B) भारतीय ज्ञानपीठ

14. ‘छोटा मेरा खेत’ कविता में किसकी रोपाई की बात कही गई है?
(A) क्षण की
(B) फसल की
(C) खेत की
(D) बीज की
उत्तर:
(A) क्षण की

15. बगुलों के पंख काले बादलों के ऊपर तैरते हुए किसके समान प्रतीत होते हैं?
(A) प्रातःकाल की सिंदूरी काया
(B) साँझ की श्वेत काया
(C) साँझ की पीली काया
(D) रात्रि की काली काया
उत्तर:
(C) साँझ की पीली काया

16. कैसे बादल छाए हुए थे?
(A) धिकरारे
(B) कजरारे
(C) गोरे
(D) बिखरे
उत्तर:
(B) कजरारे

HBSE 12th Class Hindi Solutions Aroh Chapter 10 छोटा मेरा खेत, बगुलों के पंख

17. बगुलों का कौन-सा सौंदर्य अपने आकर्षण में बाँध रहा है?
(A) काया रूपी सौंदर्य
(B) माया रूपी सौंदर्य
(C) रूप रूपी सौंदर्य
(D) पंक्तिबद्ध सौंदर्य
उत्तर:
(D) पंक्तिबद्ध सौंदर्य

18. ‘छोटे चौकोने खेत’ उपमान का प्रयोग किसके लिए किया गया है?
(A) फसल
(B) कागज़ का पन्ना
(C) पल्लव
(D) वर्गाकार
उत्तर:
(B) कागज़ का पन्ना

19. ‘छोटा मेरा खेत’ कविता में किसकी धाराएँ फूटने की बात कही गई है?
(A) नदी
(B) अमृत
(C) जंगल
(D) धूप
उत्तर:
(B) अमृत

20. ‘कागज़ का पन्ना’ के लिए कवि ने क्या उपमान दिया है?
(A) चौकोना खेत
(B) बीज
(C) रस का अक्षय पात्र
(D) अनाज का भंडार
उत्तर:
(A) चौकोना खेत

21. ‘छोटा मेरा खेत’ कविता में कौन झूमने लगे?
(A) पेड़
(B) शराबी
(C) गायक
(D) फल
उत्तर:
(D) फल

22. बगुलों के पंखों द्वारा क्या चुराने की बात कही गई है?
(A) हृदय
(B) बुद्धि
(C) मन
(D) आँख
उत्तर:
(D) आँख

23. रस का पात्र कैसा है?
(A) अक्षय
(B) कमजोर
(C) नीरस
(D) निन्दनीय
उत्तर:
(A) अक्षय

24. ‘नभ में पाँती-बाँधे बगुलों के पंख’ किसके लिए प्रसिद्ध हैं?
(A) प्रतीक के लिए
(B) बिंब के लिए
(C) अलंकार के लिए
(D) लक्ष्यार्थ के लिए
उत्तर:
(B) बिंब के लिए

25. ‘छोटा मेरा खेत’ कविता में कवि ने अपने खेत में कौन-सा बीज बोया?
(A) धान रूपी बीज
(B) विचार रूपी बीज
(C) प्रेम रूपी बीज
(D) शब्द रूपी बीज
उत्तर:
(D) शब्द रूपी बीज

26. आकाश में किसकी पंक्ति की सुन्दरता का चित्रण किया गया है?
(A) बगुलों
(B) हंसों
(C) बत्तखों
(D) कबूतरों
उत्तर:
(A) बगुलों

27. ‘छोटा मेरा खेत’ में किसकी कटाई की बात कही है?
(A) अनंतता की
(B) अंकुर की
(C) क्षण की
(D) फसल की
उत्तर:
(A) अनंतता की

28. बगुलों के पंखों का रंग कैसा है?
(A) मटमैला
(B) सफ़ेद
(C) काला
(D) नीला
उत्तर:
(B) सफेद

29. ‘छोटा मेरा खेत’ कविता में किस रस की अमृतधारा को अक्षय बताया गया है?
(A) साहित्य
(B) वात्सल्य
(C) करुण
(D) शृंगार
उत्तर:
(A) साहित्य

30. ‘छोटा मेरा खेत’ कविता में कवि ने निम्न में से किसे रसायन कहा है?
(A) दूरियाँ
(B) कल्पना
(C) शब्द
(D) साहित्य
उत्तर:
(B) कल्पना

31. ‘बगुलों के पंख’ कविता में साँझ की सतेज श्वेत काया क्या कर रही है?
(A) तैर रही है
(B) उड़ रही है
(C) भाग रही है
(D) नहा रही है
उत्तर:
(A) तैर रही है

HBSE 12th Class Hindi Solutions Aroh Chapter 10 छोटा मेरा खेत, बगुलों के पंख

32. कवि ने अभिव्यक्ति रूपी बीज किस पर बोया था?
(A) कागज के पृष्ठ पर
(B) आँगन में
(C) छत पर
(D) खेत में
उत्तर:
(A) कागज के पृष्ठ पर

33. कवि का छोटा खेत किस आकार का था?
(A) चौकोना
(B) तिकोना
(C) आयताकार
(D) वक्र
उत्तर:
(A) चौकोना

34. लुटते रहने से जरा भी कम क्या नहीं होती?
(A) संपत्ति
(B) रस-धारा
(C) औषधि
(D) पुस्तक
उत्तर:
(B) रस-धारा

35. नभ में पंक्तिबद्ध कौन थे?
(A) हंस
(B) चातक
(C) बगुले
(D) पिक
उत्तर:
(C) बगुले

छोटा मेरा खेत पद्यांशों की सप्रसंग व्याख्या एवं अर्थग्रहण संबंधी प्रश्नोत्तर

[1) छोटा मेरा खेत चौकोना
कागज़ का एक पन्ना,
कोई अंधड़ कहीं से आया क्षण का बीज वहाँ बोया गया।
कल्पना के रसायनों को पी
बीज गल गया निःशेष
शब्द के अंकुर फूटे,
पल्लव-पुष्पों से नमित हुआ विशेष। [पृष्ठ-64]

शब्दार्थ-चौकोना = चार कोने वाला। अंधड़ = आँधी का तेज झोंका। क्षण = पल । रसायन = खाद। निःशेष = पूरी तरह से। अंकर = छोटा पौधा। पल्लव-पुष्प = कोमल पत्ते और फूल। नमित = झुका हुआ।

प्रसंग-प्रस्तुत पद्यांश हिंदी की पाठ्यपुस्तक ‘आरोह भाग 2’ में संकलित कविता ‘छोटा मेरा खेत’ में से उद्धृत है। इसके कवि उमाशंकर जोशी हैं। इन पंक्तियों में कवि ने कवि-कर्म की तुलना किसान-कर्म से की है।

व्याख्या-कवि कहता है कि मैं भी एक किसान हूँ। कागज़ का एक पन्ना मेरे लिए चौकोर खेत के समान है। अंतर केवल इतना है कि किसान ज़मीन से फसल उगाता है और मैं कागज़ पर कविता उगाता हूँ। जिस प्रकार किसान चौकोर खेत में बीज बोता है, उसी प्रकार मेरे मन में भावना की आँधी ने कागज़ के पन्ने पर क्षण का बीज बो दिया। यह भाव रूपी बीज पहले मेरे मन रूपी खेत में बोया जाता है। जिस प्रकार खेत में बोया गया बीज विभिन्न प्रकार के रसायनों अर्थात् हवा, पानी, खाद आदि लेकर स्वयं को पूरी तरह से गला देता है और उसमें से अंकुरित पत्ते और फूल फूट कर निकलते हैं, उसी प्रकार कवि के मन के भाव कल्पना रूपी रसायन को पीकर सर्वजन का विषय बन जाते हैं। वे भाव मेरे न रहकर सभी पाठकों के भाव बन जाते हैं। उन भावों में से शब्द रूपी अंकुर फूटते हैं और ये भाव रूपी पत्तों से लदकर कविता विशेष रूप से झुक जाती है और सभी के आगे नतमस्तक हो जाती है अर्थात् उसे जो चाहे पढ़ सकता है।

विशेष-

  1. यहाँ कवि ने रूपक के द्वारा कवि-कर्म की तुलना किसान के कर्म के साथ की है।
  2. संपूर्ण पद में सांगरूपक अलंकार का सार्थक प्रयोग किया गया है।
  3. ‘पल्लव-पुष्प’ में रूपकातिशयोक्ति अलंकार है। इसी प्रकार ‘पल्लव-पुष्प’, ‘गल गया’ और ‘बोया गया’ में अनुप्रास अलंकार का प्रयोग हआ है।
  4. अंधड़ शब्द इस बात का द्योतक है कि कविता कभी भी पूर्व-नियोजित नहीं होती। अचानक कोई भाव कवि के मन में प्रस्फुटित होता है और वह कविता का रूप धारण कर लेता है।
  5. सहज, सरल साहित्यिक हिंदी भाषा का सफल प्रयोग है।
  6. ‘बीज गल गया निःशेष’ यह सूचित करता है कि कवि के हृदय का भाव जब तक अहम्मुक्त नहीं होता तब तक वह कविता का रूप धारण नहीं कर सकता।

पद पर आधारित अर्थग्रहण संबंधी प्रश्नोत्तर
प्रश्न-
(क) कवि तथा कविता का नाम लिखिए।
(ख) कवि ने अपनी तुलना किसके साथ और क्यों की है?
(ग) अंधड़ किसका प्रतीक है? स्पष्ट करो।
(घ) इस पद्यांश के आधार पर कवि की रचना प्रक्रिया क्या है? स्पष्ट करें।
उत्तर:
(क) कवि-उमाशंकर जोशी कविता ‘छोटा मेरा खेत’.

(ख) कवि ने अपनी तुलना एक किसान के साथ की है। जिस प्रकार किसान अपने खेत में बीज बोता है फिर उसे जल, खाद देकर फसलें उगाता है उसी प्रकार कवि भी कागज़ के पन्ने पर भाव रूपी बीजों को उगाकर कविता की रचना करता है। .

(ग) अंधड़ कवि के मन में अचानक उत्पन्न भावना का प्रतीक है। जिस प्रकार आँधी के साथ कोई बीज उड़कर खेत में गिरता है और अंकुरित होकर पौधा बन जाता है, उसी प्रकार कवि के हृदय में अचानक कोई भाव उमड़ता है जिससे कविता जन्म लेती है।

(घ) कविता की रचना-प्रक्रिया फसल उगाने के समान है। सर्वप्रथम कवि के मन में बीज रूपी भाव उमड़ता है। वह भाव कल्पना के रसायन से रंग-रूप धारण करता है। तब वह अहममुक्त होकर संप्रेषणीय बन जाता है। फिर कवि शब्दों के द्वारा अपनी भावनाओं को व्यक्त करता है और इस प्रकार कविता की रचना होती है।

HBSE 12th Class Hindi Solutions Aroh Chapter 10 छोटा मेरा खेत, बगुलों के पंख

[2] झूमने लगे फल,
रस अलौकिक
अमृत धाराएँ फूटती
रोपाई क्षण की,
कटाई अनंतता की
लुटते रहने से जरा भी नहीं कम होती।
रस का अक्षय पात्र सदा का
छोटा मेर खेत चौकोना। [पृष्ठ-64]

शब्दार्थ-अलौकिक = दिव्य। अमृत धाराएँ = रस की धाराएँ। रोपाई = बुआई। अनंतता = हमेशा के लिए। अक्षय = कभी नष्ट न होने वाला। पात्र = बर्तन।

प्रसंग-प्रस्तुत पद्यांश हिंदी की पाठ्यपुस्तक ‘आरोह भाग 2’ में संकलित कविता ‘छोटा मेरा खेत’ में से अवतरित है। इसके कवि उमाशंकर जोशी हैं। यहाँ कवि स्पष्ट करता है कि कविता किसी विशेष क्षण में उपजे भाव से उत्पन्न होती है।

व्याख्या कवि कहता है कि जब कवि के हृदय में पलने वाला भाव कविता रूपी फल के रूप में पक जाता है और झूमने लगता है तो उससे एक दिव्य रस टपकने लगता है। इससे आनंद की धाराएँ फूटने लगती हैं। भावों की बुआई तो एक क्षण भर में हुई थी, लेकिन कविता की कटाई अनंतकाल तक चलती रहती है अर्थात् अनंतकाल तक पाठक कविता के रस का आनंद प्राप्त करते रहते हैं। कविता रूपी फसल का आनंद अनंत है। उस रस को जितना भी लुटाओ कभी खाली नहीं होता अर्थात् कविता युगों-युगों तक रस प्रदान करती रहती है। कवि इसे रस का अक्षय पात्र कहता है। यह कविता कवि का चार कोनों वाला छोटा-सा खेत है। जिसमें नश्वर रस समाया हुआ है अर्थात् कविता शाश्वत होती है।

विशेष-

  1. यहाँ कवि ने स्पष्ट किया है कि कविता का आनंद शाश्वत होता है। अनंतकाल तक कविता से रसानुभूति प्राप्त की जा सकती है।
  2. रस शब्द में श्लेष अलंकार का प्रयोग हुआ है।
  3. तत्सम् प्रधान संस्कृतनिष्ठ साहित्यिक हिंदी भाषा का प्रयोग है।
  4. शब्द-चयन उचित और भावाभिव्यक्ति में सहायक है।
  5. मुक्त छंद का सफल प्रयोग किया गया है। संपूर्ण पद में चाक्षुष बिंब की सुंदर योजना हुई है।

पद पर आधारित अर्थग्रहण संबधी प्रश्नोत्त
प्रश्न-
(क) कवि ने छोटा मेरा खेत चौकोना किसे और क्यों कहा है?
(ख) फल, रस और अमृत धाराएँ किसका प्रतीक हैं?
(ग) कवि ने रस का अक्षय पात्र किसे और क्यों कहा है?
(घ) ‘रोपाई क्षण की कटाई अनंतता’ का आशय स्पष्ट करें।
उत्तर:
(क) यहाँ कवि ने अपनी काव्य-रचना को छोटा मेरा खेत चौकोना कहा है। जिस प्रकार किसान चार कोनों वाले खेत में फसलें उगाता है, उसी प्रकार कवि कागज़ पर अपनी कविता लिखता है।

(ख) फल, रस और अमृत धाराएँ काव्य-रचना से प्राप्त होने वाले आनंद और रस का प्रतीक हैं।।

(ग) कवि ने कविता को ही रस का अक्षय पात्र कहा है। कारण यह है कि कविता का रस अनंत है। वह कभी समाप्त नहीं होता। किसी भी युग अथवा काल का व्यक्ति उसे पढ़कर आनंद प्राप्त कर सकता
है। इसीलिए वह रस का अक्षय पात्र कही गई है।

(घ) कविता अचानक भावनामय क्षण में लिखी जाती है परंतु वह अनंतकाल तक पाठकों को आनंदानुभूति प्रदान करती रहती है। कविता का आनंद चाहे जितना भी लुटाया जाए वह कभी समाप्त नहीं होता।

बगुलों के पंख पद्यांशों की सप्रसंग व्याख्या एवं अर्थग्रहण संबंधी प्रश्नोत्तर

[1] नभ में पाँती-बँधे बगुलों के पंख,
चुराए लिए जातीं वे मेरी आँखें।
कजरारे बादलों की छाई नभ छाया,
तैरती साँझ की सतेज श्वेत काया।
हौले हौले जाती मुझे बाँध निज माया से।
उसे कोई तनिक रोक रक्खो।
वह तो चुराए लिए जाती मेरी आँखें
नभ में पाँती-बँधी बगुलों की पाँखें। [पृष्ठ-65]

शब्दार्थ-नभ = आकाश। पाँती = पंक्ति। कजरारे = काले। साँझ = सायंकाल। श्वेत = सफेद। सतेज = चमकीला। काया = शरीर। माया = जादू। तनिक = कुछ देर के लिए, थोड़ा।

प्रसंग-प्रस्तुत पद्यांश हिंदी की पाठ्यपुस्तक ‘आरोह भाग 2′ में संकलित ‘बगुलों के पंख’ नामक कविता में से उद्धृत है। इसके कवि उमाशंकर जोशी हैं। यहाँ कवि ने प्रकृति के आलंबन रूप का मनोहारी वर्णन किया है।

व्याख्या कवि कहता है कि आकाश में बगुले अपने पंख फैलाकर पंक्तिबद्ध होकर उड़े चले जा रहे हैं। वे इतने आकर्षक और मनोहारी हैं कि मेरी आँखें एकटक उन्हीं को देख रही हैं। लगता है वे मेरी आँखों को चुराकर ले जा रहे हैं। आकाश में काले बादलों की छाया फैली हुई है। उसे देखकर ऐसा प्रतीत होता है कि मानो सायंकाल की श्वेत, चमकीली काया आकाश में तैर रही है। यह साँझ धीरे-धीरे आकाश में विहार कर रही है और मुझे अपने जादू में बाँधे हुए है। कवि के मन में अचानक यह भय पैदा होता है कि कहीं यह रमणीय दृश्य उसकी आँखों से ओझल न हो जाए। इसीलिए वह कहता है कि कोई इसे थोड़ी देर तक रोक कर रखो। मैं इस सुंदर दृश्य को थोड़ी देर तक देखना चाहता हूँ। आकाश में पंक्तिबद्ध बगुलों के पंख मेरी आँखों को चुरा कर ले जा रहे हैं। मैं एकटक उन्हें देख रहा हूँ। इन्हें रोक लो। ताकि मैं इस सुंदर दृश्य का आनंद ले सकूँ।

विशेष –

  1. यहाँ कवि ने प्रकृति के आलंबन रूप का चित्रण करते हुए साँझ के आकाश में बगुलों की पंक्ति का मनोरम चित्रण किया है।
  2. प्रकृति का सुंदर मानवीकरण किया गया है। अतः मानवीकरण अलंकार है। पुनरुक्ति प्रकाश, अनुप्रास तथा उत्प्रेक्षा अलंकारों का सुंदर प्रयोग है।
  3. ‘आँखें चुराना’ मुहावरे का सुंदर प्रयोग है।
  4. तत्सम् प्रधान साहित्यिक हिंदी भाषा का प्रयोग हुआ है। शब्द-चयन भावानुकूल और अर्थ की अभिव्यक्ति में सक्षम है।
  5. ‘पाँती बाँधी’ ‘हौले हौले’ आदि प्रयोग विशेष रूप से कोमल बन पड़े हैं
  6. संपूर्ण पद में चाक्षुष बिंब की सुंदर योजना हुई है।

पद पर आधारित अर्थग्रहण संबंधी प्रश्नोत्तर
प्रश्न-
(क) कवि और कविता का नाम लिखिए।
(ख) कवि किस दृश्य पर मुग्ध हो गया है?
(ग) ‘आँखें चुराने’ का अर्थ क्या है?
(घ) कवि किसे रोके रखना चाहता है और क्यों?
उत्तर:
(क) कवि-उमाशंकर जोशी                                          कविता-बगुलों के पंख

(ख) कवि काले बादलों की छाई घटा में सायंकाल के समय आकाश में उड़ने वाले बगुलों की पंक्ति देखकर उस पर मुग्ध हो गया है, क्योंकि प्रकृति का यह दृश्य मनोहारी बन पड़ा है।

(ग) ‘आँखें चुराने’ का अर्थ है-ध्यान को आकृष्ट कर लेना जिससे देखने वाला व्यक्ति दृश्य पर मुग्ध हो जाए।

(घ) कवि सायंकाल में काले बादलों के बीच आकाश में उड़ते हुए बगुलों की पंक्तियों के दृश्य को रोकना चाहता है ताकि वह इस दृश्य को निरंतर निहार सके। प्रकृति के इस मनोरम दृश्य ने कवि को अपनी ओर भावुक कर लिया है।

छोटा मेरा खेत, बगुलों के पंख Summary in Hindi

छोटा मेरा खेत, बगुलों के पंख कवि-परिचय

प्रश्न-
उमाशंकर जोशी का संक्षिप्त जीवन-परिचय देते हुए उनकी काव्यगत विशेषताओं पर प्रकाश डालिए।
अथवा
उमाशंकर जोशी का साहित्यिक परिचय अपने शब्दों में लिखिए।
उत्तर:
1. जीवन-परिचय – श्री उमाशंकर जोशी का जन्म 12 जुलाई, 1911 को गुजरात में हुआ। उन्होंने बीसवीं सदी की गुजराती कविता तथा साहित्य को नई भंगिमा और नया स्वर प्रदान किया। भारतीय साहित्य के लिए उनका साहित्यिक अवदान विशेष महत्त्व रखता है। उन्हें भारतीय संस्कृति और परंपरा का समुचित ज्ञान था। सर्वप्रथम उन्होंने कालिदास के ‘अभिज्ञान शाकुंतलम्’ और भवभूति के ‘उत्तररामचरित’ का गुजराती भाषा में अनुवाद किया। एक कवि के रूप में उन्होंने गुजराती कविता को प्रकृति से जोड़ा और पाठक को आम जिंदगी के अनुभवों से परिचित कराया। जोशी जी में देश-प्रेम की भावना कूट-कूट कर भरी हुई थी। भारत की आज़ादी की लड़ाई से उनका गहरा रिश्ता रहा है। इसके लिए उनको जेल भी जाना पड़ा। वे एक प्रसिद्ध कवि, विद्वान तथा लेखक के रूप में जाने जाते हैं। दिसंबर, 1988 में इस गुजराती साहित्यकार का निधन हो गया।

2. पुरस्कार – सन् 1968 में जोशी जी गुजराती साहित्य परिषद् के अध्यक्ष बने। 1978 से 1982 तक वे साहित्य अकादेमी के अध्यक्ष रहे। सन् 1970 में वे गुजरात विश्वविद्यालय के उपकुलपति भी बने। सन् 1967 में उन्हें गुजराती साहित्य के लिए भारतीय ज्ञानपीठ पुरस्कार प्राप्त हुआ और सन् 1973 में सोवियत लैंड नेहरू पुरस्कार प्राप्त हुआ।

3. प्रमुख रचनाएँ –
(क) काव्य-संग्रह ‘विश्व शांति’, ‘गंगोत्री’, ‘निशीथ’, ‘प्राचीना’, ‘आतिथ्य’, ‘वसंत वर्षा’, ‘महाप्रस्थान’, ‘अभिज्ञा’ (एकांकी)।
(ख) कहानी-‘सापनाभारा’ तथा ‘शहीद’।
(ग) उपन्यास-‘श्रावणी मेणो’ एवं ‘विसामो’।
(घ) निबंध-‘पारकांजण्या’।
(ङ) संपादन-‘गोष्ठी’, ‘उघाड़ीबारी’, ‘क्लांतकवि’, ‘म्हारासॉनेट’, ‘स्वप्नप्रयाण’।

HBSE 12th Class Hindi Solutions Aroh Chapter 10 छोटा मेरा खेत, बगुलों के पंख

4. काव्यगत विशेषताएँ-कवि उमाशंकर की कविता में प्रकृति का बड़ा ही सुंदर वर्णन किया गया है। उन्होंने प्रकृति के आलंबन, उद्दीपन तथा मानवीकरण रूपों का सुंदर एवं प्रभावशाली चित्रण किया है। वे जीवन के सामान्य प्रसंगों पर कविता लिखते रहे हैं। उदाहरण के रूप में ‘छोटा मेरा खेत’ में उन्होंने अपनी कविता रचना की प्रक्रिया की तुलना किसान के खेत के साथ की है। जिस प्रकार किसान अपने खेत में बीज बोता है और बीजों में से अंकुर फूटकर पौधों का रूप धारण करते हैं, उसी प्रकार कागज़ के पन्ने पर कवि रचना लिखता है, जिसमें से शब्दों के अंकुर निकलते हैं और अन्ततः रचना एक पूर्ण स्वरूप ग्रहण करती है। इसी प्रकार ‘बगुलों के पंख’ नामक कविता सुंदर दृश्यों की कविता कही जा सकती है। जिसका प्राकृतिक सौंदर्य पाठक को भी आकर्षित किए बिना नहीं रह सकता। जोशी जी आधुनिकतावादी भारतीय कवि थे। कविता के अतिरिक्त अन्य विधाओं में भी उन्होंने महत्त्वपूर्ण योगदान दिया है। साहित्य की आलोचना में उनका विशेष स्थान रहा है। निबंधकार के रूप में वे गुजराती साहित्य में बेजोड़ माने जाते हैं।

5. भाषा-शैली-जोशी जी ने प्रायः सहज, सरल और साहित्यिक भाषा का ही प्रयोग किया है। कवि का शब्द-चयन पूर्णतया भावानुकूल तथा प्रसंगानुकूल है। वे प्रायः सटीक शब्दों का प्रयोग करते हैं। यत्र-तत्र वे अलंकार प्रयोग द्वारा अपनी काव्य-भाषा को सजाते भी हैं। वे जीवन के सामान्य प्रसंगों के लिए सामान्य बोलचाल की भाषा का प्रयोग करते देखे गए हैं। इसलिए भाव और भाषा दोनों दृष्टियों से उनका साहित्य उच्चकोटि का है।

छोटा मेरा खेत कविता का सार

प्रश्न-
उमाशंकर जोशी द्वारा रचित ‘छोटा मेरा खेत’ कविता का सार अपने शब्दों में लिखिए।
उत्तर:
इस कविता में कवि ने रूपक का सहारा लेते हुए कवि कर्म को कृषक कर्म के समान सिद्ध किया है। किसान पहले अपने खेत में बीज बोता है। बीज फूटकर पौधा बन जाता है और फिर पुष्पित-पल्लवित होकर पक जाता है। तत्पश्चात् उसकी कटाई करके अनाज निकाला जाता है, जिससे लोगों का पेट भरता है। कवि के अनुसार कागज़ उसका खेत है जब उसके मन में भावनाओं की आंधी आती है तो उसमें बीज बोया जाता है। कल्पना का आश्रय पाकर बीज रूपी भाव विकसित हो जाता है। शब्दों के अंकुर निकलते ही रचना अपना स्वरूप ग्रहण करती है। इस रचना में एक अलौकिक रूप होता है जो अनंत काल तक पाठकों को आनंद प्रदान करती रहती है। कवि की खेती का रस कभी समाप्त नहीं होता।

बगुलों के पंख कविता का सार

प्रश्न-
उमाशंकर जोशी द्वारा रचित ‘बगुलों के पंख’ कविता का सार अपने शब्दों में लिखिए।
उत्तर:
इस लघु कविता में कवि ने प्रकृति सौंदर्य का मनोरम वर्णन किया है। आकाश में काले-काले बादल दिखाई दे रहे हैं। उन बादलों में सफेद पंखों वाले बगुले पंक्तिबद्ध होकर उड़े जा रहे हैं। ऐसा लगता है कि सायंकाल में कोई श्वेत काया तैर रही है। बगुलों की पंक्तियों का यह सौंदर्य कवि की आँखों को अपनी ओर आकर्षित कर लेता है। कवि चाहता है कि वह इन बगुलों को निरंतर देखता रहे। परंतु बगुले तो उड़े जा रहे हैं। यदि उन्हें कोई रोक ले तो कवि इस सौंदर्य को निरंतर देखता रह सकता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.